यूबीआई के स्ट्रांग रूम में घुसे चोर, बच गए तीन लाख रुपये

ब्यूरो,अमर उजाला,आजमगढ़ Updated Tue, 09 Jan 2018 12:50 AM IST
विज्ञापन
thief entered in bank by this way
thief entered in bank by this way - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
आजमगढ़। बरदह थाना क्षेत्र के चौकी गांव में स्थित यूनियन बैंक की शाखा का दरवाजा काटकर रविवार की रात स्ट्रांगरुम में पहुंचे चोर मेनचेस्ट को काटने मेें नाकाम रहने पर सीसीटीवी कैमरा और कंप्यूटर चुराकर फरार हो गए।
विज्ञापन

मेनचेस्ट न कटने से बैंक का तीन लाख रुपये बच गया। घटना की सूचना मिलने पर एसपी अजय कुमार साहनी डाग स्क्वाड टीम और फारेंसिक टीम के साथ मौके पर पहुंचकर मुआयना किया। हालांकि इस दौरान पुलिस को कोई विशेष साक्ष्य और सबूत हाथ नहीं लगा। एसपी ने जल्द से जल्द घटना के खुलासा का आश्वासन दिया है।
आजमगढ़-जौनपुर मुख्य मार्ग पर स्थित चौकी गांव के एक दो मंजिले मकान में यूनियन बैंक की शाखा खुली है। भवन के दूसरे तल पर बैंक है। जबकि नीचले तल पर किराए पर दूकान किए हैं। रविवार छुट्टी का दिन होने की वजह से बैंक की शाखा बंद थी।

जबकि ठंड की वजह से दूकानदार भी अपनी दूकानें बंद कर चले गए। बैंक के ठीक सामने पेट्रोल पंप खुला है। जहां दिन और रात पेट्रोल, डीजल भराने के लिए वाहन आते और जाते रहते हैं। रविवार की रात सुनसान माहौल और घना कोहरा देख चोर बैंक की शाखा पर पहुंचे और गैस कटर से जंगले का छड़ काटकर भीतर घुस गए।

चोर गैस कटर के जरिए ही दरवाजा काटकर स्ट्रांगरुम में घुस गए और मेनचेस्ट काटने का काफी प्रयास किया, लेकिन असफल रहे। जिसमें तीन लाख रुपये रखा हुआ था। मेनचेस्ट काटने में असफल होने पर चोर बैंक में लगा सीसीटीवी कैमरा और जिस कंप्यूटर से कैमरा संचालित होता है उसे चुराकर फरार हो गए।

सोमवार की सुबह बैंक खुलने पर घटना की जानकारी हुई तो शाखा प्रबंधक ने थाने में सूचनी दी। कुछ ही देर में एसओ बरदह और सीओ लालगंज वहां पहुंच गए। घटना की जानकारी होने पर एसपी अजय कुमार साहनी डाग स्क्वाड टीम और फारेंसिक जांच टीम के साथ मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना किया।

हालांकि पुलिस के हाथ कोई ठोस सुराग या साक्ष्य नहीं लग सका। बता दें कि इस घटना से ठीक एक दिन पहले शनिवार की रात चोर अतरौलिया थाना क्षेत्र के बूढनपुर चौक पर स्थित एसबीआई की शाखा में नकब लगाकर चोरी करने का प्रयास किया, लेकिन सफलता न मिलने पर चोर फरार हो गए।

जिस बैंक में मेनचेस्ट होता है वहां दिन और रात सुरक्षागार्ड तैनात किए जाते हैं, शेष शाखाओं पर गार्ड नहीं तैनात होता है। सुरक्षा के नाम पर किसी भी धारक से रुपये नहीं लिए जाते। रात के समय बैंक के सुरक्षा की जवाबदेही संबंधित थाने की पुलिस की होती है। पुलिस अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए घटना होने पर बैंककर्मियों पर झूठे आरोप लगाते हैं। - मनोज कुमार, एलडीएम, यूनियन बैंक
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us