आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   this is shayar bhagat singh for freedom in amar ujala kavya
this is shayar bhagat singh for freedom in amar ujala kavya

काव्य चर्चा

आज़ादी के दीवाने और ये हैं 10 दमदार शेर...

शरद मिश्र,अमर उजाला काव्य डेस्क नई दिल्ली

13789 Views
करगिल की जीत पर हम शहीदों को नमन करते हैं। शहीदों की बात करें और शहीदे आजम भगत सिंह याद न आएं, ऐसा हो नहीं सकता। भगत सिंह जैसा दीवाना इस देश को फिर दोबारा नहीं मिला। उनकी देशभक्ति की शौर्य गाथा आज भी अगर कोई पढ़ ले तो वह देश से प्यार करने लगेगा। भगत सिंह के क्रांतिकारी विचारों का यही एक मात्र सच है। बहुत कम लोगों को पता होगा कि भगत सिंह के अंदर एक अजीज शायर भी छिपा था। उनका दर्शन और साहित्य प्रेम जगजाहिर था। जेल में ही उन्होंने एक लायब्रेरी बना डाली थी। जिसमें उन्होंने अपनी मनपसंद कविताओं और शेरो शायरी का उल्लेख किया है। भगत सिंह की इन काव्य पंक्तियों को पढ़कर आदमी का इश्क इंकलाब हो जाता है।  

दिल दे तो इस मिजाज का परवरदिगार दे 
जो गमों की घड़ी भी खुशी से गुजार दे
आगे पढ़ें

भगत सिंह के साहित्यिक प्रेम की सबसे बड़ी पेशकश उनकी जेल डायरी है

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!