विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपये फिरौती मांगने के मामले में आरोपी छात्रा जमानत पर रिहा

पूर्व गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद से पांच करोड़ की फिरौती मांगने की आरोपी एलएलएम की छात्रा की जेल से रिहाई हो सकती है।

11 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

बरेली

बुधवार, 11 दिसंबर 2019

महिला महाविद्यालय में रंगोली प्रतियोगिताओं का आयोजन

बरेली। साहू राम स्वरूप महिला महाविद्यालय में चित्रकला विभाग में रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता स्नातक व स्नातकोत्तर स्तर पर कराई गई। इंटीरियर डिजाइन, कामर्शियल व इंटीरियर डेकोरेशन के डिप्लोमा व सर्टिफिकेट की छात्राओं की फोटो फ्रेम व बोतल आर्ट प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। विभागाध्यक्ष डॉ. गीता अग्रवाल ने बताया कि 58 छात्राओं ने कलर, आटा, फूलों का प्रयोगकर सुंदर रंगोली बनाई। बोतल आर्ट व फोटो फ्रेम बनाकर छात्राओं ने अपनी रचनात्मकता का परिचय दिया। महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. राकेश अरोरा ने छात्राओं को पुरस्कृत किया। इसमें बीए की निक्की मार्य, आंचल कश्यप, एमए की वारणी शुक्ला, राखी पटेल, दरक्शा, डिजाइन व इंटीरियर मेें तैहबा खान, ऐश्वर्या, किरन वर्मा, पूजा को विशेष व दीपिका, संचना, ममता, ईशा पाठक, आरती, सीमा, स्मृति सिंह, आंचल वर्मा को सांत्वना पुरस्कार मिला। विभाग की शिक्षिकाएं डॉ. अनिला रंजन, आरती राठौर, कविता यादव, हेमलता, नीलम, मनीषा, ऋतु शर्मा आदि उपस्थित रहीं। ... और पढ़ें

रद्द हो चुके हजारों राशन कार्डों ने नाम पर करोड़ों का राशन ठिकाने लगाया

बरेली। गरीबों को सस्ती कीमत पर मिलने वाले राशन में माफियाराज कायम है। हद यह हो गई कि रद्द हो चुके हजारों कार्डों पर दुकानदारों ने राशन वितरित कर दिया। मामला खुलने पर सरकार ने एसआईटी जांच के आदेश दिए हैं। एसआईटी जांच दल गुरुवार को बरेली पहुंच रहा है।
यूपी में राशन माफिया गरीबों का हक छीनने पीछे नहीं हैं। उन्होंने बड़ी तादाद में रद्द हुए हजारों कार्डों पर करोड़ों रुपये का अनाज वितरित कर दिया है। इसकी शिकायत होने पर शासन ने जांच शुरू करा दी है। बरेली समेत 14 जनपदों में विजिलेंस टीमें पहुंचकर घोटाले की जांच करेंगी। माना जा रहा है कि इस घोटाले में मुख्यालय पर जमे विभागीय बड़े अफसर भी शामिल हैं।
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) लागू होने के बाद चावल तीन और गेहूं दो रुपये प्रति किलो गरीबों को दिया जा रहा है। जबकि इन दोनों अनाजों की खुले बाजार में कीमतें दस गुना से ज्यादा है। कीमत में मार्जिन ज्यादा होने से राशन कालाबाजारी चरम पर रहती है। हालांकि सरकार ने गरीबों तक निर्धारित मात्रा में खाद्यान्न पहुंचना सुनिश्चित करने के लिए शहरी और ग्रामीण राशन दुकानों पर पीओएस मशीनें भी लगवा दीं हैं। लेकिन हर माह तीन चार दिन पॉक्सो सिस्टम से राशन वितरण करने को मिलने वाली छूट अवधि में दुकानदार ‘खेल’ करते हैं। चार माह पहले इससे अलग राशन माफियों ने बरेली समेत कई जिलों में कैंसल हुए राशनकार्डों पर अनाज वितरण दर्शा दिया। कैंसल हुए कार्डों पर करोड़ों रुपये का कथित वितरण घोटाला सरकार ने विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) को जांच सौंप दी है। इससे खाद्य आयुक्त कार्यालय में खलबली मची हुई है, क्योंकि लखनऊ स्थित खाद्य आयुक्त कार्यालय पर जमे कुछ अफसर राशन कालाबाजारी में शामिल माफियाओं को सपोर्ट करते रहे हैं। इसलिए गरीबों को मिलने सस्ता खाद्यान उन तक पूरा नहीं पहुंच पा रहा है।

कल पहुंचेगा जांच दल
राशन घोटाले की जांच करने तीन सदस्यीय एसआईटी टीम गुुुरुवार पहुंच रही है। जांच दल चिह्नित दुकानों से रद कार्डों पर जारी हुए अनाज वितरण संबंधी अभिलेखों की जांच के साथ ही संबंधित कार्डधारक से भी संपर्क करेगा। बरेली जिले में करीब पौने पांच सौ ऐसे राशन कार्ड हैं जो रद हो गए थे लेकिन उन पर अनाज आदि बांटा गया है। रद हुए कार्डों पर कोटेदारों ने जानबूझकर चावल, गेहूं और केरोसिन का फर्जी वितरित कर दिया। चिह्नित दुकानदारों पर एसआईटी जांच की गाज गिर सकती है।

इन जिलों में एसआईटी करेगी जांच
बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर, मेरठ, बागपत, सहारनपुर, शामली, अलीगढ़, कासगंज, एटा, मुरादाबाद, बिजनौर, संभल और रामपुर जिलों में 12 से 15 दिसंबर तक एसआईटी टीमें खाद्यान्न घोटाले की जांच करेगी।
... और पढ़ें

आज आएंगे पंचायत राज मंत्री और सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष

बरेली। पंचायत राज विभाग के मंत्री भूपेंद्र सिंह चौधरी बुधवार को 11 बजे सर्किट हाउस में पंचायत उप निदेशक के साथ मंडल के सभी डीपीआरओ, एडीपीआरओ सहित अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा करेंगे। इसके बाद वह बरेली मंडल के सभी जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी सहित अन्य अधिकारियों के साथ भी समीक्षा बैठक करेंगे। इसके बाद वह पांच गांवों का निरीक्षण भी करेंगे। जबकि बुधवार को ही राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष सुरेंद्र नाथ वाल्मीकि रात आठ बजे में सर्किट हाउस में सफाई कर्मचारियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे। जबकि 12 दिसंबर को वह सुबह 11 बजे नगर निगम और दोहर ढाई बजे कलक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। ... और पढ़ें

यूपी: सिपाही ने लगाए ठुमके, दुष्कर्म की कोशिश का भी लगा आरोप, वीडियो वायरल

फतेहगंज पूर्वी थाने में तैनात एक सिपाही का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह वर्दी पहने हुए डीजे पर डांस करता नजर आ रहा है। वायरल वीडियो कस्बे का ही बताया जा रहा है। उधर, मंगलवार को कस्बे की ही एक महिला ने सिपाही पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए सीओ को तहरीर दी है।

मंगलवार को कस्बे के व्हाट्सएप ग्रुप में एक पुलिसकर्मी का डांस करते हुए वीडियो वायरल हुआ। इसमें एक सिपाही वर्दी पहने हुए एक अन्य व्यक्ति के साथ डीजे पर डांस कर रहा है। वीडियो कस्बे की नई बस्ती कॉलोनी के एक घर का बताया जा रहा है।

इधर, आरोपी सिपाही के खिलाफ कस्बे की ही एक महिला ने मंगलवार को सीओ को तहरीर देकर दुष्कर्म की कोशिश का आरोप लगाया है। महिला का कहना है कि सिपाही नशे में सोमवार रात उसक घर में घुस आया और दुष्कर्म की कोशिश की। विरोध करने पर रिवाल्वर भी निकाल लिया था। शोर मचाने पर वह भाग गया।  
... और पढ़ें
यूपी पुलिस (फाइल फोटो) यूपी पुलिस (फाइल फोटो)

चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपये फिरौती मांगने के मामले में आरोपी छात्रा जमानत पर रिहा

पूर्व गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद से फिरौती मांगने की आरोपी एलएलएम की छात्रा को जमानत पर जेल से रिहा कर दिया गया है। एलएलएम की छात्रा, उसके दोस्त संजय, सचिन और विक्रम पर पांच करोड़ रुपये फिरौती मांगने का आरोप है।

इससे पहले सीजेएम कोर्ट ने छात्रा की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी जिसके बाद हाईकोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की गई। चार दिसंबर को हाईकोर्ट ने छात्रा की जमानत मंजूर कर ली थी। बुधवार 11 दिसंबर की शाम करीब साढ़े चार बजे सीजेएम कोर्ट से छात्रा की रिहाई का आदेश जिला जेल पहुंचा। कागजी खानापूर्ति के बाद बुधवार शाम साढ़े छह बजे छात्रा को जेल से रिहा कर दिया गया।

बता दें कि एसआईटी ने छात्रा को 25 सितंबर 2019 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। चिन्मयानंद भी दुष्कर्म के आरोप में 20 सितंबर से जेल में हैं। उनकी जमानत पर फैसला सुरक्षित है। 
... और पढ़ें

परीक्षा में जवाब नहीं देने पर शिक्षक ने तीन छात्रों के साथ छात्रा को बनाया मुर्गा, भड़के छात्र

रुहेलखंड विश्वविद्यालय के एक विभाग में मौखिक परीक्षा ले रहे शिक्षक पर तीन छात्रों के साथ एक छात्रा को भी मुर्गा बना देने का आरोप लगा है। इससे विश्वविद्यालय के छात्रों का गुस्सा भड़क गया है।  छात्रों ने पहले छुट्टी पर गए एचओडी से फोन पर इसकी शिकायत की, फिर एक शिक्षक से भी इसकी शिकायत की। हालांकि विभाग के डीन ऐसी किसी शिकायत मिलने से इनकार कर रहे हैं।

छात्रों के मुताबिक एक विभाग में कुछ दिन पहले वायवा ले रहे शिक्षक ने कुछ छात्रों से लैब का नाम पूछ लिया। वे सही जवाब नहीं दे पाए तो शिक्षक ने तीन छात्रों के साथ एक छात्रा को भी मुर्गा बनने को कहा।

छात्रों का कहना है कि हैरत में आई छात्रा ने पूछा- क्या मैं भी मुर्गा बनूं? इस पर शिक्षक ने कहा- क्या तुम्हें अलग से कहना पड़ेगा? छात्रा को भी मुर्गा बनना पड़ा। यह घटना सार्वजनिक होने के बाद भड़के छात्रों ने इसकी शिकायत फोन पर अपने एचओडी से की। उन्होंने छुट्टी पर बाहर होने की बात कहते हुए बताया कि वह लौटकर इस मामले का संज्ञान लेंगे, साथ ही कार्रवाई भी की जाएगी। छात्रों ने इसकी शिकायत एक अन्य शिक्षक से भी की।
 
... और पढ़ें

शर्मनाक: पूर्व सपा विधायक ने पंचायत में दुष्कर्म पीड़िता के चेहरे से हटवाया पर्दा, वीडियो वायरल

हैदराबाद और उन्नाव की घटनाओं के बाद दुष्कर्मियों के खिलाफ पूरे देश में गुस्से के माहौल के बीच सपा के पूर्व विधायक सुल्तान बेग ने सियासत के लिए शाही इलाके की एक दुष्कर्म पीड़िता की सबके सामने नुमाइश कराकर उसे शर्मसार कर दिया।

भाजपा नेता पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए आंदोलन करने के बहाने उसे भरी पंचायत में बुलाया गया और फिर उसके चेहरे से पर्दा हटवाकर उसका वीडियो बनवाया गया। पूर्व विधायक वायरल हुए इस वीडियो में पीड़िता से यह भी पूछते दिख रहे हैं कि बात सबके सामने होगी या अकेले में।

महिला ने भाजपा के पूर्व मंडल अध्यक्ष संतोष शर्मा पर तीन महीने पहले दुष्कर्म के आरोप में थाना मीरगंज में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने न आरोपी को गिरफ्तार किया न जांच आगे बढ़ाई। इससे क्षुब्ध पीड़ित ने दो दिन पहले राष्ट्रपति और मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था। सोमवार को पूर्व विधायक सुल्तान बेेग पीड़िता के गांव पहुंचे। पीड़िता के ही घर के बाहर बैठकर उन्होंने लोगों को बुलाकर पंचायत जमा ली। पीड़िता को भी पंचायत में बुला लिया।

मंगलवार को पूर्व विधायक का ही बनवाया गया पंचायत का वीडियो वायरल हुआ तो उन्हीं पर सवाल उठने लगे। वह वीडियो में पीड़िता से अपने चेहरे से कपड़ा हटाने को कहते नजर आ रहे हैं जबकि पीड़िता चेहरा छिपा रही है। पूर्व विधायक ने उससे यह भी पूछा कि बात सबके सामने होगी या अकेले में। सूत्रों के मुताबिक वायरल हुआ यह वीडियो पुलिस तक पहुंचा लेकिन वह इस मामले को भी दबा गई।

दुष्कर्म पीड़ित का हाल जानने उसके गांव गया था। पुलिस के कार्रवाई न करने से वह काफी डरी और सहमी हुई थी। मेरे ऊपर जो आरोप लगाए जा रहे हैं, वे सब बेबुनियाद हैं। अगर महिला को इंसाफ नहीं मिला तो आंदोलन किया जाएगा। - सुल्तान बेग, पूर्व विधायक सपा
... और पढ़ें

बाइक में कार की रगड़ लगी तो बदायूं के  युवक को रामगंगा पुल से फेंका

भाजपा नेता ने किया दुष्कर्म, सपा के पूर्व विधायक ने भरी पंचायत में बेपर्दा किया

फरीदपुर में हुई थी टक्कर, पीछा करके रामगंगा पुल पर रोकी कार
एक आरोपी गिरफ्तार, नदी से निकाले गए युवक की हालत गंभीर

बरेली। बाइक को कार की मामूली रगड़ लग जाने पर भड़के युवकों ने कार चला रहे युवक की जान लेने की कोशिश की। फरीदपुर में हुई घटना के बाद उन्होंने रामगंगा पुल तक कार का पीछा कर पहले तो उसमें बैठे दो युवकों को जमकर पीटा और फिर एक को पुल से ही नीचे रामगंगा नदी में फेंक दिया। 
पुल पर मारपीट होते देख पास ही चौकी से पहुंची पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। नदी में फेंके गए युवक को निकालकर गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
बदायूं के रसूलपुर में रहने वाले विजय प्रताप अपने भाई विकास यादव के साथ मंगलवार को फरीदपुर गए थे जहां से लौटते वक्त फरीदपुर में ही उनकी कार पास से गुजर रही बाइक से रगड़ गई। इसके बाद बाइक पर सवार दोनों युवकों ने उनका पीछा शुरू कर दिया और रामगंगा पुल पर कार के आगे बाइक लगाकर उसे रोक लिया। बाइक में टक्कर मारने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कार में बैठे विजय और विकास से मारपीट शुरू कर दी। इसी दौरान कार चला रहे विकास यादव को उठाकर पुल से ही रामगंगा नदी में फेंक दिया और फिर विजय प्रताप को पीटने लगे। 
पुल पर जाम के साथ हंगामा होते देख चौकी से पुलिस पहुंची और मारपीट कर रहे एक युवक को गिरफ्तार कर लिया। उसका दूसरा साथी भाग निकला। कुछ पुलिसकर्मियों ने पुल से नीचे जाकर विकास को नदी से निकाला। उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे फौरन बदायूं रोड के ही एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। मौके पर पकड़ा गया युवक मढ़ीनाथ में रहने वाले रामभरोसे का बेटा राहुल निकला। विजय की तहरीर पर राहुल और उसके साथी के खिलाफ थाना सुभाषनगर में जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।
... और पढ़ें

डिवाइडर से टकराई नशे में धुत युवकों की कार

देर रात श्यामगंज में हुआ हादसा, बीसलपुर रोड बस और दो कारों में भिड़ंत

बरेली। नशे में धुत युवकों की कार देर रात बेकाबू होकर डिवाइडर से टकरा गई। हादसे के बाद मौके पर भीड़ जुट गई तो कार सवार युवक लोगों से अभद्रता करने लगे। एंबुलेंस उन्हें लेने पहुंची तो युवकों ने उसे भी भगा दिया।
घटना मंगलवार रात 12.30 बजे हुई। सेटेलाइट की ओर से जा रही स्विफ्ट कार अचानक अनियंत्रित होकर श्यामगंज में पेट्रोलपंप के सामने डिवाइडर से टकरा गई। बताया जाता है कि कार सवार नशे में धुत थे। हादसा देख आसपास मौजूद लोग वहां पहुंचे तो कार सवार उनसे अभद्रता करने लगे। किसी ने एंबुलेंस को बुला दिया तो युवकों ने एंबुलेंस वाले को भी भगा दिया। कुछ देर बाद बारादरी पुलिस पहुंची तो कार वहां से हटवाकर उन्हें लेकर गई। वहीं, मंगलवार दोपहर सेटेलाइट से महानगर जा रहे मोहित की कार में पीछे से आई तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी। पीछे वाली कार की टक्कर इतनी तेज थी कि मोहित की कार आगे चल रही बस से टकरा गई। गनीमत रही कि किसी को चोट नहीं लगी।
... और पढ़ें

महिला पुलिस : पीआरवी में करेंगी ड्यूटी, बीट की भी मिलेगी जिम्मेदारी

नहीं कर सकेंगी सिर्फ दिखावे की नौकरी, जिम्मेदारी बढ़ाने की तैयारी में कप्तान
अभी पहरेदारी, पीड़िताओं के मेडिकल और हेल्प डेस्क जैसे कर रही हैं काम

बरेली। पुलिस विभाग में महिला कर्मचारियों की लंबी फौज होने के बावजूद उनकी उपयोगिता पर सवाल उठ रहे हैं। थानों में महिला सब इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही तक तैनात हैं लेकिन उनके पास कोई खास जिम्मेदारी नहीं है। इनमें से अधिकांश महिला सिपाही तो थानों में सिर्फ पहरेदारी, हेल्प डेस्क और पीड़िताओं के मेडिकल कराने तक ही सीमित हैं। वहीं, महिला संबंधी दुष्कर्म, तलाक और दहेज उत्पीड़न जैसे मामलों की विवेचना अब भी पुरुष सब इंस्पेक्टर ही कर रहे हैं। मगर जिले के कप्तान अब महिला पुलिस के कंधों पर काम का बोझ बढ़ाने की तैयारी में हैं। उनकी ड्यूटी पीआरवी में लगाने के साथ ही उन्हें गश्त और बीट की जिम्मेदारी देने की प्लानिंग चल रही हैञ
बरेली पुलिस के पास करीब 500 महिला पुलिसकर्मियों की भारी भरकम फौज है। एक वक्त था जब महिला पुलिस कर्मियों की कमी के चलते पीड़िताआें के मेडिकल या बयान के लिए दूसरे थानों से महिला पुलिसकर्मी बुलानी पड़ती थीं। मगर अब यह समस्या दूर हो चुकी है लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस अपनी महिला शक्ति का भरपूर इस्तेमाल नहीं कर रही है या यूं कहें कि इससे बच रही है। थानों में तैनात महिला पुलिसकर्मी पहरेदारी, हेल्पडेस्क या पीड़िता को बयान के लिए लाने ले जाने जैसे हल्के कामों में ही लगाई जाती हैं। यही वजह है कि तमाम महिला पुलिसकर्मी थानों में अक्सर मोबाइल पर बात करते या गेम खेलती भी नजर आती हैं। वहीं, महिला उत्पीड़न संबंधी दुष्कर्म, तलाक, दहेज, छेड़छाड़ जैसे अधिकांश मामलों की विवेचना आज भी पुरुष सब इंस्पेक्टर ही कर रहे हैं। मगर अब महिला पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ेगी। उन्हें ट्रेन कराकर पीआरवी में ड्यूटी लगाने के साथ ही बीट और गश्त की जिम्मेदारी भी सौंपी जाएगी।

अफसरों तक महिला पुलिस का खौफ
महिला पुलिसकर्मियों का खौफ भी थाना प्रभारियों और चौकी इंचार्जों पर हावी रहता है। यह भी एक बड़ी वजह है, जिसके चलते थाना प्रभारी उन्हें कोई कड़ी या बड़ी जिम्मेदारी देने से बचते हैं। पूर्व में बदायूं में तीन महिला पुलिसकर्मियों का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें थाना प्रभारी पर शोषण के आरोप लगाए गए थे। इससे पहले बरेली में तैनात एक बडे़े अफसर के खिलाफ महिला सिपाही ने मनचाही जगह ट्रांसफर न देने पर गंभीर आरोप लगाते हुए शासन में शिकायत कर दी थी।
जिले में महिला पुलिस
इंस्पेक्टर : 01
सब इंस्पेक्टर : 29
हेड कांस्टेबल : 32
कांस्टेबल : 430
 
पुलिस विभाग में कार्यरत हर कर्मचारी की अलग-अलग जिम्मेदारी है। महिला पुलिसकर्मियों का काम भी बढ़ाया जाएगा। अब उन्हें ट्रेनिंग कराकर पीआरवी में ड्यूटी लगाई जाएगी। साथ ही बीट, गश्त और सामान्य महिला अपराध संबंधी प्रार्थनापत्रों की जांच के काम में लगाया जाएगा।
- शैलेश पांडेय, एसएसपी
... और पढ़ें

मतलूब की मौत का मामला- तीन महीने बाद मिले अस्पतालों के जवाब से परिजन संतुष्ट नहीं

बरेली। करीब तीन माह पहले आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी 59 वर्षीय मतलूब की इलाज के अभाव में मौत होने के मामले में चारों अस्पतालों ने अपना जवाब दे दिया है। उनके जवाब से परिजन संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने इस पर आपत्ति जताते हुए जांच कर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। एस पर सीएमओ ने जांच के आदेश दिए हैं।
सितंबर में मोहल्ला भूड़ के रहने वाले मतलूब हुसैन की तबीयत बिगड़ी तो परिजन उन्हें लेकर एक के बाद एक चार निजी अस्पतालों में गए, लेकिन आयुष्मान कार्ड दिखाने के बाद भी किसी ने इलाज नहीं किया। इससे मतलूब की मौत हो गई। परिजन ने मामले में जांच की मांग की तो मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएमओ ने चारों अस्पतालों से स्पष्टीकरण मांगा। स्पष्टीकरण देने में अस्पतालों को काफी वक्त लगा। उन्होंने जो जवाब दिया है, उस पर परिजन ने आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि अस्पताल अपनी गर्दन बचाने के लिए झूठ बोल रहे हैं। इस पर सीएमओ ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। प्रभारी मंत्री के सामने परिजन ने दोबारा जांच की मांग की लेकिन वह अब तक जांच शुरू नहीं हुई है।
बेहतर कार्य के लिए सीएमओ हो चुके हैं सम्मानित
आयुष्मान योजना में बेहतर कार्य करने पर पिछले दिनों सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ल को केंद्र सरकार ने सम्मानित किया है, लेकिन उन्हीं के जिले में आयुष्मान कार्ड लेकर इलाज के लिए मरीज भटक रहे हैं। कई मामले प्रकाश में आए लेकिन उनमें अब तक कोई ठोस कार्रवाई न होने से अस्पताल संचालक भी बेखौफ हैं। सीएमओ के मुताबिक उन्होंने निजी अस्पतालों के इलाज न देने की शिकायत पर शासन से पूछा है कि ऐसे मामलों में क्या कार्रवाई की जा सकती है। अर्थदंड के अलावा विधिक कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है या नहीं।

आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी इलाज न करने वाले अस्पतालों का जवाब आ गया है। परिजन ने इस जवाब पर आपत्ति जताई है। इस मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं। - डॉ. विनीत शुक्ल, सीएमओ
... और पढ़ें

‘मुर्गे में प्याज डालें या प्याज में मुर्गा’

परेशान होटल वाले बोले, एक समान हो चले हैं दोनों के भाव

सलाद की प्लेट और पकौड़ियों से भी प्याज गायब

बरेली। प्याज पर बढ़ती महंगाई से गृहणियां तो पहले से ही परेशान हैं, लेकिन अब नॉनवेज बेचने वाले होटल संचालन भी परेशान हो चले हैं। उनका कहना है कि इस प्रतियोगी दौर में चीजों के दाम बढ़ा नहीं सकते हैं, लेकिन वर्तमान में प्याज और मुर्गे के दाम एक समान हो चले हैं, ऐसे में वह समझ नहीं पा रहे हैं कि ‘मुर्गे में प्याज डाले या प्याज में मुर्गा’।
इन दिनों प्याज का दाम का आसमान छू रहा है। घरों के किचन में प्याज की कमी तो है ही होटल वाले भी परेशान हैं। वह चाहे वेज होटल हों या नॉन वेज, सभी जगह प्याज के बिना कोई डिश तैयार नहीं होती। इसमें नॉन वेज होटल वाले कुछ ज्यादा ही दुखी है। उनका कहना है कि इस समय मुर्गे और प्याज के दाम लगभग एक समान (120 रुपये प्रति किलो) हो चले हैं। अब समझ में नहीं आता किसमें क्या डालकर बनाएं। सभी होटल वाले प्याज की महंगाई से परेशान हैं।
असल मेें मुर्गा, मटन की ग्रेवी प्याज पर ही निर्भर करती है। होटल व्यवसाय से जुड़े लोग बताते हैं कि एक क्विंटल प्याज भुनकर मात्र सात किलो के करीब रह जाता है, जब तक इसे डिश में भरपूर मात्रा में न मिलाया जा डिश का स्वाद नहीं उभरता। इसके अलावा डिश जब ग्राहक के पास जाती है तो वह भी प्याज की डिमांड करता है। अगर न दो तो ग्राहकी प्रभावित होती है। इसके अलावा मुर्गे की डिश में डाली जाने वाली सफेद इलाजी जो एक साल पहले 800 रुपये किलो थी वह भी अब चार हजार रुपये किलो है।
बाजार में आलू-गोभी और हरी सब्जियों की पकोड़ी की भरमार
पकौड़ियों से भी प्याज गायब हो चुकी है। बाजार में पकौड़ियां लेने जाएं तो अधिकांश स्थानों पर आलू, गोभी या मिर्च की ही पकौड़ियां मिलेंगी। प्याज की पकौड़ियां बहुत कम दुकानदार ही बना रहे हैं, जबकि अधिकांश लोग प्याज की पकौड़ियां ही पसंद करते हैं। उनका भी मानना है कि प्याज की पकौड़ी में मार्जिन नहीं आ रहा है। सस्ती प्याज लगाते हैं तो उसमें टेस्ट नहीं मिलता। फिर ग्राहक शिकायत करता है।

जितनी बिक्री होती है उसका आधा पैसा तो प्याज में चला जाता है। मुर्गे की डिश में इस्तेमाल होने वाली सफेद इलाजी भी एक साल में चार गुना महंगी हो चुकी है। लिहाजा बिक्री एक तरह आधी मानी जा सकती है।
- मोहम्मद शादाब, होटल मालिक

महंगाई के चलते प्याज कम ला रहे थे, जिसके चलते खानेे में लज्जत नहीं आ रही थी। ग्राहक को मुर्गा हो या मछली उसे खाने में सलाद के तौर पर प्याज जरूर चाहिए। फिलहाल कुछ दिनों के लिए होटल बंद कर दिया है।
- सिरोज सैफ कुरैशी, होटल मालिक

क्यों महंगी है प्याज
महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में पिछले दिनों बेमौसम हुई बारिश से बाढ़ आ गई थी। प्याज की पैदावार जमीन में होती है, जो बाढ़ से जमीन में दब गई या फिर खराब हो गई, जो बची वह भीगने से बर्बाद हो गई। अब वह प्याज बाजार में आ रही है जो गोदामों में रखी गई थी। इस तरह प्याज की कमी होने से महंगाई बढ़ गई।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election