बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?
Myjyotish

शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

अलीगढ़ : गाड़ी जबरन बंद करने से गुस्साए किसानों ने थाने में किया हंगामा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
सिहानी नगरिया के किसान की टाटा मैक्स गाड़ी को पुलिस द्वारा जबरन थाने में बंद करने को लेकर भाकियू स्वराज के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा काटा। पुलिस के अभद्र बर्ताव से आहत कार्यकर्ता दादों थाने पर धरने पर बैठ गए। एसओ से समझौते व गाड़ी छोड़ने के बाद ही धरना समाप्त किया गया।
जिलाध्यक्ष जितेंद्र शर्मा ने बताया कि गत दिवस भाकियू स्वराज अलीगढ़ इकाई के पदाधिकारियों के पास सिहानी नगरिया के किसान आये। उन्होंने बताया कि पुलिस ने 8 जून से उनकी टाटा मैक्स गाड़ी को जबरन थाना दादों में बंद कर रखा है और थाने जाने पर सुनवाई नहीं की जाती है। फटकार कर भगा दिया जाता हैं। पदाधिकारियों ने थाने पर पहुंचकर वार्ता की तो उनसे भी अभद्र बर्ताव किया गया।
इसकी जानकारी मिलने पर वह कार्यकर्ताओं के साथ थाने पहुंच गए और दोपहर 2 बजे से किसानों के साथ धरना शुरू कर दिया गया। रात्रि करीब 11 बजे जब थानाध्यक्ष दादों अजब सिंह थाने पर आए तो उन्होंने संगठन पदाधिकारियों से बातचीत की। जिलाध्यक्ष जितेंद्र शर्मा व प्रदेश महासचिव ओबीसी मोर्चा डॉ. अवधेश यादव से बातचीत के बाद उन्होंने थाने के पुलिसकर्मियों की गलती मानी और कहा कि हम अपने थाने पर किसी किसान के साथ गलत तरीके के व्यवहार नहीं होने देंगे। इसके बाद तत्काल गाड़ी को किसान के सुपुर्द कर छोड़ दिया।
धरना देने वाले पदाधिकारियों में राष्ट्रीय सचिव ओबीसी मोर्चा डॉ. शैलेश यादव, जिलाध्यक्ष ओबीसी मोर्चा सुनहरी यादव, जिला महासचिव अजय सिंह फौजी, तहसील उपाध्यक्ष शिवकुमार, छात्र सभा जिलाध्यक्ष विकास यदुवंशी, युवा प्रमुख जिला सचिव सुभाष यादव, सांसद यादव, यादराम यादव आदि शामिल थे।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : प्यार में मिला धोखा, शिकायत करने पर पीड़िता को पीटा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
गभाना थाना क्षेत्र के नगला निवासी एक युवक पर नोएडा की युवती ने प्रेम संबंधों के बाद कोर्ट मैरिज करना और फिर युवती को छोड़ देने का आरोप लगा है। शनिवार को युवती इस मामले की शिकायत लेकर एसएसपी कार्यालय जा रही थी। आरोप है कि उसके साथ आरोपी के भाइयों ने मारपीट की। राहगीरों की मदद से उसने अपनी जान बचाई।
पीड़िता ने बताया कि गभाना क्षेत्र के गांव नगला निवासी युवक ने ढाई वर्ष पूर्व कोर्ट मैरिज की थी। वह दोनों नोएडा की एक निजी कंपनी में काम करते थे। वहीं पर प्रेम संबंध हुए। उसके बाद कोर्ट मैरिज कर ली। आरोप है कि आरोपी ने कुछ समय बाद उसे घर से निकाल दिया।
इतना ही नहीं गर्भपात भी कराया। शनिवार सुबह एसएससी ऑफिस शिकायत के लिए आते समय जेल पुल के पास आरोपी के भाईयों ने मारपीट भी की। इधर, महिला की शिकायत पर थाना सिविल लाइंस पुलिस मौके पर पहुंची और उसे थाने ले गई।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : मुख्यमंत्री से बढ़वाएंगे मृतकों के परिजनों की सहायता राशि

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के प्रदेश अध्यक्ष इंजीनियर भुवनेश्वर सिंह ने शनिवार को जिलाध्यक्ष डॉ. शैलेंद्रपाल सिंह के आवास पर समीक्षा बैठक की। अध्यक्षता प्रदेश महासचिव डॉ. राजेश सिंह चौहान ने की। बैठक में जहरीली शराब का मुद्दा उठा और मृतकों की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखकर प्रार्थना की गई। प्रदेश अध्यक्ष ने जहरीली शराब के सेवन से हुई मौतों की सूची मांगी और कहा कि सहायता राशि बढ़ाने की मांग की जाएगी। समीक्षा बैठक में संगठन को बढ़ाने तथा ग्रामीणों को सदस्य बनाने पर जोर दिया गया।
यहां प्रदेश अध्यक्ष इंजीनियर भुवनेश्वर सिंह ने कहा कि मरने वालों की लिस्ट बनाकर प्रदेश कार्यालय को भेजी जाए, जिससे मुख्यमंत्री से सहायता राशि बढ़ाने की मांग की जाएगी। प्रदेश महासचिव हरगोविंद सिंह ने कहा कि मंडल, जिला और महानगर की सभी इकाई-प्रकोष्ठ आपस में सामंजस्य बैठाकर सदस्यता अभियान पर जोर दें। महासचिव हेमंत सिंह गुड्डू, महानगर अध्यक्ष वीरांगना ममता राघव, युवा मंडल अध्यक्ष पारस चौहान, दलवीर चौहान, राजकुमार सिंह, राकेश सेंगर, प्रतिभा राघव, अनिल चौहान, प्रज्ञवीर सिंह, डॉ. मानवेंद्र चौहान, भोला यदुवंशी, गोविंद सिंह, वीरेश राघव, बंटी जादौन, संजीव राघव, अतुल सिंह आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

ऋषि का करीबी फर्जी पेट्रोल पंप संचालक राजू मामा गिरफ्तार

गोधा थाना क्षेत्र के तालिबनगर में छह जून को पुलिस व पूर्ति विभाग द्वारा सील किए गए फर्जी पेट्रोल पंप के संचालक राजू मामा उर्फ रामधुन शर्मा को शनिवार को पुलिस ने साधु आश्रम के पास से गिरफ्तार कर लिया है। राजू मामा के तार जहरीली शराब कांड के मुख्य आरोपी ऋ षि शर्मा से जुड़े हैं। ऋषि और राजू पुराने करीबी हैं। व्यावसायिक गतिविधियों में भी दोनों की हिस्सेदारी रही है। शनिवार को पुलिस उससे पूछताछ में जुटी रही।


छह जून को गोधा क्षेत्र के तालिबनगर में पुलिस व पूर्ति विभाग की टीम ने फर्जी पेट्रोल पंप पकड़ा था। पूर्ति निरीक्षक ने पांच लोगों के खिलाफ गोधा थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। साथ ही पेट्रोल पंप से एक मशीन, दो नोजल सहित टैंक जब्त किया गया था। इसके अलावा, अतरौली के माहेश्वरी पेट्रोल पंप से पिछले दिनों 17 हजार लीटर ईंधन खरीदने की एक रसीद भी मिली थी।


डीएसओ राजेश कुमार सोनी ने मिलावटी ईंधन के साथ ही बॉयोडीजल की आशंका के चलते सैंपल भरकर लैब भेज दिए थे। इधर, पुलिस स्तर से भी मामले की विवेचना शुरू हो गई थी। इस मामले में गोधा पुलिस ने पंप संचालक राजू मामा को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि नामजद रोहित अत्री और दिव्यांश शर्मा फरार हैं।
... और पढ़ें
गोधा पुलिस की गिरफ्त में फर्जी पेट्रोल पंप संचालक राजू मामा। गोधा पुलिस की गिरफ्त में फर्जी पेट्रोल पंप संचालक राजू मामा।

जहरीली शराब कांड ः ऋषि के फार्म हाउस व तालानगरी की घी फैक्टरी में भी बनती थी नकली शराब

जहरीली शराब कांड में पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाई का दौर जारी है। इसी कड़ी में शनिवार को नया खुलासा हुआ है कि शराब माफिया ऋषि शर्मा के जवां सिकंदरपुर फार्म हाउस और तालानगरी की एक नकली घी फैक्टरी में भी शराब बनती थी। इस फैक्टरी का संचालक बुलंदशहर का रहने वाला है। उसी फैक्टरी संचालक के जरिये ही केमिकल कारोबारी विजेंद्र कपूर ने शराब सिंडिकेट को अल्कोहल देना शुरू किया था। ऋषि की मदद से पुलिस ने घी फैक्टरी संचालक को दबोच लिया और शनिवार को कारोबारी विजेंद्र कपूर को रिमांड पर लेकर उसका आमना-सामना कराया तो कपूर सच कबूलने पर मजबूर हो गया। अब पुलिस कपूर को रात में बरेली ले जाने की तैयारी में है। जहां से उसने अल्कोहल सहित अन्य तरह के केमिकल की सप्लाई मिलने की जानकारी दी है।


जहरीली शराब कांड में मुख्य आरोपी एक लाख के इनामी रहे शराब तस्कर ऋषि शर्मा को शुक्रवार सुबह तीन दिन की रिमांड पर लिया गया था। उससे पूछताछ के आधार पर यह साफ हुआ कि वह खुद अपने फार्म हाउस पर शराब बनवाता था। इसके अलावा, तालानगरी की घी फैक्टरी में भी शराब बनती थी। उस फैक्टरी का संचालक मूल रूप से बुलंदशहर का रहने वाला है। ऋषि ने बताया कि उसी संचालक के जरिये हमारे शराब सिंडिकेट को कारोबारी विजेंद्र कपूर से अल्कोहल मिला करता था। इस जानकारी के आधार पर पुलिस ने रात में ही उस संचालक को धर दबोचा। 

दोबारा रिमांड पर लिए विजेंद्र कपूर से कराया सामना
शनिवार सुबह दस बजे तालानगरी की केमिकल फैक्टरी के स्वामी कारोबारी विजेंद्र कपूर को भी रिमांड पर लिया गया। इसके बाद कपूर का जब घी फैक्टरी संचालक से सामना कराया तो वह हक्का-बक्का रह गया और पिछले रिमांड की तरह असहयोग के बजाय कुछ भी छिपाने की स्थिति में नहीं रहा। कपूर ने स्वीकारा कि घी फैक्टरी संचालक को वह लंबे समय से एसडीएस (एक्सट्रा न्यूटल अल्कोहल) देता था। यह केमिकल वह शराब बनाने के लिए लेता था। इसी घी फैक्टरी संचालक ने उसकी मुलाकात विपिन, शिवकुमार, अनिल चौधरी व ऋषि के शराब सिंडिकेट से कराई और कपूर उन्हें भी अल्कोहल की सप्लाई देने लगा। अब कपूर ने स्वीकारा है कि उसे बरेली के ठिकाने से केमिकल व अन्य सभी तरह के अल्कोहल मिलते थे। इसे लेकर पुलिस की एक टीम उस ठिकाने पर रात में ही जाने की तैयारी में है। जहां कपूर को भी साथ लेकर जाया जाएगा। ताकि उसकी बात की तस्दीक कराई जा सके। 

ऋषि व घी फैक्टरी संचालक ने बताए एक दर्जन नाम
रिमांड पर लिए गए ऋषि व घी फैक्टरी संचालक से पूछताछ का दौर अभी जारी है। उनसे बातचीत के आधार पर इस सिंडिकेट से जुड़े छोटे-बड़े करीब एक दर्जन अन्य नाम भी सामने आए हैं। जिनकी तलाश में अलग से टीमों को लगा दिया गया है। घी फैक्टरी पर भी पुलिस ने काफी कुछ खंगाला है। मगर अब उन्हें वहां किसी तरह का माल नहीं मिला है।

ऋषि का कल और कपूर का आज होगा रिमांड पूरा
न्यायालय के निर्देश पर ऋषि का रिमांड सोमवार तड़के तक है, जबकि कपूर का रविवार रात 10 बजे तक है। तब तक ये पुलिस अभिरक्षा में हैं। निर्धारित समय पर दोनों को जेल दाखिल किया जाएगा।


इन सवालों पर कपूर ने स्वीकारा गाेरखधंधे का सच
दूसरे रिमांड पर पुलिस व आबकारी टीम ने संयुक्त रूप से की कपूर से पूछताछ
अलीगढ़। तालानगरी में सैनिटाइजर व स्याही फैक्टरी के संचालक विद्या नगर निवासी केमिकल कारोबारी विजेंद्र कपूर को शनिवार सुबह दूसरी बार दो दिन के रिमांड पर लिया गया है। इस दौरान पुलिस व आबकारी टीम ने उससे कई घंटे तक संयुक्त रूप से पूछताछ की। चूंकि, इस बार घी फैक्टरी संचालक से उसका सामना करा दिया गया था और पहली बार के रिमांड पर जब्त किए गए दस्तावेजों का अध्ययन भी टीमों ने कर लिया था। इसलिए इस बार वह सवालों में उलझ गया और अपनी गलती का सच उसने स्वीकार लिया। बता दें कि तीन दिन पहले हुए रिमांड पर कपूर ने पूछताछ में सहयोग नहीं किया था।

टैंक है, फिर ड्रमों में क्यों था माल
पूछताछ में उसने स्वीकारा कि 24 हजार लीटर का टैंक फैक्टरी में है। इसके बावजूद वह ड्रमों में माल रखता था। टैंक पूरी तरह खाली था। पिछले छह माह का स्टाक रजिस्टर ही तैयार नहीं था। कहीं कुछ लिखा भी था तो वह कटा हुआ था। पहली बार की पूछताछ में वह इन मुद्दों पर पुलिस को गुमराह करता रहा। सैनिटाइजर बनाने के लिए जो लाइसेंस दिखाया गया है। उसकी सत्यता क्या है। जो माल वह लेकर आता है, उसका सही सोर्स क्या है। इस बार उसने इन तमाम सवालों के जवाब दिए हैं।

- पुलिस रिमांड पर लिए गए शराब तस्कर ऋषि व विजेंद्र कपूर से पूछताछ में इस सिंडिकेट को लेकर महत्वपूर्ण सुराग हाथ लग रहे हैं, जिन पर हमारी टीमें काम कर रही हैं। दो नए नाम भी इस रैकेट में और सामने आए हैं। उनको भ हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। संभव है कि रविवार को इस कांड में और खुलासे किए जाएंगे। - कलानिधि नैथानी, एसएसपी
... और पढ़ें

10 हजार का ड्रम बिकता था 30 हजार में

ऋषि, विजेंद्र कपूर व घी फैक्टरी संचालक गौतम से अलग-अलग हुई पूछताछ में साफ हुआ है कि कपूर को अल्कोहल व डीएनएसपी स्प्रिट का एक ड्रम बरेली से 10 हजार रुपये में मिलता था। वह इस माल को शराब सिंडिकेट को 30 हजार रुपये प्रति ड्रम के हिसाब से बेचता था। इस तरह उसे एक ड्रम पर सीधे 20 हजार का मुनाफा होता था। वहीं नकली घी की आड़ में शराब बनाने वाले गौतम के जरिये जब शराब सिंडिकेट कपूर के संपर्क में आया तो इसमें डील हुई कि 5 हजार रुपये प्रति ड्रम का कमीशन गौतम को मिलेगा। इसके बाद यह माल गौतम के जरिये ही कपूर इस सिंडिकेट को देने लगा।

ऋषि देता था इनामी मदन को सप्लाई
ऋषि से पूछताछ में यह साफ हुआ है मडराक से 25 हजार के इनामी फरीदाबाद निवासी मदन गोपाल को वह नकली शराब की सप्लाई देता था। मदन यहां से माल ले जाकर कहां बेचता था, इसकी जानकारी वही दे सकता है।

बुलंदशहर से था ऋषि व गौतम का रिश्ता
ऋषि ने शराब व्यापार की शुरुआत अपने बहनोई के पास बुलंदशहर से की है। इसलिए उसके गौतम से पुराने रिश्ते थे। इन्हीं रिश्तों की आड़ में ऋषि की मदद से ही गौतम ने यहां पैर जमाए थे। बाद में गौतम ही कपूर व शराब सिंडिकेट का मध्यस्थ बना।

कपूर के पास सॉल्वेंट बनाने का लाइसेंस
कपूर की फैक्टरी से जब्त दस्तावेजों की जांच में पाया गया है कि उसके पास सॉल्वेंट बनाने का लाइसेंस है। इसी आड़ में वह तमाम तरह के केमिकल खरीदता था और यहां शराब तस्करों को बेचने लगा था।
... और पढ़ें

सालभर से नहीं मिला धेला... साहब! वापस ले लो गोवंश 

थाना जवां के नहर किनारे शराब माफिया द्वारा फेकी गयी जहरीली शराब।
गोशाला में गोवंशों के भरण-पोषण के लिए जून 2020 से लेकर आज तक एक रुपया नहीं मिला। उधारी लेकर चारे और भूसे का इंतजाम कर रहा हूं। गत बुधवार को 19 गोवंशों को अपना बताकर अधिकारी बिना कागजात के किसी अन्य गोशाला ले गए। दो लाख रुपये का चेक दिया जा रहा था, जबकि हिसाब 15 लाख रुपये के आसपास है। कमाई का अन्य कोई साधन नहीं है, ऐसे में 110 गोवंशों का भरण पोषण मुश्किल हो रहा है।

इसीलिए इन गोवंशों को वापस लेकर अन्य गोशालाओं में भेज दिया जाए। यह अपील अकराबाद ब्लॉक के लधउआ-धर्मपुर स्थित गोशाला संचालक बाबा बाबूराम ने मुख्य विकास अधिकारी से की है।
बाबा बाबूराम ने बताया कि 20-25 साल से अपनी सामर्थ्य के अनुसार सीमित संख्या में निराश्रित गोवंशों की सेवा कर रहे थे। वर्ष 2019 के जनवरी और मई महीने में लगभग 109 निराश्रित गोवंश जिला प्रशासन ने संरक्षण के लिए दे दिए। जून 2020 तक भूसा चारा आपूर्ति के लिए भुगतान किया गया।

इसके बाद से लेकर आज तक कोई रुपया नहीं मिला। गत बुधवार को तहसीलदार कोल और पशु चिकित्साधिकारी द्वारा कुल 130 गोवंश में से 19 गोवंश अन्य गोशाला को हस्तांतरित किए गए। इसका लिखित आदेश तक जारी नहीं किया गया। जबकि अन्य गोवंश को सरकारी गोवंश नहीं माना गया। आर्थिक संकट होने के कारण 110 गोवंशों को पालने में असमर्थ हूं। इसीलिए इन गोवंश को वापस ले लिया जाए। 


बाबा बाबूराम के गुरुभाई व स्वामी रामतीर्थ गोधाम ट्रस्ट के अध्यक्ष राकेश कुमार रामसन ने बताया कि जिस व्यक्ति ने गृहस्थ जीवन छोड़कर 30 साल पहले गोसेवा शुरू की थी। प्रशासन ने आज उसे अपनी सेवा छोड़ने को मजबूर कर दिया है। प्रशासन को तत्काल संज्ञान लेना चाहिए।


नौ जून को गोशाला में गए थे, जहां रिकार्ड में सिर्फ 19 गायें मिली थीं, जिन्हें अन्य जगह भेज दिया गया है। चारे के भुगतान के लिए दो लाख रुपये का चेक दिया गया, लेकिन इसे लेने से मना कर दिया गया। अगर गोवंशों को पालने में समस्या है तो उनके गोवंशों को लेकर हम अन्य जगह व्यवस्था करेंगे। 
- डॉ. चंद्रवीर सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : गरीबों की होगी तलाश, बनेंगे नये राशन कार्ड

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
कोरोना काल में कोई भी गरीब राशन के अभाव में भूखा न रहे, इसके लिए जिला पूर्ति विभाग ने विशेष अभियान शुरू किया है। तहसीलवार गरीबों/प्रवासी श्रमिकों की तलाश की जा रही है। इन सभी के राशन कार्ड बनाए जाएंगे। सभी तहसीलों से डाटा मांगा गया है। साथ ही लोग खुद भी सीधे पूर्ति विभाग के कार्यालय में जाकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदकों की पात्रता की जांच की जाएगी। पात्र पाए जाने पर सभी के पात्र गृहस्थी कार्ड बनाए जाएंगे।
जिला पूर्ति अधिकारी राजेश कुमार सोनी ने बताया कि कोरोना काल में लोगों के धंधे रोजगार छिन गए हैं। मजदूरों को काम नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में उनके भोजन के अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है। कोई भी पात्र व्यक्ति पात्र गृहस्थी राशन कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है।
वह तहसील या फिर सीधे जिला पूर्ति विभाग से संपर्क कर आवेदन कर सकता है। कोटेदारों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह अपने-अपने इलाके में ऐसे लोगों को चिन्हित करें, जो पात्र होने के बाद भी राशन कार्डधारक नहीं हैं। इन सभी को राशन कार्ड उपलब्ध कराए जाएंगे। राशन कार्ड पर दर्ज प्रति व्यक्ति/यूनिट पर पांच किलो राशन दिया जाएगा।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : प्रसन्न रहने का शक्तिशाली माध्यम है संगीत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
रोटरी अंतरराष्ट्रीय फेलोशिप माह के अंतर्गत शुक्रवार देर शाम रोटरी अंतर मंडलीय गोष्ठी का आयोजन जीवन में संगीत का महत्व विषय पर किया गया। वक्ताओं ने कहा कि संगीत बहुत ही प्रसन्न रहने का शक्तिशाली माध्यम है। इससे सकारात्मक भाव उत्पन्न होते हैं। गायन से आज के समय में मरीजों का उपचार किया जा रहा है। हमारे पौराणिक इतिहास में शंख बजाकर मन को शांत व रोगों को दूर किया जाता था।
मुख्य अतिथि के रूप में मंडल अध्यक्ष दिनेश शुक्ला व मुख्य वक्ता के रूप में विश्व प्रसिद्ध लोकगीत गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने प्रतिभागिता की। मालिनी अवस्थी ने कहा कि संगीत बच्चा पैदा होने से लेकर अंत समय तक हमारे मन में रहता है। संगीत वह माध्यम है, जिसमें कई रस पैदा होते हैं। कार्यक्रम में किशोर कटरू, मुकेश सिंघल, पवन अग्रवाल, विवेक गर्ग, तरुण सक्सेना, डॉ. विनोद सक्सेना, अखिल अग्रवाल, पवन अग्रवाल, सारिका सक्सेना, अंजली श्रीवास्तव, अर्चना विद्यार्थी आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : घर में बनाई मजार, शिकायत हुई तो खुद हटाई

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़
महानगर के देहली गेट क्षेत्र के हिंदू आबादी वाले इंदिरा नगर में एक मजदूर के घर में पीर बाबा की मजार बना ली गई। हालांकि, बजरंग दल पदाधिकारियों की आपत्ति और पुलिस के समझाने पर मजदूर ने घर में बनाई मजार को हटा लिया है। मजार हटाए जाने के तीन-चार दिन बाद यह प्रकरण शनिवार सोशल मीडिया पर सुर्खियों में है।
इंदिरा नगर निवासी मजदूर जयपाल दंपती पड़ोसी जनपद स्थित चर्चित पीर बाबा के प्रति आस्था रखते हैं और समय समय पर उनकी मजार पर सेवा पूजा के लिए जाते हैं। पिछले सप्ताह जयपाल ने अपने घर में उन्हीं पीर बाबा की मजार के स्वरूप की दो छोटी-छोटी मजार बना लीं। बगल में एक देवी की प्रतिमा रख ली और उनकी इबादत करनी शुरू कर दी। बजरंग दल संयोजक गौरव शर्मा ने इस पर आपत्ति की।
गौरव शर्मा के अनुसार उन्होंने जब इसकी जानकारी की तो पता चला कि जयपाल इस मजार पर मोहल्ले की दुखी महिलाओं को बुलाकर उनकी पूजा कराता है। वहां एक गैर समुदाय का व्यक्ति है। गौरव शर्मा ने अपनी शिकायत में यह भी कहा था कि इलाके में अधिकतर अशिक्षित हिंदू परिवार रहते हैं और यहां कहीं इसकी आड़ में धर्मांतरण तो नहीं कराया जा रहा है।
उन्होंने ट्विटर के जरिये शासन-प्रशासन के आला अधिकारियों व जिले के अधिकारियों को उसका फोटो वीडियो टैग कर शिकायत कर दी। शिकायत पर चार दिन पहले संज्ञान लेते हुए देहली गेट पुलिस ने जयपाल को थाने बुलाया। उससे इस विषय में जानकारी की तो उसने पीर बाबा के प्रति अपनी आस्था बताते हुए कहा कि वह कोई गलत काम नहीं कर रहा। मगर जब उसे विवाद के बारे में बताया गया तो उसने घर जाकर मजार हटा ली।
इस विषय में जयपाल ने कहा कि जिन पीर बाबा की मजार उसने बनाई थी, वहां सभी धर्मों के लोग आते हैं। वह पीर बाबा के साथ हिंदू देवी देवताओं की भी पूजा करता है। उसकी किसी अन्य तरह की मंशा नहीं थी। उसने स्वीकारा कि वह प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिले मकान में रहता है। इंस्पेक्टर देहली गेट प्रमेंद्र कुमार ने बताया कि मामले में शिकायत हुई थी। मगर कोई विवाद नहीं था। जयपाल ने खुद सभी के समझाने पर घर में बनाई मजार हटा ली हैं। वाकया पांच-छह दिन पुराना है। वहां सब कुछ सामान्य है।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : तीन महीने पहले बनी सड़क को फिर खोदे जाने पर भड़के कांग्रेसी

रामघाट रोड पुरानी चुंगी तिराहे से लेकर केला नगर चौराहे तक तीन महीने पहले बनी सड़क को फिर से खोदे जाने पर कांग्रेसी भड़क गए। इसको लेकर कांग्रेसियों ने मौके पर पहुंचकर प्रदर्शन किया।
बताते हैं कि तीन महीने पहले जब यह सड़क बन रही थी, तब घटिया निर्माण को लेकर कांग्रेसियों ने विरोध प्रदर्शन किया था। इस मामले में मजिस्ट्रेट स्तर से जांच की गई थी, जिसके बाद नगर निगम ने तारकोल डालकर लीपापोती कर दी थी। अब इस सड़क को फिर से खोदा जा रहा है। बताया गया है कि जल निगम पानी की पाइप लाइन डालने के लिए इस सड़क को खोद रहा है।

कांग्रेसियों की मांग है कि जब सड़क निर्माण किया गया था, तब जल निगम कहां था और अब जल निगम के सड़क खोद देने के बाद इसकी मरम्मत कौन करेगा? कांग्रेसियों ने कहा कि जनता के पैसे की बर्बादी और अनियोजित कार्यशैली के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा। इस अवसर पर आगा यूनुस, पंडित महेश शर्मा, मोहम्मद नदीम, अनिल कुमार, हेमंत कुमार, विशंभर दयाल, हाजी फकीर मोहम्मद, अलाद्दीन, आलिम नबी, देवेंद्र वर्मा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अलीगढ़ : बारिश का मौसम शुरू होने को, नगर निगम करा रहा नालों की सफाई

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
बरसात का मौसम शुरू होने को है और नगर निगम द्वारा नालों से सिल्ट की सफाई का काम अब शुरू कराया गया है। जो बारिश से पहले पूरा होना संभव नहीं है। इसको लेकर कांग्रेसियों ने गहरी आपत्ति दर्ज कराई है। कांग्रेसी नेता गजेंद्र सिंह ने इस मामले को लेकर हरित प्राधिकरण और शहर विकास मंत्री को पत्र लिखकर शिकायत की है।
रघुवीर पुरी, मेल रोज बाईपास, आगरा रोड और शहर के अन्य हिस्सों में नालों से सिल्ट निकालने का काम किया जा रहा है। जबकि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के अलीगढ़ के संबंध स्पष्ट निर्देश हैं कि सिल्ट को सड़कों पर नहीं फैलाया जाएगा। इसको लेकर प्राधिकरण ने जिला प्रशासन और नगर निगम को कुछ वर्षों पहले तलब किया था और स्पष्ट निर्देश दिए थे किस सिल्ट को सड़कों पर नहीं फैलाया जाएगा।
इसके बाद तत्कालीन नगर आयुक्त शैलेंद्र कुमार सिंह ने मेरठ की तर्ज पर नाव के आकार वाली ट्रॉलियां तैयार करवाई थीं, जिनमें नालों से सीधे सिल्ट डालकर शहर से बाहर फेंक दी जाती थी। पत्र में कहा गया है कि दुर्भाग्य की बात है कि फिर से व्यवस्था पुराने ढर्रे पर आ गई है, क्योंकि नाला सफाई में भ्रष्टाचार का बहुत बड़ा खेल होता है। इसमें नगर निगम के कुछ कर्मचारी और अधिकारी भी शामिल हैं। इस पूरे मामले की जांच कराई जाए। साथ ही बरसात के मौसम में शहर में जलभराव न हो, इसकी व्यवस्था भी सुनिश्चित करवाई जाए।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us