विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in Uttar Pradesh Live Updates: यूपी में एक दिन में 14 नए मरीज, अब तक 65 लोग कोरोना संक्रमित

यूपी में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। शनिवार को एक ही दिन 14 नए मरीज सामने आने के साथ ही प्रदेश में संक्रमितों की संख्या 65 हो गई है।

28 मार्च 2020

विज्ञापन

Sp baghpat said

28 मार्च 2020

विज्ञापन

भदोही

रविवार, 29 मार्च 2020

लॉकडाउन के बाद भदोही की सीमा सील, चौकसी बढ़ी

ज्ञानपुर। कोरोना वायरस के असर से बचने के लिए प्रदेश सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन ने भदोही जिले को भी लॉकडाउन कर दिया। इससे आवागमन पूरी तरह बंद हो गया और दुकानें के शटर गिर गए। लॉकडाउन रात से प्रभावी होने के कारण मंगलवार को दिन में जिले के सामान्य जनजीवन पर ज्यादा असर नहीं पड़ा, लेकिन देर रात सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। जिलाधिकारी ने कहा कि वायरस से बचने के लिए लॉकडाउन के नियमों का पूरी तरह पालन करना होगा।
भदोही जिले की सीमा पूर्व में वाराणसी, पश्चिम में प्रयागराज, उत्तर में जौनपुर और दक्षिण में मिर्जापुर जिले की सीमा से जुड़ी है। बनारस और प्रयागराज में दो दिन पूर्व ही लॉकडाउन होने के कारण जिले के पूर्वी और पश्चिमी छोर पर बैरियर लग गया था। सोमवार को जौनपुर में कोरोना का मरीज मिलने के बाद वहां लॉकडाउन होने से उत्तरी सीमा भी सील कर दी गई। इससे तीन दिशाओं का संपर्क भदोही जिले से पहले ही कट गया था। माना जा रहा था कि अगर मिर्जापुर में भी लॉकडाउन हो गया तो भदोही का संपर्क स्वत: ही कट जाएगा और जिले में अघोषित लॉकडाउन की स्थिति हो जाएगी। मगर मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समूचे प्रदेश में लॉकडाउन घोषित करने के बाद जिले में भी लॉक डाउन घोषित हो गया।
इससे आवागमन रोक दिया गया और लोगों से घर में ही रहने की अपील की गई। पुलिस ने दोपहर बाद जनपद की सभी सीमाओं को सील कराते हुए कड़ी चौकसी शुरू कर दी। सख्ती से राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-19 समेत अन्य संपर्क मार्गों पर यातायात व्यवस्था पूरी तरह लड़खड़ा गई। सुबह से यात्रा शुरू कर चुके लोगों को सीमाओं पर आकर पैदल ही यात्रा करनी पड़ी। पूर्वी सीमा बाबूसराय, औराई चौराहे पर सीओ लेखराज सिंह, पश्चिमी-उत्तरी सीमा ऊंज, धनतुलसी, रामपुर घाट पर सीओ सीओ कालू सिंह, दक्षिणी सीमा पर सीओ भूषण वर्मा दलबल के साथ लगे रहे। डीएम राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि जरूरी सेवाएं ही चलेंगी। दवाएं, सब्जी और किराना की आपूर्ति होती रहेगी। अखबार भोर में ही बांटें जाएंगे।
कोरोना के 109 मामले आए, संक्रमित एक भी नहीं
ज्ञानपुर। जिले में अब तक कोरोना से जुड़े 109 मामले स्वास्थ्य विभाग के सामने आए। इनमें देश के विभिन्न शहरों से भदोही जिले में आए 46 और विदेशों से आए 63 लोगों की स्वास्थ्य विभाग ने जांच की। हालांकि इसमें न तो कोई संदिग्ध मिला, ना ही संक्रमित। सीएमओ डॉ. लक्ष्मी सिंह ने कहा कि जिले में अब तक एक भी कोरोना संक्रमित नहीं मिला है, लेकिन लॉकडाउन के बाद पूरा एहतियात बरता जा रहा है।
अफसरों से भ्रमण कर कहा-भीड़ न लगाएं
ज्ञानपुर। लॉकडाउन की घोषणा से पूर्व एसडीएम ज्ञानपुर ज्ञानप्रकाश यादव ने अधिकारियों के साथ नगर भ्रमण कर वायरस के संक्रमण से बचने के लिए लोगों को एहतियात बरतने का संदेश दिया। कहा कि कहीं भी भीड़ न लगाएं। सामाजिक दूरी बनानी जरूरी है। घर में ही रहें और परिवार को समय दें। साफ-सफाई का ध्यान दें और लोगों के संपर्क में आने से बचें। इससे बीमारी से बचे रहेंगे।
वहीं भदोही में भी बुधवार से तीन दिन तक प्रदेश भर में शुरू हो रहे लाकडाउन के चलते भदोही और जौनपुर सीमा को पूरी तरह सील कर दिया गया है। वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है। इसके चलते सीमा के इस पार और उस पार जहां के तहां भारी वाहन ठहर गए। सीमा पर तैनात पुलिस मंगलवार को दिन भर छोटे और दोपहिया वाहनों को रोकने में हलाकान रही।
भदोही-जौनपुर सीमा से लेकर इंदिरा मिल चौराहे लगभग पांच किमी तक पिछले पांच दिनों से ट्रकों की लाइन लग रही है। सोमवार को पूरे प्रदेश में लाकडाउन की सूचना पर भागमभाग मच गई। हालांकि भदोही में प्रवेश की सीमा को सोमवार की रात ही बंद कर दिए जाने से आवाजाही एकदम से ठहर गई है। इसको लेकर धौरहरा चौकी पुलिस हलाकान रही। एसडीएम भदोही आशीष कुमार मिश्रा ने बताया कि फिलहाल गैरजनपद से वाहनों को आने-जाने देना नहीं है।
जाम की स्थिति चार दिन पहले से शुरू हो चुका है। इसके चलते धौरहरा पुलिस चौकी से लेकर इंदिरा मिल चौराहे तक हर तरफ केवल ट्रक ही ट्रक दिखाई दे रहे थे। ट्रक चालकों और उनमें बैठे खलासी के सामने परेशानी यह रही कि पूरे शहर में कहीं चाय पान की दुकानें भी नहीं खुली थी। इससे वे चाय-पान के लिए भी तरस गए।
... और पढ़ें

छापे में एक ट्रक आंटा सीज, आढ़त सील

भदोही। कोरोना वायरस को लेकर बुधवार से पूरे प्रदेश में शुरू हो रहे लाकडाऊन के मद्देनजर मंगलवार को बाजार में भीड़ उमड़ पड़ी। इससे आटा, दाल और प्याज, आलू के भाव एकाएक चढ़ गए। इसकी भनक प्रशासन को लगते ही उपजिलाधिकारी आशीष कुमार मिश्रा ने मंगलवार को बाजार में सघन छापेमारी की। इस दौरान एक ट्रक से भारी मात्रा में आटा सीज कर एक आढ़त का गोदाम सील कर दिया गया।
उपजिलाधिकारी ने बताया कि लाक डाऊन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की कीमतें स्थिर रहें आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। सूचना मिली थी कि बाजार में कुछ लोग आटा, दाल, चावल का भंडारण कर रहे हैं जिसे आने वाले दिनों में ऊंचे दाम में बेचा जाएगा। इसको देखते हुए ठकुरा रोड गल्ला मंडी में सघन छापेमारी कर मिले एक ट्रक भरा आटा चालक सहित सीज कर दिया गया। इसके अलावा एक आढ़त के स्टाक की जांच के लिए आढ़त में ताला लगाकर सील कर दिया गया। एसडीएम ने बताया कि ट्रक को कोतवाली भेज कर जांच कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार का निर्देश है कि संकट की घड़ी में गरीबों को कोई दिक्कत न हो। जरूरी सामानों की कीमतें न बढ़ें।
... और पढ़ें

अंत्योदय कार्डधारकों को नि: शुल्क मिलेगा अप्रैल माह का खाद्यान्न

ज्ञानपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए लाकडाउन होते ही जिलापूर्ति विभाग ने भी सक्रियता दिखाई है। अप्रैल माह में 38264 अंत्योदय कार्डधारकों को नि:शुल्क खाद्यान्न दिया जाएगा। साथ ही मनरेगा के तहत श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिक, नगरीय क्षेत्र के दिहाड़ी मजदूरों को भी राशन उपलब्ध कराने के लिए उनकी खोज शुरू कर दी गई है।
कोरोना वायरस की भयावहता के कारण जनता कर्फ्यू और तीन दिनों के लिए लगे लाकडाउन में सबसे अधिक परेशानी गरीबों और मजदूरों को ही उठानी पड़ रही है। क्योंकि रोज कमाने और खाने का जुगाड़ भी लाकडाउन हो चुका है, जिससे मजदूरों को दो वक्त की रोटी के भी लाले पड़ते दिखाई दे रहे हैं। ऊपर से सीमाओं के सील हो जाने से बाहरी सामान का आवागमन न हो पाने से दुकानदारों ने जीविकोपार्जन से जुड़े सामान के दाम बढ़ा दिया है। जिलापूर्ति अधिकारी अमित कुमार तिवारी ने बताया कि शासन स्तर से गाइडलाइन मिलते ही विभाग ने यह निर्णय लिया है। अंत्योदय कार्डधारकों को नि:शुल्क राशन उपलब्ध कराने के लिए जनपद में संचालित 744 दुकानों पर नोडल अधिकारियों की तैनाती रहेगी। मनरेगा और दिहाड़ी मजदूरों को चिह्नित करने के लिए टीम भी गठित कर ली गई है।
एक ओर शासन-प्रशासन स्तर कोरोना वायरस से लड़ी जा रही जंग में प्रयुक्त होने वाले पेट्रो पदार्थों के खर्च को देखते हुए जिले में चल रहे 55 से अधिक पेट्रोल पंप संचालकों को सख्त निर्देश जारी कर दो-दो हजार लीटर पेट्रोल-डीजल को सुरक्षित रखने का आदेश दिया गया है। जिलापूर्ति अधिकारी अमित कुमार तिवारी ने कहा कि सुरक्षित रहने वाला पेट्रोल-डीजल पुलिस, एंबुलेंस, सेना वाहन, फायर ब्रिगेड वाहनों के जरूरत पड़ने पर उपलब्ध होंगे। बुधवार से विभागीय टीम पेट्रोल पंपों पर पहुंचकर जांच-पड़ताल भी करेगी। हालांकि लाकडाउन में पेट्रोल पंप संचालित होते रहेंगे।
अब्दुल वहीद-पंकज चौबे
... और पढ़ें

लॉकडाउन से मैरिज लॉन, टेंट व्यवसाय प्रभावित

भदोही। कोरोना के कहर से 21 दिन के लॉकडाउन से भदोही जिले के कालीन व्यवसाय के साथ साथ अन्य व्यवसायों पर भारी असर पड़ा है। विशेष रूप से शादी के मैरिज लॉन और टेंट हाउस संचालकों को लाखों का नुकसान उठाना पड़ा है। लोगों में इस बात का भय है कि यदि कहीं यह स्थिति लंबा खिंचा तो निश्चित रूप से मध्यम से गरीब तबके पर व्यापक असर होगा।
टेंट हाउस व्यवसायी शफीक अहमद ने बताया कि प्रधानमंत्री के जनता कर्फ्यू से लेकर अब तक उनके पास आठ वैवाहिक कार्यक्रमों की बुकिंग थी। सब से सब कैंसल कर दिए गए हैं। चौरी रोड स्थित स्टार गैलेक्सी मैरिज लॉन में 24 से 31 मार्च तक कुल 6 शादियां होनी थीं जिन्हें हालातों को देखते हुए निरस्त कर दिया गया है। संचालक सेराज खालसा ने बताया कि अप्रैल माह की बुकिंग रोक दी गई है। कहा कि इससे उनका भारी नुकसान तो हुआ ही है एक शादी होने पर कम से कम 50 मजदूरों की कुछ आमदनी हो जाती है। ऐसे में उनकी व्यथा को समझा जा सकता है।
जानकारी हो कि शहर में एक दर्जन से अधिक वैवाहिक लान हैं जिनमें कुल 15 मार्च से 15 अप्रैल तक कुल 48 विवाह संपन्न होने थे लेकिन सब के सब टल चुके हैं। मैरिज हॉल संचालक कफील अहमद मोनू ने कहा कि एक विवाह के 25 से 30 हजार तक रेट है इससे नुकसान का आकलन किया जा सकता है। कुल मिलाकर कोरोना से मुख्यत: मजदूर वर्ग के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है।
--
... और पढ़ें

लॉकडाउन: मुर्गा कारोबार ठप, बेच रहे सब्जी

कहीं लॉकडाउन तो कहीं टूटी पाबंदी

ज्ञानपुर। जिले में लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को व्यवस्था कुछ इलाकों में फेल हो जा रही है। गरीबों की सहायता संग मास्क आदि के वितरण में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा है। अनाज, दवा की कुछ दुकानों की स्थिति ठीक है, लेकिन अधिकांश पर लापरवाही की जा रही है। जिससे आने वाले समय में मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
कोरोना वायरस महामारी को लेकर देश में 21 दिनों की लॉकडाउन की घोषणा की गई है। जिले में सुबह और दोपहर में स्थिति सामान्य रहती है लेकिन शाम के समय दुकानों पर पाबंदी बेअसर हो जाती है। जगह-जगह लोगों की भीड़ होने संग दुकानों पर भी लापरवाही बरती जाती है। पांच फीट की जगह में 10 से 15 लोग सामान लेने के लिए एक दूसरे से सटे रहते हैं। कुछ लोग इसका विरोध करते हैं लेकिन बाद में वह भी चुप हो जाते हैं। समाजसेवा के नाम पर क्षेत्रों में मास्क, सैनिटाइजर वितरण में भी सोशल डिस्टेंसिंग तार-तार हो रही है। मुश्किल से लोग एक फिट की दूरी पर खड़े हो जाते हैं। दुर्गागंज बाजार समेत आसपास के गांवों में स्थिति काफी विकट है। पुलिस की ओर से सख्ती न होने से बड़ी संख्या में लोग शाम को एक जगह एकत्रित हो जाते हैं। समय रहते ध्यान न दिया गया तो आने वाले समय में यह एक जटिल समस्या हो जाएगी।
... और पढ़ें

विधान परिषद सदस्य ने दिए 10 लाख (पुनप्रेषित)

भदोही। भयावह कोरोना वायरस से बचाव के लिए जनप्रतिनिधि भी आगे आ रहे हैं। विधान परिषद सदस्य ब्रिजेश सिंह ने भदोही जिले को अपनी निधि से 10 लाख रुपये देने की घोषणा की है। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को पत्र जारी कर 10 लाख रुपया कोरोना से बचाव के मद में देने की बात कही। उन्होंने अपने पत्र में यह भी कहा कि उनके धन को चिकित्सकों, नर्सों तथा स्वास्थ्य कर्मियों के बचाव के लिए पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) आदि की व्यवस्था कराने का आग्रह किया। इसी तरह भदोही ब्लाक प्रमुख प्रशांत सिंह चिट्टू ने भी ब्लाक क्षेत्र में छिड़काव, मास्क, उपकरण आदि की खरीदारी के लिए क्षेत्र पचायत निधि से जिला प्रशासन को 11 लाख रुपये देने घोषणा की है। उन्होंने मुख्यमंत्री को इस आशय का पत्र भेजा है। कहा कि इससे कोरोना से बचाव में क्षेत्र पंचायत का सहयोग माना जाए। ... और पढ़ें

लॉकडाउन में खाकी का बदला स्वरूप

ज्ञानपुर (भदोही)। 21 दिनों के लॉकडाऊन में खाकी का चेहरा ही बदल गया है। जिन हाथों में एके-47, पिस्टल और रिवाल्वर दिखती है, इन दिनों उन्हीं हाथों में गरीबों के लिए लंच पैकेट दिख रहा है। क्राइम ब्रांच संग विभिन्न थानों की पुलिस दलित और मुसहर बस्ती में भोजन पहुंचा रही है। होटल संचालक, स्कूल प्रबंधक के अलावा आम नागरिक भी जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट उपलब्ध करा रहे हैं।
शनिवार को क्राइम ब्रांच के आग्रह पर रेणुका होटल भदोही की ओर से जोरईं की मुसहर बस्ती में सौ लोगों को लंच पैकेट दिया गया। प्रभारी अजय सिंह सेंगर, सचिन झा, नरेंद्र सिंह, तूफैल अहमद, सर्वेश राय आदि रहे। इस मौके पर गोपीगंज के बाबा बड़े शिव मंदिर, रामलीला मैदान, ककराही, पड़ाव, स्टेशन रोड समेत अन्य कई स्थानों पर नगर उद्योग व्यापार मंडल के सहयोग से कोतवाल कृष्णा नंद राय, चौकी प्रभारी दयाशंकर ओझा ने लंच पैकेट बांटा। ऊंज के कलापुर की वनवासी बस्ती में ऊंज एसओ रामदरश और सोनू सिंह ने गरीबों को भोजन वितरित किया। दुर्गागंज थाने के निरीक्षक खुर्शीद अंसारी और हरदुआ ग्राम प्रधान महेंद्र कन्नौजिया ने सराय कंसराय मुसहर बस्ती में 50 परिवारों को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराया। मोढ़ चौकी पुलिस ने भी जरूरतमंदों को खाने-पीने की व्यवस्था कराई। सुरियावां एसओ विजय प्रताप सिंह ने बाईपास मार्ग पर मड़हे में रहने वाले वनवासी बस्ती के दर्जन भर से अधिक लोगों के खाने की व्यवस्था की।
ज्ञानपुर। लॉकडाउन में एक जून की रोटी के लिए मोहताज चकटोडर टाउन के लाल मोहम्मद के चार सदस्यीय परिवार को 21 दिन के लिए भाजपा जिला उपाध्यक्ष प्रदीप सिंह ने गोद ले लिया। शनिवार को दाल-चावल, आटा, आलू समेत अन्य जरूरी खाद्य सामग्री उपलब्ध कराया। लाल मोहम्मद रिक्शा चलाकर परिवार का जीवकोपार्जन करता था, लेकिन लॉकडाउन से वह घर बैठ गया है। अभोली के गंगारामपुर में छात्र नेता सूरज कुमार बिंद ने वनवासी बस्ती में सुविधाएं मुहैया कराई। चंदापुर निवासी रामदेव पीजी कॉलेज के प्रबंधक राजबली मिश्र ने चंदापुर, मैंलोना गांव के गरीब परिवारों को चावल, दाल, चीनी संग अन्य सामग्री उपलब्ध कराया। गौरा में कांग्रेसी नेता त्रिलोकी बिंद और विजयशंकर ने आठ वनवासी परिवारों को 10 किलो राशन, आधा लीटर तेल, चीनी और दाल की व्यवस्था की। ललक शिक्षा के संस्थापक प्रशांत कुमार, कुलदीप सिंह ने झिलियापुल के समीप झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले मुसहरों को अन्न वितरित किया। खमरिया में भाजयुमो जिलामंत्री संदीप कुमार मौर्य ने वार्ड चार की दलित बस्ती में भोजन की व्यवस्था की। इस मौके पर रवि वर्मा, अच्छेलाल मौर्य, सर्वेश मौर्य ,बाबू खां, रूमान अंसारी, मनोज मौर्य, कन्हैया मौर्य आदि रहे।
... और पढ़ें

दिल्ली से रेनूकोट तक श्रमिक कर रहे पैदल यात्रा

ज्ञानपुर (भदोही)। लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-19 पर तीन से चौर सौ किलोमीटर की यात्रा कर दिहाड़ी मजदूर कहीं रेनूकोट, सोनभद्र, मिर्जापुर, गाजीपुर, बलिया, वाराणसी, चंदौली जाते हुए दिखे, लेकिन पश्चिमी सीमा ऊंज में मजदूरों के लिए किसी प्रकार की सहायता और जांच-पड़ताल न होने से स्थानीय लोगों में कोरोना वायरस की महामारी का अंदेशा गंभीर होती जा रही है।
मजबूरी में मजदूर झुंड और कतारबद्ध होकर आगे बढ़ रहे हैं। पुलिस प्रशासन से बचने के लिए बीच-बीच में ठहराव लेने में कमी नहीं रख रहे हैं लेकिन विषम परिस्थिति उस समय उत्पन्न हो जा रही है जब राजमार्ग के जंगीगंज, गोपीगंज, सूफीनगर, वहिदानगर, गोधना मोड़, कौलापुर, लालानगर, औराई, घोसिया, महाराजगंज, पूर्वी सीमा बाबूसराय के दायरे में बड़े वाहनों के दिखाई देने पर वह हाथ देने में कसर नहीं छोड़ते। उस दौरान वाहन चालकों की दरियादिली किसी फजीहत से कम नजर नहीं आती और मजदूर जल्दबाजी में वाहनों पर चढ़ जा रहे हैं।
बताते हैं कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद दो दिन मिली मोहलत के बाद 25 मार्च से आगामी 14 अप्रैल तक अघोषित लॉकडाउन की घोषणा के कारण सड़कों पर सरकारी-अर्ध सरकारी वाहनों पर पूरी तरह से रोक लग गई। जबकि रेल सेवाएं भी ठप पड़ कर लोगों की परेशानी बढ़ा दी। परदेश में दो-चार दिन के बाद जब कोई रास्ता सामने नहीं दिखाई पड़ा तो मजदूर पैदल ही अपने-अपने गंतव्य को रवाना होने में भलाई समझ रहे हैं। कानपुर से पटना, बलिया, मऊ जा रहे मजदूरों ने बताया कि उनकी संख्या 16 फायर बिग्रेड कानपुर में दिहाड़ी पर काम करते थे लॉकडाउन से काम बंद हो जाने के बाद उनके सामने परेशानी खड़ी हो गई और वह 270 किलोमीटर की यात्रा कर अपने घर जा रहे हैं।
इसी तरह प्रयागराज में टाइल्स लगाने का काम कर रहे मजदूरों ने कुछ ऐसी ही आपबीती बयां की। कहा कि पैसे की तंगी के साथ-साथ जब राशन आदि खत्म हो गए तो वह साइकिल से ही घर रवाना हो गए। रास्ते में किसी की ओर से कोई सहायत नहीं मिल सकी। कुछ स्थानों पर लाई, नमकीन, बिस्कुट खरीद कर काम चलाया जा रहा है। इसी तरह नई दिल्ली से पैदल रेनूकोट लौटने वाले मजदूरों ने बताया कि वह पैदल ही चार दिनों से यात्रा कर गोपीगंज पहुंचे हैं। उधर राजमार्ग के जंगीगंज-धनतुलसी अंडरपास ब्रिज का नजारा सबको चौंकाने वाला रहा। जहां पैदल वाराणसी की ओर जा रहे मजदूरों ने नेटवर्किंग कंपनी का सामान लादकर जा रहे कंटेनर चालक ने जब वाहन को रोका तो वह दौड़कर चढ़ गए।
... और पढ़ें

लॉकडाउन: गांवों में सब्जी-फल का संकट

ज्ञानपुर(भदोही)। लॉकडाउन से ग्रामीण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। घर से बाहर निकलने की पाबंदी तो है, मगर उन्हें दैनिक उपयोग की वस्तुएं नहीं मिल पा रहीं हैं। नवरात्र में न तो फल मिल पा रहा है ना ही सब्जियां। दवाएं लेने के लिए भी लोग नहीं जा पा रहे हैं।
लॉकडाउन के तीसरे दिन शुक्रवार को भदोही जिले की सड़कों पर सन्नाटा पसरा दिखा। इक्का-दुक्का लोग आते-जाते रहे, मगर ज्यादातर इलाकों में कड़ी चौकसी के कारण पाबंदी का असर रहा। सबसे ज्यादा परेशानी जिला मुख्यालय के आसपास के गांवों में देखने को मिली। इन ग्रामीणों का बाजार मुख्यालय का नगर ही है। पुलिस चौकसी के कारण लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे थे। इससे उनकी रोजमर्रा की जरूरत की वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो रही थी। ज्ञानपुर से लगे भिदउरा गांव निवासी डॉ. राजकुमार पाठक ने कहा कि बंदी में आवागमन पर रोक है। प्रशासन ने गांवों में सब्जियों और किराना आदि की आपूर्ति का प्रावधान बनाया है, मगर निर्धारित ठेकेदारों का आवागमन एकदम नहीं है। ऐसे में सबसे बड़ी समस्या नवरात्र में व्रत रखने वालों के सामने है। उन्हें न तो फल मिल पा रहा है ना ही सब्जियां।
सत्येंद्र प्रकाश तिवारी को सब्जियां और कुछ जरूरत की वस्तुएं लेने के लिए बाजार जाना था, लेकिन आवागमन की पाबंदी को देखते हुए वह नहीं निकल पाए। बताया कि पुलिस आवागमन को लेकर किन नियमों का पालन कर रहा है, कुछ समझ में नहीं आ रहा है। एक तरफ किसी को भी रोक दिया जा रहा है, दूसरी ओर मनमाने ढंग से लोग सड़कों पर आवागमन भी कर रहे हैं। जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए जरूरी वस्तुओं की खरीदारी लोग कर सकते हैं। संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए सभी को सहयोग करना चाहिए।
-
... और पढ़ें

घर में अदा की जुमे की नमाज

घर में अदा की जुमे की नमाज
भदोही। कोरोना से बचाव और इसे फैलने से रोकने के लिए शुक्रवार को कालीन नगरी की मस्जिदों में जुमे की नमाज नहीं हुई। जिला प्रशासन के आग्रह के बाद नगर के आलिमों, उलेमाओं ने सकारात्मक कदम उठाते हुए लोगों से पहले ही अपने अपने घरों में नमाज अदा करने की अपील की थी। सोशल डिस्टेंसिंग कायम रखने को लेकर जिला प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद दिखा। हालांकि विभिन्न मस्जिदों में अजान अपने समय पर हुई। दूसरे दिनों के मुकाबले शुक्रवार को सड़कों पर न केवल सन्नाटा दिखा, बल्कि सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी किए गए।
तेजी से बढ़ रहे कोरोना संदिग्धों की संख्या को देखते हुए नगर के मुस्लिम समुदाय के लोगों से बड़ा फैसला लेते हुए घरों पर ही नमाज पढ़ने के आग्रह किया गया था। अच्छी बात यह रही कि लोगों में अच्छा संदेश गया और कोई घर से बाहर नहीं निकला। नगर के मौ. फैसल अशर्फी, जामा मस्जिद तकिया कल्लन शाह के पेश इमाम हाफिज परवेज अच्छे, हाफिज अश्फाक रब्बानी, मौ. अब्दुस्समद जैयाई ने लोगों के इस जज्बे को सलाम किया। इस दौरान पुलिस प्रशासन भी सड़कों पर दौड़ता दिखा।
... और पढ़ें

मुख्य आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ा

ग्रामीण अंचलो में टूट रही लॉकडाउन की चैन

ज्ञानपुर/औराई। कोरोना वायरस जैसे संक्रमण के रोकथाम को लेकर जनपद को लॉकडाउन किया गया है। शहरी क्षेत्रों में इसका अनुपालन भी हो रहा है, लेकिन ग्रामीण अंचलों में इसकी चेन टूटने लगी है। दूसरे राज्यों से आए परदेशी घर में बैठने की बजाए गांव-गांव टहलकर एक दूसरे से मिल रहे हैं। इतना ही नहीं काफी संख्या मजदूर पैदल ही सोनभद्र भी जा रहे हैं। इससे हर कोई सहम गया है। ग्रामीणों ने ऐसे लोगों पर सख्ती करने के लिए पुलिस प्रशासन से मांग की है।
कोरोना महामारी से विश्वभर में हाहाकार मच गया है। देश में इसके संक्रमण को रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन किया गया है। दूसरे प्रांतों से सैकड़ों की संख्या में आ रहे लोग गांव की गलियों से बगीचों में पहुंचकर गप्पेबाजी कर रहे हैं। कुछ लोग इसका विरोध करते हैं तो वह गाली गलौज तक करने लगते हैं। ऐसे लोगों को कम से कम 14 दिनों तक अपने घरों में रहने की सलाह दी जाती है, लेकिन वह मानने के लिए तैयार नहीं है। भवानीपुर के ऋषि शुक्ला, शिवकांत शुक्ला, नटवां से मनोज शुक्ला, लक्षमणिया से भुल्लूर यादव, जेठूपुर से सुनील दूबे, गणेश यादव, सहसेपुर के तोयज मिश्रा, मदन केसरवानी, कमलाशंकर, विट्ठलपुर के त्रिलोकी शुक्ला, कठारी के बल्ले मिश्रा, रामाश्रय उपाध्याय ने पुलिस प्रशासन से मांग किया कि गांवों में सख्ती की जाए। कहा कि पीआरवी 112 और बीटा के जवानों को निर्देशित किया जाए कि गांवों में कम से कम दो घंटे पुलिस चक्रमण कर सख्ती करे।
जनता कर्फ्यू से एक दिन पूर्व 21 मार्च से अब तक करीब एक सप्ताह में तीन हजार से अधिक लोग मुंबई, बंगलूरू, दिल्ली समेत अन्य महानगरों से जिले में आए। प्रशासन के पास अब तक कोई तय आंकड़ा नहीं है लेकिन वार रूम ने अनुमान जताया कि 3500 के करीब लोग जिले के विभिन्न गांवों में आ चुके हैं। इसमें कुछ गांव के प्रधानों ने अच्छी पहल कर लोगों के स्वास्थ्य की जांच कराई। हालांकि अधिकांश लोगों की जांच नहीं हो सकी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us