विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus In Uttar Pradesh Live: नोएडा में चार और संक्रमित मरीज मिले, यूपी में संख्या बढ़कर हुई 70

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का कहर देश में लगातार बढ़ता जा रहा है। रविवार को कोरोना से जम्मू-कश्मीर और गुजरात में एक-एक लोगों की मौत हो गई। वहीं, यूपी में भी लगातार संक्रमिता का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है।

29 मार्च 2020

विज्ञापन

Sp baghpat said

28 मार्च 2020

विज्ञापन

फिरोजाबाद

रविवार, 29 मार्च 2020

पैदल चलते थके तो मालगाड़ी में हो गये सवार

टूंडला। कोरोना वायरस के कारण देश लॉकडाउन है। यातायात के संसाधन बंद कर दिए गए हैं। ऐसे में हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, गुजरात में रहकर मजदूरी करने वाले लोग पैदल ही घरों के लिए निकल पड़े हैं। पैदल चलते थक गए तो मालगाड़ी में सवार हो गए। कुछ ऐसा ही नजारा शुक्रवार को गाजियाबाद रेलवे स्टेशन से बिहार की ओर जा रही मालगाड़ी जब टूंडला स्टेशन पर आकर रुकी तो देखने को मिला।
काफी संख्या में लोग मालगाड़ी के खाली बॉक्स के अंदर बैठकर भूखे-प्यासे बारिश में भीगते हुए प्रयागराज जा रहे थे। बोगी में बैठे कुछ लोगों का कहना था कि साहब हमारा तो रोजगार भी छिन चुका है। काम कहीं है नहीं। भूखे प्यासे पिछले दो दिन में हरियाणा से गाजियाबाद में पहुंचकर सड़कों पर सो रहे थे।
अब वहां रहना बहुत मुश्किल हो गया है। इसलिए मालगाड़ी में सवार होकर ही अपने घरों के लिए निकल पड़े हैं। जब ये समस्या खत्म होगी और रोजगार शुरू होगा। तब फिर से रोजीरोटी कमाने के लिए निकल पड़ेंगे।
... और पढ़ें

डाक बंगला पर पानी के पाउच,बिस्कुट बांटे,रसूलपुर थाने में दूरदराज से आए श्रमिकों को बांटा गया भोजन

फिरोजाबाद। दिल्ली, जयपुर, गुरुग्राम व नोएडा से बड़ी संख्या में मजदूर और छोटी-मोटी नौकरी करने वाले युवा पैदल ही घरों को लौट रहे हैं। कई दिनों से चल रहे इन भूखे-प्यासे लोगों की मदद के लिए पुलिस और कई संगठन आगे आए। किसी ने पानी के पाउच व बिस्किट बांटे तो कोई खाना खिला रहा था।
इटावा के जसवंतनगर सिरसा निवासी विनोद कुमार पुत्र राम किशन पत्नी कमलेश व बेटी सुहानी के साथ नोएडा में फेरी लगाता है। काम बंद होने के कारण तीनों साइकिल से भूखे-प्यासे अपने घर लौट रहे थे। दुर्गेशनगर निवासी डॉ. एसके आसित, अब्दुल बहीद, जीशान, इशरत अली व ताजउद्दीन आदि ने ऐसे लोगों को रोककर पानी के पाउच व बिस्किट वितरित किए।
फर्रुखाबाद के कटा निवासी अभिषेक पुत्र बालिस्टर सिंह व उपेंद्र पुत्र सिलेटी सिंह, रवि, रामकुमार व आदित्य यादव, नगला कुशल दन्नाहार मैनपुरी निवासी शिवराम के साथ कई श्रमिक दिल्ली से पैदल ही लौट रहे थे। इटावा के वीरेंद्र, रामकिशन, राजेंद्र, राजवीर सिंह व लाखन सिंह जयपुर से पैदल चले आ रहे थे। थाना रसूलपुर पर भूखे-प्यासे होने के कारण इन सभी के हाथ धुलवाए और पुलिस ने खाने के पैकेट बांटे। थाना पुलिस के इस कार्य की लोग सराहना करते नहीं थक रहे थे। कई महिला पुलिस कर्मियों ने उनका हाल-चाल पूछा।
... और पढ़ें

डोर टू डोर सब्जी बिकवाने को नगर निगम ने किराए पर लिए वाहन प्रत्येक सब्जी विक्रेता के साथ तैनात रहेगा नगर निगम का कर्मचारी संवाद

फिरोजाबाद। लॉकडाउन के दौरान सुबह सात से 11 बजे तक मिलने वाली छूट के दौरान शहर में जगह-जगह लगने वाली सब्जी मंडियों में भीड़ इकट्ठी हो रही है। इससे निपटने के लिए नगर निगम ने डोर-टू-डोर सब्जियां बिकवाने का काम शुरू कर दिया है। इसके लिए दस वाहनों को नगर निगम ने किराये पर लिया है।
नगर निगम के वाहनों में रखी सब्जी लेने पर लोगों ने आपत्ति दर्ज की थी। इसके तहत नगर निगम को वाहन किराये पर लेने पड़े। इन वाहनों में सब्जी विक्रेता गल्ला मंडी से सब्जी लेकर शहर के प्रत्येक वार्ड में सब्जी बेचने के लिए जाएंगे। प्रत्येक सब्जी विक्रेता के साथ वाहन में एक नगर निगम का कर्मचारी भी तैनात रहेगा।
कोटला रोड स्थित सब्जी मंडी, बजरिया, रसूलपुर, नगला करन सिंह, सुहागनगर, रामनगर सहित अन्य स्थानों पर लगने वाली सब्जी मंडियों में सुबह 11 बजे तक खूब भीड़ एकत्रित होती है। सब्जी विक्रेता भी निर्धारित से अधिक रेट पर लोगों को सब्जी दे रहे हैं। सब्जी विक्रेताओं को सब्जी उपलब्ध कराने के लिए कुछ आढ़तियों को सब्जी मंडी में चिह्नित किया है।
सब्जी विक्रेता उन्हीं आढ़तियों से सब्जी खरीद सकेंगे, जिनको प्रशासन ने चिह्नित किया है। वह भी सब्जी विक्रेताओं को निर्धारित में ही सब्जी उपलब्ध कराएंगे। नगर आयुक्त विजय कुमार ने बताया कि शुक्रवार को दस वाहनों को किराये पर लेकर कुछ वार्डों में सब्जी बिकवाने का काम शुरू करा गया है। जल्द ही अन्य वार्डों में डोर टू डोर सब्जी बिकवाने का काम शुरू करा दिया जाएगा।
... और पढ़ें

रामायण का प्रसारण देखकर भावविभोर हुए दर्शक, पुरानी यादें हुई ताजा

फिरोजाबाद। मशहूर टीवी सीरियल रामायण का प्रसारण शनिवार को फिर से शुरू हो गया है। रामायण देख दर्शक भावविभोर हो गए। जब घर के सभी सदस्यों ने एक साथ बैठकर रामायण देखी तो पुरानी यादें भी ताजा हो गईं।
लॉकडाउन के चलते लोग घरों में कैद हैं। जनता की मांग पर दूरदर्शन चैनल पर रामायण का प्रसारण कराया जा रहा है। इसे लेकर लोग उत्साहित दिखे। बच्चों को भी रामायण का प्रसारण दिखाया गया।
- दूरदर्शन पर रामायण के प्रसारण से नई पीढ़ी लाभान्वित होगी। संयम, संकल्प, समर्पण, सभ्यता, समाजसेवा, संस्कृति, संस्कार से परिचित होगी। युवा पीढ़ी पश्चिमी चमक-दमक के प्रति आकर्षित होकर इन मूल्यों से दूर होती जा रही है। रामायण दर्शन है। जिससे जीने की प्रेरणा मिलती है।
अनु मित्तल, ओम अपार्टमेेंट
- पहले जब रामायण का प्रसारण होता था, उस समय बाजार में कर्फ्यू जैसा लग जाता था। रामायण को देखते ही पुरानी यादें ताजा हो गईं। रामायण प्रेरणादायी है। जिन बच्चों ने यह नहीं देखी है तो वह जरूर देखें। क्योंकि इससे जरूर सीख मिलेगी, जो जीवन में काम आएगी। हमारी संस्कृति विलुप्त होती जा रही है, रामायण देखने के बाद हमारी युवा पीढ़ी जरूर कुछ न कुछ सीखेगी।
मनोरमा शर्मा, आर्यनगर
- लॉकडाउन के कारण सभी घरों में रहते हैं। ऐसे में मनोरंजन के तौर पर रामायण प्रसारित करके बहुत अच्छा कार्य किया है। हमने रामायण देखी तो पिछली यादें ताजा हो गईं। रामायण शुरुरू होती थी तो एक साथ परिवार के सदस्य बैठ जाते थे। ब्लैक एंड व्हाइट टीवी पर इसका प्रसारण देखते थे। इस बार तो हमने दूरदर्शन चैनल ही बहुत दिन बाद देखा।
आशा भट्ट, शिकोहाबाद
- पहले बहुत कम घरों में टीबी होती थी। रामायण का क्रेज पहले ऐसा होता था कि रामायण शुरू होने से पूर्व घर की महिलाएं पूरे कामकाज कर लेती थी। अन्य सदस्य भी बाहर से घरों पर आकर बैठ जाते थे। बैठे-बैठे लोग प्रभु राम, सीता के जयकारे लगाने लगते थे। आज वही रामायण को देखकर बहुत अच्छा लगा। जैसे ही रामायण प्रसारित होने की जानकारी लगी मन देखने को उत्सुक हो गया।
सरोज देवी, महावीर नगर
... और पढ़ें
टूंडला में रामायण सीरियल देखता एक परिवार टूंडला में रामायण सीरियल देखता एक परिवार

सब्जी और राशन पर नहीं रुक रही कालाबाजारी, निर्धारित मूल्य पर नहीं मिल रहा सामान

टूंडला। प्रशासन के प्रयासों के बावजूद बाजार में खाने-पीने की वस्तुओं पर कालाबाजारी नहीं रुक रही। निर्धारित मूल्य से दो से तीन गुने रेट पर सामान बेचा जा रहा है। प्रशासन की लिस्ट के हिसाब से कोई सब्जी या अन्य खाद्य सामग्री मांगता है तो दुकानदार उसे चलता कर देता है। रेट को लेकर कई बार विवाद की स्थिति भी बन जाती है। प्रशासन ने शुक्रवार को दो व्यापारियों पर कार्रवाई भी की थी।
प्रशासन की ओर से लॉक डाउन को देखते हुए सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी दुकानदार खाने-पीने की वस्तुओं की कालाबाजारी नहीं करेगा। निर्धारित मूल्य पर ही सभी वस्तुओं को बेचा जाएगा। ताकि किसी भी व्यक्ति का आर्थिक शोषण न हो। बावजूद इसके नगर के दुकानदार प्रशासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए निर्धारित मूल्य से दो से तीन गुने दामों पर वस्तुओं को बेच रहे हैं।
कहीं दाल तो कहीं चावल दो गुने दामों में बेचे जा रहे हैं। यही हाल आटे का है जो बड़ी मुश्किल से उपलब्ध हो रहा है। सब्जियों के भाव कहीं फिक्स नहीं है। कोई दुकानदार टमाटर तीस रुपए किलो तो कोई 40 रुपए किलो बेच रहा है। केला कोई 30 रुपए किलो तो कोई 40 रुपए किलो बेच रहा है। इसी तरह आलू भी 20 से 25 रुपए प्रतिकिलोग्राम बेच रहे हैं। जबकि प्रशासन ने आलू दो रुपए, टमाटर 10 रुपए, दालें 10 से 100 रुपए निर्धारित की हैं।
प्रतिबंध के बाद भी बिक रहा गुटखा
टूंडला। गुटखे के निर्माण और बिक्री पर सरकार ने पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है। लेकिन टूंडला में ब्लैक में जमकर बेचा जा रहा है। सुभाष चौराहे, दीपा का चौराहा, नईबस्ती, तेलमिल रोड, टूंडली, सांवले प्रसाद रोड व लाइनपार क्षेत्र में गुटखा बेचा जा रहा है। 10 रुपये वाले पाउच के 15 तो रुपये तो कहीं कहीं पर दोगुने रुपये वसूले जा रहे हैं।
... और पढ़ें

बाहर से नहीं आ रहा माल, स्टॉक हो रहा खाली, होम डिलेवरी सिस्टम फेल

फिरोजाबाद। लॉकडाउन में बाहर से खाद्य सामग्री न आने के कारण दुकानदारों के पास परचून का सामान, दवाएं, घी-तेल आदि का स्टॉक खाली हो रहा है। ट्रांसपोर्ट बंद है। व्यापारी स्वयं भी माल लेने बाहर जा नहीं पा रहे हैं। दुकानदारों का कहना है कि बाहर से माल की आपूर्ति नहीं हुई तो दुकानें बंद करनी पडे़ंगी। उधर प्रशासन ने आवश्यक वस्तुओं को घर-घर पहुंचाने के लिए होम डिलीवरी सिस्टम तो बना दिया लेकिन पहले दिन ही यह व्यवस्था फेल रही। इसके लिए नामित दुकानदारों को यही नहीं पता है कि आखिर उन्हें करना क्या है।
डोर स्टेप डिलीवरी सिस्टम पहले दिन लागू होता दिखाई नहीं दिया। दुकानदारों को यही नहीं पता था कि उनको जिम्मेदारी सौंपी गई। आम दिनों की तरह दुकानों पर भीड़ दिखी। दुकानदारों का कहना है कि दिल्ली, भरतपुर, जयपुर एवं आगरा के दुकानदारों ने आपूर्ति देने के लिए तो हाथ खड़े करने लगे हैं। ऐसा रहा तो फिर बेचेंगे क्या।
बजरिया में गुड़, चीनी, रिफाइंड की थोक की दुकान संचालित करने वाले इंद्रजीत सिंह साहनी ने बताया कि हमारा माल तो आगरा नुनिहाई, भरतपुर एवं दिल्ली से आता है। लेकिन डिपो पर माल की बुकिंग बंद हो गई। दिल्ली से चीनी, भरतपुर से रिफाइंड ऑयल आता है। वहां भी माल देने की मनाही करने लगे हैं।
किचिन में प्रयोग होने वाले मसाले के साथ-साथ घरेलू जरूरत के सामान की थोक बिक्री करने वाले आलोक मित्तल ने बताया कि बाजार में सामान बाहर से जिस तरह से आना चाहिए वह नहीं आ रहा है। प्रशासन को जहां से माल आता है वहां संपर्क साधना पड़ेगा ताकि सामान की आपूर्ति हो सके।
क्योंकि दालें सभी राजस्थान से आती हैं लेकिन राजस्थान पूरी तरह से बंद है। इसके कारण सामान की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। कम से कम एक दूसरे राज्यों से सामान को लाने की छूट पुलिस प्रशासन को देनी चाहिए।
- गल्ला मंडी में दुकान रखे अभिषक जैन ने बताया कि मेरा थोक का आटे का काम है। लेकिन मैं फुटकर दुकानदारों को दे रहा हूं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों के घरों तक आटा पहुंच सके। प्रतिदिन दो सौ से ढाई सौ क्विंटल आटा मंगा रहा हूं। डोर स्टेप डिलेवरी के बारे में जानकारी नहीं है।
- जोशियान मोहल्ला निवासी महिला राखी दस किलो आटा को लेने पहुंची। बोली कि पैसे जितने हैं उतना लिए ले रही हूं। फुटकर दुकानों पर आटा नहीं मिल रहा है। क्षेत्रीय दुकानें खाली हो गई हैं।
-ताड़ो वाली बगिया निवासी मोहम्मद सोहैल ने बताया कि क्षेत्र में दुकानें खुलती तो हैं लेकिन आटा नहीं होने की बात कह रहे हैं। डोर स्टेप डिलीवरी सिस्टम में क्या लागू किया ये तो जानकारी नहीं मिली। इस कारण हम लोग आटा लेने के लिए आए हैं। ताकि राहगीरों एवं गरीबों के लिए खाने की व्यवस्था हो सके।
-गांधीपार्क से गल्ला मंडी आटा लेने को पहुंची मीरा देवी का कहना है कि घर-घर पहुंचाने की व्यवस्था प्रशासन ने तो बड़े लोगों के लिए की होगी। हम गरीब तबके के लोग खुद ही खरीदने के लिए आना है। इसीलिए आए हैं।
प्रशासन की ओर से डोर स्टेप डिलेवरी सिस्टम के लिए जिन दुकानदारों को चिह्नांकित किया गया है इनके अलावा भी खाद्य सामग्री की दुकानें सुबह सात से 11 बजे के बीच खोली जा सकेंगी। लेकिन चिह्नांकित दुकानों से 24 घंटे जरूरत के सामान की घरों पर सप्लाई कर सकेंगे।
डा.सुधीर कुमार,जिला अभिहित अधिकारी खाद्य सुरक्षा फिरोजाबाद।
... और पढ़ें

रोजी-रोटी का संकट, घरों में कैसे जलेगा चूल्हा

फिरोजाबाद। लॉकडाउन ने लोगों के सामने रोटी-रोटी का संकट खड़ा कर दिया है। काम-धंधे बंद हैं। लोगों को चिंता है कि घर का चूल्हा कैसे जलेगा। इसको लेकर लोग सुबह से ही काम की तलाश में घरों से निकल रहे हैं। कोई गली मोहल्लों में कचौड़ी की ठेल लगाने को विवश है, तो कोई जूता-चप्पल ठीक कराने की आवाज लगाता गली-मोहल्लों में दिखाई दे रहा है।
शहर के शिवाजी मार्ग निवासी रवि कुमार पुत्र जगदीश का कहना है कि उनके तीन बेटियां और पत्नी है। रोज कमाकर परिवार का भरण पोषण करते हैं। तीन दिन से बाजार बंद पड़ा है। घर से नहीं निकल पा रहे। आज आटा नहीं था, तो सोचा था, काम मिल जाएगा, तो बाजार से आटा खरीदकर शाम को खाने का इंतजाम हो जाएगा। इसलिए सुबह सात बजे ही घर से निकल आए थे।
लेकिन शनिवार को काम इतना मिल गया कि आज का गुजारा हो जाएगा। कल फिर देखेंगे। इस तरह का दर्द सिर्फ रवि कुमार का नहीं शहर के मोहल्ला कृष्णानगर, रहना, नगला विश्नू, शिवाजी मार्ग, ककरऊ कोठी के आसपास रहने वाले तमाम मजदूर परिवारों का है।
... और पढ़ें

मस्जिदों में नहीं घरों में अदा करें पांच वक्त की नमाज

धीरपुरा क्षेत्र में अमेठी से मजदूरी करने आए मजदूर।
फिरोजाबाद। शहर के नाले की पुलिया पर स्थित मस्जिद मेवा फरोशांन के इमाम मौलाना मोहम्मद सफी कासमी ने शहर व जिले के तमाम मस्जिदों के उलमा इकराम से कहा है कि वे मस्जिदों में चार-पांच लोग ही नमाज अदा करें। सभी लोग तो घरों में नमाज अदा करें। कम से कम एक से डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखें।
मौलाना मोहम्मद सफी कासमी ने शनिवार को मस्जिद में तीन चार लोगों के साथ नमाज अदा की। उन्होंने नमाज के दौरान शहर एवं जिले के मुसलमान भाइयों से गुजारिश की है कि वह जुमा सहित पांच वक्त की नमाज घरों पर अदा करें। घरों से बाहर कम निकलें। यदि बाहर निकलें तो कम से कम एक से डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखें।
अल्लाह ताला से ये दुआ करें कि हमारे मुल्क के सभी लोगों को कोरोना वायरस रूपी बीमारी से महफूज फरमा दें। उन्होंने कहा कि जैसे हमें मीडिया के माध्यम से पता चल रहा है लोग घरों से निकलने के बाद एकजुट होकर खड़े होते हैं मेरी अपील है कि वह एकजुट नहीं हों, बल्कि दूरी बनाकर रखें। उन्होंने कहा सरकार पुलिस व प्रशासन की ओर से उठाए गए कदमों में सभी का सहयोग करें।
... और पढ़ें

देश के विभिन्न क्षेत्रों से गांव लौटे श्रमिकों की पंचायतीराज विभाग कर रहा है निगरानी

फिरोजाबाद। लॉकडाउन के बीच देश के विभिन्न राज्यों से घर लौट रहे श्रमिकों की निगरानी का काम ग्राम पंचायत स्तर पर सचिव व प्रधानों द्वारा किया जा रहा है। गांव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा इनकी जांच नहीं कराने से ग्रामीण चिंतित हैं।
कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए डीएम चंद्र विजय सिंह के निर्देशन में ग्रामीण अंचल में टीमें काम कर रहीं है। देश के विभिन्न राज्यों में रोजी-रोटी कमाने वाले बड़ी संख्या में श्रमिक घर लौट रहे हैं। कोई पैदल तो कोई अन्य साधनों घर पहुंच रहा है। डीएम के निर्देश पर सीडीओ नेहा जैन ने डीपीआरओ नीरज कुमार सिन्हा के निर्देशन में कोआर्डिनेटर पुनीत निगम और पंकज पंचायत सचिवों व प्रधानों के माध्यम से इनकी सूची तैयार करने में जुटे हैं।
पंचायत सचिवों ने सूची बनाने के साथ स्वास्थ्य विभाग की जानकारी दी जा रही है। कई मजदूरों के परिजनों ने सूचना प्रधान व सचिवों के नहीं दिए जाने के कारण ग्रामीण सकते में हैं। जसराना व मक्खनपुर क्षेत्र के कई गांवों में वापस लौटे युवकों की जानकारी किसी को नहीं दी। जबकि वह खांसी-जुकाम के शिकार हैं। इसके कारण ग्रामीण दहशत में हैं। डीपीसी पुनीत निगम ने बताया कि ग्रामीण अंचल में आने वाले श्रमिकों की निगरानी की जा रही है।
दस लोग विदेश से लौटकर आए
जिले में दस ऐसे लोग हैं जो विदेशयात्रा करके घर लौटे हैं। इनकी जांच पहले ही स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने कर ली है। इसलिए कोई चिंताजनक बात नहीं है।
ब्लाक का नाम लौटे श्रमिक
फिरोजाबाद 393
मदनपुर 104
शिकोहाबाद 208
हाथवंत 100
जसराना 168
टूंडला 45
नारखी 82
अरांव 146
एका 50
कुल 1296
... और पढ़ें

गोबर लगाने से बाल्टी सहित उठ रहा वजनदार सिलबट्टा, फिरोजाबाद में फैली अफवाह

कोरोना वायरस की दहशत में बीच तरह-तरह की अफवाह फैल रही हैं। फिरोजबाद के कुछ गांवों में शनिवार को एक और अफवाह फैल गई। इसके बाद लोग सिलबट्टे पर गोबर का लेप कर उसके ऊपर खाली बाल्टी रखकर उसे उठाने लगे। ऐसा करते हुए लोगों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे। 

गांव रामदासपुरा निवासी शिवसिंह निषाद ने बताया कि फतेहाबाद (आगरा) के गांव रावली से उसकी बहन का फोन आया था कि सिलबट्टे पर बाल्टी रख आसपास गोबर का लेप करने से जब बाल्टी उठाते हैं तो वजनदार सिलबट्टा भी उठ रहा है। इस पर यहां भी ऐसा करके देखा गया तो सिलबट्टा उठ रहा था। 

जिले के मोढ़ा गांव में भी ऐसी ही अफवाह उड़ी। यहां के लोगों ने भी ऐसा करके देखा। लोग इसे नवरात्र में देवी का चमत्कार कह रहे हैं। विज्ञान के जानकर इसके पीछे वैज्ञानिक तथ्य बता रहे हैं। 
... और पढ़ें

दोबारा जांच को भेजे गए निर्यातक, पुत्री और अन्य के नमूने

फिरोजाबाद। कोरोना वायरस को लेकर शहर में भ्रम की स्थिति हो रही है। सुहागनगर निवासी निर्यातक और उनकी पुत्री लखनऊ पीजीआई से वापस आ गए हैं, किंतु उनको आइसोलेशन वार्ड में फिर से भर्ती कर दिया गया। पिता-पुत्री सहित अन्य एक मरीज के सैंपल जांच के लिए पुन: केजीएमयू में भेजे गए हैं।
विभागीय लोगों के मुताबिक निर्यातक और उनकी पुत्री के अलावा एक अन्य व्यक्ति का सैंपल जांच के लिए सैफई पीजीआई भेजा था, किंतु वहां किसी कारणवश सैंपल की जांच न हो पाने कारण तीनों के दोबारा सैंपल लिए और जांच के लिए केजीएमयू में भेजे गए। हालांकि निर्यातक को बृहस्पतिवार को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था।
वहां से पिता, पुत्री को वापस भेज दिया। किंतु जांच रिपोर्ट न आ पाने के कारण उनको फिर से आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया। निर्यातक के परिवार के अन्य पांच सदस्य एफएच मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं। सीएमओ डॉ. एसके दीक्षित ने बताया कि सुहागनगर निवासी निर्यातक और पुत्री का सैंपल जांच के लिए दोबारा भेजा गया है। रिपोर्ट आने पर ही कुछ कहना संभव होगा।
... और पढ़ें

राजा का ताल में सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन कर खरीदारी करने उमड़े लोग, नहीं मान रहे लोग

टूंडला। लॉकडाउन के बीच शनिवार को थाना क्षेत्र के गांव राजा का ताल में खरीदारी के लिए लोग उमड़ पड़े। जरूरी सामान की खरीदारी की लोगों में ऐसी होड़ मची थी, कि वे सोशल डिस्टेंस भी भूल गए। इस बीच वहां पुलिस का एक सिपाही तक नजर नहींआया। कोरोना वायरस से बचाव के लिए शासन प्रशासन जनता को जानकारियां देते हुए पूरा प्रयास कर रहा है। बावजूद लोगों के समझ में नहीं आ रहा। लोग लॉकडाउन को मजाक समझ रहे हैं। जब भी मौका मिलता है, घरों से निकल पड़ते हैं। शनिवार सुबह लोगों ने हद ही पर कर दी। थाना क्षेत्र के राजा का ताल में आसपास के ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। लोग खरीदारी करने के लिए परचून की दुकानों पर पहुच गए। दुकानों पर खरीदारी के लिए भीड़ जुटी हुई थी। ऐसा प्रतीत हो रहा था, मानो वह फ्री में कुछ बंट रहा हो। भीड़ इतनी थी कि लोगों ने रोड जाम कर दिया। लोग खरीदारी के लिए सोशल डिस्टेंस भूल गए। एक दूसरे पर चने का प्रयास करते हुए खरीदारी करते रहे। इस बीच वहां न तो कोई प्रशासनिक अधिकारी पहुच न ही पुलिस। थाना प्रभार ज्ञानेंद्र कुमार से जब जानकारी चाही तो उनका कहना था कि भीड़ लगाकर ख़रीदारी करने की जानकारी नही है। लोगों को बार बार समझाया जा रहा है, किन्तु लोग समझ नही रहे। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us