आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Amrita Pritam best poem aaj dhari se kaun vida hua
अमृता प्रीतम

इरशाद

अमृता प्रीतम: आज धरती से कौन विदा हुआ 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

833 Views
आज धरती से कौन विदा हुआ 
कि आसमान ने बाँहें फैला कर 
धरती को गले से लगा लिया 
त्रिपुरा ने हरी चादर कफ़न पर डाली 
और सुबह की लालिमा ने 
आँखों का पानी पोंछ कर 
धरती के कंधे पर हाथ टिकाया 
कहा— 
थोड़ी-सी महक विदा हुई है 
पर दिल से न लगाना 
कि आसमान ने तुम्हारी महक को 
सीने में सँभाल लिया है... 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!