आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Dushyant Kumar famous poem on gandhi ji
दुष्यंत कुमार की कविता-गांधी जी जन्मदिन पर

इरशाद

गांधी जी पर दुष्यंत कुमार की कविता...

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

417 Views
मैं फिर जनम लूँगा 
फिर मैं 
इसी जगह आऊँगा 
उचटती निगाहों की भीड़ में 
अभावों के बीच 
लोगों की क्षत-विक्षत पीठ सहलाऊँगा 



लँगड़ाकर चलते हुए पावों को 
कंधा दूँगा 
गिरी हुई पद-मर्दित पराजित विवशता को 
बाँहों में उठाऊँगा ।  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!