विधि-विधान से पंडालों में रखी गईं देवी प्रतिमाएं, खुले पट

Gorakhpur Bureauगोरखपुर ब्यूरो Updated Fri, 23 Oct 2020 11:27 PM IST
विज्ञापन
अहिल्यापुर दुर्गा मंदिर पर दर्शन के लिए भक्तों की उमड़ी भीड़।
अहिल्यापुर दुर्गा मंदिर पर दर्शन के लिए भक्तों की उमड़ी भीड़। - फोटो : DEORIA

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
विधि-विधान से पंडालों में रखी गईं देवी प्रतिमाएं, खुले पट
विज्ञापन

देवरिया। मां दुर्गा के उपासकों ने शुक्रवार को सप्तम देवी कालरात्रि का विधि-विधान से आह्वान एवं पूजन-अर्चन किया। शक्तिपीठों पर सुबह से शाम तक नारियल चुनरी चढ़ाने व धूप जलाने की की भीड़ रही। जिले में प्रशासन की अनुमति और कोविड गाइडलाइन के बीच जहां भी प्रतिमाएं रखी गई हैं, कुछ जगहों पर बृहस्पतिवार की रात को और अन्य जगहों पर शुक्रवार को विद्वान आचार्य की देखरेख एवं वैदिक मंत्रोच्चार एवं जयघोष के बीच प्रतिमाओं के नेत्र खोले गए।
प्रतिमाओं के नेत्र खुलने के साथ ही जिले में दशहरा मेले का शुभारंभ भी हो गया। नगरपालिका रोड में हिंदू सम्राट दल ने लगातार 18 वें वर्ष प्रतिमा रखी है। बृहस्पतिवार की देर रात ही समिति के संयोजक भरत मद्धेशिया एवं उनके सहयोगियों ने मूर्ति पूजन कार्यक्रम का शुभारंभ किया। जयघोष के बीच प्रतिमा के नेत्र खोले गए। मौके पर महिलाओं ने देवी गीतों से मां दुर्गा का आह्वान किया। हालांकि कोरोना महामारी के चलते बाजार में पिछले सालों की तरह अभी गायब है। घरों से प्रतिमाओं के दर्शन एवं पूजन के लिए दर्शनार्थी अभी नहीं निकल रहे हैं। उधर जिन घरों में नवरात्र में कलश स्थापित कर साधकों ने नौ दिन व्रत रखा हैं, वहां सुबह व शाम के बीच पूजन व आरती के साथ ही दुर्गा सप्तसती का पाठ किया जा रहा है। शुक्रवार को मां भगवती के सातवें स्वरूप कालरात्रि की पूजा श्रद्धा भाव से की गई। रात में ही महानिशापूजन भी पारंपरिक रूप से साधकों ने किया। ज्योतिषाचार्य पं.शरद चंद मिश्र एवं विवेक उपाध्याय ने बताया कि 24 अक्तूबर को सूर्योदय 6.23 बजे तथा अष्टमी तिथि दिन में 11.28 बजे के बाद नवमी तिथि लग जाएगी। इस वर्ष नवमी युक्त अष्टमी होने से 24 अक्तूबर को ही महाअष्टमी का व्रत रखा जाएगा। महानवमी का व्रत भी 24 अक्तूबर को ही होगा, क्योंकि अष्टमी से युक्त नवमी अत्यंत उत्तम फलदायी मानी गई है।
आज दिन में 11.28 बजे के बाद हवन का शुभ मुहूर्त
ज्योतिषाचार्य श्रीप्रकाश मिश्र ने बताया कि शनिवार को दिन में 11.28 बजे के बाद नवमी तिथि लग जाएगी। इसके बाद हवन पूजन किया जा सकता है। यह अगले दिन 11.14 बजे तक होगा, यानि शनिवार को 11.28 बजे के बाद से रविवार को दिन के 11.14 बजे तक किसी भी समय श्रद्घालुजन हवन पूजन कर सकेंगे। कन्या पूजन भी शुक्रवार व शनिवार दोनो को किया जा सकता है।
नौ दिन व्रत रहने वाले रविवार को करेंगे पारन
ज्योतिषाचार्य प.युगुल किशोर तिवारी ने बताया कि नौ दिन व्रत रहने वाले श्रद्धालु रविवार को दिन में 11.14 के बाद दशमी तिथि में पारण करेंगे। वहीं पहले दिन और महाअष्टमी का व्रत रहने वाले साधक शनिवार को ही पारण कर सकते हैं।
सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ श्रद्धालुओं ने की पूजा-अर्चना
सलेमपुर। शारदीय नवरात्र पर शुक्रवार को मां दुर्गा के जयकारे के साथ पट खोल दिए गए। श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पूजा-अर्चना की। कोरोना संक्रमण व परमिशन नहीं मिलने के कारण इस बार एक चौथाई ही प्रतिमाएं रखी गई हैं। छोटे पंडाल में कम ऊंचाई की मूर्तियां रखी गई हैं।
नई गाइड लाइन ने इस बार मां के भक्तों व हर साल पूजा पंडाल स्थापित करने वाले लोगों को निराश किया है। नगर समेत ग्रामीण इलाकों में दुर्गा की प्रतिमाएं सड़क व चौराहों पर काफी संख्या में रखी जाती थी। इस बार सड़क, चौराहों व सार्वजनिक जगहों पर प्रतिमाओं के रखने पर प्रतिबंध है। कोतवाली क्षेत्र में पिछले साल 89 प्रतिमाएं रखी गई थी। इस बार 58 लोगों ने अनुमति मांगी, जिसमें केवल 18 लोगों को ही मूर्ति रखने की स्वीकृति मिली है। नगर में अस्पताल, तहसील गेट, रेलवे स्टेशन, सब्जी मंडी, स्टेशन रोड, माल गोदाम, गांधी चौक, बस स्टेशन, कोतवाली के समीप प्रतिमाएं रखी जाती थीं। इस बार इन जगहों पर प्रतिमाएं स्थापित नहीं की गई हैं। रेलवे स्टेशन, पूर्व चेयरर्मन राम रतन गुप्त के घर के समीप व प्रमुख मंटू सिंह के हाते में मां दुर्गा की प्रतिमा रखी गई है। प्रतिमाओं की ऊंचाई कम है, वहीं पंडाल भी छोटा कर दिया गया है। कोरोना के खौफ से इस बार लोगों में आकर्षण नहीं दिख रहा। शुक्रवार को मां के जयकारे के साथ प्रतिमाओं के पट खोल दिए गए। श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए पूजन-अर्चन किया।
चौराहों पर नहीं सजे पंडाल, दुकानदार मायूस
बरहज। क्षेत्र के मंदिरों और पूजा पंडालों में आस्थावानों की भीड़ जुट रही है। मां के जयकारे से क्षेत्र भक्तिमय हो गया है। इस वर्ष नगर क्षेत्र में चौराहों पर दुर्गा पंडाल न सजने से बाजार की रौनक फीकी रही। इससे दुकानदारों में मायूसी है।
शुक्रवार को नगरपालिका, माता विंध्यवासिनी धाम, थाना मार्ग स्थित पुल के निकट मां दुर्गा मंदिर, सोनावे मंदिर, बरांव माता धाम मंदिर, दुर्गा मंदिर, कपरवार, भलुअनी, सोनाड़ी, करुअना, पैना, मगहरा आदि देवी मंदिरों पर पहुंच लोगों ने पूजा-अर्चना की। एहतियातन पुलिस सतर्क रही। एसडीएम सुनील कुमार सिंह ने बताया कि चौराहों और सड़क के किनारे पांडाल नहीं सजाने के निर्देश दिए गए हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X