आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Rishton mein nahin karobar chahiye

मेरे अल्फाज़

रिश्तों में नहीं कारोबार चाहिए

mumtaz hassan

36 कविताएं

364 Views
रिश्तों में नहीं अब कारोबार चाहिए
ज़िल्लत-ए-ज़िंदगी को रोजगार चाहिए

कर्म हो ऐसा कि घर -बार चले
कमाई अपनी ही हर-बार चले

इल्म हो ये इंसानियत जिंदा रहे
डिग्रियों का नहीं अम्बार चाहिए
जिल्लत-ए-जिंदगी को रोजगार चाहिए

ख्वाहिशें इतना ही पालो यारों
रोटी,कपड़ा और मकान रहे
खुशहाल जिंदगी जीने का
जरूरी यही सामान रहे

डिग्रियां सर पे जो लिए घूमते
नहीं अब उन्हें अखबार चाहिए
जिल्लत-ए-जिंदगी को रोजगार चाहिए

जीने का यही अपना ढंग हो
कपड़ों से ढंका सबका अंग हो

दुखों की न हो आमद दर पे
खुशियों भरा अपना संसार चाहिए
जिल्लत-ए-जिंदगी को रोजगार चाहिए


-मोहम्मद मुमताज़ हसन
द्वारा-डॉ मोहम्मद हसन
रिकाबगंज, टिकारी, गया,
बिहार-824236

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!