अब चाइनीज अंडे, एफएसडीए ने लिए सैंपल

अब चाइनीज अंडे, एफएसडीए ने लिए सैंपल Updated Tue, 27 Dec 2016 01:03 AM IST
विज्ञापन
अब चाइनीज अंडे, एफएसडीए ने लिए सैंपल
अब चाइनीज अंडे, एफएसडीए ने लिए सैंपल - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
अंडे खाने के शौकीन सावधान हो जाएं, अब खतरनाक रसायन से बने चाइनीज अंडे बाजार में धड़ल्ले से बिक रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, ये हूबहू मुर्गी के अंडे जैसे लगते हैं। इनको पहचानना मुश्किल है। वायरल हुए एक वीडियो को केंद्र ने गंभीरता से लिया और शहरों को अलर्ट किया। इसी कड़ी में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) ने चार प्रतिष्ठानों पर सर्वे की कार्रवाई की। यहां से अंडों के सैंपल जुटाए हैं। इन्हें जांच के लिए लैब भेजा गया है।
विज्ञापन

एफएसडीए ने आवास विकास कॉलोनी स्थित मामा ऐग सेंटर, झमनदास अंडेवाला (जेडी एग मार्ट) शाहगंज, दीनार स्टोर बोदला रोड और सिकंदरा स्थित असीइंद्रा एग सेंटर पर पहुंची। ये सभी अंडे सप्लाई करने की थोक की दुकानें हैं। इनके संचालकों से टीम ने खरीद के बारे में भी पूछा है। इन सभी प्रतिष्ठानों से अंडों का एक-एक सैंपल लिया है। टीम में खाद्य सुरक्षा अधिकारी अवनीश सिंह, पारुल सिंह, पूनम यादव, अवधेश रहे। 

केमिकल से बनाए जाते हैं अंडे
चीन निर्मित अंडे केमिकल से बनाए जाते हैं। जानकारी के मुताबिक, इनको लैब में तैयार किया जाता है। भारी मात्रा में ऐसे अंडे बिक्री को देश में आ चुके हैं। इसके मद्देनजर केंद्र सरकार ने देशभर में एलर्ट कर दिया है। केमिकल से बने अंडों के लगातार उपयोग से कैंसर, किडनी खराब जैसी कई बीमारियों का खतरा रहता है। 
पहचान करना नहीं आसान 
चाइनीज अंडे का मामला पहली बार सामने आया है। इसलिए अभी इनकी पहचान करना आसान नहीं है। बनावट और रंग में कोई अंतर नहीं है। विशेषज्ञ बताते हैं कि सैंपल की जांच के बाद चाइनीज अंडों की पुष्टि होती है तो फिर इनकी पहचान करना आसान हो सकेगा। 

‘अंडों की थोक की चार दुकानों से सैंपल लेकर झांसी स्थित लैब जांच के लिए भेजे जाएंगे। व्यापारियों को चाइनीज अंडे न खरीदने के बाबत सख्त चेतावनी दी गई है। ’
- देवाशीष उपाध्याय, जिला अभिहीत अधिकारी

रेस्टोरेंट की किचिन में गंदगी, पनीर का सैंपल लिया
एफएसडीए की टीम आवास विकास कालोनी स्थित तिरुपति रेस्टोरेंट का सर्वे करने पहुंची। यहां किचिन में गंदगी थी। खाद्य सामग्री ढकी हुई नहीं थी। रेस्टोरेंट संचालक को साफ-सफाई की सख्त हिदायत दी। यहीं से पनीर का सैंपल भी लिया। जिला अभिहीत अधिकारी देवाशीष उपाध्याय ने बताया कि रेस्टोरेंट में गंदगी मिलने पर चेतावनी दी है। मिलावटी पनीर की आशंका पर सैंपल लिया है।

प्रतिष्ठान पंजीकृत नहीं तो कार्रवाई
आगरा। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन ने मिष्ठान भंडार, तेल-घी विक्रेता या फिर खाद्य सामग्री निर्माण और बिक्री करने वाले अपंजीकृत प्रतिष्ठानों पर सख्ती कर दी है। रजिस्ट्रेशन की सुविधा करने के लिए सिलसिलेवार कैंप भी लगाए जाएंगे। इसमें विभाग के अधिकारी मौके पर ही आवश्यक दस्तावेज के बाद रजिस्टर्ड करेंगे। इसकी कड़ी में रुई की मंडी चौराहा पर कैंप लगाया। 400 व्यापारियों ने प्रतिष्ठानों को पंजीकृत कराया। कैंप में खाद्य सुरक्षा अधिकारी गुंजन शर्मा, जगवीर चौधरी, दीपशिखा, जितेंद्र सिंह, निशीकांत सिंह, करतार सिंह रहे। जिला अभिहीत अधिकारी देवाशीष उपाध्याय ने बताया कि सहूलियत देने के लिए विभाग कैंप लगाकर जागरूक कर रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X