विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कुंडली से जानिए अपनी समस्त विपदाओं का हल , आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली
Kundali

कुंडली से जानिए अपनी समस्त विपदाओं का हल , आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीर के दामाद सचिन पायलट को लगा झटका, तो घाटी में शुरू हो गए अटल सरकार के वो किस्से

सचिन, सारा और अब्दुल्ला परिवार सचिन, सारा और अब्दुल्ला परिवार

आईबी से सटे गांव में ड्रोन मिलने से मची अफरातफरी, सच सामने आने पर लोगों ने ली राहत की सांस

अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) से सटे एक गांव में सोमवार को लावारिस ड्रोन मिलने से अफरातफरी मच गई। सूचना मिलते ही पुलिस और सेना ने पहुंचकर छानबीन की। बाद में पता चला चला कि यह सेना का ड्रोन था।

इसके बाद सुरक्षाबलों ने राहत की सांस ली। आईबी पर हीरानगर सेक्टर में ड्रोन के जरिये तस्करी का मामला सामने आने के बाद पूरी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीएसएफ के साथ ही अन्य सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर हैं।

यह भी पढ़ेंः
पर्यटकों के लिए कल से खुलेंगे जम्मू-कश्मीर के द्वार, बेहद खूबसूरत हैं घाटी के ये स्थान

सोमवार सुबह लगभग साढ़े 11 बजे फ्लायं मंडाल इलाके के बुटाई चक गांव में ड्रोन के पड़े होने की ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। आईबी के जरिये ड्रोन से हथियारों और ड्रग्स की तस्करी का मामला सामने आने के बाद पुलिस ने इसे गंभीरता से लिया। 

इसके बाद तत्काल टीम ने पहुंचकर उसे अपने कब्जे में लिया। शुरुआत में यह माना जा रहा था कि यह ड्रोन अंतरराष्ट्रीय सीमा के माध्यम से पाकिस्तान से आया था, लेकिन बाद में जांच में पता चला कि यह सेना के स्वामित्व वाला ड्रोन था। नियमित अभ्यास के ट्रैक भटक जाने के बाद इसकी बैटरी खत्म हो गई थी। इसके बाद वह गांव में गिर गया।

गत 20 जून को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कठुआ जिले के रठुआ गांव के पास बीएसएफ ने पाकिस्तान की ओर से भेजे गए हेक्साकॉप्टर ड्रोन को मार गिराया था। इस पर अमेरिका निर्मित एम-4 कारबाइन, छह चीनी ग्रेनेड, पिस्टल आदि लदा हुआ था। हथियारों की यह खेप इस पार आतंकियों के लिए भेजी गई थी।
... और पढ़ें

अमरनाथ यात्रा पर संशय बरकरार, यात्रा रूट का गांदरबल जिला रेड जोन, प्रशासन की चुनौतियां बढ़ीं

अमरनाथ यात्रा पर संशय बरकरार है। यात्रा रूट पर कई स्थानों के रेड जोन घोषित होने के बाद यात्रा की तैयारियों को लेकर प्रशासन की चुनौतियां बढ़ गई हैं। इस साल पारंपरिक बालटाल ट्रैक से 21 जुलाई से यात्रा शुरू कराना प्रस्तावित है लेकिन इस रूट से संबंधित जिला गांदरबल भी रेड जोन श्रेणी में है। जम्मू में भी कई इलाके कंटेनमेंट एवं रेड जोन घोषित हैं। कोविड संकट के बीच श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड और प्रदेश प्रशासन यात्रा और यात्री पंजीकरण की तिथि घोषित नहीं कर पाया है।

यह भी पढ़ेंः
जम्मू-कश्मीर के दामाद सचिन पायलट को लगा झटका, तो घाटी में शुरू हो गए अटल सरकार के वो किस्से

प्रस्तावित यात्रा के लिए सड़क मार्ग से ही पारंपरिक बालटाल ट्रैक तक यात्रियों को पहुंचाने की योजना है। दूसरी ओर कोविड संकट के चलते श्रीनगर के अलावा अनंतनाग, गांदरबल, बांदीपोरा, कुपवाड़ा और बारामुला जिलों को रेड जोन घोषित किया गया है। इन जिलों से प्रतिदिन सौ से अधिक कोरोना मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में तीर्थयात्रियों के आवागमन के दौरान उनकी स्वास्थ्य सुरक्षा बड़ी चुनौती होगी। 
अद्भुतः सैलानियों को जन्नत का एहसास कराते हैं ये नजारे, यहीं है 101 तालाबों का संगम, देखें तस्वीरें

वहीं, जम्मू संभाग के भी विभिन्न जिलों में कोरोना का प्रसार बढ़ा है। संभाग में कठुआ, सांबा, जम्मू, उधमपुर आदि जिलों से होते हुए यात्री सड़क मार्ग से कश्मीर जाते हैं। इससे बाहर से आने वाले तीर्थयात्रियों में संक्रमण फैलने की आशंका होगी। हालांकि इस बार यात्रा के लिए प्रत्येक यात्री का कोविड टेस्ट अनिवार्य करवाया जाना है।

यह भी पढ़ेंः पर्यटकों के लिए कल से खुलेंगे जम्मू-कश्मीर के द्वार, बेहद खूबसूरत हैं घाटी के ये स्थान
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कोरोना संक्रमित, जितेंद्र सिंह और राम माधव क्वारंटीन

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रैना ने सोशल मीडिया के जरिए स्वयं इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों द्वारा बांदीपोरा में भाजपा नेता वसीम बारी, उमर सुल्तान और उनके पिता की हत्या के बाद मैं पांच दिन कश्मीर में रहा। आज मुझे हल्का बुखार था। मैंने टेस्ट करवाया तो कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के संपर्क में आए सभी लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा।

रवींद्र रैना के संक्रमित होने की जानकारी मिलते ही केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने खुद को क्वारंटीन कर लिया है। बता दें कि रविवार को केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह, राम माधव, अविनाश राय खन्ना और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना वसीम बारी के घर गए थे। इस दौरान सभी ने दिवंगत भाजपा नेता वसीम बारी, उनके पिता और भाई को श्रृद्धांजलि दी थी। 
यह भी पढ़ेंः
जम्मू-कश्मीर के दामाद सचिन पायलट को लगा झटका, तो घाटी में शुरू हो गए अटल सरकार के वो किस्से

कश्मीर संभाग में कोरोना थमने का नाम नहीं ले रहा है। जम्मू-कश्मीर के एक केपीएस अधिकारी के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद श्रीनगर पुलिस मुख्यालय को सील कर दिया गया। दूसरी ओर प्रदेश में 24 घंटे के भीतर एक सीआरपीएफ जवान समेत आठ और लोगों की कोरोना से मौत हो गई। 55 वर्षीय जवान कुलगाम में तैनात था। वहीं 314 नए संक्रमित मिले हैं। इसमें जम्मू संभाग से 89 और कश्मीर से 225 मामले शामिल हैं। इसके अलावा 116 संक्रमित मरीज स्वस्थ भी हुए। इसमें जम्मू संभाग से 53 और कश्मीर से 63 मामले शामिल हैं।

जिला जम्मू में सोमवार को 25 संक्रमित मामले सामने आए। श्रीनगर में सबसे अधिक 101 संक्रमित मामले सामने आए। इसी तरह बारामुला में 6, कुलगाम में 21, शोपियां में 16, अनंतनाग में 14, कुपवाड़ा में 30, पुलवामा में 6, बड़गाम में 11, बांदीपोरा में 20, उधमपुर में 1, कठुआ में 16, रामबन में 9, सांबा में 24, पुंछ में 4, डोडा में 6 और किश्तवाड़ में 4 मामले शामिल हैं।
... और पढ़ें

जम्मूः कुद इलाके में गैस टैंकर में रिसाव, घटनास्थल पर एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड की टीम पहुंची

रवींद्र रैना, जितेंद्र सिंह, राम माधव

बदल रहा जम्मू-कश्मीर: 72 साल में पहली बार शहीदी दिवस पर नहीं हुआ कोई आयोजन, उमर हुए आगबबूला

अगर आप पटनीटॉप जाने का प्लान बना रहे हैं तो ध्यान दें, ये काम न किया तो दिक्कत में पड़ जाएंगे

डीआईजी का दावा, बड़े हमले की ताक में थे सोपोर मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकी

उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के सोपोर में रविवार को हुई मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों के मारे जाने से बड़े हमले की साजिश नाकाम हुई है। एक बड़ा खतरा टल गया है। यह दावा डीआईजी नॉर्थ कश्मीर रेंज (एनकेआर) सुलेमान चौधरी ने किया है। 

सोमवार को पत्रकारों से कहा कि जैसा कि हमारे पास इनपुट था और जिस तरह के हथियार इनसे बरामद हुए हैं, उससे लगता है कि ये लोग किसी बड़े हमले की फिराक में थे। इनका मारा जाना सुरक्षा बलों के लिए बड़ी सफलता है। बता दें, रविवार को हुई मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकियों से 3 एके राइफल, 9 एके मैगजीन, 145 गोलियां, 3 पाउच, 1 ग्रेनेड, 1 सोल्जर नाइफ और अन्य सामग्री बरामद हुई है। इनमें दो पाकिस्तानी थे। इनकी शिनाख्त उस्मान भाई उर्फ अबू राफिया और सैफुल्ला के तौर पर हुई है। दोनों आतंकी पिछले दो वर्षों से यहां सक्रिय थे।

उत्तरी कश्मीर में 40 विदेशी और 17 स्थानीय आतंकी
डीआईजी ने बताया कि रिपोर्ट के अनुसार उत्तरी कश्मीर में इस समय करीब 35-40 विदेशी आतंकी और 16-17 स्थानीय आतंकी सक्रिय हैं। यह संख्या घटती-बढ़ती रहती है। इनमें करीब 7-10 ऐसे आतंकी हैं जो कुछ महीने पहले बांदीपोरा और कुपवाड़ा सेक्टर से घुसपैठ कर इस पार आए हैं। आतंकी संगठनों में स्थानीय युवाओं की भर्ती के ग्राफ  में बहुत कमी आई है। करीब 11 युवा आतंकवाद में शामिल हुए जिनमें से 4 को गिरफ्तार कर लिया गया। अगर सोपोर की बात करें तो चार युवा आतंकवाद में शामिल हुए थे जिसमें से तीन को मार गिराया जा चुका है। यह सब लोगों के सहयोग से हुआ है। 

लोगों ने नकारा आतंकियों का एजेंडा
डीआईजी के अनुसार घाटी से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से एलओसी के पार पाकिस्तान में बैठे आतंकियों का एजेंडा है कि ज्यादा से ज्यादा स्थानीय युवाओं को आतंकवाद में शामिल किया जाए। आतंकियों द्वारा मेवा व्यापारियों, नागरिकों, गैर स्थानीय मजदूरों को निशाना बनाया गया। इस सबके बावजूद भी लोगों ने उनके एजेंडे को नकारते हुए पूरा सहयोग दिया। उम्मीद थी कि ग्राफ  बढ़ेगा लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। हमारी भी यही कोशिश रहती है कि युवाओं को गलत राह पर जाने से रोकें। हाल ही में कुछ युवाओं को आतंकवाद के चंगुल से निकाला गया और काउंसलिंग कर परिवार वालों के हवाले कर दिया गया।
 
सीमा पार लांचिंग पैड्स पर 300 आतंकी 

इस दौरान सेना के 5 सेक्टर के कमांडर विवेक नारंग ने कहा कि एलओसी से घुसपैठ की हर साजिश से निपटने के लिए सेना हर समय तैयार है। पहले भी कई बार घुसैपठ को नाकाम किया गया है। रिपोर्ट्स के अनुसार सीमा पार लांचिंग पैड्स पर करीब 250-300 आतंकी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं। इस वर्ष अभी तक पाकिस्तान ने घुसपैठ कराने के लिए उत्तरी कश्मीर रेंज में करीब 28 बार संघर्ष विराम का उलंघन किया है। पाकिस्तान गोलाबारी की आड़ में ज्यादा से ज्यादा घुसपैठ कराना चाहता है लेकिन सेना पूरी तरह अलर्ट है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन