62 प्रतिशत घरों के बच्चों की शिक्षा कोरोना की वजह से बाधित

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 12 Jul 2020 06:47 PM IST
विज्ञापन
Education of 62 percent of the children in the homes is disrupted due to corona

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
कोरोना महामरी में लगभग 62 प्रतिशत विद्यार्थियों की पढ़ाई रुक गई यह बात सेव द चिल्ड्रेन नाम के एक बाल अधिकार एनजीओ द्वारा किए गए एक सर्वे में निकल कर आई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस सर्वे को 15 राज्यों के 7,235 परिवारों पर किया गया। एनजीओ ने इस सर्वे के माध्यम से लाभ्यार्थियों के बीच चुनौतियों, विषयगत प्राथमिकताओं और कोरोना के प्रभाव को समझने के लिए किया था।
विज्ञापन

सर्वेक्षण में 7,235 परिवारों ने भाग लिया। देश के उत्तरी क्षेत्र में, 3,827 घरों का सर्वेक्षण किया गया, जबकि दक्षिणी क्षेत्र में 556 घरों का सर्वेक्षण किया गया। पूर्वी क्षेत्र में, 1,722 घरों का सर्वेक्षण किया गया, जबकि पश्चिमी क्षेत्र में 1,130 घरों का सर्वेक्षण किया गया। यह सर्वेक्षण 7 से 30 जून, 2020 तक आयोजित किया गया था।
इस आकलन के अनुसार 62 प्रतिशत घरों में बच्चों की शिक्षा रुकने की जानकारी दी गई। ऐसे अधिक घर उत्तर भारत में सामने आए जहां 64 प्रतिशत घरों के बच्चों ने अपनी शिक्षा रोक दी। वहीं, दक्षिण भारत में सबसे कम संख्या 48 प्रतिशत दर्ज की गई। वहीं सर्वेक्षण में पता चला है कि 40 प्रतिशत घरों ने बताया कि उनके बच्चों को मध्याह्न भोजन नहीं मिल रहा है।
ये भी पढ़ें : CBSE: सीबीएसई वैकल्पिक एकेडमिक कैलेंडर के लिए शिक्षकों को करेगा प्रशिक्षित

शिक्षा की अन्य खबरों से अपडेट रहने के लिए यहां क्लिक करें। 
सरकारी नौकरियों की अन्य खबरों से अपडेट रहने के लिए यहां क्लिक करें। 
विज्ञापन
विज्ञापन

 रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us