आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Vishwa Kavya ›   RO RAHI HAI AAJ JANNAT

विश्व काव्य

रो रही है आज जन्नत

Rajesh Kumari

14 कविताएं

524 Views
नव गीत
किश्तियों का तोड़ चप्पू
रौंदते पगडंडियों को
पत्थरों की नोक से
घायल करें उगता सवेरा

आग में लिपटे हुए हैं
पाखियों के आज डैने
करगसों के हाथ में हैं
लपलपाती लालटेनें
कोठरी में बंद बैठी
ख्वाहिशों की आज मन्नत
फाड़ कर बुक्का कहीं पे
रो रही है देख जन्नत
जुगनुओं की अस्थियों को
ढो रहा काला अँधेरा

घाटियों की धमनियों से
रिस रहा है लाल पानी
जिस्म में छाले पड़े हैं
कोढ़ में लिपटी जवानी
मौत के साए उठा के
पूँछ पीछे भागते हैं
सी रहे हैं जो कफन को
सिर्फ दर्जी जागते हैं
उल्लुओं का हर शज़र की शाख़ पर बेख़ौफ़ डेरा

धँस गई धर्मान्धता में
एतिहासिक भीत निर्मित
वादियों में हो रहे हैं
खंडहरों के गीत चर्चित
दांत अपने जीभ अपनी
वर्जनाएँ हँस रही हैं
सरहदों की मुट्ठियाँ
बदनामियों को कस रही हैं
देख धूमिल रंग सारे ठोकता माथा चितेरा
नफरतों के ठीकरे अब
सरहदों पर फूटते हैं
हिन्द के सुख की तिजौरी
कुछ लुटेरे लूटते हैं
भारती का आज सच्चा
खून अगर तुझमे रवाँ है
सरफरोशों के चमन का
बीज अगर तुझमे जवां है
घाटियों में फिर अमन के गुल खिलाना काम तेरा
पत्थरों की नोक से घायल करें उगता सवेरा।
- राजेश कुमार

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।

 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!