विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, जानें कैसा है आपका भविष्य !
JANAM KUNDALI

आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, जानें कैसा है आपका भविष्य !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कोलकाता से राजमहल क्रूज से गंगा के रास्ते काशी पहुंचे 17 विदेशी सैलानी, फाइव स्टार जैसी सुविधा

कोलकाता से 17 विदेशी सैलानियों को लेकर मंगलवार को गंगा नदी के रास्ते राजमहल क्रूज काशी पहुंचा। क्रूज पर सवार चाइना, यूएसए और ब्रिटिश से आए विदेशी मेहमानों को काशी की सभ्यता के साथ ही गंगा आरती और सारनाथ का भ्रमण कराया जाएगा।

क्रूज पर विदेशी मेहमानों के लिए लग्जरी रूम के साथ ही पांच सितारा रेस्टोरेंट, स्पा पार्लर के साथ कई प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हैं। राजमहल क्रूज बारिश के मौसम में हर वर्ष विदेशी मेहमानों को लेकर वाराणसी आता है। क्रूज के कर्मचारी रौमित ने बताया कि 16 अगस्त को राजमहल पटना से वाराणसी के लिए चला था।

ये भी पढ़ें : 
सीएम योगी के मंत्रिमंडल में काशी के तीन विधायक शामिल, अनिल राजभर-रविंद्र जायसवाल को मिला ये पद

यहां पर गंगा आरती, सारनाथ म्यूजियम और काशी भ्रमण के बाद गुरुवार को विदेशी सैलानियों को रामनगर और चुनार किला घुमाया जाएगा। इस दौरान चाइना, यूएसए और ब्रिटेन से आए मेहमानों को काशी की सभ्यता और संस्कृति के बारे में विस्तार से बताया जाएगा।
... और पढ़ें

कोलकाता पुलिस ने नागेश्वर राव के घर मारा छापा, SC ने किया था अवमानना नोटिस जारी

पश्चिम बंगाल में ममता की महारैली, विपक्षी एकता की दिखेगी झलक

गंगा में नहाने गए सात बच्चे डूबे, तीन की मौत, चार को ग्रामीणों ने बचाया

उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में तीन युवतियों समेत सात बच्चे गंगा नदी में डूब गए। इनमें से तीन की गहरे पानी में डूबने से मौत हो गई। जबकि चार को मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने बचा लिया। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया।

यह मामला पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र के कुरई घाट का है। पूरामुफ्ती के नूरपुर (मोहिउद्दीनपुर) गांव की आशा देवी (14) पुत्री देशराज कक्षा आठ की छात्रा थी। रविवार सुबह वह कक्षा पांच में पढ़ने वाली अपनी चचेरी बहन सीता (12) पुत्री मायाराम, कक्षा नौ में पढ़ने वाली ममेरी बहन मीनू(15)पुत्री मान सिंह के साथ स्नान करने कुरई गंगा घाट गई थी। 

साथ में चार अन्य बच्चे भी नहा रहे थे। नहाने के दौरान सभी सातों बच्चे अचानक गहरे पानी में समा गए। यह देख आसपास के लोगों ने शोर मचाया। शोर-शराबे पर जुटे ग्रमीणों ने नदी में कूदकर बाकी चार बच्चों को सकुशल निकाल लिया। 

जबकि आशा, सीता और मीनू की मौत हो गई, तकरीबन आधे घंटे बाद उनके शव निकले गए। हालांकि परिजन तीनों किशोरियों को लेकर नजदीकी निजी अस्पताल गए। जहां चेकअप के बाद डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।  
... और पढ़ें
बचाव कार्य के लिए मोटरबोट तैनात। बचाव कार्य के लिए मोटरबोट तैनात।

पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के चलते राजधानी, जोधपुर और पूर्वा एक्सप्रेस निरस्त

पश्चिमी बंगाल में लॉकडाउन की वजह से रेलवे ने प्रयागराज जंक्शन से होकर हावड़ा की तरफ जाने वाली ट्रेनों को निरस्त कर दिया है। निरस्त होने वाली प्रमुख ट्रेनों में स्पेशल राजधानी, पूर्वा एक्सप्रेस एवं जोधपुर-हावड़ा एक्सप्रेस के नाम हैं। उत्तर मध्य रेलवे के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह ने बताया कि बंगाल में लॉकडाउन की वजह से ही ट्रेनों को निरस्त किया गया है।

उन्होंने बताया कि गाड़ी संख्या 02302 नई दिल्ली-हावड़ा राजधानी 10 एवं 11 सितंबर, 02301 हावड़ा-नई दिल्ली स्पेशल राजधानी  11, 12 सितंबर को निरस्त रहेगी। 02308 जोधपुर-हावड़ा स्पेशल नौ एवं दस और 02307 हावड़ा-जोधपुर स्पेशल 11 और 12 सितंबर को निरस्त की गई हैं।

इसके अलावा 02303 हावड़ा-नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस को 12 सितंबर और 02382 नई दिल्ली-हावड़ा पूर्वा स्पेशल का निरस्तीकरण 11 सितंबर को किया गया है। इसके अलावा मंगलवार को हावड़ा-नई दिल्ली स्पेशल राजधानी एवं हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस निरस्त होने की वजह से प्रयागराज जंक्शन नहीं आएगी।
... और पढ़ें

बाहर से लौटे लोग राज्य की पूंजी हैं, बोझ नहीं, राज्य में ही देंगे नौकरी के अवसर- बिप्लब देब

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने कहा है कि बाहर से लौटे लोग राज्य की पूंजी हैं, बोझ नहीं। वहीं राज्य सरकार ने दूसरे राज्य से लौटे लोगों का डाटा बैंक बनाने का कार्य शुरू कर दिया है और उनके कौशल का उपयोग करते हुए उन्हें राज्य के भीतर ही अवसर प्रदान किया जाएगा।
 
देब ने कहा कि ये जरूर हो सकता है कि त्रिपुरा में लोगों को उतनी सैलरी नहीं मिल सके जितनी की उन्हें देश के महानगरों में मिलती थी। मगर दूसरे राज्यों से लौटे लोगों को अपने प्रदेश में अवसर मुहैया कराने के लिए उनकी सरकार हर संभव कोशिश करेगी।
 
राज्य के सिपाहीजला जिले में क्वारंटीन केंद्रो का दौरा करने गए मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने कहा कि दूसरे राज्य से लौटे लोगों को उनके स्किल के हिसाब से राज्य में ही नौकरी के अवसर प्रदान किए जाएंगे। वहीं जिन लोगों में कोई स्किल नहीं है, उन्हें स्किल डेवलपमेंट के माध्यम से प्रशिक्षण देकर उनका कौशल विकास किया जाएगा।

पंचायत स्तरीय क्वारंटीन केंद्रों का किया दौरा

मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने सिपहीजला जिले के पंचायत स्तरीय क्वारंटीन केंद्रों का दौरा किया और वहां कार्य कर रहे कर्मियों और आशा कर्मियों से सीधा संवाद किया। साथ ही वहां रह रहे लोगों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी के साथ व्यवस्थाओं का जायजा लिया। राज्य सरकार ने कोरोना के खिलाफ अभियान में ग्राम पंचायतस्तर पर क्वारंटीन केंद्र स्थापित किए हैं।
 
इनकी देखरेख और ग्रामीण इलाकों में होम क्वारंटीन प्रदत लोगों की निगरानी का जिम्मा ग्राम प्रधान, सचिव, पंचायत अध्यक्ष और सचिवों को दिया गया है। इस दौरान बिप्लव देब पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ सीपीएम नेता मानिक सरकार के गृह विधानसभा धनपूर में एक पंचायत क्वारंटीन केंद्र का जायजा करने भी गए।
... और पढ़ें

सोरेन की आपत्ति के बाद ट्रकों से उतारकर एसी एंबुलेंस से भेजे गए औरैया हादसे के शिकार हुए मजदूरों के शव

अम्फान चक्रवात
औरैया हादसे में मृत मजदूरों के शवों के साथ घायलों को भी ट्रकों के जरिए झारखंड व पश्चिम बंगाल के लिए रवाना कर दिया गया। इसकी जानकारी होने पर झारखंड सीएम हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर इसे अमानवीय बताया। जिसके बाद नवाबगंज में ट्रक से उतारकर शवों व घायल मजदूरों को एसी एंबुलेंस से आगे के भेजा गया।

16 मई को प्रदेश के औरैया में हुए भीषण सड़क हादसे में घरों को लौट रहे 26 मजदूरों की मौत हो गई थी। इनमें से 11 झारखंड व 6 पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे। हादसे के अगले दिन यानी 17 मई को पोस्टमार्टम के बाद सभी 17 मजदूरों के शव ट्रकों से रवाना कर दिए गए। संवेदनहीनता दिखाते हुए जिम्मेदार अफसरों ने शवों को भेजवाने के लिए उचित इंतजाम तो नहीं ही किए, हादसे में घायल कुछ मजदूरों को भी इन्हीं शवों के साथ ट्रकों में बैठा दिया।
... और पढ़ें

कोरोना संकट के बीच त्रिपुरावासियों पर ओलावृष्टि की मार, पांच हजार घरों को नुकसान

त्रिपुरा में बुधवार को जमकर ओलावृष्टि हुई। तेज आंधी के साथ ओलावृष्टि और मूसलाधार बारिश ने राज्य में जमकर कहर बरपाया। वहीं प्राकृतिक आपदा से 5000 से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है। राज्य के मुख्यमंत्री ने गुरुवार को प्रभावित इलाकों का दौरा किया।

कोरोना के चलते लॉकडाउन की मार से जूझ रहे त्रिपुरावासियों पर बुधवार बेहद भारी पड़ा। पूरे राज्य में ओलावृष्टि और भारी बारिश से घरों के साथ पेड़-पौधों को काफी नुकसान पहुंचा है। प्रशासन निचले स्तर पर नुकसान के वास्तिवक आंकलन में जुटा है। साथ ही कई इलाकों में तत्काल राहत के लिए जनता को चेक भी वितरित किए।

मुख्यमंत्री ने बुधवार रात को ही सूबे के मुख्य सचिव मनोज कुमार को प्रभावित क्षेत्रों में बचाव एवं राहत कार्य तेज गति से करने के निर्देश दे दिए थे। वहीं मुख्यमंत्री प्रभावित जिलों के डीएम से भी सीधे बातचीत कर हालात की जानकारी ली।

राज्य के सिपाहीजला और खोवाई जिले में ओलावृष्टि, आंधी और मूसलाधार बारिश से ज्यादा नुकसान हुआ है। जिला प्रशासन के अनुसार सिपाहीजला जिला में विभिन्न स्थानों पर 17 राहत कैंप बनाए गए हैं। जिनमें 4200 लोगों को रखा गया है।



प्रशासन की ओर से इन केंद्रों में स्वास्थ्य व अन्य मूलभूत सुविधाओं के साथ लोगों को निःशुल्क भोजन प्रदान किया जा रहा है। वहीं खोवाई जिले में अलग-अलग जगहों पर 5 राहत कैंप लगाए गए हैं। मुख्यमंत्री ट्वीट कर बताया कि बुधवार को आई प्राकृतिक आपदा से राज्य को कई करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

मुख्यमंत्री ने राज्यवासियों से अपील की है कि आपदा से कोरोना की लड़ाई पर आंच नहीं आने देंगे। राज्य आपदा के प्रभाव और कोरोना की लड़ाई दोनों से ही मुकाबला करेगा।
... और पढ़ें

आठ मार्च को महिलाओं के हवाले रहेगी जोधपुर-हावड़ा एक्सप्रेस

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रविवार को जोधपुर-हावड़ा एक्सप्रेस की कमान महिला रेल कर्मियों के हवाले रहेगी। ट्रेन में आठ मार्च को पूरा महिला स्टाफ ही रहेगा। इसमें लोको पॉयलट, गार्ड, चेकिंग स्टाफ यहां तक कि सुरक्षा की बागडोर भी महिलाओं के ही जिम्मे रहेगी। ट्रेन प्रयागराज जंक्शन पहुंचेंगी तो यहां से भी महिला स्टाफ चढ़ेगा, जो पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन तक जाएगी।

महिला दिवस के इस बार एनसीआर के  प्रयागराज मंडल में एक मार्च से ही मनाया जा रहा है, जो दस मार्च तक मनेगा। आठ मार्च को ही मुख्य आयोजन किया जाना है। इस दौरान जोधपुर-हावड़ा एक्सप्रेस के टूंडला पहुंचने के बाद उसकी कमान महिलाओं के हाथ में सौंप दी जाएगी। ट्रेन प्रयागराज आएगी तो यहां ट्रेन लेकर आने वालीं महिला स्टाफ का स्वागत होगा जबकि, जो महिलाएं यहां से दीन दयाल उपाध्याय ट्रेन लेकर जाएंगी, उन्हें भी सम्मानित किया जाएगा।

इस दौरान जंक्शन पर नुक्कड़ नाटक भी होगा। एनसीआर प्रयागराज मंडल के पीआरओ सुनील गुप्ता के मुताबिक मंडल में 1384 महिला रेलकर्मी तैनात हैं। इसमें 84 टिकट परीक्षक , 38 आरपीएफ , 31 लोको पॉयलट, 22 स्टेेशन मास्टर, 25 ट्रेन क्लर्क एवं अन्य प्रमुख पदों पर भी महिलाएं तैनात हैं।
... और पढ़ें

कलकत्ता मेडिकल कॉलेज की इमारत से कूदकर 32 वर्षीय मरीज ने दी अपनी जान

कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बुधवार को 32 साल के एक मरीज ने डॉक्टरों और नर्सों के सामने ही पांचवीं मंजिल से छलांग लगा दी। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि न्यूरो मेडिसिन वार्ड में भर्ती गियासुद्दीन मंडल ने सुबह डॉक्टरों के गश्त के समय ही नीचे छलांग लगा दी।

अस्पताल के अधीक्षक इंद्रनील विश्वास ने बताया कि मंडल को मंगलवार शाम को कुछ दिमागी जटिलताओं के साथ वार्ड में भर्ती किया गया था। बुधवार सुबह उसने डॉक्टरों के सामने ही खिड़की से छलांग लगा दी। गंभीर रूप से घायल मंडल को इमरजेंसी वार्ड में ले जाने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया।

पुलिस ने बताया कि यह घटना डॉक्टरों और नर्सों के सामने हुई। अस्पताल में स्नायु तंत्र चिकित्सा वार्ड में भर्ती गियासुद्दीन मंडल नवनिर्मित सुपर स्पेशलिटी बिल्डिंग से पूर्वाह्न 10.45 पर कूद गया जब डॉक्टर अस्पताल का नियमित राउंड लगा रहे थे।

सीएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक इंद्रनील बिश्वास ने बताया कि मरीज को मंगलवार शाम को भर्ती किया गया था। वह ऑटोइम्यून इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम से ग्रसित था जिसके कारण उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी और उसकी याददाश्त भी घटती जा रही थी और उसे सोचने समझने में भी दिक्कत हो रही थी। उन्होंने कहा बुधवार सुबह वह  डॉक्टरों और नर्सों के सामने खिड़की खोलकर पांचवीं मंजिल से कूद गया।

कूदने से पहले उसने एक डॉक्टर की शर्ट फाड़ दी और उसे धक्का दिया। बहूबाजार पुलिस थाने के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मंडल को आपातकालीन वार्ड में ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। बिस्वास ने कहा कि मामले की जांच के लिए अस्पताल में एक आतंरिक समिति का गठन किया गया है। पुलिस ने कहा कि बहूबाजार पुलिस थाने में एक मुकदमा दर्ज कर शव को परीक्षण के लिए भेज दिया गया है।
... और पढ़ें

पश्चिम बंगाल में सहकारी बैंकों ने पिछले पांच साल में दिया 36,000 करोड़ का कर्ज: अमित मित्रा

पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्रा ने कहा कि राज्य के सहकारी बैंकों ने पिछले पांच साल में 36,000 करोड़ रुपये का कर्ज दिया है। उन्होंने वित्तीय संस्थानों से ग्रामीण क्षेत्रों में सेवाएं देने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि बैंकों से वंचित क्षेत्रों को संस्थागत ऋण नेटवर्क में लाने के प्रयास के तहत राज्य सरकार पंचायत कार्यालयों में जगह उपलब्ध कराएगी ताकि बैंक अपनी शाखाएं स्थापित कर सकें।

मंत्री ने कहा राज्य में सहकारी बैंकों द्वारा दिया गया कुल कर्ज पिछले पांच साल में 36,000 करोड़ रुपये रहा। उन्होंने ने कहा कि सहकारिता आंदोलन को आगे बढ़ाने और दूर-दराज के क्षेत्रों को इसके दायरे में लाए जाने की जरूरत है।  वित्त मंत्री ने बताया किसान कल्याण योजना कृषक बंधु के तहत राज्य ने 2018 में 601 करोड़ रुपये कर्ज बांटे हैं और इससे 39 लाख किसानों और बंटाईदारों को लाभ हुआ है।

मित्रा ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने योजना के तहत इस साल अबतक 430 करोड़ रुपये वितरित किए हैं। इससे 27.4 लाख किसानों को लाभ हुआ है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का दृष्टिकोण है कि कोई भी पंचायत बैंक सुविधा से वंचित नहीं हो। इसके लिए पंचायत कार्यालयों में बैंकों को शाखा के लिए जगह दी जाएगी।
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X