तमिलनाडु तौहीद जमात की सफाई, कहा- श्रीलंका बम धमाकों में हमारा कोई हाथ नहीं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 16 May 2019 11:38 AM IST
विज्ञापन
श्रीलंका बम धमाके के बाद भागते लोग (फाइल फोटो)
श्रीलंका बम धमाके के बाद भागते लोग (फाइल फोटो)

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
श्रीलंका ईस्टर के मौके पर सिलसिलेवार आठ बम धमाकों से दहल उठा था। इस धमाके में 250 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी जबकि 500 से ज्यादा घायल थे। इस घटना की जिम्मेदारी बेशक आईएस ने ली थी लेकिन द्वीप देश के इस्लामिक संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) का इसके पीछे हाथ माना जा रहा है।
विज्ञापन

श्रीलंका सरकार ने एनटीजे पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना ने अपनी आपातकालीन शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए एनटीजे और अन्य समूह जमाथेई मिल्लाथू इब्राहिम को प्रतिबंधित कर दिया। सुरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि एनटीजे 2014 में श्रीलंका तौहीद जमात (एसएलटीजे) से अलग होकर बना था।
एसएलटीजे एक प्रमुख मुस्लिम संगठन है जो कट्टरपंथ, इस्लाम के वहाबी वर्जन को फैलाता है। नस्लीय घृणा, बौद्ध धर्म के पूजा स्थल को तोड़ना और आईएस के हिंसक जिहाद को खुले तौर पर स्वीकारने का उसका ट्रैक रिकॉर्ड रहा है। 2016 में एसएलटीजे के महासचिव अब्दुल राजिक को हेट स्पीच की वजह से गिरफ्तार किया गया था।   
तमिलनाडु तौहीद जमात (टीएनटीजे) पर बम धमाकों के बाद से नजर रखी जा रही है। मीडिया में आई कई खबरों में उसपर बम धमाकों का आरोप लगाया गया था। वह एसएलटीजे का एक संबद्ध सहयोगी है। दोनों संगठनों ने कुरान के संस्करणों के अनुवाद और वितरण के लिए सक्रिय रूप से सहयोग किया है, जिसके जरिए उन्होंने वह संदेश फैलाने की कोशिश की है जो उनके अनुसार इस्लाम का सच्चा स्वरूप है।

एसएलटीजे ने श्रीलंका में टीएनटीजे के नेताओं को होस्ट किया है। धार्मिक विचारधारा से परे दोनों संगठन तमिल भाषा के जरिए आपस में जुड़े हुए हैं। श्रीलंका में मुस्लिमों की संख्या 10 प्रतिशत है। टीएनटीजे एक कट्टर धार्मिक संगठन है लेकिन इसका कहना है कि 21 अप्रैल को हुए धमाकों से उसका कोई लेना-देना नहीं है।

बम धमाकों के बाद कई रिपोर्ट्स में टीएनटीजे को हमलों से जोड़ा गया था। जिसके बाद उसके नेताओं को मजबूरन एक प्रेस कांफ्रेस करके आरोपों का खंडन करना पड़ा। इसके अलावा उन्होंने हमले की निंदा करते हुए इसे गैर-इस्लामी बताया है। 

टीएनटीजे के उपाध्यक्ष बी अब्दुल रहमान का कहना है, 'एनटीजे के साथ टीएनटीजे को जोड़ना बिलकुल वैसा है जैसे एआईडीएमके के साथ डीएमके को जोड़ना क्योंकि दोनों में डीएमके शामिल है। तौहीद एक अरबी शब्द है जिसका मतलब ईश्वर की पवित्रता है। कई संगठन इसका इस्तेमाल करते हैं।' 

उन्होंने आगे कहा, 'किसी सरकार ने हमें एनटीजे से नहीं जोड़ा है। केवल मीडिया असली इस्लाम को बदनाम करने के लिए ऐसा कर रही है। हम एसएलटीजे के साथ शांतिपूर्वक काम करते हैं जो श्रीलंका के कानून के अंतर्गत काम करती है। जिसने भी धमाके किए हैं वह सच्चा मुस्लिम नहीं है।'

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X