आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Book Review ›   Namaksaar book review in hindi
Namaksaar book review in hindi

इस हफ्ते की किताब

नमकसार - भीतर उतरती हुई कहानियां

मनोरंजन डेस्क अमर उजाला, नई दिल्ली

29 Views

जानी-मानी लेखिका रजनी मोरवाल का कथा संग्रह 'नमकसार' जीवन के हर पहलू से साक्षात्कार करता है। संग्रह में शामिल 11 कहानियों के जरिए समाज को समग्रता से देखने की कोशिश की गई है। लेखिका ने अपने चरित्रों और उनके परिवेश के साथ पूरा न्याय किया है। कहानियों में संवेदनशीलता और मानवीय चिंताएं प्रामाणिकता के साथ उजागर हुई हैं। अधिकांश कहानियां पाठकों के दिल में उतर जाती हैं और उनका असर भी गहरा और स्थाई रहता है।


नमकसार
लेखिका- रजनी मोरवाल
प्रकाशक- सामयिक प्रकाशन, नई दिल्ली
मूल्य- 395 रुपये

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!