विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: प्रदेश में 80 संक्रमित, लखनऊ में 9 दिनों से नहीं मिला कोई मरीज

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कुशीनगर

सोमवार, 30 मार्च 2020

बंगलूरू से आए युवक की हुई जांच

बंगलूरू से आए युवक की हुई जांच
मथौली बाजार(कुशीनगर)। लॉक डाउन के दौरान ही मथौली बाजार क्षेत्र में एक युवक के बंगलूरू से घर आने की सूचना पर हड़कंप मच गया। 20 वर्षीय इस युवक के आने की सूचना पर स्वास्थ्य टीम उसके घर पहुंची और जांच की।
गांव वालों ने बताया कि रोजगार के लिए बंगलूरू गया युवक दोपहर करीब 12 बजे अपने घर पहुंचा। उसने परिजनों को बताया कि रास्ते में कहीं जांच नहीं हुई है। इसकी जानकारी होने पर ग्राम प्रधान ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मथौली बाजार को खबर दी। वहां से चिकित्सा प्रभारी डॉक्टर एलएस सिंह, डॉक्टर दीपक मिश्रा, क्षय रोग पर्यवेक्षक अमित श्रीवास्तव, राकेश मद्धेशिया, धनंजय सिंह, चंदन श्रीवास्तव आदि पहुंचे और युवक के स्वास्थ्य की जांच की गई। युवक के स्वस्थ मिलने पर सबने राहत की सांस ली। एहतियात के तौर पर युवक को 14 दिन तक घर में ही रहने को कहा गया।
... और पढ़ें

जांच में दो सैंपल गिले निगेटिव, तीन रिजेक्ट

जांच में दो सैंपल मिले निगेटिव, तीन रिजेक्ट
पडरौना। कोरोना वायरस के पांच संदिग्ध व्यक्तियों का इलाज जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में चल रहा है। इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, लेकिन दो सैंपल की जांच ही हो सकी, दो रिजेक्ट कर दिए गए। शेष तीनों व्यक्तियों के सैंपल लेकर बुधवार को पुन: जांच के लिए भेजा गया।
जिले भर में अब तक स्वास्थ्य विभाग की तरफ से पांच व्यक्तियों का सैंपल लिया जा चुका है। इनमें पांच सैंपल की जांच एक सप्ताह पहले हुई थी, जिसमें सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वे सभी व्यक्ति अपने घरों में हैं। इनके बाद तुर्कपट्टी, खड्डा, कुबेरस्थान सहित विभिन्न क्षेत्रों में पांच और कोरोना के संदिग्ध व्यक्तियों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है, जहां वरिष्ठ फिजिशियन और आइसोलेशन वार्ड के नोडल डॉ. रमाशंकर की देखरेख में इलाज हो रहा है। मंगलवार को इन पांच व्यक्तियों के सैंपल जांच के लिए लैबोरेट्री भेजे गए थे। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक उनमें तीन सैंपल लीकेज हो जाने की वजह से लैब की तरफ से रिजेक्ट कर दिया गया था, जबकि दो सैंपल की जांच हुई थी, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। जिन व्यक्तियों के सैंपल रिजेक्ट हुए थे, उनका सैंपल पुन: एकत्र कर बुधवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बने लैब में जांच के लिए भेजा गया। इन पांच के अलावा कोरोना का और कोई संदिग्ध अभी जिला अस्पताल में भर्ती नहीं हुआ है।
सीएमओ डॉ. नरेंद्र प्रसाद गुप्त ने बताया कि मंगलवार को पांच सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, लेकिन उनमें दो की जांच ही हो पाई थी, जो निगेटिव थे। शेष तीनों रिजेक्ट कर दिए गए थे, जिनका बुधवार को पुन: सैंपल कलेक्ट कर लैब को भेजा गया।
... और पढ़ें

कुशीनगर: लॉकडाउन का उल्लंघन करना पड़ा भारी, 20 लोग ऐसे पहुंच गए थाने

लॉकडाउन: शहर की सड़कों पर छाया सन्नाटा, गलियां भी उदास

लॉकडाउन: शहर की सड़कों पर छाया सन्नाटा, गलियां भी उदास
पडरौना। करीब दो सौ बरस पुराने पडरौना शहर ने यूं तो कई बार कर्फ्यू का दंश झेला है लेकिन जो भय इस वक्त है, वैसा कभी नहीं दिखा। आम दिनों में संकरी दिखने वाली शहर की मुख्य सड़कों ही नहीं गलियों में भी आम आदमी नहीं दिख रहा। यह सन्नाटा बीच बीच में केवल कुछ गाड़ियों की आवाजाही से ही टूट रहा है। सभी प्रमुख चौराहों पर खाकी का पहरा है। परदेश से पैदल या बसों से लौटे राहगीर भी जल्दी-जल्दी घर भाग रहे हैं। रविवार को सुबह नौ बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक अमर उजाला टीम ने इस शहर की पड़ताल की।
सुबह नौ बजे: सोनारी गली
पडरौना शहर के सबसे पहले आबाद हुए मुहल्लों में शुमार सोनारी गली में लोग अपने घरों में थे। भाजपा नेता व पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रितिक सिंह गौतम अपने कुछ सहयोगियों के साथ पहुंचे थे। वे घर-घर जाकर लोगों को जरूरत के सामान के बारे में पूछ रहे थे। कुछ लोगों को अपने पास से नि:शुल्क सामान भी दिया।
सुबह साढ़े नौ बजे: सुभाष चौक
कसया की तरफ से 20-25 पैदल राहगीर आते दिखे। पुलिस कर्मियों ने रोककर पूछताछ की। सभी को बिहार के बगहा जाना था। पैदल ही गोरखपुर से आ रहे थे। पुलिस कर्मियों व सामाजिक संगठनों के सदस्यों ने सभी को हाथ धुलवाकर सेनेटाइजर लगाया। इसके बाद लंच पैकेट व पानी की बोतल दी। पुलिस कर्मियों ने गन्ना गिराकर खाली लौट रही ट्रैक्टर-ट्राली को रोककर बांसी तक भेजा। नगर पालिका के ईओ एएन सिंह भी एक गाड़ी में लंच पैकेट लेकर पहुंचे और आ रहे राहगीरों को पैकेट दिया।
सुबह साढ़े दस बजे: बस स्टेशन
पडरौना बस स्टेशन पर गोरखपुर व लखनऊ की दो बसें पहुंची। एक साथ बड़ी संख्या में यात्री उतरकर अपने घर की तरफ निकले। बस स्टेशन गेट पर खड़े टीएसआई परमहंश ने यात्रियों से जानकारी ली। यात्रियों ने बताया कि वे लोग लखनऊ व गोरखपुर से यहां तक पहुंचे हैं। इन यात्रियों को भी लंच पैकेट देने के बाद ट्रैक्टर-ट्राली से भेजवाया गया।
सुबह 11 बजे: बावली चौक
शहर के पश्चिमी छोर पर स्थित बावली चौक पर रामकोला व खड्डा से आने वाली सड़कें मिलती हैं। आम दिनों में यहां हर दिन भीड़ रहती हैं लेकिन लॉक डाउन के बाद से यह चौराहा शांत है। सुबह 11 बजे यहां कुछ पुलिसकर्मी ड्यूटी पर थे। उधर आने का कारण पूछा और परिचय जानने के बाद वे पुन: ड्यूटी में लग गए। यहां दूर-दूर तक पुलिसकर्मियों के अलावा कोई दूसरा नहीं दिख रहा था। बेचारे पुलिसकर्मी भी बिना कुछ खाए-पीए ड्यूटी निभा रहे थे।
दोपहर 12 बजे: रेलवे स्टेशन का मॉल गोदाम
पडरौना रेलवे स्टेशन पर मालगाड़ी पहुंची। इस पर एफसीआई के लिए चावल व गेहूं लदा था। मजदूर भोला, श्रीकांत, रामनिवास आदि अपने काम में जुटे हुए थे। मालगाड़ी के डिब्बे से अनाज की बोरियों को उतारकर ट्रकों पर रख रहे थे। ट्रक चालक बृजेंद्र का कहना था कि ऐसा मंजर पहले कभी नहीं दिखा। चाय-पानी तक नहीं मिल रहा है, लेकिन गोदाम तक अनाज पहुंचाना भी जरूरी है।
दोपहर साढ़े बारह बजे: जटहां रोड
पडरौना शहर के इस उत्तरी हिस्से में मंसाछापर, खिरकिया व जटहां बाजार के लिए सवारी वाहन मिलते हैं। कई डॉक्टरों का क्लीनिक भी इसी रोड पर है लेकिन हर जगह सन्नाटा था। मेन रोड से अंदर की गलियों में इक्का-दुक्का लोग नजर आ रहे थे। लक्ष्मीबाई स्कूल के पास कुछ महिलाएं साइकिल पर मिट्टी का बर्तन लेकर पहुंचे कुम्हार से बर्तन खरीद रही थीं। महिलाओं का कहना था कि अष्टमी पूजन के लिए यह बर्तन जरूरी है। मुहल्ले में मिला तो जल्दी से खरीद लिया।
दोपहर एक बजे: कठकुइयां मोड़
कसया और तमकुही व दुदही की तरफ से आने वाली गाड़ियां इसी चौराहे पर रुकती हैं। शहर के सबसे व्यस्त रहने वाले चौराहों में से एक इस चौराहे पर भी सन्नाटा था। गांधी प्रतिमा के पास पुलिसकर्मी बैरिकेडिंग लगाकर खड़े थे। यहां पहुंचे सेंट जेवियर्स स्कूल के प्रबंधक डॉ. अरुण श्रीवास्तव पुलिस कर्मियों के लिए चाय-नाश्ता लेकर पहुंचे थे। पुलिस कर्मियों का हाथ धुलवाकर सेनेटाइजर लगाया। इसके बाद उन्हें चाय, बिस्कुट आदि खाने को दिया।
दोपहर डेढ़ बजे: मेन बाजार
पडरौना शहर के हृदय स्थल मेन बाजार में आम दिनों में भीड़ के चलते बाइक से निकलने में भी दिक्कत होती है। लेकिन लॉकडाउन के बाद से ही सन्नाटा है। सड़क इतनी चौड़ी दिख रही है कि चार पहिया वाहन भी आराम से निकल जाए। तिलक चौक पर कुछ पुलिसकर्मी मौजूद थे लेकिन मेन बाजार की सभी दुकानें बंद थीं और लोग अपने घरों में ही बंद थे।
... और पढ़ें
वीरान पड़ा कसया नगर से होकर देवरिया जाने वाला स्टेट हाइवे-76। वीरान पड़ा कसया नगर से होकर देवरिया जाने वाला स्टेट हाइवे-76।

राहत: बाहर से आए 5140 लोग, किसी में नहीं मिला संक्रमण

राहत: बाहर से आए 5140 लोग, किसी में नहीं मिला संक्रमण
पडरौना। कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की जांच और इलाज के लिए जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड से रविवार को भी राहत भरी खबर रही। तीन दिन से यहां कोरोना का कोई संदिग्ध मरीज जिला अस्पताल नहीं पहुंचा है, जबकि विदेशों से 131 और देश के विभिन्न प्रांतों से 5009 लोग अपने घरों को वापस आ चुके हैं। इस जानलेवा बीमारी से बचाव को लेकर जिला प्रशासन पूरी सतर्कता बरत रहा है।
विदेशों से अब तक 131 लोग जिले में आ चुके हैं, जबकि देश के विभिन्न महानगरों से जनपद के विभिन्न गांवों में 5009 लोग आ चुके हैं। इनमें सुकरौली क्षेत्र के 610, हाटा के 666, कसया के 85, फाजिलनगर में 336, तमकुही में 334, तरयासुजान में 322, दुदही में 468, कुबेरस्थान, कुबेरस्थान में 459, रामकोला में 479, कप्तानगंज में 197, खड्डा में 199, मोतीचक में 294, नेबुआ नौरंगिया में 355 और विशुनपुुरा ब्लॉक के गांवों में 205 लोग आए हैं।
इनमें जनपद की स्वास्थ्य टीम की ओर से 25 से 28 मार्च तक 4576 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा चुका है। जांच में सभी स्वस्थ पाए गए हैं।
इसके बावजूद जनपद के लोगों के लिए राहत की बात यह है कि पिछले तीन दिनों से जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में कोरोना का कोई संदिग्ध मरीज भर्ती नहीं कराया गया है। जिला प्रशासन इस जानलेवा बीमारी से बचाव को लेकर सतर्कता बरत रहा है।
फैक्ट्रियों में ठहरें हैं 11 बाहरी मजदूर
इधर, जिला औद्योगिक केंद्र कुशीनगर के उपायुक्त उद्योग की तरफ से बताया गया है कि जनपद की 11 औद्योगिक इकाइयों से वार्ता की गई है, जो अपने फैक्ट्री परिसर में ही रखकर मजदूरों के भरण-पोषण की व्यवस्था की हुई हैं। यहां 11 बाहरी तथा शेष स्थानीय मजदूर हैं। फैक्ट्रियों की ओर से इनमें 18 मजदूरों को पारिश्रमिक का भुगतान किया गया है।
... और पढ़ें

वाल्मीकि नगर क्षेत्र के करमहवा टोला में घर में घुसा तेंदुआ पकड़ा गया, बालिका जख्मी

वाल्मीकि नगर क्षेत्र के करमहवा टोला में घर में घुसा तेंदुआ पकड़ा गया, बालिका जख्मी
खड्डा। यूपी सीमा से सटे वाल्मीकि नगर क्षेत्र के करमहवा टोला में शनिवार की सुबह तेंदुआ एक घर में घुस गया। इस दौरान तेंदुआ के हमले से छह वर्षीया बच्ची बुरी तरह से जख्मी हो गई। इसकी सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम रेस्क्यू करने में जुट गई। टीम ने ट्रांक्यूलाइजर गन से बेहोश कर तेंदुआ को पकड़ लिया। कुछ दिन पहले भी तेंदुआ ने चार लोगों को घायल किया था।
करमहवा गांव में शनिवार की सुबह छन्नू महतो के घर एक तेंदुआ घुस गया। तेंदुआ ने छन्नू की पुत्री संगीता कुमारी को घायल कर दिया। सूचना मिलते ही वन प्रमंडल दो के डीएफओ गौरव ओझा के नेतृत्व में वन विभाग व स्थानीय पुलिस के साथ रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। घायल बालिका को बगहा अनुमंडल अस्पताल भेजा गया। इसके बाद टीम ने तेंदुआ को घेर कर ट्रांक्यूलाइजर गन से बेहोश करने के बाद सुरक्षित पकड़ लिया। पकड़े गए तेंदुआ को वनकर्मियों ने वाल्मिकीनगर वन क्षेत्र के जटाशंकर जंगल में छोड़ दिया।
वाल्मीकि टाइगर प्रोजेक्ट (वीटीआर) के वनसंरक्षक सह निदेशक हेमकांत राय ने बताया कि तेंदुआ जंगल से भटककर करमहवा टोला में एक किसान के घर में घुस गया था। सुरक्षित रेस्क्यू करते हुए उसके अधिवास क्षेत्र के जंगल में छोड़ दिया गया है। रेस्क्यू के दौरान मौके पर वन प्रमंडल एक के डीएफओ अमरीश कुमार मल्ल, वाल्मीकिनगर के रेंजर महेश प्रसाद, गनौली वनक्षेत्र के रेंजर अवधेश प्रसाद सिंह, वाल्मीकिनगर थानाध्यक्ष जयप्रकाश सिंह आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

स्टोर न करें, भरपूर होगी रसोई गैस की आपूर्ति : डीएसओ

यूपी सीमा से सटे वाल्मीकिनगर क्षेत्र के करमहवा टोला में बेहोश कर पकड़ा गया तेंदुआ।
स्टोर न करें, भरपूर होगी रसोई गैस की आपूर्ति : डीएसओ
पडरौना। जिले में रसोई गैस की कोई किल्लत नहीं है। नगरीय क्षेत्रों में होम डिलिवरी कराई जा रही है। शनिवार को नगर में एक हजार सिलिंडर का वितरण कराया गया। लोग जरूरत से ज्यादे सिलेंडर स्टॉक न करें। आपूर्ति के लिए अपनी एजेंसी पर संपर्क करें। अगर वहां से सार्थक कार्रवाई नहीं होती है तो तहसील क्षेत्र के पूर्ति निरीक्षक से इसकी शिकायत करें।
जिलापूर्ति अधिकारी विमल कुमार शुक्ला ने बताया कि शुक्रवार शाम को विभिन्न कंपनियों के अफसरों के साथ बैठक कर स्थिति पर चर्चा की गई। जिले में कार्यरत सभी 103 गैस एजेंसी संचालकों को रसोई गैस की आपूर्ति सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए। इसके लिए साइकिल, ठेला आदि का उपयोग करें। उपभोक्ताओं को गैस एजेंसी पर बुलाकर बुकिंग या आपूर्ति की जगह ऑनलाइन बुकिंग व होम डिलिवरी की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। डीएसओ ने बताया कि शनिवार को पडरौना नगर के विभिन्न मोहल्लों में गाड़ी भेजकर एक हजार सिलिंडर बंटवाए गए। इस दौरान तमाम ऐसे लोग भी गैस के लिए पहुंचे थे, जिनके पास सिलिंडर भरा हुआ है लेकिन खत्म होने के भय से लोग स्टाक करना चाहते हैं। लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, हर जगह पर्याप्त मात्रा में सिलेंडर उपलब्ध रहेगा।
रसोई गैस सिलेंडर न मिले, तो इन नंबरों पर करें शिकायत--
रमेश कुमार मिश्र, पूर्ति निरीक्षक- पडरौना- 9792593140, 8005087378
राघवेंद्र शाही, पूर्ति निरीक्षक- सुकरौली, फाजिलनगर- 9415164141, 7905005284
विजय कुमार राय- पूर्ति निरीक्षक, तमकुही, हाटा, मोतीचक- 8931958924, 8931958924
दुर्गा दत्त, पूर्ति निरीक्षक-कप्तानगंज- 7897116603, 9935715181
अभिषेक कुमार सिंह, पूर्ति निरीक्षक कसया- 9807937898, 9565220082
रविंद्र सिंह, पूर्ति निरीक्षक दुदही- 8382828189, 8874006569
वैद्यनाथ सिंह, पूर्ति निरीक्षक नगर पंचायत सेवरही- 9161742033
रमेश चंद्र तिवारी, पूर्ति निरीक्षक खड्डा- 7705095268
1- पडरौना गैस एजेंसी- चंद्रशेखर सिंह- 7376251799
2- अनिकेत गैस एजेंसी- अनिकेत- 7706887471
3- मां सुशीला गैस एजेंसी- जितेंद्र गुप्ता- 9653030227
1- विक्रय अधिकारी- इंडेन गैस--3415019174
2- विक्रय अधिकारी- एचपी गैस--7572072055
3- विक्रय अधिकारी- भारत गैस-- 9795586504
... और पढ़ें

कुशीनगर: घर में घुसकर तेंदुआ ने मचाया ऐसा आतंक, छह साल की बच्ची हुई जख्मी

रोज खुलेगी दुकान, पहल गरीबों को मिलेगा अनाज

रोज खुलेगी राशन की दुकान, पहले गरीबों को मिलेगा अनाज
पडरौना। लॉकडाउन के दौरान लोगों को अनाज के संकट से न जूझना पड़े, इसके लिए जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। अप्रैल का राशन सात तारीख के बजाय एक तारीख से ही वितरित कराने का निर्देश जारी हो चुका है। इसके अलावा अप्रैल में हर दिन दुकानें खुली रहेंगी, जिससे कार्डधारकों को दिक्कत न हो। इसके अलावा एक अप्रैल को जिले में सबसे पहले मुसहर परिवारों समेत सभी अंत्योदय कार्डधारकों को ही राशन उपलब्ध कराया जाएगा।
शासन ने अंत्योदय कार्डधारकों के अलावा मनरेगा मजदूरों व श्रम विभाग में पंजीकृत मजदूरों को लॉकडाउन के दौरान नि:शुल्क राशन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। जिले में एक लाख 17 हजार अंत्योदय कार्डधारक हैं। इसके अलावा मनरेगा मजदूर हैं। तमाम मनरेगा मजदूर ऐसे हैं जिनके पास अंत्योदय कार्ड है, जबकि कुछ के पास पात्र गृहस्थी कार्ड भी है। डीएसओ विमल कुमार शुक्ला ने बताया कि एक अप्रैल को गांवों में पहले अंत्योदय कार्डधारकों को राशन देना है। पहले ही दिन मुसहर परिवारों को भी राशन दिया जाएगा। इसके बाद मनरेगा मजदूरों व श्रम विभाग के पंजीकृत मजदूरों और फिर पात्र गृहस्थी वालों को राशन उपलब्ध कराया जाएगा। डीएसओ ने सभी कोटेदारों को अपनी दुकान पर हाथ धोने के लिए साबुन रखने, पीओएस मशीन को हर बार अंगूठा लगाने के बाद सेनेटाइजर से साफ करने, दुकान पूरे महीने खोलकर लोगों को राशन उपलब्ध कराने तथा राशन वितरण के दौरान लोगों को एक-एक मीटर दूर रखने का निर्देश दिया है।
... और पढ़ें

कुशीनगर: बाहर से आ रहे लोगों को लेकर गांववालों ने लिया ये खास फैसला, आप भी कहेंगे- 'सही है'

लॉकडाउन के चलते विदेश व देश के दूसरे शहरों से अपने गांव लौट रहे लोगों की सूची सार्वजनिक होगी। ग्राम प्रधान व पंचायत सचिव इनके नाम की सूची गांव में ही सार्वजनिक जगह पर चस्पा करेंगे। इन लोगों की मेडिकल टीम जांच करेगी। इसके अलावा प्रत्येक गांव को सैनिटाइज भी किया जाएगा। इसके लिए ब्लीचिंग पाउडर अथवा सोडियम हाइड्रो क्लोराइड का छिड़काव कराया जाएगा।

कुशीनगर जिले से बड़ी संख्या में लोग रोजगार की तलाश में देश व दुनिया के दूसरे हिस्सों में हुए थे। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण व लॉक डाउन के चलते अब वे लोग या तो अपने घर वापस आ चुके हैं अथवा आ रहे हैं। ऐसे लोगों से स्थानीय स्तर पर संक्रमण फैलने का खतरा सर्वाधिक है। इसको देखते हुए प्रशासन जगह-जगह इनकी जांच करा रहे हैं।

इसके अलावा अब गांवों में भी इनकी सूची बनाई जा रही है, जिससे कि ऐसा एक भी व्यक्ति न छूटे। डीपीआरओ राघवेंद्र द्विवेदी ने बताया कि इसके लिए सभी ग्राम प्रधानों व ग्राम पंचायत सचिवों को निर्देशित किया गया है। गांव में बनी इस सूची को सार्वजनिक स्थान पर ही चस्पा किया जाएगा, जिससे कि गांव के सभी लोगों को इनके विषय में जानकारी हो।
... और पढ़ें

नहीं मिल रही सवारी

रेल ट्रैक के रास्ते पैदल घर रवाना हुए मजदूर
अहिरौली बाजार(कुशीनगर)। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सरकार की तरफ से लॉकडाउन किया गया है। इसके चलते सभी वाहनों का संचालन बंद होने के नाते गोरखपुर-नरकटियागंज रेल मार्ग पर गोरखपुर से पैदल चलकर मजदूर बिहार जा रहे हैं।
बिहार प्रांत के कई लोग गोरखपुर के घंटाघर में किसी ठेकेदार के पास रह कर राजगीर, दैनिक मजदूर आदि के रूप में काम करते हैं। बिहार के बगहां और नरकटियागंज के रहने वाले सुक्कट, विरजाभार, चुन्नू, रोहित, नौसाद, विजय, खुशबू देवी, अरविंद आदि ने बताया कि मंगलवार को ठेकेदार ने उन लोगों को घर जाने के लिए कहा। वहां दो सप्ताह की मजदूरी भी नहीं मिली है। घर जाने के लिए कोई वाहन नहीं मिलने की वजह से रेल ट्रैक के रास्ते पैदल ही घर जा रहेे हैं।
... और पढ़ें

जांच में सभी सैंपल निगेटिव, सभी को छुट्टी

जांच में सभी सैंपल निगेटिव, सभी को दी गई छुट्टी
पडरौना(कुशीनगर)। कोरोना वायरस के जिन छह संदिग्ध व्यक्तियों का जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में इलाज चल रहा था, उन्हें बृहस्पतिवार को छुट्टी दे दी गई। क्योंकि बीआरडी मेडिकल कॉलेज भेजे गए इनके सैंपल जांच में निगेटिव पाए गए।
जिले भर में अब तक स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 11 व्यक्तियों का सैंपल लिया जा चुका है। इनमें पांच सैंपल की जांच एक सप्ताह पहले हुई थी, जिसमें सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वे सभी व्यक्ति अपने घरों में हैं। इनके बाद तुर्कपट्टी, खड्डा, कुबेरस्थान सहित विभिन्न क्षेत्रों में पांच और कोरोना के संदिग्ध व्यक्तियों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था, जहां वरिष्ठ फिजिशियन और आइसोलेशन वार्ड के नोडल डॉ. रमाशंकर की देखरेख में इलाज हो रहा था। मंगलवार को इन व्यक्तियों के सैंपल जांच के लिए लैबोरेट्री भेजे गए थे। उनमें तीन सैंपल लीकेज हो जाने की वजह से लैब की तरफ से रिजेक्ट कर दिए गए थे, जबकि दो सैंपल की जांच हुई थी, जिसकी रिपोर्ट बुधवार को निगेटिव आई थी। जिन तीन व्यक्तियों के सैंपल रिजेक्ट हुए थे, उनका सैंपल पुन: एकत्र कर बुधवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बने लैब में जांच के लिए भेजा गया। इसके बाद बुधवार को एक और सैंपल बीआरडी मेडिकल कॉलेज भेजा गया था। बृहस्पतिवार को इन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इस तरह कुल चार सैंपल की रिपोर्ट इस बार भी निगेटिव आई है। इनके अलावा कोरोना का और कोई संदिग्ध अभी जिला अस्पताल में भर्ती नहीं हुआ। इन सभी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।
जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. बजरंगी पांडेय और नोडल डॉ. रमाशंकर ने बताया बुधवार को चार सैंपल भेजे गए थे, जिनकी रिपोर्ट आ गई है। किसी में कोरोना संक्रमण के लक्षण नहीं पाए गए। भर्ती सभी लोगों को छुट्टी दे दी गई।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Coupon
Coupon
Coupon
Coupon

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us