विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Coronavirus In Uttar Pradesh Live: नोएडा में चार और संक्रमित मरीज मिले, यूपी में संख्या बढ़कर हुई 70

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का कहर देश में लगातार बढ़ता जा रहा है। रविवार को कोरोना से जम्मू-कश्मीर और गुजरात में एक-एक लोगों की मौत हो गई। वहीं, यूपी में भी लगातार संक्रमिता का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है।

29 मार्च 2020

विज्ञापन

Sp baghpat said

28 मार्च 2020

विज्ञापन

बलिया

रविवार, 29 मार्च 2020

भोजपुर व हरिपुर गांव में स्वास्थ्य टीम ने किया परीक्षण

सुखपुरा। न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. वरुण, डॉ. मलय कुमार पांडेय, प्रमोद कुमार सिंह व सिद्धार्थ ने भोजपुर और हरिपुर गांव में शुक्रवार को जाकर लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि भोजपुर में अजय और दीपू तथा हरिपुर में राजेश व मंचोत्री को सर्दी, जुकाम, खांसी की शिकायत थी। इन्हें दवा दी गई। इन लोगों को घर में 14 दिन तक एकांत में रहने के लिए कहा गया। उधर, थाना प्रभारी विरेंद्र कुमार यादव ने अस्पताल पहुंच कर सुरक्षा का जायजा लिया। इस दौरान स्वास्थ्यकर्मियों ने बताया कि कुछ मनबढ़ अस्पताल आकर सेनेटाइजर व मास्क मांग कर रहे हैं। थानाध्यक्ष ने आश्वासन दिया कि अब कोई भी अराजकतत्व अस्पताल परिसर में नहीं दिखेगा। इस मौके पर भोजपुर के प्रधान कमलेश सिंह, हरिपुर के प्रधान मनीष सिंह, अभिनाष सिंह, विवेक उपस्थित रहे। ... और पढ़ें

नमाज के लिए घर में जुटा भीड़, सात पकड़े गए

बलिया। कोरोना को लेकर चल रहे लाक डाउन के बीच शुक्रवार को जुमा की नमाज अदा करने के लिए एक घर में 40-50 लोगों को बुला लिया गया। इसकी सूचना पर पुलिस पहुंची तो मौके पर अफरातफरी मच गई। पुलिस ने सात लोगों को दौड़ाकर पकड़ लिया। सभी को रसड़ा कोतवाली में बैठाया गया है।
कोरोना के चलते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लिए लॉक डाउन की घोषणा की है। इस बीच जरूरतमंद लोगों के घरों तक राशन के साथ मुफ्त सिलिंडर देने की तैयारी है। सोशल डिस्टेंस के लिए मंदिरों और मस्जिदों की जगह घर में नमाज और पूजा करने की अपील की गई है लेकिन कुछ लोग लाक डाउन का उल्लंघन कर रहे हैं। रसड़ा कस्बा के मस्जिदों में ताला लगा है। बताया जा रहा है कि एक मौलाना के बहकावे में आकर 40-50 लोग जुमे की नमाज पढ़ने के लिए एक घर के हाल में शुक्रवार को एकत्रित हुए थे। इसकी सूचना किसी ने रसड़ा पुलिस को दे दी। इसके बाद एसएचओ रसड़ा सौरभ टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस टीम देख नमाज अदा कर रहे लोगों में अफरातफरी मच गई। वे भागने लगे। इस दौरान पुलिस ने दौड़ाकर सात लोगों को पकड़ लिया। इस दौरान मौका पाकर लोगों को जुटाने वाला मौलाना भी फरार हो गए। लॉक डाउन तोड़ने के आरोप में सभी को पुलिस पुलिस चौकी लाई जहां इन्हें देर शाम तक बैठाया गया था। एसएचओ ने बताया कि पुलिस चौकी पर पकड़े गए लोगों को कोरोना की गंभीरता के बारे में जानकारी दी गई और उन्हें सोशल डिस्टेंस के प्रति जागरूक किया गया।
-
लॉक डाउन तोड़ने वालों के विरुद्ध कार्रवाई तय है। चाहे वह किसी भी समुदाय का हो। जो लोग भी रसड़ा में पकड़े गए हैं उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। आगे भी ऐसा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।-संजय कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक
... और पढ़ें

मस्जिद में ताला बंद हुआ तो मौलाना ने नमाज पढ़ने के लिए घर में ही जुटा ली भीड़

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है। इसी बीच कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और यही लोग कोरोना जैसे खतरनाक वायरस को फैलाने में सहायक सिद्ध हो सकते हैं। बलिया में लोगों को भीड़ जुटाने से रोकने के लिए सभी धर्म स्थानों में ताला बंदी करा दी गई है।

ऐसे माहौल में भी रसड़ा नगर पालिका क्षेत्र के एक मौलाना ने लोगों को बहकाया और जुमे की नमाज पढ़ाने के नाम पर एक घर में 40-50 लोगों को जुटा लिया। इसकी भनक लगते ही मौके पर पुलिस पहुंच गई। पुलिस को देखते ही नमाज अदा करने के लिए जुटे लोग इधर-उधर भागने लगे। पुलिस ने दौड़ाकर छह-सात लोगों को पकड़ लिया।

सभी को कोतवाली रसड़ा में बैठाया गया है। बताया जा रहा है कि जिला प्रशासन के अनुरोध तथा कोरोना वायरस के मद्देनजर रसड़ा कस्बा के मस्जिदों में ताला लगा रहा। लेकिन मौलाना के बहकावे में आकर 40-50 मुस्लिम बंधु एक जगह नमाज अदा करने के लिए एकत्र हो गए। इनके इकट्ठा होने को लेकर इलाके में सुगबुगाहट शुरू हुई तो किसी ने इसकी सूचना रसड़ा कोतवाली पुलिस को दे दी।

सूचना मिलते ही एसएचओ रसड़ा सौरभ अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस टीम को देखते ही एक घर के बड़े से हाल में इकट्ठा होकर नमाज अदा कर रहे लोगों में अफरा-तफरी मच गई। वे लोग इधर-उधर भागने लगे। तब पुलिस ने कई को दौड़ाकर पकड़ लिया। इस दौरान मौका पाकर लोगों को जुटाने वाला मौलाना भी फरार होने में सफल रहा।

पुलिस पकड़े गए सभी लोगों को लॉकडाउन तोड़ने के आरोप में रसड़ा चौकी ले गई। वहां इन्हें देर शाम तक बैठाए रखा। मामले में एसएचओ ने बताया कि सभी लोगों को चौकी में बैठाया गया है और उन्हें कोरोना वायरस को गंभीरता से लेने की जानकारी देने के साथ ही यह बताया जा रहा है कि यदि इसी तरह लापरवाही करते रहे तो स्थिति काफी खतरनाक हो सकती है।

उनकी एक छोटी सी चूक पूरे देश व जिले को संकट में डाल सकती है। उन्हें समझाया जा रहा है कि उन्हें दूर-दूर रखने के लिए सरकार इतना प्रयास कर रही है और पूरी मानव जाति पर खतरे के रूप में मंडरा रहे कोरोना को उनकी यह मुर्खतापूर्ण हरकत फैलाने में सहायक सिद्ध हो सकती है।

जिसने भी लॉक डाउन तोड़ा है उसके विरूद्ध कार्रवाई होना तय है। चाहे वे हिंदू हों या मुसलमान, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। जो लोग भी रसड़ा में पकड़े गए हैं उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। आगे भी ऐसा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।
संजय कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक, बलिया

... और पढ़ें

देश पर आई है विपदा, ईश्वर के अलावा कोई सहारा नहीं : अभिषेक ब्रह्मचारी

बलिया। युवा चेतना की ओर से स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी और युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक शनिवार को खोड़ी-पाकड़ गांव की अनुसूचित जाति की बस्ती में घर-घर भोजन बांटा गया।
इस दौरान स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा कि देश पर विपदा आ गई है। ऐसी स्थिति में ईश्वर के अलावा कोई सहारा नहीं है। कहा कि सतर्कता रखते हुए जनता की सेवा करना चाहिए। रोहित कुमार सिंह ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान काम नहीं होने से उनके सामने भोजन का संकट पैदा हो गया। जनता के बीच भोजन पहुंचाया जा रहा है। कहा कि जब डीएम, एसपी, पुलिसकर्मी, स्वास्थकर्मी और मीडियाकर्मी जनता के बीच रहकर सेवा कर सकते हैं तो फिर विधायक, सांसद, मंत्री क्यों नहीं? इस अवसर पर मोहन सिंह, बैजू राय, अजय ओझा, पीयूष सिंह, नीलकांत वर्मा आदि रहे।
... और पढ़ें
खोड़ी-पाकड़ दलित बस्ती में भोजन बाँटते स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी एवं युवा चेतना के राष्ट्रीय संय खोड़ी-पाकड़ दलित बस्ती में भोजन बाँटते स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी एवं युवा चेतना के राष्ट्रीय संय

ट्रक रिजर्व कर एटा से 69 लोग पहुंचे बलिया

बलिया। कोरोना वायरस के मद्देनजर जहां पूरे देश और प्रदेश में लॉकडाउन लागू है। वहीं प्रदेश के एटा जनपद से जिले के विभिन्न थाना क्षेत्र के 69 लोग रिजर्व ट्रक कर शनिवार को बलिया पहुंचे। ट्रक चालक ने जिला मुख्यालय से पांच- सात किमी पहले सभी को उतार दिया। यहां से 33 लोग अपने-अपने गांवों के लिए पैदल ही प्रस्थान कर गए। जबकि 36 लोग अपने-अपने गांव के प्रधानों से संपर्क किया तो उन्हाेंने जिला अस्पताल से जांच कराकर प्रमाणपत्र लेकर आने की बात कही। जिसके बाद 36 लोग जिला अस्पताल जांच कराने पहुंचे, लेकिन इनके जांच की कोई माकूल व्यवस्था नहीं मिली। जिसके कारण वे अस्पताल में एक पेड़ के नीचे बैठे हुए हैं।
जिला अस्पताल में पहुंचे बांसडीह, सहतवार, रेवती, बैरिया, सुखपुरा आदि थानों के विभिन्न गांवों के 69 लोग एटा से एक ट्रक रिजर्व कर शनिवार को बलिया पहुंचे। जिला अस्पताल पहुंचे लोगों ने बताया कि 33 लोग जहां ट्रक चालक ने उतारा, वहां से पैदल अपने अपने गांव के लिए रवाना हो गए। लेकिन हम 36 लोगों के ग्राम प्रधान व पुलिसकर्मी जिला अस्पताल में जांच कराकर स्वास्थ्य प्रमाणपत्र लेकर आने पर ही गांव में प्रवेश करने े की बात कही। जिसके बाद हम लोग स्वास्थ्य परीक्षण के लिए जिला अस्पताल आए हैं। लेकिन यहां स्वास्थ्य परीक्षण के लिए कोई व्यवस्था नहीं है।
बताया कि हम सब पूर्ण रूप से स्वस्थ हैं, कोई दिक्कत या परेशानी नहीं है। बावजूद बिना जांच कराए आने पर प्रधानों द्वारा प्रतिबंध लगाया जा रहा है। इस दौरान एक समाजसेवी ने हम सभी भोजन करवाया। जिससे हम लोगों को काफी राहत मिली है। इस बाबत मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. बीपी सिंह ने बताया कि इमरजेंसी में तैनात डाक्टर को जांच कर प्रमाणपत्र देने का आदेश दे दिया गया है। जो जांचकर प्रमाणपत्र दे देंगे। वहीं सभी लोगों को 14 दिन तक एकांत में रहने को कहा गया है।
... और पढ़ें

पैदल की घरों को लौटने लगे लोग

बलिया। लाक डाउन के चलते गैरजनपदों में फंसे मजदूर पैदल की अपने घरों को लौटने लगे हैं। पैदल यात्रा के दौरान न सिर्फ उन्हें भूख, प्यास से व्याकुल होना पड़ा बल्कि चलते-चलते थक भी गए लेकिन यात्रा जारी रखी। ऐसे मजदूरों का कहना है कि जब भोजन के लिए पैसे नहीं हैं तो घर लौटना ही एकमात्र विकल्प है ताकि दो वक्त की रोटी मिल सके।
दुबहर थाना क्षेत्र के बिंद के छपरा निवासी विकास कुमार पुत्र चंद्रिका दो माह पहले कानपुर जिले के घाटमपुर में बने रहे एनटीपीसी के थर्मल पावर प्लांट में मजदूरी करने गया था। लाक डाउन होने पर ठेकेदार चला गया तो मजदूरों के समक्ष रोटी का संकट पैदा हो गया। यह देख तीन दिन पूर्व विकास कानपुर से बलिया के लिए पैदल रवाना हुआ और शनिवार को नगर में पहुंचा। पुलिस ने उसे रोक लिया और पूछताछ, चेतावनी के बाद उसे घर जाने दिया। चित्तू पांडेय चौराहे पर पटना से पैदल आए मजदूर परेशान दिखे। उन्हें पकड़ी थाना क्षेत्र के जोगसरा गांव जाना था। भूखे मजदूरों में अमरनाथ, अजय कुमार, अरविंद कुमार, अनिल चौहान, सुनील कुमार के लिए टीएसआई सुरेश चंद्र दिवेदी ने खाने का प्रबंध कराया और उन्हें घर तक भेजने की व्यवस्था की। छपरा से जालौन के लिए निकले दो युवक धीरज सिंह व वीरू राठौर भी लाक डाउन में फंसे दिखें। कानपुर के घाटमपुर स्थित एनटीपीसी के पावर प्लांट में काम करने गये तकरीबन 55 कामगार मजदूरों को लेकर रोडवेज की एक बस जनपद पहुंची। इसमें खेजुरी व सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के 15 और बिहार के छपरा जिले के 40 मजदूर शामिल रहें। इन मजदूरों में रणजीत सिंह, साहेब सिंह, शैल सिंह, शैलेंद्र कुमार, मनोज,अखिलेश आदि शामिल रहें। जिन्हें प्रशासन ने टुुकड़ियों उनके गंत्वय तक रवाना कराया।
--
नहीं बचा खाने को राशन तो रवाना हुए घर को
जयप्रकाश नगर। लॉक डाउन के दौरान फंसे दो सौ मजदूर लखनऊ से बिहार के सारण जा रहे हैं। वे पांच दिन बाद शनिवार को जयप्रभा सेतु तक पहुँचे। इसके अलावा कलकत्ता से बीते सोमवार को पैदल चलकर जिले के सहतवार थाना क्षेत्र के हरपुर निवासी अरविंद सिंह ,रघुनाथ यादव तो वही बैरिया थाना क्षेत्र के करमानपुर निवासी प्रभुनाथ राय व अठगावा निवासी रविन्द्र चौधरी, संजय चौधरी, रविन्द्र चौधरी ये छह लोग छठवें दिन मांझी जयप्रभा सेतु पर पहुँचे। इन लोगों ने बताया कि हमारे पास भोजन के लिए भी पैसा नहीं बचा था।
-
रोजी-रोटी की तलाश में आये दर्जनभर मजदूर फंसे
भीमपुरा। कोलकाता के 11 मजदूर भीमपुरा में फंसे हुए हैं। काम बंद होने के चलते उनके समक्ष भोजन की समस्या पैदा हो गयी है। कमाए पैसे खत्म होने के बाद उधारी पर सामग्री लेकर शुक्रवार से अपना पेट भर रहे हैं। अब उन्हें ऐसे रहनुमा की तलाश है जो उन्हें भोजन मुहैया करा सके। दो माह पहले वेस्ट बंगाल केबिरगुम जनपद के नलहटी थाना के ग्राम कैथा मोईसपुर निवासी लालचंद शेख, इकबाल शेख, सब्बीर हुसैन, ग्राम वुजुंग गांव के मीनारूल शेख, काबिरुल शेख, मुशारुल शेख, रहमतउल्ला शेख, गुलाम गौस, ग्राम माठकुल्था के नुरुल हसन, तारापीठ थाना के ग्राम बुदिक के जिन्ना शेख, हिलुन शेख इस क्षेत्र में आकर भीमपुरा बेल्थरारोड मार्ग पर स्थित सड़क किनारे सिकरियां गांव में फंसे हुए हैं।
... और पढ़ें

शहर में 15 और गांवों में 20 दिन बाद ही मिलेगा सिलिंडर

बलिया। लाक डाउन के दौरान लोगों को रसोई गैस सिलिंडर के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। जिला प्रशासन ने शहर में 15 और गांवोें 20 दिन बाद सिलिंडर मुहैया कराने की व्यवस्था की है।
जिलाधिकारी ने कहा कि यह भी देखा जा रहा है कि लोग 3-4 महीनों के लिए सिलिंडर रखने के प्रयास में हैं। इससे एजेंसियों पर अनावश्यक भीड़ लग रही है। गैस एजेन्सियों पर कंपनी की ओर से अपेक्षित आपूर्ति अपेक्षित न होने से एजेंसियों पर परेशानी हो रही है। इंडने के अधिकारी को पत्र व दूरभाष से निर्देश दिया गया है कि बलिया में आपूर्ति की स्थिति सुधारें। सभी एजेंसियां सुनिश्चित करें कि शहर क्षेत्र में सिलिंडर की आपूर्ति 15 दिन और गांवों में 20 दिन बाद सिलिंडर उपलब्ध कराएं।
-
व्यक्तिगत खरीद के लिए मंडी गए तो होगी कार्रवाई
बलिया। लॉकडाउन की अवधि में फल, सब्जी व खाद्यान्न आदि की आपूर्ति बनी रहे, इसके लिए जिले की सभी कृषि उत्पादन मंडियों में कार्य हो रहा है। लेकिन यह देखा जा रहा है कि काफी संख्या में लोग घरों के लिए आवश्यक सामग्री आसपास की खुली दुकानों पर न खरीद कर मंडी में चले जा रहे हैं। सभी मण्डी समितियों के सचिव व संबंधित थानाध्यक्ष को निर्देशित किया गया है कि मंडियों में व्यक्तिगत घरों की सामग्री खरीदना मना है। मंडियों को खुलने के दौरान निरीक्षण करें। यदि कोई व्यक्तिगत खरीदारी के लिए जा रहा है तो उसके विरुद्ध विधिक कार्यवाही करें और उनके वाहन को सीज करें।
... और पढ़ें

नहीं चेते तो खत्म हो जायेगा दवाओं का स्टाक

बलिया। लाक डाउन के दौरान लोगों को आवश्यक सेवाएं जारी रखने के लिए जिला प्रशासन की ओर से ऐहतियाती कदम उठाये जा रहे हैं। इसके तहत दवा की दुकाने खुल रही हैं लेकिन बाहर से दवाएं नहीं आने से दवा के दुकानदारों के समक्ष दवाओं की किल्लत की समस्या पैदा होने की आशंका हो गई है। ग्रामीण अंचलों में यह समस्या तो दिखाई भी देने लगी है, जहां स्टॉक समाप्त होने पर अधिकांश दुकानों के शटर डाउन होने लगे हैं।
दवा क्षेत्र के लोगों की मानें तो जिले में अभी तो नहीं लेकिन यदि यही स्थिति रही तो अगले दो तीन दिनों में दवाओं की किल्लत की स्थिति सामने आ सकती है। कुछ दवाएं जिनकी मांग अधिक हैं, बड़ी तेजी से मार्केट से गायब हो रही हैं। अभी तक स्टाक के हिसाब से दुकानदारों ने उनकी आपूर्ति की है, लेकिन बाहर से माल नहीं आने के कारण अब दिक्कत सामने आ रही है। दवा व्यवसाईयों का कहना है कि वे खुद बाहर की मंडियों से जाकर माल ले आते रहे हैं, ऐसी परिस्थिति में अब उनके यहां माल नहीं आ पा रहा है, तो ऐसे में यदि प्रशासन उन्हें अनुमति देता है तो वे अपने वाहन से जाकर बाहर की मंडियों से माल ले आएंगे, तभी इस किल्लत को दूर किया जा सकता है।
-
दवाओं की आपूर्ति के लिए बलिया केमिस्ट व डगिस्ट एसोसिएशन द्वारा प्रशासनिक मदद और दवा स्टाक मेंटेन करने के लिए जरूरी कदम उठाने की मांग की गई है। विभाग ने यह आश्वासन दिया गया है कि किसी भी सूरत में दवाओं की कमी नहीं होने दी जाएगी।-आनंद सिंह, अध्यक्ष, केमिस्ट व ड्रगिस्ट ऐसोसिएशन
-
किसी भी सूरत में दवाओं की कमी नहीं होने दी जायेगी। इसके लिए बाहर से आने वाली गाड़ियों कही रोका नहीं जा रहा है। शहर समेत ग्रामीण अंचलों में दवाओं की आपूर्ति सुनिश्चति करने के उद्देश्य से चार-चार दुकानों को होम डिलीवरी करने के लिए चयनित किया गया है। जो 24 घंटे दावा की आपूर्ति सुनिश्चित करेगी। इसके लिए विभाग द्वारा बकायदा नोटिफकेशन कर दिया गया है।-महेंद्र प्रताप श्रीवास्तव, जिला खाद्य व औषधि प्रशासन अधिकारी
... और पढ़ें

लॉकडाउन में खेती किसानी के लिए छूट, पर बनाए रखना होगा एक मीटर की दूरी

बलिया। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने गन्ने, मूंगफली, ज्वार, बाजरा, हरा चारा, सब्जी आदि की बुवाई और रवि की फसलों की कटाई को लेकर किसानों को छूट दी है। फसल कटाई के लिए हार्वेस्टर, ट्रैक्टर का इस्तेमाल करने और मजदूरों को काम करने की छूट दी गई। साथ ही सोशल डिस्टेंस का पालन करने की अपील की।
खाद, बीज या कृषि रसायनों के लाइसेंस प्राप्त सरकारी एवं निजी बिक्री केंद्र खुले रहेंगे। निर्माण एवं आपूर्ति जारी रहेगा। रेलवे रैक द्वारा उर्वरक आपूर्ति और लोडिंग, अनलोडिंग करने वाले श्रमिक आ-जा सकेंगे। जिले में उर्वरक बीज एवं कीटनाशक के परिवहन में लगे हुए वाहनों को रोका नहीं जाएगा, बशर्ते वाहन चालक अपने मालवाहक वाहन के आगे आवश्यक वस्तु उर्वरक, बीज, कीटनाशक लिखा हुआ स्टीकर लगाएंगे। वाहनों में कम एक मीटर की दूरी पर बैठेंगे। मशीन के प्रयोग से पहले किसानों के हाथ सैनिटाइज किए जाएं और साबुन से हाथ धुलवाया जाए। विक्रेता अपने प्रतिष्ठान से ही किसानों को खाद, बीज, कीटनाशक बेचेंगे। जहां दुकान है, वहां हर दो घंटे में ब्लीचिंग पाउडर घोल या सोडियम हाइपोक्लोराइट या स्प्रिट आदि का छिड़काव होता रहे। किसी भी प्रतिष्ठान पर भीड़ नहीं हो इसलिए चूने से सर्किल बनाकर खड़े होने की जगह चिह्नित कर ली जाए।
-
प्रशासन ने जारी किया एक और हेल्पलाइन नंबर
बलिया। कोरोना वायरस की आपदा में लॉक डाउन के बीच जिला प्रशासन ने एक और हेल्पलाइन नंबर 9305779160 जारी किया है। इस नंबर पर भी फोन करके कोई जानकारी दी या ली जा सकती है। इसके अलावा पहले से ही कंट्रोल रूप का नंबर 05498-220857 संचालित है। किसी को कोई सहायता चाहिए तो समग्र एसडीएम, सीओ या संबंधित थानाध्यक्ष को भी फोन कर सहायता ले सकते हैं।
-
अपने साथ पशु-पक्षियों का भी रखें ख्याल: डीएम
बलिया। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने आम जनता से लॉकडाउन का पूरी तरह पालन करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि इस मुसीबत के बीच गलियों में घूमने वाले गाय, कुत्ते, चिड़ियां आदि पशु-पक्षियों का भी ख्याल रखें। इनके सहयोग व देखभाल के लिए लोग आगे आएं। उन्होंने स्वयंसेवी संस्थाओं से भी ऐसे पशु पक्षियों की देखभाल के लिए आगे आने को कहा है।
-
... और पढ़ें

तीन घरों में चोरों ने नगदी समेत लाखों का गहना उड़ाया

बैरिया। क्षेत्र के रानीगंज बाजार व देवकी छपरा गांव में बृहस्पतिवार की रात तीन घरों में चोरी हुई। इन घटनाओं में चोर नकदी, कीमती जेवर आदि उठा ले गए। शुक्रवार को पीड़ितों ने थाने में तहरीर दी। चोरों ने छत के सहारे घर में घुसकर परिजनों को कमरे में बंद करने के बाद घटनाओं को अंजाम दिया।
रानीगंज बाजार की सब्जी मंडी स्थित झुलन के घर में चोर छत के रास्ते घुसे और चार कमरों में सोए परिवार के सदस्यों को बाहर से कुंडी लगाकर बंद कर दिया। इसके बाद बाक्स और आलमारी को तोड़कर 12 थान सोना व चार थान चांदी के आभूषण समेत करीब पांच लाख रुपये उठा ले गए। देवकी छपरा निवासी हीरा मिश्र के घर में भी छत के सहारे नीचे उतरे और सात हजार रुपये नगदी तथा मंगल सूत्र, नथिया व कान का टप्स चुरा लिया। वही थोड़ी दूरी पर स्थित विजय शर्मा के घर में पहुंच एक हजार रुपये नगद तथा दो थान सोना व एक थान चांदी के आभूषण पर चोरों ने हाथ साफ कर दिया। उधर, फेफना कस्बा स्थित पिंटू गुप्ता के किराने की दुकान में घुस कर कैश बाक्स में रखे रुपये चोर उठा ले गए। दुकानदार बृहस्पतिवार को दुकान के पीछे का दरवाजा बंद करना भूल गया था।
... और पढ़ें

अनुसूचित जाति की बस्ती में किया गया भोजन वितरण

बलिया। युवा चेतना के तत्वावधान में माल्देपुर पोखरा के समीप एवं हैबतपुर गांव की अनुसूचित जाति की बस्ती में जरूरतमंद लोगों के बीच भोजन वितरित किया गया। स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी एवं युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने हर गरीब के घर भोजन पहुंचाया। साथ मास्क का भी वितरण किया गया।
अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है। युवा चेतना ही एकमात्र राजनीतिक संगठन है जिसने इस विपत्ति के समय में जनता का साथ दिया है। कोरोना महामारी के खिलाफ हम जनता के साथ खड़े हैं।
रोहित कुमार सिंह ने कहा कि हम जनता के साथ खड़े हैं। जिस तरह डीएम, एसपी, पुलिसकर्मी, स्वास्थकर्मी एवं मीडियाकर्मी जनता के बीच कार्य कर रहे हैं उसी प्रकार विधायक, सांसद और मंत्री को भी जनता के बीच रहकर सेवा करनी चाहिए थी परंतु वे ऐसा नहीं कर रहे हैं। लाकडाउन होने के पूर्व से ही हम कोरोना के ख़िलाफ संघर्ष कर रहे हैं और आगे भी करेंगे। इस अवसर पर अजय राय मुन्ना, ओमप्रकाश राय, मोहन सिंह, बैजू राय, अजय ओझा, पीयूष सिंह, आलोक राय, नीलकांत वर्मा आदि उपस्थित रहे।
... और पढ़ें

कोरोना के भय से ताला तोड़कर दो बच्चों संग घर में घुसी महिला

बलिया। फेफना थाना क्षेत्र के मिड्ढा गांव की अनुसूचित जाति की बस्ती में तीन मार्च से दो बच्चों के साथ अपने घर के दरवाजे पर बैठी महिला ने कोरोना के भय से बृहस्पतिवार को ताला तोड़कर घर में प्रवेश किया। ससुरालियों ने उसे निकाल दिया था और खुद घर पर ताला बंद भाग गए थे।
फेफना थाना क्षेत्र के मिड्ढा गांव के अनुसूचित जाति बस्ती की वंदना देवी पत्नी सत्येंद्र राजभर दो लड़कियों के साथ ससुराल में तीन मार्च से घर के बाहर बैठी हुई थी। आरोप है कि सास, ससुर संग पति और देवर ने घर में ताला लगाकर उसे बाहर कर दिया है। परिजनों ने यह कहकर भगा दिया है कि वह केवल लड़की पैदा कर रही है, उन्हें लड़का चाहिए। महिला के पिता ने फेफना थाने में पति समेत ससुराली जनों के विरुद्ध तहरीर दी थी। इसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच की। इसके बाद से पति व उसके परिजन घर में ताला लगाकर फरार चल रहे थे। अंतत: पीड़ित महिला ने कोरोना के भय से बृहस्पतिवार को ताला तोड़कर दो बेटियों संग घर में प्रवेश किया। ससुरालीजन अब भी फरार चल रहे हैं। जबकि ससुराली जनों का आरोप था कि महिला का आरोप बेबुनियाद है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
deshara coopan
DIWALI COOPAN

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us