विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

पंजाब

रविवार, 5 अप्रैल 2020

Jalandhar: लॉकडाउन की वजह से साफ हुई अबोहवा, 30 साल बाद जिले से दिखी 'बर्फ की घाटी'

देश में लॉकडाउन और पंजाब में कर्फ्यू की वजह से भले ही लोग अपने घरों में दुबके हों लेकिन इसका असर प्रकृति पर सकारात्मक पड़ता दिख रहा है। एक ओर प्रदूषण का स्तर सबसे कम है तो वहीं आसमान भी साफ दिखाई दे रहा है। पंजाब के जालंधर में भी एक खूबसूरत नजारा देखने को मिला।

यातायात व फैक्टरियां बंद होने से प्रकृति और पर्यावरण को बहुत फायदा पहुंचा है। वायु प्रदूषण न होने से शहर का वातावरण बिल्कुल साफ हो गया। 30 वर्ष बाद हवा इतनी साफ हुई है कि 160 किलोमीटर किमी दूर बर्फ से ढके पहाड़ जालंधर के लोगों को दिखाई दिए हैं। यह खबर फैलते ही हर कोई अपनी छत पर खड़े होकर बर्फ से ढके पहाड़ों की फोटो खींचने लगा। 

मालूम हो कि जनता कर्फ्यू और लॉकडाउन की वजह से सड़कों पर गाड़ियों की संख्या भी काफी कम है। इससे प्रदूषण भी कम हुआ है। पिछले साल की तुलना में पीएम 2.5 का स्तर देखा जाए तो यह भी 26 फीसदी तक कम हुआ है। वायु प्रदूषण पर काम करने वाली संस्था सफर ने भी इस संबंध में शोध पत्र जारी किया है। साथ ही पीएम 10 की सांद्रता में भी तेजी से गिरावट आई है।

भारत समेत दुनिया की एक तिहाई जनसंख्या अपने घरों में कैद है। यातायात में हुई कमी और ज्यादातर कारखानें बंद होने के बाद दुनिया समेत देश के कई शहरों की हवा की क्वालिटी में जबरदस्त सुधार देखने को मिला है। जिन शहरों की एयर क्वालिटी इंडेक्स यानी AQI खतरे के निशान से ऊपर होते थे। वहां आसमान गहरा नीला दिखने लगा है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: नूंह, हिसार, करनाल, रोहतक और पंचकूला में बनेंगी नई लैब, 200 वेंटिलेटर जाएंगे खरीदे

हरियाणा सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार करना चाहती है। जिसके तहत नूंह, हिसार, करनाल, रोहतक और पंचकूला में प्रयोगशाला स्थापित करने का फैसला किया गया है। इसके अलावा पीजीआईएमएस रोहतक और भगत फूल सिंह मेडिकल कॉलेज, खानपुर कलां में दो परीक्षण प्रयोगशालाएं संचालित हैं। 

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने गुरुग्राम की पांच निजी प्रयोगशालाओं को भी कोविड-19 की जांच करने की मंजूरी दे दी है और इन परीक्षण प्रयोगशालाओं द्वारा अगले कुछ दिनों में सैंपल लेना शुरू कर दिया जाएगा। कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज, करनाल में एक परीक्षण प्रयोगशाला भी स्थापित की जा रही है। 

इस महीने के अंत तक इसे संचालित करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में राज्य में 1300 वेंटिलेटर की सुविधा है और 200 नये वेंटिलेटर के आर्डर जारी किए गए हैं जो जल्द ही राज्य के सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे। 
... और पढ़ें

मोहाली में मरकज से लौटे दो जमाती मिले कोरोना पॉजिटिव, जिले में पीड़ितों की संख्या पहुंची 12

एक दिन की राहत के बाद शुक्रवार को फिर से मोहाली में दो कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इनके सामने आने के बाद जिले में कोरोना पॉजिटिव केसों की कुल संख्या 12 हो गई है। ये दोनों लोग तब्लीगी जमात से संबधित है। दिल्ली में हुए मरकज में शामिल होकर लौटे लोगों ने स्वास्थ्य विभाग की दिन-रात की मेहनत पर पानी फेर दिया है। मरकज से लौटकर आए ज्यादातर लोग कोरोना संदिग्ध हैं और कुछ की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

स्वास्थ्य विभाग ने जमात के लोगों के संपर्क में आने वालों की तलाश शुरू कर दी है। कोरोना को लेकर मोहाली के लिए यह सप्ताह चिंता पैदा करने वाला रहा। इस हफ्ते कोरोना संक्रमण के कारण एक मौत के साथ ही अब तब्लीगी जमात के लोगों ने सेहत विभाग और प्रशासन के साथ आम लोगों की चिंता बढ़ा दी है। 

शुक्रवार को मोहाली में दो लोगों की सैंपल रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इनमें से एक कोरोना पीड़ित सेक्टर-68 में रहने वाले 62 साल के बुजुर्ग हैं और दूसरा गांव मौली में रहने वाला 42 साल का युवक है। यह दोनों लोग दिल्ली के मरकज में शामिल होकर आए थे। सेहत विभाग ने जमात में शामिल होकर लौटे 12 लोगों को सेक्टर-68 के मौली बैदवान से लाकर अस्पताल में क्वारंटीन किया है। हालांकि पांच जमातियों की रिपोर्ट निगेटिव आई है और पांच की रिपोर्ट का इंतजार है। 
... और पढ़ें

आतंकी दविंदर सिंह भुल्लर को 42 दिन की पैरोल, घर में रहने के साथ रहेंगी कई और बंदिशें

दिल्ली बम धमाकों के मामले में सजा काट रहे आतंकी प्रोफेसर दविंदर सिंह भुल्लर को पेरोल पर रिहा कर दिया गया है। शनिवार को अमृतसर केंद्रीय जेल से रिहा किए 59 कैदियों में भुल्लर भी शामिल था। भुल्लर को 42 दिन की पेरोल दी गई है।

कड़ी सुरक्षा के बीच भुल्लर को उसके रंजीत एवेन्यू स्थित निवास भेजा गया। पेरोल के दौरान भुल्लर को किसी भी व्यक्ति से मिलने की इजाजत नहीं होगी। न ही वह घर से बाहर जा सकेगा।

इमरजेंसी में घर से बाहर जाने से पहले उसे नजदीक के थाने को सूचित करना होगा। थाने की मंजूरी मिलने पर ही वह घर से बाहर निकल सकेगा। बता दें कि भुल्लर को दिल्ली बम धमाकों में फांसी की सजा हुई थी। सिख संगठनों व एसजीपीसी के प्रयासों के बाद केंद्रीय ग्रह मंत्रालय ने भुल्लर की फांसी को उम्रकैद में बदल दिया था।

कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से घबराई पंजाब सरकार ने प्रदेश की अलग-अलग जेलों से छह हजार कैदियों को पेरोल पर रिहा करने का निर्णय किया है। अमृतसर केंद्रीय जेल से अब तक 529 कैदियों को पेरोल पर रिहा किया जा चुका है।
... और पढ़ें
दविंदर सिंह भुल्लर दविंदर सिंह भुल्लर

मोहाली में दो और कोरोना पॉजीटिव केस आए सामने, अब 61 हुई संक्रमित मरीजों की संख्या

पंजाब में शनिवार को मोहाली में दो और फरीदकोट जिले में एक नया कोरोना संक्रमित मामला सामने आया। इसके साथ ही प्रदेश में मरीजों की संख्या 61 हो गई। राज्य में कोरोना  पॉजिटिव मरीजों की संख्या नवांशहर में सबसे अधिक 19 है, जबकि मोहाली में 12, होशियारपुर में 7, जालंधर में 6, अमृतसर 5, लुधियाना में 4, मानसा 3 और फरीदकोट, पटियाला व रोपड़ में एक-एक मामला सामने आया है। इनमें से पांच लोगों की मौत हो चुकी है।

हरिन्द्रा नगर निवासी 35 वर्षीय नौजवान की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिला प्रशासन ने तुरंत हरकत में आते हुए करीब 600 घरों वाले नगर को पूरी तरह से सील कर दिया। साथ ही युवक के संपर्क में आए परिजनों और करीबी रिश्तेदारों समेत दोस्तों के सैंपल ले लिए हैं। मरीज के पॉजिटिव होने की प्राथमिक रिपोर्ट तो शुक्रवार देर शाम ही आ गई थी। शनिवार को लिखित रिपोर्ट आने के बाद सिविल सर्जन डॉ. राजिंदर कुमार ने इसकी पुष्टि कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार, युवक कोटकपूरा रोड पर मनी एक्सचेंज व हवाई टिकटों इत्यादि का कारोबार करता है। वह इसी काम के सिलसिले में 12 मार्च को दिल्ली गया था। उस समय उसने दिल्ली में एक विवाह समारोह में भी भाग लिया था। कुछ दिन पहले तकलीफ महसूस होने पर उसे अस्पताल लाया गया था, जहां से उसे लुधियाना रेफर कर दिया गया। वहां उसे दाखिल नहीं किया गया था। 2 अप्रैल को तबियत ज्यादा खराब होने पर उसे फरीदकोट के गुरु गोबिंद सिंह मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल करवाया गया। वहां कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर उसके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे।

सिविल सर्जन डॉ. राजिंदर कुमार ने बताया कि प्राथमिक रिपोर्ट आने के बाद शुक्रवार रात ही हरिन्द्रा नगर को सील कर दिया गया था। शनिवार सुबह से ही सेहत विभाग द्वारा मरीज के घर समेत आसपास के क्षेत्र को सैनिटाइज किया जा रहा है। उसके संपर्क में आए लोगों की सूची तैयार करके उनकी सेहत की जांच का कार्य भी शुरू कर दिया गया है। कुछ लोगों को क्वारंटीन किया गया है और कुछ के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। डीसी कुमार सौरभ राज ने बताया कि पॉजिटिव मरीजा का मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उपचार हो रहा है और उसकी हालत में लगातार सुधार हो रहा है।
... और पढ़ें

कोरोना और कर्फ्यूः प्रवासियों का पलायन रोकने में पंजाब के डेरे निभा रहे अहम भूमिका, बांट रहे खाना

प्रवासी मजदूरों का पलायन रोकने और गरीबों तक भोजन पहुंचाने में प्रदेश के धार्मिक डेरे सबसे अहम भूमिका निभा रहे हैं। इसमें डेरा राधा स्वामी की तरफ से सबसे अहम योगदान दिया जा रहा है। उनके डेरों में जहां प्रवासी मजदूरों के रहने का विशेष तौर पर प्रबंध किया जा चुका है वहीं उनके लिए लंगर भी तैयार किया जा रहा है। इस समय अकेले राधा स्वामी डेरा श्रद्धालुओं की तरफ से हर रोज एक लाख फूड पैकेट तैयार किए जा रहे हैं। इन्हें प्रशासन की मदद से लोगों तक पहुंचाया जा रहा है।

इसमें रोचक बात है कि खाना तैयार करने के लिए सारा अनाज डेरे की तरफ से लगाया जा रहा है। इसमें सरकारी या किसी अन्य व्यक्ति से मदद नहीं ली जा रही है। अब तक इन डेरों में पांच सौ ज्यादा प्रवासी पहुंच भी चुके हैं। कोरोना फैलने के बाद सरकार ने सभी फैक्ट्रियों को बंद कर दिया है। इस समय राज्य में 15 अप्रैल तक लॉकडाउन के साथ कर्फ्यू भी लगा है। ऐसे में इन फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों के लिए खाने पीने का संकट पैदा हो गया था। कुछ मजदूरों ने पैदल ही अपने घरों को पलायन करने की कवायद शुरू कर दी थी।

इस कवायद को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने क्वारंटीन सेंटर तैयार किए, ताकि उन्हें वहीं रोका जा सके। लुधियाना में राधा स्वामी सत्संग डेरा ब्यास के लगभग 12 डेरे हैं। इन सभी में रहने की सुविधा दे दी गई है। इन 12 डेरों में डेरा प्रबंधकों की तरफ से 18 हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था कर दी गई है।

दिव्य ज्योति और निरंकारी मिशन भी जुटा सेवा में
कोरोना के चलते आम लोगों को मुसीबत की इस घड़ी में दिव्य ज्योति और निरंकारी मिशन भी सेवा में जुट चुका है। निरंकारी मिशन के लुधियाना शहर में चार डेरे हैं। इन सभी डेरों में 2600 लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है। यहां आने वाले लोगों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था भी डेरे की तरफ से की जा रही है। इसी तरह दिव्य ज्योति के हरनामपुरा आश्रम में चार सौ लोगों के ठहरने और खाने की व्यवस्था हो चुकी है। प्रशासन की तरफ से कैनाल रोड पर आसा राम बापू के आश्रम में एक हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था की गई है।
... और पढ़ें

पद्मश्री खालसा के अंतिम संस्कार में डाली थी रुकावट, अब वेरका नगर में शबद कीर्तन नहीं करेंगे रागी

पंथ प्रसिद्ध रागी सिंह निर्मल सिंह खालसा के अंतिम संस्कार का विरोध करने के कारण सिखों की आलोचना झेल रहे वेरका निवासियों के सामने धार्मिक संकट खड़ा हो गया है। शिरोमणि रागी संस्था अमृतसर के अध्यक्ष भाई ओंकार सिंह ने वेरका नगर में किसी भी धार्मिक व अन्य मौकों के कार्यक्रमों में शबद कीर्तन करने का बायकाट करने की घोषणा कर दी है।

वहीं श्री हरमंदिर साहिब के साथ जुड़ी शिरोमणि रागी सभा के रागी भाई कुलदीप सिंह ने कोरोना वायरस से वातावरण ठीक होने के बाद उस स्थान पर गुरुबाणी कीर्तन कर रागी निर्मल सिंह खालसा को श्रद्धांजलि भेंट करने की घोषणा की जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया है।

भाई ओंकार सिंह ने कहा कि जिस प्रकार वेरका निवासियों ने भाई खालसा के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट के दरवाजे बंद कर लिए उससे रागी सिंह के दिलों को गहरी चोट पहुंची है। वेरका निवासियों का कृत्य सिख धर्म के विरुद्ध है। श्री हरमंदिर साहिब के हजूरी रागी के साथ इस प्रकार के दुर्व्यवहार से दुनिया भर के रागी सिंहों में रोष है। ओंकार सिंह ने कहा कि वेरका के पार्षद मास्टर हरपाल सिंह वेरका और नवदीप सिंह हुंदल ने जिस मानसकिता का परिचय दिया है, उससे कई सवाल खड़े हो गए हैं।

रागी सिंह सभी के सांझे हैं। बिना किसी भेदभाव सभी के घरों में कीर्तन कर उनके परिवार की चढ़ती कला की अरदास की जाती है। वेरका निवासियों की इस मानसिकता के कारण शिरोमणि रागी संस्था को भरे मन से यह निर्णय करने पर मजबूर होना पड़ रहा है कि रागी सिंह वेरका नगर के किसी भी समागम में गुरुबाणी कीर्तन नहीं करेंगे। यह निर्णय श्री हरमंदिर साहिब के साथ जुड़े सभी रागी सिंहों ने सर्वसम्मति से किया है।

वेरका निवासियों ने खालसा की यादगार के लिए दो करोड़ की भूमि दी दान
भाई निर्मल सिंह खालसा के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट के दरवाजे बंद कर विरोध करने वाले वेरका निवासियों ने अपनी गलती का अहसास करते हुए वेरका नगर की पंचायत जमीन का नौ कनाल दो मरले का हिस्सा भाई खालसा के नाम कर दिया है। हरपाल सिंह वेरका ने कहा कि दान की गई जमीन की कीमत दो करोड़ रुपये है।

इस जमीन पर भाई खालसा के नाम पर एक संगीत अकादमी या म्यूजियम की स्थापना की जा सकती है। प्रशासन या कोई निजी संस्था इस जमीन पर भाई निर्मल सिंह खालसा के नाम पर कोई यादगार भी बना सकती है। भाई निर्मल सिंह के नाम पर स्थापित की जाने वाली किसी भी संस्था में उन्होंने वेरका के बच्चों को तरजीह देने की बात भी की।
... और पढ़ें

अमृतसरः बुजुर्ग दंपती ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- कोरोना के डर से खत्म कर रहे जीवन

निर्मल सिंह खालसा की अस्थियां एकत्रित करते परिजन
कस्बा बाबा बकाला के गांव सठियाला में एक बुजुर्ग दंपती ने कोरोना वायरस से संक्रमित होने के डर के बाद बुधवार को आत्महत्या कर ली थी। ग्रामीणों के अनुसार अकेले रहने के कारण बुजुर्ग परेशान रहते थे। पहले तो पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई करते हुए शवों को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल बाबा बकाला भेज दिया। बाद में घर की तलाशी के दौरान पुलिस को सुसाइड नोट मिला। जिसमें सामने आया कि उन्होंने कोरोना संक्रमण होने के डर से सुसाइड किया।

इस बुजुर्ग दंपती को सुसाइड किए तीन दिन बीत गए, लेकिन पोस्टमार्टम के लिए गांव की पंचायत को बाबा बकाला से अमृतसर तक धक्के खाने पड़ रहे हैं। सुसाइड नोट मिलने के बाद पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों को शंका है कि कहीं वह कोरोना वायरस से पीड़ित न हों। सुसाइड नोट में लिखा है कि वह पहले ही परेशान थे, कोरोना वायरस के कारण भयभीत हो गए हैं। गांव के सरपंच दलबीर सिंह ने बताया कि शुक्रवार को एसडीएम बाबा बकाला ने बुजुर्ग दंपती के शव भेजे थे।

लेकिन डॉक्टरों द्वारा पोस्टमार्टम नहीं किया गया तो वह सिविल सर्जन डॉ. प्रभदीप कौर जोहल से मिले। उन्होंने दोबारा शवों के पोस्टमार्टम के लिए अमृतसर के डॉक्टरों को पत्र लिखा। जब वह शवों को लेकर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे तो वहां से डॉक्टर जा चुके थे। गांव की पंचायत ने शव दोबारा बाबा बकाला के सिविल अस्पताल में रखवाया। शनिवार को सुबह वह ग्रामीणों के साथ अमृतसर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। हालांकि बाद में शवों का पोस्टमार्टम किया गया और सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं।

थाना ब्यास के एसएचओ किरणदीप सिंह संधू के अनुसार इस बुजुर्ग दंपती ने एक अप्रैल को आत्महत्या की थी। घर की तलाशी के दौरान मिले एक सुसाइड नोट से इस बात की जानकारी मिली है कि बलविंदर सिंह (57) और उनकी पत्नी गुरजिंदर कौर (55) कोरोना वायरस के डर से दहशत में थी कि कहीं उन्हें भी कोरोना वायरस हो गया है। मृतक दंपती की एक लड़की की शादी दिल्ली में हुई है। लड़का ऑस्ट्रेलिया में नौकरी करता है और परिवार सहित वहीं रहता है। गांव के सरपंच के अनुसार दोनों पति-पत्नी सरकारी अध्यापक थे। रिटायर होने के बाद घर में अकेले रह रहे थे।
... और पढ़ें

पंजाब: कोरोना के 11 नए मामले, मोहाली में दो और मानसा में तीन जमाती, संक्रमितों की संख्या 58 हुई

पंजाब में कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या बढ़ने का सिलसिला लगातार जारी है। शुक्रवार को 11 नए मामले सामने आए हैं। इनमें अमृतसर में तीन, मानसा में तीन, मोहाली में दो और लुधियाना, रोपड़ तथा जालंधर में एक-एक संदिग्ध की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस तरह सूबे में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 58 हो गई है। इनमें से पांच लोगों की मौत हो चुकी है।

सेहत विभाग के आंकड़ों के अनुसार, शुक्रवार को तीन पॉजिटिव केस अमृतसर जिले में सामने आए हैं। इनमें दो लोग गुरुवार को दम तोड़ने वाले श्री हरमंदिर साहिब के पूर्व हजूरी रागी पद्मश्री निर्मल सिंह खालसा से जुड़े हुए हैं। उनमें से एक खालसा की चाची, दूसरा हॉरमोनियम पर उनका साथ देने वाला शामिल है। 

तीसरा पॉजिटिव व्यक्ति कढ़ाई का काम करता है। जालंधर में खालसा की बेटी की जांच रिपोर्ट भी कोरोना पॉजटिव आई है। इसके अलावा मानसा में तीन और मोहाली में दो लोगों की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आई है। ये पाचों जमाती दिल्ली के जलसे में शामिल होकर लौटे थे। रोपड़ में भी एक व्यक्ति को कोरोना की पुष्टि हुई है। यह रोपड़ में कोरोना का पहला केस है। सेहत विभाग ने इन सभी नए केसों में पीड़ितों को परिवार वालों को भी क्वारंटीन किया है और उनके सैंपल जांच के लिए भेज दिए हैं।

1381 की रिपोर्ट निगेटिव, 151 का इंतजार
ताजा आंकड़ों के अनुसार, राज्य में अब तक 1585 संदिग्ध रोगियों के सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से 1381 लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। 151 लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।
... और पढ़ें

कोरोना: मोहाली में फंसे लिथुआनिया के नागरिक को 'बजरंगी भाईजान' ने पहुंचाया वतन, बोला- थैक्यू

दुनिया भर में कोरोना महामारी के चलते भारत में लगे कर्फ्यू के दौरान मोहाली में फंसे एक लिथुुआनिया के नागरिक को उसके देश पहुंचाने के लिए पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर ने बड़ी बजरंगी भाईजान की भूमिका निभाई है। पुलिस इंस्पेक्टर के प्रयास से जहां विदेशी युवक अपने देश सकुशल पहुंच पाया है। वहीं, उक्त विदेशी ने अपने देश में जाकर वहां पंजाब पुलिस के प्रयास की प्रशंसा की और भारत के तुरंत कोरोना मुक्त होने की दुआ भी मांगी है।

इस लिथुुआनियन नागरिक ने भारत के लोगों से अपील की है कि कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस बनाए रखें। इस नेक काम को अंजाम देने वाले हैं थाना फेज-8 के एडिशनल एसएचओ सब इंस्पेक्टर अमनदीप सिंह। जी हां अमनदीप सिंह का कहना है कि उन्होंने बस अपना काम किया है। ये ही सच्ची मानवता है और वह आगे भी इसी तरह अपनी ड्यूटी निभाते रहेंगे।

फेज-9 की मार्केट में परेशान घूम रहा था लिथुुआनियन नागरिक आर्थर
एडिशनल एएसचओ अमनदीप सिंह ने बताया कि गत 25 मार्च सुबह करीब साढ़े 9 बजे वह ड्यूटी के दौरान राउंड पर निकले हुए थे। जब वह फेज-9 की मार्केट में पहुंचे तो उन्हें अचानक एक विदेशी युवक दिखाई दिया। जब वह उसके पास गए तो वह फोन पर किसी से बात कर रहा था। जब उन्होंने उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि उसका नाम आर्थर है और वह लिथुुआनिया का रहने वाला है।

भारत में लॉकडाउन की वजह से वह परेशानी में है। उन्होंने उससे पूछा कि वह उसकी क्या सेवा कर सकते है तो आर्थर ने जवाब दिया कि वह अपने देश की अंबेसी से संपर्क कर रहा है। इस पर अमनदीप सिंह ने आर्थर से कहा कि मेरा फोन नंबर नोट कर लो अगर आपकी अंबेसी में बातचीत नहीं हो पाती तो मेरे फोन पर कॉल कर लेना। इसके बाद वह उसे अपना फोन नंबर देकर आ गए।
... और पढ़ें

पंजाब: 2000 लोग हिरासत में, डीजीपी बोले- ड्रोन से हो रही निगरानी, तब्लीगी से लौटे 168 जमाती

दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में हिस्सा लेने गए पंजाब के 168 लोगों की शुक्रवार तक सूबे में लौट आने की जानकारी मिली है। दिल्ली सरकार ने इन 168 लोगों की सूची पंजाब सरकार को सौंपी है, जिनके बारे में पंजाब सरकार का दावा है कि 168 लोगों में से 113 लोगों की पहचान कर ली गई है।

राज्य में 113 जमातियों को उनके पते के आधार पर ढूंढ लिया गया है। बाकी जमातियों की तलाश की जा रही है। शुक्रवार को इनमें से 40 लोगों के सैंपल लिए गए, जिनमें से मोहाली के दो और मानसा के तीन जमाती पॉजिटिव पाए गए हैं। बाकी 35 सैंपलों की रिपोर्ट आना बाकी है।

उल्लेखनीय है कि पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने गुरुवार को कहा था कि पंजाब से लगभग 200 लोग तब्लीगी जमात में हिस्सा लेने के लिए आते जाते रहे हैं। इनके अलावा कई बाहरी राज्यों के लोग भी पंजाब में जमात से जुड़े कार्यक्रमों के लिए आए हैं। राज्य पुलिस इन सब की तलाश कर रही है। डीजीपी का दावा था कि 200 में से 73 लोगों की पहचान कर ली गई है।
... और पढ़ें

पंजाब में किसानों के घर जाकर फसल खरीदने की तैयारी, 22936 करोड़ रुपये सीसीएल मंजूर

कोरोना संकट का मुकाबला करने में व्यस्त पंजाब सरकार इस बार रबी खरीद सीजन के दौरान मंडियों में भीड़भाड़ की स्थिति रोकने को गांवों में जाकर गेहूं खरीदने की तैयारी कर रही है। इनमें उन गांवों को प्राथमिकता दी जाएगी जो मंडियों से 1-2 किमी की दूरी पर स्थित हैं। 

मुख्यमंत्री शुक्रवार को राज्य के कृषि एवं खाद्य विभागों के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हालात की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने गांवों में किसानों तक पहुंच बनाकर गेहूं की खरीद करने का तरीका ढूंढने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह मुख्य सचिव के गेहूं घरों से खरीदकर लाने के प्रस्ताव को स्वीकार करने को तैयार हैं। अगर वह इस संबंध में व्यापक रूप में काम करें। 

मुख्य सचिव ने दिया यह सुझाव
मुख्य सचिव ने सुझाव दिया कि राज्य में 50 प्रतिशत के करीब गांव मंडियों के साथ लगते हैं और वहां के किसानों को मंडी में जाने के लिए तय अवधि के लिए थोड़ी संख्या में कर्फ्यू पास जारी किये जा सकते हैं। मंडियों से दूर गांवों में उन्होंने खरीद के लिए मुलाजिमों को भेजने का सुझाव दिया। उन्होंने यह भी कहा कि आढ़ती जो मौजूदा समय में मंडियों में फसल का प्रबंध कर रहे हैं, को इन गांवों में इस काम का जिम्मा सौंपा जाए।

मंत्रिमंडल की बैठक में होगी खरीद प्रबंधों की समीक्षा
सीएम ने खरीद केंद्रों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ खरीद की अवधि में भी विस्तार के आदेश दिए ताकि यह निश्चित किया जा सके कि मंडियों में किसानों की भीड़ एकत्रित न हो। उन्होंने कहा कि शनिवार को मंत्रिमंडल की मीटिंग के दौरान इन प्रबंधों की फिर से समीक्षा की जाएगी। 
... और पढ़ें

पंजाब: कर्फ्यू के बीच लुधियाना में बड़ी वारदात, ठेके के अंदर सेल्समैन की धारदार हथियार से हत्या

लुधियाना के गांव चपकी स्थित शराब ठेके में गुरुवार देर रात अज्ञात हत्यारों ने सेल्समैन की तेजधार हथियार से हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी वहां से फरार हो गए। घटना का पता शुक्रवार सुबह उस समय चला जब सेल्समैन का साथी वहां पहुंचा। खून से लथपथ शव देख उसने तुरंत इसकी जानकारी मालिकों को दी। 

सूचना मिलते ही थाना सदर की पुलिस मौके पर पहुंची। मृतक की पहचान हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला निवासी रमेश चंद (45) के रूप में हुई है। पुलिस ने जांच के बाद रमेश का शव पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया है। पुलिस ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मामला दर्जकर लिया है। 

थाना सदर के एसएचओ इंस्पेक्टर जगदेव सिंह ने बताया कि रमेश मूलरूप से हिमाचल का रहने वाला है। तीन साल से वह ठेके पर बतौर सेल्समैन काम करता था। इस समय वह गांव चपकी के ठेके पर तैनात था। कुछ समय से लॉकडाउन और कर्फ्यू के कारण वह ठेके पर ही रह रहा था। गुरुवार रात को ठेके के अंदर सोया हुआ था। इसी दौरान अज्ञात हत्यारों ने उसकी हत्या कर दी और फरार हो गए।

इंस्पेक्टर जगदेव सिंह ने बताया कि जांच के दौरान यह पता चला है कि हत्यारों ने रमेश को बातों में लगाकर ठेका खुलवाया। इसके बाद किसी बात को लेकर तेजधार हथियार से उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी वैसे ही ठेका बंद करके चले गए। उन्होंने कहा कि अभी यह भी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि हत्यारों ने रमेश की हत्या क्यों की। 

पुलिस ने रमेश के परिजनों को इसकी सूचना दे दी है। आसपास के सीसीटीवी चेक किए जा रहे हैं। रमेश की कॉल डिटेल भी निकाली जा रही है। जल्द ही आरोपियों का पता लगाकर गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन