विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

देश-दुनिया के लिए नजीर बन रहा है लद्दाख, चंडीगढ़ के डॉक्टरों ने कहा- जन सहयोग से काबू में आया कोरोना

लद्दाख में कोरोना संक्रमण की रोकथाम पर सेंट्रल रैपिड रिस्पांस टीम ने अपनी रिपोर्ट उपराज्यपाल आरके माथुर को सौंप दी।

3 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कठुआ

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

जम्मू-कश्मीर में भारतीय संविधान की शपथ लेने वाले पहले जज बने ओसवाल, ऑनलाइन हुआ समारोह

एडवोकेट रजनीश ओसवाल जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट के जजों की श्रेणी में शामिल हो गए हैं। गुरुवार को उन्होंने शपथ ली। हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने उन्हें शपथ दिलाई। ओसवाल हाईकोर्ट के पहले ऐसे जज हैं, जिन्होंने भारतीय संविधान के तहत शपथ ली है। इससे पहले जम्मू-कश्मीर का अपना संविधान था।
 
जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद पुनर्गठन होने पर अब हाईकोर्ट की कार्यवाही भारतीय संविधान के तहत चलती है। इससे पहले रहे जजों ने राज्य के संविधान के तहत शपथ ली थी। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के चलते शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन ऑनलाइन किया गया।

इससे पहले हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार संजय धर ने राष्ट्रपति के वारंट को पढ़कर सुनाया। उपराज्यपाल द्वारा प्रमाणित पत्र को भी पढ़ा गया। शपथ समारोह में डीजीपी दिलबाग सिंह, एडवोकेट जनरल समेत कुछ अन्य जज मौजूद रहे।

जस्टिस ओसवाल के आने से अब जजों की संख्या 9 हो गई है। हालांकि अभी भी 8 जजों की कमी है। हाईकोर्ट में जजों के कुल 17 पद मंजूर हैं। वर्ष 1973 में जन्मे ओसवाल जम्मू यूनिवर्सिटी में एलएलबी के गोल्ड मेडलिस्ट रहे हैं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों की आरती उतार रही जम्मू-कश्मीर पुलिस, फिर ऐसे समझाया जा रहा

जरूरतमंद लोगों को दिया राशन, मवेशियों को खिलाया चारा

हीरानगर। लॉक डाउन के चलते दिहाड़ी मजदूरों तक खाने-पीने का जरूरी सामान पहुंचाने का सिलसिला लगातार जारी है। पुलिस, प्रशासन, जनप्रतिनिधि और समाज सेवक इन लोगों तक राशन पहुंचाने का काम कर रहे हैं। जरूरतमंद लोगों तक राशन पहुंचाने के साथ-साथ बाजारों कस्बों में घूमने वाले मवेशियों के लिए चारे का प्रबंध भी किया जा रहा है हीरानगर प्लांटेशन टीम ने कस्बे में और उसके आसपास के इलाकों में घूमने वाले मवेशियों के लिए चारे का प्रबंध किया। लोगों के सहयोग से खेतों से हरी घास काट कर गाड़ियों में भर कर मवेशी तक पहुंचाई। चड़वाल में स्थित संतोषी माता मंदिर में जरूरतमंद लोगों के खाने को लंगर लगाया गया। जहां सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए एक मीटर की दूरी पर बैठकर लोगों ने भोजन ग्रहण किया। इस मौके पर स्थानीय सरपंच सीमांत शर्मा ने लोगों को कोरोनावायरस के प्रति जागरूक करते हुए सरकार के आदेशों को मानने की अपील की। कठुआ यूनाइटेड पुलिस की ओर से दयालाचक बिलावर मार्ग पर खड़े ट्रक ड्राइवरों के लिए दोपहर और रात के खाने का प्रबंध किया गया है। पिछले पांच दिनों से यह टीम इसी तरह से अपना सहयोग दे रही है। ... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः कोरोना से जंग में छोटा सा दान कर नन्ही प्रजुषा ने दिया बड़ा संदेश

कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी लॉकडाउन के बीच प्रभावित लोगों की मदद के लिए नेता, समाजसेवी, बड़े व्यवसायी व अन्य लोग सामने आ रहे हैं। वहीं जानीपुर की नन्ही प्रजुषा भी पीछे नहीं है। उसने भी अपनी गुल्लक के पैसे गरीबों की मदद करने के लिए दान कर दिए।

जानीपुर टाली मोड की रहने वाली प्रजुषा जरूरतमंदों की मदद करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी से ऐसी प्रेरित हुई कि उसने अपनी गुल्लक की राशि को सेवा भारती को सौंपने का निर्णय लिया और एक मिसाल कायम कर दी। दोपहर बाद अपने पिता के साथ अंबफला स्थित त्रिकुटा भवन में प्रजुषा अपनी गुल्लक के साथ पहुंची और वहां पर गुल्लक से पूरी राशि निकाल कर सेवा भारती के पदाधिकारियों को सौंप दी।

संकट की घड़ी में जरूरतमंदों की मदद में जुटी सेवा भारती को हर प्रकार की मदद मुहैया कराने में कई लोग आए हैं। पिछले दिनों सेवा भारती की कार्यप्रणाली से खुश होकर उपराज्यपाल के सलाहकार फारुक खान की माता खालिदा बेगम ने भी हज यात्रा के लिए रखी पांच लाख रुपये की राशि सेवा भारती को दान कर दी थी।

लॉकडाउन के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने जम्मू संभाग के बाद अब कश्मीर संभाग में भी राहत सामग्री वितरण शुरू कर दिया है। इसकी जिम्मेदारी सेवा भारती से जुड़े कश्मीर में सक्रिय सदस्यों को सौंपी गई है। गुरुवार को राहत सामग्री वितरण का काम बारामुला, हंदवाड़ा और बडगाम में चला। यहां लोगों को राशन के साथ-साथ मास्क और साबुन भी वितरित किए गए। बारामुला के डिंगीबचा में राहत कार्यों में जुटी मूबीना बेगम ने बताया कि लोगों को सैनिटाइजेशन के प्रति भी जागरूक किया जा रहा है।
... और पढ़ें
गुल्लक के पैसे दान करती बच्ची गुल्लक के पैसे दान करती बच्ची

आरएसएस ने बांटी राहत सामग्री, पुलिसकर्मियों के पास मास्क की कमी सहित जम्मू-कश्मीर की ये बड़ी खबरें

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सेवा भारती संकटमोचन दल की रिलीफ टीम ने लगातार नौवें दिन अपना राहत सामग्री बांटने का अभियान जारी रखा। इस दौरान कुंजवानी, गंग्याल, जीवन नगर, नगरोटा, पंजगराई और सेरी इलाकों के अलावा जम्मू के विभिन्न वार्डों में प्रवासी मजदूरों को राहत सामग्री वितरित की गई। इसके अलावा समूचे जम्मू संभाग में सेवा भारती की हेल्पलाइन से मदद मांगने वाले सैकड़ों लोगों को भी मदद पहुंचाई गई।

एक ही मास्क पहनकर हफ्ते भर ड्यूटी कर रहे कई पुलिसकर्मी

कोरोना की रोकथाम के लिए हुए लॉकडाउन का पालन कराने में जुटे पुलिसकर्मी मास्क की किल्लत से जूझ रहे हैं। क्षेत्र के सभी थानों में मास्क और सैनिटाइजर भेजे गए थे, लेकिन मास्क के इस्तेमाल की एक अवधि होती है। कई पुलिस कर्मी एक ही मास्क को कई दिनों से पहन कर अपना काम चला रहे हैं।

कुछ पुलिस कर्मियों ने बताया लॉकडाडन से पहले मास्क दिए गए थे। लॉकडाउन हुए एक हफ्ता बीत चुका है। कई थानों और पुलिस चौकियों में सैनिटाइजर की भी कमी है। इसके बारे में आईजी जम्मू मुकेश सिंह ने कहा कि पुलिस कर्मियों के पास मास्क की कोई कमी नहीं है। हर जगह पर पर्याप्त मात्रा में मास्क उपलब्ध हैं।
 
... और पढ़ें

जम्मू में सोशल डिस्टेंसिंग हुई तार-तार, आईजीपी बोले- पेंशन लेने आए लोगों को मना नहीं कर सकते, पुलिस भेजी है

कोरोना वायरस के प्रकोप को खत्म करने के लिए जम्मू-कश्मीर में पुलिस और सेना मुस्तैदी से जुटी हुई है। इसी क्रम में लगातार प्रशासन की ओर से लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के बारे में जागरूक किया जा रहा है। उधर, आज यानी कि शुक्रवार को जम्मू संभाग के आरएस पुरा से ऐसी तस्वीर सामने आई है जो काफी चिंताजनक है।

यहां बैंक के बाहर लोगों की कतार लगी है। सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन लोगों की तरफ से नहीं किया गया। हैरानी वाली बात तो यह है कि बैंक के बाहर लगी इस भीड़ के बारे में पुलिस अनजान रही।

वहीं जब पुलिस के अधिकारियों से इस संबंध में बात की गई तो आईजीपी जम्मू, मुकेश सिंह ने कहा कि ये लोग पेंशन लेने के लिए आए हैं। इनको मना नहीं कर सकते हैं लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी है। इसके लिए पुलिस को मौके पर भेजा गया है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः सभी अस्पतालों में लगेंगे सैनिटाइजिंग टनल, उप राज्यपाल ने दिए निर्देश

आरएस पुरा में बैंक के बाहर लगी कतार
कोरोना से निपटने की तैयारियों के बीच उप राज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने प्रदेश के सभी अस्पतालों में प्राथमिकता के आधार पर सैनिटाइजिंग टनल लगाने के लिए कहा है। साथ ही महत्वपूर्ण स्थानों पर भी इसे लगाने की हिदायत दी है।
 
राजभवन में प्रशासनिक सचिवों की उच्च स्तरीय बैठक में उन्होंने दिल्ली में धार्मिक जलसे में शामिल होने वालों की पहचान सुनिश्चित करने और इनकी एवं इनके संपर्क में आए लोगों की शत प्रतिशत जांच कराने को भी कहा है। बचाव के लिए उन्होंने मास्क के उपयोग की सलाह दी।

बैठक में उन्होंने बीज, खाद व पशु चारा निर्माण से जुड़ी इकाइयों को काम करते रहने की अनुमति देने की हिदायत दी। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसे भी सुनिश्चित करने को कहा। उप राज्यपाल ने राहत पैकेज के वितरण, एटीएम में पैसे हर वक्त उपलब्ध रखने को कहा।
... और पढ़ें

श्रीनगर में पहली कीटाणुनाशक सुरंग शुरू, 20 सेकेंड में खत्म हो जाएगा वायरस, देखें तस्वीरें

जम्मू में मिला एक और संक्रमित, संख्या 71 पहुंची, अबतक 636 संदिग्ध मरीज सामने आए

प्रदेश में कोरोेना वायरस के नए मामले सामने आने का सिलसिला जारी है। आज यानी कि शुक्रवार को जम्मू में एक और संक्रमित पाया गया है। इसी के साथ प्रदेश में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 71 हो गई है। वहीं कश्मीर संभाग में गुरुवार को तीन नए मामले मिले। जबकि लद्दाख में करीब दो हफ्ते बाद एक नया मामला सामने आया। कश्मीर संभाग में गुरुवार को पहले संक्रमित मरीज को पूरी तरह से ठीक होने पर अस्पताल से छुट्टी दी गई।

जम्मू-कश्मीर में अब तक कोरोना वायरस  के 71 पॉजिटिव मामले आ चुके हैं। इसमें 66 सक्रिय और तीन ठीक हुए हैं, जबकि दो की मौत हो चुकी है। चार मामलों की रिपोर्ट आना अभी बाकी है। कारगिल-लद्दाख के संजाक क्षेत्र में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक व्यक्ति पीड़ित मिला है।

जीएमसी जम्मू के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एक डॉक्टर के पॉजिटिव होने के बाद संक्रमित हुए परिवार के तीन अन्य सदस्यों को बुधवार की देर रात जीएमसी के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए गुरुवार को माइक्रोबायोलॉजी विभाग के 25 सदस्यों के सैंपल लिए गए, जिनकी रिपोर्ट अब तक नहीं आई है। इस बीच कश्मीर में क्वारंटीन अवधि पूरी कर चुके 324 और लोगों को गुरुवार को घर भेजा गया।

इनमें ज्यादातर बांग्लादेश में पढ़ रहे हैं। विभिन्न केंद्रों में अब भी 12 सौ से अधिक लोग क्वारंटीन हैं। श्रीनगर के छत्ताबल और उधमपुर जिले के रामनगर के सात इलाकों को रेड जोन घोषित किया गया है। गुरुवार को भी लखनपुर से लद्दाख तक लॉकडाउन रहा।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः हंदवाड़ा में पकड़े गए चार आतंकी, आतंकियों के चार मददगार भी गिरफ्तार

कश्मीर संभाग के हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस और सेना को सूचना मिली कि इलाके में चार आतंकवादी मौजूद हैं। आनन-फानन में 21-आरआर, हंदवाड़ा पुलिस और सीआरपीएफ की 92वीं बटालियन ने इनके खिलाफ अभियान शुरू किया।

इलाके की घेराबंदी कर सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को पकड़ने में सफलता पाई। ये सभी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी हैं। इन आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद किया गया है। वहीं सुरक्षाबलों ने आतंकियों के दो मददगारों को भी गिरफ्तार किया है।

उधर, जम्मू कश्मीर पुलिस और सेना ने सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के दो मददगारों को गिरफ्तार किया है। साथ ही दोनों के पास से हथियार व गोला-बारूद बरामद हुआ है। पकड़े गए आतंकियों के मददगारों से पुलिस पूछताछ कर रही है।

उत्तरी कश्मीर के सोपोर शहर में आज यानी कि शुक्रवार को सुरक्षाबलों को सूचना मिली कि इलाके में आतंकियों के दो मददगार मौजूद हैं। आनन-फानन में पुलिस और सेना की संयुक्त टीम ने अभियान शुरू किया। इस दौरान सोपोर के नूरबाग इलाके से दोनों को पकड़ने में सोपोर पुलिस, 22-आरआर और सीआरपीएफ की 179वीं बटालियन को सफलता मिली।

एसएसपी सोपोर जावीद इकबाल ने अमर उजाला से बात करते हुए कहा कि पकड़े गए दोनों मददगार लश्कर के सक्रिय आतंकवादियों को रसद मुहैया करा रहे थे। उनके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किया गया है। साथ ही मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

रामकोट तहसील के आगलीधार लोगों ने प्रशासन से बचकर छुप कर बैठे हुए लोगों को कोरंनटाइम में रखने की मांग की है

रामकोट। अगलीधार के ग्रामीणों ने प्रशासन से बाहरी राज्यों से लौटकर घरों में छिपकर बैठे लोगों को क्वारंटीन केंद्रों में रखने की मांग की है। प्रशासन ने 21 दिन के लॉकडाउन में लोगों को घरों से बाहर न निकलने की अपील की है, वहीं बाहरी राज्यों से आए लोग अभी भी अपने घरों में छिपकर बैठे हैं। स्थानीय निवासियों का कहना है कि इन लोगों का चेकअप होना बहुत जरूरी है, क्योंकि पंचायत में 15 से 20 लोग ऐसे हैं, जो बाहर से लौटे हैं और उनकी अभी तक कोई जांच नहीं की गई गई है। प्रशासन ने भी कोई कदम नहीं उठाया है।
यहां लॉकडाउन का भी कोई असर नहीं दिख रहा। दोपहिया वाहनों पर तीन-तीन युवक बैठकर जाते हैं, लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही है। ताराचंद, अनंतराम, राजपाल, शिवराम आदि ने एडीसी बिलावर से मांग की कि इन समस्याओं का समाधान किया जाए।
... और पढ़ें

रामनवमी पर नहीं हुए समारोह, घरों में की पूजा

कठुआ। लॉकडाउन के दसवें दिन शहर समेत ग्रामीण इलाकों में दवा से लेकर किराना और दूध आदि की दुकानें पूरी तरह से बंद रहीं। पुलिस ने विभिन्न चौक-चौराहों पर भी सख्ती बरती। रामनवमी के उपलक्ष्य पर जहां शहर समेत ग्रामीण इलाकों में कहीं भी किसी तरह के समारोह का आयोजन नहीं हुआ, लोगों ने घर में रहकर लॉकडाउन का पालन किया। उधर, नगर परिषद लगातार विभिन्न इलाकों में सेनिटाइजेशन और फॉगिंग करवा रही है है। परिषद अध्यक्ष नरेश शर्मा ने बताया कि बाल आश्रम, निरंकारी भवन, वार्ड 9, 12, 18 और वार्ड 19 में निसंक्रामक स्प्रे के साथ फॉगिंग भी करवाई। उन्होंने बताया कि 12 लोगों की छह टीमें शहर में जगह-जगह लगाई गई हैं। क्वारंटीन केंद्रों में साफ-सफाई रूटीन में करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि नियमित रूप से नगर परिषद की टीमें शहर के हर कोने तक पहुंच रही हैं।
घरों में कन्या पूजन कर लिया मां भगवती का आशीर्वाद
बिलावर/बसोहली। रामनवमी पर वीरवार को कन्या पूजन और साख विसर्जन के साथ चैत्र नवरात्र का समापन हो गया। घरों में कन्या पूजन कर कई लोगों ने साख विसर्जन किया। कन्याओं को हलवा-पूरी और चने का भोजन करवाया। कई श्रद्धालुओं ने नदियों के तट पर पहुंचकर साख विसर्जन किया और प्रसाद ग्रहण कर व्रत को संपूर्ण किया। पिछले कई दिनों से लॉकडाउन चलते ज्यादातर लोगों ने रामनवमी पर अपने घरों में ही पूजा-अर्चना की और मंदिरों में बहुत कम संख्या में लोग पहुंचे। सरकार के आदेश का पालन करते हुए चैत्र नवरात्र में रामनवमी पर भी किसी मंदिर में भंडारे का आयोजन नहीं किया गया। बसोहली में भी रामनवमी पर मंदिरों के मुख्य द्वार और कपाट बंद रहे। श्रद्धालुओं ने घर पर ही कन्या पूजन किया। इक्का दुक्का लोगों ने घरों के समीप ही कूहलों और नालों में साख विसर्जन किया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us