विज्ञापन
विज्ञापन
क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से
astrology

क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

नाराज हाईकोर्ट ने कहा- क्यों न आदेश में लिख दें, पंजाब सरकार संविधान के अनुसार चलने में नाकाम

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने पजाब सरकार द्वारा आंदोलनकारी किसानों से रेल ट्रैक खाली करवाने में नाकाम रहने पर सख्त टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने कहा कि अगर पंजाब सरकार कानून व्यवस्था संभालने में नाकाम है तो बता दे, हम आदेश जारी कर लिख देंगे कि पंजाब सरकार संविधान के अनुसार चलने में नाकाम है।

मामले की सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार ने कहा कि सरकार ने ट्रैक खाली करवा दिए हैं। इस पर केंद्र की ओर से एडिशनल सॉलिसिटर जनरल सत्यपाल जैन ने कहा कि पंजाब केंद्र सरकार पर मालगाड़ी व यात्री वाहन न चलाने का आरोप लगा रहा है, लेकिन ट्रैक खाली नहीं करवा पा रहा है। 

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर मालगाड़ी और यात्री गाड़ी सेवा आरंभ करने की मांग की था। जवाब में गोयल ने राज्य सरकार को पहले रेल ट्रैक खाली करवाने व रेल कर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चत करने को कहा था। 

जैन ने कहा कि पंजाब सरकार दावा करती है कि ट्रैक खाली हैं, लेकिन कई जगह पर किसान बैठे मालगाड़ियों को रोक रहे हैं। ट्रेनें बंद करने से पहले कई जगह रास्ते में उन्हें रोककर तलाशी ली गई। किसान मालगाड़ियों में पेट्रो पदार्थ भी नहीं ले जाने दे रहे। केंद्र ने कहा कि जब तक पंजाब सरकार ट्रेनों और रेल कर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं करती तब तक केंद्र रेलगाड़ियां नहीं चला सकती।

केंद्र और पंजाब मिलकर समस्या का समाधान निकालें
हाईकोर्ट ने केंद्र व पंजाब सरकार को निर्देश दिया कि वो इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश करें। पंजाब सरकार को अगली सुनवाई पर अदालत में उन सभी कदमों की जानकारी देने के आदेश दिए हैं जो पंजाब सरकार ने रेल व सड़क मार्ग खोलने के लिए उठाए हैं।
... और पढ़ें
फाइल फोटो... फाइल फोटो...

पंजाब: जालंधर में उद्यमी ने कनपटी में गोली मारकर की खुदकुशी, पुलिस बोली-मानसिक तनाव में थे

जालंधर में लुधियाना मार्ग पर स्थित गुरु नानक आटो इंटरप्राइजेज (जमालपुर) के संचालक गुरिंदर सिंह (40) ने मंगलवार को रात दो बजे गांव विरका स्थित कोठी में अपनी कनपटी पर गोली मार ली। खून से लथपथ हालत में गुरिंदर सिंह को स्थानीय जौहल अस्पताल दाखिल में करवाया गया, जहां बुधवार को दोपहर करीब साढ़े 12 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया। 

बुधवार को एसपी जांच मनप्रीत सिंह ढिल्लों पुलिस बल के साथ गांव विरका गए और पारिवारिक सदस्यों से बातचीत की। पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई कर शव को परिजनों के हवाले कर दिया है। एसपी मनप्रीत सिंह का कहना है कि गुरिंदर सिंह मानसिक रूप से तनाव में थे और इसी कारण मंगलवार को खुदकुशी कर ली। गुरिंदर के 12 साल का बेटा और 6 साल की बेटी है। 
... और पढ़ें

पाकिस्तान से आ रहा पराली का धुआं, खराब हो रही पंजाब-दिल्ली की आबोहवा

दिल्ली की हवा को दूषित करने के लिए सिर्फ पंजाब ही नहीं पाकिस्तान भी जिम्मेदार है। पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में जलने वाली पराली का धुआं पंजाब होते हुए दिल्ली पहुंच रहा है। पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीपीसीबी) द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में लगाई गईं हाई वॉल्यूम सैंपलर (एचवीएस) मशीन से मिले आंकड़ों में यह खुलासा हुआ है। सूबे के सीमावर्ती क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के स्तर में 30 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

भारत-पाकिस्तान बॉर्डर 3323 किलोमीटर लंबा है। इसमें पंजाब से पाकिस्तान की सीमा 553 किलोमीटर जुड़ी हुई है। इन दिनों पंजाब सहित पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में धान की कटाई का कार्य जोरों से चल रहा है। यहां पर भी किसान पराली के निस्तारण करने के लिए आग लगा रहे हैं। पंजाब रिमोट सेंसिंग सेंटर (पीआरएससी) द्वारा ली गई सैटेलाइट की तस्वीरों में भी इसका खुलासा हो चुका है। अब पीपीसीबी की हाई वाल्यूम सैंपलर मशीनों से भी पाकिस्तान से लगे सूबे के सीमावर्ती क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक का स्तर बढ़ रहा है। 



मशीनों से मिले
आंकड़ों के अनुसार इन क्षेत्रों में एक्यूआई के स्तर में पिछले सालों के मुकाबले 30 प्रतिशत का इजाफा हुआ है और एक्यूआई का स्तर 150 से भी अधिक दर्ज किया गया है। पीपीसीबी इस गंभीर मुद्दे को लेकर रिपोर्ट तैयार कर रहा है। इसमें यह उल्लेख किया जाएगा कि पंजाब सहित पूरे उत्तर भारत में पाकिस्तान में जलाई जाने वाली पराली से पंजाब सहित उत्तर भारत के अन्य राज्यों में प्रदूषण फैल रहा है।

पीआरएससी भी कर रहा मॉनिटरिंग
पिछले साल की तरह इस साल भी पाकिस्तान में जलाई जाने वाली पराली की मॉनिटरिंग पंजाब रिमोट सेंसिंग सेंटर (पीआरएससी) कर रहा है। सेंटर से मिली जानकारी के अनुसार पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान की सीमा के कई गांवों में पराली जलाने की घटनाएं बढ़ी हैं। फिरोजपुर और फाजिल्का जिलों के साथ लगते पाकिस्तानी क्षेत्र में जहां धान की काफी खेती होती है वहां पराली जलाने की ज्यादा घटनाएं हो रही हैं। खासकर लाहौर और इसके साथ लगते क्षेत्रों में मामले अधिक हैं।

पाकिस्तान से आ रही हैं हवाएं
मौसम विभाग, चंडीगढ़ के निदेशक सुरिंदर पाल ने बताया कि पाकिस्तान की तरफ से आने वाली हवा का असर भारत के पंजाब पर पड़ना लाजिमी है। पाकिस्तान में पराली जलाने की वजह से धुआं इकट्ठा होगा और हमारे यहां हवाओं के पहुंचने पर प्रदूषण स्तर बढ़ेगा। अक्तूबर के पहले सप्ताह से दोपहर बाद लगातार उत्तर पश्चिम हवाएं चल रही हैं। अभी अक्तूबर तक यही हालात रहेंगे।

पराली पंजाब ही नहीं, हरियाणा, उत्तर प्रदेश व दिल्ली से लगते हुए अन्य राज्यों में भी जलाई जा रही है। इन दिनों पाकिस्तान से भी उत्तर पश्चिम की ओर से चलने वाली हवाओं में पराली का धुआं उत्तर भारत के राज्यों में पहुंच रहा है। ऐसे में अकेले पंजाब को बदनाम करना उचित नहीं होगा। पाक के सीमावर्ती क्षेत्रों में जलने वाली पराली को लेकर केंद्रीय स्तर पर पहल की जानी चाहिए।
- करुणेश गर्ग, मैंबर सेक्रेटरी, पीपीसीबी
... और पढ़ें

पंजाब : 29 नवंबर को ईटीटी अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा, भरे जाएंगे 2364 पद

ईटीटी अध्यापक भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। सरकार ने इन पदों पर भर्ती के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा की तिथि तय कर दी है। 29 नवंबर को 2364 अध्यापकों के पदों के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की जाएगी। सुबह 10 बजे से परीक्षा शुरू होकर 11: 40 मिनट पर संपन्न होगी।

शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए ईटीटी अध्यापक के रिक्त पड़े 2364 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया था। इसमें पंजाब के हजारों युवाओं ने आवेदन किया था। शिक्षा विभाग कोरोना के कारण परीक्षा आयोजित नहीं करवा पा रहा था लेकिन अब संक्रमण की सूबे में गिरती दर को देखते हुए शिक्षा विभाग ने परीक्षा की तिथि निर्धारित कर दी है।

शिक्षा विभाग के प्रवक्ता के अनुसार 29 नवंबर को इन पदों के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। परीक्षा सुबह 10 बजे से शुरू होकर 11.40 बजे तक आयोजित की जाएगी। आवेदकों को प्रश्नपत्र को हल करने के लिए 100 मिनट का समय दिया जाएगा। इस परीक्षा में सफल होने वाले आवेदकों की तैनाती सूबे के विभिन्न जिलों में स्थित सरकारी स्कूलों में की जाएगी।
... और पढ़ें

जालंधर : महिला वकीलों के बाद अब पुलिस अधिकारी सिरफिरे के निशाने पर, एसीपी को बोले अपशब्द

सांकेतिक तस्वीर।
महिला वकीलों को फोन कर अश्लील बातें कर परेशान करने वाले सिरफिरे ने अब एसीपी को फोन कर अपशब्द कहना शुरू कर दिया है। डीजीपी दिनकर गुप्ता के आदेश पर जांच का दायरा तो बढ़ा दिया गया है लेकिन पुलिस के हाथ अब भी आरोपी तक नहीं पहुंच पाए हैं।

डीसीपी जांच गुरमीत सिंह का कहना है कि पुलिस को जांच में आठ ऐसे मोबाइल नंबर के बारे में पता चला है, जो आरोपी के संपर्क में हैं। पुलिस अब एक-एक नंबर को खंगाल रही है, ताकि मुख्य आरोपी को बेनकाब किया जा सके। 

वकील रणवीर कौर भुल्लर का कहना है कि सारे वकील एकजुट हो रहे हैं, ताकि सिरफिरे को गिरफ्तार किया जा सके। एडवोकेट अमनदीप कौर का कहना है कि पुलिस की कार्रवाई संदेह के घेरे में है। पंजाब में काफी महिला वकीलों को इस तरह की इंटरनेट कॉल्स आ रही हैं। इसके बावजूद पुलिस अब तक आरोपी का सुराग नहीं लगा पाई है। 

एडवोकेट गुरजीत काहलो का कहना है कि महिला वकील मानसिक रूप से काफी परेशान हो गई हैं, क्योंकि ऐसा लगता है कि सिरफिरा कहीं आसपास घूम रहा है। बार काउंसिल के चेयरमैन करणजीत सिंह से भी लगातार संपर्क किया जा रहा है। अगली रणनीति तय की जा रही है, क्योंकि पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई होती नहीं दिख रही है। 

एडवोकेट बीना कश्यप का कहना है कि यह किस्सा ही शर्मनाक है। इस तकनीकी युग में भी पुलिस के हाथ अब तक आरोपी तक नहीं पहुंचे हैं। वह अब भी महिला वकीलों को प्रताड़ित कर रहा है। इससे बड़ी शर्मनाक घटना क्या होगी। डीसीपी जांच गुरमीत सिंह का कहना है कि मामला काफी संवेदनशील है। जांच टीम की कमान आईपीएस अधिकारी रवि को सौंपी गई है जो एक साइबर एक्सपर्ट के साथ आईआईटी ग्रेजुएट हैं।
... और पढ़ें

पंजाब में कोरोना के बीच बढ़ा डेंगू का प्रकोप, 10 महीने में 4692 मामले

कोरोना महामारी के बीच पंजाब में डेंगू की मार भी जारी है। सूबे में पिछले 10 माह में डेंगू के 4692 मामले सामने आ चुके हैं। जनवरी से अब तक स्वास्थ्य विभाग 10890 लोगों के नमूनों की जांच कर चुका है। नवंबर और दिसंबर में डेंगू के अधिक फैलने की संभावनाओं को देखते हुए स्टेट टास्क फोर्स अलर्ट मोड पर आ गई है।

डेंगू पर प्रभावी अंकुश लगाने को लेकर पंजाब में बनाई गई स्टेट टास्क फोर्स द्वारा साझे तौर पर प्रयत्न शुरू कर दिए गए हैं। टास्क फार्स में स्थानीय निकाय विभाग, ग्रामीण विकास एवं पंचायतें, श्रम, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान, जल आपूर्ति एवं स्वच्छता, स्कूल शिक्षा और पशु पालन विभाग को शामिल किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पंजाब में जनवरी से अब तक डेंगू के 10,890 नमूनों की जांच की गई है और इनमें से 4,692 मरीज पॉजिटिव मिले हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने सभी जिला अधिकारियों को हिदायतें जारी की हैं कि सरकारी अस्पतालों में बुखार वाले मामलों का तुरंत इलाज किया जाए, जिससे डेंगू के कारण हुई बीमारी और मृत्युदर को घटाया जा सके। सरकार ने एवरी फ्राइडे ड्राई डे की घोषणा की है। इसका अर्थ है कि हफ्ते में एक बार पानी के डिब्बों आदि को खाली और साफ कर डेंगू की बीमारी को रोका जा सकता है।  

पंजाब में 336 नए कोरोना केस आए, 13 ने जान गवाई
पंजाब में मंगलवार को 336 नए मरीज आए। वहीं 13 लोगों ने अपनी जान गवाई। इसके अलावा ठीक हुए नए मरीजों की संख्या 463 है। अब तक संदिग्ध मामलों की संख्या 2515967 रही। पंजाब में मंगलवार को लुधियाना में 50, जालंधर में 25, पटियाला में 34, एसएएस नगर में 20, अमृतसर में 26, गुरदासपुर में 11, बठिंडा में 15, होशियारपुर में 42, फिरोजपुर में 5, पठानकोट में 5, संगरूर में 8, कपूरथला में 16, फरीदकोट में 6, मुक्तसर में 18, फाजिल्का में 25, मोगा में 3, रोपड़ में 12, फतेहगढ़ साहिब में 6, बरनाला में 6, तरनतारन में 11, एसबीएस नगर में 2 और मानसा में 7 मामले सामने आए।
... और पढ़ें

पंजाब: दशहरे के दिन रावण की जगह जलाया राम का पुतला, वीडियो किया वायरल, चार गिरफ्तार

कैप्टन ने कहा- किसानों को भड़का सकता है मालगाड़ियों को रोकने का फैसला, सुखबीर भी चिंतित

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मालगाड़ियों की पंजाब में आवाजाही की तुरंत बहाली के लिए केंद्रीय रेलवे मंत्री पीयूष गोयल का निजी दखल देने की मांग की है। किसानों द्वारा रेल रोकने के फैसले को आंशिक रूप में वापस लेने के बावजूद यह आवाजाही केंद्र की ओर से राज्य में बंद रखी गई है।

रेलवे द्वारा मालगाड़ियों पर दो दिन (24 और 25 अक्तूबर) के लिए पाबंदी के बाद इसे चार और दिनों के लिए बढ़ाने का फैसला किया है, जिसे लेकर मुख्यमंत्री ने सोमवार को केंद्रीय रेल मंत्री से बातचीत की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि रेलवे द्वारा पंजाब में मालगाड़ियों को न चलाने का फैसला राज्य सरकार द्वारा किसानों के साथ बातचीत करने की कोशिशों के स्वरूप अब तक हासिल की गई सफलता को कम कर सकता है। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि रेलवे का यह फैसला केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे किसानों को और भड़का सकता है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X