विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: 27 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे गए 611 करोड़ रुपये

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बागपत

सोमवार, 30 मार्च 2020

एक से तीन अप्रैल तक राशन वितरण करने के निर्देश

साहब, ये बेबसी का कारवां हैं

बागपत। लॉकडाउन में इंसानियत के शर्मसार होने का सुबूत सड़कों पर दिख रहा है। किसी की मजदूरी छिन गई, किसी की नौकरी। पहले फैक्ट्री से निकाले गए और इसके बाद मालिकों ने मकान और आवास खाली करा लिए। बेबसी का कारवां चंडीगढ़, हरियाणा और राजस्थान के विभिन्न जिलों से अपनी मिट्टी की ओर बढ़ा जा रहा है। थकान से चूर बच्चों का खेल छूट गया है। बड़े बेबस हैं। एक ही धुन है, बस किसी तरह घर पहुंच जाएं।
उन्नाव का सुखपाल अपने परिवार के साथ ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे के मवी कलां कट पर पहुंचा। पत्नी वीरो और पांच साल की बेटी रीना के साथ वह चंडीगढ़ की एक फैक्टरी में रहता था। वह बताता है कि पिछले दो दिन से कहीं लिफ्ट लेकर कहीं पैदल चलकर वह अपने घर पहुंचना चाहते हैं। लॉकडाउन के बाद फैक्टरी मालिक ने तनख्वाह देने से तो इंकार कर ही दिया, साथ में यह भी कह दिया कि हालात सुधरने तक घर चले जाओ। सड़कों पर वाहन नहीं हैं, ऐसे में पैदल चलने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा।
लखीमपुर खीरी के घनश्याम ने बताया कि पानीपत से आए हैं। फैक्टरी मालिक ने पिछले तीन महीने का हिसाब भी नहीं किया। बस यह कह दिया कि अभी घर चले जाओ, हालात सुधरेंगे तो देखा जाएगा। जेब खाली है, पैदल ही चल दिए। रास्ते में मददगार खाने का इंतजाम कर रहे हैं, लेकिन अपने घर की ओर बढ़ रहे लोगों को वाहन की जरूरत है। सीतापुर के गोल्डी, मुकेश और आजमगढ़ के अखिलेश का दर्द भी यही है। लॉकडाउन में फैक्टरी मालिकों ने रहने की इजाजत ही नहीं दी, जेब खाली हुई तो अपना गांव और घर याद आया।
बागपत के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर वाहन से जाते मजदूर।
बागपत के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर वाहन से जाते मजदूर।- फोटो : BAGHPAT
... और पढ़ें

मीलों की दूरी और घर पहुंचने की मजबूरी...लोग पैदल चलने को बेबस, दोहरी भूमिका निभा रही पुलिस

इस समय सड़कों पर हाल यह है कि लोग पैदल अपने घरों की तरफ बढ़ रहे हैं। भले ही यह केसरिया कपड़ों में न हों और यह समय कावड़ यात्रा का न है। लेकिन न कोई परिवहन व्यवस्था और न ही सुविधा। सामाजिक संगठन गाहे.बगाहे कहीं खाने की व्यवस्था तो करा रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि कहीं शिविर हो या सरकारी स्कूल व कॉलेजों में रुकने की कोई व्यवस्था की गई हो।

कोई भूखा ही पैदल चल रहा है तो किसी पर पुलिस की लाठियां पड़ रही हैं। एक तरफ पुलिस खाना खिला रही है तो दूसरी तरफ कुछ लोग बता रहे हैं पुलिस गाली देकर ही बोलती है। इन पैदल चलते यात्रियों के लिए कोई भोजन उपलब्ध करा दे तो सही, नहीं तो पूरे पूरे दिन भूखे ही रहना पड़ रहा है। शहर की सड़कों से लेकर हाईवे और मुख्य मार्ग पर यही हाल है लेकिन सफर अभी लंबा है.....
... और पढ़ें

बागपत: सीआरपीएफ के जवान में मिले कोरोना के लक्षण, आईसोलेशन वार्ड में भर्ती

यूपी के बागपत में कोरोना के संदिग्ध लक्षण वाला एक और मामला सामने आया है। मेट्रो में ड्यूटी करने वाले सीआरपीएफ के जवान में लक्षण दिखाई देने के बाद आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया। सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। इसके अलावा एक युवक को क्वारंटीन वार्ड में भर्ती किया गया। स्वास्थ्य विभाग को अभी भी एक संदिग्ध की तलाश है।

सीएमओ डाक्टर आरके टंडन ने बताया कि रविवार को स्वास्थ विभाग की टीम को दो संदिग्ध लक्षण वाले युवक मिले हैं। इनमें एक दिल्ली की केस हिस्ट्री वाला युवक है। मेट्रो में नौकरी करता हैं, लक्षण मिलने पर आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। एक दूसरे युवक को अंदेशा होने पर क्वारंटीन वार्ड में रखा गया है।

उधर, एक संदिग्ध विभाग की टीम को अभी तक नहीं मिल पाया है। इस बारे में पुलिस को सूचित कर दिया गया है। पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीम संदिग्ध की तलाश कर रही है। पूर्व में जिस युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, अब उसकी हालत में काफी सुधार है।
... और पढ़ें
coronavirus special team coronavirus special team

लॉकडाउन : विद्यालयों ने शुरू की ऑनलाइन पढ़ाई

बागपत। कोरोना वायरस महामारी को देखकर स्कूलों की छुट्टी चल रही है। बच्चों का शिक्षण कार्य प्रभावित न हो। इसके लिए स्कूल संचालक बच्चों को ऑनलाइन शिक्षण करा रहे हैं। जिले के अधिकतर विद्यालयों के शिक्षक विडियो बनाकर अभिभावकों को व्हाटसएप कर रहे है।
सेंट एंजेल्स पब्लिक स्कूल, डीएवी पब्लिक स्कूल की ओर से बच्चों की ऑन लाइन पढ़ाई कराई जा रही है। स्कूलों की ओर से एलकेजी से 12वीं तक के बच्चों को ऑनलाइन होम असाइनमेंट भेजे जा रहे हैं। स्कूल का स्टॉफ लगातार छात्रों से संपर्क बनाकर उनका शिक्षण करा रहे है। सेंट एंजेल्स पब्लिक स्कूल के प्रबंधक अजय गोयल ने बताया कि स्कूल का स्टॉफ व्हाट्सएप से बच्चों से संपर्क बनाकर शिक्षण कार्य करा रहा है। बच्चों को होम वर्क ऑनलाइन भेजा है। डीएवी पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ. मुकेश कुमार गुप्ता ने कहा सभी वर्ग के छात्र-छात्राओं को घर पर ही ऑनलाइन होम असाइनमेंट भेज दिए हैं।
... और पढ़ें

स्क्रीनिंग कैंप के लिए टीम गठित, 15 लाख रुपये आवंटित

बागपत। विभिन्न मार्गों से होते हुए घर लौट रहे मजदूरों के लिए पर्याप्त इंतजाम की कवायद तेज हो गई है। स्क्रीनिंग कैंप के लिए कमेटी गठित की गई। डीएम शकुंतला गौतम ने एडीएम अमित कुमार सिंह को जिला आपदा अधिकारी बनाया है। तीनों तहसील को 15 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं। डीएम शकुंतला गौतम ने बताया कि वर्तमान में तीन स्क्रीनिंग कैंप चल रहे हैं। स्क्रीनिंग कैंप या अस्थायी आश्रय स्थलों के लिए कमेटी गठित की गई। एडीएम अमित कुमार सिंह को जिला आपदा अधिकारी बनाया गया है। शासन ने जिले के लिए 15 लाख रुपये आवंटित किए हैं। आश्रय स्थलों पर भोजन एवं अन्य व्यवस्थाओं पर खर्च करना होगा। 31 मार्च तक धनराशि का उपयोग नहीं किए जाने पर यह लैप्स हो जाएगी। ... और पढ़ें

योगाभ्यास से दूर भागेगा कोरोना वायरस

योगाभ्यास से दूर भागेगा कोरोना वायरस
बड़ौत। गुराना रोड पर रविवार को योग शिविर का आयोजन किया गया। साधकों को कोरोना वायरस के लक्षण व उसे बचाव के तरीके बताएं। साथ ही कोरोना वायरस से बचने के लिए प्रतिदिन योगाभ्यास करने का संकल्प दिलाया गया।
भारतीय योग संस्थान के तत्वावधान में आयोजित योग शिविर में जिला प्रधान राजेंद्र प्रसाद जैन ने कहा कि कोरोना जैसे वायरस से बचने के लिए सर्वप्रथम सोशल डिस्टेंस बनाने पर ध्यान देना है। साथ ही 20 सेकंड तक हाथों की उंगलियों के बीच में विशेष सफाई का ध्यान रखे। उन्होंने कहा कि घर पर रहकर नियमित रूप से योगाभ्यास करें कोरोना वायरस से बचा जा सकता है। बताया कि सूर्य नमस्कार, कोणासन, अद्रवचक्रासन, उष्ट्रासन, मंडूकासन, भुजंगासन, पादोत्तानासन व श्वासन का अभ्यास आवश्यक है।
... और पढ़ें

चौधरी चरण सिंह इंस्टीटयूट के डायरेक्टर पर फायर

संदिग्ध परिस्थितियों में युवक की मौत

घर में इस तरह बिताया वक्त

बड़ौत। लॉक डाउन के चलते अधिकांश लोग अपने घरों में रहे। जिस कारण नगर सहित देहात क्षेत्र की सड़कों पर पूरे दिन सन्नाटा छाया रहा। सचिन वत्स का कहना था कि हम हर चुनौतियों के लिए तैयार हैं। शुरू-शुरू में दिक्कतें आएंगी जरूर, लेकिन हम बिल्कुल भी नहीं घबराएंगें। नितिन जैन ने कहा कि घर पर रहकर परिवार के अन्य सदस्यों को कोरोना वायरस के प्रति जागरूक व उसके बचाव के तरीकेे बताएं जा रहे है। उधर रवि व नरेश कुुमार ने बच्चों के साथ केरम बोर्ड व पढ़ाई कर समय व्यतीत किया।
-------------
स्वास्थ्य विभाग को न करिए फर्जी कॉल
बड़ौत। चंडीगढ़, पंजाब, दिल्ली समेत दूर दराज के राज्यों से लोगों के घर पहुंचते ही स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दी जा रही है। सीएचसी अधीक्षक डॉ. विजय कुमार ने बताया कि पिछले तीन दिनों के अंदर लगभग 70 से 80 कॉल आ चुकी हैं, ज्यादातार कॉल बाहरी व्यक्तियों के आने की है। शनिवार की रात्रि व रविवार को भी खडख़डी, जलालपुर, छछरपुर, बावली व शबगा गांव से सूचना प्राप्त हुई। बताया कि सूचना पर गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम भेजी गयी और गांव के प्रधानों व जिम्मेदार लोगों से पूछताछ़ की तो अधिकांश सूचनाएं झूठी निकली।
बड़ौत में लॉकडाउन के दौरान बच्चों को पढ़ाते परिजन।
बड़ौत में लॉकडाउन के दौरान बच्चों को पढ़ाते परिजन।- फोटो : BARAUT
... और पढ़ें

कोरोना से जंग में ढह गई मजहब की दीवारें, पैदल चल रहे लोगों की मदद के लिए साथ आए हिंदू-मुस्लिम

बागपत के ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे पर प्रवासियों का रैला उमड़ रहा है। पूर्वांचल के जिलों में अपने अपने घरों तक पहुंचने की जद्दोजहद दिख रही। हर चेहरे पर बेचैनी हैं। सुकून है तो बस इतना कि पश्चिम उत्तर प्रदेश के हिंदु और मुसलमान मजहब की दीवारें तोड़कर मदद के लिए साथ खड़े हो गए हैं। जिसकी जो जरूरत है, पूरी की जा रही है। रोटी, दूध, पानी, फल और नाश्ते के पैकेट बांटे जा रहे हैं।

एक्सप्रेस-वे मवी कलां इंटरचेंज पर हरियाणा की ओर से पूर्वांचल के कानपुर, इलाहाबाद, एटा, औरेया, झांसी, कन्नौज, सीतापुर समेत अन्य जिलों के लोग गुजर रहे हैं। इनकी मदद के लिए जिले के लोग खड़े हैं।

रटौल के पूर्व प्रधान जुनैद फरीदी के नेतृत्व में मुस्लिम समाज के लोगों ने खाने के पैकेट बांटे। खेकड़ा के नवाब अंसारी मोहसिन अंसारी, जावेद अंसारी, मेहरबान, शकील जमील, मोनू, इमरान, नदीम और आशु ने फल बांटे। बच्चों के लिए दूध की व्यवस्था की। सफर की थकान से परेशान पूर्वांचल के लोगों के लिए सड़क पर खड़े लोग राहत की फुहारें लेकर आएं।

 
बागपत के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर मजदूरों के लिए खाना बनाते खेकड़ा के मुस्लिम युवक।
बागपत के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर मजदूरों के लिए खाना बनाते खेकड़ा के मुस्लिम युवक।- फोटो : BAGHPAT


वाहन रुकवाकर किए रवाना
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे पर मवी कलां इंटरचेंज पर पुलिस-प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद रहे। यहां से गुजर रहे इक्का दुक्का वाहनों को रुकवाकर लोगों को उनमें बैठाकर रवाना किया।

फैक्टरी से निकाला, जेब खाली
सीतापुर निवासी प्रदीप कुमार ने बताया कि वह पानीपत से आए हैं। लॉकडाउन के बाद फैक्टरी मालिकों ने उन्हें निकाल दिया। रुपये भी नहीं दिए, उनकी जेब खाली है। इस कारण वह पैदल ही घरों की तरफ जा रहे हैं।

बच्चों पर भारी पड़ रहा सफर
जिंदगी की जद्दोजहद का सफर बच्चों पर भारी पड़ रहा है। मासूम बच्चों को लेकर परिवार के लोग पैदल ही मंजिल की ओर बढ़ रहे हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us