विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: 27 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे गए 611 करोड़ रुपये

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

फिरोजाबाद

सोमवार, 30 मार्च 2020

मस्जिदों में नहीं घरों में अदा करें पांच वक्त की नमाज

फिरोजाबाद। शहर के नाले की पुलिया पर स्थित मस्जिद मेवा फरोशांन के इमाम मौलाना मोहम्मद सफी कासमी ने शहर व जिले के तमाम मस्जिदों के उलमा इकराम से कहा है कि वे मस्जिदों में चार-पांच लोग ही नमाज अदा करें। सभी लोग तो घरों में नमाज अदा करें। कम से कम एक से डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखें।
मौलाना मोहम्मद सफी कासमी ने शनिवार को मस्जिद में तीन चार लोगों के साथ नमाज अदा की। उन्होंने नमाज के दौरान शहर एवं जिले के मुसलमान भाइयों से गुजारिश की है कि वह जुमा सहित पांच वक्त की नमाज घरों पर अदा करें। घरों से बाहर कम निकलें। यदि बाहर निकलें तो कम से कम एक से डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखें।
अल्लाह ताला से ये दुआ करें कि हमारे मुल्क के सभी लोगों को कोरोना वायरस रूपी बीमारी से महफूज फरमा दें। उन्होंने कहा कि जैसे हमें मीडिया के माध्यम से पता चल रहा है लोग घरों से निकलने के बाद एकजुट होकर खड़े होते हैं मेरी अपील है कि वह एकजुट नहीं हों, बल्कि दूरी बनाकर रखें। उन्होंने कहा सरकार पुलिस व प्रशासन की ओर से उठाए गए कदमों में सभी का सहयोग करें।
... और पढ़ें

देश के विभिन्न क्षेत्रों से गांव लौटे श्रमिकों की पंचायतीराज विभाग कर रहा है निगरानी

फिरोजाबाद। लॉकडाउन के बीच देश के विभिन्न राज्यों से घर लौट रहे श्रमिकों की निगरानी का काम ग्राम पंचायत स्तर पर सचिव व प्रधानों द्वारा किया जा रहा है। गांव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा इनकी जांच नहीं कराने से ग्रामीण चिंतित हैं।
कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए डीएम चंद्र विजय सिंह के निर्देशन में ग्रामीण अंचल में टीमें काम कर रहीं है। देश के विभिन्न राज्यों में रोजी-रोटी कमाने वाले बड़ी संख्या में श्रमिक घर लौट रहे हैं। कोई पैदल तो कोई अन्य साधनों घर पहुंच रहा है। डीएम के निर्देश पर सीडीओ नेहा जैन ने डीपीआरओ नीरज कुमार सिन्हा के निर्देशन में कोआर्डिनेटर पुनीत निगम और पंकज पंचायत सचिवों व प्रधानों के माध्यम से इनकी सूची तैयार करने में जुटे हैं।
पंचायत सचिवों ने सूची बनाने के साथ स्वास्थ्य विभाग की जानकारी दी जा रही है। कई मजदूरों के परिजनों ने सूचना प्रधान व सचिवों के नहीं दिए जाने के कारण ग्रामीण सकते में हैं। जसराना व मक्खनपुर क्षेत्र के कई गांवों में वापस लौटे युवकों की जानकारी किसी को नहीं दी। जबकि वह खांसी-जुकाम के शिकार हैं। इसके कारण ग्रामीण दहशत में हैं। डीपीसी पुनीत निगम ने बताया कि ग्रामीण अंचल में आने वाले श्रमिकों की निगरानी की जा रही है।
दस लोग विदेश से लौटकर आए
जिले में दस ऐसे लोग हैं जो विदेशयात्रा करके घर लौटे हैं। इनकी जांच पहले ही स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने कर ली है। इसलिए कोई चिंताजनक बात नहीं है।
ब्लाक का नाम लौटे श्रमिक
फिरोजाबाद 393
मदनपुर 104
शिकोहाबाद 208
हाथवंत 100
जसराना 168
टूंडला 45
नारखी 82
अरांव 146
एका 50
कुल 1296
... और पढ़ें

दोबारा जांच को भेजे गए निर्यातक, पुत्री और अन्य के नमूने

फिरोजाबाद। कोरोना वायरस को लेकर शहर में भ्रम की स्थिति हो रही है। सुहागनगर निवासी निर्यातक और उनकी पुत्री लखनऊ पीजीआई से वापस आ गए हैं, किंतु उनको आइसोलेशन वार्ड में फिर से भर्ती कर दिया गया। पिता-पुत्री सहित अन्य एक मरीज के सैंपल जांच के लिए पुन: केजीएमयू में भेजे गए हैं।
विभागीय लोगों के मुताबिक निर्यातक और उनकी पुत्री के अलावा एक अन्य व्यक्ति का सैंपल जांच के लिए सैफई पीजीआई भेजा था, किंतु वहां किसी कारणवश सैंपल की जांच न हो पाने कारण तीनों के दोबारा सैंपल लिए और जांच के लिए केजीएमयू में भेजे गए। हालांकि निर्यातक को बृहस्पतिवार को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था।
वहां से पिता, पुत्री को वापस भेज दिया। किंतु जांच रिपोर्ट न आ पाने के कारण उनको फिर से आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया। निर्यातक के परिवार के अन्य पांच सदस्य एफएच मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं। सीएमओ डॉ. एसके दीक्षित ने बताया कि सुहागनगर निवासी निर्यातक और पुत्री का सैंपल जांच के लिए दोबारा भेजा गया है। रिपोर्ट आने पर ही कुछ कहना संभव होगा।
... और पढ़ें

कहीं राशन तो कहीं हुआ भोजन के पैकेटों का वितरण

मक्खनपुर/खैरगढ़ (फिरोजाबाद)। कस्बा मक्खनपुर और खैरगढ़ में सामाजिक संगठनों व ग्राम प्रधान द्वारा जहां गरीबों को राशन सामग्री का वितरण किया जा रहा है। वहीं हाईवे से गुजरने वाले लोगों को भोजन भी बांटा जा रहा है।
लॉकडाउन के पांचवें दिन गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों के सामने राशन सामग्री का संकट खड़ा हो गया है। ऐसे लोगों की मदद करने के लिए ग्राम पंचायत खैरगढ़ की ग्राम प्रधान रतन गुप्ता ने गौरव जैन, संदीप गुप्ता, बंटू, लोहापीटा समाज के लोगों के साथ राशन सामग्री का वितरण किया। वहीं लोग घरों से बाहर न निकले इसके लिए कोतवाल खैरगढ़ अनूप कुमार भारती ने टीमों का गठन कर दिया है।
यह टीमें अपने-अपने क्षेत्रों में लगातार भ्रमण करने के साथ ही बिना कार्य सड़क पर घूमने वाले युवकों के खिलाफ कार्रवाई कर रही हैं। वहीं हाथवंत और प्रतापगढ़ में सब्जी बेच रहे लोगों को भगा दिया। कस्बा मक्खनपुर से गुजर रहे नेशनल हाईवे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा गुजरने वाले लोगों को भोजन के पैकेट वितरित किए गए। इस दौरान मंडल संपर्क प्रमुख श्याम बिहारी गुप्ता, पुष्पेंद्र, पियूष, रितेश आदि मौजूद रहे। वहीं कस्बा मक्खनपुर क्षेत्र के गांव अंगदपुर और किशनपुर में सैनिटाइजर का छिड़काव किया गया।
किन्नरों ने पहल की
गरीबों की मदद के लिए अब किन्नरों ने भी पहल शुरू कर दी है। कस्बा मक्खनपुर में किन्नर बिंदियारानी ने गरीबों को राशन खरीदने के लिए करीब 15 परिवारों को रुपयेे दिए। इस दौरान गरीब महिलाओं को साड़ी भी वितरित की। उनका कहना है कि हम लोगों ने इन्ही लोगों से कमाया-खाया है और मुसीबत के समय इनकी मदद करना हमारा काम है।
... और पढ़ें

नहीं मिल रहा इलाज, घरों पर कराह रहे मरीज

फिरोजाबाद। लॉकडाउन के दौरान लोग घरों में कैद हैं। जरूरत के सामान तक के लिए परेशान हैं, लेकिन सबसे ज्यादा दिक्कत उन्हें हो रही है जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं। प्राइवेट और सरकारी अस्पतालों में ओपीडी भी बंद हैं। कई चिकित्सकों ने इमरजेंसी सेवाएं भी बंद कर रखी हैं।
ऐसे में बीमार लोगों को इलाज नहीं मिल पा रहा है। मजबूरन घरों में ही कराह रहे हैं। कई तो ऐसे हैं जिन्हें उपचार के लिए दूसरे जनपदों के अस्पतालों में जाना है। किंतु जिले की सीमाएं सील होने के कारण वे कहीं नहीं जा सते हैं। उनके परिजन मदद के लिए अधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं।
नहीं लगे कुत्ता काटे के इंजेक्शन
सरस्वती नगर निवासी ऊषा सक्सेना ने बताया कि कुत्ते ने काट लिया था। एआरबी लगवाने के लिए अस्पताल गए, किंतु अस्पताल में मना कर दिया। अन्य मेडिकल स्टोर पर गए, यहां भी वैक्सीन नहीं मिली है। बिना वैक्सीन लगे हमेशा मन में यही लगा रहता है कि कहीं बीमारी बड़ा रूप न धारण कर ले।
कीमों के लिए जाना है, किंतु नहीं बन रही व्यवस्था
दुर्गा नगर निवासी मोहित अग्रवाल ने बताया कि मां को कैंसर है। कीमों के लिए दिल्ली एम्स में जाना है। लेकिन जनपद और दिल्ली की सीमाएं सील होने की खबरें आ रही हैं। जाएं भी और अस्पताल तक पहुंच न पाएं तो बड़ी मुश्किल होगी। कीमो समय से न हो तो दिक्कत खड़ी हो जाती है। एडीएम कार्यालय से पास बनवाने के लिए गया। कई घंटे बैठा रहा, किंतु कोई समाधान नहीं निकला।
मां को हो गया इंफेक्शन, कैसे जाएं आगरा
टूंडला निवासी मधु का कहना है कि मां का ऑपरेशन कुछ दिन पहले हुआ था। नियमित ड्रेसिंग नहीं हो सकी, इसलिए इंफेक्शन नहीं हो सका है। आगरा में चिकित्सक को दिखाने के लिए जाना है। घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं मिल रही है और न ही कोई वाहन चालक तैयार हो रहा है। सरकारी अस्पताल में भी कोई इलाज नहीं मिल रहा है। लॉकडाउन में यह विकराल समस्या आ खड़ी है।
मुंह से निकल रहा खून, नहीं मिल रहा इलाज
रामनगर निवासी अनुराधा कुमार ने बताया कि उनके पति को खांसी के साथ खून निकल रहा है। पहले प्राइवेट चिकित्सक को दिखाया तो उन्होंने दवा लिख दी। अब वह चिकित्सक भी नहीं बैठ रहे हैं। मेडिकल कॉलेज गए, किंतु वहां कह दिया कि ओपीडी बंद हो गई है। ट्रामा सेंटर में गए तो वहां भी कह दिया बाद में आना। ऐसे में यह रोग और बढ़ जाएगा। इलाज न मिलने से पूरा परिवार चिंतित है।
आईएमए की हेल्पलाइन नंबर पर ले रहे सेवा
आईएमए द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर पर इमरजेंसी में चिकित्सकों से सलाह ली जा सकती है। आईएमए अध्यक्ष डॉ. मनोज जिंदल ने बताया कि हेल्पलाइन पर 30 से 35 मरीजों के प्रतिदिन फोन आ जाते हैं। कई फोन ऐसे हैं, जिनका आपरेशन हुआ है और बाद में दिक्कत होने लगी है। हमने दवा बताई तो कुछ लोगों के सामने समस्या आई कि दवा नहीं मिल रही है। हमने उन मेडिकल स्टोर के नंबर भी उपलब्ध कराए, जिन्हें प्रशासन ने दवा वितरण की अनुमति प्रदान की है।
शासन के स्पष्ट आदेश हैं कि कोई इमरजेंसी सेवा में इलाज कराना चाहता है तो पुलिस भी उसे नहीं रोकेगी। वह डॉक्टर का पर्चा लेकर इलाज कराने जा सकता है। मगर सामान्य चेकअप और ऐसी बीमारी, जिन्हें 10 से 15 दिन बाद टाला जा सकता है तो उन सेवाओं पर रोक लगाई है। जनपद के सभी सरकारी अस्पतालों में आपातकालीन सेवाएं चालू हैं।
- डॉ. एसके दीक्षित, सीएमओ।
... और पढ़ें

नवरात्र के पांचवें दिन घर-घर पूजी गईं स्कंदमाता

फिरोजाबाद। नवरात्र के पांचवें दिन घर-घर में स्कंदमाता की पूजा-अर्चना की गई। अपरान्ह 11 बजे तक महिलाएं और पुरुष मां की आराधना के लिए क्षेत्रीय मंदिरों में पहुंचे। लॉकडाउन से महिलाओं ने घर में ही सूर्य देव को जल चढ़ाया। वहीं सेंट्रल चौराहा स्थित मां दुर्गा के मंदिर के पट रविवार को बंद रहे। लोग बाहर से ही मां के हाथ जोड़ते नजर आए। नवरात्र का व्रत रखने वाली महिलाओं ने भजन संध्या का आयोजन भी किया। वहीं रामलीला परिसर स्थित मां राजराजेश्वरी कैलादेवी मंदिर पर रविवार को भी शतचंडी पाठ का आयोजन होता रहा। जबकि उसायनी स्थित माता श्री वैष्णोदेवी मंदिर पर ग्रामीण क्षेत्र की कुछ महिलाएं पहुंची, लेकिन मंदिर बंद होने के कारण वह बाहर से ही पूजा करती दिखाई दीं।
गरीब बस्तियों में वितरण किया
लॉकडाउन के चलते शहर के सभी मंदिर बंद है। यहां तक कि प्रसाद का भोग भी नहीं लगा पा रहे। ऐसे में श्रद्धालुओं ने नवरात्र में दान का तरीका बदल दिया है। कुछ ऐसे लोग हैं, जिन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उन्होंने हलवाई से पूड़ी-सब्जी बनवाकर घर में ही मां का भोग लगाने के साथ ही गरीब बस्तियों में वितरण करा दिया।
मंदिर के पट बंद होने से दिक्कत हो रही है। 11 बजे के बाद पूजा करो तो क्षेत्र के मंदिर में भी जल चढ़ाने के लिए नहीं जा पाते। ऐसे में सुबह जल्दी उठकर पूजा-अर्चना करनी पड़ रही है। घर पर भी बच्चों का काम बढ़ा हुआ है। इसलिए पूरा दिन कट जाता है। - रजनी गुप्ता
नवरात्र को लेकर जो उत्साह होता था। वह इस बार नहीं है। मां की स्थापना तो की गई है। लेकिन मां राजराजेश्वरी कैलादेवी के दर्शन न होने से मन नहीं लग रहा। जिसके चलते घर में ही पूजा करते हैं। शाम को परिवार के साथ भजन संध्या का आयोजन भी प्रतिदिन किया जा रहा है। - रेखा झा
पहली बार ऐसी नवरात्र आई है कि मां के दर्शन नहीं हो रहे। सुबह मां के दर्शन करने के लिए कैलादेवी मंदिर जाने के लिए मन भी बनाया था, लेकिन पति और परिवार के अन्य बुजुर्गों ने घर के बाहर निकलने से मना कर दिया। इसलिए घर में ही पूजा की है। - कमलेश झा
घर के बाहर कदम नहीं रख रहे हैं। डर लगता है कि यदि कोरोना हो गया तो परिवार के अन्य लोग भी बीमार हो जाएंगे। जो पूजा-पाठ करनी होती है घर में ही कर लेते हैं। बच्चों को भी घर से बाहर नहीं भेज रहे। जिससे सभी लोग सुरक्षित रहें। - लाडो देवी
... और पढ़ें

453 वाहनों के चालान, चार सीज

फिरोजाबाद। लॉकडाउन के समय बिना बजह घरों से बाहर निकलने वालों के खिलाफ पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। पुलिस ने शनिवार को 59 बैरियरों पर चेकिंग के दौरान 453 वाहनों के चालान काटे। दस हजार रुपये शमन शुल्क भी वसूला गया। साथ ही चार वाहन सीज किए।
जिले की सीमाओं को सील करने के साथ ही सघन चेकिंग की जा रही है। धारा 144 का उल्लंघन करने के कारण ही विभिन्न थानों में 13 मुकदमें दर्ज किए गए। 37 को गिरफ्तार करके जेल भेजने की कार्रवाई की गई। एसएसपी सचिंद्र पटेल ने आमजन से कहा 21 दिन के लॉकडाउन का वह खुद ही पालन करें।
सुबह सात बजे से 11 बजे के बीच ही राशन सामग्री, दवाएं, सब्जियों की खरीदारी करने के लिए निकलें। ताकि इस तरह की कार्रवाई करने के लिए पुलिस को बाध्य नहीं होना पड़े। उन्होंने बैरियरों पर तैनात पुलिस कर्मियों से भी कहा है कि वह बिना वजह किसी को परेशान नहीं करें।
... और पढ़ें

मटसेना क्षेत्र में टावर गिरने से श्रमिक की मौत

फिरोजाबाद। थाना मटसेना क्षेत्र में फरौल नगरिया के पास ही हाईटेंशन लाइन के टावर से उतारने के दौरान गिरे श्रमिक की मौत हो गई। श्रमिक की मौत होने से कोहराम मच गया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को जिला अस्पताल भेजा है।
बिहार के जिला तिलिहार खगरइया निवासी सुधीर (24) पुत्र शंकरश्री अपने गांव के कई साथियों के साथ ही थाना मटसेना क्षेत्र के गांव फरौल नगरिया क्षेत्र में हाईटेंशन लाइन के खंभे लगाने का काम कर रहा था। रविवार को सुबह खंभे से ही बंधे रस्से को हटा रहा था। अचानक नीचे ही गिर गया। इसके कारण उसके सिर में चोट लग गई। साथियों ने इसकी जानकारी ठेकेदार के साथ अन्य लोगों को दी।
सूचना पर मटसेना एसएचओ राजेश कुमार पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए। उन्होंने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। एसएचओ राजेश कुमार का कहना है कि हाईटेंशन लाइन के खंभे से गिरने के कारण श्रमिक की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम करा के शव परिजनों को सौंपा जाएगा।
... और पढ़ें

पुलिसकर्मियों से अभद्रता करने वालों को खदेड़ा

शिकोहाबाद (फिरोजाबाद)। मैनपुरी तिराहे पर कुछ शरारती तत्वों ने नगर की शांत फिजा बिगाड़ने की कोशिश की। ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों से अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया। इससे पुलिस को बल प्रयोग कर उन्हें खदेड़ना पड़ा।
मैनपुरी तिराहे पर लोगों को घरों से बाहर न निकलने देने के लिए पुलिस तैनात की गई है। रविवार दोपहर जब कुछ लोग घरों से निकल कर सड़क पर आ गए तो तिराहे पर तैनात पुलिस कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने के लिए कहा। इस पर कुछ युवक पुलिसकर्मियों से अभद्रता करने लगे। काफी देर तक पुलिसकर्मी उन्हें अनसुना करते रहे, लेकिन जब युवकों ने पुलिस को अपशब्द कहना शुरू किए तो पुलिसकर्मियों ने अधिकारियों को सूचना दी।
मौके पर पहुंची एसडीएम एकता सिंह और सीओ इंदुप्रभा ने वहां मौजूद लोगों को खदेड़ दिया। उन्होंने लाउडस्पीकर से सभी को चेतावनी दी कि अगर दोबारा घरों से बाहर निकले तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। सीओ इंदु प्रभा का कहना है कि पुलिस से अभद्रता करने वालों को चिह्नित किया जा रहा है। शिनाख्त होने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

मुआवजे की मांग को लेकर स्कूल में रखा शव

शिकोहाबाद (फिरोजाबाद)। स्कूल में चिनाई करते समय दीवार गिरने से हुई मजदूर की मौत मामले में परिजन पोस्टमार्टम के बाद शव को लेकर आए और स्कूल में रख दिया। परिजन मुआवजे की मांग कर रहे हैं। सूचना पर तहसीलदार और प्रभारी निरीक्षक मौके पर पहुंच गए और पीड़ित परिवार को समझा कर मामला शांत कराया। नगला सुंदर निवासी जगदीश अपने स्कूल का निर्माण करा रहे हैं। शनिवार को उनके स्कूल पर मिस्त्री और मजदूर चिनाई कर रहे थे।
दोपहर करीब तीन बजे अचानक गारे में चिनी जा रही दीवार भरभरा कर गिर पड़ी। इससे मलबे में दबकर मिस्त्री संजू (35) और मजदूर लाखन उर्फ करू (45) निवासी वैरई गंभीर रूप से घायल हो गए थे। परिजन घायलों को लेकर अस्पताल पहुंचे। यहां से उन्हें फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज भेज दिया। वहां से आगरा जाते समय लाखन उर्फ करू की मौत हो गई थी। पुलिस ने लाखन की पत्नी गुड्डी देवी की तहरीर पर स्कूल संचालक संजय सिंह और जगदीश यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था।
पोस्टमार्टम के बाद रविवार दोपहर तीन बजे शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। परिवारीजन शव को लेकर सीधे नगला सुंदर पहुंचे और शव को स्कूल परिसर में रख कर बैठ गए। इसकी जानकारी होते ही गांव में हलचल तेज हो गई। सूचना पर तहसीलदार सत्यप्रकाश और प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को समझा-बुझा कर मामला शांत करा दिया। परिजनों ने रविवार देर शाम शव का अंतिम संस्कार कर दिया।
... और पढ़ें

राशन कार्ड के नाम पर वसूली किए जाने की शिकायत पर दौड़ी पुलिस

फिरोजाबाद। गरीबों को राशन सामग्री मुहैया कराने के लिए नए राशन कार्ड के फार्म भरवाने के नाम पर सुविधा शुल्क लिए जाने की सूचना मिलने पर पुलिस को दौड़ लगानी पड़ी। लेकिन शिकायत न मिलने पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।
कोरोना वायरस के फैल रहे संक्रमण से प्रभावित गरीब लोगों के लिए सरकार ने राशन कार्ड जारी करने का फैसला लिया है। इसके आवेदन फार्म नगर निगम, नगर पालिका एवं पंचायतों में बांटे जा रहे हैं। इन आवेदन फार्मों के नाम पर वसूली का खेल शुरू कर दिया गया है। थाना दक्षिण के मोहल्ला करबला में कई लोगों ने फार्म के नाम पर पैसा वसूलने व भीड़ एकत्रित होने की सूचना पुलिस को दी।
सूचना मिलते ही पहुंची पुलिस उसे अपने साथ ले गई। हुंडावाला बाग क्षेत्र में राशनकार्ड के आवेदन फार्म भरवाने के नाम पर भी अवैध वसूली की शिकायत मिली है। इधर एसएचओ दक्षिण प्रमोद मलिक ने कहा कि भीड़ जमा होने की शिकायत मिल रही थी। एक व्यक्ति को लाए थे परंतु कोई कार्रवाई नहीं की है। लाइनपार क्षेत्र में इसी तरह की सूचना मिली थी।
राशन वितरण के लिए मंत्री से बात
फिरोजाबाद। सदर विधायक मनीष असीजा ने राशन वितरण व्यवस्था के संबंध में कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना और मंडलायुक्त से बात की। विधायक ने कहा कि लोगों को इस समय सबसे अधिक जरूरत राशन सामग्री की है। राशन वितरण के लिए एक अप्रैल का समय निर्धारित किया गया है जबकि तत्काल मदद की जरूरत है। विधायक ने राशन कार्ड बनाने में तत्परता से काम करने की मांग की। जिन लोगों का राशन कार्ड नहीं है वह ऑ़नलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए कोई शुल्क निर्धारित नहीं किया गया है। ंवाद
कांग्रेस ने लगाया आरोप
सिरसागंज। कांग्रेस जिलाध्यक्ष संदीप तिवारी ने कहा है कि सिरसागंज में एक राशन डीलर द्वारा लोगों से नए राशन कार्ड बनाने के नाम पर पांच-पांच सौ रुपये लिए गए। इसकी जानकारी पर स्थानीय कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध करने पर अधिकारी नेतागिरी न करने की हिदायत देने लगे। उन्होंने कहा कि जब गरीब जनता पहले से परेशान है तो ऐसे समय अवैध वसूली करना क्या उचित है। डीएम को इस मामले में जांच करानी चाहिए।
... और पढ़ें

खड़ंजा को लेकर नकटपुरा में विवाद, चार घायल

फिरोजाबाद। थाना लाइनपार क्षेत्र के गांव नकटपुरा में खड़ंजा को लेकर दो पक्षों में मारपीट के साथ पथराव हो गया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस ने दोनों पक्षों का मेडिकल जिला अस्पताल में कराया है।
थाना लाइनपार के ग्राम नकटपुरा में शनिवार को खड़ंजा को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया। इस दौरान गाली-गलौज किए जाने के साथ लाठी-डंडे व पथराव शुरू कर दिया। जिसके कारण गांव में अफरा-तफरी मच गई। मारपीट होते देख मौके पर एकत्रित लोगों ने समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। घटना की सूचना किसी ने थाना पुलिस को दे दी। सूचना मिलने के साथ पहुंची थाना पुलिस ने दोनों पक्षों के लोगों का मेडिकल कराया है। घायलों में ओमवीर, धर्मवीर, देवजीत व रामखिलाड़ी शामिल हैं। दोनों पक्षों ने अपनी ओर से थाना पुलिस को तहरीर दी है।
एसएचओ लाइनपार कमलाशंकर का कहना है मामूली बात को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ है। मामले की जांच करके कार्रवाई की जाएगी। इधर थाना नारखी में छेड़छाड़ का विरोध करने पर दबंगों ने घर में घुसकर लाठी-डंडों से मारपीट कर लहूलुहान कर दिया। मारपीट किए जाने की सूचना पर थाना पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने घायलों को उपचार को जिला अस्पताल भेजा है।इसमें शकुंतला देवी, रवि व रामदयाल का मेडिकल कराया है। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।
... और पढ़ें

रामायण का प्रसारण देखकर भावविभोर हुए दर्शक, पुरानी यादें हुई ताजा

फिरोजाबाद। मशहूर टीवी सीरियल रामायण का प्रसारण शनिवार को फिर से शुरू हो गया है। रामायण देख दर्शक भावविभोर हो गए। जब घर के सभी सदस्यों ने एक साथ बैठकर रामायण देखी तो पुरानी यादें भी ताजा हो गईं।
लॉकडाउन के चलते लोग घरों में कैद हैं। जनता की मांग पर दूरदर्शन चैनल पर रामायण का प्रसारण कराया जा रहा है। इसे लेकर लोग उत्साहित दिखे। बच्चों को भी रामायण का प्रसारण दिखाया गया।
- दूरदर्शन पर रामायण के प्रसारण से नई पीढ़ी लाभान्वित होगी। संयम, संकल्प, समर्पण, सभ्यता, समाजसेवा, संस्कृति, संस्कार से परिचित होगी। युवा पीढ़ी पश्चिमी चमक-दमक के प्रति आकर्षित होकर इन मूल्यों से दूर होती जा रही है। रामायण दर्शन है। जिससे जीने की प्रेरणा मिलती है।
अनु मित्तल, ओम अपार्टमेेंट
- पहले जब रामायण का प्रसारण होता था, उस समय बाजार में कर्फ्यू जैसा लग जाता था। रामायण को देखते ही पुरानी यादें ताजा हो गईं। रामायण प्रेरणादायी है। जिन बच्चों ने यह नहीं देखी है तो वह जरूर देखें। क्योंकि इससे जरूर सीख मिलेगी, जो जीवन में काम आएगी। हमारी संस्कृति विलुप्त होती जा रही है, रामायण देखने के बाद हमारी युवा पीढ़ी जरूर कुछ न कुछ सीखेगी।
मनोरमा शर्मा, आर्यनगर
- लॉकडाउन के कारण सभी घरों में रहते हैं। ऐसे में मनोरंजन के तौर पर रामायण प्रसारित करके बहुत अच्छा कार्य किया है। हमने रामायण देखी तो पिछली यादें ताजा हो गईं। रामायण शुरुरू होती थी तो एक साथ परिवार के सदस्य बैठ जाते थे। ब्लैक एंड व्हाइट टीवी पर इसका प्रसारण देखते थे। इस बार तो हमने दूरदर्शन चैनल ही बहुत दिन बाद देखा।
आशा भट्ट, शिकोहाबाद
- पहले बहुत कम घरों में टीबी होती थी। रामायण का क्रेज पहले ऐसा होता था कि रामायण शुरू होने से पूर्व घर की महिलाएं पूरे कामकाज कर लेती थी। अन्य सदस्य भी बाहर से घरों पर आकर बैठ जाते थे। बैठे-बैठे लोग प्रभु राम, सीता के जयकारे लगाने लगते थे। आज वही रामायण को देखकर बहुत अच्छा लगा। जैसे ही रामायण प्रसारित होने की जानकारी लगी मन देखने को उत्सुक हो गया।
सरोज देवी, महावीर नगर
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us