विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अमरनाथ यात्रा पर कोरोना वायरस की मार, पंजीकरण 15 अप्रैल तक स्थगित, जानिए ये अहम बातें

कोरोना वायरस की मार अमरनाथ यात्रा पर भी पड़ गई है। देशव्यापी लॉकडाउन को देखते हुए एक अप्रैल से शुरू होने वाले अमरनाथ यात्रा के लिए पंजीकरण 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया है।

31 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

श्रीनगर

मंगलवार, 31 मार्च 2020

घर जाने के लिए बस अड्डे पर दिन काट रहे प्रवासी मजदूर, बोले- बहुत परेशान हैं, सरकार मदद करे

निर्माण कार्य, फैक्ट्रियों, रेहड़ी और दुकानें बंद होने से शहर के विभिन्न इलाकों से प्रवासी मजदूरी शहर छोड़ रहे हैं। शहर से बस, रेल, सड़क और हवाई यातायात की सुविधा नहीं होने से लोगों को परेशानियों से दो-चार होना पड़ रहा है। पिछले कुछ दिनों से बस स्टैंड पर प्रदेश के विभिन्न जिलों के लिए जाने वाले मजदूर और आम लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा है। यातायात की सुविधा न होने से यह लोग अपने घर नहीं जा पा रहे हैं। पिछले दस दिनों से काम नहीं होने के कारण अब लोगों को आर्थिक तंगी होने लगी है।

शहर में लॉकडाउन होने के कारण फंसे लोगों के लिए जम्मू-कश्मीर स्टेट रोड ट्रांसफोर्ट कॉरपोरेशन ने सात जिलों के लिए बस सेवा शुरू की है। बस सेवा होने के बावजूद भी यह मजूदर अपने घरों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। जरनल बस स्टैंड में प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। इनमें डोडा, राजौरी, पुंछ, रामबन, श्रीनगर सहित अन्य जिलों के लोगों की संख्या अधिक है।

शनिवार सुबह भी बस स्टैंड पर लोगों की लंबी लाइन लगी रही। रामबन जाने वाले पवन सिंह ने कहा कि तीन दिनों से लगातार आ रहा हूं। यहां पर पुलिस और प्रशासन के लोग नाम लिखवाने के लिए कहते हैं। मैं हर दिन नाम दर्ज करवाता हूं, कहा जाता है आपकों को फोन कर बताएंगे, लेकिन फोन नहीं आता है। वहीं श्रीनगर जाने वाले अब्दुल अजीज ने कहा कि दिनभर लाइन में लगाया जाता है फिर कहते हैं कल आना। बहुत परेशान हैं सरकार को चाहिए कि हमें घर पहुंचाए।

शनिवार को पुंछ के लिए गईं दो बसें
शनिवार को बस स्टैंड से दो बसें पुंछ के लिए रवाना हुईं। हालांकि, बस स्टैंड पर श्रीनगर और डोडा जाने वाले यात्रियों की संख्या अधिक रही। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने से भी श्रीनगर के लिए बसें नहीं भेजी गईं।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः दिनचर्या में शामिल हुआ लॉकडाउन, लोग बोले- बस ये दिक्कत खत्म हो जाए

प्रधानमंत्री की अपील पर शहरवासियों ने धीरे-धीरे लॉकडाउन को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लिया है। दिन गुजारने के लिए कई तरीके अपनाए जा रहे हैं। घरों में रहकर खुद के लिए कई मनोरंजन के साधन जुटाए जा रहे हैं। इसमें सोशल मीडिया के साथ अन्य साधनों का सहारा लिया जा रहा है।

इस बीच चौथे दिन शहर में पूरी तरह से लॉकडाउन रहा। लोग जरूरी खरीदारी के लिए घरों से बाहर निकले। तारबंदी के बीच जगह-जगह नाकों पर गैर जरूरी कार्यों के लिए निकले लोगों को पुलिस ने वापस भेजा। कई जगह सख्ती भी दिखाई गई।

लॉकडाउन के बीच लोगों के मनोरंजन का सबसे मुख्य साधन मोबाइल इंटरनेट बना हुआ है। सोशल साइटों पर अपने दोस्तों, सगे संबंधियों को विभिन्न तरह के वीडियो बनाकर भेजे जा रहे हैं। इनमें अधिकांश वीडियो को लॉकडाउन से जोड़कर दिखाया जा रहा कि किस तरह इन परिस्थितियों में किसकी क्या हालत है। इसके अलावा दूसरा मुख्य साधन टीवी बना हुआ है। कोई न्यूज चैनल से जुड़ा है तो कोई सीरियल देख रहा है। बच्चों का ग्रुप कार्टून का फैन बना हुआ है।
 
... और पढ़ें

खुलासाः पढ़ाई के बहाने आतंकी-प्रशिक्षण के लिए पाकिस्तान भेजे जा रहे युवा, मौलवी ने पहुंचाई तस्वीरें

उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के पट्टन इलाके से शनिवार को लश्कर-ए-तैयबा के दो मददगारों की गिरफ्तारी के बाद बड़ा खुलासा हुआ है। मददगारों को पाकिस्तान में बैठे आकाओं ने स्थानीय युवाओं को हथियारों की ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान भेजने का काम सौंपा था। दोनों युवक अब तक पांच को ट्रेनिंग के लिए भेज भी चुके थे। यह पाकिस्तान में पढ़ाई के नाम पर युवाओं को भेजते थे।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को उन्हें एक सूचना मिली कि वुसन के नजीर अहमद मीर का बेटा मौलवी शौकत अहमद मीर और अंदरगाम के मोहम्मद अकबर यत्तू का बेटा शौकत अहमद यत्तू सक्रिय स्थानीय आतंकी सलीम पररे और पाकिस्तानी आतंकी अबु जरगाम को मदद कर रहे हैं। पुलिस ने दोनों को धर दबोचा।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि मौलवी को पहले भी गिरफ्तार किया जा चुका है। उसे यत्तू के साथ मिलकर लश्कर आतंकियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और उनके रहने के बंदोबस्त का काम सौंपा गया था। साथ ही इन्हें पट्टन में लश्कर की जड़ें मजबूत करने के लिए स्थानीय युवाओं की संगठन में भर्ती का जिम्मा भी सौंपा गया था।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः जांच रिपोर्ट आई ही नहीं, पर युवक को घोषित किया कोरोना पॉजिटिव

श्रीनगर शहर के चेस्ट अस्पताल में जांच रिपोर्ट आए बगैर ही एक युवक को कोरोना पॉजिटिव घोषित करने का मामला सामने आया है। इस युवक को रविवार को पॉजिटिव घोषित किया गया, जबकि अस्पताल के रिकार्ड में उसे संदिग्ध बताया गया था। साथ ही उसके रिपोर्ट के आने का इंतजार होने की बात लिखी गई थी।

शहर के बाहरी इलाके सोएटेंग लासजन के इस युवक को पॉजिटिव घोषित किए जाते ही परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों को क्वारंटीन कर दिया गया। इससे पूरे इलाके में हड़कंप मच गया। सोमवार को अस्पताल प्रशासन ने युवक को कोविड संदिग्धों के लिए बने वार्ड नंबर पांच में जाने को कहा। बताते हैं कि युवक के आपत्ति करने पर कि उसके शिफ्ट होने से अन्य लोग संक्रमित हो सकते हैं तो उसे बताया गया कि उसके रिपोर्ट का अभी इंतजार है।
 
वह कोरोना संक्रमित फिलहाल नहीं है। युवक ने बताया कि सोपोर के मृत व्यक्ति के संपर्क में आने पर उसने स्वयं अस्पताल में इसकी जानकारी दी थी। हालांकि, इस बारे में अस्पताल प्रशासन की ओर से कोई टिप्पणी नहीं की गई है।
... और पढ़ें
जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस

ग्राउंड रिपोर्टः थाली पर कोरोना की मार, एक ही सप्ताह में तीन गुने हो गए सब्जियों के दाम

बाजारों में सब्जियों के दामों में तीन गुने तक बढ़ोतरी हो रही है। मंडी से हरी मटर गायब हो चुकी है। दुकानों में घीया, कडम, मूली, बंद गोभी, फूल गोभी, शिमला मिर्च आ रही है। फ्रासबीन, बैंगन भी कम ही दिख रहा है। पंजाब से सबसे ज्यादा गोभी, बंदगोभी की ही आपूर्ति हो रही है।

लॉकडाउन होने के कारण लोग घरों से कम निकल रहे हैं। इस कारण दुकानों में दिनभर ग्राहकों की भीड़ नहीं उमड़ रही है। रेहड़ी वालों ने सब्जी बेचना धीरे-धीरे बंद कर दिया है। अलग-अलग बाजारों में तीन से चार रेहड़ियां लग रही थीं। अब इक्का-दुक्का रेहड़ियां ही दिख रहीं।

सुबह आठ बजे : नरवाल मंडी में भीड़ नहीं थी। हालांकि, पहले सुबह के वक्त खूब भीड़ होती थी। सब्जी लेने वालों की संख्या कम दिखी। आढ़तियों के अनुसार सुबह ही ठीक बिक्री नहीं हुई है। कम लोग सब्जी लेने आ रहे हैं। सब्जी को कश्मीर और श्रीनगर के लिए भेजा गया। नुकसान बहुत हो रहा है।
... और पढ़ें

अमरनाथ यात्रा पर कोरोना वायरस की मार, पंजीकरण 15 अप्रैल तक स्थगित, जानिए ये अहम बातें

कोरोना वायरस की मार अमरनाथ यात्रा पर भी पड़ गई है। देशव्यापी लॉकडाउन को देखते हुए एक अप्रैल से शुरू होने वाले अमरनाथ यात्रा के लिए पंजीकरण 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया है। बोर्ड की ओर से लॉकडाउन खत्म होने के बाद हालात की समीक्षा कर ही पंजीकरण पर अगला फैसला करेगा। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक इस साल 23 जून से अमरनाथ यात्रा शुरू होनी है।

अमरनाथ यात्रा के लिए अमूमन मार्च से यात्री पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो जाती थी लेकिन इस साल इसे एक अप्रैल से शुरू किया जाना था। इस दौरान लॉकडाउन के चलते लोगों की दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए पंजीकरण फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। पंजीकरण के लिए बैंक शाखाओं में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं, जिसमें सामाजिक दूरी को भी ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में चार नए मरीज मिले, संक्रमितों की संख्या हुई 49

आतंकवाद से जूझ रहे जम्मू-कश्मीर में अब कोरोना कहर बरपाने लगा है। सोमवार की शाम को चार और नए मरीज मिले हैं। अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 49 हो गई है।

इससे पहले आज ही सोमवार को जम्मू संभाग में तीन और कश्मीर संभाग में चार मामले सामने आए थे। जम्मू संभाग में पाए गए मामलों में एक उधमपुर और दो मामले जम्मू से थे।

जम्मू के दो संक्रमितों में एक जीएमसी अस्पताल के चिकित्सक हैं। वहीं कश्मीर में पाए गए चार संक्रमित मामलों में दो शोपियां और दो श्रीनगर के हैं। बीते दिनों ये सभी किस-किस के संपर्क में आए, प्रशासन ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

इससे पहले रविवार सुबह जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस के कारण मौत का दूसरा मामला सामने आया। कश्मीर के एक अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की मौत हो गई। बताया गया कि 62 वर्षीय मृतक उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के तंगमार्ग इलाके का रहने वाला था।
 
एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मरीज की मृत्यु रविवार सुबह करीब 4:00 बजे हुई। मृतक पहले से ही लिवर की बीमारी से ग्रसित था और शनिवार को ही उसके संक्रमित होने का पता चला था। चिकित्सक ने बताया कि शनिवार को उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था।
 
... और पढ़ें

जम्मू कश्मीरः 31 कैदियों पर लगा पीएसए हटा, महबूबा मुफ्ती को रिहा किए जाने की मांग हुई तेज

जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस
जम्मू-कश्मीर सरकार ने केंद्र शासित प्रदेश की विभिन्न जेलों में बंद 31 कैदियों पर लगा पब्लिक सेफ्टी एक्ट(पीएसए) सोमवार को हटाया गया है। अब तक हटाए गए 31 पीएसए के मामलों में से 14 को हटाने का आदेश पहले ही आ चुका था। वहीं पीडीपी नेता ने जेलों में बंद सभी राजनेताओं की भी रिहाई की मांग की है।

जानकारी के अनुसार सरकार द्वारा श्रीनगर की सेंट्रल जेल में पीएसए के तहत बंद 14 कैदियों की रिहाई समेत कुल 31 कैदियों पर लगा पीएसए हटाया गया है और उन्हें जल्द रिहा किया जा सकता है। इस बीच जम्मू कश्मीर पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि अभी श्रीनगर की सेंट्रल जेल से किसी को रिहा नहीं किया गया है। हालांकि इस संबंध में आदेश जारी किया गया है। बता दें कि यह 31 कैदी जम्मू कश्मीर की विभिन जेलों में बंद हैं जिनमे से 11 कोटबलवाल, 14 श्रीनगर की सेंट्रल जेल जबकि 4 राजौरी और 2 कठुआ में हैं।

वहीं जम्मू कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के नेता मोहित भान ने जम्मू कश्मीर के सभी राजनेताओं की रिहाई की मांग रखी। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब कोरोना वायरस का खतरा बढ़ा हुआ है, सरकार को नेताओं की रिहाई पर विचार करना चाहिए। भान ने कहा कि जब फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला को रिहा किया जा चुका है तो अब पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती की रिहाई पर भी विचार किया जाना चाहिए।
... और पढ़ें

हंसीं वादियों को लगी कोरोना की नजर, ट्यूलिप गार्डेन में फूल तो खिले हैं पर सन्नाटे के सिवा कुछ भी नहीं

उमर अब्दुल्ला ने दिए लॉकडाउन में दिन बिताने के टिप्स, साझा किए नजरबंदी वाले पल, कई दिलचस्प किस्से भी

क्वारंटीन होने के बाद भी बाजार जाता था ये शख्स, संक्रमित होते ही इलाके में मचा हड़कंप

जम्मू संभाग के कोरोना पॉजिटिव मामलों में से एक व्यक्ति रामनगर क्षेत्र से है। पॉजिटिव मामला सामने आने के बाद समूचे रामनगर कस्बे में हड़कंप मच गया है। रविवार को रामनगर कस्बे के लोग घरों से बाहर नहीं निकले। वहीं, प्रशासन की तरफ से कुछ इलाकों को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। लोगों का कहना है कि होम क्वारंटीन होने के बावजूद व्यक्ति बाजार में घूमता था, जिसका कोई संज्ञान नहीं लिया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार  कोरोना टेस्ट में पाजिटिव आने के बाद से ही तहसील व जिला प्रशासन सतर्क हो गया है। प्रशासन ने शनिवार की देर रात करीब 12 बजे पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में रहने वाले लोगों को उनके घरों से बाहर लाया और जिला अस्पताल उधमपुर पहुंचा दिया।

इसके बाद से ही समूचे रामनगर में डर का माहौल बन गया है। यह 18 लोग और एक पॉजिटिव व्यक्ति इन दिनों किन-किन लोगों से मिले अब यहीं चर्चा समूचे रामनगर कस्बे में सुनने को मिल रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us