शब ए बारात पर घर से ही करें दुआख्वानी

Varanasi Bureauवाराणसी ब्यूरो Updated Tue, 07 Apr 2020 10:39 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पीडीडीयू नगर। शब-ए-बारात नौ अप्रैल को मनाया जाएगा। शब ए बारात पर अपने मरहूम बुजुर्गों की मगफिरत के लिए घरों से ही दुआ करें। इस दौरान घर से ही फातिहा व नजर दिलाकर अपने मरहूमों को बख्शे और कोरोना महामारी से पूरे देशवासियों की हिफाजत की दुआ करें। अलीनगर जामा मस्जिद के इमाम शम्स आलम ने समाज के लोगों से यह अपील की है।
विज्ञापन

कोरोना संक्रमण महामारी से बचाव के लिए देश को 14 अप्रैल की आधी रात तक लॉक डाउन कर दिया गया है। शब-ए-बारात की रात मस्जिदों, मजारों और कब्रिस्तान पर पहुंच कर इबारत करते हैं लेकिन इस बार लॉक डाउन की वजह से लोग घरों पर ही इबादत करें और रश्म पूरी करें। उन्होंने लोगों से घरों में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का आह्वान किया। चकिया संवाददाता के अनुसार चकिया जामा मस्जिद के सदर मुश्ताक अहमद खां ने समाज के लोगों से अपील करते हुए कहा कि जिस तरह लॉक डाउन के दौरान नवरात्र और रामनवमी का पर्व लोगों ने अपने घरों में मनाया। इसी तरह नौ अप्रैल को जुमेरात (बृहस्पतिवार) को शबेबरात पर मजारों व कब्रिस्तानों पर न जाकर घरों में इबादत करें। कहा कि कोरोना वायरस इंसानों के लिए गहरा संकट बनकर आया है। कहा कि संक्रमण से बचाव के लिए विशेषज्ञों की तरफ से जो हिफाजती तदवीर बतलाई जा रही है। उस पर अमल किया जाए क्योंकि एहतियाती तदबीर अपनाने की ताकीद खुद हदीस से साबित है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us