बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन,  दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें
Myjyotish

इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन, दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हमीरपुर की निधि डोगरा बनी योग में सूबे की ब्रांड एंबेसडर

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चौरी की निधि डोगरा को एबीबाईएम योग वर्ल्ड बुक के सीईओ राकेश भारद्वाज ने योग का प्रचार प्रसार करने के लिए हिमाचल प्रदेश...

11 जून 2021

विज्ञापन
Digital Edition

हिमाचल: गुड़िया दुष्कर्म हत्या मामले में दोषी को आजीवन कारावास की सजा

हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला के बहुचर्चित गुड़िया दुष्कर्म और हत्या मामले में कोर्ट ने दोषी अनिल उर्फ नीलू को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। शुक्रवार को जिला एवं सत्र न्यायालय परिसर चक्कर में विशेष अदालत में सुनवाई हुई। सीबीआई द्वारा पेश किए गए चलान को आधार मानते हुए कोर्ट ने दोषी नीलू को उम्र कैद की सजा सुनाई। दुष्कर्म मामले में उम्र कैद (टिल फॉर नैचुरल डेथ) और हत्या मामले में उम्र कैद और 10 हजार जुर्माना की सजा सुनाई गई है। इस पूरे मामले में दोषी खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए एक ही गवाह पेश कर पाया।

विशेष अदालत ने अनिल को 28 अप्रैल को दोषी करार दिया था। कोरोना कर्फ्यू की बंदिशों के चलते आरोपी को न्यायालय लाना मुश्किल हो रहा था। इससे पहले बीते मंगलवार को नीलू की सजा पर सुनवाई की प्रक्रिया पूरी हो गई थी। बता दें कि जिला शिमला के कोटखाई की एक छात्रा 4 जुलाई, 2017 को लापता हो गई थी। 6 जुलाई को कोटखाई के तांदी के जंगल में पीड़िता का शव मिला। जांच में पाया गया कि छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी।
... और पढ़ें
दोषी नीलू- फाइल फोटो दोषी नीलू- फाइल फोटो

पूछताछ में शामिल नहीं हुए भारती, कोविड बताया कारण

एक वायरल पत्र को अपने फेसबुक अकाउंट से पोस्ट करने के आरोप में घिरे पूर्व सीपीएस नीरज भारती शुक्रवार को साइबर क्राइम पुलिस के सामने पेश नहीं हुए। इसके पीछे उन्होंने ई-मेल के जरिये पोस्ट कोविड परेशानियों का हवाला दिया है। कहा है कि उनके परिवार के कई लोग हाल ही में कोरोना संक्रमित हुए थे, ऐसे में वह भी अस्वस्थ होने के कारण शिमला नहीं आ सके।

साथ ही अगली तारीख देने के लिए कहा है। उनकी इस ई-मेल के बाद अब जांच अधिकारी भारती को बुलाने के लिए अगली तारीख तय कर रहे हैं। एडिशनल एसपी साइबर क्राइम नरवीर राठौर ने बताया कि अब उन्हें पूछताछ में शामिल करने के लिए अगली तारीख दी जाएगी। 

साइबर क्राइम पुलिस थाने में भाजपा की एक नेता की शिकायत पर भारती और पत्र लिखने वाले पवन राणा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। आरोप है कि एक वायरल पत्र को सोशल मीडिया पर प्रसारित किया गया और दुष्प्रचार किया गया। शिकायत के आधार पर साइबर क्राइम पुलिस ने भारती को नोटिस भेजकर 18 जून को पूछताछ में शामिल होने के लिए बुलाया था। इसके साथ ही पुलिस डिजिटल साक्ष्य भी जुटाने में लग गई है।
... और पढ़ें

एक ही परीक्षा के लिए दो बार चुकानी पड़ रही फीस

आईटीआई के प्रशिक्षुओं को एक ही परीक्षा की दो बार फीस चुकानी पड़ रही है। प्रशिक्षुओं ने वर्ष 2019 में रि-अपीयर की परीक्षाओं के लिए आवेदन किया था। यह परीक्षा वर्ष 2020 में होनी थी। कोरोना के कारण रि-अपीयर की परीक्षाएं नहीं हो सकीं। उस समय प्रशिक्षुओं ने संस्थानों में जाकर फीस जमा करवा दी। लेकिन प्रशिक्षुओं की परीक्षा नहीं हो पाई। अब जब दोबारा से रि-अपीयर की परीक्षाएं भरी जा रही हैं तो औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान विद्यार्थियों को दोबारा से फीस जमा करवाने को कह रहे हैं।

जिससे विद्यार्थियों को आर्थिक बोझ झेलना पड़ रहा है। रि-अपीयर की परीक्षाओं के लिए प्रशिक्षुओं को 410 रुपये फीस जमा करवानी पड़ती है। प्रशिक्षुओं रित्विक, गुरप्रीत, शुभम, मनीष ने कहा कि एक बार फीस जमा करवा दी थी।  कोरोना के कारण परीक्षा नहीं हो सकी। तकनीकी शिक्षा बोर्ड के सचिव राज कुमार ने कहा कि जिन प्रशिक्षुओं ने रि-अपीयर परीक्षा नहीं दी थी, उनसे फीस नहीं ली जा रही। जबकि जिन विद्यार्थियों को रि-अपीयर आया है उन्हीं से फीस ली जा रही है।
... और पढ़ें

पहाड़ी से चट्टानें गिरने से ग्रांफू-काजा हाईवे फिर बंद

सांकेतिक तस्वीर
जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति होकर स्पीति के समदो स्थित चीन सीमा को जोडऩे वाले ग्रांफू-काजा हाईवे 505 फिर भूस्खलन से बंद हो गया है। पहाड़ी से चट्टाने गिरने से हाईवे पर कुछ वाहन भी फंसे होने की सूचना है। बीआरओ अपनी मशीनरी के साथ हाईवे को बहाल करने में जुटा है। सुरक्षा की दृष्टि से यातायात के लिए यह मार्ग अति संवेदनशील है।

खासकर कोकसर से कुछ दूर से यह मार्ग चंद्रनदी होकर निकलता है। वहीं इस क्षेत्र में पहाड़ी दरकने के साथ डोहनीनाला समेत कई ऐसे प्वाइंट है जहां भूस्खलन का खतरा बना रहता है। मौसम साफ रहने पर भी इस हाईवे पर सफर करना आसान नहीं है। वहीं रोहतांग दर्रा के साथ बारालाचा, कुंजुम दर्रा सहित लाहौल की ऊंची पहाडिय़ोंं में ताजा बर्फबारी हुई है।

मनाली-लेह मार्ग भी अभी यातायात के लिए नहीं खुला है। मनाली से लेह जाने वाले वाहन अभी दारचा के आसपास फंसे है। गुरुवार रात को जिला कुल्लू में भारी बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। ब्यास के साथ नदी नालों का जलस्तर बढ़ गया है।
... और पढ़ें

मुंबई के युवक से पकड़ी एक किलो 259 ग्राम चरस

कोरोना कर्फ्यू की आड़ में नशे की तस्करी को अंजाम दिया जा रहा है। कुल्लू पुलिस ने भुंतर के साथ लगते सिउंड मोड़ पर मुंबई के एक युवक को एक किलो 259 ग्राम चरस के साथ पकड़ा है। आरोपी टैक्सी में सवार होकर नशे को मुंबई लेकर जाने की फिराक में था। इससे पहले ही कुल्लू पुलिस ने उसे दबोच लिया। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने गुरुवार रात पौने एक बजे भुंतर के समीप सिउंड मोड़ पर नाका लगाया था। इस दौरान पुलिस ने सामने से आ रही एक टैक्सी को रोका। इसमें सवार महाराष्ट्र के युवक से पुलिस ने पूछताछ की।

तलाशी के दौरान आरोपी मोहम्मद अली 20, निवासी गुरदर्शन सोसाइटी, अंधेरी बेस्ट, मुंबई के कब्जे से एक किलो 259 ग्राम चरस बरामद हुई। पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह ने कहा कि आरोपी से पूछताछ चल रही है। आरोपी को कोर्ट में पेश किया जाएगा। 
... और पढ़ें

हिमाचल : चपरासी की सरकारी नौकरी छोड़ शुरू की औषधीय पौधों की खेती, अब 150 लोगों को दिया रोजगार

दुर्लभ औषधीय पौधों के संरक्षण और खेती के प्रति ललक में सेईकोठी निवासी लोभी राम ने कृषि विभाग में अनुबंध पर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की 1500 रुपये की नौकरी छोड़ दी। वर्तमान में लोभी राम महाराष्ट्र, किन्नौर, पुणे, दिल्ली, कोलकाता, बंगलूरू में फार्मा, दवाई सहित अन्य कंपनियों को औषधीय पौधों (जड़ी-बूटियों) का निर्यात कर मोटी कमाई कर रहे हैं। इतना ही नहीं, प्रदेश सरकार के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के समक्ष मनाली में आठ करोड़ का एमओयू भी साइन कर चुके हैं। 

लोभी राम लाहौल, कुल्लू, पांगी, जम्मू-भद्रवाह और चुराह में जड़ी-बूटियां उगाने का कार्य कर रहे हैं। औषधीय पौधों की खेती के तहत 150 लोगों को रोजगार भी दिया है। लोभी राम ने कहा कि वर्ष 1999 में उन्होंने कृषि विभाग में अपनी नौकरी छोड़ कर औषधीय खेती करने का निर्णय लिया। सर्वप्रथम उन्होंने अपने खेतों में ही औषधीय पौधे उगाए। धीरे-धीरे गांव में आसपास की जमीन लीज पर लेकर औषधीय पौधे उगाना शुरू किया।

जिसमें आयुर्वेदिक विभाग का भी उन्हें भरपूर सहयोग मिलता रहा। वर्तमान समय में 400 बीघा जमीन पर औषधीय पौधों की खेती कर रहे हैं। वर्ष 2018 में मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में मनाली में हुए सेमीनार में दुर्लभ औषधीय, हर्बल, एरोमेटिक पौधों की खेती करने संबंधी एमओयू भी साइन किया जा चुका है। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अमित शाह की अगुवाई में धर्मशाला में इन्वेस्टर मीट में भी उनके कार्य को सराहा गया।

एमओयू के तहत लाहौल, कुल्लू, पांगी, जम्मू, चुराह में भी औषधीय खेती करने के बारे में लोगों को जागरूक करते हुए कार्य किया जा रहा है। लोभी राम के इस कार्य में उनका बेटा संजय कुमार जरयाल का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। जमा दो पास करने के बाद सरकारी नौकरी करने के बजाय उन्होंने दुर्लभ जड़ी-बूटियों के संरक्षण करने का मन बनाया, जिससे आने वाली पीढ़ियां भी आयुर्वेद ज्ञान व लाभ ले सकें। 

लोभी राम इनकी कर रहे हैं खेती
लोभी राम वर्तमान समय में मुशकबाला, सुंगधबाला, जटामारती, नागछतरी, शिव जटा, शिव जूडी, अतीश-पतीश, बनक्कड़ी, कुटकी इत्यादि औषधीय पौधों की खेती कर रहे हैं। पिछले वर्ष बारिश न होने से लोभी राम की खेतों में लगाई गई जड़ी-बूटियां सूख गईं, जिससे दस लाख रुपये का नुकसान हो गया। नालों व खड्डों के सूखने से जड़ी-बूटियों की सिंचाई तक नहीं हो पाई। 

सेईकोठी निवासी कृषक लोभी राम औषधीय पौधों की खेती कर लाभ अर्जित कर रहे हैं। उन्होंने 150 लोगों को रोजगार भी दिया है। राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए लोभी राम का नाम विभाग द्वारा नामांकित किया गया है। - डॉ. अनिल गर्ग, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी 
... और पढ़ें

शिक्षा में बदलाव के लिए हिमाचल को मिल सकते हैं 750 करोड़

कोरोना संकट के बीच हिमाचल प्रदेश में शिक्षा में बदलाव के लिए केंद्र सरकार से 750 करोड़ का बजट मिल सकता है। 20 जून के बाद प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड (पीएबी) की सिफारिश पर केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय प्रदेश के लिए राशि स्वीकृत करेगा। बीते दिनों हुई पीएबी की ऑनलाइन बैठक में शिक्षा विभाग ने केंद्र को 1600 करोड़ की विभिन्न योजनाओं का प्रस्ताव दिया है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि इस वर्ष करीब 750 करोड़ का बजट मिलने की उम्मीद है।

वोकेशनल शिक्षा, प्री प्राइमरी शिक्षा, आईसीटी लैब, रोबोटिक शिक्षा और कम्यूनिकेशन स्किल बढ़ाने पर इस वर्ष बजट को खर्च किया जाएगा। शिक्षा विभाग के प्रस्ताव के मुताबिक आईसीटी (कंप्यूटर) लैब का दायरा बढ़ाया जाना अब बहुत जरूरी हो गया है। केंद्र से सभी सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में लैब बनाने की मांग की गई है। प्रदेश में अभी 3840 प्री प्राइमरी स्कूल चल रहे हैं। इनकी संख्या और 950 बढ़ाने का प्रस्ताव रखा गया।

विद्यार्थियों के कम्यूनिकेशन स्किल बढ़ाने के लिए लैब बनाने को बजट मांगा गया है। शिक्षा विभाग ने इस बार एक नई पहल करते हुए वोकेशनल हब एंड स्कोप लैब बनाने की पेशकश भी केंद्र सरकार के समक्ष रखी है। इसके तहत बड़े स्तर पर कुछ जगहों में लैब का निर्माण किया जाएगा। आसपास के स्कूलों के विद्यार्थियों को सप्ताह में दो-दो दिन यहां बुलाया जाएगा। इसके लिए ट्रांसपोर्ट खर्च भी विभाग ही वहन करेगा। यहां विद्यार्थियों के कौशल को निखारने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। हर घर पाठशाला कार्यक्रम को और अधिक विस्तार देने के लिए भी बजट मांगा गया है।
... और पढ़ें

बंदिशें कम होते ही एचपीयू में शिक्षक भर्ती ने पकड़ी रफ्तार

कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें कम होते ही हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में शिक्षक भर्ती प्रक्रिया ने रफ्तार पकड़ ली है। हालांकि, अभी प्रदेश सरकार ने शिक्षण संस्थानों को खोलने पर फैसला नहीं लिया है। 14 जून को 50 फीसदी स्टाफ बुलाने और बाहरी राज्यों से बिना निगेटिव रिपोर्ट प्रदेश में आने का फैसला आने के बाद विवि ने 15 जून से फिजिक्स विभाग के साक्षात्कार शुरू करवा दिए। 15 और 16 जून को साक्षात्कार की प्रक्रिया पूरी कर 16 को ही चार शिक्षकों के लिफाफे भी खोल दिए गए।

भर्ती को लेकर विश्वविद्यालय इतना गंभीर है कि भर्ती शाखा में शेष विभागों के शिक्षकों की भर्ती के लिए छंटनी प्रक्रिया भी जोर-शोर से चल रही है। विवि 25 जून तक साक्षात्कार का शेड्यूल तय कर भर्ती प्रक्रिया को जल्द निपटाने की कोशिश में है। भर्ती की इस प्रक्रिया में छंटनी व अन्य कार्य के लिए शिक्षक गैर शिक्षक बुलाए जा रहे हैं। तय साक्षात्कार के शेड्यूल के मुताबिक वीरवार, शुक्रवार और शनिवार को कॉमर्स  विभाग के शिक्षकों के लिए साक्षात्कार की प्रक्रिया चलेगी।

इनके लिफाफे भी 19 जून को ही खोलने की तैयारी है। यही नहीं, 20 और 21 जून को अर्थशास्त्र विभाग के शिक्षकों के साक्षात्कार रखे गए हैं। 22 और 23 जून को इतिहास विभाग, 24 और 25 जून को बायो साइंस विभाग के साक्षात्कार करवाए जाने हैं। शिक्षकों के पदों की भर्ती को रहे इन साक्षात्कारों में प्रदेश और प्रदेश के बाहर के उम्मीदवार भी भाग लेने पहुंच रहे हैं। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us