विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी
Astrology Services

नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यूपी में आज मिले कोरोना वायरस के सात नए मरीज, संख्या हुई 103

देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों से अच्छी और कहीं से बुरी खबरें आ रही हैं। मंगलवार सुबह बरेली में पांच नए मरीज मिले हैं जिनके बाद सूबे में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 103 हो गई है।

31 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

अमेठी

मंगलवार, 31 मार्च 2020

बार्डर पर चेकिंग के लिए बनाए गए 37 प्वांइट

गौरीगंज (अमेठी)। लॉकडाउन अवधि में जिले में सिर्फ आवश्यक सामग्री की ढुलाई में लगे वाहनों को प्रवेश मिलेगा। इसके लिए जिले में 37 बार्डर प्वांइट चिन्हित करते हुए मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं। तैनात मजिस्ट्रेट को चेकिंग के बाद अधिकृत लोगों व वाहनों को प्रवेश की अनुमति देने को कहा गया है।
जिला प्रशासन ने लॉकडाउन की अवधि में सार्वजनिक व निजी तथा प्राइवेट वाहनों के संचालन को प्रतिबंधित कर दिया है। इस अवधि में सिर्फ उन्हीं वाहनों का संचालन होगा जो आवश्यक सामग्री ढुलाई के लिए अधिकृत किए गए हैं। कवायद सफल हो सके इसके लिए डीएम अरुण कुमार ने 37 बार्डर प्वाइंट निर्धारित करते हुए मजिस्ट्रेटों की तैनाती की गई है।
डीएम की ओर से जारी निर्देश में गौरीगंज थाने के कौहार, ऐठा, बाबूगंज तो मुंशीगंज थाने के परतोष तिराहा, जामो थाने के धर्मगतपुर, संभई, कादूनाला व गोगमऊ, अमेठी थाने के देवरी बार्डर, संग्रमापुर थाने में सहजीपुर, मुहीबशाह, खरेथू, धनापुर, धौरहरा व छाछा, पीपरपुर थाने में बीकापुर मोड़, छीड़ा, परसोइया, मुसाफिरखाना थाने में निजामुद्दीन व मझगवां, जगदीशपुर थाने में जायस तिराहा, गुलाबगंज चौराहा, वारिसगंज व आमघाट, कमरौली थाने में उतलेवा नाका, कठौरा, इन्हौना, बाजारशुकुल थाने में कटरा तिराहा, अंबेडकर तिराहा, सत्थिन, रीछघाट, उरेरमऊ व पूरे बडग़ाइन, मोहनगंज थाने में ओनडीह-अलाईपुर, जायस थाने में बोझी भूलामऊ, शिवरतनगंज थाने में पुंडा, खरावां हजारी व सरायमाधौ तथा फुरसगंज थाने के कस्बा, नहरकोठी, दाउदनगर व खैरहना में चेक प्वाइंट निर्धारित किया है।
... और पढ़ें

अमेठी में खुले रहेंगे किराना व मेडिकल स्टोर

गौरीगंज (अमेठी)। 14 अप्रैल तक के लिए घोषित लॉकडाउन के दौरान जिले के सभी किराना व मेडिकल स्टोर खुले रहेंगे। प्रशासन ने दुकानदारों को अपनी दुकानें सुबह छह बजे से रात 11 बजे तक संचालित करने का निर्देश दिया है। हालांकि दुकानदार दुकान पर सामान नहीं बेचकर सिर्फ होम डिलीवरी ही कर सकेंगे।
लॉकडाउन की अवधि में आम नागरिकों को घर पर ही सुविधा मुहैया करवाने में जुटे डीएम अरुण कुमार ने खाद्य सामग्री व दवाओं की आपूर्ति डोर-टू-डोर कराने की योजना बनाई है। कवायद सफल हो सके इसके लिए जिले के सभी किराना व दवा विक्रेताओं को अपनी दुकानें सुबह छह से रात 11 बजे तक खुली रखने को कहा गया है।
जारी आदेश में यह भी कहा गया है कि दुकान खुलने की अवधि में भी कोई दुकानदार अपनी दुकान पर सामान की बिक्री नहीं कर सकेगा। उसे सिर्फ लोगों की मांग पर होम डिलीवरी करने की अनुमति होगी। होम डिलीवरी के लिए उसे वाहन/रिक्शा तथा डिलेवरी ब्वॉय का पास दिया जाएगा। पास के लिए दुकानदार अपनी तहसीलों में संपर्क कर सकते हैं। डीएम ने मेडिकल स्टोर्स की जांच के लिए जिला आबकारी अधिकारी और ड्रग इंस्पेक्टर की एक कमेटी भी गठित की है।
ओवररेटिंग पर होगी कार्रवाई
डीएम का कहना है कि यह निर्णय लोगों को सहूलियत दिलाने के लिए लिया गया है। होम डिलीवरी के दौरान कोई भी दुकानदार किसी सामान का ज्यादा मूल्य लेगा तो उसके खिलाफ कड़ी वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

गांवों में आवश्यक वस्तुओं की किल्लत शुरू

अमेठी। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए घोषित 21 दिन के लॉकडाउन में लोगों पर घरों से निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है। एसडीएम कार्यालय में डोर टू डोर आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई को लेकर ठेला व अन्य व्यवसाइयों के पास बनाए जा रहे हैं।
शहरों में ठेला व अन्य व्यवसाई किसी न किसी माध्यम से सब्जी, किराना सामग्री, फल आदि पहुंचा रहे हैं। आवश्यक वस्तुओं के लिए ग्रामीणों को परेशान होना पड़ रहा है। ग्रामीण क्षेत्र के दुकानदार (किराना, फल व सब्जी) मनमाने दाम पर सामान बेच रहे हैं। मजबूर ग्रामीण कीमत से कई गुना दाम पर बिकने वाली सामग्री को खरीद रहे हैं।
लॉकडाउन घोषित होने के तीन दिन बाद भी जिला प्रशासन ने अपना पूरा फोकस शहरी इलाकों में केंद्रित कर रखा है। ऐसे में ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग लॉकडाउन का नियम तोड़कर बाहर निकलने को मजबूर होंगे। ग्रामीण नहीं समझ पा रहे हैं कि वह अपनी जरूरत का सामान आखिर कहां खरीदें।
लॉकडाउन से बढ़ी किसानों की परेशानी
कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने से किसानों की समस्याएं बढ़ गई हैं। इन दिनों चरी, उरद, मूंग, सब्जी, सूरजमुखी आदि की बुआई का समय चल रहा है। ऐसे में बीज भंडार की दुकानें बंद होने से किसानों को बीज नहीं मिल पा रहा है। इसको लेकर क्षेत्र के किसान परेशान हैं। इस संबंध में एसडीएम योगेंद्र सिंह ने बताया कि कृषि भंडार की दुकानें खुलवाकर किसानों को बीज उपलब्ध कराया जाएगा।
गरीबों को पहुंचाया जाएगा भोजन का पैकेट
एसडीएम योगेंद्र सिंह ने बताया कि झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले गरीब परिवारों को चिन्हित कराया जा रहा है। कहा कि चिन्हित गरीब परिवारों को दोनों समय भोजन का पैकेट पहुंचाया जाएगा।
सूनी रही सड़क व बाजार
लॉकडाउन के चलते बाजार सूनी रही। सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। हालांकि शहरी व ग्रामीण इलाकों के कुछ लोग जरूर सड़कों पर दिखाई दिए। गश्त पर निकली पुलिस ऐसे लोगों को रोककर उन्हें अनावश्यक रूप से घर से नहीं निकलने की हिदायत देते रहे।
विधायक निधि से उपकरण खरीदने की पेशकश
स्थानीय विधायक गरिमा सिंह ने कोरोना की रोकथाम को लेकर सीडीओ को पत्र भेजकर विधानसभा क्षेत्र में विधायक निधि से उपकरण खरीदने की बात कही है। विधायक ने कहा है कि उनकी विधानसभा के लिए एक वेंटिलेटर, दस इंफ्रारेड थर्मामीटर, एक-एक हजार एन 95 व ट्रिपल लेयर मास्क, 100 लीटर सैनिटाइजर, एक हजार पीस ग्लब्स, व 200 किलोग्राम ब्लीचिंग पाउडर खरीदने को कहा है। विधायक ने सीएमओ को अपने विवेक से रोकथाम के लिए उपकरण/सामग्रियों को बढ़ाने की भी अनुमति दी है।
... और पढ़ें

नगरीय निकाय में दैनिक मजूदरों का पंजीकरण शुरू

गौरीगंज (अमेठी)। लॉकडाउन की अवधि में दैनिक मजूदरों को आर्थिक परेशानी से बचाने के लिए शासन के निर्देश पर नगरीय निकाय सक्रिय हो गए हैं। निकायों में कर्मी डोर-टू-डोर मजदूरों का डाटा एकत्र कराते हुए उनसे फार्म भरवा रहे हैं। फार्म भराने के बाद पात्रता की जांच करते हुए उन्हें मुख्यमंत्री की ओर से घोषित भरण पोषण योजना से आच्छादित किया जाएगा।
कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए घोषित लॉकडाउन के दौरान पटरी दुकानदार, रिक्शा चालक, इक्का चालक, टेंपो चालक, पल्लेदार व दैनिक श्रमिकों के सामने उत्पन्न आर्थिक परेशानी को दूर करने की कवायद शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से श्रमिकों को एक हजार रुपये भरण-पोषण तथा निशुल्क राशन योजना शुरू होने के बाद नगर पालिका परिषद गौरीगंज ने मजदूरों को चिन्हित करना शुरू कर दिया है।
विभाग ने वार्डवार सभासदों के सहयोग से कर्मियों की ड्यूटी लगाते हुए लोगों के आधार कार्ड व बैंक डिटेल के साथ फार्म भराना शुरू कर दिया है। फार्म भरने के बाद निकाय उसका सत्यापन करने के बाद योजना के पात्रों को चिन्हित कर मुख्यमंत्री की ओर से घोषित भरण-पोषण योजना से आच्छादित करेगा। नगर पालिका परिषद के अधिशाषी अधिकारी सुजीत कुमार ने श्रमिक/दैनिक मजूदरों को चिन्हित करने की पुष्टि करते हुए बताया कि जांच के बाद योजना से लाभान्वित किया जाएगा।
... और पढ़ें

प्राथमिक स्कूलों में क्वारंटीन किए जा रहे परदेशी

गौरीगंज (अमेठी)। लॉक डाउन की अवधि में परदेश से अपने घर लौटे लोगों को कोरोना वायरस का संभावित कैरियर मानते हुए उन्हें उनके गांव के नजदीकी प्राथमिक स्कूल में क्वारंटीन किया जा रहा है। इसके लिए सभी प्राथमिक स्कूलों को अधिग्रहीत कर लेखपाल व पंचायत सचिव की ड्यूटी लगाई गई है।
12 मार्च के बाद गैर प्रांत व जिले से आने वाले लोगों को शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन सुविधाओं के बीच क्वारंटीन करने की कोशिश में जुटा है। कवायद सफल हो सके इसके लिए डीएम अरुण कुमार ने सभी लेखपालों व पंचायत सचिवों को गांव में लॉक डाउन अवधि के बाद पहुंचने लोगों को चिन्हित करने के साथ उनके संपर्क में आए लोगों को सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया है। इतना ही नहीं परदेशियों को गांव में संचालित प्राथमिक स्कूल में रहने की व्यवस्था करने के साथ स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन को सूचित करने को कहा गया है।
स्वास्थ्य विभाग को प्राथमिक स्कूल में क्वारंटीन किए गए लोगों का नियमित परीक्षण करने को कहा गया है। स्कूल में क्वारंटीन किए गए लोगों के भोजन का प्रबंध उनके घर वालों या विषम परिस्थिति में लेखपाल व पंचायत सचिव करेंगे। इस दौरान उनकी तबीयत खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती किया जाएगा अन्यथा समयावधि पूरी होने के बाद स्वस्थ रहने पर उन्हें घर जाने की अनुमति दी जाएगी।
... और पढ़ें

कोरोना संदिग्ध को एंबुलेंस देने से इंकार

अमेठी। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर देश में 21 दिन का लॉकडाउन है। केंद्र व प्रदेश सरकार संक्रमित लोगों की तलाश कर उन्हें क्वारंटीन करने में जुटी है। ऐसे में सीएमओ अमेठी का बेतुका बयान सामने आया है। सीएमओ ने एक कोरोना संदिग्ध को एंबुलेंस दिलाने से इंकार करते हुए उसे करीब 40 किलोमीटर दूर पैदल चले आने को कहा।
कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच जब पूरा देश संकट से जूझ रहा है ऐसे में जिले में तैनात सीएमओ डॉ. आरएम श्रीवास्तव का बेतुका बयान सामने आया है। मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हुआ।
ऑडियो में जगदीशपुर के एक गांव का व्यक्ति सीएमओ को फोन कर एंबुलेंस मुहैया कराने को कहता है। वह बताता है कि एक व्यक्ति सीएचसी जगदीशपुर में बैठा है। उसे सर्दी, जुखाम, बुखार व खांसी समेत कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं।
इस पर सीएमओ ने फोन करने वाले से कहा कि दिक्कत क्या है पैदल चले आओ। व्यक्ति के दोबारा यह पूछने पर कि बीमार आदमी जगदीशपुर से गौरीगंज (दूरी 40 किलोमीटर) पैदल आएगा तो सीएमओ कहते हैं लोग दिल्ली से पैदल चले आ रहे हैं और तुम जगदीशपुर से गौरीगंज नहीं आ सकते।
इस संबंध में बात करने के लिए सीएमओ के सीयूजी नंबर पर फोन किया गय लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुई। डीएम अरुण कुमार ने कहा कि सीएमओ का बयान गैर जिम्मेदाराना है। सीएमओ को भविष्य में ऐसा ना करने की चेतावनी के साथ इस मामले से शासन को भी अवगत करा दिया गया है।
... और पढ़ें

अलर्ट के बाद जिले में पहुंचे 7,799 परदेशी

गौरीगंज (अमेठी)। कोरोना को लेकर 12 मार्च को जारी हाईअलर्ट के बाद से अब तक जिले में 7,779 परदेशी आए हैं। शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन अब परदेशियों को चिन्हित कर उन्हें क्वारंटीन करने में जुटा है। मंगलवार को जिले में पहुंचने वाले 544 लोगों को अस्थायी रैन बेसरा में तो 187 लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है।
कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन कोरोना को लेकर 12 मार्च को जारी हाई अलर्ट के बाद से अब तक विदेश व गैर प्रांत या जिले से आए लोगों को चिन्हित कर उन्हें होम क्वारंटीन कराने में जुटा है। प्रशासनिक आंकड़े के अनुसार, 12 मार्च से 30 मार्च तक जनपद में 7,779 परदेशी आए हैं। इनमें 2,989 परदेशी तो तीन दिन के भीतर आए हैं। जिला प्रशासन ने सभी का स्वास्थ्य परीक्षण कराते हुए उन्हें होम क्वारंटीन करते हुए लोगों से संपर्क नहीं बनाने का निर्देश दिया है।
सोमवार रात से मंगलवार दोपहर तक जिले में पहुंचने वाले 731 परदेशियों का स्वास्थ्य परीक्षण करते हुए जिला प्रशासन ने 544 लोगों को अस्थाई रैन बेसरा में तो 187 लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया है। बाहर से आने वालों लोगों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए आवश्यक जानकारी देते हुए उनकी निगरानी की व्यवस्था की गई है। एडीएम वंदिता श्रीवास्तव ने बताया कि अस्थाई रैन बेसरा में क्वारंटीन किए गए लोगों के भोजन समेत अन्य प्रबंध करते हुए होम क्वारंटीन में रखे गए लोगों की निगरानी ग्राम प्रधान से करवाते हुए सुविधा दी जा रही है।
... और पढ़ें

बसों से गंतव्य तक पहुंचाए गए एक हजार लोग

अमेठी। लॉकडाउन के बावजूद परदेसियों को गंतव्य तक पहुंचाने में प्रशासन हलकान है। अमेठी डिपो की 12 बसों व अन्य साधनों से करीब एक हजार लोगों को सोमवार को रोडवेज व प्राइवेट बसों से गंतव्य तक पहुंचाया गया। लोगों को पहुंचाने के बाद सोमवार को फिर रोडवेज सेवा बंद कर दी गई।
कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने को लेकर देश में संपूर्ण लॉकडाउन घोषित है। बावजूद इसके गैर प्रांतों व जनपदों में फंसे परदेशी अपने घर पहुंचने के लिए सड़क पर निकल पड़े तो प्रशासन की ओर से उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाने की व्यवस्था कराई गई। अमेठी डिपो की 12 बसों को विभिन्न मार्गों से लखनऊ भेजा गया था। एआरएम राकेश मोहन पांडेय ने बताया कि बसों से एक हजार यात्री लाए गए। सोमवार को अमेठी बस स्टेशन पर दो प्राइवेट बस और दो मैजिक लगाई गई थीं। इन वाहनों से बस स्टेशन पहुंचने वाले जिले के यात्रियों को गंतव्य तो अन्य जिलों के यात्रियों को जिले की सीमा पर छोड़ा गया।
बाहर से आ रहे और यहां से जा रहे यात्रियों से मौजूद स्वास्थ्य टीम द्वारा एक एक कर उनसे सर्दी, जुकाम, बुखार आदि समस्या पूछकर जांच की जा रही है। लोग सीधे अपने घर जा रहे हैं। हालांकि इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं।
... और पढ़ें

जिले में पहुंचे विदेश में रहने वाले दस और लोग

गौरीगंज (अमेठी)। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच जिले में विदेश से आने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। तीन दिन पूर्व जहां जिले में विदेश से आने वालों की संख्या 88 थी वह अब बढ़कर 99 पहुंच गई है। स्वास्थ्य टीमों के परीक्षण में सभी स्वस्थ पाए गए हैं। स्वास्थ्य टीम ने एहतियातन सभी को 14 दिन तक स्वयं को क्वारंटीन रहने की हिदायत दी है।
तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस से डरे विभिन्न देशों में रह रहे लोगों का जिले में पहुंचने का सिलसिला जारी है। तीन दिन पूर्व तक जहां जिले में विदेश से आने वालों की संख्या 88 थी वह अब बढ़कर 99 हो गई है। संबंधित एअरपोर्ट से सूचना मिलते ही जिले की स्वास्थ्य टीमों ने विदेश से आए लोगों के घर पहुंचकर उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण में विदेश से आए सभी लोग स्वस्थ पाए गए हैं। स्वास्थ्य टीमों ने एहतियातन सभी को 14 दिन तक अपने घर में ही क्वारंटीन रहने की सलाह दी है।
कहा गया है कि इस दौरान वह अपने घर के किसी भी व्यक्ति के पास नहीं जाएं। सभी से दो मीटर की दूरी बनाए रखें। इस दौरान किसी भी प्रकार की समस्या होने पर तत्काल दिए गए नंबरों पर सूचना देने को कहा गया है। डीएम ने तीन दिन में दस और लोगों के जिले में आने की पुष्टि करते हुए कहा कि सभी लोग पूरी तरह से स्वस्थ हैं। कहा कि जिले में अब तक कोरोना का एक भी पीड़ित नहीं है।
... और पढ़ें

जिला प्रशासन ने नामित किए आठ नोडल अफसर

गौरीगंज (अमेठी)। लॉकडाउन के दौरान लोगों को परेशानी नहीं झेलनी पड़े इसके लिए प्रशासन नोडल अफसर नामित कर व्यवस्था बनाने में जुटा है। जिला प्रशासन की ओर से जारी नए आदेश में आठ अफसरों को नोडल अफसर नामित कर आवश्यक सेवाएं बहाल रखने की जिम्मेदारी दी गई है।
अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत रवींद्र कुमार गुप्ता (9450170725) को डेयरी एवं सब्जी-फल आपूर्ति, खाद्य सुरक्षा अधिकारी निर्भय नारायण सिन्हा (9415224409, 8303397696) को खाद्य वस्तु, होम डिलेवरी, ग्रासरी एवं किराना, जिला आपूर्ति अधिकारी संजय कुमार (09599241205) का पेट्रोल पंप, एलपीजी व राशन व्यवस्था सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
एक्सट्रा मजिस्ट्रेट महात्मा सिंह (9628550450) को आपातकालीन पास व वाहन व्यवस्था, एसीएमओ डॉ. रामप्रसाद (9412048631) को दवा आपूर्ति व्यवस्था, सीवीओ डॉ. रमेश चंद्र पाठक (9452242636, 6391807646) को पशुओं का चारा, दवाई व भूसा की जिम्मेदारी दी गई है।
उपायुक्त मनरेगा मीनाक्षी (9450261500) को स्थाई/अस्थाई आश्रय स्थल तथा डीडीओ वंशीधर सरोज (9454465474) को सामुदायिक किचन, सरकारी/गैर सरकारी/व्यक्तिगत/जन सहयोग का नोडल बनाया गया है। डीएम अरुण कुमार ने बताया कि एडीएम वंदिता श्रीवास्तव (9454418892) व एएसपी दयाराम सरोज (9454401977) को संपूर्ण नोडल बनाया गया है।
... और पढ़ें

लॉक डाउन को लेकर बहुत से लोग लापरवाह

गौरीगंज (अमेठी)। केंद्र सरकार की ओर से जारी सख्त आदेश के बावजूद अमेठी में लॉकडाउन का जमकर माखौल उड़ाया जा रहा है। शहर की मंडियों में दुकानदारों तो छोटी-छोटी बाजारों में खरीददारों की भीड़ उमड़ रही है। जिले का प्रशासनिक अमला भी इसे देखकर अनदेखा कर रहा है।
कोरोना महामारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर रखा है। इस दौरान लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने तथा दुकानदारों को दैनिक आवश्यकता की वस्तुओं की होम डिलेवरी कराने का आदेश दिया है। जिले में इस आदेश की जमकर धज्ज्यिां उड़ाई जा रही हैं। सभी बड़े कस्बों में स्थित सब्जी की थोक मंडी में सुबह तब विक्रेताओं की भीड़ उमड़ती है जब प्रशासन सोता रहता है। इस भीड़ में पहुंचने वाले न तो सोशल डिस्टेंस का पालन करते हैं न ही किसी को ऐसा करने के लिए प्रेरित ही करते हैं।
सामान लेकर जब दुकानदार छोटी-छोटी बाजारों व गांवों में बेंचने पहुंचते हैं तो वहां भी सोशल डिस्टेंस का नियम हवा में दिखता है। इसकी बानगी अमेठी तहसील के बारामासी, भेटुआ, नौगिरवा, टिकरी, सवनगी, टीकरमाफी, भादर समेत कहीं भी देखने को मिल सकती है। भेटुआ निवासी दीपक के अनुसार जब से लॉकडाउन हुआ उनके चौराहे पर पुलिस दिखी ही नहीं। इसके चलते बड़ी संख्या में लोग पूरे दिन चौराहे पर मजमा लगाए रहते हैं।
डीएम अरुण कुमार ने कहा कि लॉक डाउन के दौरान घरों से निकलना कानूनन अपराध है। ऐसा करके लोग अपने साथ और लोगों का जीवन खतरे में डाल रहे हैं। पुलिस को लॉक डाउन तोडने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दौरान जिले में पहुंचे 1,600 परदेसी

अमेठी। लॉकडाउन के चार दिनों में 1,600 से अधिक परदेसी जिले के अलग-अलग गांवों में पहुंचे हैं। इनमें से अधिकांश लोग मुंबई, सूरत व दिल्ली से आए हैं। कोरोना प्रभावित शहरों से बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने से जिले में लोगों के चेहरे पर चिंता की लकीरें गहरी हो गई हैं।
जिले के चार नगरीय क्षेत्रों के अलावा 682 ग्राम पंचायतों के बड़ी संख्या में लोग दूसरे प्रांतों में रहकर अपना व परिवार का पालन-पोषण करते हैं। कोरोना को लेकर किए गए लॉकडाउन के बाद परदेश में रहने वाले अपने घरों की ओर भाग रहे हैं।
पुलिस की ओर से जिले की सीमा पर लगे बैरियर पर शनिवार रात 12 बजे तक दर्ज किए गए के आंकड़ों में लॉकडाउन के दौरान जिले में पहुंचे लोगों की संख्या 1,600 के पार है। बड़ी संख्या में परदेसियों व विदेश से आए 88 लोगों के जिले में पहुंचने से अब तक कोरोना से बेफिक्र लोगों के चेहरों पर भी चिंता की लकीरें गहरी हो गई हैं।
एएसपी दयाराम ने कहा कि जिले में लॉकडाउन के दौरान परदेश से आने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है। रविवार शाम तक ये संख्या पांच हजार के पार पहुंचने की संभावना है।
डीएम अरुण कुमार ने बताया कि दूसरे जिलों से जुड़ी सभी सीमा के अलावा जिले में 37 स्थानों पर बैरियर बनाए गए हैं। इन बैरियर पर बाहर से आने वाले वाहनों के नंबर और परदेश से आने वालों के नाम, पता व फोन नंबर नोट किये जा रहे हैं। कई बैरियर पर स्वास्थ्य विभाग की टीमें मौजूद हैं। जहां नहीं हैं वहां से परदेसियों को जिला अस्पताल भेजा जा रहा है।
जिला अस्पताल में चेकअप के बाद उन्हें क्वारंटीन रहने के निर्देश के साथ घर भेजा जा रहा है। सभी एसडीएम को ग्राम प्रधान के माध्यम से परदेसियों के घर पर नोटिस चस्पा कर गांव वालों को उनसे दूर रहने की व्यवस्था कराने को कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से ब्लॉक स्तर पर रैपिड रिस्पांस टीम गठित की गई है। ये टीम सूचना पर परदेसियों के घर पहुंचकर उनकी जांच कर रही है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन का पालन कराने में जुटा प्रशासन

गौरीगंज। लॉकडाउन के दौरान जिले में शासन की ओर से जारी एडवायजरी का पूरी तरह से पालन हो रहा है। शहर से लेकर गांव तक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करते हुए असहाय लोगों को भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इस अवधि में किसी का भी बिजली व पानी का कनेक्शन नहीं काटने का आदेश दिया गया है।
जिला प्रशासन लॉकडाउन के दौरान शासन के सभी निर्देशों का पालन कराने की व्यवस्था में जुटा है। डीएम अरुण कुमार ने बताया कि सभी एसडीएम व थानाध्यक्षों को उनके क्षेत्र में किराए के मकान में रहने वालों से भवन स्वामी द्वारा आगामी माह का किराया नहीं लेने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने को कहा गया है। इस अवधि में समस्त एक्सईएन बिजली व जल निगम को निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित कराते हुए किसी का भी कनेक्शन नहीं काटने का निर्देश दिया गया है।
जिले के सभी विभागाध्यक्षों को अपने कर्मचारियों का आगामी माह का वेतन प्रथम सप्ताह तक वितरित कराने का निर्देश दिया गया है। डीएम ने कहा कि बाहर से आ रहे लोगों को ब्लॉक स्तर पर स्थापित शेल्टर सेंटरों पर क्वारंटीन किया जा रहा है। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर ली गई हैं।
अधिक मूल्य लेने व जमाखोरी रोकने के लिए छापामारी की जा रही है। अमेठी में दो व्यवसायियों पर केस दर्ज कर जेल भेजा जा चुका है। श्रमिकों व असहाय लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए दस कम्यूनिटी किचन संचालित कराते हुए प्रतिदिन करीब छह हजार लोगों को भोजन का पैकेट मुहैया कराया जा रहा है। कहा कि जिले के सभी मेडिकल स्टोर खुल रहे हैं तथा दवाओं की उपलब्धता भी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us