विज्ञापन
विज्ञापन
व्यापार में सफलता एवं आर्थिक वृद्धि हेतु, पौष पूर्णिमा पर जगन्नाथमंदिर में कराएं विष्णुसहस्रनाम पाठ !
Purnima Special

व्यापार में सफलता एवं आर्थिक वृद्धि हेतु, पौष पूर्णिमा पर जगन्नाथमंदिर में कराएं विष्णुसहस्रनाम पाठ !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

चार दिन वृंदावन में प्रवास करेंगे मोहन भागवत, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले पर कर सकते हैं चर्चा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत चार दिवसीय प्रवास पर 18 जनवरी को तीर्थनगरी वृंदावन आ रहे हैं। वह यहां 18 से 21 जनवरी तक रहेंगे। 20 जनवरी को केशवधाम स्थित बालिका विद्यालय का शुभारंभ करेंगे। इस दौरान श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए राशि संग्रह अभियान और श्रीकृष्ण जन्मस्थान विवाद को लेकर संघ परिवार के साथ चर्चा करने की संभावना है।

कोरोना संक्रमण का दौर कम होने के बाद सरसंघचालक मोहन भागवत का वृंदावन आगमन हो रहा है। इसकी सूचना पुलिस और प्रशासन को मिल चुकी है। मोहन भागवन की सुरक्षा व्यवस्था के लिए वृंदावन पुलिस प्रशासन ने अतिरिक्त फोर्स की आवश्यकता जताई है। 
यह भी पढ़ें- 
उम्मीद का टीका: स्वास्थ्यकर्मियों में उत्साह, कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद साझा किए अनुभव

माना जा रहा है कि 18 जनवरी से 21 जनवरी तक सरसंघचालक वृंदावन में प्रवास करेंगे। इस दौरान उनका संगठन के पदाधिकारियों के साथ विभिन्न विषयों पर मंथन होगा। इसमें श्रीराम जन्मभूमि निर्माण के लिए चल रहे धन संग्रह कार्यक्रम की समीक्षा के साथ श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर विभिन्न न्यायिक वादों पर भी चर्चा हो सकती है। 

यह भी पढ़ें- फिरोजाबाद: गर्म कांच को मुंह से फुलाने की प्रक्रिया देखकर हैरान हुईं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

संभावना है कि सरसंघचालक के वृंदावन रहते केंद्र और राज्य सरकार के प्रमुख मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रमुख पदाधिकारियों की वृंदावन में मौजूदगी रहेगी। हालांकि इनका अभी कोई कार्यक्रम नहीं मिला। अब तक इस चार दिवसीय कार्यक्रम में सिर्फ 20 जनवरी को केशवधाम में नवनिर्मित रामकली बालिका विद्या मंदिर के उद्घाटन का कार्यक्रम जारी किया गया है। संघ प्रमुख के आगमन को लेकर केशवधाम में तैयारियां शुरू हो गई हैं। 


अपने शहर की खबरों से अपडेट रहने के लिए पढ़ते रहिए amarujala.com । अमर उजाला आगरा के फेसबुक पेज को लाइक और फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं।
 
... और पढ़ें

'भरोसे का टीका': जीत की ओर पहला कदम, स्वास्थ्यकर्मी बोले-दोगुने जोश से करेंगे इलाज

आगरा: शादी के एक महीने बाद पत्नी से हुआ झगड़ा, पति ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

आगरा के थाना हरीपर्वत के पुष्प नगर में शुक्रवार रात को फाइनेंस कंपनी के रिकवरी एजेंट ने कमरे में पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसकी शादी को एक माह ही हुआ था। पत्नी दूसरे कमरे में बैठी थी। तभी पति ने यह कदम उठाया। थाना प्रभारी निरीक्षक का कहना है कि प्रथम दृष्टया मामला गृह क्लेश में आत्महत्या का है। जांच की जा रही है। 

मूलरूप से शीतला गली, एमएम गेट निवासी कृष्णा शर्मा (30) पुत्र नंद किशोर शर्मा एक फाइनेंस कंपनी में रिकवरी एजेंट का कार्य करता था। थाना हरीपर्वत के प्रभारी निरीक्षक अजय कौशल ने बताया कि कृष्णा ने 12 दिसंबर 2020 को इटावा स्थित नेताजी का चौक निवासी प्राची से आर्य समाज मंदिर में शादी की थी। 

पत्नी के साथ किराए के मकान में रहता था युवक
दोनों ट्रांसपोर्ट नगर स्थित पुष्प विहार में किराये के मकान में रह रहे थे। शुक्रवार की शाम को दोनों के बीच किसी बात पर विवाद हो गया। इससे नाराज होकर पत्नी अपने भाई के यहां चली गई। रात में कृष्णा ने जयपुर में रहने वाले अपने जीजा को फोन किया। उसने कहा कि वह आत्महत्या कर लेगा। इस पर उन्होंने मना किया। मगर, वह मानने को तैयार नहीं था। 
... और पढ़ें

आगरा: विश्वविद्यालय ने सामूहिक नकल कराने पर छह कॉलेजों को किया ब्लैक लिस्ट, यहां देखें सूची

आगरा मंडल में सामूहिक नकल कराने पर डॉक्टर भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने छह कॉलेजों को काली सूची (ब्लैक लिस्ट) में डाल दिया है। ये कॉलेज परीक्षा में सेंटर नहीं बनाए जाएंगे। आठ कॉलेजों को नोटिस दिया गया है, जिसमें उनको दोबारा नकल पकड़े जाने पर काली सूची में डालने की चेतावनी दी गई है। 

विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी प्रोफेसर प्रदीप श्रीधर ने बताया कि यह कार्रवाई यूएफएम कमेटी की रिपोर्ट पर परीक्षा समिति ने की है। विश्वविद्यालय प्रशासन की इस कार्रवाई से कॉलेज संचालकों में हड़कंप मच गया है। 

तीन वर्ष के लिए डिबार किए जाने वाले केंद्रों का विवरण
1- पंडित पूरनमल मेमोरियल एजुकेशन इंस्टीट्यूट, गभाना, अलीगढ़ ।
2- एपीएस कॉलेज बाजना (मथुरा)।
3. श्री श्याम दास बाबा महाविद्यालय छाता, मथुरा ।
... और पढ़ें
आगरा: डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा: डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय

एक्सक्लूसिव: कम उम्र में शादी और गरीबी बन रही कुपोषण की वजह, बेटियां ज्यादा कुपोषित

आगरा के टेढ़ी बगिया क्षेत्र की रहने वाली 25 साल की रूबी के चार बच्चे हैं। पति ऑटो चलाकर बमुश्किल 200 रुपये बचा पाता है। इसमें से चार बच्चों के लिए पाव भर दूध लेते हैं। गरीबी के कारण परिवार चलाना भी मुश्किल है। रूबी और उसके चारों बच्चे कुपोषित हैं।
 
रूबी ने बताया कि प्रसव कराने से पहले दो बार रक्त चढ़वाना पड़ता है। बच्चे को पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती करके इलाज करा रही हैं। रुबी का मामला ही नहीं, जिले में ऐसे और भी बच्चे व महिलाएं हैं, जिनमें गरीबी और कम उम्र में शादी कुपोषण की वजह बनी। जिला कार्यक्रम अधिकारी के यहां उपलब्ध डाटा के अनुसार इस समय जिले में 57,536 कुपोषित और 5373 अतिकुपोषित बच्चे हैं।

कुपोषण से हालत हुई खराब, बच्चे को चढ़ाना पड़ा रक्त
जिला अस्पताल में सुभाष नगर निवासी सोना का दो साल का बच्चा पोषण पुनर्वास केंद्र (एनआरसी) में भर्ती है। उन्होंने बताया कि पति जूता फैक्टरी में काम करते हैं, महीने में चार हजार रुपये ही मिलते हैं। दो बच्चे हैं, परिवार के लिए खाने-पीने के भी लाले हैं, पौष्टिक भोजन कहां से खिलाएं। बच्चे को रक्त चढ़ाना पड़ा है।
... और पढ़ें

आगरा मेट्रो: पहले कॉरिडोर के लिए डेढ़ साल में तैयार हो जाएगा पीएसी मैदान में डिपो

आगरा में सिकंदरा से ताजपूर्वी गेट तक पहले मेट्रो कॉरिडोर के लिए पीएसी मैदान में डिपो डेढ़ साल में तैयार हो जाएगा। जून 2022 तक कार्य पूरा करना है। इसके लिए चौतरफा निर्माण चल रहा है। पुरानी मंडी चौक गेट पर कंट्रोल रूम बन रहा है, जबकि मैदान में हेलीपैड स्थल के बराबर में वर्कशॉप और वॉशिंग प्लांट के लिए खोदाई हो रही है।

प्राथमिकता कॉरिडोर में तीन भूमिगत व तीन एलिवेटेड कुल छह स्टेशन हैं। इनके निर्माण से पहले ही पीएसी मैदान में डिपो निर्माण पूरा हो जाएगा। 112 करोड़ की लागत से बन रहे डिपो के लिए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (यूपीएमआरसी) ने 18 महीने की समयसीमा तय की है। रविवार से निर्माण कार्य और तेज हो गए। 
संबंधित खबर- 
Agra Metro: आगरा मेट्रो परियोजना पर विवाद, अदालत में वाद दायर, 21 दिसंबर को सुनवाई

पुरानी मंडी चौराहे की तरफ डिपो का प्रवेश द्वार होगा। यहां 2500 मीटर में कंट्रोल रूम बन रहा है। गेट से मैदान के चारों तरफ करीब 900 मीटर लंबा टेस्टिंग ट्रैक बनाने के लिए सीमांकन भी शुरू हो गया। मैदान में हेलीपैड के बराबर से वर्कशॉप बनेगी। इसके बराबर से स्वचालित वाशिंग प्लांट निर्माण होगा। पीएसी परिसर में आठ अलग-अलग स्थानों पर यूपीएमआरसी ने कार्य शुरू कराया है।

पाइल में भरी जा रही कॉन्क्रीट
फतेहाबाद रोड पर दो रिग मशीनों से पिलर के लिए पाइल की खोदाई चल रही है। 30 पिलर खोदे जा चुके हैं। रविवार को खोदे गए पिलर में लोहे का जाल डालकर कॉन्क्रीट भरी गई। कॉन्क्रीट को जमने से 10 दिन लगेंगे। यूपीएमआरसी के अधिकारी ने बताया कि ताजपूर्वी गेट स्टेशन के पिलर खड़े करने का कार्य अगले सप्ताह से शुरू हो सकता है।
... और पढ़ें

कोरोना टीकाकरण: अब 22 जनवरी को लगाया जाएगा 'भरोसे का टीका', शासन ने तय की तारीख

आगरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. आरसी पांडेय ने बताया कि जैसे ही बूथ तय होंगे, वैक्सीन पहुंचा दी जाएगी। अन्य सभी तैयारियां पहले से पूरी हैं। पहले चरण के लिए 26280 स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए डोज मिली थी। 

इसमें से पहले दिन 600 स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए बूथ पर 600 डोज भेजी गई थीं। इनमें से 361 डोज का उपयोग हो चुका है, बाकी की डोज केंद्रों पर आइस लाइंड रेफ्रिजरेटर में सुरक्षित रखी हुई हैं। ऐसे में बची हुई डोज को अगले टीकाकरण में उपयोग किया जाएगा।

15 फरवरी को दूसरा टीका रिजर्व रखी गई 361 डोज से 
पहले दिन टीका लगवाने वाले 361 कर्मचारियों के लिए इतनी ही डोज रिजर्व रखी गई हैं। इनको 15 फरवरी को लगने वाली दूसरी डोज में उपयोग किया जाएगा। पहले दिन टीका लगवाने वालों में से किसी में भी कोई परेशानी नजर नहीं आई।

भरोसे का टीका...कोई घबराहट नहीं, सिर्फ मुस्कराहट, देखें कोरोना टीकाकरण की तस्वीरें
... और पढ़ें

एक्सक्लूसिव: 127 करोड़ रुपये में बने गरीबों के मकान जर्जर, अब जांच के लिए दिए 67.50 लाख

आगरा में कोरोना टीकाकरण
आगरा में शहरी गरीबों के लिए नरायच में बनाए गए 3640 मकान गृह प्रवेश से पहले ही खंडहर हो गए। 127 करोड़ रुपये की लागत से आगरा विकास प्राधिकरण (एडीए) द्वारा नरायच में 3640 मकान और शास्त्रीपुरम में 1360 मकानों का निर्माण कराया गया, लेकिन नरायच में 3640 मकान अधूरे हैं और अब इनके तीसरी मंजिल के बीम, कॉलम और स्लैब में दरारें आ गई हैं, जिससे यह गिरासू हैं। आगरा विकास प्राधिकरण ने मकानों के टूटने पर आईआईटी रुड़की से स्ट्रक्चरल (ढांचे की) जांच कराने के लिए 67.50 लाख रुपये भी जारी कर दिए हैं।

डूडा की 127 करोड़ रुपये की योजना में आवास बनाने की जिम्मेदारी आगरा विकास प्राधिकरण को सौंपी गई, लेकिन एडीए के इंजीनियरों ने नरायच और शास्त्रीपुरम में जो आवास बनाए, वह आवंटन और गृह प्रवेश से पहले ही खंडहर हो गए। नरायच में 4 मंजिला भवनों की तीसरी मंजिल के कॉलम और बीम में दरारें आ गई हैं। बीम में दरारों के कारण ये आवास कभी भी गिर सकते हैं।

शास्त्रीपुरम में छतों से टपका रहा पानी 
गरीबों के लिए बनाए बेसिक सर्विसेज फॉर अर्बन पुअर (बीएसयूपी) के शास्त्रीपुरम में बने 1360 मकानों में छत टपक रही है। हाथ लगाते ही प्लास्टर झड़ रहा है। पीली ईंटों से बने आवासों में प्लास्टर टूटकर गिर रहा है। कमिश्नर अनिल कुमार के निर्देश पर दो अधिकारियों की टीम ने जब शास्त्रीपुरम के आवास का दिसंबर में निरीक्षण किया तो पाया कि पानी की टंकी रखी नहीं गई। जलापूर्ति की कोई व्यवस्था नहीं है और टॉयलेट चोक है। सीवर लाइन बिछाई नहीं गई। बिजली के स्विच तक आवासों में नहीं लगाए गए। बिजली का कनेक्शन न होने से ब्लॉक में अंधेरा है।
... और पढ़ें

आगरा हरेश पचौरी हत्याकांड: 30 दिन बाद भी शूटर सचिन कंजा को नहीं पकड़ पाई आगरा पुलिस

आगरा के थाना सदर के राजपुर चुंगी चौराहे पर दस्तावेज लेखक हरेश पचौरी की हत्या के केस में फरार आरोपी शूटर सचिन कंजा 30 दिन बाद भी पुलिस के हाथ नहीं आ सका है। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया जा चुका है। उसकी गिरफ्तारी न होने से परिजनों में आक्रोश है। उधर, पुलिस का कहना है कि दबिश दी जा रही है। 

थाना सदर में राजेश्वर मंदिर के बराबर में रहने वाले प्रॉपर्टी डीलर और दस्तावेज लेखक हरेश पचौरी की 19 दिसंबर 2020 को राजपुर चुंगी पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना का सीसीटीवी फुटेज सामने आया था। इसमें शूटरों की पहचान हो गई थी। 

इसमें गोली मारने वाला शूटर थाना निबोहरा के गांव चमरौली निवासी सचिन कंजा था। इसके बाद पुलिस ने घटना का खुलासा किया था। आरोपी विष्णु प्रकाश रावत और सुनील रावत को गिरफ्तार करके जेल भेजा था। सुपारी देने वाले भानु प्रताप मुद्गल उर्फ बीपी ने कोर्ट में समर्पण कर दिया था। शूटरों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया।
... और पढ़ें

गोकुल ग्राम योजना: एटा में श्वेत क्रांति लाना चाहती है योगी सरकार, पांच सौ गांवों का चयन

गोकुल ग्राम योजना के तहत जिले में श्वेत क्रांति लाने की सरकार की योजना है। इसी के तहत जिले में 500 गोकुल गांव का चयन किया गया है। इन गांव में कृत्रिम गर्भाधान किया जा रहा है। पशुओं को उत्तम किस्म का सीमन दिया जा रहा है। जिले में पचास हजार पशुओं को कृत्रिम गर्भाधान के लिए 10 माह का समय दिया गया, लेकिन जिले में पांच माह में 6710 पशुओं में ही कृत्रिम गर्भाधान हो पाया है। 

जिले में छह लाख से ज्यादा गाय, भैंस, बकरी आदि पशु हैं, लेकिन उन्नत किस्त के दुधारू गाय व भैंस की कमी है। इसके चलते दुग्ध उत्पादन नहीं बढ़ पा रहा है। दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा गोकुल ग्राम मिशन योजना शुरू की गई है। जिले में पांच सौ गांव में प्रत्येक गांव में सौ पशुुओं सहित पचास हजार पशुओं को उत्तम किस्स का सीमन लगा कृत्रिम गर्भाधान किया जा रहा है।

गांव का कराया गया सर्वे 
योजना का शुभारंभ होते ही जिले में पशु विभाग द्वारा सर्वे कराया गया। यहां पशुओं में प्रजनन की क्षमता अधिक हो इसी के तहत गांव का चयन किया गया। योजना के तहत पांच सौ गांव चयनित हुए। प्रत्येक गांव में 100 पशुओं को उन्नत किस्म का सीमन लगाने की बात कही गईं।
... और पढ़ें

खर्चीली बहू से परेशान सास ने परामर्श केंद्र में लगाई गुहार, कहा- घर में नहीं बनाती खाना, बाहर से मंगाती है

आगरा के परिवार परामर्श केंद्र में एक सास ने बहू के खिलाफ शिकायत की। आरोप लगाया कि बहू खर्चीली है। घर के काम नहीं करती है। उसकी वजह से बेटे से अलग रहना पड़ रहा है। वहीं बहू ने भी पति पर मां के कहने में चलने का आरोप लगा दिया। मामले में दोनों पक्षों को अगली तारीख पर बुलाया गया है।
 
थाना छत्ता क्षेत्र का रहने वाला युवक सात साल पहले एक परिचित के शादी समारोह में गया था। युवक की मुलाकात एक युवती से हो गई। दोनों में बातचीत के बाद दोस्ती हो गई। पहले परिजन राजी नहीं थे। मगर, युवक परिवार में इकलौता था। इस कारण उसके परिजन शादी के लिए तैयार हो गए। 

आरोप है कि शादी के बाद युवती ने ससुराल में तेवर दिखाने शुरू कर दिए। सास के अनुसार बहू जब से आई है, घर का कोई काम नहीं करती है। नौकरानी को लगवा लेती है। घर में खाना भी नहीं बनाती है। अक्सर बाहर से ही खाना मंगवा लेती है। इससे बेटे का काफी खर्च हो जाता है। बेटा अगर, मना करता है तो झगड़ने लगती है। इस कारण वह बेटे के साथ होने के बावजूद अलग रहती हैं।
... और पढ़ें

Corona Virus: आगरा में नौ नए कोरोना संक्रमित मिले, सक्रिय मरीजों की संख्या हुई कम

आगरा में दहाई से नीचे रहा कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा, आगरा में रविवार को कोरोना संक्रमण के नौ नए मामले सामने आए हैं। डीएम प्रभु एन सिंह के मुताबिक जनपद में अब तक कुल 10,432 संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं सक्रिय मरीजों की संख्या अब 93 रह गई है। जनपद में 171 मरीजों की मौत हो चुकी है। वहीं कुल डिस्चार्ज मरीजों की संख्या 10,168 है। कुल 46,4112 सैंपल कलेक्ट किए गए हैं। रिकवरी रेट 97.47 प्रतिशत रहा है। 

इससे पूर्व  शुक्रवार को कोरोना वायरस के आठ नए मरीज मिले। इसमें दयालबाग में दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। आठ मरीजों में एक महिला और बाकी के पुरुष शामिल थे। दयालबाग के टैगोर नगर और मीनाबाग में संक्रमण मिला। रकाबगंज, नाला बुढ़ान सैयद, आवास विकास कॉलोनी, आईसीडी मोती महल कैंटर कॉरपोरेशन ऑफिस और नेहरू नगर में भी कोरोना वायरस के मरीज मिले। 

इससे पूर्व गुरुवार को कोरोना वायरस के छह ही मरीज मिले। यह मार्च के बाद एक दिन में सबसे कम मरीज मिलने का आंकड़ा था। संक्रमण की शुरुआत में सात मार्च को एक मरीज मिला था। लेकिन अप्रैल से संक्रमण बढ़ने लगा और सितंबर में तो रिकार्ड ही टूट गया। इस महीने 2,800 से अधिक मरीज मिले। 

मथुरा: कांग्रेस राज्यसभा सांसद का प्रधानमंत्री पर तंज, 'मोदीजी लगवाते वैक्सीन तो बढ़ता जनता का विश्वास'

इसके बाद संक्रमण की दर में कमी आने लगी। दिसंबर में आंकड़ा कम हुआ तो जनवरी में संख्या और कम हुई। सीएमओ डॉ. आरसी पांडेय ने बताया कि कोरोना वायरस से जंग जीतने के नजदीक हैं। इस महीने संक्रमण की दर और कम हो सकती है। लोग सावधानी और बचाव के प्रति पूरी तरह से सचेत रहें। मास्क और सामाजिक दूरी बरतते रहें। ... और पढ़ें

मथुरा: कांग्रेस राज्यसभा सांसद का प्रधानमंत्री पर तंज, 'मोदीजी लगवाते वैक्सीन तो बढ़ता जनता का विश्वास'

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी रविवार को ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन को पहुंचे। यहां कांग्रेस नेता ने देश में सुख समृद्धि की कामना करते हुए विधिवत पूजा अर्चना की। सेवायत गोपी गोस्वामी की गद्दी पर पत्रकारों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस पूरी शिद्दत से किसानों के साथ खड़ी है। किसान आंदोलन को पचास दिन से अधिक हो चुके है।

ये भी पढ़ें: 
चार दिन वृंदावन में प्रवास करेंगे मोहन भागवत, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले पर कर सकते हैं चर्चा


सत्ता में काबिज मोदी सरकार तानाशाही रवैया अपनाए हुए है। वार्ता के नाम पर किसानों के सब्र की परीक्षा ली जा रही है। लेकिन जब तक तीनों कानून वापस नहीं लिए जाएंगे, किसान आंदोलन खत्म नहीं होगा। सरकार को जिद छोड़कर किसानों की बात सुननी चाहिए। देश मे कल से शुरू हुए कोरोना टीकाकरण को राष्ट्रहित में बताते हुए वैज्ञानिकों एवं चिकित्सकों को इसकी सफलता के लिए बधाई दी। साथ ही प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि वैज्ञानिकों की सफलता का श्रेय खुद लेकर इसे इवेंट बनाने वाले मोदीजी ने सबसे पहले खुद टीका क्यों नहीं लगवाया।

ये भी पढ़ें: भरोसे का टीका...कोई घबराहट नहीं, सिर्फ मुस्कराहट, देखें कोरोना टीकाकरण की तस्वीरें

अन्य देशों के राष्ट्राध्यक्ष की तरह मोदीजी भी ऐसा करते तो लोगों का विश्वास बढ़ता। एक अन्य सवाल के जबाव में तिवारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में अपने बूते चुनाव लड़ेगी और सरकार बनाने में कामयाब होगी। इससे पूर्व सेवायत गोपी गोस्वामी एवं श्रीनाथ गोस्वामी ने तिवारी को ठाकुरजी का अंगवस्त्र व प्रसाद भेंट किया। इस अवसर पर पूर्व विधायक प्रदीप माथुर, सोहन सिंह सिसोदिया, नूतन बिहारी पारीक,संग्राम सिंह मौजूद रहे।

अपने शहर की खबरों से अपडेट रहने के लिए पढ़ते रहिए amarujala.com । अमर उजाला आगरा के फेसबुक पेज को लाइक और फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं।

  ... और पढ़ें
Test
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X