विज्ञापन
विज्ञापन
दीर्घकाल से चल रहें मुकदमें होंगे समाप्त, आज ही बुक करें कामाख्या देवी मंदिर में विजय दशमी की विशेष पूजा !
Navratri Special

दीर्घकाल से चल रहें मुकदमें होंगे समाप्त, आज ही बुक करें कामाख्या देवी मंदिर में विजय दशमी की विशेष पूजा !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अमेरिका में रिसर्च छोड़कर वापस आए डॉ संदीप, बच्चों को विज्ञान के प्रति कर रहे जागरूक

डॉ. संदीप सिंह अमेरिका में पोस्ट डॉक्टरल रिसर्च छोड़कर वापस अपने देश आ गए हैं और ग्रामीण बच्चों को विज्ञान और तकनीक के प्रति जागरूक कर रहे हैं।

13 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

हाईस्कूल की टॉपर छात्रा बनी थाना प्रभारी, यूं निभाई अपनी जिम्मेदारी, तस्वीरें

दो घंटे के लिए थाना प्रभारी बनीं चांदनी दो घंटे के लिए थाना प्रभारी बनीं चांदनी

यूपी: डीआईजी की पत्नी ने लगाई फांसी, हाथरस कांड की जांच कर रही एसआईटी में सदस्य हैं चंद्र प्रकाश

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में डीआईजी चंद्र प्रकाश की पत्नी ने शनिवार को आत्महत्या कर ली है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।  जानकारी मिली है कि सुशांत गोल्फ सिटी इलाके में डीआईजी की 36 वर्षीय पत्नी पुष्पा प्रकाश ने सुबह करीब 11:00 बजे के आसपास फांसी लगा ली। आननफानन कुछ लोगों की मदद से उन्हें लोहिया अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

पुष्पा प्रकाश ने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की इसकी वजह अभी तक साफ नहीं हो पाई है, मौके से कोई सुसाइड नोट भी बरामद नहीं हुआ है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।  आपको बता दें कि डीआईजी उन्नाव में तैनात हैं। इसके अलावा हाथरस जिले के चंदपा कोतवाली इलाके की युवती की सामूहिक दुष्कर्म और मौत मामले की जांच के लिए बनी एसआईटी में चंद्र प्रकाश बतौर सदस्य हैं। 

पति को फोन करके कहा आपकी जिंदगी आपको मुबारक
जांच में सामने आया है कि पुष्पा प्रकाश ने खुदकुशी से पहले पति को फोन किया था। उन्होंने कहा आपकी जिंदगी आपको मुबारक हो। उस वक्त डीआईजी अपने घर से ड्यूटी के लिए गोरखपुर के लिए निकल चुके थे। पत्नी का फोन आते ही वह तुरंत लौट आए। 
... और पढ़ें

अयोध्या से होगी यूपी की खूबियों की ब्रांडिंग, सरकार की ये है रणनीति

देशी पर्यटकों के लिहाज से यूपी देश का सबसे पसंदीदा स्थल बन चुका है। अगले कुछ वर्षों में इसका शुमार देश ही नहीं दुनिया के सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थलों में होने लगेगा। इसमें सर्वाधिक अहम भूमिका अयोध्या की होगी। देश-दुनिया में भगवान श्रीराम की स्वीकार्यता के मद्देनजर भव्य राम मंदिर और दुनिया की सबसे ऊंची श्रीराम की प्रतिमा बनने के साथ अयोध्या दुनिया में रामभक्तों और अन्य लोगों का आस्था का केंद्र बनेगा।

राज्य सरकार अयोध्या से पूरी दुनिया में यूपी की खूबियों की ब्रांडिंग का खाका तैयार करने में जुटी है। इसके लिए एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार की योजना बनाई गई है। अयोध्या आने वाले श्रीराम का दर्शन करें, साथ ही यूपी की खूबियों, यहां के हस्तशिल्प और कला की संपन्न विरासत से वाकिफ  हों, इसके लिए वहां बनने वाली नव्य अयोध्या के सभी राज्यों और विदेशों के अतिथिगृह के भूतल पर ओडीओपी के शोकेस (प्रदर्शनी) लगेंगे।

हाल ही में हुई पर्यटन विभाग की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए कि नव्य अयोध्या में बनने वाले सभी राज्यों के अतिथि गृहों के भूतल पर एमएसएमई विभाग की ओर से अनिवार्य रूप से ओडीओपी के उत्पादों को प्रदर्शित किया जाए। सूत्रों के  अनुसार अतिथिगृहों के निर्माण की मंजूरी देते समय ही शर्तों में इसका प्रावधान किया जाएगा।
... और पढ़ें

मुख्य सचिव के नाम पर ठगी करने वाले दो युवक गिरफ्तार, राजस्थान से लिए थे फेक आईडी पर नंबर

शाम्भवी सिंह को एक दिन का थानाध्यक्ष बनाया गया
मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी के नाम से ठगी करने के मामले में साइबर क्राइम और यूपी एसटीएफ ने दो युवकों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए युवकों के नाम सरताज खान और सुकदीन खान है। दोनों मथुरा के रहने वाले हैं। एडीजी साइबर क्राइम रामकुमार ने बताया कि इन दोनों युवकों ने फेसबुक पर मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की फोटो लगा कर उन्हीं के नाम से एक फेक प्रोफाइल बनाई।

इसके बाद इन युवकों ने कुछ हाई प्रोफाइल लोगों व रसूखदार लोगों को जोड़ लिया। इसके बाद फेसबुक मैसेंजर के जरिए अकस्मात स्थिति में बता कर पेटीएम में पैसे भेजने को कहते थे। एडीजी ने बताया कि इन युवकों ने राजस्थान से फेक आईडी से 1000 रुपये से 3000 रुपये तक मे सिम कार्ड हासिल किए थे।
... और पढ़ें

मानक पूरे न करने पर 105 आईटीआई की मान्यता खत्म, आदेश जारी

प्रदेश में मानक पूरे न करने पर 105 औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) की मान्यता खत्म कर दी गई है। भारत सरकार के कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय के प्रशिक्षण महानिदेशालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। इनमें लखनऊ, बाराबंकी, अयोध्या और अंबेडकरनगर जिलों की भी 10 आईटीआई शामिल हैं।

जो विद्यार्थी पहले से इनमें प्रशिक्षण ले रहे हैं, उनका प्रशिक्षण जारी रहेगा। इसे पूरी कराने की जिम्मेदारी इन आईटीआई की ही होगी। आदेश में कहा गया है कि सत्र 2020 से इनकी संबद्धता खत्म की गई है। यानी, सत्र 2020 से इनमें प्रवेश नहीं लिए जा सकेंगे। ये आईटीआई 3 साल (वर्ष 2022 तक) के लिए डिबार किए गए हैं। इसके बाद ये आईटीआई संबद्धता के लिए पुन: आवेदन कर सकती हैं। बशर्ते, ये संस्थान उस समय निर्धारित मान्यता के मानकों को पूरा करते हों। 

इनकी मान्यता खत्म 
बाराबंकी : एचडब्ल्यू शाह प्राइवेट आईटीआई मेला ग्राउंड देवा शरीफ
अयोध्या : श्रीराम चंद्रा प्राइवेट आईटीआई व कौशल्या देवी स्मारक प्राइवेट आईटीआई रामनगर अमावा सूफी। अम्बेडकरनगर : त्रिभुवन प्राइवेट आईटीआई, गोपालपुर
लखनऊ : एसवीपी प्राइवेट आईटीआई आदिल नगर, माइक्रोसॉफ्ट कम्प्यूटर सेंटर चारबाग, एमए एकेडमी एंड एजुकेशन प्राइवेट आईटीआई, अमीनाबाद, जी. टेक प्राइवेट आईटीआई कुमारपुरम न्यू पारारोड राजाजीपुरम, मंगलम इन्फोटेक प्राइवेट आईटीआई विशाल खंड गोमतीनगर, शाश्वत इंस्टीट्यूट पैरामेडिकल एंड नर्सिंग एंड वोकेशनल प्राइवेट आईटीआई कानपुर-रायबरेली हाईवे।

 
... और पढ़ें

लखनऊ विकास प्राधिकरण के वीसी हटाए गए, डीएम संभालेंगे पदभार

उप्र सरकार ने अचानक एक अहम फैसला लेते हुए एलडीए वीसी शिवाकांत दिवेदी को उनके पद से हटा दिया। उनकी जगह डीएम लखनऊ को यह जिम्मेदारी दी गई है। डीएम लखनऊ अभिषेक प्रकाश लखनऊ डीएम के साथ एलडीए वीसी का भी पद संभालेंगे।
 
गौरतलब है कि शिवाकांत द्विवेदी को इसी साल जनवरी की शुरुआत में एलडीए का वीसी बनाया गया था। पीसीएफ निदेशक पद से उन्हें पूर्व वीसी प्रभु एन सिंह की जगह लाया गया था। शिवाकांत द्विवेदी प्रोन्नत आईएएस अधिकारी हैं। शासन द्वारा उनको हटाये जाने के पीछे एलडीए के मुख्तार अंसारी और उनके भाई अफ़ज़ाल अंसारी के अवैध कब्जों को हटवाने में रवैया उचित नहीं माना जा रहा है। इसके अलावा एलडीए में कामों को लेकर धीमी गति से भी शासन खुश नहीं था, ऐसी चर्चा है।
... और पढ़ें

तस्वीरें: अयोध्या में तीन शताब्दी पहले शुरू हुई थी रामलीला की परंपरा, इन्होंने रखी थी नींव, दूर-दूर से आते थे लोग

रामनगरी में रामलीला मंचन की परंपरा तीन शताब्दी पहले शुरू हुई थी। इसे ही रामलीला का उद्गम स्थल माना जाता है। अब यह रामलीला विश्व के करीब 70 देशों में प्रचलित है। अपने उद्गम स्थली में ही अयोध्या की रामलीला का क्रेज कम होता जा रहा है। राजेंद्र निवास स्वर्गद्वार में अयोध्यास्थ रामलीला महोत्सव समिति द्वारा रामलीला मंचन कराने की परंपरा अयोध्या में रामलीला मंचन को जिंदा रखने में कामयाब दिखती है। भगवदाचार्य स्मारक सदन की लीला भी इस वर्ष बंद हो चुकी है तो वहीं कोरोना के चलते अयोध्या शोध संस्थान द्वारा वर्ष 2004 से चल रही अनवरत रामलीला भी 6 माह से बंद पड़ी है। हालांकि इस वर्ष फिल्मी कलाकारों की लीला जरूर आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। भगवान राम के चरित्र का लीला मंचन कब शुरू हुआ इसका अनुमान लगाना कठिन है लेकिन अयोध्या में रामलीला मंचन की परंपरा लगभग तीन शताब्दी पूर्व शुरु हुई थी। 



 
... और पढ़ें

अयोध्या: 5.50 लाख दीपों संग इस बार नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी, होगा लाइव प्रसारण, ... सजेगा राम दरबार

Diwali 2020 Ayodhya Ram Mandir News in Hindi: रामनगरी में छोटी दीवाली पर दिव्य दीपोत्सव की रूपरेखा तैयार हो गई है। इस बार अयोध्या में तीन दिवसीय दीपोत्सव होगा और 5.50 लाख दीप जगमगा कर नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है। कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दीपोत्सव का आयोजन होगा और सभी कार्यक्रमों का लाइव प्रसारण किया जाएगा। कोविड-19 के चलते इस बार के दीपोत्सव में आम जनमानस को कोरोना महामारी से बचाने के लिए बहुत ही सीमित संख्या में अयोध्या आने की अनुमति प्रदान की जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम संदेश में कोरोना से बचाव को लेकर जो भी निर्देश दिए थे उन सबका पूरी तरह से पालन कराया जाएगा। 

 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X