आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Happy Republic Day 2020: Nazeer Banarasi famous nazm 26 January
शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी, आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी

इरशाद

ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी, आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

302 Views
ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी 
आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी 
सर पर बसंत घास ज़मीं पर हरी हरी 
फूलों से डाली डाली चमन की भरी भरी 
आई न तू तो सब की सुनूँगा खरी खरी 

तुझ बिन उदास है मिरी खेती हरी-भरी 
आ जल्द आ कि आ गई छब्बीस जनवरी 
घूँघट उलट रही है चमन की कली कली 
शाख़ें तो टेढ़ी-मेढ़ी हैं सूरत भली भली 
रंगीनियाँ हैं बाग़ में ख़ुशबू गली गली  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!