बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन,  दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें
Myjyotish

इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन, दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

इलाहाबाद विश्वविद्यालय बीए प्रथम वर्ष और पीजी प्रथम सेमेस्टर के छात्रों का भी होगा प्रमोशन

इलाहाबाद विश्वविद्यालय (इविवि) एवं संघटक महाविद्यालयों में स्नातक प्रथम वर्ष और परास्नातक (पीजी) एवं प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों के प्रथम सेमेस्टर के छात्रों को भी बिना परीक्षा अगले सत्र में प्रमोट किए जाने का निर्णय लिया गया है। हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों को यह सुविधा भी दी है कि अगर वे प्रमोशन से संतुष्ट नहीं है और उन्हें लगता है कि परीक्षा के माध्यम से वह बेहतर अंक प्राप्त कर सकते हैं तो उनके सामने परीक्षा में शामिल होने का विकल्प भी है। 

इविवि के परीक्षा नियंत्रक प्रो. रमेंद्र कुमार सिंह के अनुसार परीक्षा सितंबर में प्रस्तावित है, लेकिन परीक्षा का आयोजन तभी होगा, जब उस वक्त की कोविड से जुड़ी परिस्थितियां इसके लिए अनुमति देंगी। प्रथम से द्वितीय वर्ष में प्रमोट किए जाने वाले छात्रों के प्रथम वर्ष के प्राप्ताकों का निर्धारण अगले साल द्वितीय वर्ष की परीक्षा में मिले प्राप्तांकों के आधार पर होगा। द्वितीय वर्ष की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद प्रथम वर्ष के अंक निर्धारित किए जाएंगे। वहीं, जो छात्र सितंबर में प्रस्तावित स्नातक प्रथम वर्ष की परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं, उन्हें संबंधित इकाई यानी इलाहाबाद विश्वविद्यालय के काउंटर या कॉलेज के काउंटर पर अपना पूरा विवरण उपलब्ध कराना होगा। 
... और पढ़ें

बेटी ने मां को पेड़ से बांधकर पीट-पीटकर मार डाला, बोली- गलत काम करने का बना रही थी दबाव

यमुनापार के खीरी थाना क्षेत्र में बुधवार की रात एक विवाहिता को पेड़ से बांध लाठियों से पीटकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने इस मामले में विवाहिता की नाबालिग बेटी और दो जेठों को हिरासत में ले लिया है। नाबालिग बेटी का आरोप है कि उसकी मां खुद तो गलत थी ही, उस पर भी गलत काम के लिए दबाव बना रही थी। इसी कारण उसने अपने दो ताऊ की मदद से मां को मार दिया। पुलिस ने गांव के ही रहने वाली एक दबंग को हिरासत में ले लिया है। रात में वह विवाहिता के घर गया था। उसी के बाद झगड़ा शुरू हुआ था।

खीरी के नीवी गांव के राधेश्याम बिंद (परिवर्तित नाम) ने कुछ महीने पहले गांव के विनोद दुबे उर्फ मन्नू दुबे को अपनी 15 बिस्वा जमीन बेची थी। पैसा मिलने के बाद वह अपने परिवार को छोड़कर कहीं अलग रहने लगा था। विनोद दुबे ने उसे पूरा पैसा नहीं दिया था। विनोद पर कुछ पैसा बकाया था। राधेश्याम की पत्नी विनोद से थोड़ा थोड़ा करके हर महीने बकाया पैसे लेती थी। इसी कारण विनोद अक्सर राधेश्याम के घर आने जाने लगा। परिवार की बदनामी शुरू हुई तो राधेश्याम के घर वालों ने उसकी पत्नी का विरोध करना शुरू किया लेकिन विनोद घर आता जाता रहा। बुधवार की रात भी विनोद घर आया था। इसके बाद भोला की पत्नी और उसकी नाबालिग बेटी में लड़ाई झगड़ा हुआ।
... और पढ़ें

डॉक्टरों पर हमलों के खिलाफ एएमए मुखर, काली पट्टी बांधकर किया काम

फाफामऊ घाट पर रेत से फिर बाहर आया शव, अब तक मिल चुकी हैं 26 लाशें

prayagraj news : लगातार हो रही बारिश और गंगा के जलस्तर में हो रही वृद्धि के कारण फाफमऊ घाट पर दफन शव बाहर आ रहे हैं। prayagraj news : लगातार हो रही बारिश और गंगा के जलस्तर में हो रही वृद्धि के कारण फाफमऊ घाट पर दफन शव बाहर आ रहे हैं।

प्रयागराज में तैयार हो रही हॉकी खिलाड़ियों की ‘नर्सरी’, कई खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर नाम कर रहे रौशन

शहर में हॉकी के सुनहरे अतीत के साथ ही भविष्य के लिए बेहतरीन खिलाड़ियों की नर्सरी तैयार हो रही है। कई खिलाड़ी विभिन्न टीमों में राष्ट्रीय स्तर पर खेल रहे हैं। इतना ही नहीं शहर के आठ खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर कैग की टीम में शामिल हैं। इन खिलाड़ियों के दम पर कैग की टीम ने रेलवे को हराकर गत वर्ष राष्ट्रीय चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया। 

शहर में हॉकी खिलाड़ियों का गौरवशाली अतीत रहा है। शहर के रहने वाले सुजीत कुमार और दानिश मुजतबा ओलंपिक में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। इसके साथ ही जूनियर वर्ल्ड कप में जहीरुद्दीन, एसए आब्दी, आमिर खान, इमरान खान राष्ट्रीय टीम से खेल चुके हैं। जबकि, आतिश इदरीश, मनोज गुप्ता, सुनील कुमार भारतीय टेस्ट के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेले।
... और पढ़ें

अपहरण में एक को जेल, अपहृत शिक्षक ठगी में गिरफ्तार

कटरा में मनमोहन पार्क के पास से शिक्षक के अपहरण मामले में गिरफ्तार मुख्य आरोपी श्याम नारायण पांडेय जेल भेज दिया गया। चौंकाने वाली बात यह रही कि अपहृत शिक्षक रजनीकांत शुक्ला को भी 13 लाख रुपये की ठगी के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया। उसके खिलाफ औद्योगिक क्षेत्र पुलिस ने मुकदमा लिखकर यह कार्रवाई की। उधर कर्नलगंज पुलिस देर रात तक अपहरण के अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी रही। 

घटना एक दिन पहले हुई थी जब दिनदहाड़े असलहे के बल पर जूनियर हाईस्कूल के शिक्षक रजनीकांत शुक्ला को कार में खींचकर अगवा कर लिया गया था। जिसके बाद पुलिस ने करेली में घेराबंदी कर उसे मुक्त कराया था। मामले में देर रात कर्नलगंज पुलिस ने मुकदमा लिखा। मुकदमा भुक्तभोगी के साथी व सहकर्मी स्कूल लिपिक सचिन कुमार मिश्रा की तहरीर पर लिखा गया। जिसमें उसने आरोप लगया कि अपहरण में श्यामनारायण पांडेय व राहुल पांडेय समेत नौ लोग शामिल थे। पुलिस ने श्याम नारायण को मौके से ही गिरफ्तार किया था जिसे शुक्रवार को जेल भेज दिया गया। कर्नलगंज इंस्पेक्टर विनीत सिंह ने बताया कि घटना में प्रयुक्त कार सीज कर दी गई है। प्रयुक्त असलहे के बारे में जानकारी मिली है कि वह श्याम नारायण के बेटे का है, जिसकी तलाश की जा रही है। अन्य आरोपियों की तलाश भी जारी है। 

रुपये लेकर मुकरा, खुद करा ली नियुक्ति
उधर अपहरण के मामले में जेल भेज गए श्याम नारायण के भाई के दामाद सुनील कुमार शुक्ला की ओर से शिक्षक रजनीकांत पर 13 लाख की धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कराया गया। आरोप है कि उनके चचिया ससुर श्याम नारायण ने 13 लाख रुपये अपनी पुत्री की नियुक्ति के लिए दिए। जिस पर रजनीकांत ने उक्त पद पर अपनी नियुक्ति करा ली। आरोप है कि दो दिन पहले खुद रजनीकांत ने उनके चाचा को रुपये वापस करने के लिए बुलाया था। इसी क्रम में जब बृहस्पतिवार को वह गए तो वहां कहासुनी हो गई। जिसके बाद उसने खुद घर चलकर बात करने की बात कही। सीओ करछना राजेश यादव ने बताया कि आरोपी के खिलाफ मुकदमा लिखकर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
... और पढ़ें

राजकीय आश्रम पद्धति इंटर कॉलेजों में 124 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन शुरू 

अपहरण
राजकीय आश्रम पद्धति इंटर कॉलेजों में प्रवक्ता के पदों पर अब सीधी भर्ती नहीं होगी। प्रवक्ता के पदों पर चयन के लिए अभ्यर्थियों को प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा देनी होगी। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) ने शुक्रवार को चार विषयों में प्रवक्ता के 124 पदों पर भर्ती के लिए अपनी वेबसाइट पर विस्तृत विज्ञापन जारी कर दिया, जिसमें प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के लिए परीक्षा योजना एवं पाठ्यक्रम के बारे में भी जानकारी दी गई है। इसी के साथ प्रवक्ता के पदों पर भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है।

प्रवक्ता पद भर्ती के लिए पहली बार लिखित परीक्षा आयोजित होने जा रही है। इससे पहले सीधे इंटरव्यू के माध्यम से भर्ती होती थी, लेकिन शासन की ओर से अराजपत्रित पदों पर भर्ती के लिए इंटरव्यू समापन नियमावली लागू किए जाने के बाद अब प्रवक्ता पद पर भर्ती के लिए प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा होगी। मुख्य परीक्षा के आधार पर अभ्यर्थियों को अंतिम रूप से चयनित घोषित किया जाएगा।
... और पढ़ें

अश्लील तस्वीर भेजकर विवाहिता को किया ब्लैकमेल, मुकदमा दर्ज कर छानबीन में जुटी पुलिस

धूमनगंज निवासी विवाहिता को उसके ही जानने वाले ने ब्लैकमेल किया। अश्लील तस्वीर वायरल करने की धमकी देकर अपने पास आने को कहा। पीड़िता की तहरीर पर नामजद मुकदमा दर्ज कर पुलिस जांच में जुटी है। पीड़िता ने तहरीर में आरोप लगाया है कि वह दो साल पहले तक स्वास्थ्य विभाग में संविदा पर काम करती थी। वहां उसे अंबुज मिश्रा निवासी सुल्तानपुर मिला जो अकाउंटेंट था।

इसी दौरान वह उससे फोन पर बातचीत करने लगा। एक दिन फोन से अश्लील तस्वीर खींच ली और फिर उसे ब्लैकमेल करने लगा। आरोप है कि अब वह उसे धमका रहा है। कहता है कि ससुराल छोडक़र मेरे पास आ जाओ वरना तस्वीरें वायरल कर बदनाम कर दूंगा। यही नहीं ससुरावालों को जान से मारने की धमकी भी दे रहा है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 
... और पढ़ें

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव : भाजपा उम्मीदवार की नहीं हो सकी घोषणा, केशव की मौजूदगी में देर रात तक हुआ मंथन 

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के उम्मीदवार को लेकर भाजपा में अब भी खींचतान जारी है। शुक्रवार को भी समर्थित प्रत्याशी के नाम की घोषणा नहीं हो पाई। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में देर तक सहमति बनाने की कवायद होती रही। बताया जा रहा है कि एक नाम पर ज्यादातर नेता सहमत हैं। प्रदेश इकाई की सहमति के बाद शनिवार को उम्मीदवार के नाम की घोषणा की जा सकती है।

जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए तीन जुलाई को मतदान होगा। इससे पहले 26 जून को नामांकन होगा। सपा की ओर से मालती यादव के समर्थन की घोषणा पहले ही की जा चुकी है लेकिन भाजपा ने अभी पत्ते नहीं खोले हैं। हालांकि, पार्टी के नेताओं का कहना है कि उम्मीदवार का नाम तय कर लिया गया है। अनुमति के लिए शीर्ष नेतृत्व को नाम भेजा भी जा चुका है। इन चर्चाओं के बीच उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य शुक्रवार को शहर में रहे। ऐसे में उम्मीद की जा रही थी कि वे पार्टी समर्थित प्रत्याशी के नाम की घोषणा करेंगे लेकिन देर रात तक इंतजार होता रहा।

हालांकि, उप मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर जीत का दावा किया। उन्होंने ब्लाक प्रमुख के ज्यादातर पदों पर भी जीत के दावे किए। इन दावों के बीच केशव ने सर्किट हाउस में पार्टी नेताओं के साथ बैठक में उम्मीदवार के नाम पर भी चर्चा की। बैठक में कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, सांसद केशरी देवी पटेल, विधायक हर्षवर्धन बाजपेई, पूर्व विधायक दीपक पटेल एवं भाजपा पदाधिकारी मौजूद रहे। बताया जा रहा है कि एक नाम पर ज्यादातर नेता सहमत हैं। प्रदेश नेतृत्व को इससे अवगत भी कराया गया। हालांकि इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि शनिवार को प्रदेश इकाई की ओर से समर्थित उम्मीदवार के नाम की घोषणा की जा सकती है।
... और पढ़ें

प्रयागराज : विवाह में सामूहिक हर्ष फायरिंग के मामले में सात नामजद, अतीक के करीबी बताए जा रहे

सामूहिक हर्ष फायरिंग के एक दिन पहले वायरल वीडियो के मामले में पुलिस ने सात लोगों पर नामजद मुकदमा दर्ज किया है। यह सभी नवाबगंज क्षेत्र के रहने वाले बताए जा रहे हैं और अतीक अहमद के समर्थक के परिजन हैं। वीडियो के आधार पर चिह्नित कर पुलिस ने उनकी तलाश शुरू कर दी हैै। 
एक दिन पहले घटना का वीडियो वायरल होने के बाद जिले में हड़कंप मच गया था। इसमें आधा दर्जन से ज्यादा युवक राइफल व अन्य बंदूकों से एक साथ फायरिंग करते नजर आ रहे थे।

मामले की जानकारी पर पुलिस अफसरों ने जांच शुरू कराई और देर रात इस मामले में सात लोगों को नामजद करते हुए केस दर्ज किया गया। इनमें नवाबगंज निवासी वैश, फैज, असहद, अजहद, फरहान, अदनान के अलावा एक अन्य शामिल हैं। पुलिस ने बताया कि यह सभी असलम के परिवारीजन हैं जो अतीक के करीबी मुजफ्फर का भाई है। एसपी गंगापार धवल जायसवाल ने बताया कि सभी आरोपियों की तलाश की जा रही है। उनसे पूछताछ के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि घटनास्थल कहां का है। आरोपियों की तलाश में पुलिस की कई टीमें लगाई गई हैं। 

प्रोफेशनल शूटरों जैसी फायरिंग, कहां से मिली ट्रेनिंग
वायरल वीडियो में जिस तरह से 18-20 साल के युवक प्रोफेशनल शूटरों की तरह फायरिंग करते नजर आ रहे हैं, उसे लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। बड़ा सवाल यह है कि इनमें से किसी के नाम लाइसेंसी असलहा नहीं है। आखिर में इन्हें शस्त्र चलाने की ऐसी ट्रेनिंग कहां से मिली। गौरतलब है कि वीडियो में सभी कुर्सी पर बैठकर ताबड़तोड़ गोलियां दागते नजर आ रहे हैं। 

गैंगस्टर की कार्रवाई लंबित
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जिस असलम के घर हुए शादी समारोह के दौरान सामूहिक हर्ष फायरिंग की गई, उसके और उसके तीन भाईयों के शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण के लिए रिपोर्ट 15 दिन पहले ही भेजी जा चुकी है। लेकिन अब तक जिला प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उधर असलम के भाई मुजफ्फर के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई भी शुरू हो गई है। वह फतेहपुर में गोकशी और पुलिस पर हमले के मामले में वांछित है। मामले में पुलिस अफसरों का कहना है कि कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

भ्रष्टाचार, दुष्कर्म के आरोपी सरकारी कर्मचारी पर मुकदमा चलाने की अनुमति जरूरी नहीं- हाईकोर्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि सरकारी कर्मचारियों पर आपराधिक षड्यंत्र, दुष्कर्म, कदाचार, अनुचित लाभ लेने जैसे अपराध का अभियोग चलाने के सरकार से इसकी अनुमति लेना जरूरी नहीं है। इन पर बिना अनुमति लिए मुकदमा चल सकता है। कोर्ट ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 197 का संरक्षण, लोक सेवक को पदीय दायित्व निभाने के दौरान हुए अपराधों तक ही प्राप्त है।

यदि सरकार ने अभियोग चलाने की मंजूरी दे दी है तो ऐसे आदेश के खिलाफ अनुच्छेद 226 के तहत याचिका पोषणीय नहीं है। आरोपी को विचारण न्यायलय में अपनी आपत्ति दाखिल करने का अधिकार है। इस अधिकार का इस्तेमाल कोर्ट के आरोप पर संज्ञान लेने के समय या आरोप निर्मित करते समय किया जा सकता है। यहां तक कि अपील पर भी यह आपत्ति की जा सकती है। कोर्ट को सरकार की अभियोजन चलाने की अनुमति की वैधता पर निर्णय लेने का अधिकार है। कोर्ट साक्ष्य के आधार पर देखेगी कि अपराध का संबंध कर्तव्य पालन से जुड़़ा है या नहीं।
... और पढ़ें

हाईकोर्ट में फिर शुरू होगा मैन्युअल दाखिला, कोर्ट खुलने के बाद से ही वकील कर रहे थे मांग

इलाहाबाद हाईकोर्ट में मुकदमों का मैन्युअल दाखिला फिर से शुरू होगा। मुख्य न्यायाधीश ने इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं। अधिवक्ता सात जून को ग्रीष्मावकाश के बाद कोर्ट खुलने के बाद से ही इस बात को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। उनका कहना है कि ई दाखिले में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हाईकोर्ट बार ने भी इस बारे में मांग उठाई थी। इसे देखते हुए मुख्य न्यायाधीश ने 18 जून को जारी आदेश में मैन्युअल दाखिले की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से लागू कर दी है। निबंधक प्रोटोकॉल आशीष श्रीवास्तव की ओर से इस आशय की सूचना प्रसारित कर दी गई है। 

उल्लेखनीय है कि हाईकोर्ट के अधिवक्ता मुकदमों की ई फाइलिंग और वर्चुअल सुनवाई दोनों का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि यह दोनों व्यवस्था ठीक नहीं है और इससे वादकारियों का काफी नुकसान हो रहा है। वर्चुअल सुनवाई के लिए लिंक न मिल पाने की समस्या है तो ई फाइलिंग में डिफेक्ट आदि को लेकर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसे लेकर गत दिनों अधिवक्ताओं के कई प्रतिनिधिमंडलों ने मुख्य न्यायाधीश और महानिबंधक को ज्ञापन भी सौंपा था। हाईकोर्ट के अधिवक्ता विजय चंद्र श्रीवास्तव और सुनीता शर्मा ने इस मामले को लेकर सुप्रीमकोर्ट को पत्र भी भेजा था और फिजिकल सुनवाई शुरू करने की मांग की थी। मैन्युअल फाइलिंग का आदेश जारी होने से अधिवक्ताओं ने खुशी जताई है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us