विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी
Astrology Services

नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यूपी: संक्रमितों की संख्या बढ़कर 118, बस्ती में सामने आया नया मामला

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश में गुरुवार सुबह एक नया मामला सामने आया है। बुधवार को बस्ती जिले के मरीज की मौत के बाद आज सुबह एक अन्य व्यक्ति को कोरोना संक्रमित पाया गया है।

2 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

अलीगढ़

गुरूवार, 2 अप्रैल 2020

एएमयू में लॉक डाउन के बाद विभागों में रहेगी सैनिटाइजर की व्यवस्था

अलीगढ़। कोरोना वायरस के चलते हुए लॉक डाउन खुलने के बाद जब अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कक्षाएं सुचारू रूप से संपन्न होंगी तो नजारा कुछ बदला हुआ सा होगा। विभागों के बाहर वॉश बेसिन और सैनिटाइजर की व्यवस्था रहेगी। इसके अलावा कैंपस में छात्र मास्क के साथ नजर आएंगे। विश्वविद्यालय के जनसंपर्क विभाग के एम आई सी प्रोफेसर शाफे किदवई कहते हैं लॉक डाउन खुलने के बाद सब कुछ पहले जैसा नहीं हो जाएगा । हमें बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। इसलिए सैनिटाइजर और हाथ धोने की सुविधा उपलब्ध रहेगी। विश्वविद्यालय में जगह-जगह कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए निर्देश और एडवाइजरी पहले ही लगा दी गई है। इसके अलावा एक स्थान पर भीड़ जमा नहीं लगाने और सभी तरह की एहतियात बरतने की भी जरूरत होगी। ... और पढ़ें

एएमयू प्रोफेसर को पहली बार ओम प्रकाश भसीन अवार्ड एपीजे कलाम और केजी मेनन जैसी हस्तियों को दिया जा चुका है यह अवार्ड

अलीगढ़ । अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के इंटरडिसीप्लीनरी बायोटेक्नालोजी यूनिट के समन्वयक प्रो. असद उल्लाह खान को बायोटेक्नालोजी के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिये ओम प्रकाश भसीन फाउन्डेशन द्वारा 2019 के ओम प्रकाश भसीन अवार्ड के लिये चयनित किया गया है। इस एवार्ड के अन्तर्गत उन्हें 1 लाख रूपये नकद तथा प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जायेगा। यह पुरस्कार बायोटेक्नालोजी के अतिरिक्त कृषि विज्ञान, इलैक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग तथा मेडीकल साइंस के क्षेत्रों में प्रदान किया जाता है।  पूर्व में डा. एपीजे अब्दुल कलाम, एमएस स्वामीनाथन तथा केजी मेनन जैसी महान वैज्ञानिक विभूतियों को इस सम्मान से अलंकृत किया जा चुका है। प्रो. खान यह सम्मान पाने वाले एएमयू के पहले शिक्षक हैं। इससे पहले एएमयू के पूर्व छात्र तथा प्रख्यात वैज्ञानिक प्रोफेसर उबैद सिद्दीकी को इस अवार्ड से विभूषित किया जा चुका है। कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने प्रोफेसर खान की इस उपलब्धि पर बधाई दी है। ... और पढ़ें

अलीगढ़: भूख से जंग, 13 स्थानों पर सामुदायिक रसोई शुरू

गैर सरकारी संस्थाओं को साथ लेकर नगर निगम द्वारा 13 अलग-अलग स्थानों पर सामुदायिक रसोई शुरू किया गया है। इसका उद्देश्य लॉक डाउन के दौरान शहर में कोई भूखा ना रहे है। तीन और सामुदायिक रसोई जल्द शुरू होने की उम्मीद है।

लाँक डाउन के दौरान निर्धन लोगों को परेशानी हो रही है। नगर निगम के गांधी पार्क और गूलर रोड शेल्टर होम में पहले से ही करीब 125 लोग हैं। नगर निगम गैर सरकारी संस्थाओं के साथ मिलकर शहर के 13 अलग-अलग स्थानों पर सामुदायिक रसोई चला रहा है।

यहां से तैयार भोजन का पैकेट दिन और रात में जरूरतमंद लोगों के पास पहुंचाया जा रहा है। सामुदायिक रसोई जवाहर भवन, मलखान सिंह जिला अस्पताल के पास, भुजपुरा, सर सैयद नगर, डोरी नगर, नगला पला, विष्णुपुरी, चंदनिया आदि क्षेत्रों में चल रहे हैं। नगर आयुक्त सत्य प्रकाश पटेल ने बताया कि शहर में किसी को भूखे नहीं रहने दिया जाएगा।

भोजन पहुंचाने के लिए मोबाइल सेवा भी शुरू किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मंगलवार को करीब साढे छह हजार लोगों के बीच भोजन का वितरण किया गया। राशन मिलने के बाद समस्या कम होने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः अब जिले में 31 की जगह सिर्फ 25 रह गए हैं बैंक, विलय के बाद बदले हालात

एक अप्रैल से बैंकों का विलयीकरण लागू हो गया है। अब जिले में 31 में से सिर्फ 25 बैंक रह गए हैं। चार बैंकों में छह बैंकों के विलय से चार बैंकों में उपभोक्ताओं को 62 शाखाएं मिलेंगी। एलडीएम रविंद्र प्रसाद ने कहा कि इससे स्टॉफ से लेकर ग्राहकों को लाभ होगा। जिले में अब सभी 25 बैंकों की 311 शाखाएं हैं।

केनरा बैंक में सिंडिकेट बैंक का विलय किया गया है। पंजाब नेशनल बैंक में ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स व युनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया को विलय किया गया है। इंडियन बैंक में इलाहाबाद बैंक तो यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंद्रा बैंक के साथ कार्पोरेशन बैंक का विलय हुआ है। अब पंजाब नेशनल बैंक की 32 शाखाओं में ओरिएंटल बैंक की नौ और युनाइटेड बैंक की एक शाखा जुड़ गई।

इंडियन बैंक की जिले में एक ही शाखा है, जिसमें इलाहाबाद बैंक की 11 शाखाएं बढ़ गई हैं। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की पांच शाखा में आंद्रा बैंक की दो और कार्पोरेशन बैंक की एक शाखा जुड़ गईं। विलय होने से जिले में छह बैंकों की संख्या घट गई है।

मिस कॉल से जाने खाते का बैलेंस
लॉक डाउन में घर से निकलना मना है। जबकि सरकार द्वारा विभिन्न मजदूर वर्ग में राहत राशि दी जा रही है। राशि की जानकारी के लिए कई लोग बैंकों के चक्कर लगा रहे हैं। अगर बैंक के खाते की राशि जाननी है तो संबंधित बैंक के टोल फ्री नंबर पर मिस कॉल करें। खाते का बैलेंस मैसेज के जरिए आप तक पहुंच जाएगा। लेकिन यह मिस कॉल रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से ही देनी है।

इन बैंकों के ये हैं टोल फ्री नंबर
केनका बैंक-09015483483, 09015734734 भारतीय स्टेट बैंक -18004253800, 1800112211 पंजाब नेशनल बैंक- 18001802222, 18001802223 बैंक ऑफ महाराष्ट्र-9222281818 एक्सिस बैंक-1860004195555 पंजाब एंड सिंध बैंक- 7039035156 यूको बैंक- 9278792787 बैंक ऑफ इंडिया-9015135135 आईसीआईसीआई बैंक18601207777 इंडियन बैंक-9289592895 ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स-180018001235, 18001021235 एचडीएफसी-18002703333, 18002703355 कार्पोरेशन बैंक-9268892688 आईडीबीआई बैंक-18008431122 यस बैंक-9223920000 यूनियन बैंक ऑफ इंडिया-922308586 यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया-09015431345
... और पढ़ें
demo pic demo pic

सासनी गेट में शराब दुकान से लाखों की चोरी

महानगर के सासनी गेट इलाके के भुजपुरा मोहल्ला में मंगलवार रात को एक शराब की दुकान में कूमल लगाकर चोर एक लाख रुपये करीब की शराब और 50 हजार रुपये चोरी कर ले गए। पुलिस ने मामले में अज्ञात चोरों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।
भुजपुरा निवासी जुनैद अली की मोहल्ले में ही अंग्रेज शराब की दुकान है। जुनैद के मुताबिक बुधवार सुबह उन्हें मोहल्ले के लोगों से पता लगा कि दुकान की दीवार काट चोर उसमें से शराब की पेटियां चोरी कर ले गए हैं। मौके पर जाकर देखा तो दुकान की दीवार कटी मिली। दुकान के भीतर से करीब एक लाख रुपये की शराब और गल्ले में रखे 50 हजार रुपये गायब थे। चोरों ने रात में वारदात को अंजाम दिया था। सूचना देकर पुलिस को मौके पर बुलाया। मामले में थाना पुलिस को अज्ञात चोरों के खिलाफ तहरीर दी है। इंस्पेक्टर सासनी गेट जावेद खां के मुताबिक अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। कुछ कैमरों में चोरों के चेहरे दिखाए दिए हैं। इनकी तलाश की जा रही है। जल्द ही उनको दबोच लिया जाएगा।
रामगढ़ पंजीपुर में घर में घुसे चोर, परिवार के जागने पर भागे
महानगर के क्वार्सी थाना क्षेत्र के गांव रामगढ़ पंजीपुर में मंगलवार रात एक घर में चोरी के उद्देश्य से कुछ अज्ञात चोर घुस गए। वह भैंस को दीवार काट चोरी करके ले जाने की फिराक में थे कि तभी परिवार वालों की आंख खुल गई। शोरशराबा होने पर चोर भाग निकले। बुधवार तड़के सूचना पर पहुंची पुलिस मामले की जांच में जुटी है। किसान अनिल कुमार निवासी गांव रामगढ़ पंजीपुर, क्वार्सी ने बताया कि वाकया रात करीब दो बजे का है। चोर घर के अंदर घुस आए। दीवार काटकर भैंस लेकर जाने लगे। इसी बीच आवाज सुनकर परिवार वाले जाग गए। उन्होंने शोर मचाते हुए चोरों को पकड़ा चाहा। मगर, वह भाग निकले। सूचना पर आई पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से बदमाशों को तलाशने की कोशिश की। मगर, उनका सुराग नहीं लगा है। मामले में अज्ञात चोरों के खिलाफ चोरी के प्रयास की तहरीर दे दी है। इंस्पेक्टर क्वार्सी के मुताबिक अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। उनकी तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

दो श्रीलंकाई नागरिक सहित जिले में 25 जमाती मिले, क्वारंटीन किए

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात में शामिल लोगों/जमातियों की तलाश जिले में दूसरे दिन बुधवार को भी होती रही। इस दौरान ऊपरकोट कोतवाली के मोहल्ला रंगरेजान की मस्जिद से 13 जमाती पकड़े गए। जिनमें दो श्रीलंका मूल के नागरिक हैं। यह निजामुद्दीन मरकज से दो माह पहले यहां आए थे। इसी तरह जवां पुलिस ने कासिमपुर एफसीआई गोदाम स्थित मस्जिद से 12 जमातियों को पकड़ा। इस तरह दूसरे दिन 25 जमाती मिले हैं। सभी का मेडिकल परीक्षण कराने के बाद पुलिस-प्रशासन की निगरानी में ही इनको मस्जिदों में ही क्वारंटीन कर दिया गया है। जवां पुलिस ने कासिमपुर मस्जिद में मिले 12 जमातियों व मौलाना पर लॉकडाउन उल्लंघन के तहत धारा 188 में मुकदमा भी दर्ज किया है। वहीं रंगरेजान मस्जिद में मिले श्रीलंकाई नागरिकों के पासपोर्ट सत्यापन के लिए जब्त कर लिए गए हैं।
रंगरेजान मोहल्ला, ऊपरकोट कोतवाली में पकड़े गए 13 जमातियों के संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार सिंह ने बताया कि यह सभी लोग देश के अलग-अलग शहरों और राज्यों के हैं। इनमें से दो श्रीलंका के हैं, जिनके नाम क्रमश: मो. मुर्शीद पुत्र पाकीर अली और एमजे हिपलुररहमान पुत्र जिहार हैं। जमात से पूछताछ में पता लगा कि यह दो माह पहले निजामुद्दीन मरकज से जमात के लिए निकले थे। दो माह से शहर और देहात की अलग-अलग मस्जिदों में रुकने के बाद बुधवार को ही रंगरेजान की मस्जिद में पहुंचे। मोहल्ले के लोगों को इस बात की जानकारी हुई तो उन्होंने दोपहर में पुलिस प्रशासन को खबर कर दी। इस पर टीम ने यहां पहुंचकर जांच कराकर सभी को मस्जिद में ही क्वारंटीन कर दिया गया है। श्रीलंका नागरिकों के पासपोर्ट सत्यापन के लिए जब्त किए गए हैं।
गेहूं के ट्रक में घूम रहे जमाती जवां में पकड़े
जवां क्षेत्र के कासिमपुर एफसीआई गोदाम स्थित मस्जिद से बुधवार को 12 जमाती उस समय पकड़े गए, जब जवां पुलिस भ्रमण करते हुए वहां पहुंची और लोगों को घरों में जाने की हिदायत दे दी थी। तभी एक गेहूं के ट्रक में यह लोग छिपे बैठे थे और कहीं जाने की तैयारी में थे। पूछताछ में पता चला यह जमाती हैं। यह सभी 25 फरवरी से थाना क्षेत्र की विभिन्न मस्जिदों में अलग-अलग दिन ठहराव कर रहे थे। सभी दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से यहां आए थे। पकड़े गए लोगों में सभी देश के अलग-अलग राज्यों व शहरों से शामिल हुए हैं। इन सभी के स्वास्थ्य का चेकअप कराकर पुलिस-प्रशासनिक टीम की निगरानी में एडीएम प्रशासन ने मस्जिद में ही क्वारंटीन करने के निर्देश दिए हैं। सीओ तृतीय अनिल समानिया के अनुसार जवां पुलिस ने 12 जमातियों व मस्जिद मौलाना पर 188 का मुकदमा दर्ज किया है।
जैसलमेर से आए 70 जमाती वापस भेजे
जैसलमेर राजस्थान से जमात में शामिल होकर लौटे एक ट्रक में भरे 70 जमातियों को प्रशासन ने वापस भेज दिया है। डीएम ने बताया कि इनकों श्रमिक बताकर हरदुआगंज क्षेत्र स्थित मस्जिद में ठहरने की सूचना पर यह कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि जलेसर एटा से पैदल आ रहे दर्जनभर से अधिक लोगों को हरदुआगंज में ही स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद होम क्वारंटाइन भेज दिया गया है।
अब तक 20 स्थानीय 70 बाहरी जमाती मिले: डीएम
जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि दो दिन से चल रहे तलाशी अभियान में अब तक देहली गेट थाना क्षेत्र के जंगलगढ़ी मस्जिद से 09 जमाती, कोतवाली इलाके की उस्मानपाड़ा मस्जिद से 12 और गोविंदनगर स्थित मस्जिद से 10, रंगरेजान मस्जिद 13, जवां थाना क्षेत्र के पिलोनी गांव की मस्जिद से 16, कासिमपुर गांव की मस्जिद से 12 बाहरी जिलों-प्रदेश व देश के जमाती पकड़े गए हैं। इन सभी को क्वारंटीन करा दिया गया है। वहीं तलाशी अभियान में जवां के रिगासपुर में 04, खैर में 01 और लोधा थाना क्षेत्र के गांव नौगंवा अजुर्नपुर में 15 सहित कुल 20 स्थानीय लोग ऐसे मिले हैं, जो हाल में दूसरे शहरों या प्रदेशों से जमात कर लौटे हैं। इन सभी को क्वारंटीन कर दिया गया है। जमातियों की तलाश में शहर में थाना पुलिस के साथ ही पार्षद और देहात में प्रधानों की जिम्मेदारी तय की गई है। लोगों को सख्त चेतावनी दी गई है जमातियों से संबंधी सूचना छिपाने पर सीधे मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। अब तक जनपद में 600 के करीब छोटी-बड़ी मस्जिदों और 150 के करीब मदरसों की चेकिंग की जा चुकी है।
... और पढ़ें

निजामुद्दीन की तब्लीगी जमात में अलीगढ़ से कोई नहीं गया था

देशभर में चर्चा का मुद्दा बनी दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हुई जमात से अलीगढ़ के लिए राहत की खबर आई है। इस जमात में अलीगढ़ का कोई व्यक्ति शामिल नहीं था। जिला प्रशासन ने मंगलवार को निजामुद्दीन मरकज से जमात में शामिल लोगों से जानकारी मांगी थी, जिसके जवाब में 357 लोगों का ब्योरा दिया गया, जो कि संपूर्ण उत्तर प्रदेश से इस जमात में गए थे। इनमें अलीगढ़ का कोई भी नाम नहीं निकला है।
सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार सिंह ने बताया कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से जमात में शामिल होने वाले लोगों की जानकारी शासन के माध्यम से वहां के आयोजकों से मांगी गई थी। उन्होंने पूरी यूपी की लिस्ट जारी की है, जिसमें 357 लोगों के जमात में शामिल होने का जिक्र है। मगर, अलीगढ़ का एक भी व्यक्ति इसमें शामिल नहीं था। इससे थोड़ी राहत मिली है। अन्य जो जमातियों को जिले में चेकिंग के दौरान विभिन्न मस्जिदों के पकड़ा गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है कि क्या वे निजामुद्दीन की इस जमात में शामिल होकर आए थे या नहीं। इसके साथ ही क्वारंटीन किए गए दिल्ली-एनसीआर के प्रवासियों से भी पूछताछ की जा रही है कि वह वे निजामुद्दीन इलाके में हुई जमात में शामिल लोगों के संपर्क में आए थे या नहीं।
तीन महीने चले बवाल में कहां थे ये जमाती?
अलीगढ़। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में जमातियों के कोरोना संक्रमित होने की खबर से जहां पूरा देश हिल गया है। लगातार जमातियों की तलाश जारी है। इस खोज के दौरान पता चला रहा है कि कोई दो माह से ठहरा हुआ है तो कोई एक माह से है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि उस समय जब सीएए-एनआरसी को लेकर विरोध चल रहा था। उस समय ये कहां थे। उस समय इनकी क्या भूमिका थी। इन सवालों को भी जांच का हिस्सा बनाया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार इनके कनेक्शन पर ध्यान दिया जा रहा है। हालांकि आधिकारिक तौर पर कोई कुछ बताने से बच रहा है।
स्थानीय जमात दफ्तर पहुंची एलआईयू टीम
अलीगढ़। पुरानी ईदगाह शाहजमाल स्थित जमात के दफ्तर में जमातियों के बारे में जानकारी लेने एलआईयू टीम पहुंची। मुफ्ती हारुन से यहां से कितनी जमातें गईं और कितनी अलीगढ़ की मस्जिदों में है, की जानकारी ली गई। उन्होंने कहा कि जो जमातें मरकज से सीधे आती हैं, उसकी जानकारी उनके पास नहीं होती हैं। अलीगढ़ से दिसंबर में जमात सागर के लिए गई थी। इसके बाद दफ्तर से कोई जमात नहीं गई है। जमात के जिम्मेदारों ने बताया कि दो जमातें अलीगढ़ में हैं, जिसकी जानकारी पुलिस को दे दी गई है। एक जमात रंगरेजान मस्जिद व दूसरी जमात भुजपुरा स्थित हमजा मस्जिद में है।
... और पढ़ें

अब और सख्ती..जमातियों-बाहरी लोगों की जानकारी छिपाई तो होगा मुकदमा

लॉकडाउन के बीच बुधवार अपने जिले में पुलिस की सख्ती और बाहर से आए जमातियों को लेकर तमाम अशंकाओं के बीच गुजारा। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए जमातियों के अलीगढ़ में आने के कारण चर्चाओं का बाजार दिन भर गरम है। पुलिस-प्रशासन इनको तलाश करने और होम क्वारंटीन करने में जुटा रहा। दो दिन में तकरीबन 92 जमातियों को होम क्वारंटीन कराया गया है। इसी क्रम में डीएम ने ग्राम प्रधानों को इस संबंध में आदेश दिया गया है कि वह बाहर से आने वाले और जमातियों के विषय में सभी सूचनाएं दें, अन्यथा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हो सकता है। इधर, बुधवार को जिले में लॉकडाउन तोड़ने के पांच मुकदमे दर्ज किए गए हैं।
जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने कहा है कि लॉकडाउन का अक्षरश: पालन किया जाएगा। उन्होंने प्रधानों को अर्द्धशासकीय पत्र (डीओ लैटर) जारी किया है कि उनके गांवों में बाहर से आए लोगों को होम क्वारंटीन कराया जाए। ग्राम प्रधानों व शहरी क्षेत्र में वार्ड पार्षदों की जिम्मेदारी है कि वह अपने क्षेत्रों में पता लगाएं कि कितने लोग उनके यहां ऐसे ठहरे हुए हैं, जो की जमात में शामिल होने के लिए आए हैं। बाहर से आए जमातियों के संबंध में जिला प्रशासन को तत्काल स्वयं ही सूचना उपलब्ध करा दें। अगर, कोई इन्हें अपने घर में छुपाता पाया गया या सूचना छिपाने की जानकारी मिली तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। इसके साथ ही ऐसे श्रमिकों की भी सूची मांगी है कि जो किसी भी सरकारी योजना से लाभांवित हो रहे हैं। इन सभी के लिए जिला प्रशासन की ओर से भोजन-राशन की व्यवस्था कराई जाएगी।
इधर, 17 राहत शिविरों में रह रहे 322 लोगों के लिए भी यह इंतजाम करना शुरू दिया गया है। यहां रोके गए दिहाड़ी मजदूरों के मनोरंजन के लिए भजन कीर्तन कराने या धर्म गुरुओं के जरिए धार्मिक उपदेश दिलाने का इंतजाम किया जाने लगा है। वहीं बाईपास से लेकर शहर की अंदरूनी सड़कों पर अब लॉकडाउन पूरी तरह से कारगार साबित हो रहा है। शहर की सड़कों पर केवल जरूरी वाहन ही दिख रहे हैं। बुधवार को सुबह सात बजे से 11 बजे से लोगों ने जरूरी काम निपटाया। सब्जी, दूध, दवा और अन्य सामान खरीदा।
इसके बाद दोपहर 12 बजे के बाद सन्नाटा हो गया। बाईपास पर केवल इक्का दुक्का कामगार ही निकल रहे हैं। जिनको मौके पर ही शिविर पर रोका जा रहा है। वहीं बुधवार को राशन वितरण के दौरान राशन की दुकानों पर जरूर भीड़ दिखाई दी। इसके अलावा जगह-जगह सामाजिक संगठनों के स्तर से लेकर राजनीतिक लोगों और अन्य लोगों द्वारा गरीबों को खाना, राशन मुहैया कराए जाने का काम भी जारी है। जिला पुलिस के स्तर से थानेवार बुधवार को 947 लोगों को खाद्य सामग्री व 3550 लोगों को भोजन मुहैया कराया गया। इधर, बुधवार को लॉक डाउन तोड़ने के मामले में क्वार्सी में तीन और जवां में दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं।
हबीब गार्डन में फूड बैंक दो दिन के लिए बंद
अलीगढ। जिला प्रशासन की ओर से बुधवार को जिले में राशन वितरण शुरू कर दिया है। इसको देखते हुए जिलाधिकारी ने अगले दो दिन हबीब गार्डन में बनाए फूड बैंक को बंद करने का निर्णय लिया है। डीएम के मुताबिक राशन वितरण के बाद लोगों को गेहूं और चावल की किल्लत का सामना नहीं पड़ेगा। बता दें कि इस फूड बैंक से गरीबों के घर-घर राशन और भोजन पहुंचाया जा रहा था। लॉक डाउन के दौरान कामकाज ठप होने और दुकानों के बंद होने से गरीबों को राशन की किल्लत का सामना न करना पड़े। इसके लिए यह कदम उठाया गया था।
शासन ने खाना वितरण को दिए पांच करोड़ रुपये
अलीगढ। प्रदेश सरकार की ओर से जिला प्रशासन को पांच करोड़ रुपये खाना वितरण के लिए दिए गए हैं। इस रकम से प्रवासी शिविरों में रह रहे लोगों और मजदूरों के लिए खाने की व्यवस्था की जाएगी। लोगों को आने वाले दिनों में लॉक डाउन के दौरान किसी भी प्रकार से खाने की किल्लत का सामना न करना पड़े। इसको देखते हुए यह रकम शासन ने सौंपी है।
... और पढ़ें

कोरोनाः शिविर तो बने हैं, लेकिन प्रवासी गायब

प्रशासन की ओर से दिल्ली-एनसीआर सहित अन्य राज्यों या शहरों से पलायन कर आए दिहाड़ी मजदूरों के लिए तमाम इंतजाम करते हुए प्रवासी शिविर तो शहर से लेकर देहात तक बनवा दिए। मगर, इन शिविरों से प्रवासी ही गायब हैं। अधिकांश लोग अपने-अपने घरों को वाहन बंद होने के बाद भी पैदल ही पलायन कर चुके हैं, जिनके साथ छोटे बच्चे या वह खुद अब पैदल चलने में असमर्थ हैं। वही, जिले में बने इन शिविरों में ठहरे हुए हैं।
बुधवार को जिला प्रशासन के आंकड़ों के मुताबिक तहसीलों में बनाए 17 राहत शिविरों में 322 लोगों रुके हुए हैं। यह सभी क्वारंटीन किए गए हैं। डॉक्टरों की अनुमति के बिना इनको कहीं भी भेजने से जिलाधिकारी ने इंकार कर दिया है। इसके साथ ही शहर की बात करें तो यहां बन्नादेवी थाना क्षेत्र के अंतर्गत गगन स्कूल, इंडियन पब्लिक स्कूल, इंग्राहम स्कूल में प्रवासी शिविर बनाए हैं। क्वार्सी क्षेत्र में एक प्रवासी शिविर रामघाट रोड स्थित सुगम समागम मैरिज होम में बनाया गया है। इनमें खानपान से लेकर सभी सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। इसके बाद भी लोगों का यहां ठहराव नहीं हुआ। इधर, गांधी पार्क बस अड्डे और गूलर रोड स्थित नगर निगम के शेल्टर होम में करीब 110 लोग ठहरे हुए हैं। यह वह लोग हैं, जो शहर में रहकर दिहाड़ी मजदूरी कर अपना पालन पोषण करते हैं।
... और पढ़ें

चामुंडा मंदिर पर कन्याओं का किया पूजन

30 महिला पुलिसकर्मियों को मास्क बनाने को लगाया

लॉकडाउन में समय पास करने वाली खबर

भविष्य की परीक्षाओं की तैयारी कर रही हैं लघिमा अलीगढ़। मानसरोवर कालोनी निवासी लघिमा गुप्ता इन दिनों आगामी सीटैट परीक्षाओं की तैयारी कर रही हैं। उन्होंने बताया कि स्वाध्याय से मन घर के अंदर ही रहता है। इसलिए वह घर से बाहर निकलने की सोचती भी नहीं हैं।   रामायण सीरियल का ले रहे हैं आनंद अलीगढ़। हिमांशु शर्मा ने बताया कि रामायण सीरियल का आनंद वह परिवार के साथ ले रहे हैं। इसके बाद दिन में समय मिलने पर धार्मिक चर्चा भी करते हैं। उन्होंने सभी से घर में रहने की ही अपील की है। बच्चों के साथ चित्रकारी कर रहे हैं अब्दुल अलीगढ़। जमालपुर के आसिफ नगर निवासी अब्दुल जलील अपने बेटे मोहम्मद वजीह और मो. सबीह के साथ इन दिनों चित्रकारी करने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि इससे पूरा दिन भी निकल जाता है और बच्चे घर से बाहर जाने की सोचते भी नहीं हैं। ईशम खां गहनता से पढ़ते हैं अमर उजाला अलीगढ़। मौलाना आजाद नगर निवासी ईशम खां इन दिनों गहनता से अमर उजाला पढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह अलीगढ़ विकास कल्याण समिति के अध्यक्ष हैं। दिन भर गहनता से अध्ययन करने से दिन कट जाता है। उन्होंने कहा कि अमर उजाला योजनाओं से लेकर वर्तमान हालातों की खबर सटीकता के साथ प्रकाशित कर रहा है। ऐसे में घर बैठे ही पूरे देश की खबरें पढ़ डालते हैं।   हारमोनियम से धुन निकालने में व्यस्त हैं प्रवीन अलीगढ़। गोंडा के भेमती गांव निवासी प्रवीन कुमार उपाध्याय इन दनों हारमोनियम बजाकर धुनें निकालने में व्यस्त हैं। उन्होंने बताया कि वीडियो बनाकर वह अपने दोस्तों को साझा करते हैं। ऐसे में समय बड़े अच्छे से घर में रहते हुए ही पास हो रहा है।   आनलाइन पढ़ रहे हैं महेंद्र सिंह अलीगढ़। आंबेडकर कालोनी निवासी महेंद्र सिंह ने आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी आनलाइन कक्षा के माध्यम से शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि सफलता क्लासेज कोचिंग ने आनलाइन कक्षाएं शुरू कर दी हैं। जिससे पढ़कर वह समय पास कर रहे हैं। पेंटिंग बनाकर शौक पूरा कर रहे शिवम अलीगढ़। प्रिंस कालोनी के एमआईजी 34 निवासी शिवम मारवाह इन दिनों घर में पेंटिंग का शौक पूरा कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि घर में रहना जरूरी है। इसलिए मन लगाने के लिए पेंटिंग बनाना शुरू कर दिया है।   ड्राइंग करती रहती हैं इमरा खान अलीगढ़। एलकेजी में पढ़ने वाली जेल रोड निवासी इमरा खान इन दिनों ड्राइंग में व्यस्त हैं। भाई महमूद अहमद ने बताया कि इससे वह घर से बाहर नहीं जाती है और घर में रहकर समय समय पर कलाकृतियां बनाकर रंग भरती रहती हैं।   प्रियंका ने घर में रहने की अपील की अलीगढ़। एकता नगर निवासी प्रियंका ने घर से एक अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर जारी की है। इस तस्वीर के माध्यम से उन्होंने लोगों से अपील की है कि स्वस्थ रहने के लिए घर पर ही रहें।     मानसी ने चित्रकला से लगाया अपना मन अलीगढ़। कनवरीगंज निवासी मानसी गोटेवाल घर में मन लगाने के लिए चित्रकला को हथियार बनाया है। उन्होंने कहा कि घर से बाहर जाना नहीं है। ऐसे में चित्रकला के जरिए अपने मन को बहलाना शुरू किया है।             योगा और अखबार से पास होता है दिन अलीगढ़। क्वार्सी के राजीव नगर निवासी अजय जादौन ने बताया कि वह सुबह सबसे पहले अमर उजाला पढ़ते हैं। इसके साथ ही अपने बेटे आदर्श जादौन के साथ योगा करते रहते हैं। इससे दिन भी पास हो जाता है और घर से बाहर भी नहीं निकलना पड़ता।   बच्चों को क्राफ्ट बनाना सिखा रहे हैं विज्ञान प्रवक्ता अलीगढ़। गोपीराम पालीवाल इंटर काले के रसायन विज्ञान के प्रवक्ता रघुवर दयाल इन दिनों बच्चों को क्राफ्ट सिखाकर समय पास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि बेल पत्थर से एकतारा बनाना अभी बच्चों को सिखाया है। इससे सभी घर पर ही रहते हैं।   कैरम खेलकर समय बिता रहीं पूर्व महापौर अलीगढ़। पूर्व महापौर शकुंतला भारती इन दिनों कैरमबोर्ड खेलकर समय ब्यतीत कर रही हैं। उन्होंने बताया कि परिवार के सदस्यों के साथ मिलकर कैरम खेलते समय वक्त का पता नहीं चलता है। ऐसे में वह घर से भी नहीं निकल रही हैं।  ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Aligarh Dueshera Coupon
Aligarh Dueshera Coupon
Aligarh Dueshera Coupon
Aligarh Dueshera Coupon

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us