विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जम्मू और कश्मीर

रविवार, 5 अप्रैल 2020

बेटा पेंशन लेने आए हैं, बैंक के अंदर जाने की सामर्थ्य नहीं है, फिर दिखा जम्मू-कश्मीर पुलिस का ये चेहरा

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच जम्मू-कश्मीर के लिए राहत की खबर, सात संक्रमितों की रिपोर्ट आई नेगेटिव

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच जम्मू-कश्मीर के लिए राहत की खबर है। सात संक्रमित मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। वहीं डॉक्टरों का कहना है कि अभी जांच के लिए एक बार और सैंपल भेजे जाएंगे। इसके बाद क्वारंटीन अवधि पूरी कर लेने पर ही उक्त लोगों को घर जाने की इजाजत दी जाएगी।

इससे पहले शुक्रवार को प्रदेश में तब्लीगी जमात के दो लोगों समेत पांच कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जमात के दोनों उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के हैं। दोनों निजामुद्दीन के जलसे में शामिल होने के बाद जम्मू संभाग के सांबा पहुंचे थे। वहां से फिर बारामुला पहुंचे।

दोनों को खोज निकालने के बाद जांच में पॉजिटिव निकले। इस बीच शुक्रवार को कश्मीर में चार और जम्मू में एक और पॉजिटिव सामने आया है। मालूम हो कि इससे पहले तब्लीगी जमात से जुड़े 23 लोग संक्रमित पाए गए थे।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः सैनेटाइजेशन चैंबर के बाद कोरोना को मारने के लिए शुरू हुआ बूम स्प्रेयर, देखें तस्वीरें

जम्मू-कश्मीरः रामनगर में 12 बच्चों की मौत का मामला पहुंचा मानवाधिकार आयोग 

उधमपुर जिले के रामनगर ब्लॉक में 12 बच्चों की मौत का मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के पास पहुंच गया है। जम्मू के सामाजिक कार्यकर्ता और प्रॉमीनेंट सिटीजन एडवाइजरी कमेटी के पूर्व सदस्य सुकेश चंद्र खजूरिया ने इस मामले की याचिका दोनों आयोगों को भेजकर मामले की जांच कराने व प्रभावित परिवारों के लिए मुआवजे की मांग की है। 

अमर उजाला ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद पूरी घटना की जांच के लिए केंद्र और राज्य स्तर पर विशेषज्ञों की टीम का गठन किया गया था। बाद में हिमाचल प्रदेश में सिरप आपूर्ति करने वाली कंपनी को बंद भी किया गया था।  

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को भेजी गई याचिका में खजूरिया ने कहा कि रामनगर में 12 बच्चों की मौत के लिए पूरी व्यवस्था जिम्मेदार है। बच्चों को खोने वाले परिवार आर्थिक रूप से कमजोर और अनुसूचित जाति से संबंधित हैं। इस मामले में जांच को केवल दवा की सैंपल जांच तक ही सीमित कर दिया गया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की टीम और अन्य स्वास्थ्य एजेंसियों ने कोल्ड बेस्ट-पीसी सिरप दवा के सेवन से बच्चों की मौत की पुष्टि की है। 

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी सदन में इसका आधिकारिक रूप से जवाब दे चुके हैं। दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर में अभी तक पीड़ित परिवारों की सुध नहीं ली गई है। उन्होंने कहा कि दिल्ली दंगों के दौरान इंटेलिजेंस ब्यूरो के कर्मी की मौत पर दिल्ली सरकार ने मृतक अंकित शर्मा के परिवार को एक करोड़ रुपये का मुआवजा दिया है। 

वहीं, रामनगर में गरीब परिवारों के 12 मासूमों की मौत पर कोई मुआवजा नहीं दिया गया है। यह दर्शाता है कि घटिया और जानलेवा दवाओं उत्पादक सरकारी अमले से गठजोड़ कर अपना गोरखधंधा चलाते हैं। रामनगर मामले में बच्चों को जीवित तो नहीं किया जा सकता है लेकिन गरीब परिवारों को न्याय जरूर दिलाया जा सकता है।
... और पढ़ें
nhrc nhrc

जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस फैला सकते हैं आतंकी, सतर्क रहें और उन्हें पनाह न देंः मेजर जनरल ए सेनगुप्ता

पिछले दो सप्ताह में चार नागरिकों की हत्या करने वाले आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। शुक्रवार रात को पुख्ता जानकारी मिलने के बाद शनिवार सुबह सुरक्षाबलों ने कुलगाम जिले में इलाके की घेराबंदी कर आतंकियों का सफाया कर दिया। आतंकियों के कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और असलहा बरामद हुआ है।

वहीं विक्टर फोर्स के जीओसी मेजर जनरल ए. सेनगुप्ता ने अमर उजाला के साथ बात करते हुए बताया कि हाल ही में कुलगाम के नादिमर्ग इलाके में दो स्थानीय लोगों की दर्दनाक हत्या कर दी गई थी। इसके बाद से इनपुट मिल रहे थे कि चार से पांच आतंकी इलाके में स्थानीय लोगों से जबरन खाने-पीने, रहने के साथ-साथ पैसों की मांग कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जो लोग पहले से संक्रमित हैं या संक्रमित हुए लोगों के संपर्क में रहे हैं, ऐसे लोगों से भी आतंकी जबरन खाना मांग रहे हैं। इतना ही नहीं ऐसे लोगों के संपर्क में भी आतंकी आ रहे हैं। ऐसे हालात में इन आतंकियों के जरिए घाटी में संक्रमण फैल सकता है। जीओसी मेजर जनरल ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि किसी भी आतंकी को पनाह मत दें। साथ ही इलाके में आतंकियों के पाए जाने पर सूचना दें।
... और पढ़ें

जम्मूः बुजुर्ग महिला ने कोरोना को दी मात, इनका संदेश बदल सकता है इस जंग की तस्वीर, जानें ऐसा क्या बोलीं

लद्दाख निवासी बुजुर्ग महिला ने कोरोना से जंग में जीत हासिल कर ली। यह महिला जम्मू-कश्मीर में पहली कोरोना संक्रमित मरीज थीं। एक माह तक मेडिकल कॉलेज जम्मू में भर्ती रही महिला की आंखों में घर जाने के दौरान खुशी के आंसू छलक पड़े। उन्होंने बताया कि इस महामारी से जंग सरकार और चिकित्सकों द्वारा दिए जा रहे दिशानिर्देशों का पालन करने से ही जीती जा सकती है।

लद्दाख की मूल निवासी और वर्तमान में सरवाल में रह रहीं 63 वर्षीय महिला को एक मार्च के दिन जीएमसी में भर्ती कराया गया था। प्रदेश में पहले पाजिटिव मामले के बाद हड़कंप मच गया था। लेकिन इस बुजुर्ग ने अस्पताल में चिकित्सकों और अन्य स्टाफ को पूरा सहयोग दिया।

 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल बोले- तब्लीगी जमात के सदस्यों के मूवमेंट से दिक्कतें बढ़ी हैं

उप राज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने कहा है कि कोरोना से जंग में केंद्र शासित प्रशासन ने काफी मजबूत सर्विलांस रखा है। इसके साथ ही हॉट स्पाट भी चिह्नित कर लिए हैं। लेकिन तब्लीगी जमात के सदस्यों के मूवमेंट से दिक्कतें बढ़ीं हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के साथ राज्यपालों व उप राज्यपालों की वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद राष्ट्रपति भवन से जारी बयान में यह जानकारी दी गई।

मुर्मू ने आश्वस्त किया कि प्रशासन प्रवासी मजदूरों व छात्रों का पूरा ख्याल रख रहा है। साथ ही पर्याप्त संख्या में क्वारंटीन सेंटर भी स्थापित किए गए हैं। बताया कि 28 हजार मजदूरों को पूरे प्रदेश में बनाए गए कैंपों में ठहराया गया है। लॉकडाउन की अवधि में उनकी हर सुविधाओं का ख्याल रखा जा रहा है। सर्विलांस काफी मजबूत रखा गया है। जांच की प्रक्रिया भी जारी है।

खासकर रेड जोन में यह प्रक्रिया और तेज की गई है। ब्लॉक स्तरीय समिति का गठन आवश्यक सामानों की आपूर्ति सुनिश्चित रखने के लिए किया गया है ताकि वस्तुओं की कीमतों पर निगरानी की जा सके साथ ही बैंक व राशन आउटलेट पर सामाजिक दूरी का सख्ती से पालन कराया जा सके।
... और पढ़ें

खुलासाः पाकिस्तान से हथियार मंगाकर युवाओं को दिया जाता था प्रशिक्षण, सुरक्षाबलों ने किया पर्दाफाश

उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू
उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा और बारामुला में पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने शुक्रवार को लश्कर के बड़े आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश किया। हंदवारा और सोपोर में अलग-अलग ऑपरेशन में चार आंतकी और उनके पांच समर्थक गिरफ्तार किए। इनके कब्जे से भारी मात्रा हथियार और गोला बारूद बरामद हुआ है।

आतंकियों से हुई पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है। ये आतंकी पाकिस्तान में बैठे आकाओं के इशारे पर स्थानीय युवाओं को बहला-फुसलाकर आतंक की राहत पर धकेलते थे। कुछ युवाओं को आतंकी भी बना चुके हैं। ये मॉड्यूल पाकिस्तान से हथियार मंगवाकर स्थानीय युवाओं को ट्रेनिंग देकर आतंकी बनाता था।

हंदवारा के एसपी डॉ. जीवी संदीप चक्रवर्ती ने बताया कि उन्होंने पहले खुफिया सूचना के आधार पर तीन हार्डकोर आतंकी समर्थकों को पकड़ा। उनसे पूछताछ में पता चला कि वे चार युवाओं को आतंकी बना चुके हैं। शुक्रवार तड़के तीनों की निशानदेही पर चौगुल इलाके में बड़ा ऑपेरशन लांच किया और उन चारों आतंकियों को पकड़ लिया।
... और पढ़ें

जम्मू नगर निगम भी बनाएगा सैनेटाइजेशन चैंबर, कोरोना को हराने के लिए केमिकल की तलाश शुरू

कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए नगर निगम जम्मू अब सैनेटाइजेशन चैंबर तैयार कर रहा है। सैनेटाइजेशन चैंबर कहां बनेगा इस पर अंतिम फैसला आज यानी कि शनिवार को लिया जाना है। फिलहाल जम्मू मेडिकल कॉलेज या फिर अन्य नजदीकी अस्पताल में चैंबर बनाने की तैयारी है। चैंबर बनाने के लिए मेडिकल कॉलेज की ओर से कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इस पर रविवार से काम शुरू हो सकता है।

इस चैंबर से गुजरने के दौरान 20 सेकंड में सभी प्रकार के वायरस खत्म हो जाते हैं। श्रीनगर में यह चैंबर शुरू हो चुका है। इस चैंबर के माध्यम के माध्यम से डाक्टरों, नर्सों, अन्य कर्मचारियों समेत रोगियों को सैनिटाइज किया जाना है।

इस पर लिया जाएगा अंतिम फैसला
चैंबर में कौन सा केमिकल प्रयोग में लाया जाना है। इस पर फैसला लिया जाना है। श्रीनगर बायोडिग्रेबल केमिकल प्रयोग में लाया गया है। यहां पर ऐसे केमिकल की तलाश है जो मानव के लिए सुरक्षित हो और वायरस को खत्म करे।

मेडिकल कॉलेज की ओर से चैंबर का निर्माण करवाया जा रहा है। कहां पर चैंबर बनेगा और कौन सा केमिकल प्रयोग में लाया जाएगा। इस पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।- अवनी लवासा, आयुक्त, नगर निगम
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः कुलगाम में हिजबुल के चार आतंकी मुठभेड़ में मारे गए, एके-47 के साथ चाइनीज पिस्टल भी मिली

लॉकडाउन की अवधि समेत पिछले दो सप्ताह में चार नागरिकों की हत्या करने वाले चार आतंकियों को सुरक्षा बलों ने कुलगाम में हुई मुठभेड़ में मार गिराया। 

शुक्रवार रात पुख्ता जानकारी मिलने के बाद शनिवार सुबह सुरक्षा बलों ने कुलगाम जिले में बटपुरा इलाके की घेराबंदी कर आतंकियों को ढेर कर दिया। आतंकियों के कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है। सभी आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन के हैं। नादिमर्ग में स्थानीय लोगों की हत्या में इन्हीं आतंकियों का हाथ था। 

घाटी में दस महीने के दौरान यह पहली मुठभेड़ है, जिसमें चार आतंकी एक साथ मारे गए हैं। दक्षिण कश्मीर में आतंकियों ने बीते दिनों में अलग-अलग घटनाओं में चार नागरिकों की हत्या की है। इसके मद्देनजर सुरक्षा बलों की इंटेलिजेंस ग्रिड को और सक्रिय किया गया था। इसी बीच शुक्रवार की रात पुख्ता सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने संयुक्त अभियान चलाकर कुलगाम जिले के बटपुरा इलाके की घेराबंदी कर ली।

 इलाके के लोन मोहल्ले में शनिवार तड़के करीब पांच बजे घेराबंदी कसते देख छिपे आतंकियों ने भागने की कोशिश करते हुए सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि फायरिंग के बाद शुरू जवाबी कार्रवाई में पहले दो आतंकी मारे गए। 

इसके बाद फायरिंग भी रुक गई। यहां और आतंकियों के मौजूद होने की संभावना पर सतर्कता बरतते हुए घेरा एक बार फिर कसा गया। इसके बाद दोबारा मुठभेड़ शुरू हो गई। इसमें दो और आतंकी मारे गए। सुरक्षा बलों ने आतंकियों की पनाहगाह बने मकान को भी विस्फोट से उड़ा दिया।

विक्टर फोर्स के जीओसी मेजर जनरल ए सेनगुप्ता ने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की शिनाख्त अनंतनाग के आरवनी के मोहम्मद अशरफ  मलिक, दमहाल हांजीपुरा के शाहिद सिदीक और चवालगाम के वकार यत्तू के तौर पर हुई, जबकि चौथा उनका सरगना चिमर का रहने वाला एजाज अहमद नायकू उर्फ मुसा था। 

एजाज अहमद 22 अगस्त, 2018 को हिजबुल मुजाहिदी से जुड़ा था। इनके पास से एक एसएलआर, एक एके-47, एक इंसास और चीन निर्मित पिस्टल के अलावा इनकी मैगजीन भी मिली हैं।
... और पढ़ें

जम्मूः तब्लीगी जमात से लौटे व्यक्ति से फैला वायरस, दो बेटियां-छह महीने की नातिन हुई संक्रमित

जम्मू संभाग में उधमपुर की चिनैनी तहसील के नरसू इलाके में एक ही परिवार के तीन और सदस्य कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसी परिवार से तब्लीगी जमात में शामिल हुआ एक सदस्य पूर्व में संक्रमित पाया गया था। कोरोना के नए संक्रमित मरीजों में जमाती की 12 व 26 साल की दो बेटियों के साथ छह महीने की नातिन भी शामिल है। जिला प्रशासन ने संक्रमित मामले आने के बाद जमाती के रिश्तेदारों और संपर्क में रहे सात लोगों को क्वारंटीन में भेज दिया है।

स्वास्थ्य विभाग ने सामने आए संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान और तलाश तेज कर दी है। बता दें कि उधमपुर जिले में पिछले एक सप्ताह से लगातार कोरोना संक्रमित मामले सामने आ रहे हैं। कुछ दिन पहले ही नरसू इलाके से तब्लीगी जमात का एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया था।

गत शुक्रवार को प्रशासन ने इस व्यक्ति के संपर्क में रहने वाले परिवार और अन्य 22 सदस्यों को कोरोना जांच के लिए जम्मू भेजा था। जिसमें तीन संक्रमित पाए गए। सभी संक्रमितों का जीएमसी जम्मू में इलाज चल रहा है। सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने बताया कि तीनों नए संक्रमित पूर्व के संक्रमितों के संपर्क में थे।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस से जंग में सेना ने संभाला मोर्चा, पड़ोसी देशों की सहायता के लिए भी तैयार 'भारत के लाल'

कोरोना से जंग में भारतीय सेना भी बड़े पैमाने पर तैयारी कर रही है। उधमपुर स्थित उत्तरी कमान मुख्यालय समेत पांचों सैन्य कमान मुख्यालयों में कोरोना वायरस टेस्टिंग लैब स्थापित कर दी गई हैं। वहीं, आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल सर्विस ने अपने सभी केंद्रों को नागरिक प्रशासन के सहयोग में लगा दिया है। राहत सामग्री पहुंचाने में भी सहयोग किया जा रहा है।

आर्म्ड फोर्सेज ने देशभर में छह क्वारंटीन सुविधा केंद्र भी शुरू कर दिए हैं। यह केंद्र मुंबई, जैसलमेर, मानेसर, चेन्नई, हिंडन और जोधपुर में हैं। इनमें 1737 लोगों को रखा गया है, जिनमें से 403 को जल्द डिस्चार्ज किया जाएगा। मानेसर और हिंडन से तीन कोरोना पॉजिटिव मरीजों को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल रेफर किया गया है।

सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जरूरत पड़ने पर 15 और केंद्रों को शुरू किया जाएगा। देशभर के 51 सैन्य अस्पतालों में एचडीयू और आईसीयू भी तैयार कर दिए गए हैं। इनमें कुछ कोलकाता, विशाखापतनम, कोचि, हैदराबाद के डुंडीगल, बेंगलुरु, कानपुर, जैसलमेर, जोरहट और गोरखपुर में हैं।

देशभर की जरूरत को देखते हुए पांच सैन्य अस्पतालों कमांड अस्पताल (नार्दन कमांड) उधमपुर, दिल्ली कैंट सैन्य अस्पताल (रिसर्च एंड रेफरल), एयरफोर्स कमांड अस्पताल बेंगलूरू, एयरफोर्स मेडिकल कॉलेज पुणे, कमांड अस्पताल (सेंट्रल कमांड) लखनऊ की वायरल टेस्ट लैब भी कोरोना संक्रमण की जांच खोल दी हैं। छह अन्य अस्पतालों में जरूरी उपकरण जल्द स्थापित किए जा रहे हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन