आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   Noble winner Tagore and his poetry
ravindranath tagore

काव्य चर्चा

नोबल पुरस्कृत कृति गीतांजलि से रबीन्द्रनाथ ठाकुर की 10 कविताएं

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

656 Views

कितने अनजानों से तुमने करा दिया मेरा परिचय 

कितने अनजानों से तुमने करा दिय मेरा परिचय
कितने पराए घरों में दिया मुझे आश्रय।
बंधु, तुम दूर को पास
और परायों को कर लेते हो अपना।
अपना पुराना घर छोड़ निकलता हूँ जब
चिंता में बेहाल कि पता नहीं क्या हो अब,
हर नवीन में तुम्हीं पुरातन
यह बात भूल जाता हूँ।

बंधु, तुम दूर को पास
और परायों को कर लेते हो अपना।
जीवन-मरण में, अखिल भुवन में
मुझे जब भी जहाँ गहोगे,
ओ, चिरजनम के परिचित प्रिय!
तुम्हीं सबसे मिलाओगे।
कोई नहीं पराया तुम्हें जान लेने पर
नहीं कोई मनाही, नहीं कोई डर
सबको साथ मिला कर जाग रहे तुम-
मैं तुम्हें देख पाऊँ निरन्तर।
बंधु, तुम दूर को पास
और परायों को कर लेते हो अपना।
 

आगे पढ़ें

अंतर मम विकसित करो...

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!