तब पाक को भारत के इस पीएम ने विदेशी ताकतों से बचाया था!

Dharmendra Kumarधर्मेन्द्र कुमार Updated Wed, 02 Sep 2015 02:04 PM IST
विज्ञापन
rajiv regarded pak as 'strategic buffer' against ussr: report

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के दस्तावेजों में दावा किया गया है कि शीत युद्ध के दौरान सोवियत संघ के करीबी माने जाने वाले भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने एक समय पाकिस्तान में सोवियत संघ विरोधी गुटों को समर्थन करने का मन बना लिया था।
विज्ञापन


हाल में सार्वजनिक किए गए सीआईए के गोपनीय दस्तावेजों में कहा गया है कि राजीव यह मानते थे कि अगर सोवियत संघ पाकिस्तान के तत्कालीन जनरल जियाउल हक के शासन को खत्म करवाता है, तो भारत वहां रूस विरोधी नागरिक समूहों का समर्थन करेगा। उनका मानना था कि दक्षिण एशिया में अमेरिका के साथ-साथ सोवियत संघ की भी दखलंदाजी का बढ़ना क्षेत्र के लिए ठीक नहीं है।


सीआईए ने शीत युद्ध के समय के इन दस्तावेजों को फ्रीडम ऑफ इंफॉर्मेशन एक्ट (भारत के आरटीआई के समान) के तहत अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किया है। राजीव गांधी क्षेत्र में अमेरिका और सोवियत संघ का हस्तक्षेप नहीं चाहते थे।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन कराना चाहता था सोवियत संघ

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X