विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: 27 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे गए 611 करोड़ रुपये

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

घाटमपुर

सोमवार, 30 मार्च 2020

ठंडी हवाओं से बदला मौसम, यूपी के कई शहरों में होली तक बारिश की संभावना, मौसम विभाग ने दी ये जानकारी

घाटमपुर: ट्रक की टक्कर से खाई में पलटी टेंपो, मची चीख-पुकार, आठ लोग गंभीर रूप से घायल

घाटमपुर में गुरुवार को सड़क हादसा हुआ। यहां बेकाबू ट्रक ने टेंपो में जोरदार टक्कर मार दी। जिससे टेंपो सवार आठ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। राहगीरों ने आनन-फानन में सभी को अस्पताल पहुंचाया। जहां सभी का उपचार किया जा रहा है।

जानकारी के अनुसर सभी लोग नोबस्ता आवास विकास में एसडीएम अस्पताल में लगे कैम्प में आंखों की जांच कराने जा रहे थे। तभी पतारा क्षेत्र के टेनापुर मोड़ के पास टेंपो में पीछे से ट्रक ने टक्कर मार दी। जिससे टेंपो खाई में जा पलटी।

घायलों में टेंपो चालक बब्लू, गोपाल कृष्ण, गुरुदत्त प्रसाद, जयराम, अनिरूद्ध प्रसाद, रामकली, गीता, सुनीता शामिल है। प्राथमिक उपचार के बाद गोपाल कृष्ण, बब्लू, सुनात, रामकली और जयराम को गंभीर हालत में हैलट अस्पताल कानपुर रेफर किया गया है।
... और पढ़ें

ट्रक की टक्कर से मां की गोद से गिरी बच्ची, मौत

घाटमपुर (कानपुर)। कस्बे के मुख्य चौराहे पर लगने वाले जाम ने फिर एक जिंदगी निगल ली। यमदूत बने ट्रक की टक्कर से बाइक पर मां की गोद में बैठी मासूम बच्ची उछलकर ट्रक के पहिए के नीचे आ गई। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद ट्रक का चालक और खलासी मौके से भाग निकले। पुलिस ने ट्रक को कब्जे में लेने के साथ मासूम के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की कार्रवाई शुरू की।
मूलरूप से मलवां (फतेहपुर) निवासी प्रदीप कुमार पाल घाटमपुर कस्बे के रेलवे स्टेशन रोड पर किराये का कमरा लेकर पत्नी के साथ रहता है। बुधवार की शाम वह पत्नी अनुष्का पाल को पेपर दिलाने के बाद धरमंगदपुर (सजेती) के बाद बाइक पर बैठाकर परीक्षा केंद्र से वापस घाटमपुर लौट रहा था। अनुष्का की गोद में उसकी 3 वर्ष की मासूम बेटी अवनी भी थी। प्रदीप जैसे ही घाटमपुर कस्बे के मुख्य चौराहे के पास पहुंचा। तभी, जल्दी निकलने के चक्कर में एक ट्रक ने उसकी बाइक पर पीछे से टक्कर मार दी।
ट्रक की टक्कर लगने से अनुष्का की गोद में बैठी बेटी उछलकर सड़क पर गिर गई। जिसको ट्रक ने कुचल दिया। जबकि, अनुष्का और उसका पति बाल-बाल बच गए। बाइक चालक प्रदीप पाल हेलमेट लगाए था।
हादसा होते ही चालक और खलासी ट्रक को मौके पर खड़ा करके भाग निकले। पुलिस ने ट्रक को कब्जे में लिया है। देरशाम कस्बा चौकी इंचार्ज सत्यपाल सिंह ने बताया कि बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की कार्रवाई की जा रही है। बताया कि तहरीर मिलने पर ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।
... और पढ़ें

नोएडा से पांच दिन पैदल चलकर सजेती पहुंचे युवक

सजेती (घामटपुर)/ कानपुर। कोरोना के चलते लॉकडाउन घोषित होने के बाद देश के विभिन्न प्रांतों और जिलों में काम करने वाले मजदूरों का घर वापस लौटने का सिलसिला जारी है। सवारी साधन न मिलने पर पैदल ही सफर तय कर रहे हैं। शनिवार दोपहर बाद हमीरपुर और महोबा जिले के निवासी चार युवक पैदल जाते दिखे। पूछने पर उन्होंने अपनी आपबीती सुनाई।
चंदौखी (हमीरपुर) निवासी कुलदीप और ग्योंड़ी (महोबा) निवासी सतीश ने बताया कि वह लोग नोएडा के सेक्टर-63 में स्पोर्ट्स कंपनी में मजदूरी करते हैं। लॉकडाउन होने के बाद घर वापस लौटने के लिए कोई साधन नहीं मिला। 23 मार्च की सुबह चारों लोग पैदल प्रस्थान कर दिए। रास्ते में भूखे-प्यासे किसी तरह सफर तय कर यहां तक पहुुंचे। किसी ने रास्ते में कुछ दे दिया तो खाकर पानी पीने के बाद फिर आगे को चलते रहे।
इधर, क्षेत्र मेंनिर्माणाधीन 1980 मेगा पावर विद्युत प्लांट में काम करने वाले करीब 1200 मजदूरों को उनके घरों को रवाना करने के लिए डीएम के निर्देश पर बीते शुक्रवार की रात रोडवेज की 27 बसें भेजी गईं। जोकि मजदूरों के लेकर देररात रवाना हुईं। नेयवेली की सहायक कंपनी एलएंडटी के अधिकारियों ने बताया कि घर भेजे गए मजदूरों को बसें प्रदेश के बहराइच, गोरखपुर और चंदौली जिलों तक पहुंचाकर वापस लौटेंगी।
... और पढ़ें
kanpur dehat lock down kanpur dehat lock down

550 km chal kar ghar aya dharmandra

घाटमपुर (कानपुर)। हरियाणा के गुरुग्राम की स्पोर्ट्स कंपनी में काम करने वाला धर्मेंद्र कुशवाहा ने सात दिन में पैदल चलकर 550 किलोमीटर की दूरी तय की। वह शुक्रवार की सुबह अपने घर पहुंच गया।
विकास खंड के बेंहटा बुजुर्ग गांव निवासी धर्मेंद्र कुशवाहा ने बताया कि देश में 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित होने के बाद उसकी कंपनी बंद हो गई। साथ ही आसपास के ढाबे भी बंद हो गए। इससे भोजन का संकट पैदा हो गया। उसके पास पैसे भी नहीं थे। ॉ
इधर, वाहनों का संचालन बंद होने पर उसे घर वापस लौटने के लिए भी कोई रास्ता नहीं सूझा, तो वह साथियों के साथ पैदल ही घर के लिए चल दिया। गुरुग्राम से वह 21 मार्च की रात में निकला। 27 मार्च की सुबह अपने गांव आ पाया। उसने बिस्किट खाकर और पानी पीकर सफर काटा। इस दौरान उसके पैरों में सूजन आ गई और छाले पड़ गए।
--
घाटमपुर (कानपुर)। तहसील क्षेत्र की यमुना पट्टी (तिरहर) के कई गांवों के 87 लोग एक कंटेनर में बैठकर वापस गांव आ रहे हैं। शुक्रवार की शाम उनका लोकेशन झांसी बताया गया।
क्षेत्र के गड़ाथा, चिटकिनपुर, निमधा और महुवापुरवा गांवों के 87 युवक गुजरात के सूरत में मजदूरी करते हैं। लॉकडाउन और काम न मिलने से परेशान युवक अपने गांवों को वापस लौट रहे हैं। वाहनों का संचालन बंद होने से वे लोग कंटेनर से आ रहे हैं। परिजनों ने बताया कि सभी ने मिलकर कंटेनर का किराया 1.15 लाख रुपये दिया है।
... और पढ़ें

देवी मंदिरों में सन्नाटा, दर्शन पर रहा प्रतिबंध

घाटमपुर (कानपुर देहात)। कोरोना वायरस के चलते वसंत नवरात्र में क्षेत्र के प्रमुख देवी मंदिरों में भक्तों का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित रहा। मुख्य गेटों पर बैरीकेडिंग कराने के साथ पुलिस तैनात रही। भक्त भी घर से निकलकर मंदिर नहीं गए। कस्बा स्थित चतुर्थ सिद्धपीठ कूष्मांडा देवी सहित अन्य मंदिरों में सन्नाटा दिखाई दिया। मेला परिसर की सभी दुकानें भी बंद रहीं।
घाटमपुर स्थित कूष्मांडा देवी की मान्यता नौ दुर्गा के चौथे स्वरूप के रूप में है। प्रदेश में कूष्मांडा देवी का एकमात्र मंदिर घाटमपुर में है। इसके चलते शारदीय और वसंत नवरात्र में देश-प्रदेश के कोने-कोने से लोग यहां देवी के दर्शन करने आते हैं। लेकिन, कोरोना के चलते मंदिर में भक्तों का प्रवेश वर्जित कर दिया गया है।
पतारा क्षेत्र के बरनांव गांव स्थित कथरी देवी मंदिर, पतारा स्थित काली देवी, तिलसड़ा गांव की आशामाई, तेजपुर गांव की तेजेश्वरी देवी के साथ भदरस और बिरहर गांवों के भद्रकाली देवी मंदिरों में भक्तों का प्रवेश बंद रहा। भीतरगांव समेत गंभीरपुर, अमौर, बरईगढ़, कुड़नी, गहोलिनपुर और बीहूपुर समेत अन्य गांवों में स्थित प्रमुख देवी मंदिरों में भक्तों को लॉकडाउन होने की सूचना देकर पूजा करने नहीं जाने दिया गया।
देवी भक्तों ने बताया कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए उन लोगों ने प्रधानमंत्री की ओर से घोषित किए गए 21 दिन के लाकडाउन का पालन करने की शपथ ली है। इसके चलते वह अपने घरों में कलश स्थापना करने के साथ देवी की पूजा-अर्चना करेंगे।
मंदिरों और घरों में कन्याभोज नहीं कराएंगे
कोरोना के चलते किए लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए देवी भक्तों ने नवरात्र में कन्याभोज, भंडारा और सार्वजनिक रूप से प्रसाद वितरण न करने का भी फैसला लिया है। कई महिला भक्तों ने बताया कि नवरात्र में वह अपने घरों पर कन्या भोजन नहीं कराएंगी। देवी भागवत पाठ और हवन-पूजन के कार्यक्रमों में सिर्फ घर के सदस्य ही शामिल रहेंगे। देवी भक्तों ने बताया कि हालत सामान्य होने के बाद सामूहिक भोज और प्रसाद वितरण के आयोजन कराएंगे।
... और पढ़ें

जिले की सीमा पर सतर्क रही पुलिस

सजेती (घाटमपुर)। कोरोना से निपटने के लिए जनता कर्फ्यू के बाद लागू किए लाक डाउन में सोमवार को जिले की सीमा पर सघन जांच-पड़ताल जारी रही। हमीरपुर जिले की सीमा पर स्थित यमुना नदी के जवाहर नाला पुल के निकट दुर्गादेवी मोड़ पर सजेती पुलिस ने लाक डाउन किया।
हमीरपुर की ओर से आने वाले वाहनों को रोककर जांच-पड़ताल की गई। अनावश्यक कार्य अथवा घूमने से उद्देश्य से निकले लोगों को समझा-बुझाकर लौटा दिया गया। जबकि, रोगी वाहन और अन्य आपात सेवाओं के वाहनों को निकलने दिया गया। वहीं, आवश्यक कार्य से निकले लोगों को भी पूछताछ करने के बाद आगे को जाने की इजाजत दी गई।
पुलिस की जांच-पड़ताल और टोका-टाकी के चलते सड़क पर काफी कम संख्या में लोग नजर आए। वहीं, पुलिस की जांच-पड़ताल से बचने के लिए तमाम वाहन संपर्क मार्गों से होकर वाया लहुरीमऊ, कासिमपुर और परास गांवों से होकर कानपुर की ओर निकलते रहे। जबकि, पुलिस के समझाने पर बहुत लोग चेकिंग प्वाइंट से ही वापस हमीरपुर की ओर लौट गए। थानाध्यक्ष मुकेश कुमार सोलंकी ने बताया कि लाक डाउन के तहत पुलिस ने आवश्यक सेवा के वाहनों को नहीं रोका। जबकि, अन्य वाहनों में भी पड़ताल के बाद जरूरी काम से जाने वाले लोगों को भी नहीं रोका गया।
... और पढ़ें

जनता कर्फ्यू के बीच चोरों ने हाथ साफ किए

भीतरगांव (घाटमपुर)। रविवार की रात जनता कर्फ्यू के बीच चोरों ने साढ़ थानाक्षेत्र के कुंदौली गांव में चोरों ने मार्केट में धावा बोलकर शराब ठेका और दो दुकानों के शटर काटकर लाखों रुपये की चोरी कर ली। उन्होंने एक किरायेदार के कमरा का भी ताला तोड़ा और वहां से भी काफी माल समेट ले गए। थाना साढ़ में घटना की सूचना दी गई है। पुलिस और फोरेंसिक टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल की।
साढ़-रमईपुर मार्ग पर कुंदौली गांव की चौहार मार्केट में धावा बोला। चोरों ने कुंदौली गांव निवासी सचिन सिंह चौहान की मोबाइल शाप का शटर तोड़कर 20 हजार रुपये के साथ ही हजारों रुपये कीमत के मोबाइल सेट और अन्य सामान चोरी किया। सचिन सिंह के मुताबिक चोर उसकी दुकान से तकरीबन डेढ़ लाख रुपये का सामान ले गए।
इसके बाद बगल में ही स्थित अमौली गांव निवासी दयाराम की अंग्रेजी शराब की दुकान में धावा बोला यहां से गुल्लक के अलावा शराब की दो पेटियां उठा ले गए। जबकि, शीलू सिंह परिहार की गिट्टी-मौरंग की दुकान में रखा गुल्लक पार कर दिया। शीलू सिंह ने बताया कि गुल्लक में तकरीबन 15 हजार रुपये फुटकर रखे थे।
इसके बाद चोरों ने मार्केट की दूसरी मंजिल पर किराये का कमरा लेकर रह रहे शिक्षक दीपू सिंह कछवाह के कमरे का भी ताला तोड़ दिया। चोर उसके कमरे में रखी अलमारी का ताला तोड़ने के बाद जेवर-नगदी ले गए। शिक्षक का परिवार अपने गांव गया हुआ था।
साढ़ थानाध्यक्ष देवेंद्र कुमार रावत ने बताया कि फोरेंसिक टीम ने सबूत एकत्र किए हैं। जिनके सहारे पुलिस जल्द ही चोरों की तलाश करके घटना का खुलासा करेगी। बताया कि पिछले दिनों ठीक इसी तर्ज पर घाटमपुर कस्बे में भी दुकानों और मकानों में चोरी की कई घटनाएं हुई थीं। इसमें घाटमपुर पुलिस ने गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। बताया कि घटना के खुलासे के लिए वहां से भी मदद मांगी गई है।
... और पढ़ें

घाटमपुर: बैंक कर्मी ने फांसी लगाकर दी जान, परिजनों में मचा कोहराम

घाटमपुर के पतारा में गुरुवार की देररात एक बैंककर्मी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जानकारी होने पर परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों के मुताबिक मृतक शराब का लती था। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

परम पुरवा (जूही) कानपुर निवासी हरिकिशन निषाद (52) पतारा कस्बा निवासी मुरारी लाल जायसवाल के मकान में किराये पर रहता था। पूर्व में उसकी तैनाती पतारा स्थित बैंक आफ बड़ौदा में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद पर थी। तबादला होने के बाद वर्तमान में वह गजनेर (कानपुर देहात) में तैनात था।

गुरुवार की रात खाना खाने के बाद हरिकिशन मकान के बाहर बने टीनशेड के नीचे सोने चला गया। शुक्रवार सुबह उसका शव टीनशेड के एंगल में फांसी पर झूलता मिला। उसने रस्सी से गले में फंदा बांधकर फांसी लगाई थी।

पतारा चौकी इंचार्ज हरिशंभू सिंह ने शव को कब्जे में लेने के साथ ही पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। वहीं, जानकारी होने पर बैंक आफ बड़ौदा गजनेर के शाखा प्रबंधक अभिषेक त्रिपाठी भी पतारा आए। उन्होंने बैंक की ओर से मृतक की पत्नी कुंती देवी को अंत्येष्टि के लिए एक लाख रुपये का चेक दिया।

जबकि, मृतक के बड़े बेटे शुभम निषाद को पिता की जगह पर नौकरी दिलाने का भी भरोसा दिया। मृतक के परिवार में पत्नी कुंती देवी के अलावा दो बेटे शुभम निषाद और अंकित जबकि, एक बेटी शिवानी है। हरिकिशन की मौत से परिवार के सदस्यों का हाल-बेहाल था। जिनको लोग ढांढस बंधा रहे थे।
... और पढ़ें

तेज रफ्तार ट्रक ने दो दोस्तों ने कुचला

घाटमपुर। रविवार की देर रात जहानाबाद रोड पर तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार दो युवकों को रौंद दिया। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद चालक ट्रक को वहीं छोड़कर फरार हो गया। बाइक सवार युवक एक ही गांव के निवासी और जिगरी दोस्त थे। उनकी मौत की सूचना से गांव में कोहराम मच गया। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिए।
साढ़ थानाक्षेत्र के पासीखेड़ा गांव निवासी जनार्दन उर्फ लल्लन शुक्ला का एकलौता बेटा रुद्रेश उर्फ करन शुक्ला (24) लखनऊ में फर्नीचर की दुकान में काम करता था। रविवार को वह लखनऊ से अपने घर पासीखेड़ा आया था। शाम को वह अपने दोस्त पासीखेड़ा गांव के ही निवासी सुरजन सचान के पुत्र गौतम सचान (23) के साथ बाइक से जहानाबाद (फतेहपुर) गया था। वहीं से देर रात दोनों गांव लौट रहे थे। बाइक रुद्रेश चला रहा था।
जैसे ही दोनों मुगल रोड पर स्थित सजेती थानाक्षेत्र के कुवांखेड़ा और कैथा गांवों के बीच पहुंचे। तभी, सामने से तेज रफ्तार में आ रहे ट्रक ने उनकी बाइक में टक्कर मार दी, जिससे दोनों ट्रक के पहिये के नीचे आ गए और उनकी मौके पर ही मौत हो गई, हादसे में रुद्रेश का हेलमेट भी चकनाचूर हो गया। उनकी बाइक ट्रक में फंस गई और काफी दूर तक घिसटती चली गई। यह देख चालक ने कुछ दूर आगे जाकर ट्रक को एक ओर खड़ा कर दिया और मौके से फरार हो गया।
देर रात करीब एक बजे के आसपास हुए हादसे की जानकारी कुवांखेड़ा चौकी पुलिस को हुई। चौकी इंचार्ज रवि दीक्षित मौके पर पहुंचे और हादसे में मृत युवकों की तलाशी में मिले मोबाइल फोन के जरिये उनके परिजनों की सूचना दी। युवकों की मौत की सूचना जैसे ही पासीखेड़ा गांव पहुंची तो कोहराम मच गया। परिजन तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे। वहीं, पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। जबकि, ट्रक को भी कब्जे में ले लिया। चौकी इंचार्ज ने बताया कि तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।
... और पढ़ें

नवरात्र के लिए कूष्मांडा मंदिर में तैयारियां

घाटमपुर (कानपुर)। वसंत नवरात्र पर्व के लिए तहसील क्षेत्र के देवी मंदिरों में तैयारियां शुरू हो गई हैं। कस्बा स्थित कूष्मांडा देवी मंदिर परिसर में सफाई और रंगाई-पुताई का काम धीमी गति से हो रहा है। मेला परिसर में दुकानदारों ने जरूर अपनी दुकानें सजाने के लिए जगह घेरनी शुरू कर दी है। वहीं, क्षेत्र के अन्य देवी मंदिरों में भी नवरात्र पर्व की तैयारियां शुरू नहीं हुई हैं।
कस्बा स्थित कूष्मांडा देवी मंदिर की गणना सिद्धपीठ में है। पूरे प्रदेश में देवी के चौथे स्वरूप कूष्मांडा का एकमात्र मंदिर घाटमपुर कस्बे में ही है। यहां शारदीय और वसंत नवरात्र पर्व के अलावा भी प्रमुख पर्वों पर मेले जैसा नजारा रहता है। वसंत नवरात्र को देखते हुए मंदिर परिसर में तैयारियों को धीमी गति से शुरू किया गया है। अभी परिसर में कुछ मंदिरों की रंगाई-पुताई का काम चालू हुआ है। मंदिर और मेला परिसर में साफ-सफाई, पेयजल, मार्ग प्रकाश व्यवस्था और तालाब भराने की जिम्मेदारी नगर पालिका प्रशासन की रहती है। मंदिर में पूजा-पाठ और दर्शन कराने की जिम्मेदारी मंदिर के मालियों के जिम्मे है। बुधवार को मंदिर परिसर में कुछ जगह पर साफ-सफाई और रंगाई-पुताई का कार्य जारी था। तालाब की सफाई और उसमें पानी भरवाने का काम शुरू नहीं हुआ है। नगर पालिका के कर्मचारियों ने बताया कि नवरात्र शुरू होने से दो दिन पहले तालाब में पानी भराने के साथ ही उसमें जमा काई और गंदगी को साफ करा दिया जाएगा। मंदिर के मालियों घसीटेलाल सैनी और देवीप्रसाद ने बताया कि नवरात्र की चतुर्थी तिथि को देवी कूष्मांडा का प्रकटोत्सव मनाया जाता है। चतुर्थी तिथि को मंदिर में दीपदान का आयोजन किया जाता है, जिसमें हजारों लोग शामिल होते हैं।
इधर, भदरस और बिरहर गांवों में स्थित भद्रकाली देवी मंदिरों में नवरात्र पर्व पर भीड़ लगती है। भीतरगांव, पतारा, बरनांव, गहोलिनपुर (साढ़) और गंभीरपुर गांवों के प्राचीन देवी मंदिरों में सुबह से शाम तक भक्तों की भीड़ रहती है। देवी भक्तों ने बताया कि एक-दो दिन में तैयारियों में तेजी दिखेगी। बताया कि नवरात्र पर्व शुरू होने के दिन तक सारी तैयारियां पूरी कर ली जाएंगी। नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी उमेश कुमार मिश्रा ने बताया कूष्मांडा देवी मंदिर परिसर में नवरात्र मेला की तैयारियों को सोमवार तक पूरा करा दिया जाएगा।
... और पढ़ें

घाटमपुर में भीषण सड़क हादसा, दो दोस्तों की दर्दनाक मौत, मचा कोहराम

घाटमपुर में रविवार रात भीषण सड़क हादसा हुआ जिसमें दो दोस्तों की दर्दनाक मौत हो गई। कैथा मोड़ के पास ट्रक में फंसकर उनकी बाइक काफी दूर तक घिसटती चली गई। युवकों की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया। 

यह घटना कुआखेड़ा और कैथा के बीच मार्ग की है। भीतरगांव क्षेत्र के गांव पासीखेड़ा में रहने वाले जनार्दन उर्फ लल्लन शुक्ल का 23 वर्षीय इकलौता पुत्र रुद्रेश उर्फ करन लखनऊ में फर्नीचर शॉप चलाता था।

होली पर घर आया रुद्रेश रविवार की रात गांव में रहने वाले दोस्त 22 वर्षीय गौतम सचान के साथ ढाबे पर खाना खाने के लिए जहानाबाद के समीप गया था। घटना की जानकारी मिलते ही संबंधित थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए।
... और पढ़ें

जड़ी-बूटी से इलाज करने वाले बाबा की दवा खाने से एक की मौत, पांच गंभीर, आरोपी गिरफ्तार

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us