बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
मंगलवार को इन 4 राशिवालों की पलटेगी किस्मत, जेब में आएगा पैसा
Myjyotish

मंगलवार को इन 4 राशिवालों की पलटेगी किस्मत, जेब में आएगा पैसा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा कर रहे आरएसएस जिला संघचालक को मारी गोली, तीन गिरफ्तार

अयोध्या में बनने जा रहे भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा किया जा रहा है। इसी अभियान के तहत राजस्थान के कोटा में भी जिला संघ संचालक दीपक शाह चंदा इकट्ठा कर थे कि मंगलवार को कुछ अज्ञात लोगों ने उन्हें गोली मार दी। कुछ लोगों ने दीपक शाह को चंदा इकट्ठा पर रोक लगाने की चेतावनी दी थी लेकिन दीपक शाह ने यह काम नहीं रोका।

ये घटना कोटा के रामगंज मंडी की है। इस घटना पर तीन आरोपियों को झालवाड़ से गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं दीपक शाह को कोटा के एमबीएस अस्पताल में भर्ती कर दिया गया है। इस हमले के दौरान दीपक शाह को एक गोली पैर में तो दूसरी गोली जांघ पर लगी है। यह घटना देर रात की है.

जिला संघ संचालक दीपक शाह को गोली मारने के बाद आरोपी झालवाड़ की तरफ भागे। कोटा ग्रामीण पुलिस ने उनका पीछा किया और पकड़ लिया। पुलिस ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि जिला संघ संचालक दीपक शाह राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने शाम 6-7 बजे निकले थे। 

इसी बीच तीन बदमाश बाइक पर सवार होकर आए और दीपक शाह पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इस हमले में एक गोली दीपक शाह को पैर पर तो दूसरी गोली जांघ पर लगी। पुलिस ने बताया कि कुछ दिन पहले दीपक शाह को एक हिस्ट्रीशीटर ने धमकी दी थी। दीपक शाह ने इसकी शिकायत पुलिस में की थी। 

इस हिस्ट्रीशीटर का नाम आशु पाया बताया जा रहा है। शाम को दीपक शाह जब चंदा इकट्ठा करने निकले तो आशु पाया ने अपने साथियों के साथ मिलकर दीपक शाह पर गोलीबारी की। फिलहाल दीपक की हालत सामान्य है, बुधवार को पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च भी निकाला। इस घटना के बाद से रामगंज मंडी में हड़कंप मच गया था और घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस की तैनाती और बढ़ा दी है। 
... और पढ़ें

राजस्थान: पेट्रोल ने बनाया 'शतक', श्रीगंगानगर में 101 रुपये प्रति लीटर बिका तेल

कोटा बनेगा दुनिया का दूसरा ट्रैफिक सिग्नल फ्री शहर, मार्च 2022 तक विकास कार्य पूरा करने का बना लक्ष्य

भूटान की राजधानी थिम्पू के बाद देश के एजुकेशन हब कोटा शहर को भी ट्रैफिक सिग्नल फ्री करने की तैयारी चल रही है। यदि ऐसा संभव हुआ तो कोटा दुनिया का दूसरा शहर होगा, जहां ट्रैफिक सिग्नल नहीं होंगे। 

बेहतरीन शहर नियोजन का उदाहरण होगा शहर
बता दें, कोटा को बेहतरीन शहर नियोजन का उदाहरण पेश करने की योजना बनाई गई है। इसके तहत यहां पर कई विकास कार्य कराए जाने की तैयारी चल रही है तो कुछ कार्य प्रगति पर भी हैं। इसी कड़ी में 20 चौराहों वाले इस शहर को पूरी तरह से ट्रैफिक सिग्नल फ्री बनाया जाएगा। साथ ही यहां अंडरपास और ओवरब्रिज बनाने के लिए भी प्लानिंग की जा रही है।

बनारस की तर्ज पर बनाए जाएंगे हेरिटेज रिवर फ्रंट
इस कार्य के अलावा उत्तर प्रदेश के बनारस की तरह ही चंबल के दोनों किनारों पर तीन किमी के दायरे (कोटा बैराज से नयापुरा तक) में हेरिटेज रिवर फ्रंट भी बनाया जा रहा है। यहां पर 30 घाट बनेंगे। इस प्रोजेक्ट पर सरकार की ओर से 700 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। रिवर फ्रंट का डिजाइन हाड़ौती और राजपूताना आर्किटेक्चर पर आधारित होगा, जिसे जयपुर के आर्किटेक्ट अनूप बरतरिया ने डिजाइन किया है।

सैलानियों को हेलीकॉप्टर राइड की भी मिलेगी सुविधा
रिवर फ्रंट के किनारे माता चर्मण्यवती की 40 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई जाएगी। साथ ही क्रूज भी चलेंगे। योजना के अनुसार यहां वाटर पार्क भी बनाया जाएगा। यहां पर 12 देशों का स्ट्रीट फूड, हैंडीक्राफ्ट बाजार और खूबसूरत गार्डन भी होंगे। इन गार्डन में राेशनी का अनूठा डिजाइन नजर आएगा। पेड़ाें पर लाइटिंग होगी, ताकि नाइट लाइफ बेहतर नजर आए। इतना ही नहीं, यहां पर सैलानियों को हेलीकॉप्टर राइड की सुविधा भी मिलेगी ताकि वे कोटा दर्शन सकें। इन विकास कार्यों को शुरू हुआ छह माह बीत चुके हैं, जिसे मार्च 2022 पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

 
... और पढ़ें

कोटा: पत्नी को कुल्हाड़ी से काट डाला, फिर सड़क पर घसीटा शव, 9 माह के बेटे को भी नहीं बख्शा

राजस्थान के कोटा में निर्ममता और बर्बरता का एक मामला सामने आया है। यहां एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी की हत्या करने के बाद उसके शव को सड़क पर कई मीटर तक घसीटा। इस घटना में उसका नौ महीने का बेटा भी गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसकी अस्पताल में मौत हो गई। पुलिस ने बुधवार (2 जून) को इसकी जानकारी दी।

एक जून को देर रात हुई घटना
बताया जा रहा है कि यह घटना मंगलवार (एक जून) रात को रामपुरा इलाके में हुई। पत्नी की हत्या करने के बाद आरोपी ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। 

मामूली बात पर हुआ था झगड़ा
पुलिस उपाधीक्षक राम कल्याण ने बताया कि किसी बात को लेकर झगड़ा होने पर भाटपाड़ा इलाके में रहने वाले सुनील वाल्मीकि उर्फ पिंटू (40) नामक व्यक्ति ने अपनी पत्नी सीमा (35) पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

हत्या के बाद सड़क पर घसीटा शव
पत्नी की हत्या करने के बाद आरोपी सुनील उसके शव को सड़क पर ले गया और उसे करीब 70-80 मीटर तक घसीटा। इससे इलाके में काफी दहशत फैल गई। कुछ देर बाद आरोपी ने शव को सड़क पर ही छोड़ दिया। फिर वह रामपुरा थाने पहुंचा और अपना अपराध स्वीकार कर आत्मसमर्पण कर दिया। 

9 माह के बच्चे की भी मौत
बताया जा रहा है कि इस हादसे में सुनील का 9 महीने का बेटा अविनाश भी गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान बुधवार सुबह उसकी मौत हो गई। यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है कि बच्चे को चोट कैसे लगी। पुलिस ने महिला और बच्चे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। साथ ही, हत्या के कारणों का पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें
राजस्थान पुलिस राजस्थान पुलिस

मजबूरी: एंबुलेंस वाले ने मांगा 35 हजार, कार की सीट पर बेटी की लाश बांध 80 किमी चला पिता

पैसे की भूख ने मानवता को कई बार शर्मसार किया है। इंसानियत के दुश्मन आपदा में भी अवसर खोजने से बाज नहीं आ रहे हैं। कोरोना महामारी की इस विपदा में भी लोग पैसे के लिए किस तरह इंसानियत को तार-तार कर रहे हैं, इसका उदाहरण राजस्थान के कोटा में देखने को मिला। कोटा में एक पिता को कोरोना से जान गंवाने वाली अपनी बेटी की लाश को कार की सीट पर बांधकर 80 किमी दूर झालावाड़ में अपने घर तक ले जाने पर मजबूर होना पड़ा क्योंकि एंबुलेंस वाले ने 35 हजार रुपये की मांग कर दी।

क्या है पूरा मामला? 
मामला राजस्थान के कोटा का है, जहां सोमवार (24 मई) को एक पिता कोरोना से पीड़ित अपनी बेटी की जिंदगी बचाने के लिए उसे न्यू मेडिकल हॉस्पिटल लाया था, लेकिन बेटी नहीं बच पाई। पिता को एंबुलेंस भी नहीं मिला कि वह अपनी बेटी का शव घर ले जा सके। अस्पताल के बाहर खड़ी प्राइवेट एंबुलेंस वालों से जब पिता ने मदद मांगी तो उन्होंने 20 से 35 हजार तक रुपये मांग लिए। इतने पैसे न होने पर अंततः मजबूर पिता ने अपनी बेटी की लाश को कार की सीट पर बांधा और 80 किमी दूर झालावाड़ गया। 

परिजन लाश को खुद अस्पताल से बाहर लाए
34 साल की सीमा की न्यू मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में कोरोना के इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद सीमा के शव को मोर्चरी से अस्पताल के बाहर खड़ी गाड़ी तक लाने के लिए वार्ड ब्वॉय भी नहीं मिले। ऐसे में परिवार वाले ही शव को मोर्चरी से खुद बाहर लेकर आए।

डीएम का बयान
आपको बता दें कि डेड बॉडी को इस तरह ले जाना कोविड प्रोटोकॉल के खिलाफ है, लेकिन मजबूरी में कोई करे भी तो क्या करे? इस मामले में कोटा के डीएम ने कहा, 'हम जांच करवा रहे हैं, प्राइवेट एंबुलेंस वालों पर सख्ती करेंगे।' डीएम का कहना है कि शिकायतकर्ता साफ तौर पर नहीं बता रहा है कि उससे कितने पैसे, किस आदमी ने और किस गाड़ी नंबर ने मांगे? ऐसी स्थिति में आरोपी को पकड़ना मुश्किल है, लेकिन फिर भी हम जांच करेंगे।

प्रशासन ने की करवाई, दो अधिकारी निलंबित
फिलहाल, इस मामले में कोटा नगर निगम के एईएन कपिल और आरटीओ सब इंस्पेक्टर सतवीर सिंह को निलंबित कर दिया गया है और दो संविदा कर्मियों की सेवा भी समाप्त कर दी गई है। इसके साथ ही ज्यादा राशि मांगने वाले अज्ञात एंबुलेंस कर्मी के खिलाफ महावीर नगर थाने में एक एफआईआर भी दर्ज की गई है और दो एंबुलेंस भी सीज की गई है।

... और पढ़ें

चिंता: लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा- गांवों में तेजी से बढ़ रहा कोरोना संक्रमण

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने ग्रामीण इलाकों में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों पर चिंता जताते हुए शुक्रवार को कहा कि कोरोना की पहली लहर में ज्यादातर शहरी इलाके प्रभावित हुए थे मगर दूसरी लहर में गांव तेजी से प्रभावित हो रहे हैं।

उनके अनुसार कई गांवों में तो संक्रमण की दर 25 फीसदी तक पहुंच गई है। बिरला ने गांवों में कोरोना संक्रमितों को उनके घर पर उचित इलाज मिल सके इसके लिए स्वास्थ्य सेवा नेटवर्क तैयार करने पर जोर दिया।

बिरला ने कहा, तबाही वाले हालात हैं, हमें सावधान और सतर्क रहने की जरूरत हैं क्योंकि थोड़ी सी भी लापरवाही की बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। वह अपने निर्वाचन क्षेत्र कोटा-बूंदी के लोगों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मिल रहे थे।

ग्रामीणों को ‘कोरोना वॉरियर स्क्वाड’ बनाने की सलाह
लोकसभा स्पीकर ने ग्रामीणों से वार्ड स्तर पर तीन से पांच सदस्यीय ‘कोरोना वॉरियर स्क्वाड’ बनाने को कहा ताकि अभियान चलाकर लोगों को कोरोना के खिलाफ जागरूक किया जा सके और संक्रमित व्यक्तियों को समय पर आवश्यक दवा और इलाज मिल सके। इससे संक्रमण के फैलाव को रोकने में भी मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि वायरस के संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सामूहिक प्रयास की जरूरत है। ग्रामीणों ने इस दौरान बूंदी जिले में कोरोना जांच के लिए उपकरणों की कमी और जांच रिपोर्ट देर से मिलने की शिकायत की।
... और पढ़ें

राजस्थान: दुष्कर्म के आरोपी ने शिकायतकर्ता के साथ पुलिस थाने में की शादी

राजस्थान के कोटा जिले में सोमवार को दुष्कर्म के एक आरोपी ने शिकायतकर्ता से पुलिस थाने में शादी कर ली। यह जानकारी पुलिस ने दी। दोनों ने पुलिस के हस्तक्षेप की मदद से समझौता किया और उसके बाद शादी का फैसला किया।

कोटा (ग्रामीण) के पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने बताया कि रामगंज मंडी पुलिस थाने परिसर स्थित मंदिर में हुई शादी के दौरान लड़की का भाई और लड़के का पिता मौजूद था और वर-वधू ने एकदूसरे को वरमाला पहनाकर शादी की।

पुलिस ने बताया कि इस महीने की शुरुआत में पीड़िता ने पड़ोसी मोतीलाल के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा-376 के तहत दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराई थी।

दोनों के बीच कथित तौर पर प्रेम संबंध था और मोतीलाल द्वारा शादी से इनकार करने के बाद लड़की ने पुलिस में उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी।

चौधरी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है और यह शादी कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों का अनुपालन करते हुए कराई गई। रामगंज मंडी थाने के प्रभारी हरीश भारती ने बताया कि मामला अदालत में विचाराधीन है।

इस बीच, रामगंज मंडी के उप डिविजनल मजिस्ट्रेट बालकिशन तिवारी ने कोविड-19 के मद्देनजर जोड़े को शादी समारोह आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार किया।
... और पढ़ें

राजस्थान: बंसल क्लासेज के संस्थापक वीके बंसल का निधन, कोटा को बनाया था 'कोचिंग सिटी'

सांकेतिक तस्वीर....
राजस्थान के कोटा शहर से एक दुखद खबर सामने आई है। दरअसल, यहां प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले जाने-माने बंसल क्लासेज के संस्थापक विनोद कुमार बंसल का सोमवार (3 मई) को निधन हो गया। बंसल 70 साल के थे और पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस से संक्रमित थे।

वी के बंसल के निधन पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने ट्वीट कर शोक जताया है। उन्होंने बंसल के निधन को समूचे शैक्षणिक जगत के लिए अपूर्णीय क्षति बताया है।
झांसी में जन्मे बंसल ने लखनऊ में रहकर की थी पढ़ाई
वीके बंसल का जन्म झांसी में हुआ था। उन्होंने लखनऊ में पढ़ाई पूरी करने के बाद कोटा में नौकरी की शुरुआत की और फिर धीरे-धीरे कोटा को दुनियाभर में एजुकेशन सिटी के रूप में पहचान दिलाई। बंसल की मेहनत से जब कोटा को पहला आईआईटियंस और आईआईटी-जेईई का टॉपर मिला तो उसके बाद कोटा कोचिंग हब की प्रसिद्धि बढ़ती गई। और आज 25 साल बाद भी कोटा का जलवा बरकरार है।

फैक्ट्री बंद होने पर कोचिंग सेंटर चलाने लगे थे बंसल
वीके बंसल साल 1981 तक कोटा में जेके सिंथेटिक लिमिटेड नाम की कंपनी में काम करते थे, लेकिन जब फैक्टरी कुछ कारणों से बंद हो गई तब उन्होंने शहर में आठवीं क्लास के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया। इसके चार साल बाद 1985 में अचानक वे तब सुर्खियों में आए जब पहली बार उनके यहां से ट्यूशन लेने वाले एक बच्चे ने आईआईटी-जेईई क्लीयर किया।

साल 1991 में हुई थी  बंसल क्लासेज की शुरुआत
साल 1991 में आईआईटी की तैयारियों के लिए बंसल क्लासेज की शुरुआत हुई। इसके बाद इसी संस्थान में पढ़ाने वाली फैकल्टी ने अलग होकर अन्य कोचिंग संस्थान शुरू किए। आज कोटा में करीब आधा दर्जन से अधिक बड़े संस्थान हैं, जो बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं को क्वालीफाई करने की तैयारी कराते हैं।
... और पढ़ें

खौफनाक: दादा-दादी को कोरोना हुआ तो सताने लगी पोते की चिंता, ट्रेन के आगे कूद दे दी जान

कोरोना संक्रमण के वजह से राेज हजारों लोगों की जान जा रही है। खौफ इतना की कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर लोग खुद ही अपनी जान ले रहे हैं। ऐसा ही एक हादसा रविवार को राजस्थान के कोटा शहर में हुआ। यहां के रहने वाले एक बुजुर्ग दंपति ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। 

दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर मिला दंपति का शव
घटनास्थल पर मौजूद डिप्टी एसपी कोटा सिटी बीएस हिंगड ने मीडिया को बताया कि उन्हें आज दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर मृत बुजुर्ग दंपति के बारे में जानकारी दी गई थी। जानकारी मिलने के तुरंत बाद उन्होंने घटनास्थल पर जाकर आत्महत्या करने वाले बुजुर्ग दंपति के शवों को बरामद किया। पुलिस जांच में यह पता चला कि बुजुर्ग दंपति कोरोना संक्रमित थे और उन्हें इस बात का डर सता रहा था कि कहीं उनकी वजह से उनके परिवार के सदस्यों, खासकर उनके 19 वर्षीय पोते को कुछ न हो जाए। 

आठ साल पहले एक हादसे में खो दिया था बेटा
मृतक के परिवार ने पुलिस को बताया कि आठ साल पहले बुजुर्ग दंपति ने अपने इकलौते बेटे को एक हादसे में खो दिया था, जिसके बाद से ही वे अन्य सदस्यों को खोने के बारे में सोचकर ही डर जाते थे।

... और पढ़ें

कोटा: शराब पिलाई, खाना खाया और कर दिया ट्रिपल मर्डर, लड़की भगाने का विवाद सुलझाने आए थे तीनों

राजस्थान के कोटा जिले से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जिले के खातौली थाना क्षेत्र के बालुपा गांव में तीन लोगों की हत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। ऐसा बताया जा रहा है कि लड़की भगाने के चक्कर में विवाद हुआ और दूसरे पक्ष ने कुल्हाड़ी और धारदार हथियार से हमला बोल दिया। 

इस मामले में दिलचस्प बात यह है कि जिनकी हत्या हुई, वो लोग लड़के पक्ष के पास मामला सुलझाने आए थे। दोनों पक्षों ने साथ मिलकर साथ शराब पी और खाना खाया। इसके बाद अचानक से विवाद शुरू हुआ और लड़के पक्ष के लोगों पर खून सवार हो गया। 

पुलिस की माने तो खातौली थाना क्षेत्र के बालुपा गांव के मोग्या जाति के लोग बूंंदी जिले के दबलाना कस्बा निवासी श्योजीलाल की लड़की को भगाकर ले आए थे। जैसे ही इस मामले के बारे में पता चला, श्योजीलाल, मुकेश और गोपाल बातचीत करने के लिए बालुपा पहुंचे। इस बीच दोनों पक्षों के बीच बातचीत चल रही थी। दोनों पक्षों ने बैठकर साथ में शराब पी और खाना खाया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद गहराने लगा। 

मौके पर मौजूदा हंसराज और उसके साथियों ने कुल्हाड़ी और धारदार हथियार की मदद से हमला कर दिया, जिसके बाद श्योजीलाल, मुकेश और गोपाल ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जबकि महिला अचेतावस्था में मिली थी। यह घटना गांव से दूर सुनसान जंगल की है। 

घटना के बाद पांच-छह घंटे बाद पुलिस को इसकी जानकारी मिली। जैसे ही पुलिस मौके पर पहुंची तो देखा कि एक शव चारपाई पर पड़ा है तो दो शव जमीन पर थे। शवों के आस-पास खून बिखरा हुआ था, जो पूरी तरह से सुख चुका था। इस घटना के बाद से ही हंसराज और उसके साथी फरार हैं। बता दें कि मोग्या जाति के ज्यादातर लोग खेतों में रखवाली का काम करते हैं, इनका स्थायी पता नही होता है।
... और पढ़ें

कोटा: अस्पताल में अचानक रुकी ऑक्सीजन सप्लाई, दो मरीजों ने आधी रात तड़पकर तोड़ा दम

चीन से दुनिया में फैला कोरोना अब अपना विकराल रूप ले चुका है। देश के कई राज्यों में कोरोना से हालात बेकाबू हैं। राजस्थान में कई जगहों पर ऑक्सीजन की किल्लत है और कोविड मरीजों को पर्याप्त बिस्तर नहीं मिल पा रहे हैं। राजस्थान के कोटा से ऑक्सीजन की कमी से दो मरीजों की जान जाने का मामला सामने आया है। 

कोटा के न्यू मेडिकल कॉलेज कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई रुकने से दो मरीजों ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया। मरीज के परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि 19 अप्रैल को आधी रात के बाद करीब एक बजे ऑक्सीजन की सप्लाई रुक गई थी, जिसके चलते अस्पतालों में भर्ती मरीजों की स्थितियां बिगड़ गई।
 

ऑक्सीजन की कमी की वजह से दो मरीजों की जान चली गई, जिसमें एक 40 वर्षीय महिला और पुरुष शामिल है। इस घटना के सामने आने के बाद प्रदेश में हड़कंप मचा हुआ है। परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया है और राज्य सरकार से निष्पक्ष जांच की मांग की है।

वहीं ऐसी जानकारी मिली है कि कोटा के जिस अस्पताल में यह घटना हुई है वहां अतिरिक्त मरीजों का प्रेशर बढ़ गया था। 450 की ऑक्सीजन बिस्तर की क्षमता वाले कोविड अस्पताल में 582 से ज्यादा मरीज भर्ती हो गए थे। यही वजह थी कि ऑक्सीजन सप्लाई पर इसका दबाव पड़ा। 
... और पढ़ें

नृशंस हत्या: नाबालिग ने हिस्ट्रीशीटर पिता को कुल्हाड़ी से काट दिया, रोज-रोज की पिटाई से तंग आकर की वारदात

राजस्थान के कोटा जिले में 16 साल के किशोर ने शुक्रवार तड़के अपने शराबी पिता की कुल्हाड़ी से काटकर नृशंस हत्या कर दी। यह किशोर पिता द्वारा शराब के नशे में उसकी रोज-रोज की जाने वाली पिटाई से तंग आ गया था। 

कोटा जिले के इटावा थाने के एसएचओ बजरंग लाल ने बताया कि घटना तड़के करीब साढ़े तीन बजे हुई। किशोर ने घर से कुल्हाड़ी लेकर अपने पिता पर कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के वक्त घर के अन्य सदस्य दूसरे कमरे में सो रहे थे।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि मरने वाला आबिद अली (45) हिस्ट्री शीटर था और उसके खिलाफ हत्या और लूट सहित 27 आपराधिक मामले दर्ज थे। वह कुछ मामलों में दोषी भी करार दिया गया था और उसे शराब पीने की लत थी।

परिजनों की करता था पिटाई
यह बात भी सामने आई है कि मृतक अली नशे में अपनी पत्नी, दोनों बेटों और बेटी की पिटाई किया करता था। एसएचओ ने बताया कि पहली नजर में मामला यह है कि 10वीं में पढ़ने वाले नाबालिग किशोर ने रोज-रोज की पिटाई से तंग आकर अपने पिता की हत्या कर दी। पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। अली के भाई की शिकायत पर किशोर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया। किशोर को अभी तक पकड़ा नहीं गया है।
... और पढ़ें

राजस्थान : बारां में सांप्रदायिक हिंसा भड़कने के बाद लगाया गया कर्फ्यू , इंटरनेट सेवा निलंबित

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा शहर में दो युवकों को छुरा घोंपे जाने के बाद रविवार को सांप्रदायिक हिंसा फैल गई एवं भीड़ ने दर्जनों वाहन एवं दुकानों में आग लगा दी तथा तोडफोड़ की। प्रशासन ने शहर में कर्फ्यू लगा दिया है एवं इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी है।

पुलिस ने हिंसक भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे लेकिन दो समुदायों के लोग हाथों में डंडे, लोहे की छड़ें एवं हथियार लेकर देर शाम तक उपद्रव करते रहे। उन्होंने एक दमकल गाड़ी में भी आग लगा दी और पुलिस एवं सरकारी वाहनों समेत सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया ।

घटनास्थल पर मौजूद बारां के पुलिस अधीक्षक विनीत बंसल ने कहा, ‘‘ स्थिति तनावपूर्ण है । भीड़ की हिंसा जारी है और हम स्थिति नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।’’ वैसे हिंसा में किसी के हताहत होने की कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आयी है।

अधिकारियों ने बताया कि अतिरिक्त सुरक्षाबलों को बुलाया गया है तथा कोटा रेंज के डीआईजी रवि गौड़ समेत वरिष्ठ अधिकारी हिंसा प्रभावित क्षेत्र में गये हैं। सूत्रों के अनुसार शनिवार शाम को धरनावाड़ा सर्किल में कमल गुर्जर (32) और राकेश धाकड़ (21) को एक अन्य समुदाय के चार पांच युवकों ने हमले में घायल कर दिया था।

घायल युवकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसके बाद उनके परिवारों एवं जाट और गुर्जर समुदायों के सदस्यों ने पांच आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए शनिवार रात को धरनावाड़ा सर्किल पर धरना दिया।

पुलिस ने शनिवार देर रात तीन आरोपियों को पकड़ा जबकि मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई। सूत्रों के अनुसार रविवार सुबह फिर प्रदर्शनकारी प्रदर्शन करने लगे और उन्होंने दुकानें बंद करने की मांग की। जब प्रदर्शनकारियों ने अलीगंज और एजाज नगर से गुजरते हुए व्यापारियों से दुकानें बंद करने को कहा तब हिंसा फैल गयी और वह अन्य क्षेत्रों तक जा पहुंची।

धरनावाड़ा सर्किल, स्टेशन रोड, एजाज नगर और अलीगंज क्षेत्रों में करीब 10-12 दुकानें जला दी गयीं और एक निजी यात्री बस, कारों एवं अन्य वाहनों के साथ-साथ एक दमकलगाड़ी भी आग के हवाले कर दी गयी। बारां के जिलाधिकारी ने छबड़ा के नगरपालिका क्षेत्र में रविवार को शाम चार बजे से कर्फ्यू लगाने का आदेश दिया। अधिकारियों के अनुसार जिले में 13 अप्रैल को शाम चार बजे तक इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us