विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कोरोना वायरस: ईरान में 45 दिनों से फंसे 70 भारतीय, जहाज में खाना तक नहीं बचा, सिर्फ मास्क दिए गए

कोरोना वायरस के कारण ईरान में विभिन्न बंदरगाहों पर 70 भारतीय जहाजी फंसे हुए हैं।

29 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

लुधियाना

रविवार, 29 मार्च 2020

कोरोना वायरस: एसएसपी बोले- पिकनिक या तमाशा नहीं, देश संकट में है, यहां पढ़ें- जिलों का हाल

जनता कर्फ्यू के बाद सोमवार को ढील के बाद मानसा प्रशासन ने दोपहर को फिर से सख्ती लागू कर दी। सुबह के समय प्रशासन दवाएं, सब्जी और करियाने की दुकानें खोलने की मोहलत दी थी लेकिन दुकानें बंद करवाकर कर्फ्यू लागू कर दिया गया। इस दौरान मुनादी भी करवाई गई कि कोई व्यक्ति घरों से बाहर नहीं निकलेगा। ऐसा होने पर कानूनी कार्रवाई करने का प्रावधान रखा गया है। 

रविवार व सोमवार को पुलिस ने सड़कों पर निकलने वाले वाहनों के करीब 150 चलान काटे। दूसरी ओर बंद के दौरान जिला प्रशासन व सेहत विभाग कोरोना के संदिग्ध संबंधी जानकारी नहीं दे रहा है। पता चला है कि रविवार शाम गांव दलिएवाली से विदेश से आई एक महिला में उक्त बीमारी के लक्षण पाए जाने पर उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इसके अलावा कुछ पुलिस मुलाजिमों और अन्य संदिग्ध मरीजों का चेकअप भी किया गया है। 

डीसी गुरपाल सिंह चहल, एसडीएम सर्वजीत कौर और एसएसपी डॉ. नरिंदर भार्गव ने बताया कि लोगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए फिर से कर्फ्यू लगाने की जरूरत पड़ी। एसडीएम सर्वजीत कौर ने टीम समेत बाजार का जायजा लिया।
... और पढ़ें

पंजाब में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 21 हुई, 22 की रिपोर्ट का इंतजार

पंजाब सरकार के कठोर प्रयासों के बावजूद प्रदेश में कोरोना वायरस लगातार पांव पसार रहा है। रविवार को प्रदेश में कोरोना से पीड़ित लोगों की संख्या 13 से बढ़कर 21 हो गई। राज्य सरकार की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया है कि प्रदेश में 203 संदिग्ध मामलों के सैंपल लिए गए, जिनमें से 160 लोग नेगेटिव पाए गए हैं। 22 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट का इंतजार है।
 

रविवार को वायरस से पीड़ितों के जो 7 नए मामले सामने आए हैं, उनमें पांच मामले नवांशहर से संबंधित हैं, जिसमें कोरोना के कारण 70 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी। मृतक के पांच और करीबी लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। नवांशहर में जर्मनी से इटली के रास्ते पहुंचे दो लोगों को पॉजिटिव पाए जाने पर आइसोलेशन वार्ड में दाखिल किया गया है।

इन सभी मामलों में पीड़ितों की हालत स्थिर बताई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग में इनके रिश्तेदारों और इनके संपर्क में आए अन्य लोगों को भी घरों में एकांतवास में रखते हुए उनकी निगरानी शुरू कर दी है। इन लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए गए हैं।

कुल पॉजिटिव केस
नवांशहर में 14
मोहाली में चार
होशियारपुर में दो
अमृतसर में एक
... और पढ़ें

बाइक सवारों ने ठेकेदार से की लूट

गांव धनानसू में बनने वाली हीरो साइकिल वैली में ठेकेदारी का काम करने वाले विशाल यादव और उसके साथी बंटू को बाइक सवार तीन युवकों ने रास्ते में रोक कर मारपीट की और हथियार के बल पर चार हजार रुपये, दो मोबाइल फोन सहित अन्य सामान लूट कर फरार हो गए। थाना कूमकलां पुलिस ने विशाल की शिकायत पर तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
गांव धनानसू में हीरो साइकिल की तरफ से साइकिल वैली बनाई जा रही है। विशाल वहां बतौर ठेकेदार काम करता है। 21 मार्च को वह अपने साथी बंटू के साथ बाइक पर सवार होकर किसी काम से जा रहे थे। नवोदय स्कूल के पास बाइक सवार तीन युवकों ने मारपीट कर हथियार के बल पर विशाल से चार हजार रुपय, मोबाइल फोन, चेक और बंटू से मोबाइल फोन छीन लिया। पुलिस आरोपियों का पता लगाने में जुटी है।
... और पढ़ें

मजदूरों के पलायन का दर्द: जाने दो साहब! कोरोना ने तोड़ दिए सपने, परदेस में मरना नहीं चाहते

कोरोना के कहर से पूरा विश्व थम गया है। देश के शहरों व गांवों की सड़कें और गलियां सुनी पड़ी हैं। इसी बीच ट्राइसिटी की फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूर और भूखे प्यासे दिहाड़ीदार सैकड़ों किलोमीटर चलने के लिए बेबस हैं। उनके पास घर में बैठकर कोरोना वायरस से जंग जीतने के लिए कोई विकल्प नहीं है। उनकी जेब में न तो पैसे हैं और न ही खाने के लिए घर में राशन। हां एक बात जरूर है कि कोरोना, संक्रमण और मौत के काउंटडाउन के बीच अपने भविष्य को लेकर वे फिक्रमंद जरूर हैं। पंजाब और हरियाणा के बार्डर से सैकड़ों मजदूर अपने गांव-शहरों की तरफ निकल गए हैं। किसी को 100 तो किसी को 2000 किलोमीटर चलना है, रोजी रोटी का संकट सिर पर है। नंगे पैर, भूखे प्यासे समूहों में ये लोग निकल पड़े हैं। इस आस में पूरे दिन-रात इसलिए चले जा रहे हैं कि किसी तरह वे अपने घर पहुंच जाएं। 
... और पढ़ें
पलायन करते मजदूर पलायन करते मजदूर

नशा छुड़ाओ सेंटर पर दवा लेने पहुंचे नशेड़ियों का हंगामा

कई दिन बाद शनिवार को खुले नशा छुड़ाओ केंद्र पर जमकर हंगामा कटा। मामले की खबर रायकोट से विधायक जगतार सिंह को लगी तो वह भी मौके पर पहुंच गए। नशा छुड़ाओ केंद्र पर तैनात स्टाफ ने विधायक को घेरकर उनसे भी दुर्व्यवहार किया। किसी तरह गाड़ी से निकल उनके सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें अलग किया। विधायक जगतार सिंह ने तुरंत इस घटना की सूचना डीसी प्रदीप अग्रवाल और रूरल एसएसपी को फोन से दी।
जानकारी के अनुसार लॉक डाउन और कर्फ्यू के चलते कुछ दिन से नशा छुड़ाओ केंद्र बंद हो गए हैं। ऐसे में यहां से दवा लेने वाले लोगों को दवा नहीं मिल पाई और वह परेशान हो गए। शनिवार को उन्हें सूचना मिली कि गांव रकबा स्थित टोल टैक्स के पास बने नशा छुड़ाओ केंद्र खुल गया है। आसपास के गांवों से सैकड़ों लोग दवा लेने के लिए पहुंच गए। इतनी संख्या से लोगों को देखकर सेंटर के मुलाजिमों ने दवा लेने वाले कुछ लोगों को गेट के अंदर आने दिया। इसके बाद गेट बंद कर दिया गया। ऐसे में नशा करने वालों के हंगामा शुरू कर दिया। उसी समय रायकोट विधायक जगतार सिंह वहां से गुजर रहे थे। हंगामा होता देख वह भी मौके पर पहुंच गए। जैसे ही वह गेट खोलकर अंदर पहुंचे तो सेंटर पर तैनात मुलाजिमों ने उससे दुर्व्यवहार शुरू दिया। मीडिया कर्मियों से भी सेंटर पर तैनात मुलाजिमों ने दुर्व्यवहार किया।
उधर, इस मामले पर सेंटर पर तैनात डॉक्टर एमडी मलिक ने बताया कि काफी दिन पर शनिवार को सेंटर खुला है। उनके पास सिर्फ एक दिन का दवा स्टॉक बचा है। आगे क्या होगा इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है।
... और पढ़ें

लुधियानाः कर्फ्यू के बीच दीवार फांदकर फरार हो गए चार कैदी, पुलिस अफसरों के हाथ-पैर फूले

ताजपुर रोड स्थित सेंट्रल जेल में बंद एक कैदी और तीन हवालाती शुक्रवार की देर रात दीवार फांदकर फरार हो गए। चारों बैरकों से बाहर निकल स्टेडियम से हेते हुए सेंट्रल जेल और महिला जेल को जोड़ने वाली दीवार फांदकर कंबल नीचे लटका करीब दस फुट से कूद कर भग गए। जेल के चारों तरफ पहरा है और अंदर सीआरपीएफ के मुलाजिम तैनात हैं।। इससे आशंका जताई जा रही है कि चारों को भगाने में किसी न किसी की मिलीभगत है। चारों आरोपियों के फरार होने का पता उस समय चला जब सुबह बंदियों की गिनती होने लगी।

चारों आरोपियों के फरार होने की सूचना मिलते ही जेल सुपरिंटेंडेंट राजीव अरोड़ा और एडीसीपी 4 अजिंदर सिंह पुलिस पार्टी के साथ मौके पर पहुंचे। थाना डिविजन सात पुलिस नेआरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया है। आरोपियों की पहचान हवालाती समराला निवासी रवि कुमार (24), फतेहगढ़ स्थित मंडी गोबिंदगढ़ के रहने वाले हवालाती अमन कुमार उर्फ दीपक, संगरूर के बरनाला रोड स्थित बस्ती अजीत नगर निवासी अर्शदीप सिंह उर्फ शीपा और उत्तरप्रदेश के जिला सुल्तानपुर निवासी कैदी सूरज कुमार के रुप में हुई है।

चारों आरोपी जेल में इकट्ठे ही बंद थे और पिछले काफी समय से अकेले में घूमते रहते थे। किसी को यह आभास नहीं था कि चारों मिल कर भागने की प्लानिंग बना रहे है और मौके की तलाश में है। रोजाना कैदियों और हवालातियों की बैरकों में बंदी होती है और गिनती करने के बाद ही अधिकारी वहां से जाते हैं। शुक्रवार की देर रात को गिनती करने के बाद सभी चले गए। देर रात करीब एक बजे के बाद चारों आरोपी किसी तरह बैरक से बाहर निकले और वह स्टेडियम के रास्ते होते हुए महिला जेल की दीवार चढ़े और वहां से बाहर निकल गए।

चारों ने कंबल को ही रस्सी बना लिया। वह कंबल को बाहर की तरफ लटकाने के बाद उसके सहारे बाहर आए और दस फुट कूद कर फरार हो गए। हैरानी की बात यह है कि जिस तरह से कंबल दीवार के साथ लटका हुआ है, उससे आशंका जताई जा रही है कि बाहर से आरोपियों को सपोर्ट मिला था।
... और पढ़ें

पंजाब: पुलिस और सामाजिक संस्थाएं बनी मसीहा, लोगों तक यूं पहुंचाया खाना, गांवों को अभी भी इंतजार

केंद्र व पंजाब सरकार ने भी देश में लॉकडाउन को लेकर जरूरतमंद लोगों को सुविधा देने का एलान किया है। शुक्रवार को एसएसपी संदीप गोयल ने कर्फ्यू के दौरान पुलिस कर्मचारियों व एनजीओ के सहयोग से जरूरतमंद लोगों को राशन के एक हजार पैकेट बांटे। खाने की सामग्री के ट्रक को महिला पुलिस कांस्टेबल व होमगार्ड के कर्मचारियों से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 

एसएसपी गोयल ने कहा जरूरतमंद परिवारों की पहचान की जा रही है, ताकि उनको भी राशन मुहैया करवाया जा सके। उन्होंने कहा कि अगर आम लोगों को कोई जरूरतमंद दिखाई देता है तो उसकी जानकारी सीधे तौर पर पुलिस को दी जाए या फिर 112 नंबर पर बताया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पैकेट में एक किलो चीनी, एक किलो चावल, एक किलो दाल, दो किला आटा, 250 सो ग्राम चाय पत्ती, नमक एक थैली, मिर्च, हल्दी, सब्जी मसाला, के पैकेट बनाकर एक हजार जरूरतमंद लोगों की पहचान करके हंडिआया व बरनाला में बांटे गए हैं।
... और पढ़ें

अस्पताल से ताया को लेकर आ रहा था 20 वर्षीय युवक, पुलिस ने डंडों से पीटा, धरने पर बैठे

पंजाब पुलिस
रायकोट के एक निजी अस्पताल में दाखिल अपने ताया जगदीश सिंह को छुट्टी करवा घर को ले जा रहे दत्ताहुर के बीस वर्षीय छात्र दिलप्रीत को पुलिस ने डंडों से पीटा। पीड़ित ने परिवार के साथ पिटाई करने के आरोपी थाना सिटी के प्रभारी अमरजीत सिंह गोगी के खिलाफ कार्रवाई के लिए थाना रायकोट के मुख्य द्वार पर धरना प्रदर्शन किया।

रायकोट के टेलीफोन एक्सचेंज चौक पर नाकाबंदी के दौरान गुरुवार को थाना प्रभारी अमरजीत सिंह गोगी ने मोटरसाइकिल पर जा रहे दिलप्रीत को अपने अन्य मुलाजिमों के साथ मिलकर पीटा और पीछे बैठी उसकी तायी कर्मजीत कौर को भी भद्दी गालियां दी। यह सारी घटना चौक में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।
 
इसके वीडियो वायरल होते ही लोगों का पुलिस के खिलाफ गुस्सा भड़क गया। थाना प्रभारी अमरजीत सिंह गोगी ने दिलप्रीत को न ही सिर्फ पीटा बल्कि थाने ले जाकर फिर उसकी जमकर पिटाई की और उसकी पगड़ी उतार कर हवालात में धकेल दिया। लोगों का बढ़ता दबाव देख पुलिस ने सफेद कोरे कागज पर दिलप्रीत के दस्तखत करवा कर उसे छोड़ दिया।
... और पढ़ें

सड़क हादसे में एएसआई की मौत

कोरोना वायरसः लॉकडाउन के फैसले पर कारोबारी पीएम मोदी के साथ, लेकिन पक्के खर्चों से परेशान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 21 दिन के लॉकडाउन के फैसले से पंजाब के लुधियाना जिले के कारोबारी सहमत हैं। पंजाब सरकार की तरफ से कर्फ्यू लगाने के बाद सभी यूनिट लगभग बंद पड़े हैं। कारोबारी खुद मानते हैं कि इस बीमारी से बचने के लिए कोई दवा अब तक नहीं बनी है। ऐसे में लॉकडाउन जैसा फैसला अति जरूरी था। अब कारोबारियों के लिए चिंता का एक ही विषय है कि फैक्टरी बंद होने के बाद उन्हें हर माह पक्के खर्च को वहन करने ही पड़ेंगे।

ऐसे में उनकी सरकार से यही उम्मीद है कि सरकार उन्हें बिजली, मुलाजिमों के वेतन और बैंकों के ब्याज से कुछ राहत जारी करें। कोरोना संक्रमण को देखते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को करदाताओं और कारोबारियों को कुछ राहत देने की घोषणाएं की हैं। इसमें पांच करोड़ से कम टर्नओवर वाली कंपनियों के देरी से जीएसटी फाइलिंग पर ब्याज, जुर्माना और विलंब शुल्क नहीं लेने का फैसला लिया गया है। 

कारोबारी केंद्र सरकार के इस फैसले पर अभी खुश नहीं है। उनका मानना है कि इससे उन्हें कोई फायदा नहीं होने वाला है। पैसा तो उन्हें देना ही पड़ेगा चाहे देरी से देना पड़े। ऐसे में कारोबारियों की एक ही मांग है कि सरकार इंडस्ट्री बंद होने के कारण पड़े रहे पक्के खर्चों पर कुछ राहत दें तभी उन्हें कुछ राहत मिल सकती है। अभी लॉकडाउन कितना समय चलेगा। इस पर भी कुछ नहीं कहा जा सकता है।
... और पढ़ें

गुरुद्वारा फतेहगढ़ साहिब ने सेहत विभाग को सुपुर्द किए 50 कमरे

महान शहीदों की धरती गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब के प्रबंधकों ने कोविड-19 बीमारी से निपटने के लिए जिले के सेहत विभाग को खुलकर सहयोग दिया है। बाकायदा गुरुद्वारा साहिब के मैनेजर नत्था सिंह और हेड ग्रंथी भाई हरपाल सिंह जी ने सिविल सर्जन डा. एनके अग्रवाल से बैठक कर उनको गुरुद्वारा साहिब में बनी 50 कमरों की सराय सुपुर्द की है। ऐसा आपातकालीन परिस्थितियों से निपटने के लिए किया गया है। मैनेजर नत्था सिंह ने बताया कि आज से जिला प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर करोना बीमारी से निपटा जाएगा और इस कठिन घड़ी में गुुरुद्वारा साहिब से यथासंभव मदद भी की जाएगी। बताया कि जिला प्रशासन जहां कहीं भी लंगर पानी की व्यवस्था चाहता है, पूरी की जाएगी। इसके साथ ही गुरुद्वारा साहिब के माता गुजरी जी लंगर हाल में खास तौर पर उन लोगों के लिए लंगर तैयार किया जा रहा है जहां लोग गरीब हैं, जरूरतमंद है। गुरुद्वारा साहिब के कर्मचारी खुद उन गांवों में जाकर लोगों को लंगर बांट रहे हैं। यह सेवा बंद नहीं होने दी जाएगी। आम दिनों की भांति गुरुद्वारा साहिब में अधिक मात्रा में लंगर तैयार करवाया जा रहा है, ताकि कोई रोटी खाय बगैर भूखा न सोए। हम आधी रात को भी लोगों की सेवा में समर्पित रहेंगे। लोगों से अपील कि वह गुरुघर भेजने के लिए हरी सब्जियां व राशन की सेवा जारी रखें।
मैनेजर नत्था सिंह ने यह भी बताया कि गुरुद्वारा साहिब में 50 बेड वाले कमरों की एक सराय पूरी तरह सेहत विभाग को सुुपुर्द कर दी गई है ताकि किसी भी समस्या से मरीजों को कोई परेशानी ना हो। सिविल सर्जन डॉ. एनके अग्रवाल ने बताया कि गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब से हमें पूरा सहयोग मिला है। हमें मरीजों के लिए एंबुलेंस की सेवा भी मिलेगी। साथ ही लंगर-पानी की व्यवस्था गुरु घर से मिल ही रही है। हम एसजीपीसी का धन्यवाद करते हैं।
गुरुद्वारा साहिब के हेड ग्रंथी ज्ञानी हरपाल सिंह ने बताया कि गुरुद्वारा साहिब में करोना वायरस के कारण जगह-जगह सूचना पट्ट लगाए गए हैं। गरीब का मुंह गुरु की गोलक है, जिसे लोगों की भलाई के लिए लगाया जा रहा है। गुरुघर में संगत की आमद कम हो गई है फिर भी आम दिनों की बजाय नितनेम हो रहा है। जो संगत गुरुद्वारा साहिब नहीं आ सकती वह घर पर बैठकर ही सरबत के भले की अरदास जरूर करे।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: पंजाब में ग्रामीणों ने कई गांवों को किया आइसोलेट, नाका लगा आने-जाने पर लगाई पाबंदी

इस समय लोग कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखकर भी अनजान बनकर कर्फ्यू का भी उल्लंघन करने से गुरेज नहीं कर रहे हैं, वहीं पटियाला जिले के नाभा के कुछ गांव ऐसे भी हैं, जिनमें लोगों ने अपने स्तर पर चंदा इकट्ठा करके जहां गांवों को सैनिटाइज किया है। वहीं लोगों में मास्क बांटे हैं। इसके साथ ही गांवों में आने-जाने पर भी पाबंदी लगा दी गई है। नाके लगाकर गांवों के नौजवानों ठीकरी पहरे दे रहे हैं।

नाभा के गांव अगेता के ग्रामीणों ने बाहर के लोगों से दूरी बना ली है। 750 लोगों की आबादी वाले इस गांव में पढ़े-लिखे तो गिनती के हैं लेकिन यहां के लोगों ने कोरोना से निपटने के लिए खुद गांव को बचाने की ठानी है। गांव के किसान हरविंदर सिंह ने बताया कि सभी लोगों ने अपने स्तर पर चंदा इकट्ठा किया और फिर उससे बाजार से सैनिटाइजर लाए और गांव की हर गली, मंदिर, गुरुद्वारे आदि में छिड़काव किया।

लोगों में मास्क भी बांटे गए हैं। साथ ही बताया कि पूरे गांव की सहमति के बाद गांव को नाभा शहर से जोड़ती सभी सड़के खुद ही बैरीकेड लगाकर बंद कर दी हैं। आने-जाने वाले लोगों पर नजर रखी जा रही है। इसके लिए बारी-बारी ठीकरी पहरे दिए जा रहे हैं। 

ऐसा ही कुछ गांव अजनौदा, मांगेवाल और भादसों में भी किया गया है। अगेती की तरह इन गांवों में भी नियम बनाए गए हैं कि इमरजेंसी में दवा लेने गांव से बाहर जा सकते हैं, बशर्ते उन्हें कोरोना वायरस संबंधी रजिस्टर में जाने की वजह, समय और वापसी आने की समय सीमा दर्ज करनी होगी। अगर किसी को कोई जरूरी सामान, नकदी व अन्य कोई दूसरी सेवा चाहिए, तो वह गांव के अंदर मुहैया कराई जाएगी।
... और पढ़ें

लुधियाना में कर्फ्यू तोड़ने पर 22 गिरफ्तार

महानगर की पुलिस ने ऐसे 22 लोगों पर कर्फ्यू तोड़ने का मामला दर्ज किया है जो घरों से निकल कर बिना बात के बैठे थे या फिर बिना इजाजत सामान बेच रहे थे। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
थाना डिवीजन दो पुलिस के मुताबिक जनकपुरी निवासी गुलशन मार्केट बंद होने के बावजूद भी बाजार में आवाजें लगाकर सब्जी बेच रहा था। इसके बाद आरोपी पर मामला दर्ज किया गया। इसी तरह थाना डिवीजन चार की पुलिस ने दरेसी रोड निवासी संजीव कुमार, उसके पिता सुशील कुमार और भाई पर मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार आरोपियों की दरेसी के पास अमूल दूध एजेंसी की दुकान है। आरोपी कर्फ्यू होने के बावजूद दुकान खोल कर सामान बेच रहे थे। इस पर आरोपियों को काबू किया गया। थाना डिवीजन आठ की पुलिस ने घुमारमंडी स्थित प्रेम नगर निवासी दीपक कुमार, हाउसिंग बोर्ड कालोनी निवासी सुकेश कुमार और घुमारमंडी निवासी संजय शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार तीनों आरोपी घुमारमंडी इलाके में आराम से घूम रहे थे। जबकि महानगर में कफ्र्यू के कारण आजादी में घूमने की इजाजत नहीं है।
इसी तरह पुलिस ने न्यू कुंदनपुरी निवासी सन्नी के खिलाफ कर्फ्यू का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया है। थाना माडल टाऊन की पुलिस ने इंद्रा नगर निवासी नवप्रीत सिंह और करतार नगर निवासी सौरव बेदी के खिलाफ कर्फ्यू का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया है। थाना मेहरबान की पुलिस ने माडल कालोनी निवासी बलविंदर कुमार बल्ला और सतीश कुमार के खिलाफ कर्फ्यू का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us