'रेलवे स्टेशन पर तंबाकू सेवन की चेतावनी और अंग दान का संदेश देने से मिलता है सुकून'

रमेश डोंगरे Updated Tue, 17 Jul 2018 02:44 PM IST
विज्ञापन
रमेश डोंगरे
रमेश डोंगरे

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
मैं एक डेंटल टेक्नीशियन के तौर पर टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च में काम करता था। वहां मेरे एक साथी हुआ करते थे। उन्हीं की टीम में हमने करीब बीस साल पूरे देश में घूम-घूमकर मुंह के कैंसर पर शोध किया। शोध में हमने पाया कि मुंह के कैंसर से जूझ रहे सौ लोगों में अस्सी लोग तंबाकू सेवन की सजा भुगत रहे हैं। मुझे उनकी हालत देखकर तरस आती। कैंसर का हर एक मरीज मेरे मन में तंबाकू के प्रति घृणा को और पुख्ता करता। इससे दुखद और क्या हो सकता था कि मेरी पत्नी की मौत भी कैंसर की वजह से हुई थी।करीब आठ साल पहले मैं सेवानिवृत्त हुआ। रिटायरमेंट के बाद अक्सर लोगों की कई योजनाएं होती हैं।
विज्ञापन


कुछ लोग दुनिया देखना चाहते हैं, तो कुछ लोग अपने दूसरे तरह के शौक पूरे करना चाहते हैं। मेरी भी एक इच्छा थी कि मैं रिटायरमेंट के बाद एक काम करूं। वह काम था, रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर खड़े होकर लोगों को तंबाकू के दुष्परिणामों के प्रति जागरूक करना। मैंने कोई नया काम करने की नहीं सोची। मैं तो बस वही बातें लोगों को बताना चाहता था, जिनका अभ्यास मैं खुद करता था। इस काम में मेरे दोनों बच्चों समेत मेरी पत्नी ने बखूबी साथ दिया। उसने मुझे सलाह दी कि लोगों को जागरूक करना, समझाना तो ठीक है, मगर अपने काम से मुझे किसी को परेशान नहीं करना चाहिए। चुपचाप खड़े होकर संदेश देना ज्यादा बेहतर होगा, बजाय किसी को रोक-टोककर उसका वक्त जाया करने से।


अपनी पत्नी की सलाह मानते हुए मैं पिछले आठ साल से हर रोज सुबह साढ़े बजे तक कांदिवली रेलवे स्टेशन पर पहुंच जाता हूं। शाम को घर वापस लौटने से पहले मैं वहां पूरा दिन शरीर ढक सकने वाला बैनर गले में लटकाकर खड़ा रहता हूं, जिस पर तंबाकू सेवन के दुष्परिणाम समेत अंग दान और पर्यावरण बचाने के संदेश लिखे होते हैं। मैं किसी से भी एक शब्द नहीं बोलता और चुपचाप बैनर पर लिखे संदेशों को प्रत्येक दिन हजारों लोगों तक पहुंचाता हूं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X