विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

किसी परिचय के मोहताज नहीं लोक गायक जगदीश

हिमाचली लोक कलाकारों में जगदीश शर्मा किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बंजार के छोटे से गांव के जगदीश युवाओं के बीच खास जगह बना चुके हैं।

16 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

शिमला

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

लॉकडाउन के चलते पर स्टोन फ्रूट पर छाया संकट

ठियोग (रामपुर बुशहर)। विश्वभर में फैली महामारी कोरोना वायरस के चलते
ऊपरी शिमला में इन दिनों किसानों और बागवानों की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। अपने उत्पाद मंडियों तक पहुंचाने के लिए उनकी पैकिंग का सामान न मिलने से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
ऊपरी शिमला में स्टोन फ्रूट लगभग तैयार है और किसानों-बागवानों में इनकी पैकिंग के लिए बॉक्स उपलब्ध न होने के चलते खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऊपरी शिमला में कुछ ही दिनों में स्टोन फ्रूट चेरी मंडियों में जाने के लिए तैयार है, लेकिन इसके लिए
लॉकडाउन के कारण बॉक्स उपलब्ध करवाने वाली दुकानें बंद हैं। इसके चलते बागवानों को अपनी फसल के खराब हो जाने का डर सता रहा है। चेरी की फसल तैयार होने के बाद 2 या 4 दिनों में मंडियों तक पहुंचनी चाहिए अन्यथा वह खराब हो सकती है। उधर, एपीएमसी के अध्यक्ष शिमला किन्नौर नरेश शर्मा ने बताया कि स्टोन फ्रूट को लेकर बागवानों को हो रही दिक्कतों को सरकार के समक्ष रखा जाएगा
और हरसंभव कदम उठाए जाएंगे।
... और पढ़ें

धर्मशाला से 35 अमेरिकी पर्यटक चंडीगढ़ भेजे, 252 लोग अभी भी हिमाचल में फंसे

कोरोना महामारी के चलते हुए लॉकडाउन से देश-विदेश के कई पर्यटक अभी भी हिमाचल में फंसे हैं। हालांकि 35 अमेरिकी पर्यटक मंगलवार को धर्मशाला से दो वोल्वो बसों से चंडीगढ़ भेज दिया गया।

एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने बताया चंडीगढ़ से ये लोग विशेष विमान से अपने देश रवाना होंगे।  इससे पहले भी धर्मशाला और कुल्लू से विदेशी पर्यटकों को भेजा जा चुका है। इसके बावजूद अभी भी 252 पर्यटक हिमाचल में फंसे हैं।

इनमें से 102 विदेशी है। देश में लॉकडाउन के चलते सरकार ने इन्हें प्रदेश के विभिन्न होम स्टे में ठहराया है। पर्यटन निगम इनके खाने-पीने का ध्यान रख रहा है। कांगड़ा जिले से अभी तक 87 विदेशी पर्यटकों को भेजा जा चुका है।
... और पढ़ें

धर्मशाला में ओटी के सामान्य प्लास्टिक गाउन के सहारे कोरोना से लड़ने वाले योद्धा

कोरोना वायरस के खिलाफ एक ओर पूरे विश्व लड़ रहा है। वहीं, जोनल अस्पताल धर्मशाला के कोरोना योद्धा अस्पताल प्रबंधन की अव्यवस्थाओं के चलते हारने लगे हैं। धर्मशाला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में तैनात चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सबसे पहले कर्मचारियों ने अस्पताल प्रबंधन को एक शिकायत पत्र सौंपा। जिसमें कर्मचारियों ने आइसोलेशन वार्ड में सेवाएं देने वाले सभी स्टाफ को पीपीई किट देने की मांग उठाई। उसके बाद मंगलवार को उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति से मिलने उनके कार्यालय पहुंचे।

धर्मशाला अस्पताल के विनोद कुमार, कमलदीप, अनिल कुमार, सुरेंद्र पाल, अजय शर्मा, विजय कुमार, मुनीष व अनूप ने उपायुक्त कांगड़ा के समक्ष अपने बात रखते हुए कहा कि अस्पताल में उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है और सुरक्षा की दृष्टि से उन्हें कुछ नहीं नहीं दिया जा रहा है। आइसोलशेन वार्ड में रखे लोगों को भोजन देने सहित अन्य कामों के लिए भेजा जाता है, लेकिन पीपीई किट नहीं दी जा रही है। उसके स्थान पर ऑपरेशन थियेटर (ओटी) वाला प्लास्टिक का सामान्य गाउन थमा दिया जाता है। ऐसे में उनकी सुरक्षा को कोई प्रबंध नहीं है।

उन्होंने कहा कि पांच अप्रैल को उनके एक साथी की नाइट ड्यूटी थी। रात को ड्यूटी पर तैनात वार्ड सिस्टर में उन्हें बिना पीपीई किट के वार्ड में जाने को कहा। उस समय वार्ड में एक कोरोना पॉजीटिव मरीज भी था, जिसे अभी तक टांडा रेफर नहीं किया गया था। जब कर्मचारी ने बिना किट जाने से इनकार किया तो वार्ड सिस्टर ने फोन करके उसकी अनुपस्थिति दर्ज करवा दी। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि इस संबंध में अस्पताल प्रशासन से बात करके उनके समस्या का समाधान किया जाएगा। वहीं, धर्मशाला अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉ. दिनेश महाजन ने कहा कि आईसोलेशन वार्ड के कर्मचारियों की समस्या को जल्द हल किया जाएगा।
... और पढ़ें

हिमाचल में कोरोना वायरस के नौ नए मामले, 27 पहुंची संक्रमितों की संख्या

हिमाचल में मंगलवार को कोरोना वायरस के नौ नए मामले सामने आए हैं। संक्रमितों में सभी जमातियों के नजदीकी संपर्क में आए लोग हैं। सभी कोरोना पॉजिटिव ऊना के हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने इसकी पुष्टि की है। मंगलवार को प्रदेश में 79 नमूनों की जांच की गई। इनमें से 70 की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई। वहीं नौ की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। टांडा मेडिकल कॉलेज में 51 नमूनों की जांच की गई। इस तरह राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 27 पहुंच गई है। इनमें 11 जमाती हैं। वहीं, ऊना में कर्फ्यू को पूरी तरह लागू कर दिया गया है। किसी तरह की कोई ढील नहीं दी जाएगी। पॉजिटिव मामले सामने आते ही टास्क फोर्स डीसी कार्यालय ऊना पहुंची। चंबा जिले में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। 

वहीं,14 दिन क्वारंटीन में रहने और उसके बाद अब 20 दिन होने पर भी चंबा के चार मरीजों में कोरोना के लक्षण सामने नहीं आ रहे हैं। हालांकि, एहतियातन लिए गए सैंपलों में इनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। चारों पॉजिटिव मरीजों को अब नेरचौक मेडिकल कॉलेज में रखा है। चंबा जिले के चुराह क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले चारों जमातियों में 14 दिन में लक्षण सामने नहीं आने से थ्योरी पर सवाल उठ रहे हैं। 

सर्किट हाउस चंबा में आयोजित प्रेसवार्ता में जिलाधीश चंबा विवेक भाटिया ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की नौ पंचायतों और सलूणी क्षेत्र की सात पंचायतों को सीज किया गया है। जिले के साहो, पल्यूर क्षेत्र के तीन मदरसों को छोड़कर सभी मस्जिदों और मदरसे खाली करवा दिए हैं। इन मदरसों में सामाजिक दूरी सहित अन्य हिदायतें जारी करने के बारे में निर्देश जारी किए हैं। 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस कोरोना वायरस

Coronavirus Lockdown in HP: सीएम से लेकर सभी विधायकों के वेतन में कटौती

हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में मंगलवार को ओकओवर में मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित हुई। कोविड-19 के चलते पहली बार बैठक में मुख्यमंत्री व तीन मंत्री तो ओकओवर में मौजूद थे, लेकिन बाकी मंत्रियों ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से बैठक में भाग लिया। बैठक में कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए बड़ा फैसला लिया।

आर्थिक हालात के मद्देनजर केंद्र सरकार की तर्ज पर हिमाचल कैबिनेट ने फैसला लिया कि प्रदेश में सीएम जयराम ठाकुर से लेकर विधानसभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सभी मंत्रियों-विधायकों के अलावा बोर्ड-निगमों के चेयरमैन और वाइस चेयरमैन को एक साल तक 30 फीसदी कम वेतन मिलेगा। बैठक में मुख्यमंत्री के साथ ओकओवर में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी और कृषि मंत्री रामलाल मारकंडा मौजूद थे।

सिंचाई मंत्री महेंद्र सिंह, पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर, उद्योग मंत्री बिक्रम ठाकुर और परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से बैठक में हिस्सा लिया। बैठक में यह भी फैसला लिया कि अगले दो साल तक एमएलए फंड को हिमाचल प्रदेश कोविड सॉलिडेरिटी फंड में खर्च होगा। शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस संबंध में सरकार जल्द अध्यादेश लाएगी। बाद में हालात सामान्य होने पर इसे वापस किया जा सकता है।

विधायकों के भत्तों में कटौती पर केंद्र जो फैसला लेगा, हिमाचल भी उसे लागू करेगा। हालांकि श्रेणी एक और दो स्तर के अधिकारियों के वेतन में कटौती का अभी विचार नहीं है। भारद्वाज ने बताया कि वर्तमान में विधायक निधि एक करोड़ 75 लाख रुपये है। कुछ राज्यों ने जरूर सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कटौती की है। जरूरत पड़ने पर हिमाचल भी इस पर निर्णय लेगा। बता दें केंद्र सरकार ने राष्ट्रपति से लेकर प्रधानमंत्री, मंत्रियों और सभी सांसदों के वेतन में 30 फीसदी कटौती का फैसला लिया है।
... और पढ़ें

हिमाचल: चंबा के चारों पॉजिटिव मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं, पढ़ें पूरा मामला

कोरोना वायरस के लक्षण सामने की निर्धारित अवधि के बाद भी क्वारंटीन किए गए चंबा के चार लोगों में लक्षण सामने नहीं आए, लेकिन चारों की सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अमूमन 14 दिनों में कोरोना वायरस के लक्षण सामने आ जाते हैं। चंबा जिले के चुराह क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले चारों जमाती इसका उदाहरण हैं। क्वारंटीन में रहने के बीस दिनों के बाद इन लोगों की सैंपलों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

सर्किट हाउस चंबा में आयोजित प्रेसवार्ता में जिलाधीश चंबा विवेक भाटिया ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की नौ पंचायतों और सलूणी क्षेत्र की सात पंचायतों को सीज किया गया है। जिले के साहो, पल्यूर क्षेत्र के तीन मदरसों को छोड़कर सभी मस्जिदों और मदरसे खाली करवा दिए हैं। इन मदरसों में सोशल डिस्टेंस सहित अन्य हिदायतें जारी करने के बारे में निर्देश जारी किए हैं। 
... और पढ़ें

हिमाचल: पठानकोट से सरकारी, चंबा से निजी बस में पल्यूर पहुंचा पॉजिटिव जमाती

कोरोना वायरस के खिलाफ छिड़ी जंग को जीतने के लिए प्रशासन द्वारा व्यापक प्रयास किए जा रहे हैं। इसी के तहत प्रशासन ने हिमाचल के कांगड़ा के पॉजिटिव पाए गए जमाती का यात्रा इतिहास जारी किया है। मरीज 17 मार्च को सरकारी बस में पठानकोट से चंबा पहुंचा। न्यू बस स्टैंड चंबा पहुंचने के बाद चंबा-साहो रूट पर दौड़ने वाली निजी बस से वह पल्यूर पहुंचा। 

इस दौरान पॉजिटिव जमाती के संपर्क में कई यात्री आए हैं। प्रशासन अब संपर्क में आने वाले यात्रियों की तलाश में जुट गया है। पुलिस की ओर से इन बसों में सफर करने वाले यात्रियों से स्वयं स्वास्थ्य केंद्र में जाकर जांच करवाने की अपील की है।  जानकारी के अनुसार 17 मार्च को हिमाचल पथ परिवहन निगम चंबा की बस नंबर एचपी 73-2628 पठानकोट से चंबा के लिए सुबह 10:40 बजे रवाना हुई। इस बस में यह जमाती सवार था। यह बस दोपहर को न्यू बस स्टैंड चंबा पहुंची।

उसी दिन शाम को 04:40 बजे एक निजी बस (शिवा बस सर्विसेस) नंबर एचपी 73 1156 चंबा से पल्यूर के लिए रवाना हुई, जिसमें मरीज पल्यूर पहुंचा। इन बसों में जिला चंबा के बहुत से यात्रियों ने सफर किया था। एसपी चंबा डॉ. मोनिका ने इन बसों में सफर करने वाले यात्रियों से स्वास्थ्य जांच की अपील की है। साथ ही स्वास्थ्य संबंधित जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर 104 या पुलिस नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नंबर 01899-225899 पर संपर्क करने की अपील की है। 
... और पढ़ें

अलर्ट के बीच रोहतांग में बर्फबारी, शिमला में बारिश और ओलावृष्टि

तीसा का क्वारंटीन केंद्र
येलो अलर्ट के बीच रोहतांग समेत हिमाचल के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मंगलवार को फिर बर्फबारी हुई। राजधानी शिमला में दोपहर बाद बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई। दोपहर साढ़े तीन बजे के बाद प्रदेश के कई अन्य क्षेत्रों में भी बादल बरसे। कुल्लू, चंबा, लाहौल और किन्नौर के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा बर्फबारी होने से तापमान में गिरावट दर्ज हुई है।

प्रदेश में दो दिन तक साफ रहे मौसम के बाद दोबारा से ठंडक बढ़ गई है।  मंगलवार दोपहर बाद रोहतांग दर्रा सहित लाहौल-स्पीति की ऊंची चोटियों ने सफेद चादर ओढ़ ली है। बीआरओ के रोहतांग बहाली का काम भी प्रभावित हो गया। पर्यटन स्थल मनाली के साथ कुल्लू, बंजार, मणिकर्ण में गरज के साथ बारिश हुई। सोमवार रात को चंडीगढ़-मनाली हाइवे तीन स्थित वामतट में भूस्खलन होने से करीब चार घंटे बाधित रहा।

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश के सभी क्षेत्रों में बुधवार और गुरुवार को भी मौसम खराब रहेगा। मैदानी और मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश-ओलावृष्टि और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी होने का पूर्वानुमान है। 10 अप्रैल से पूरे प्रदेश में मौसम साफ रहने की संभावना जताई गई है। 
... और पढ़ें

निजी अस्पताल में इंजेक्शन लगाने के बाद बच्चे की मौत, परिजनों का हंगामा

हिमाचल के ऊना जिले के भंजाल में सोमवार रात 12 साल के बच्चे की निजी अस्पताल में इंजेक्शन लगाने के बाद मौत हो गई। इससे परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया। अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया कि गलत इंजेक्शन लगाने से उनके बच्चे की मौत हुई है। रितिक (12) पुत्र राकेश कुमार, गांव भंजाल घर में खेलते हुए गिर गया। इसे इलाज के लिए निजी अस्पताल में ले जाया गया।

बच्चे को कूल्हे के पास गंभीर चोट लगी थी। चिकित्सक ने उसका ऑपरेशन करने के लिए कहा और इंजेक्शन लगाया। इसी बीच बच्चे की तबीयत और बिगड़ गई और उसे रेफर कर दिया। उसे गगरेट के सरकारी अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल पहुंचने के दस मिनट बाद ही बच्चे की मौत हो गई। परिजनों ने बच्चे की मौत के लिए निजी अस्पताल के चिकित्सक पर इलाज में लापरवाही करने का आरोप लगाया कि चिकित्सक ने जो इंजेक्शन लगाया, उसकी वजह से बच्चे की मौत हो गई।

मृतक बच्चे के परिजन रात को ही निजी चिकित्सक की गिरफ्तारी को लेकर नागरिक अस्पताल गगरेट में हंगामा करते रहे। उधर, पुलिस ने मौके पर पहुंच कर परिजनों को शांत करवाया और शव को कब्जे में लेकर मामले की छानबीन शुरू कर दी। वहीं, थाना प्रभारी गगरेट हरनाम सिंह ने बताया कि बच्चे के शव को कब्जे में लिया है और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस पूरे मामले की निष्पक्षता से जांच कर रही है।
... और पढ़ें

कोरोना पॉजिटिवों के साथ बस में सवार थे हमीरपुर के 33 लोग, कांगड़ा में 47 के लिए सैंपल

हिमाचल पथ परिवहन निगम की जिस बस में कोरोना पॉजिटिव लोग सवार थे, उसी बस में हमीरपुर जिला के 33 यात्रियों के भी सवार होने की सूचना मिली है। इसके बाद हमीरपुर के लोगों में हड़कंप है। लोग अपने आस पड़ोस के लोगों से इस बस में यात्रा करने बारे पूछताछ कर रहे हैं। वहीं जिला प्रशासन ने इस बस में यात्रा करने वाले सभी यात्रियों को स्थानीय प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को सूचना देने के निर्देश दिए हैं।

अभी तक जिला में कोरोना वायरस से संक्रमित होने का एक भी मामला नहीं है। जिला प्रशासन समय-समय पर कर्फ्यू और लॉकडाउन नियमों का सख्ती से पालन करवाने के लिए प्रयासरत है। उपायुक्त हरिकेश मीणा ने कहा कि 18 मार्च 2020 को हिमाचल पथ परिवहन निगम नालागढ़ डिपो की एक बस नंबर एचपी-12-0446 दिल्ली से वाया नालागढ़ होकर हमीरपुर के लिए सायं 9.15 बजे रवाना हुई थी।

यह बस 19 मार्च  को प्रात: नालागढ़ पहुंची थी। जिसमें दिल्ली से हमीरपुर तक कुल 121 यात्रियों ने यात्रा की है। कुल यात्रियों में से जिला हमीरपुर के 33 यात्रियों ने इस बस में यात्रा की है। 33 व्यक्तियों की पहचान की जा रही है। यदि किसी व्यक्ति को इन यात्रियों के बारे में जानकारी हो अथवा संबंधित व्यक्ति स्वयं दूरभाष संख्या 104, 1077 अथवा 01972-222222 पर भी संपर्क कर जानकारी प्रदान कर सकता है।
... और पढ़ें

Coronavirus: घर-घर जाकर प्राप्त की 41 लाख लोगों के स्वास्थ्य की जानकारी

हिमाचल सरकार ने राज्य की आधे से ज्यादा आबादी का स्वास्थ्य विवरण जुटाने का दावा किया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में शुरू सक्रिय मामला खोज अभियान के तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ता की ओर से घर-घर जाकर 41 लाख व्यक्तियों की स्वास्थ्य जानकारी प्राप्त की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सर्जिकल मास्क, हैंड सैनिटाइजर देने के पर्याप्त प्रबंध किए जाने चाहिए। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कोरोना वायरस के दृष्टिगत मंगलवार को शिमला से प्रदेश के सभी उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की।

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने तब्लीगी जमात के कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के नजदीकी लोगों का पता लगाने के लिए बड़ा अभियान आरंभ करने के निर्देश दिए, जिससे यह वायरस आगे न फैल सके। उन्होंने कहा कि इन व्यक्तियों को चिकित्सा जांच करवाने तक क्वारंटीन में रखा जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने लोगों से आग्रह किया कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए अपने क्षेत्रों में ऐसे व्यक्तियों को चिन्हित करने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार यात्रा का ब्योरा छिपाने वाले व्यक्तियों व उन्हें आश्रय देने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। जयराम ठाकुर ने कहा कि जिला सोलन के बद्दी क्षेत्र में स्थित ईएसआई अस्पताल को कोविड-19 के पॉजीटिव रोगियों की चिकित्सा के लिए अधिसूचित किया है। इस अस्पताल में सोलन और सिरमौर जिलों के रोगियों को चिकित्सा प्रदान की जाएगी। 

कर्फ्यू के दौरान कोई कोताही नहीं बरती जाएगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्फ्यू के दौरान कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। वाहनों की आवाजाही को भी सीमित किया जाना चाहिए। यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि लोग कर्फ्यू में दी ढील के दौरान जरूरी घरों से बाहर न निकलें। जयराम ठाकुर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जरूरी वस्तुओं को कर्फ्यू में ढील के दौरान उपलब्ध करवाया जाए, जिससे लोगों को असुविधा न हो। उन्होंने कहा कि होम डिलीवरी सिस्टम को सुदृढ़ दिया जाएगा, जिससे लोगों को जरूरी वस्तुओं के लिए घरों से बाहर न आना पड़े। उन्होंने कहा कि जमाखोरी और मुनाफाखोरी को रोकने और दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने पर बल दिया।
... और पढ़ें

हिमाचल में 421 जमाती क्वारंटीन, चार कोरोना पॉजिटिव ने ट्रेन से किया था सफर

हिमाचल में मंगलवार को 88 और जमातियों को चिह्नित किया गया है जिनका दिल्ली स्थित तब्लीगी जमात से संपर्क रहा है। चिह्नित किए गए लोगों में कुछ लोग वे भी हैं, जो जमातियों के नजदीकी हैं और पॉजिटिव आए मरीजों के संपर्क में आए थे। इन सभी को क्वारंटीन कर लिया गया है। प्रदेश के डीजीपी सीताराम मरडी ने बताया कि अभी तक कुल  421 जमाती के साथ उनके परिजन और संपर्क में आने वाले लोग क्वारंटीन किए गए हैं। बताया कि चंबा के तीसा के चारों कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने 20 मार्च को ट्रेन से सफर किया था।

यह जानकारी आने के बाद इस बात की तस्दीक की जा रही है कि ट्रेन कब पहुंची और ये चारों किस गाड़ी से तीसा पहुंचे। बताया कि अभी तक की जांच में यह पता चला है कि 172 तब्लीगी पिछले मार्च महीने में अलग-अलग अवधि के दौरान दिल्ली स्थित तब्लीगी जमात गए थे। कहा कि वर्तमान में 97 जमातियों के खिलाफ सूचना छिपाने के आरोप में 20 एफआईआर दर्ज की गई हैं। उल्लेखनीय है कि बीते सोमवार को तब्लीगी जमात के 92 लोग सामने आए हैं।

उन्होंने कहा कि लगातार लोगों से अपील की जा रही है कि वह कर्फ्यू के दौरान मिलने वाली छूट का दुरुपयोग न करें लेकिन लोग मान नहीं रहे जिसकी वजह से सख्ती करनी पड़ रही है। अभी तक 331 वाहनों को सीज किया गया है और करीब 3.16 लाख रुपये बतौर जुर्माना वसूला गया है। सबसे ज्यादा ऊना में अब तक 14 लोगों के खिलाफ पांच मामले दर्ज किए गए हैं। बद्दी में 45 लोगों के खिलाफ 2, बिलासुपर में 5 के खिलाफ 2, चंबा में 8 लोगों के खिलाफ एक मामला, कांगड़ा में एक व्यक्ति के खिलाफ एक मामला, मंडी में सात लोगों के खिलाफ चार मामले, शिमला में पंद्रह के खिलाफ तीन मामले, सिरमौर में दो लोगों के खिलाफ दो मामले दर्ज किए गए हैं।
... और पढ़ें

शराब बेचने पर ग्रामीणों का हंगामा, सेल्समैन समेत दो लोगों को ठेके में किया बंद

हिमाचल के हमीरपुर जिले के उपमंडल बड़सर में कर्फ्यू के दौरान चोरी-छिपे ऊंची दरों पर शराब की बिक्री का खेल जारी है। बड़ाग्रां पंचायत में खुले ठेके में चोरी-छिपे शराब बेची जा रही थी। इसके चलते सोमवार देर रात को ग्रामीणों ने हंगामा कर दिया। इसकी सूचना दियोटसिद्ध पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ठेके को बंद करवा दिया। कर्फ्यू के दौरान ग्राम पंचायत बड़ाग्रां में खुले शराब के ठेके में कई दिनों से शराब चोरी-छिपे बेची जा रही थी।

ग्रामीणों का आरोप है कि क्षेत्र में ठेके पर चोरी-छिपे शराब बेचकर चांदी कूटी जा रही है, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही। इससे गुस्साए ग्रामीणों ने खुद ही मोर्चा संभाल लिया। ग्रामीणों ने सोमवार देर रात को ठेके के सेल्समैन और एक अन्य व्यक्ति को ठेके के अंदर बंद कर दिया। इसकी सूचना ग्रामीणों ने दियोटसिद्ध पुलिस चौकी को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई करते हुए सेल्समैन के खिलाफ मामला दर्ज कर ठेके को बंद करवा दिया। पुलिस ने ठेके से शराब बेचने के मामले में सेल्समैन के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

इससे पहले उपमंडल भोरंज के अंतर्गत खतरवाड़ और बडैहर शराब ठेके पर भी सरेआम शराब की बिक्री पर पुलिस और आबकारी विभाग ने सख्त कार्रवाई की थी। डीएसपी बड़सर जसवीर ठाकुर ने कहा कि पुलिस ने बड़ाग्रां में शराब ठेके के सेल्समैन के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम और भादंसं की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा इस मामले की छानबीन की जा रही है। सहायक आबकारी एवं राज्य कर आयुक्त चेतराम ठाकुर ने कहा कि बड़ाग्रां शराब ठेके के स्टॉक को सूचीबद्ध करने के बाद शराब ठेके को बंद करवा दिया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर मंडी स्थित संयुक्त आयुक्त  के पास भेजी जाएगी।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us