विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

देश के पहले कर्नल 'जैग' कपल बन लखनऊ का नाम रोशन करेंगे अनु-अमित, बधाई देने वालों का लगा तांता

लेफ्टिनेंट कर्नल अनु डोगरा जल्द कर्नल बन जाएंगी। इसके बाद वह और उनके पति लखनऊ के डालीगंज निवासी कर्नल अमित कुमार देश की सशस्त्र सेनाओं के पहले कर्नल ज...

5 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

लखनऊ

मंगलवार, 31 मार्च 2020

बसपा नेता सतीश मिश्रा सांसद निधि से देंगे एक करोड़, वक्फ राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने 50 लाख दिए

मजदूरों पर दवा का छिड़काव निंदनीय, तुरंत ध्यान दे सरकार: मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बरेली में प्रवासी मजदूरों पर दवा का छिड़काव किए जाने की निंदा की है। उन्होंने लगातार किए दो ट्वीट में कहा है कि यह अमानवीय है। सरकार को इस पर तुरंत ध्यान देना चाहिए।

मायावती ने कहा कि बेहतर होता कि केंद्र सरकार राज्यों के बॉर्डर सील कर हजारों प्रवासी मजदूरों के परिवारों को बेसहारा भूखा-प्यासा छोड़ने के बजाय दो-चार विशेष ट्रेनें चलाकर उनके घर तक जाने की मजबूरी को थोड़ा आसान कर देती।



... और पढ़ें

लखनऊः बीटेक छात्र ने फांसी लगा दी जान, ये थी वजह

लखनऊ के मड़ियांव के रपरा गांव निवासी सचिन यादव (22) ने फांसी लगा ली। प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, कालिका प्रसाद का बेटा सचिन तेलीबाग में अपने मामा गणेश के पास रहकर बीटेक की पढ़ाई कर रहा था।

वह एक निजी संस्थान से बीटेक द्वितीय वर्ष का छात्र था। शनिवार शाम को सचिन बीमार पिता की दवा लेकर आ रहा था। आरोप है कि रास्ते में अवध चौराहे पर पुलिस ने रोका व कार्ड न होने के कारण उसे मारापीटा।

उसके हाथ में चोट लग गई। वह पट्टी बांधकर घर पहुंचा। परिवारीजनों को मामले की जानकारी दी। पुलिस की पिटाई से वह डिप्रेशन में था, सीधे कमरे में चला गया। रात को छोटा भाई विपिन बुलाने गया तो कमरे में उसने क्रेप बैंडेज का फंदा बनाकर पंखे के कुंडे से फांसी लगा ली थी। 
... और पढ़ें

उत्तर प्रदेश में कोरोना के 15 नए मरीज मिले, तीन हुए ठीक, 96 पहुंची कुल संख्या

नोवेल कोराना वायरस के प्रकोप के बीच सोमवार को एक अच्छी खबर आई। पहले से अस्पतालों में भर्ती तीन पॉजिटिव मरीज पूरी तरह से स्वस्थ होने के कारण डिस्चार्ज कर दिए गए। इनमें से दो नोएडा और एक आगरा का मरीज है। इनमें से 17 को स्वास्थ्य लाभ लेने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। 

वहीं बुरी खबर यह रही कि सोमवार को 15 नए नोवेल कोरोना वायरस पॉजिटिव सामने आए गए हैं। इनमें से 07 नोएडा, 05 मेरठ और 1-1 आगरा, लखनऊ और बुलंदशहर का है। इस तरह कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब 96 हो गई है। इस तरह नोएडा अब 38 पॉजिटिव हो गए हैं। 

दूसरे नंबर पर 19 मरीजों के साथ मेरठ है और तीसरे नंबर पर 11 पॉजिटिव मरीजों के साथ आगरा है। लखनऊ में नौ, गाजियाबाद में सात, पीलीभीत-वाराणसी में दो-दो, लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, कानपुर, जौनपुर, शामली बागपत, बरेली, बुलंदशहर में एक-एक पॉजिटिव व्यक्ति मिल चुका है। 

संयुक्त निदेशक संक्रामक रोग डॉ. विकासेंदु अग्रवाल ने बताया कि मेरठ में 35 लोगों को क्वारंटीन किया गया है। गाजियाबाद में 28 लोगों को क्वारंटीन किया गया है। गाजियाबाद में एक सोसाइटी को पूरी तरह से लॉक डाउन किया गया है। साथ ही इस सोसाइटी के पांच किलोमीटर के पूरे क्षेत्र को सील कर दिया गया है। मेरठ के कई इलाके पूरी तरह सील कर दिए गए हैं। मेरठ और नोएडा में स्वास्थ्य विभाग के एक-एक उच्चाधिकारी को निगरानी के लिए लगाया गया है।
... और पढ़ें
कोरोना जांच करता सुरक्षाकर्मी कोरोना जांच करता सुरक्षाकर्मी

यूपी में प्रत्येक व्यक्ति को रोजमर्रा की वस्तुओं की डोरस्टेप डिलीवरी: योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिहार और दिल्ली समेत 20 राज्यों के  मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर आश्वस्त किया है कि यूपी में रह रहे उनके राज्यों के प्रत्येक व्यक्ति की हर संभव मदद की जाएगी और उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने भरोसा जताया है कि वे दिल्ली व बिहार में रहे यूपी के लोगों के स्वास्थ्य, सुरक्षा व मूलभूत जरूरतों की देखभाल अपने स्तर से सुनिश्चित करेंगे।

सीएम योगी ने पत्र में कहा है कि प्रदेश सरकार ने कोविड-19 की महामारी से निपटने के लिए प्रभावी कदम उठाते हुए अनेक निर्णय लिए हैं। राज्य की सरकारी मशीनरी पूर्ण निष्ठा व प्रतिबद्धता के साथ जनता की समस्याओं के निदान के लिए काम कर रही है। वरिष्ठ अधिकारियों की 11 समितियां गठित करके सभी पहलुओं पर कार्य किया जा रहा है। मुख्यमंत्री हेल्प लाइन व सभी जिलों में 24 घंटे कंट्रोल रूम के माध्यम से प्रत्येक व्यक्ति की समस्या का निवारण किया जा रहा है। प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति को प्रशासन के माध्यम से रोजमर्रा की वस्तुओं की डोर स्टेप डिलीवरी सुनिश्चित की जा रही है।

प्रदेश सरकार देश के विभिन्न राज्यों में बसे उत्तर प्रदेश मूल के व्यक्तियों की सहायता के लिए राज्यवार वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों की तैनाती की गई है। यही अधिकारी संबंधित राज्य के ऐसे निवासियों को यूपी में रहते या लॉकडाउन के कारण वापस नहीं जा पा रहे हैं, उनकी भी सहायता कर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि हम सभी मिलकर आपसी सद्भाव व सम्मलित प्रयास से इस महामारी पर अवश्य विजय प्राप्त करेंगे। उन्होंने सभी राज्यों के लिए नियुक्त किए गए नोडल अधिकारियों के नाम और फोन नंबर भी पत्र में दिए हैं। कहा है कि इन अधिकारियों से आपकी सरकार किसी भी समन्वय के लिए संपर्क कर सकती है।

19 मुख्यमंत्रियों व एक उपमुख्यमंत्री को भेजा पत्र
पश्चिमी बंगाल, उत्तराखंड, तेलंगाना, तमिलनाडु, राजस्थान, पंजाब, उड़ीसा, नागालैंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल, कर्नाटक, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, हरियाणा, दिल्ली, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट।

दिल्ली-बिहार के लिए तैनात किए ये अधिकारी
सीएम योगी ने कहा है कि दिल्ली प्रदेश के लिए राज्य सरकार ने आईएएस नरेन्द्र भूषण और आईपीएस राजीव कृष्ण को तैनात किया है। इसी तरह बिहार के लिए आईएएस मनोज कुमार और आईपीएस अशोक कुमार सिंह की तैनाती की गई है। 

मोबाइल नंबर
नरेन्द्र भूषण: 8920827174 और 011-26110151-55
राजीव कृष्ण: 9454400114 और 0591-2435733
मनोज कुमार: 9899022060, 9621650062 और 9621650067
... और पढ़ें

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल थे यूपी के 100 लोग, सभी की हुई पहचान

दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए जिस इज्तेमा में शामिल तब्लीगी जमात के लोग कोरोना के संदिग्ध मिले हैं, उसमें लगभग 100 लोग यूपी के शामिल हैं। इन सभी की शिनाख्त हो गई है और सब दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में क्वारंटीन किए गए हैं। 

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यूपी के जो लोग शामिल थे, उनके परिजनों से भी संपर्क किया गया तो इसकी पुष्टि हुई कि तब्लीगी जमात में शामिल सभी लोग अभी दिली में ही हैं। 

उक्त अधिकारी ने बताया कि सबसे अधिक पश्चिमी यूपी के लोग इस जमात में शामिल थे। इसके अलावा वाराणसी के भी तीन लोगों के बारे में जानकारी मिली है, जो निजामुद्दीन में आयोजित कार्यक्रम में थे। उक्त अधिकारी ने दावा किया कि सूचना मिलने के बाद तत्काल इसकी जांच कराई गई। ऐसा एक भी व्यक्ति नहीं मिला है जो जमात में शामिल होकर वापस यूपी आया हो।

वहीं, उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय ने 18 जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को एक आदेश जारी किया है कि वे निजामुद्दीन मरकज से भाग लेकर लौटने वाले लोगों का कोरोना टेस्ट करें और संक्रमित लोगों को अस्पताल में भर्ती कराएं।
... और पढ़ें

नोएडा में बढ़ते कोरोना पर लगाम लगाने के लिए डीएम सुहास को मिली जिम्मेदारी, दमदार है इनका प्रोफाइल

नोएडा में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या प्रदेश सरकार के लिए चिंता का सबब बन चुका है। इस बीच नोएडा को कोरोना से बचाने के लिए आईएएस अधिकारी सुहास लालिनाकेरे यथिराज को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। दरअसल यूपी सरकार ने उन्हें गौतमबुद्ध नगर जिले का नया जिलाधिकारी नियुक्त किया गया है। 

वर्ष 2007 बैच के आईएएस अफसर सुहास एलवाई शटलर के रूप में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तमाम उपलब्धियां प्राप्त करके पैरालंपिक गेम्स खेलने के करीब पहुंच चुके हैं। वे बचपन से ही शौकिया तौर पर बैडमिंटन खेलते थे। आईएएस बनने के बाद भी उन्होंने इस शौक को फिटनेस बरकरार रखने के लिए जारी रखा। वर्ष 2016 में बीजिंग एशियन चैंपियनशिप में पहली बार एलएल-4 (लोअर स्टैंडिंग) में हिस्सा लिया और स्वर्ण पर कब्जा जमाया।

पैरालंपिक खेलने से महज 100 अंक दूर
सुहास के वर्तमान प्रदर्शन को देखा जाए तो वे पैरालंपिक गेम्स खेलने से महज 100 पाइंट की दूरी पर हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते गत आठ से 15 मार्च को होने वाली स्पेनिश ओपन पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप रद्द कर दी गई, जिसके कारण सुहास के ओलंपिक में खेलने की संभावनाएं धूमिल पड़ गई थीं। अब पैरालंपिक के अगले साल होने के कारण इनकी उम्मीदें फिर परवान चढ़ती दिख रही हैं। अगर वे अगले साल टोक्यो पैरालंपिक गेम्स के लिए क्वालीफाई करते हैं तो ऐसा कारनामा करने वाले वे देश के इकलौते आईएएस अफसर हो जाएंगे। 

बतौर पैरा शटलर सुहास एलवाई के प्रदर्शन पर एक नजर
वर्ष 2016 बीजिंग एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण 
वर्ष 2017 तुर्किश ओपन में रजत
वर्ष 2018 जकार्ता एशियन पैरा गेम्स में कांस्य
वर्ष 2018 नेशनल पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण
वर्ष 2019 आयरलैंड ओपन में रजत
वर्ष 2019 तुर्किश ओपन में स्वर्ण
वर्ष 2020 ब्राजील ओपन में स्वर्ण
वर्ष 2020 पेरू ओपन में स्वर्ण
... और पढ़ें

यूपी की सभी सीमाएं सील, जो जहां हैं उसे वहीं मदद दिलाएगी सरकार, अफसरों को दिए निर्देश

गौतमबुद्ध नगर के नए डीएम सुहास और योगी आदित्यनाथ
केंद्र सरकार के निर्देश पर प्रदेश सरकार ने राज्य की सभी सीमाएं सील कर दी हैं। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने अधिकारियों से कहा है कि जो जहां है, वहीं उसे आवश्यक सुविधा उपलब्ध कराएं। तिवारी सोमवार को कोविड-19 के संबंध में अन्य राज्यों में रह रहे प्रदेश के लोगों की मदद के लिए नामित नोडल अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्य सचिव ने कहा कि फोन कॉल पर घर वापस आने का अनुरोध किए जाने पर उन्हें विनम्रतापूर्वक समझाया जाए कि केंद्र सरकार के निर्देशानुसार यूपी का बॉर्डर सील कर दिया गया है। ऐसे में जो जहां हो, वह वहीं रुके, तभी लॉकडाउन का मकसद सफल होगा। यात्रा के अलावा उनकी हर समस्या का समाधान उसी स्थान पर करा दिया जाएगा।

उन्हें यह भी बताएं कि केंद्र सरकार के निर्देशानुसार लॉकडाउन की वजह से काम पर न जाने तथा वर्क फ्रॉम होम की दशा में उनको वेतन और मजदूरी भी दी जाएगी। मकान मालिक किराया भी नहीं लेगा। अन्य राज्यों के यूपी में रह रहे लोगों की भी हरसंभव सहायता की जाए।
... और पढ़ें

यूपी में सोमवार को 15 नए कोरोना पॉजिटिव, पर तीन मरीज ठीक होकर वापस घर गए

यूपी में सोमवार को 15 नए मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। हालांकि, अच्छी खबर ये है कि पहले पॉजीटिव रहे तीन मरीज ठीक हो गए हैं जिन्हें अस्पताल से घर भेज दिया गया है।

15 नए मरीजों के साथ यूपी में अब तक कोरोना पॉजिटिव की संख्या 96 हो गई है। सोमवार को 6 नोएडा, 6 मेरठ, एक आगरा, एक लखनऊ और एक मरीज बुलंदशहर का पाया गया।

बता दें कि लखनऊ में दस दिन बाद कोई कोरोना पॉजिटिव पाया गया। गौरतलब है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर ने बताया कि ठीक हुए मरीजों को पौष्टिक आहार और गर्म पानी दिया गया। उन्हें कोई दवा नहीं दी गई।

इसके पहले लखनऊ वासियों के लिए रविवार का दिन भी राहत भरा रहा। यहां नौवें दिन भी कोई मरीज पॉजिटिव नहीं मिला। शनिवार को लिए गए सभी 14 सैंपल निगेटिव पाए गए। केजीएमयू की लैब में शनिवार शाम से रविवार दोपहर तक प्रदेशभर से आए 79 नमूनों की जांच हुई। सभी जांच में निगेटिव पाए गए।




केजीएमयू प्रवक्ता डॉ सुधीर सिंह के मुताबिक, केजीएमयू में सात कोरोना संक्रमित मरीज भर्ती हैं। सभी की तबीयत ठीक है। डॉक्टरों की टीम उनकी सेहत की निगरानी कर रही है।

वहीं, किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षित करने का काम तेजी से चल रहा है। मरीज के साथ खुद को कैसे संक्रमण से बचाया जाए, इसकी बारीकियां सिखाई जा रही हैं।
... और पढ़ें

Coronavirus in UP Live Updates: प्रदेश में कोरोना के 15 नए मरीज मिले, 96 पहुंची कुल संख्या

रसायुक्त पानी से लोगों को सैनिटाइज करने पर अखिलेश यादव ने उठाए सवाल, जिलाधिकारी ने लिया एक्शन

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बरेली में लोगों को सड़क पर बैठाकर और उन्हें सैनिटाइज करने के लिए उन पर रसायुक्त पानी का इस्तेमाल करने को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। हालांकि, बरेली के जिलाधिकारी ने इसे फायर ब्रिगेड और नगर निगम की 'अतिसक्रियता' बताते हुए गलती स्वीकार की है।

जिलाधिकारी ने कहा कि मामले की पड़ताल की जा रही है। प्रभावित लोगों का चीफ मेडिकल ऑफिसर बरेली की देखरेख में इलाज किया जा रहा है। संबंधित लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इसके पहले अखिलेश यादव ने ट्वीट कर सवाल उठाए कि
- क्या इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देश हैं?
- केमिकल से हो रही जलन का क्या इलाज है?
- भीगे लोगों के कपड़े बदलने की क्या व्यवस्था है?
- साथ में भीगे खाने के सामान की क्या वैकल्पिक व्यवस्था है?

बता दें कि ये सभी यात्री दिल्ली से बरेली पहुंचे थे जिन्हें सैनिटाइज करने के लिए नगर निगम व फायर ब्रिगेड की टीमों ने उन पर केमिकलयुक्त पानी की बौछार कर दी।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us