विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: 27 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे गए 611 करोड़ रुपये

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

देवरिया

सोमवार, 30 मार्च 2020

यूपी: पुलिस के सामने तलवार लेकर खड़ी हुई महिला, बोली- मुझे हटाकर दिखाओ

शादी के लिए दूल्हे के साथ दो लोग

कोरोना का खौफ : शादी के लिए दूल्हे के साथ गए दो लोग
देवरिया। लॉकडाउन होने के कारण एक युवक की शादी में दुल्हा के साथ उसके पिता और अगुआ ही पहुंचे। सिर्फ घर के लोगों की मौजूदगी में ही निकाह कराया गया। आवागमन पर रोक होने के कारण निकाह का रस्म पूरा कराने के बाद दूल्हा चला गया और माहौल सामान्य होने के बाद दुल्हन की विदाई की जाएगी।
लार ब्लॉक के पटना गांव निवासी रहमत की बेटी की शादी जटमलपुर गांव निवासी इश्तेखार मंसूरी के साथ तय थी। 25 मार्च को शादी थी। इसके लिए पहले से टेंट और अन्य समानों की बुकिंग हो चुकी थी। अचानक लॉकडाउन होने के कारण शादी पर संकट खड़ा हो गया। कोरोना के कारण कोई शादी में आने को तैयार नहीं था। पूरे दिन इसको लेकर दोनों पक्ष के लोग परेशान रहे। रात करीब 9 बजे बेटी पक्ष के लोगों ने अपनी कार जटमलपुर इश्तेखार के घर भेजा। रात को इश्तेखार और इनके पिता नईम मंसूरी शादी के लिए पहुंचे। अगुआ भी था। बेटी पक्ष की ओर से रहमत और इनकी बेटी तथा परिवार के सदस्य मौजूद रहे। आनन-फानन में आधी रात को निकाह हुआ। लड़की की विदाई माहौल शांत होने के बाद करने की बात कही गई। जबकि लड़के पक्ष के लोग लड़की की विदाई चाह रहे थे। सभी की सहमति से यह तय हुआ कि कोरोना का कहर सामान्य होने के बाद दुल्हन की विदाई की जाएगी। शादी में कोरोना के भय से गांव के अधिकांश लोग शामिल नहीं हुए।
... और पढ़ें

सामानों के खरीद को मिली छूट, तो बेकाबू हुए लोग

सामान की खरीद को मिली छूट तो बेकाबू हुए लोग
रुद्रपुर (देवरिया)। लॉकडाउन के दूसरे दिन सामान की खरीदारी को छूट मिलते ही लोग बेकाबू हो गए। बाजार, चौराहों पर लोग बेतरतीब तरीके से खड़े होकर सामान की खरीदारी की। लोगों की लापरवाही से कोरोना वायरस को लेकर दूरी बनाए रखने की अपील बेसअर दिखी। हालांकि निर्धारित समय के बाद पुलिस ने सख्ती दिखाई तो लोग घरों में दुबक गए।
बृहस्पतिवार की सुबह छह से साढ़े नौ बजे राशन, सब्जी, दूध और दवा की खरीद को दुकान खोलने का निर्देश मिला। मुख्य बाजार में अधिकांश लोग बिना मास्क लगाए ही सब्जी खरीदने पहुंच गए। एक-दूसरे को धक्का देते हुए दुकानों से सामान खरीदते हुए देखे गए। बस स्टेशन स्थित दवा की दुकान पर दूरी बनाए रखने के चूना गिराए जाने के बावजूद लोगों ने सटकर खरीदारी की। करीब तीन घंटे तक नगर की सड़कों पर मजमा लगा रहा। रसोई गैस सिलिंडर के लिए लोगों ने वाहनों को जबरन घेर लिया। सिलिंडर के लिए अफरातफरी देख पुलिस को सख्ती करनी पड़ी तो लोगों ने दूरी बनाई। बुधवार की देर शाम लुअठही में बाजार लगाए जाने पर पुलिस को लाठी भांजनी पड़ी। क्षेत्र के पचलड़ी, पकड़ी बाजार, मदनपुर, नरायनपुर और रामलक्षन चौराहे पर भी खरीदारी के लिए भीड़ देखी गई। एसडीएम ओमप्रकाश ने कहा कि सख्ती के बाद भी लोग मान नहीं रहे। यदि भीड़ दिखी तो मुकदमा दर्ज किया जाएगा। उन्होंने दुकानदारों से दुकान के सामने दूरी बनाए रखने वालों को ही सामान बेचने को कहा।
बड़े बाजारों से सामान मंगाने की मांग
व्यापार मंडल के अध्यक्ष रमापति शुक्ला ने कहा कि स्थानीय दुकानों में दाल, सब्जी आदि सामान की कमी हो रही है। ऐसे में व्यापारी परेशान हैं। बड़े शहरों से माल लदी गाड़ियों की आवक नहीं होने से आने वाले दिनों में दिक्कतें होंगी। प्रशासन तत्काल बड़े शहरों से छोटे व्यापारियों की डिमांड के अनुसार सामान मंगाने का इंतजाम करे, ताकि समय से लोगों को राहत मिल सके।
... और पढ़ें

बाहरी से यात्रियों को लेकर 30 से अधिक बसें, बिहार सीमा तक छोड़ा

बाहर से यात्रियों को लेकर आईं 30 से अधिक बसें
बिहार सीमा तक छोड़ा, नोएडा, गाजियाबाद सहित अन्य जगहों से पूरे दिन यात्रियों को लाने का क्रम रहा जारी
जिला प्रशासन के निर्देश पर डिपो में 10 बसों को रिजर्व में रखा गया
शासन के आदेश पर शनिवार को देवरिया से भेेजी गईं थीं 20 बसें
संवाद न्यूज एजेंसी
देवरिया। नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर जैसे इंडस्ट्रियल क्षेत्रों से 30 से अधिक रोडवेज की बसें वहां से आने वाले लोगों को लेकर जिला मुख्यालय पहुंचीं। डिपो में बसों का पंजीकरण एवं यात्रियों की स्क्रीनिंग होने के बाद बिहार क्षेत्र के लोगों को मेहरौना बॉर्डर तक छोड़ा गया। प्रशासन के निर्देश पर पूरे दिन बाहर से आने वाले बसें यात्रियों को लेकर पहुंचती रहीं। बसों की और मांग को देखते हुए डिपो प्रशासन ने अभी से 10 बसों को रिजर्व में रखा हुआ है।
शासन के आदेश पर डिपो प्रशासन ने शनिवार को ही 20 बसें दिल्ली सीमा तक भेजी थी। रविवार को अपराह्न दो बजे तक 30 से अधिक बसें बाहर के यात्रियों को लेकर पहुंच गईं। जो यात्री डिपो में उतरे, उनका स्वास्थ्य विभाग की टीम ने स्क्रीनिंग के बाद ही जाने दिया गया। बसों में भर-भर के यात्रियों के आने से अन्य लोगों में भी कोरोना संक्रमण का भय बना रहा। शहर की गोरखपुर-देवरिया मुख्य सड़क पर पूरे दिन बाहर से आने वाले यात्रियों का जत्था दिखा, जो मयसामान अपने गंतव्य तक जाने को बेचैन दिखा। सबके चेहरे पर लटकी मायूसी सी उनकी कहानी बयां कर रही थीं। रोडवेज के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक ओम कुमार मिश्र ने बताया कि अब तक 30 गाड़ियां बाहर से आईं हैं। सुबह से शाम तक 10 बसों को लखनऊ भेजा भी गया। सभी यात्रियों से किराया लिया जा रहा है। खरोह चौराहे पर बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच हो रही है। जो यात्री बिहार या सीमावर्ती क्षेत्र के हैं, उन्हें मेहरौना, लार तक छोड़ा गया। आपातकालीन स्थिति के लिए 10 बसों को रिजर्व में रखा गया है। मुख्यालय स्तर से या जिला प्रशासन की ओर से जैसे-जैसे बसों की डिमांड की जा रही है, चालक-परिचालकों की व्यवस्था करके इन्हें भेजा जा रहा है।
गांव में नहीं मिला प्रवेश तो पहुंचा जांच कराने
देवरिया डिपो में दोपहर दो बजे सदर विकास खंड के बरौली क्षेत्र के निवासी सावन सिंह जो दिल्ली में प्राइवेट जॉब करते हैं, जब किसी तरह गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने प्रवेश द्वार पर ही रोक लिया। ऐसेे स्थिति में पत्नी व दो बच्चों के साथ पुन: डिपो पर आए। यहां लगी स्वास्थ्य विभाग की टीम खरोह चौराहे पर जा चुकी थी। रोडवेज के अधिकारियों ने इस परिवार को जिला अस्पताल में जाने की सलाह दी तो यह सभी वहां पहुंचकर अपनी जांच कराए। हालांकि, चिकित्सक ने इनकी जांच के बाद एवं कोरोना संक्रमण से पीड़ित न होने का प्रमाण पत्र दिया, तब यह शाम तक अपने गांव गए।
फोटो समाचार
बाहर से आ रहे यात्रियों को बस चालक सलेमपुर छोड़कर चल दिया
नगर पंचायत के लोगों ने नाश्ता, पानी का किया इंतजाम
सवांद न्यूज एजेंसी
सलेमपुर। कोरोना वायरस को लेकर सरकार जहां सख्त है। वहीं, बस से दिल्ली से लेकर आ रहे यात्रियों को एक बस का चालक सलेमपुर में छोड़कर चला गया। जब इसकी जानकारी नगर पंचायत सलेमपुर के ईओ अंकिता सिंह को हुई तो उन्होंने ऑटो व ट्रैक्टर-ट्राली से बिहार बॉर्डर मेहरौनाघाट भेजवाया।
कोरोना वायरस को लेकर ट्रेन, रोडवेज की बसों को सरकार ने बंद कर दिया है। इसके चलते लोग परेशान हो गए थे। इसको लेकर रोडवेज की बसों को सरकार ने चालू कराया है। रविवार को छह बसें बापू इंटर कॉलेज के समीप सुबह करीब 10 बजे पहुंचीं। नगर पंचायत के लोग लोगों को नाश्ता कराकर पानी पिला रहे थे। पुलिस लोगों को कतार में खड़ा कराकर नाम नोट कर रही थीं। इसी बीच एक बस का चालक आया और बस में तेल न होने की बात कहकर सभी यात्रियों को वहीं उतारकर बस को मोड़ने लगा। इसको लेकर वहां मौजूद एडीएम वित्त राकेश पटेल, कंडक्टर में बहस होने लगी। तब तक चालक बस को लेकर आगे निकल गया। कुछ देर बाद पुलिस प्रशासन को चकमा देकर कंडक्टर भी फरार हो गया। इसके बाद नगर पंचायत सलेमपुर की वाहनों से यात्रियों को मेहरौनाघाट तक छोड़ा गया। इस बाबत एडीएम वित्त राकेश पटेल ने बताया कि कंडक्टर टिकट व तेल की मांग कर रहा था। परिवहन विभाग में बात हो रही थीं। तब तक निकल गया। इसकी शिकायत परिवहन विभाग को की गई है। इस दौरान एसडीएम संजीव कुमार यादव, एडीशनल एसपी शिष्यपाल सिंह, सीओ वरुण मिश्रा, कोतवाल अश्वनी कुमार राय, मझौलीराज नगर पंचायत के ईओ पंकज कुमार, विजय प्रकाश श्रीवास्तव, ओमप्रकाश आदि मौजूद रहे।
फोटो समाचार
रेलवे पुल के निर्माण में लगे मजदूर जाना चाहते हैं घर
तुर्तीपार रेलवे ब्रिज के निर्माण में बंगाल बिहार झारखंड से आये थे मजदूर
भागलपुर। तुर्तीपार रेलवे ब्रिज के निर्माण में लगे सैकड़ों मजदूर काम बंद हो जाने के कारण फंस गए हैं। मजदूर अपने घर वापस जाना चाहते हैं। सैकड़ों की संख्या में मजदूरों ने आज बलिया ग्राम के प्रधान नवनाथ यादव से मिलकर अपनी बात बताई। मजदूरों का कहना है कि काम बंद हो जाने के कारण और करोना संक्रमण के चलते हम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हम लोग कहीं जा नहीं पा रहे हैं। बाजार बंद है। गांव के लोग भी हम लोगों को देखकर भड़क जा रहे हैं। प्रशासन हम लोगों को घर भेज देता, इसके लिए हम लोग प्रधान से मिले। प्रधान ने कहा कि हम प्रशासन के लोगों से मिलकर व्यवस्था कराएंगे।
फोटो समाचार
शासन के निर्देश पर बनाए गए पांच शेल्टर होम
पैदल घर जा रहे मजदूरों के रहने का हुआ इंतजाम
संवाद न्यूज एजेंसी
बरहज। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जनपदों की सीमाओं को सील कर दिया गया है। लॉकडाउन के कारण मजदूर तबके के लोग अपने-अपने घरों की ओर पलायन कर रहे हैं। जिन्हें रोकने के लिए शासन के निर्देश पर नगर सहित तहसील क्षेत्र के प्रमुख जगहों पर पांच शेल्टर होम बनाया गया है।
गैर प्रांतों और जनपदों से पिछले दो दिनों में लोग महामारी और असुविधाओं को लेकर पलायन करना शुरू कर दिए हैं। लॉकडाउन बेअसर होता देख और बीमारी फैलने की आशंका को लेकर शासन ने सभी को सीमा के अंदर रोकने के निर्देश दिए गए हैं। डीएम अमित किशोर के निर्देश पर नगर में एसके इंटर कॉलेज, सरोजनी हाईस्कूल, जूनियर हाईस्कूल कपरवार, मईल और भागलपुर के बीजीएम इंटर कॉलेज को शेल्टर होम बनाया गया है। जहां प्रशासन ने सोने-बैठने के लिए चारपाई, नाश्ता-भोजन आदि की व्यवस्था कराई है। तहसीलदार वंशराज राम ने नायब तहसीलदार संजय पांडेय और कानूनगो विशाल नाथ यादव आदि के साथ बनाए गए आश्रय भवन की जानकारी ली। तहसीलदार ने बताया कि पैदल घर जाने से रोकने के निर्देश मिले हैं। शेल्टर होम में कोई कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
... और पढ़ें
देवरिया रोडवेज के सामने मुख्य मार्ग पर बस में भरे यात्रियो को रेडक्रास सोसाइटी के लोगो ने यात्रि? देवरिया रोडवेज के सामने मुख्य मार्ग पर बस में भरे यात्रियो को रेडक्रास सोसाइटी के लोगो ने यात्रि?

सदर सांसद ने दिया एक करोड़ एक लाख

सदर सांसद ने दिया एक करोड़ एक लाख और विधायक ने दिया 26 लाख
अमर उजाला ब्यूरो
देवरिया। सदर सांसद रमापति राम त्रिपाठी ने पीएम राहत कोष में एक करोड़ सांसद निधि एवं एक लाख अपने वेतन से दिया है। उन्होंने कहा है कि पूरा देश संकट के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में हमारा कर्तव्य है कि कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने में मदद की जाए। उधर, भाटपाररानी के सपा विधायक आशुतोष उपाध्याय ने 26 लाख रुपये देने के लिए पत्र मुख्य विकास अधिकारी को दिया है। सदर सांसद ने कहा है कि कोरोना वायरस फैलने की रफ्तार काफी तेज है। ऐसे दौर में सभी को पीएम की बातों का सम्मान करते हुए जो जहां है, वहीं रहना चाहिए।
सामाजिक संस्थाओं ने की मदद
भाटपाररानी। गरीबों और दिहाड़ी मजदूरों, भिखारियों की सहायता के लिए नगर की स्वयंसेवी संस्थाएं और राजनीतिक दल मदद के लिए आगे आ रहे हैं। नगर की आगाज टीम के निदेशक आशीष जायसवाल के नेतृत्व में नगर में मौजूद दिहाड़ी मजदूरों, भिखारियों आदि जरूरतमंदों को भोजन का पैकेट बांटना शुरू कर दिया है। युवा कांग्रेस के नगर अध्यक्ष सलीम अली के नेतृत्व में गरीबों को भोजन के पैकेट वितरित किए गए। इस दौरान अफजाल अंसारी, राजू वर्मा, जावेद, असलम, इमरान, खालिद, पंकज, तबरेज, आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

एसडीएम ने खाना खिलाया, आगे बढ़ा तो सिपाही ने पीटा

एसडीएम ने खाना खिलाया, आगे बढ़ा तो सिपाही ने पीटा
चौरीचौरा थाना क्षेत्र के सरैया गांव का रहने वाला है पीड़ित अजय
संवाद न्यूज एजेंसी
देवरिया। एसडीएम ने खाना खिलाया, आगे बढ़ा तो एक सिपाही ने जमकर पिटाई कर दी। सिपाही के साथ के लोगों ने ही छुड़ाया। किसी तरह वाहनों से लिफ्ट लेकर घर पहुंचा। पीड़ित पुलिस वाले के इस कृत्य से काफी दुखी हैं। अमर उजाला को उसने आपबीती बर्र्ताईं।
गोरखपुर के चौरीचौरा थानाक्षेत्र के सरैया गांव का रहने वाला अजय शर्मा गाजीपुर जिले के नंदगंज में डिस्टिलरी में नौकरी करता है। लॉकडाउन के चलते वहां से लोगों को घर जाने के लिए कहा गया। अन्य लोगों के साथ वह शनिवार की शाम एक बोलेरो से देवरिया बस स्टेशन पहुंचा। यहां बस स्टेशन परिसर में एसडीएम सदर दिनेश मिश्र ने पूछा और खाना खिलाया। बोले कि अभी गोरखपुर बस जाएगी, उसे से चले जाना। काफी देर बात पता चला कि बस मेहरौना घाट की तरफ जाएगी। इसके बाद एसडीएम ने बताया कि नजदीक ही जाना है, देख लो कोई साधन मिल जाए। अजय ने बताया उनके कहने के बाद साधन की तलाश में धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा था। डीएम आवास के पास पहुंचा था कि एक सिपाही अनायास ही गाली देने लगा। मैंने अपनी मजबूरी बताई और यह भी बताया कि एसडीएम साहब ने खाना खिलाया है। जाने का इंतजाम नहीं करा पाए तो मैं किसी तरह घर चला जाऊंगा। इस पर सिपाही ने ताबड़तोड़ डंडे से पीटने लगा। 20 से अधिक डंडा पैर और शरीर के कई हिस्सों पर बरसाया। पानी की डिलिवरी देने वाले एक टेंपो चालक ने यह सबकुछ देखा और मेरी मदद कर गोरखपुर ओवरब्रिज तक पहुंचाया। वहां से एक प्राइवेट एबुंलेंस मिली। उसने मुझे छोड़ा। अजय ने बताया कि पिटाई करने वाला पुलिसकर्मी लंबा था। इस संबंध में सीओ सिटी निष्ठा उपाध्याय ने बताया कि पीड़ित ने जानकारी नहीं दी। पता कर ड्यूटी पर तैनात सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
नौतन हथियागढ़ में पुलिस ने भांजीं लाठियां
कच्ची शराब बनाने की सूचना पर पुलिस ने की छापेमारी
तीन लोग हिरासत में, मुख्य आरोपी फरार
संवाद न्यूज एजेंसी
देसही देवरिया। नौतन हथियागढ़ गांव में एक घर में बन रही कच्ची शराब की सूचना पर शनिवार को पुलिस के पहुंचने के बाद आरोपी भाग खड़े हुए। पुलिस के लौटने के बाद घर पहुंचे आरोपी के परिवार वाले गांव के लोगों को गाली देने लगे। इससे गांव का माहौल तनावपूर्ण हो गया। दोबारा पहुंची फोर्स ने लाठी भांजकर लोगों को खदेड़कर मामला शांत कराया और तीन लोगों को हिरासत में ले लिया।
रामपुर कारखाना थानाक्षेत्र के नौतन हथियागढ़ गांव में एक व्यक्ति अपने घर पर वर्षों से कच्ची शराब बनाकर बेचता है। गांव के लोग इस बात की शिकायत लगातार प्रशासन से कर रहे थे। शनिवार की दोपहर गांव में पुलिस ने कच्ची शराब बनाने वाले के घर छापेमारी की। जानकारी होते ही धंधे में शामिल आरोपी अपने परिवार के साथ घर से भाग निकला। पुलिस के वापस होते ही आरोपी घर वापस पहुंचे। गांववालों पर पुलिस को सूचना देने का आरोप लगाते हुए गाली-गलौज देने लगे। इस पर माहौल खराब हो गया। दोनों तरफ से विवाद बढ़ते देखकर किसी ने पुलिस को सूचना दे दी। फोर्स के साथ पहुंचे थाना प्रभारी ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ा। इसके बाद मामला शांत हुआ। गांव के तीन अन्य लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इस संबंध में इंस्पेक्टर जयंत कुमार सिंह ने बताया कि कच्ची शराब की सूचना पर पुलिस पहुंची थी। उसके बाद आरोपी के परिवार से गांववालों का विवाद हो गया। दोबारा पहुंचकर मामला शांत कराया गया। तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। आरोपी की तलाश की जा रही है।
फोटो समाचार
कपरवार पुलिस पिकेट पर वाहन ने बैरियर को तोड़ा
पुलिस चालक सहित गाड़ी को लाई थाने
संवाद न्यूज एजेंसी
बरहज। क्षेत्र के कपरवार पुलिस पिकेट पर लगे बैरियर को एक चार पहिया वाहन ने तोड़ दिया। ड्यूटी पर तैनात पुलिस भाग रहे चालक सहित वाहन को पकड़कर थाने लाई। पकड़ा गया व्यक्ति पश्चिम बंगाल निवासी बताया जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन का आदेश जारी है। प्रशासन ने अंतरजनपदीय सीमाओं को सील कर दिया है। रामजानकी मार्ग स्थित कपरवार पुलिस चौकी पर बैरियर लगाकर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। रविवार की सुबह करीब आठ बजे एक चार पहिया वाहन चालक ने बैरियर तोड़ जनपदीय सीमा पार करने की कोशिश की। लोगों के अनुसार वाहन आता देखकर तैनात एसआई राजेश कुमार हमराहियों के साथ उसे रोकने की कोशिश की। लेकिन वाहन चालक बैरियर तोड़ कर भागने लगा। जिसे पुलिस ने उग्रसेन पुल पर दबोच लिया। संयोग रहा कि कोई हादसा नहीं हुआ। प्रभारी थानाध्यक्ष रामप्रकाश राय ने बताया कि पकड़ाया वाहन पश्चिम बंगाल का है। चालक के डीएल पर मनौव्वर शेख पुत्र जे शेख निवासी राजा राजेंद्र मित्रा लेन कोलकाता लिखा हुआ है। पूछताछ की जा रही है।
पास होने के बावजूद पुलिस ने दुकानदारों को पीटा
भटनी। नगर पंचायत की ओर से जारी पास होने के बावजूद पुलिस द्वारा दुकानदारों को पीटने का मामला सामने आया है। इससे नाराज दुकानदारों ने दुकान न खोलने का एलान किया है। वहीं, पुलिस भीड़ का हवाला देकर लोगों को सिर्फ हटाने की बात कह रही है। कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है। पुलिस प्रशासन द्वारा लोगों को घर में रहने की अपील की जा रही है। जिलाधिकारी के आदेश पर जिले में कुछ दुकानदारों को पास देकर जरूरी सामान देने को कहा गया है। आरोप है कि रविवार को पास मिलने के बाद दुकानदार लोगों को सामान दे रहे थे। तभी मौके पर पहुंची पुलिस दुकानदारों को पीटने लगी। इसमें आधा दर्जन लोग घायल हो गए। इससे नाराज व्यवसायी सोमवार से दुकान न खोलने की बात कह रहे हैं। इस बाबत एसओ भीष्मपाल सिंह यादव ने कहा कि दुकान पर भीड़ हो गई थी। लोगों को डांट कर भगाया गया। पीटने का आरोप गलत है।
एसआई का जिम से कसरत कर बाहर निकलने का वीडियो वायरल
भटनी। जहां पूरी देश की पुलिस कोरोना वायरस को लेकर 24 घंटे ड्यूटी बजाने में व्यस्त हैं। वहीं, भटनी थाने के एक एसआई की जिम में कसरत करने की खूब चर्चा हो रही है। शनिवार रात में किसी ने एसआई को जिम में जाते और बाहर निकलते फोटो और वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। इसके अलावा अधिकारियों तक ट्वीट भी कर दिया। इससे नाराज एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने दरोगा की खूब क्लास ली है। उन्होंने जांच कराकर कार्रवाई करने की बात भी कहीं है। इस बाबत एसओ भीष्मपाल सिंह यादव ने कहा कि पुलिस शिकायत पर जिम में गई थी। कसरत करने की बात झूठ है।
पुलिस दो सभासदों को पकड़ थाने ले गई
भाटपाररानी। दुर्व्यवहार करने के आरोप में पुलिस दो सभासदों को रविवार को पकड़कर थाने ले गई। जानकारी होते ही अधिक संख्या में व्यापार मंडल के लोग थाने में पहुंच गए। एसडीएम के निर्देश पर पुलिस ने उन्हें निजी मुचलके पर छोड़ दिया।
नगर के वार्ड नंबर सात में लाइसेंसी ठेला पर बकरीदन सुबह नौ बजे सब्जी बेच रहा था। मोहल्लेवासी जरूरत के सामान खरीद रहे थे। इसी बीच थाने के एसआई मंगला प्रसाद दलबल के साथ पहुंचे और सब्जी बेच रहे बकरीदन को मारने-पीटने लगे। वहां मौजूद सभासद चंदन मद्धेशिया और राजेश गुप्ता ने इसका विरोध किया। इस पर एसआई उन्हें पकड़कर थाने ले गए और दुर्व्यवहार करने का केस दर्ज कर लॉकअप में डाल दिया। समाचार मिलते ही नगर के व्यापार मंडल में आक्रोश व्याप्त हो गया। व्यापार मंडल के अध्यक्ष पप्पू जायसवाल, पदाधिकारी संजय जायसवाल, सभासद हनुमान जायसवाल, लालबाबू यादव सहित कई लोग थाने पर पहुंचे। सूचना पर एसडीम सौरभ कुमार सिंह, नायब तहसीलदार करण सिंह थाने पर पहुंच गए। बाद में एसडीएम के निर्देश पर पुलिस दोनों सभासदों को निजी मुचलके पर छोड़ दिया। इस घटना को लेकर भाटपाररानी पुलिस के विरुद्ध नगर के व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त है। एसडीएम सौरभ कुमार सिंह ने बताया कि दोनों सभासदों को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया है। नगर में शांति बनी हुई है।
... और पढ़ें

गंडक नदी में मिला युवक का शव

लॉकडाउन।
गंडक नदी में मिला युवक का शव
तरकुलवा (देवरिया)। स्थानीय थानाक्षेत्र के बघाड़ा महुआरी गांव के पास छोटी गंडक नदी में शुक्रवार की शाम 30 वर्षीय युवक का शव मिला। लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है।
तरकुलवा थानाक्षेत्र के बघाड़ा महुआरी गांव के कुछ लोग गंडक नदी की तरफ गए थे। लोगों ने नदी में युवक का शव देखा। जानकारी होते ही मौके पर लोगों की भीड़ जुट गई। लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों की मदद से शव को नदी से बाहर निकलवाया। शव से दुर्गंध उठ रही थी। इससे यह चर्चा होने लगी कि युवक की मौत दो-तीन दिन पहले हुई होगी। पुलिस ने स्थानीय लोगों से शव के शिनाख्त की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिल सकी। इसके बाद आवश्यक कार्रवाई पूर्ण कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस हुलिया के हिसाब से शिनाख्त करने में जुटी है। इस संबंध में थानाध्यक्ष नरेंद्र प्रताप राय ने बताया कि युवक करीब 30 वर्ष का है। शव का जल्द ही शिनाख्त कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

किशोरी से छेड़खानी, उलाहना पर पिता को पीटा

किशोरी से छेड़खानी, उलाहना पर पिता को पीटा
गौरीबाजार इलाके के एक गांव का है मामला, पिता का चल रहा उपचार
संवाद न्यूज एजेंसी
देवरिया/गौरीबाजार। पहले मनबढ़ युवक ने किशोरी संग छेड़खानी की। उलाहना देने गए किशोरी के पिता की पिटाई कर दी। मामला गौरीबाजार थानाक्षेत्र के एक गांव का है। घायल पिता का जिला अस्पताल में उपचार कराया जा रहा है। पीड़ित ने गौरीबाजार पुलिस को सूचना दे दी है, लेकिन आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लगा है।
गौरीबाजार थानाक्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 14 वर्षीय किशोरी शुक्रवार को किसी काम से गांव के बाहर गई थी। उसे अकेला देखकर गांव के ही मनबढ़ युवक ने छेड़खानी करने लगा। किसी तरह उनके चंगुल से बचकर घर पहुंची किशोरी ने परिवारवालों को आपबीती बताई। इसके बाद उसके परिवार के लोग युवक के परिवारवालों से उलाहना देने पहुंचे। वहां दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। गांववालों ने बीच-बचाव कर मामला शांत कराया। शुक्रवार की देर शाम किशोरी के पिता गांव के समीप के चौराहे से लौट रहे थे। उसी दौरान मनबढ़ युवक ने साथियों संग गोलबंद होकर उसपर हमला कर दिया। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना मिलने पर परिवारवाले उन्हें सीएचसी ले गए। प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया। यहां उसका उपचार चल रहा है। इस बाबत गौरीबाजार थाना प्रभारी विजय सिंह गौर ने बताया कि जानकारी मिली है। पीड़ित का उपचार कराया जा रहा है। मामले में केस दर्ज कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

रुद्रपुर में कोरोना का संदिग्ध मिलने से हड़कंप

रुद्रपुर में कोरोना का संदिग्ध मिलने से हड़कंप
रुद्रपुर (देवरिया)। तहसील क्षेत्र के एक गांव में कोरोना का संदिग्ध मिलने से हड़कप मचा है। शनिवार को सीएचसी पर जांच कराने आए युवक में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर चिकित्सकों ने जिला अस्पताल पहुंचा दिया। वह एक सप्ताह पहले मुंबई से लौटा है। उसे सर्दी, खासी के साथ गले में खरास की शिकायत है।
सीएचसी के अधीक्षक डॉ. धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि एक व्यक्ति का बेटा मुंबई में काम करता था। वह सात दिन पहले घर लौटा है । शनिवार को तबीयत खराब होने पर वह सीएचसी पर इलाज कराने आया। मरीज की जांच करने वाले चिकित्सक के अनुसार उसमें कोरोना के प्राथमिक लक्षण पाए जाने पर जिला अस्पताल भेजवा दिया गया। अब वह जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रहेगा। उसके खून का नमूना जांच के लिए भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि युवक को सर्दी, खांसी, बुखार और गले में खिचखिच की शिकायत है। सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। मरीज कुछ ही दिन पहले मुंबई से लौटा है, इसलिए कोरोना की जांच जरूरी लग रही है। उधर मरीज के देवरिया रेफर होने के बाद गांव में दहशत का माहौल है। गांव वालों ने पूरे गांव को सैनिटाइज करने की मांग की है। गांव वालों के अनुसार मुंबई से आने के बाद वह गांव के कई लोगों से मिलकर हालचाल ले रहा था।
... और पढ़ें

चिंता में किसान, कैसे कटेगी गेहूं की फसल

चिंता में किसान, कैसे कटेगी गेहूं की फसल
रुद्रपुर (बस्ती)। पहले बेमौसम बरसात और ओला गिरने से फसलों के नुकसान से परेशान किसान अब खेत में बची फसल की कटाई को लेकर चिंता में हैं। कोरोना संक्रमण से लॉकडाउन की स्थिति में पक कर तैयार फसल कट नहीं पा रही है। क्षेत्र में कंबाइन चलाने वालों के कमी से मशीन लोगों के दरवाजे पर खड़ी है। एक सप्ताह में गेहूं की फसल नहीं कटी तो खेत में झड़ने की नौबत आ जाएगी। ऐसे में किसानों को फसल की बर्बादी की चिंता सता रही है।
तहसील क्षेत्र में करीब दो हजार हेक्टेयर भूभाग पर गेहूं की फसल बोई गई है। अधिकांश भूभाग पर फसल पक कर तैयार हो चुकी है। पूरी फसल एक सप्ताह में कटने लायक हो जाएगी। कोरोना संकट के चलते कंबाइन मालिक दूसरे प्रांत से आने वाले ड्राइवर और फोर मैन नहीं बुला पाए हैं। जिले में कबांइन चलाने के लिए पंजाब और हरियाणा से हर साल ड्राइवर बुलाए जाते हैं। देश में लॉक डाउन के कारण आवागमन का साधन बंद है। इसलिए कंबाइन चालाने वाले नहीं आ रहे। ऐसे में किसानों को गेहूं की फसल की पूरी बर्बादी साफ दिख रही है। लॉक डाउन में हाथ से गेहूं की फसल काटने को मजदूर भी नहीं मिल रहे हैं। मजदूर नही मिलने से सरसों, मटर आदि की फसलें खेत में बर्बाद हो रही हैं। सेमरौना के किसान छेदी यादव, सुबाष यादव ने कहा कि बारिश और ओला गिरने से गेहूं की पैदावार वैसे ही कम होने वाली है। उपर से कोरोना का कहर फसल पर भी टूट रहा है। हाथ से काटने वाली फसल को भी काटने के लिए मजदूर नहीं मिल रहे हैं। प्रदीप यादव ने कहा कि खेत में लगाई गई हरी सब्जिया भी बर्बाद हो रहीं। मजदूर नहीं मिलने से फसल की निराई गुणाई और सिचाईं नहीं हो पा रही।
पंजाब से बुलाए जाएंगे कंबाइन चालक : राज्यमंत्री
रुद्रपुर। राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद ने कहा कि गेहूं की फसल को काटने के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश और पंजाब से चालक बुलाए जा रहे हैं। उन्होंने डीएम और कृषि निदेशक से वाहन परमिट बनाने के लिए बात की। कहा कि क्षेत्र के किसान जिला उपकृषि निदेशक से मिलकर वाहन पास बनवा लें। कंबाइन चालकों को बुलाने के लिए आसानी से वाहन पास बन रहा है। इसके लिए कृषि विभाग के उप निदेशक को निर्देश दिया गया है।
... और पढ़ें

दुश्वारियों का सफर, भूखे-प्यासे लौट रहे घर

दुश्वारियों का सफर, भूखे-प्यासे लौट रहे घर
देवरिया। लॉकडाउन में काम बंद हुआ तो मुंबई, गुजरात, दिल्ली, केरल से लोग घर भागने लगे। इसी बीच 21 दिन का लॉकडाउन होने से जो जहां था वहीं फंस गया। जिसे ट्रेन, बस एवं अन्य साधन मिला तो वे पहुंच गए, बाकी फंस गए। उनके सामने भोजन का संकट पैदा हो गया। ऐसे में हजारों की संख्या में लोग पैदल ही अपने घरों को निकल पड़े। कोई रेलवे लाइन पकड़कर निकला तो कोई बच्चों को गोद में लेकर पैदल ही परिवार के साथ चल पड़ा। ऐसे लोगों को रास्ते में पुलिस ने जगह-जगह रोका जरूर, लेकिन उन्होंने जब भोजन और रकम नहीं होने का हवाला दिया तो पुलिस ने उन्हें छोड़ दिया। घर जाने के लिए लोग 300 से 500 किमी की पैदल दूरी तय कर रहे है। कहीं ट्रक, बस मिल गया तो उनकी दूरी कम हो गई। प्राइवेट वाहन ऐसे लोगों को लिफ्ट नहीं दे रहे हैं।
उधर, गोरखपुर और दिल्ली से पैदल आ रहे राहगीरों को बैतालपुर पुलिस चौकी पर दरोगा और पुरवा चौराहा पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने भोजन कराया। हेल्थ चेकअप के बाद जाने दिया गया। राजस्थान जाने और लखनऊ से आने वाले का सहायता लोगों ने किया। सिवान जिले के रघुनाथपुर थानाक्षेत्र के अमवारी गांव निवासी अजय सिंह, धीरज सिंह और रंजीत सिंह दिल्ली के एक कंपनी में पाइप फीटर का काम करते हैं। लॉकडाउन के कारण वह दिल्ली में फंस गए थे और घर आने के लिए परेशान थे। आनंद बिहार से ट्रक से किसी तरह शनिवार सुबह गोरखपुर पहुंचे। कोई साधन नहीं मिलने पर तीनों पैदल चल पडे़। बैतालपुर चौकी पर मौजूद चौकी इंचार्ज राकेश पांडेय ने युवकों को रोका और उन्हें भोजन कराया। कुछ देर आराम करने के बाद युवक गंतव्य को निकल पड़े। मैरवा के रहने वाले श्रीराम, सुनील और विवेक दिल्ली से 26 मार्च को पैदल चले। बरेली तक आए थे तो एक ट्रक मिल गया, ट्रक से लखनऊ आए, लखनऊ से टैंकर में छिपकर गोरखपुर बस्ती पहुंचे। बस्ती से तीनों युवक पैदल घर जा रहे थे। पुरवा चौराहा पर लोगों ने इन्हें रोका और स्वास्थ्य विभाग को सूचना दिया। डॉक्टरों ने टीम ने इनका स्क्रीनिंग किया। सब कुछ ठीक मिला। प्रसन्न श्रीवास्तव ने तीनों युवकों को भोजन कराया। वहीं देवरिया से राजस्थान जा रहे गोपाल, धनश्याम, संपत्ति और हीरा को लोगों ने ठौर दिया और दोनों वक्त भोजन कराने की बात कहीं। यह लोग रूके हुए हैं। लखनऊ से पैदल आ रहे बलिया व भोजपुर जिले के मनीष चौहान को भी लोगों ने भोजन कराया। रेडक्रॉस सोसायटी के रविकांत मणि भी युवकों के साथ शहर में भ्रमण कर ठहरे हुए लोगों को भोजन कराया।
... और पढ़ें

ई-पॉश मशीन से राशन नहीं बांटेंगे कोटेदार

ई-पॉश मशीन से राशन नहीं बांटेंगे कोटेदार
देवरिया। गरीबों को फ्री में राशन देने में ई-पॉश मशीन रोड़ा बन रहा है। कोटेदार कोरोना वायरस का हवाला देते हुए मैनुएल तरीके से राशन देने की जिद पर अड़े हैं। जबकि विभागीय अफसर ऐसा कोई आदेश नहीं आने की बात कह रहे हैं। समय से रहते इसका समाधान नहीं निकाला गया तो आगे मामला फंस सकता है। जिले में 101957 मनरेगा मजदूर और 73 हजार मजदूरों को जिला पूर्ति विभाग ने चिन्हित किया है।
कोरोना वायरस को लेकर एक अप्रैल से मनरेगा मजदूरों, ठेला खोमचे वालों को फ्री में राशन देने का फरमान जारी किया है। जिला पूर्ति विभाग इसे देखते हुए कोटेदारों के गोदाम तक राशन पहुंचाने में जुट गया है। इसके लिए अतिरिक्त वाहनों और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई। कोरोना के खौफ से कोटेदार ई-पॉश मशीन पर अंगूठा बिना लगाए राशन देने की बात कह रहे है। कोटेदारों का कहना है कि सभी सरकारी कार्यालयों में बॉयोमेट्रिक सिस्टम से लगने वाली हाजिरी बंद कर दी गई है। ऐसे में कोटेदार अंगूठा क्यों लगवाएंगे। इससे भी तो कोरोना फैलने का खतरा है। कोटेदारों ने मैनुअल वितरण आदेश की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर राशन वितरण नहीं करने की चेतावनी दी है। शासन के मानक के अनुसार जिला पूर्ति विभाग ने करीब 1.74 लाख मनरेगा मजदूर और ठेले खोमचे वालों की सूची तैयार की है, जिन्हें फ्री में राशन दिया जाएगा।
कोरोना वायरस एक दूसरे के संपर्क में आने से फैलता है। इस लिए कोटेदार ई-पॉश मशीन से राशन वितरण नहीं करने का निर्णय लिए हैं। गरीबों की जान खतरे में किसी भी कीमत पर नहीं डालेंगे। प्रशासन को मैनुअल वितरण का आदेश देना चाहिए। शासन से मैनुअल राशन वितरण के लिए कोई आदेश नहीं मिला है। ई-पॉश मशीन के जरिए राशन वितरण किया जाएगा। आगे कोई आदेश आता है तो उसका पालन कराया जाएगा। दुकानों पर सेनिटाइजर और साबुन की व्यवस्था की जाएगी।
- विनय कुमार सिंह, जिला पूर्ति अधिकारी
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Coupon
Coupon
Coupon
Coupon

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us