विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बालिकाओं को सशक्त बनाने में जुटीं रैना शुक्ला, निर्बल वर्ग की बालिकाओं को दे रहीं मुफ्त ट्रेनिंग

लखनऊ विश्वविद्यालय की स्नातक छात्रा रैना शुक्ला ने आर्थिक रूप से निर्बल तथा झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाली छात्राओं को आत्मरक्षा के लिए तैयार करने का बीड...

13 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

लखनऊ

शनिवार, 22 फरवरी 2020

‘तू’और ‘भाई’ कहने पर हुआ था विवाद, प्रशांत ने विरोधी के सिर पर फोड़ दिया था गिलास

बीटेक छात्र प्रशांत सिंह की सनसनीखेज तरीके से हत्या ने खाकी के इकबाल पर तो सवाल उठाए ही हैं, वारदात के वक्त खामोश होकर सब देखने वाली आम जनता को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है। मालूम हो गोमतीनगर विस्तार के अलकनंदा अपार्टमेंट में गुरुवार दोपहर बीबीडी के बीटेक छात्र प्रशांत सिंह (24) की फिल्मी अंदाज में चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी। उसका जूनियर छात्रों से गुटबाजी को लेकर विवाद चल रहा था। इस मामले में एक आरोपी को आज यानी  शुक्रवार को बीबीडी के छात्र अमन बहादुर को गिरफ्तार कर लिया गया है। सूत्रों के मुताबिक, आरोपी सपा के पूर्व विधायक समर बहादुर का बेटा है। आरोपी खीरी का रहने वाला है। वहीं मुख्य आरोपी अर्पण उर्फ टाइगर फरार है।

 
... और पढ़ें

कोरोना से बचाव के लिए मंगवा लिए चीनी मास्क, शासन ने लगाई फटकार

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए एन 95 मास्क की जगह चीनी मास्क का ऑर्डर दे दिया था। इसमें सैकड़ों मास्क सीएमओ कार्यालय भेज दिए गए थे। मास्क पर मेड इन चीन लिखा होने पर पूरी खेप को वापस कराया गया। इतना ही नहीं इसके बाद कोरोना वायरस के बजाय प्रदूषण से बचाव वाले एन 95 मास्क खरीद लिए गए।

इसमें आधे मास्क का वितरण भी कर दिया गया। शासन की फटकार के बाद प्रदूषण रोकने वाले मास्क की आधी खेप को वापस किया गया। आरोप है कि कमीशन के खेल में सस्ते चीनी मास्क की खरीद निजी वेंडर से की गई थी।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जिस फर्म से मास्क आए थे, उन्हें वापस कर दिया गया।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए गाइडलाइन जारी की थी। इसमें चीन-थाईलैंड समेत दूसरे देशों से आने वाले यात्रियों की गहनता से जांच की जानी चाहिए। डॉक्टर व स्टॉफ की सुरक्षा के लिए पीपीपी किट व एन 95 मास्क खरीदने के निर्देश दिए थे। सीएमओ कार्यालय से एन 95 मास्क की जगह चीन में निर्मित ट्रिपल लेयर वाले मास्क खरीद लिए गए।

हालांकि इसका प्रयोग तत्काल रोक दिया गया। मास्क में हुए खेल की जानकारी शासन को हुई तो शासन ने अफसरों को फटकार लगाई। इसके बाद आधे बचे मास्क को फर्म ने वापस ले लिया। आरोप है निजी फर्म को फायदा पहुंचाने के लिए यह ऑर्डर दिया गया था।
... और पढ़ें

कोर्ट ने समय से पेश न होने पर प्रमुख सचिव वन पर लगाया 25 हजार का जुर्माना

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने वन्यजीव सुरक्षा नियम बनाने की प्रक्रिया तीन माह में पूरी करने के निर्देश राज्य सरकार को दिए हैं। न्यायमूर्ति मुनीश्वर नाथ भंडारी और न्यायमूर्ति मनीष कुमार की बेंच ने यह आदेश वकील एसके मिश्र की जनहित याचिका पर दिया।

इसमें लखीमपुर जिले के दुधवा नेशनल पार्क और इटावा लायन सफारी से गुजरने वाली रेलवे लाइनों से वन्यजीवों  की जान को खतरा बताते हुए इनकी सुरक्षा का अनुरोध किया गया है। साथ ही, दुधवा टाइगर रिजर्व में बाघों की सुरक्षा के   लिए स्पेशल फोर्स बनाने का भी आग्रह किया गया है।

गत सोमवार को कोर्ट को बताया गया कि नियम बनाने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हो सकी है। जबकि पहले दुधवा टाइगर रिजर्व के फील्ड निदेशक संजय सिंह ने कोर्ट को बताया था कि 12 फरवरी 2013 की अधिसूचना के जरिये स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स बनाया जा चुका है।

फिलहाल सेवा संबंधी नियम बनाने की प्रक्रिया चल रही है। विभिन्न विभागों ने तकनीकी आपत्तियां उठाई है, जिनके समाधान के बाद अधिसूचना जारी की जाएगी। वहीं, पिछली सुनवाई पर उन्होंने कोर्ट को बताया था कि पूरी प्रक्रिया में छह हफ्ते का और वक्त लगेगा।
... और पढ़ें

बिजली गिरने और ओला-बारिश से उत्तर प्रदेश में आठ लोगों की मौत, फसलों को नुकसान

प्रदेश में बृहस्पतिवार रात से ही अचानक मौसम बदल गया। कई जिलों में आंधी और बारिश हुई। शुक्रवार को भी दिनभर ऐसा ही दौर रहा। अवध के बाराबंकी, अमेठी व रायबरेली में ओले भी गिरे। इससे प्रदेश में कुल आठ लोगों की मौत हो गई। अवध में बिजली गिरने से पांच लोगों की मौत हो गई। बारिश के चलते फसलों का भी नुकसान हुआ। मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद, नजीबाबाद, लखीमपुर खीरी, गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज, गाजीपुर और मेरठ में भी बारिश व बूंदाबांदी हुई। मौसम में बदलाव के कारण दिन के पारे में गिरावट होने से ठंड बढ़ गई।

सुल्तानपुर के हलियापुर में बारिश के दौरान बिजली गिरने से छत्तीसगढ़ निवासी मजदूर पिता दिलीप (40) और पुत्र राजकुमार (15) की मौत हो गई। तीन अन्य झुलस गए। सुल्तानपुर के ही दूबेपुर और भदैंया में दंपती समेत पांच लोग झुलस गए। वहीं, अंबेडकरनगर केभीटी में खेत पर जा रही बच्ची निधि (12) ने भी बिजली गिरने से दम तोड़ दिया। सीतापुर के रेउसा में बिजली गिरने से जहां पोती क्रांति (10) की मौत हो गई। बाबा मनोहर बुरी तरह से झुलस गए। वहीं, लखनऊ के गोसाईंगंज में भी बिजली गिरने से सुनील वर्मा (45) ने दम तोड़ दिया।

 शनिवार को भी पूर्वी उत्तर प्रदेश में आंधी-बारिश के आसार, 30 से 40 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी।

कहां-कितनी बारिश (मिमी में)
बहराइच: 
10.4
मुजफ्फरनगर: 8.6
नजीबाबाद: 8.2
सुल्तानपुर: 7.6
मुरादाबाद: 5.0
अमेठी : 4.6


कनापुर से मौसम अपडेट: अचानक बदला मौसम, बारिश संग पड़े ओले

अरब सागर से उठीं हवाओं से बने विक्षोभ के चलते बुंदेलखंड और कानपुर के आसपास के जिलों में बारिश हुई। कई जिलों में ओले भी गिरे। 13 किमी की रफ्तार से चली तेज हवाओं ने ठंड लौटने का अहसास कराया। बारिश से सरसों की फसल को नुकसान हुआ है। शनिवार को भी बारिश की संभावना है। कानपुर शहर में शुक्रवार को भी हवाआें संग तीन मिली बारिश हुई। कानपुर देहात में तेज आंधी से बबूल का पेड़ झोपड़ी पर गिर गया, जिससे एक महिला की मौत हो गई।

बांदा जिले में शुक्रवार की शाम को बूंदाबांदी शुरू हो गई। इस बीच कालिंजर क्षेत्र में बिजली गिरने से एक चरवाहे की मौत हो गई। चित्रकूट में भी रिमझिम बारिश संग तेज हवाएं चलीं। जालौन में बृहस्पतिवार की रात तेज हवाओं संग झमाझम बारिश हुई। कन्नौज में बारिश के साथ ही मानीमऊ क्षेत्र में ओले गिरे। फतेहपुर में शुक्रवार को तड़के धाता क्षेत्र में बारिश संग ओले गिरे।  यहां एक मिमी बारिश रिकार्ड की गई।

फर्रुखाबाद में भी बारिश संग कमालगंज क्षेत्र में ओले गिरे। बृहस्पतिवार की रात बारिश से 250 गांवों की बत्ती गुल हो गई। इटावा में बूंदाबांदी के साथ कई क्षेत्रों में ओले गिरे, जिससे सरसों और की फसल को नुकसान पहुंचा। उन्नाव में भी तेज बारिश के साथ कई क्षेत्रों में ओले गिरे और सरसों की फसल को नुकसान हुआ। हालांकि गेहूं की फसल को फायदा पहुंचने की संभावना है। हरदोई में शुक्रवार तड़के चार बजे बारिश और तेज हवाओं के चलने से शहर की बिजली आठ घंटे तक गुल रही। पिहानी में तेज हवा चलने से सरसों, मसूर व गन्ना की फसल पलट गई।
... और पढ़ें
तेज हवाओं के चलते कई पेड़ भी गिरे। तेज हवाओं के चलते कई पेड़ भी गिरे।

दरोगा ने बेटी को पढ़ाई के लिए डांटा, जवाब देने पर बैट से पीटकर मार डाला

विकासनगर निवासी व रक्षामंत्री के आवास पर तैनात दरोगा वेद प्रकाश सिंह ने बेटी सृष्टि सिंह (15) की हत्या की बात स्वीकार कर ली है। उसने बताया कि सृष्टि को पढ़ाई के लिए डांटा। इस पर उसने जवाब दिया तो क्रिकेट बैट से पीट दिया। चोटों से सृष्टि ने दम तोड़ दिया तो सर्विस पिस्टल से कनपटी पर गोली मारकर खुदकुशी की कहानी गढ़ डाली। पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल बैट बरामद कर लिया है। इंस्पेक्टर धीरज शुक्ला ने बताया कि शुक्रवार दोपहर आरोपी को जेल भेज दिया गया। परिवार के अन्य सदस्यों की भूमिका की जांच की जा रही है।

इंस्पेक्टर ने बताया कि सोमवार को सृष्टि के साथ पिता ने दो बार मारपीट की थी। एक बार सुबह उसे पीटा गया। इसमें सृष्टि को चोटें आईं तो परिवारजनों ने भाऊराव देवरस अस्पताल ले जाकर इलाज कराया और फिर घर ले आए। दोपहर डेढ़ बजे वेद प्रकाश सिंह ने पढ़ाई को लेकर सृष्टि को टोका तो वह बहस करने लगी। इससे वेद प्रकाश का पारा चढ़ गया और उसने बैट से पीट दिया। 

माथे पर दो वार से सृष्टि बेहोश होकर गिर पड़ी। कुछ देर में उसने दम तोड़ दिया। बेटी की मौत से घबराए वेद प्रकाश ने खुद को बचाने के लिए उसकी खुदकुशी की कहानी गढ़ी। उसने अपनी सर्विस पिस्टल से कमरे में फायर किया और बेटी को निजी अस्पताल ले गया। वहां से सृष्टि को ट्रॉमा सेंटर ले जाने की सलाह दी गई। वहां चिकित्सकों ने सृष्टि को मृत घोषित कर दिया। 

इसके बाद परिवारीजनों ने पुलिस को सृष्टि के कनपटी पर गोली मारकर खुदकुशी करने की सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस को पिस्टल व खोखा मिला था। शुरुआती जांच में पुलिस सृष्टि की मौत को खुदकुशी ही मान रही थी, लेकिन ‘अमर उजाला’ ने पूरा मामला संदिग्ध बताते हुए गोली लगने को लेकर सवाल उठाया था। अधिकारियों ने गंभीरता से जांच कराई तो सृष्टि की मौत के पीछे की साजिश का खुलासा हो गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी गोली लगने की बात सामने नहीं आई। रिपोर्ट के मुताबिक सृष्टि की मौत माथे पर भारी वस्तु से प्रहार से हुई थी। इसके बाद मामा लाइन चौराहा चौकी प्रभारी एचपी सिंह की ओर से वेद प्रकाश के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया।

यह था मामला
गोरखपुर के हरिहरपुर निवासी व यहां विकासनगर की विष्णुपुरी सचिवालय में रह रहे सुरक्षा निदेशालय के दरोगा वेद प्रकाश सिंह की बेटी सृष्टि की सोमवार दोपहर संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। परिवारीजनों का दावा था कि पढ़ाई के लिए डांटने पर उसने पिता की सर्विस पिस्टल से कनपटी पर गोली मारकर खुदकुशी कर ली। हालांकि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गोली लगने की पुष्टि नहीं हुई। ‘अमर उजाला’ ने मौत पर सवाल उठाए, जिसके बाद जांच शुरू कराई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आने पर खुलासा हुआ। मंगलवार रात पुलिस की ओर से सृष्टि के परिवारीजनों पर शक जताते हुए हत्या की एफआईआर दर्ज की गई। इस बीच सृष्टि के शव का क्रियाकर्म करने गोरखपुर गए पिता को पुलिस ने पकड़ लिया। पूछताछ में मामला सामने आने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।
... और पढ़ें

लखनऊः गरीबों के लिए मकान बनाने में विकास प्राधिकरण फिसड्डी

आवासीय योजनाओं में गरीबों के लिए आवास बनाने के मामले में अधिकांश विकास प्राधिकरण फिसड्डी साबित हुए हैं। आवास विकास परिषद समेत 32 में 19 विकास प्राधिकरणों में लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया है। यह स्थिति तब है जब शासन स्तर पर हर महीने विकास प्राधिकरणों की योजनाओं की समीक्षा होती है। फिर भी गरीबों के लिए मकान बनाने के मामले में ‘जीरो परफारर्मेंस’ वाले प्राधिकरणों पर किसी की नजर नहीं गई।  

हर वित्तीय वर्ष में आवास विकास परिषद समेत प्रदेश के 27 विकास प्राधिकरण और 5 विशेष विकास प्राधिकरणों को उनकी योजनाओं में गरीबों को सस्ते मकान उपलब्ध कराने के लिए ईडब्ल्यूएस व एलआईजी श्रेणी के मकान बनाने का भी लक्ष्य दिया जाता है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में दिए गए लक्ष्य के मुताबिक ईडब्ल्यूएस श्रेणी के 41000 मकान बनाने थे, लेकिन बनाए गए सिर्फ 4178 मकान। यानि निर्धारित लक्ष्य का सिर्फ 10.19 प्रतिशत। इसी प्रकार एलआईजी के 22000 मकान बनाने केलक्ष्य के विपरीत मात्र 5265 आवास (23.93 प्रतिशत) ही मकान बने थे। इससे पहले भी वित्तीय वर्ष 2017-18 में भी लगभग यही स्थिति रही।

यह वित्तीय वर्ष केसमाप्त होने में भी करीब एक ही महीने का समय बचा है। लेकिन दोनों श्रेणी के आवास बनाने की स्थिति पहले वित्तीय वर्ष से भी खराब है। इस वित्तीय वर्ष में ईडब्ल्यूएस के 54348 व एलआईजी श्रेणी के 31854 मकान बनाने के लक्ष्य दिए गए हैं। अब तक ईडब्ल्यूएस के मात्र 754 मकान बने हैं और 14085 मकान निर्माणाधीन हैं। एलआईजी के भी मात्र 553 मकान ही बन पाए हैं।

खास बात यह है कि जो विकास प्राधिकरण पिछले साल लक्ष्य पूरा करने में नकारा साबित हुए थे, वही प्राधिकरण इस साल भी अब तक दोनों श्रेणियों के एक भी मकान नहीं बना पाए हैं। ऐसे प्राधिकरणों में करीब 19 विकास प्राधिकरण व 5 विशेष प्राधिकरण क्षेत्र शामिल हैं। ईडब्लूयएस श्रेणी के मकान बनाने के मामले में इलाहाबाद, हापुड़-पिलखुआ, रायबरेली, बरेली व मथुरा-वृंदावन प्राधिकरणों की स्थिति संतोषजनक थी। जबकि आवास विकास परषिद समेत गाजियाबाद, कानपुर व मुरादाबाद विकास प्राधिकरण तय लक्ष्य का सिर्फ 30 प्रतिशत मकान ही बना पाए थे।   

दो वर्षों में एक भी मकान नहीं बनाने वाले प्राधिकरण
ईडब्ल्यूएस- लखनऊ, आगरा, मेरठ, अलीगढ़, गोरखपुर, वाराणसी, बांदा, बुलंदशहर, फैजाबाद, फिरोजाबाद, झांसी, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, उन्नाव, रामपुर, उरई, खुर्जा, आजमगढ़, बागपत, (सभी विकास प्राधिकरण)। इसके अलावा कुशीनगर, शक्तिनगर, चित्रकूट, कपिलवस्तु व मिर्जापुर विशेष प्राधिकरण क्षेत्रों ने एक भी आवास नहीं बनाए हैं।

एलआईजी- गाजियाबाद, लखनऊ, मुरादाबाद, अलीगढ़, गोरखपुर, वाराणसी, बांदा, बुलंदशहर, फैजाबाद, फिरोजाबाद, झांसी, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, उन्नाव, रामपुर, उरई, आजमगढ़ व बागपत, (सभी विकास प्राधिकरण) व कुशीनगर, शक्तिनगर, चित्रकूट, कपिलवस्तु व मिर्जापुर विशेष प्राधिकरण क्षेत्रों ने एक भी आवास नहीं बनाए हैं।
... और पढ़ें

यूपी विधान परिषद चुनाव: शिक्षक व स्नातक क्षेत्र से कांग्रेस ने की पांच उम्मीदवारों की घोषणा

स्नातक व शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद के चुनाव में कांग्रेस भी कूद गई है। कांग्रेस ने शुक्रवार को स्नातक क्षेत्र से तीन और शिक्षक सीट पर एमएलसी के दो उम्मीदवारों की घोषणा कर दी। लखनऊ स्नातक सीट से बृजेश कुमार सिंह को उम्मीदवार बनाया गया है।

स्नातक व शिक्षक क्षेत्र की 11 विधान परिषद सीटों पर मई के आखिर तक चुनाव प्रस्तावित है। इन सीटों पर  विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल 6 मई को पूरा हो रहा है। कांग्रेस ने शुक्रवार को पांच सीटों पर प्रत्याशी घोषित कर दिए। आगरा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से राजेश द्विवेदी, मेरठ स्नातक क्षेत्र से जितेन्द्र कुमार गौड़ और इलाहाबाद स्नातक सीट से अजय कुमार सिंह उम्मीदवार होंगे। गोरखपुर-फैजाबाद शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से नागेन्द्र दत्त त्रिपाठी और बरेली मुरादाबाद शिक्षक सीट से डॉ. मेंहदी हसन को प्रत्याशी बनाया गया है।
... और पढ़ें

देश-दुनिया में बदनामी के साथ भाजपा राज में उत्तर प्रदेश बना ‘हत्याओं का प्रदेशः अखिलेश

कांग्रेस
सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि सत्ता के संरक्षण के चलते ‘भाजपा राज‘ में अपराध का डंका बज रहा है। पुलिस कमिश्नरी व्यवस्था के बाद भी राजधानी लखनऊ में ताबड़तोड़ हत्याएं हो रही हैं। कानून व्यवस्था जस की तस हैं। हत्या, लूट, बलात्कार की घटनाएं रोज दहलाती हैं। मुख्यमंत्री शायद यही रामराज्य प्रदेश में स्थापित करना चाहते हैं!

अखिलेश यादव ने कहा कि राजधानी लखनऊ में दिनदहाड़े दो हत्याओं से लोग आतंकित हो उठे हैं। लखनऊ के गोमतीनगर में कार से निकालकर भीड़ के सामने ही युवक की चाकू मारकर नृशंस हत्या कर दी गई। चौक में एक एजेंसी के कर्मचारी की लूट के बाद हत्या कर दी गई। पुलिस गश्त, पीआरवी और थाना चौकियों के बीच से अपराधी निश्चिंत होकर फरार हो जाते हैं।

गोंडा में खेत की रखवाली करने गए युवक की गला काटकर हत्या कर दी गई। अयोध्या में जिला पंचायत सदस्य की पुत्री पर उसी के घर में एक युवक ने चाकू से हमला कर दिया। हमलावर ने तमंचे से फायर कर दहशत फैलाईं। गुडम्बा में डंडा मार कर बदमाशों ने ई-रिक्शा चालक की पिटाई कर नकदी लूट ली और उसको लहूलुहान कर दिया। बहराइच में थाना कैसरगंज में बदमाश ने एक व्यक्ति के बैंक से निकलते वक्त उसके रुपये लूटकर फरार हो गए।
... और पढ़ें

25 जून से पुष्पक एक्सप्रेस का बदल जाएगा समय, जानें नया शेड्यूल 

पुष्पक एक्सप्रेस 25 जून से बदले हुए समय पर रवाना होगी। ट्रेन लखनऊ जंक्शन से रात पौने आठ बजे की जगह शाम 7.20 बजे रवाना होगी। इस बाबत पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन की ओर से सर्कुलर जारी कर दिया गया है।

पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन से वीआईपी ट्रेन पुष्पक एक्सप्रेस का संचालन होता है। ट्रेन लखनऊ से मुंबई के लिए जाती है और यात्रियों की पसंदीदा ट्रेनों में शुमार है। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज सिंह ने बताया कि गाड़ी संख्या 12533 लखनऊ जंक्शन छत्रपति महाराज शिवाजी टर्मिनस पुष्पक सुपरफास्ट एक्सप्रेस 25 जून से लखनऊ से शाम 7.20 बजे रवाना होगी। यहां से चलकर रात 8.31 बजे ट्रेन उन्नाव पहुंचेगी।

जहां से दो मिनट बाद रात 8.33 बजे प्रस्थान करेगी। ट्रेन रात 9.05 बजे कानपुर सेंट्रल पहुंचेगी और रात 9.10 बजे प्रस्थान करेगी। उरई में ट्रेन रात 10.43 बजे पहुंचकर रात 10.45 बजे रवाना होगी। अन्य स्टेशनों की टाइमिंग में कोई फेरबदल नहीं किया गया है।
... और पढ़ें

अखिलेश यादव ने सीएम योगी पर साधा निशाना, पढ़ाया समाजवाद का पाठ

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया कि समाजवाद का क्या मतलब होता है। अखिलेश ने सीएम योगी पर तंज करते हुए अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है।

अखिलेश ने लिखा, मुखिया जी ने कहा 'देश को समाजवाद नहीं चाहिए' इसका अर्थ हुआः
1. वो संविधान की मूल भावना के खिलाफ हैं,
2. वो गरीबों की जगह अमीर पूंजीपतियों के साथ हैं,
3. वो कुछ खास लोगों के लिए कार्य करते हैं, समाज के लिए नहीं,
4. वो उपेक्षित समाज की बराबरी के उपायों के खिलाफ हैं, 
5. समाजवाद में जाति तोड़ने का सुर है।

कुछ दिनों पहले सीएम योगी ने किया था अखिलेश पर हमला
विधानसभा में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी पर सीधा हमला किया था। उन्होंने कहा था कि सीएए प्रदर्शन के दौरान जहां देश विरोधी और आजादी के नारे लगे, वहां उन्होंने बच्चे को भेजा। आज उपद्रवी संविधान की दुहाई दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिम्मी का ही दूसरा नाम पीएफआई है।
... और पढ़ें

राम मंदिर निर्माण के लिए विहिप ने बढ़ाया कदम, संगठन मंत्रियों की बुलाई दिल्ली बैठक

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुहूर्त नजदीक आने के साथ ही विश्व हिंदू परिषद ने भी भविष्य की भूमिका की तैयारी युद्धस्तर पर शुरू कर दी है। इसके लिए विहिप ने संगठन की रीढ़ की हड्डी के रूप में काम करने वाले देशभर के संगठन मंत्रियों को 18-19 मार्च को बैठक के लिए दिल्ली बुलाया है। जिसमें मंदिर निर्माण पर ट्रस्ट के फैसलों को जमीन पर उतारने और उसे परवान चढ़ाने की योजना बनाई जाएगी।

विहिप की कोशिश मंदिर निर्माण के साथ देश भर में हिंदुत्व का माहौल बनाने की है। जिससे अयोध्या में बनने वाले ‘श्रीराम जन्मभूमि मंदिर’ निर्माण से देश के हर हिंदू परिवार को भावनात्मक रूप से जोड़ा जा सके। इसीलिए विहिप ने मंदिर निर्माण शुरू करने से पहले 25 मार्च से 7 अप्रैल तक देश में ‘राम महोत्सव’ आयोजित करके गांव-गांव मंदिर पर माहौल बनाने की योजना पहले ही बना ली है। साथ ही उन गांवों में जहां 1989 में शिलापूजन हुआ था और पूजित शिलाएं अयोध्या गई थीं उनमें विशेष कार्यक्रम तथा हर ब्लॉक मुख्यालय पर कारसेवकों के सम्मान के जरिये लोगों से संपर्क व संवाद बढ़ाने की रणनीति पहले ही तय कर ली है।

दिल्ली बैठक में इन फैसलों को जमीन पर उतारने की प्रक्रिया तय होगी और संगठन मंत्रियों को अपने-अपने क्षेत्रों में इन कार्यक्रमों को सफलता पूर्वक संपन्न कराने की जिम्मेदारी देते हुए टीम गठित करने का काम सौंपा जाएगा।

इन मुद्दों पर होगा मंथन
दरअसल, मंदिर निर्माण को लेकर लोगों में उत्सुकता को देखते हुए विहिप सचेत हो गई है। उसकी कोशिश है कि निर्माण के दौरान अयोध्या आने वालों लोगों की भीड़ नियंत्रित रहे। ऐसा न हो कि शुरुआती दिनों मेंअयोध्या में बहुत भीड़ बढ़े और समय के साथ-साथ वहां सन्नाटा छा जाए। इसीलिए विहिप की योजना जिला, क्षेत्र और प्रांतवार संख्या तय करके लोगों को निश्चित संख्या में अलग-अलग दिन बुलाने की है।

योजना है कि 1990 और 92 की तरह ही अलग-अलग क्षेत्रों की संख्या तय करके लोगों को बुलाया जाएगा। बैठक में निर्माण के दौरान अयोध्या भेजे जाने वाले कारसेवकों की क्षेत्रवार संख्या और तरीका व तारीखों पर भी कार्ययोजना बनाई जाएगी। दिल्ली बैठक में मंदिर निर्माण के दौरान देशभर में उन अन्य कार्यक्रमों का भी खाका खींचा जाएगा जिनसे अयोध्या के मंदिर निर्माण का उत्साह गांव-गांव बना रहे।

राष्ट्र के सम्मान का प्रतीक बनेगा राममंदिर
मंदिर आंदोलन से प्रारंभ से ही जुड़े रहे और विहिप के क्षेत्र संगठन मंत्री अंबरीष कहते हैं कि विश्व हिंदू परिषद की भूमिका वैसी ही है जैसी भगवान राम के साथ कोल-भिल्लों की और बानर-भालुओं की थीं। जैसे भगवान राम के काज को जामवंत और सुग्रीव जैसे सेनापतियों के निर्देश पर काम करते थे, वैसे ही विहिप के कार्यकर्ता संतों के निर्देश पर इस आंदोलन में काम करते चले आ रहे हैं।

अब जब मंदिर निर्माण की घड़ी साकार होने को आ गई है तब फिर सेवक के रूप में हमारी भूमिका बढ़ गई है। दिल्ली बैठक में संगठनात्मक मुद्दों के साथ इस बारे में विचार होगा।


 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us