विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
चंद्र ग्रहण पर कराएं मंत्रों का जाप , होती है करियर सम्बंधित परेशानियां दूर
Chandra Grahan Special

चंद्र ग्रहण पर कराएं मंत्रों का जाप , होती है करियर सम्बंधित परेशानियां दूर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पंजाब में विश्वविद्यालय और कॉलेजों की परीक्षाएं रद्द, छात्र पिछले साल के अंकों के आधार पर होंगे प्रमोट

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में कोविड संकट के चलते विश्वविद्यालय और कॉलेजों की परीक्षाएं रद्द करने का एलान किया। हालांकि ऑनलाइन परीक्षाएं लेने वाले कुछ विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं बेरोकटोक जारी रहेंगी।

अपने साप्ताहिक फेसबुक लाइव सेशन ‘कैप्टन से सवाल’ के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय और कॉलेजों के विद्यार्थी पिछले साल के नतीजों के आधार पर प्रमोट कर दिए जाएंगे। हालांकि जो विद्यार्थी अपने प्रदर्शन को और सुधारना चाहते हैं उन्हें बाद में जब कोविड संकट दूर हो जाएगा तो नए इम्तिहानों के जरिए मौका दिया जाएगा। 




उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की तरफ से इस फैसले को लागू करने के तरीकों पर काम किया जा रहा है, जिस कारण इस संबंधी विस्तार से फैसले का एलान अगले कुछ दिन में किया जाएगा। स्कूल बोर्ड परीक्षाओं के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य कुछ दिन पहले सुप्रीम कोर्ट में सीबीएसई के फैसले को लागू करेगा। इसके साथ ही कैप्टन ने सभी विद्यार्थियों से अपील की है कि वह अपनी परीक्षाएं रद्द होने के बावजूद पढ़ाई जारी रखें। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा, ‘आप अपने सुनहरे भविष्य के लिए अपनी पढ़ाई जारी रखें।’

पीसीएस बनने के लिए पूर्व सैनिकों को अब छह मौके
बड़ा एलान करते हुए कैप्टन ने कहा कि पूर्व सैनिक उम्मीदवारों के लिए पीसीएस परीक्षाएं में अवसरों का विस्तार कर दिया गया है। मौजूदा व्यवस्था के अनुसार, सामान्य श्रेणी में से एससी उम्मीदवारों को मिल रहे असीमित मौके जारी रहेंगे। साथ ही जनरल श्रेणी के पूर्व सैनिकों को ओवर ऑल जनरल केटेगरी की तरह छह मौके मिलेंगे, जबकि इससे पहले उन्हें चार मौके मिलते थे। ओबीसी श्रेणी के पूर्व सैनिकों के लिए अवसरों को बढ़ाकर 9 कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पीसीएस बनने के इच्छुक पूर्व सैनिकों की तरफ से उनके पास कई आग्रह आए थे कि सामान्य वर्ग जितने मौके उन्हें भी दिए जाएं।
... और पढ़ें
कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो) कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)

पंजाब के निजी स्कूल बोले- 88 फीसदी ही लेंगे ट्यूशन फीस, अभिभावक पहुंचे हाईकोर्ट

फेडरेशन ऑफ प्राइवेट स्कूल्स एंड एसोसिएशन पंजाब ने शनिवार को घोषणा की है कि उनके अंतर्गत आने वाले ऐसे स्कूल जो अकेले ट्यूशन फीस लेते हैं और सालाना फंड नहीं लेते हैं, वे 100 फीसदी के बजाय 88 फीसदी ट्यूशन फीस लेंगे। लेकिन जो स्कूल पूरी ट्यूशन फीस लेते हैं, वह सालाना फंड 100 प्रतिशत के बजाय 70 प्रतिशत ही लेंगे। 

इसके अलावा सभी स्कूल परिवहन शुल्क का 50 प्रतिशत से अधिक शुल्क नहीं लेंगे, ताकि ड्राइवर, कंडक्टर और हेल्पर के वेतन का भुगतान किया जा सके। वहीं, फीस वसूली के पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की सिंगल बेंच के फैसले के खिलाफ अभिभावकों ने अब डबल बेंच में अपील दायर कर दी है। 

चंडीगढ़ प्रेस क्लब में शनिवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में फेडरेशन के प्रधान जगजीत सिंह धूरी ने कहा कि फेडरेशन के सभी सदस्य स्कूल और फेडरेशन से संबंधित एसोसिएशन इस बात के लिए वचनबद्ध हैं कि वे केवल अपने खर्चों की पूर्ति के लिए ही फीस लेंगे। यह समय बच्चों के अभिभावकों के साथ खड़े होने का है। यह फेडरेशन पंजाब के सभी सीबीएसई, आईसीएसई, पीएसईबी स्कूलों और 17 एसोसिएशनों का प्रतिनिधित्व करती है। 
... और पढ़ें

पंजाब में आने से पहले रजिस्ट्रेशन जरूरी, मेडिकल जांच भी कराना होगा, फिर 14 दिन क्वारंटीन

कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब सरकार ने राज्य में दाखिल होने वाले सभी व्यक्तियों के लिए एडवाइजरी जारी की। यह एडवाइजरी 7 जुलाई से राज्य में लागू हो जाएगी। एडवाइजरी में कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति, बालिग हो या नाबालिग, यातायात के किसी भी साधन यानी सड़क, रेल या हवाई यात्रा के जरिये पंजाब पहुंचता है तो सूबे में प्रवेश होते ही उसकी चिकित्सा जांच की जाएगी। ऐसे व्यक्ति को पंजाब आने से पहले एप के जरिये खुद को ई-रजिस्टर करना होगा। अगर पंजाब आने वाले व्यक्ति उपरोक्त एडवाइजरी के तहत निर्देशों का उल्लंघन करेंगे तो उन्हें दंडात्मक कार्रवाई का सामना करना होगा।

एडवाइजरी में बाहरी यात्री के लिए यह हैं हिदायतें
  • अगर व्यक्ति अपने निजी वाहन से पंजाब पहुंच रहा है तो उसे अपने मोबाइल फोन पर कोवा एप डाउनलोड कर अपने समेत, यात्रा में शामिल अपने परिवार के हर सदस्य को रजिस्टर करना होगा। इसके बाद एप पर ई-रजिस्ट्रेशन स्लिप डाउनलोड करके अपने वाहन के सामने वाले शीशे पर लगानी होगी।
  • अगर व्यक्ति सार्वजनिक परिवहन, रेल या हवाई यात्रा से आ रहा है तो उसे मोबाइल पर अपनी ई-रजिस्ट्रेशन स्लिप अपने पास रखनी होगी। या https://cova.punjab.gov.in/registration  पोर्टल पर लॉग-इन करके यात्रा में अपने साथ सभी पारिवारिक सदस्यों का ई-रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • अगर पंजाब आने वाला कोई यात्री ई-रजिस्ट्रेशन के नियम का पालन नहीं करता तो पंजाब में दाखिल होने पर उसे बार्डर, रेल, एयरपोर्ट चेक पोस्ट पर राज्य सरकार की टीम से सहयोग करने को कहा जाएगा, जिसमें यात्री का डाटा लेने की प्रक्रिया मौके पर ही पूरी की जाएगी। चूंकि इस प्रक्रिया में ज्यादा समय लग सकता है इसलिए पंजाब आने वाले लोगों की सुविधा के लिए उन्हें एप डाउनलोड कर खुद ही ई-रजिस्टर कर लेना सुविधाजनक रहेगा।
  • अक्सर आने-जाने वाले यात्रियों को छोड़कर, पंजाब आने वाले सभी व्यक्तियों को राज्य में दाखिल होने के बाद 14 दिन तक स्व-एकांतवास में रहना होगा। इस समय के दौरान उन्हें अपने स्वास्थ्य के बारे में कोवा ऐप पर रोजाना अपडेट करना होगा या 112 पर रोजाना कॉल कर जानकारी देनी होगी। अगर वह महसूस करते हैं कि उनमें कोविड-19 लक्षण पैदा हो रहे हैं तो उन्हें तुरंत 104 पर कॉल करनी होगी। अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को पहले 7 दिन संस्थागत एकांतवास और अगले 7 दिन घरेलू एकांतवास में रहना होगा। 
... और पढ़ें

पन्नू के रेफरेंडम 2020 की निकली हवा, नहीं मिला पंजाबियों का समर्थन

श्री अकाल तख्त साहिब में अरदास कर रेफरेंडम 2020 के लिए मतदाता पंजीकरण की शुरुआत करने की घोषणा करने वाले आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू को पंजाबियों का समर्थन नहीं मिला। एसजीपीसी की टास्क फोर्स रेफरेंडम 2020 के लिए की जाने वाली किसी भी संभावित अरदास के अवसर पर जुटने वाले लोगों को रोकने के प्रति सतर्क थी। 

वहीं, श्री अकाल तख्त में अरदास न कर पाने से बौखलाए आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने एक रूसी पोर्टल के माध्यम से पंजाब में लोगों के लिए ऑनलाइन मतदाता पंजीकरण शुरू करने की घोषणा कर दी। अमर उजाला को मिली एक मेल में पन्नू ने लिखा है कि एक योजना के तहत मतदाता पंजीकरण के लिए रूस के वेब पोर्टल को चुना, क्योंकि रूस आधारित वेबसाइट उपयोगकर्ता के अनुकूल है। यह पोर्टल अंग्रेजी के साथ-साथ पंजाबी भाषा में भी जानकारी प्रदान करता है। 

शनिवार सुबह से ही पुलिस बल के सैकड़ों जवान श्री हरमंदिर साहिब के आसपास के इलाकों में तैनात कर दिए गए थे। सादी वर्दी में पुलिस अधिकारी व जवान सचखंड परिसर विशेष कर श्री अकाल तख्त साहिब प्रांगण में संदिग्ध लोगों पर नजर रखे हुए थे। पुलिस ने सचखंड के बाहर कड़े सुरक्षा प्रबंध किए थे। 
... और पढ़ें

मिशन वंदे भारत के तहत दुबई से 177 और यूएई से 173 भारतीय देश लौटे

गुरपतवंत सिंह पन्नू
मिशन वंदे भारत के अंतर्गत शनिवार को दो उड़ानें मोहाली के चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचीं। इनमें एक उड़ान दुबई से जबकि दूसरी उड़ान यूएई की थी। दुबई से चंडीगढ़ पहुंची इंडिगो एयरलाइंस की उड़ान में 177 भारतीय पहुंचे, जबकि यूएई से स्पाइसजेट एयरलाइंस की उड़ान से 173 भारतीय मोहाली के चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचे। 

यह दोनों स्पेशल उड़ानें मिशन वंदे भारत के तहत दुबई और यूएई से उन भारतीयों को लेकर चंडीगढ़ पहुंची है जो कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान वहां फंस गए थे। यह सभी 350 भारतीय दुबई और यूएई में किसी न किसी काम से वहां गए हुए थे। इनमें से कुछ वहां रह रहे अपने बच्चों से मिलने और कुछ वहां पर्यटन के लिए गए थे। इन दोनों ही उड़ानों में ज्यादातर यात्रियों ने पीपीई किट पहनी थी। 

इन दोनों उड़ानों में पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू, हरियाणा और आसपास के अन्य राज्यों के यात्री शामिल थे। जैसे ही उड़ानें यहां पहुंची तो पंजाब सरकार के स्वास्थ्य विभाग के डाक्टरों ने सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग कर उनका मेडिकल चेकअप किया। 

यहां सभी यात्रियों के लिए सैनिटाइजेशन की व्यवस्था थी और उनके लिए क्वारंटीन होम की सुविधा की हुई है। इसके अलावा जो दूसरे राज्यों को जाने वाले यात्री थे उनकी राज्य सरकार ने उन्हें लेने के लिए यहां टीमें भेजी हुई थीं और वह यात्री अपने-अपने राज्यों को चले गए। चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर दो इंटरनेशनल उड़ानों को देखते हुए शानदार व्यवस्था की हुई थी।
... और पढ़ें

डेरा सच्चा सौदा सिरसा के सात अनुयायी गिरफ्तार, पवित्र ग्रंथ की चोरी व बेअदबी के आरोप

पांच साल पुराने बरगाड़ी बेअदबी मामले से संबंधित तीन घटनाओं की जांच अब डीआईजी जालंधर रेंज रणबीर सिंह खटड़ा की अगुवाई वाली एसआईटी को सौंप दी गई है। जांच मिलते ही एसआईटी ने शुक्रवार रात जिले में कई स्थानों पर छापे मारकर गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से पावन स्वरूप चोरी करने की घटना में डेरा सच्चा सौदा सिरसा से जुड़े 7 अनुयायियों को गिरफ्तार कर लिया। 

कोर्ट ने इनमें से दो की जमानत जारी रखी जबकि शनिवार बाद दोपहर ड्यूटी मजिस्ट्रेट की अदालत में सुखजिंदर सिंह सन्नी, शक्ति सिंह, नीला, रणजीत भोला, निशान, बलजीत और नरेंद्र शर्मा को पेश किया गया। एसआईटी ने सभी के तीन दिन के पुलिस रिमांड की मांग रखी लेकिन सुखजिंदर सिंह सन्नी व शक्ति सिंह के वकीलों ने अदालत को अवगत करवाया कि उन्हें इसी केस में 7 सितंबर 2018 को सीबीआई कोर्ट से जमानत मिल चुकी है। लेकिन पुलिस ने बिना अदालत को सूचित किए केस में धारा बढ़ाते हुए उन्हें गैर कानूनी ढंग से गिरफ्तार किया है। इसके बाद एसआईटी ने दोनों को रिलीज करने का आवेदन दिया और अदालत ने  उनकी जमानत जारी रखी। जबकि नीला, रणजीत भोला, निशान, बलजीत और नरेंद्र शर्मा को 6 जुलाई  तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया। 

सीबीआई ने दे दी थी क्लीन चिट
मालूम हो कि बरगाड़ी कांड से जुड़ी तीनों घटनाओं की जांच तत्कालीन अकाली-भाजपा सरकार ने सीबीआई के हवाले कर दी थी लेकिन लंबी पड़ताल के बावजूद सीबीआई को इन घटनाओं का कोई सुराग नहीं मिल पाया। साल 2018 के दौरान डीआईजी रणबीर सिंह खटड़ा की अगुवाई वाली एसआईटी ने मोगा व बठिंडा से संबंधित बेअदबी मामलों की पड़ताल के दौरान दावा किया था कि बरगाड़ी कांड को डेरा सच्चा सौदा सिरसा के अनुयायियों ने अंजाम दिया है और एसआईटी ने 10 अनुयायियों की पहचान करते हुए अपनी जांच रिपोर्ट सीबीआई को भी सौंपी थी। लेकिन इसके बावजूद सीबीआई ने अपनी पड़ताल के दौरान इन सभी को क्लीन चिट देकर मामले में क्लोजर रिपोर्ट तक पेश कर दी थी। 

डेढ़ साल की लड़ाई के बाद मामले की जांच मिली एसआईटी को
इसके बाद उठे राजनीतिक बवाल के बीच पंजाब सरकार ने विधानसभा में प्रस्ताव पारित करते हुए बरगाड़ी बेअदबी कांड मामले की जांच सीबीआई से वापस लेने की घोषणा कर दी थी और डेढ़ साल तक कानूनी लड़ाई के बाद अब यह केस राज्य सरकार के पास वापस आया है और जांच पंजाब पुलिस की एसआईटी ने शुरू कर दी है। पूर्व में की पड़ताल में शिनाख्त किए गए 10 अनुयायियों में मुख्य आरोपी बनाए गए डेरे की 45 सदस्यीय कमेटी सदस्य मोहिंदर पाल बिट्टू की पिछले साल नाभा जेल में हत्या हो चुकी है। 

तीन एफआईआर हुई थीं
बरगाड़ी कांड मामले में कुल तीन एफआईआर दर्ज हुई थी, जिनमें से सबसे पहले एक जून 2015 को गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से पावन ग्रंथ चोरी किए जाने का मामला था। इसके बाद 24-25 सितंबर की रात को इसी गुरुद्वारे साहिब के आगे भद्दी भाषा में पोस्टर लगाने की घटना सामने आई थी और उसके कुछ समय बाद 12 अक्तूबर 2015 को बरगाड़ी के गुरुद्वारा साहिब के बाहर पावन ग्रंथ की बेअदबी की गई थी।
... और पढ़ें

चंडीगढ़: टमाटर हुआ लाल, सात दिनों में दोगुने हुए दाम, आलू भी आसमान पर

विद्यार्थी ध्यान दें! पंजाब के सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन टेस्ट की डेटशीट बदली, अब इस दिन होंगे

श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाशोत्सव संबंधी सरगर्मियों के मद्देनजर पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों का द्विमासिक मूल्यांकन करने के लिए ऑनलाइन टेस्ट के लिए जारी की गई डेटशीट में बदलाव किया है।

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के अनुसार कोविड-19 की मौजूदा स्थिति के मद्देनजर 6वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों का सब्जेक्टिव टेस्ट टीचर-स्टूडेंट वाट्सएप ग्रुप द्वारा ऑनलाइन लिया जाएगा। ये ऑनलाइन टेस्ट अब 6 जुलाई के बजाय 13 को शुरू होकर 18 जुलाई को खत्म होंगे। इस संबंधी प्रश्न-पत्र हेड ऑफिस द्वारा तैयार करके ऑनलाइन भेजे जाएंगे।

20 अंकों के टेस्ट में ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव दोनों तरह के सवाल होंगे। प्रवक्ता के अनुसार विद्यार्थियों के यह टेस्ट चेक करने के लिए सभी विषयों के अध्यापकों को एक हफ्ते का समय दिया जाएगा। विषयों के अध्यापक कक्षा इंचार्ज के साथ मिलकर विद्यार्थियों के अंकों का रिकॉर्ड तैयार करेंगे।

6वीं से 10वीं कक्षाओं के लिए डेटशीट जारी कर दी गई है, जबकि 11वीं और 12वीं की डेटशीट स्कूल प्रमुख अपने स्तर पर तैयार करेंगे और ऑनलाइन पेपर लेंगे। गौरतलब है कि 6वीं से 12वीं का अप्रैल से मई तक का द्विमासिक सिलेबस टीवी चैनलों, जूम क्लासों, पीडीएफ असाइनमेंटों द्वारा पहले ही भेजा जा चुका है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन