विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तर प्रदेश

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

आगरा से 10 कोरोना मरीज वृंदावन शिफ्ट किए जाने का विरोध, सांसद हेमा मालिनी तक पहुंची बात

आगरा से 10 कोरोना मरीजों को वृंदावन के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में शिफ्ट किए जाने का विरोध शुरू हो गया है। इसे लेकर तीर्थनगरी के लोगों और संतों में आक्रोश है। उन्होंने कोरोना संक्रमितों को यहां भर्ती किए जाने का विरोध किया है। संतों ने शुक्रवार को जिलाधिकारी से भी बात की है। 
संतों का कहना है कि कोरोना मरीजों के आने से तीर्थनगरी में संक्रमण फैलने का खतरा है। इनका इलाज वृंदावन से बाहर होना चाहिए। कार्ष्णि नागेंद्र महाराज व महामंडलेश्वर नवल गिरि ने बताया कि जिलाधिकारी ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही इन मरीजों को यहां से शिफ्ट कर दिया जाएगा।

हेमा मालिनी ने डीएम और मंडलायुक्त से की बात

वृंदावन के लोगों ने भी जिले की सांसद हेमा मालिनी से फोन पर इस संबंध में बात की। स्थानीय लोगों ने कोरोना मरीजों को सीएचसी के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किए जाने का विरोध करते हुए कहीं और शिफ्ट करने की मांग की है। 
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: गुड फ्राइडे के दिन लोगों ने घर में ही की प्रार्थनाएं, सरधना के एतिहासिक चर्च पर लटका रहा ताला, तस्वीरें

लाकडॉउन बढ़ा तो सर्दियों में ही बजेगी शहनाई, यहां देखें- वर्ष के बचे विवाह मुहूर्त

मेरठ में हॉटस्पॉट इलाकों की ड्रॉन से निगरानी, यूपी में 427 हुई संक्रमितों की संख्या

यूपी में कोरोनोवायरस यूपी में कोरोनोवायरस

अब घर बैठे पाएं बिजली का बिल और करें भुगतान, नई सुविधा का हुआ शुभारंभ

राजधानी लखनऊ में लॉकडाउन के दौरान लोगों को बिजली का बिल जमा करने के लिए ऑनलाइन केंद्रों पर ना जाना पड़े इसके लिए ई-सुविधा ने नई सुविधा को शुभारंभ किया है।

इसके तहत उपभोक्ता ई-सुविधा के लिंक पर क्लिक करके अपने वर्तमान बिल की रकम की जानकारी हासिल करके उसी लिंक के जरिए भुगतान भी कर सकते हैं। बिल भुगतान की रसीद उपभोक्ता लॉकडाउन खुलने के बाद किसी भी बिलिंग केंद्र से हासिल कर सकते हैं।

यह जानकारी ई-सुविधा की कोऑर्डिनेटर श्वेता एवं राहुल पुरवार ने संयुक्त रूप से दी। ये लिंक है
mobile.esuvidhamitra.com

उपभोक्ता को इस लिंक पर अपने बिजली कनेक्शन के 10 अंक के विद्युत खाता संख्या और मोबाइल नंबर फीड करना पड़ेगा। इसके चंद मिनट बाद ही बिजली बिल की धनराशि मोबाइल पर दिखने लगेगी।
... और पढ़ें

चित्रकूट: अवैध शराब बिक्री की सूचना पर पहुंची पुलिस पर पथराव, थाना प्रभारी व दो सिपाही जख्मी

उत्तर प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री का मेदांता में हुआ निधन, लंबे समय से थे बीमार

उत्तर प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी का शुक्रवार सुबह लखनऊ स्थित मेदांता हॉस्पिटल में निधन हो गया। उनकी उम्र  78 वर्ष थी और वह काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। इनके निधन की सूचना मिलते ही शहर में शोक की लहर दौड़ गई।

बता दें कि पूर्व गृह मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी वर्ष 1971-72 में तत्कालीन मुख्यमंत्री टीएन सिंह (त्रिभुवन नारायण सिंह ) को मानीराम विधानसभा से चुनाव हरा दिया था। इस हार की वजह से तत्कालीन मुख्यमंत्री टीएन सिंह को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

इसके बाद पंडित कमलापति त्रिपाठी को मुख्यमंत्री बनाया गया जिनकी सरकार में पंडित रामकृष्ण द्विवेदी गृह मंत्री बने थे। उन्होंने एनएसयूआई व यूथ कांग्रेस समेत कांग्रेस के अन्य संगठनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

रामकृष्ण द्विवेदी के निधन पर प्रदेश महासचिव विश्वविजय सिंह एवं जिलाध्यक्ष निर्मला पासवान ने कांग्रेस के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये शोक संवेदना प्रकट की। बता दें कि मूल रूप से गोरखपुर जनपद के राप्ती एवं रोहिन के बीच स्थित भंडारों गांव के निवासी पंडित रामकृष्ण द्विवेदी दो बार विधान परिषद सदस्य भी रहे हैं।  
... और पढ़ें

यूपी सरकार ने 4 लाख 81 हजार श्रमिकों के लिए जारी किया भरण पोषण भत्ता

उत्तर प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी। (File)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपने पांच कालिदास मार्ग स्थित सरकार आवास से प्रदेश के 4 लाख 81 हजार 755 श्रमिकों के लिए भरण पोषण भत्ता जारी कर दिया। उन्होंने चिह्नित किए गए प्रत्येक श्रमिक के खाते में एक-एक हजार रुपये डीबीटी के माध्यम से ट्रांसफर कर दिए।

डीबीटी के माध्यम से सरकार ने स्ट्रीट वेंडर, ऑटो चालक, रिक्शा चालक, ई-रिक्शा चालक और पल्लेदारों के बैंक खाते में 48,17,55,000 रुपए की धनराशि भेजी।





इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अलग-अलग जनपदों के लाभार्थियों से बातचीत भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते प्रदेश में लॉकडाउन है जिससे गरीब वर्ग के लोगों को भोजन और भरण-पोषण भत्ता सरकार मुहैया करवा रही है। इसमें रेहड़ी वाले, ठेला वाले, खोमचा वाले, रिक्शा वाले, ई-रिक्शा चालकों और पल्लेदारों को 1 हजार रुपये का भरण-पोषण भत्ता सरकार की तरफ से उनके बैंक खाते में भेजा जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने प्रदेश के 35 लाख मजदूरों के खाते में भरण-पोषण भत्ता भेजने का निर्णय लिया है। जिसके तहत 11 लाख से अधिक निर्माण श्रमिकों के बैंक खाते में एक हजार रुपए भेजे जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि मनरेगा मजदूरों का मानदेय बढ़ाकर भुगतान किया जा रहा है। प्रदेश में 1.65 करोड़ से ज्यादा अन्त्योदय योजना, मनरेगा और श्रम विभाग में पंजीकृत निर्माण श्रमिक एवं दिहाड़ी मजदूरों को एक माह का निशुल्क राशन भी मुहैया करवाया जा रहा है।
... और पढ़ें

WWE के रिंग में भदोही के लाल रिंकू सिंह ने कनेडियन जोड़ी को चंद मिनटों में किया चित 

डब्ल्यूडब्ल्यूई वर्ल्ड रेसलिंग प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे भदोही जिले की ज्ञानपुर तहसील के होलपुर के रिंकू सिंह और सौरव गुर्जर की इंडस शेर टीम ने कनाडा की ईवर राइज के दो पहलवानों को पटकनी दे दी। रिंकू की जबर्दस्त फाइट देखकर जिले के लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं है। उनके घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। 

कालीन नगरी के छोटे से गांव होलपुर से निकलकर सात समंदर पार अमेरिका पहुंचने वाले जिले के लाल रिंकू सिंह के पंच से विदेशी पहलवान चंद मिनटों में ही चित हो रहे हैं। बृहस्पतिवार को डब्ल्यूडब्ल्यूई की रिंग में कनेडियन पहलवानों की जोड़ी को हराकर रिंकू ने अगले दौर में प्रवेश किया। मूलरूप से भदोही जिले के होलपुर गांव निवासी रिंकू को दशक भर पहले तब पहचान मिली थी, जब उन्होंने अमेरिका में बेसबॉल खेला। उस समय देश में बेसबॉल में कम लोग ही रुचि दिखाते थे।

यह रिंकू वही हैं, जिनके जीवन पर डिज्नी ने ‘द मिलियन डॉलर आर्म’ नाम से फिल्म बनाई थी। अब फिर रिंकू सिंह देश का नाम वैश्विक स्तर पर ऊंचा कर रहे हैं। डब्ल्यूडब्ल्यूई का नाम आते ही हमारे देश के खली यानी दिलीप सिंह राणा का नाम हर भारतीय के जेहन में आ जाता है और अब रिंकू भी डब्ल्यूडब्ल्यूई में भारत की पहचान बन गए हैं।

छह फिट तीन इंच लंबे और 102 किलोग्राम वजनी रिंकू ने दुबई में अप्रैल 2017 में डब्ल्यूडब्ल्यूई चयन प्रशिक्षण में भाग लिया था। रिंकू एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। रिंकू के पिता ब्रह्मदीन सिंह पेशे से एक ट्रक ड्राइवर थे और उन्होंने ड्राइविंग कर रिंकू का पालन-पोषण किया।
 
... और पढ़ें

कोरोना वॉरियर्स: किसी के हाथों की मेहंदी नहीं छूटी, कोई बना रहा मास्क, पढि़ए इन योद्धाओं की कहानियां

कोरोना के संकट से इस समय पूरा देश जूझ रहा है, लेकिन ऐसे वक्त में भी तमाम लोग निस्वार्थ भाव से अपनी ड्यूटी करने में लगे हैं। वास्तव में ये लोग ऐसे कोरोना योद्धा हैं जिन्हें अपने फर्ज के आगे अपने जीवन की भी चिंता नहीं है। इस संकट के समय में ऐसे लोगों की लोग सराहना कर रहे हैं।

कोरोना के इस युद्ध में एक सैनिक की तरह लड़ रहीं नर्स सोनम गुप्ता की कहानी कुछ अलग है। उनकी 16 जनवरी को ही शादी हुई है। ससुराल सौ किलोमीटर दूर कानपुर में है। शादी के बाद ससुराल में 15 दिन ही बीते थे कि सोनम ने दो फरवरी को ड्यूटी ज्वॉइन कर ली। 

कोरोना संकट आते ही फरवरी के अंत में उनकी ड्यूटी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र फफूंद से दिबियापुर सीएचसी में लगाने का फरमान आया। उन्होंने अपने सास-ससुर और पति हिमांशु को इस बारे में बताया। उन्हें समझाया कि 14 दिन की ड्यूटी के बाद 14 दिन का क्वारंटीन पीरियड है। लगभग एक माह की दूरी। साथ ही खतरा भी।

सोनम के जज्बातों में कोरोना के इस युद्ध में सिपाही की जिम्मेदारी भी झलक रही थी। ससुराल वालों ने उन्हें रजामंदी दे दी। दो अप्रैल से वह आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी कर रही हैं। यहां कस्बे में मिले चार कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज भी हुआ है। सोनम कहती हैं कि हमने उनके इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी। अब सभी मरीजों को कानपुर भेज दिया गया है। खास बात यह है कि सोनम का मायका अस्पताल से 500 मीटर की दूरी पर ही है। वह वहां भी नहीं जा सकती हैं। न ही कोई उनसे मिलने जा सकता है। वह अपने पति से वीडियो कॉलिंग से बात कर मन को तसल्ली दे देती हैं।
 
... और पढ़ें

फतेहपुर: अपहरण के बाद किशोरी की हत्या, गेहूं के खेत में मिला शव, दुष्कर्म की आशंका

फतेहपुर जिले के औंग थाना क्षेत्र में 14 वर्षीय किशोरी का शव गांव के ही बगल में गेहूं के खेत में गुरुवार देर रात एक बजे पुलिस ने बरामद किया है। किशोरी 8 अप्रैल की रात को घर से अचानक लापता हो गई थी। परिजन लोकलाज के डर से मामले को दबाए थे। अचानक गांव के ही संदिग्ध आरोपी के गुरुवार रात दिखाई देने पर परिजनों ने पुलिस को सूचना दी।

पुलिस ने संदिग्ध को पकड़ा। संदिग्ध आरोपी अजय ने शव को बरामद कराया। पुलिस आरोपी से पूछताछ में जुटी है। पुलिस ने आरोपी और उसके पिता के खिलाफ  हत्या, शव छिपाने, अपहरण की रिपोर्ट दर्ज की है। मामले में दुष्कर्म की भी आशंका जताई जा रही है।

पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा, पुलिस उपाधीक्षक योगेंद्र मलिक मौके पर पहुंचे। थानेदार नागेंद्र नागर ने बताया थाने में लापता होने की कोई सूचना नहीं दी थी। सूचना मिलने के बाद कार्रवाई की गई है।
... और पढ़ें

परिषदीय स्कूलों के छात्र भी कर रहे ऑनलाइन पढ़ाई, व्हॉट्सएप के जरिए दिया जा रहा होम वर्क

लॉकडाउन के चलते परिषदीय स्कूलों में भी ऑनलाइन पढ़ाई शुरू करा दी गई है। कुछ स्कूलों के शिक्षकों ने व्हॉट्सएप ग्रुप बना रखा है, जिसपर बच्चों के अभिभावक हैं। उसके जरिये बच्चों को असाइनमेंट दिए जा रहे हैं।

बीकेटी स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय गोयला के शिक्षक सुरेश जायसवाल, रत्ना चौरसिया, कमलेश कुमारी और नीलम मिश्रा गणित, हिंदी, विज्ञान विषयों की पाठ्यसामग्री भेज रहे हैं। अंग्रेजी सीखो कार्यक्रम का ऑडियो क्लिप भी भेजकर सुनाया जाता है।

यहां करीब 65 बच्चे ऑनलाइन क्लास कर रहे हैं। वहीं काकोरी के पूर्व माध्यमिक विद्यालय भरोसा के प्रधानाध्यापक वीरेंद्र सिंह ने बताया कि व्हॉट्सएप ग्रुप बनाकर कक्षा 6,7 व 8 तक के छात्रों होम वर्क दिया जा रहा है। बच्चों को आओ अंग्रेजी कार्यक्रम का ऑडियो क्लिप भी सुनाया जा रहा है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन