विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Lockdown Update : कोरोना की जंग में लोगों की मदद के लिए उतरी सेना, स्कूल बसें भी लगीं

लॉकडाउन में लोगों की मदद के लिए अब सेना उतर आई है।

29 मार्च 2020

विज्ञापन

Sp baghpat said

28 मार्च 2020

विज्ञापन

महोबा

रविवार, 29 मार्च 2020

बूंदाबांदी से खेतों में पकी खड़ी फसल हो रही बर्बाद

महोबा। एक सप्ताह से निकल रही तेज धूप के बाद शुक्रवार को मौसम एक बार फिर बदल गया। आसमान में बादल छाने और दोपहर के समय बूंदाबांदी होने से किसानों की चिंता बढ़ गई। खेतों में पकी खड़ी फसल बारिश में भींगकर बर्बाद हो रही है। कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन के चलते फसल की कटाई के लिए मजदूर ढूढ़े नहीं मिल रहे हैं। यही वजह है कि किसान दूरी बनाकर परिवार समेत खेतों की कटाई कर रहे हैं।
किसानों की खेतों में खड़ी रबी फसल तैयार होने के बाद से दैवी आपदाओं का प्रकोप जारी है। एक माह में पहले तेज आंधी व बारिश से फसल खेतों में बिछ गई। इसके बाद जिले में ओलावृष्टि ने किसानों की फसल बर्बाद कर दी। अब जो फसल खेतों में शेष बची है वह भी घर नहीं पहुंच पा रही है। मजदूर न मिलने से किसानों की पकी फसल खेतों में खड़ी हैं। अब कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते जिले को लॉकडाउन कर दिया गया है। जिससे लोग घरों से नहीं निकल रहे हैं।
शुक्रवार को मौसम का मिजाज अचानक बदल गया। सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे। दोपहर के समय कुछ देर के लिए बूंदाबांदी शुरू हो गई। जिससे किसानों को पकी फसल बर्बाद होने की आशंका बढ़ गई है। मजदूर न मिलने से तमाम किसान अपने परिवार व रिश्तेदारों के साथ एक एक मीटर की दूरी बनाकर खेतों की कटाई करते नजर आ रहे हैं। रामप्रकाश, बबलू, कालीदीन, रामअवतार आदि किसानों का कहना है कि मजदूर नहीं मिल रहे हैं।
... और पढ़ें

्रशासन ने डोर-टू-डोर कराई आवश्यक सामग्री की सप्लाई

महोबा। लॉकडाउन के चलते किसी भी तरह की असुविधा न हो इस गरज से जिला प्रशासन ने आम आदमी को डोर-टू-डोर घरेलू और खाद्यान्न सामग्री भेजने की व्यवस्थाएं कर ली हैं। शहर में करीब एक दर्जन पिकअप लोडरों में खाद्यान्न सामग्री मोहल्लों में भेजी जा रही है। जहां पर लोग जरूरत का सामान खरीद रहे हैं। गुरुवार को लोगों को घर बैठे सब्जी व अन्य सामग्री मिली।
जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी के निर्देश पर जिला पूर्ति अधिकारी एसपी शाक्य ने शहर में एक दर्जन पिकअप लोडरों गाड़ी से जरूरत के सामान की सप्लाई कराई। वहीं किराना व्यापार मंडल ने मोहल्ला समदनगर, लंघानपुरा जाकर किराना का सामान उचित मूल्य कर बांटा गया। जिसमें व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सेवक नंदवानी, किराना व्यापार मंडल के अध्यक्ष दिलीप अग्रवाल, युवा जिलाध्यक्ष रामजी गुप्ता, उपाध्यक्ष बॉबी साहू, कन्हैया, संजय, विजय साहू मौजूद रहे।
ये सामान की कराई गई वाहनों से सप्लाई
-आलू, प्याज, लहसुन के अलावा हर तरह की सब्जी।
-साबुन, सोडा, आटा, चावल, दाल और ड्राई फूड।
-ब्रेड, अमूल्य दूध, हल्दी, धनिया, मिर्चा, तेल, शक्कर, चाय पत्ती सहित अन्य खाद्यान्न सामग्री।
जिला पूर्ति अधिकारी सत्यप्रकाश शाक्य ने कहा कि रोजमर्रा की सामग्री की कमी नहीं होने दी जाएगी। प्रत्येक घर में खाने की सामग्री पहुंच सके, इसके लिए जिला पूर्ति विभाग ने टीम गठित कर दी है। सब्जी विक्रेताओं और किराना विक्रेताओं का रजिस्ट्रेशन कराकर उनके द्वारा वाहनों में सामान लदवाकर घर-घर भिजवाया जा रहा है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दूसरे दिन पुलिस ने दिखाई सख्ती, सड़कें रहीं सूनी

महोबा। लॉकडाउन के दूसरे दिन भी सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। पुलिस ने सख्ती कर सड़कों पर घूमने वाले लोगों को खदेड़ दिया। काजी-ए-शहर चरखारी ने जुमे की नमाज घरों में अदा करने का हुक्म जारी किया। जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी ने गुरुवार को खाद्यान्न खरीदने के लिए किराना दुकानदारों को 12 बजे से 2 बजे तक दुकानें खोलने की छूट दी। डीएम स्वयं गाड़ी में बैठककर घरों से न निकलने की अपील करते रहे।
लॉकडाउन के बाद लोग घरों में दुबके हुए हैं। पुलिस का भय साफ दिखाई दे रहा है। शहर में जुटने वाली मजदूरों की भीड़ भी अब नहीं आ रही है। मेडिकल स्टोर संचालकों ने अपने को और ग्राहकों को सुरक्षित रखने के लिए दुकान को कांच से ढक लिया है और दुकान के एक मीटर आगे डोरी बांध दी है। जिससे कोई पास नहीं आ सके। कांच में हाथ डालने भर की जगह बनाई है। जहां से दवा देने और पैसे लेने का सिस्टम बना हुआ है। शहर के आल्हा चौक, ऊदल चौक, हवेेेेली दरवाजा, मदीना मस्जिद चौराहा, सुभाष चौक, बजरंग चौक सहित विभिन्न चौराहों में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। जो दिन रात सड़कों पर निकलने वालों को लौटा रहे हैं। बिना काम के घूमने वाले लोगों को खदेड़ा जा रहा हैं। डीएम और एसपी ने समूचे जिले में घूमकर जायजा लिया। रेलवे स्टेशन महोबा पर पहली दफा ऐसा सन्नाटा देखने को मिल रहा है।
महंगी सामग्री बेचने पर दी कार्रवाई की चेतावनी
कुलपहाड़। राशन और सब्जी की दुकानों पर बड़ी कीमत पर सामान बेचने की शिकायत मिलने पर एसडीएम कुलपहाड़ मोहम्मद उवैस ने मॉनीटरिंग करते हुए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। साथ ही टीम बनाकर कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सब्जी और किनारा का सामान दोगुनी कीमत पर बेचे पर एसडीएम को मिली शिकायतों पर 12 से दो बजे तक दुकानें खुलवाई और निर्धारित मूल्य पर सामान बेचने के निर्देश दिए।
जुमे की नमाज घरों में करें अदा
चरखारी। कोरोना वायरस से लोगों को निजात दिलाने के लिए काजी-ए-शहर मौलाना शकील अहमद रिजवी ने लोगों को पैगाम देते हुए जामा मस्जिद से एनाउंस किया कि इस बीमारी से बचाव के लिए मस्जिदों में भीड़-भाड़ न बढ़ाकर घर में ही पांच वक्त की नमाज पढ़े। उन्होंने बताया कि हजरत मोहम्मद साहब ने फरमाया था कि अगर आपकी जानको खतरा है या जोरदार बारिश हो रही है तो आप घर पर नमाज अदा करें। उन्होंने कहा कि मस्जिदों में केवल पांच लोग की नमाज पढ़े। जुमे की नमाज भी घरों में अदा करें। जिससे इस महामारी से सबको को बचाया जा सके।
... और पढ़ें

निर्धनों की मदद को बढ़े हाथ, बांटे लंच पैकेट

कबरई (महोबा)। लॉकडाउन के दौरान श्रमिकों की भूख मिटाने के लिए अब समाजसेवी आगे आ रहे हैं। शनिवार को समाजसेवियों ने श्रमिकों में खाद्यान्न व लंच पैकेट वितरित किए।
पत्थर व्यवसायी राजेंद्र पालीवाल, अविनाश पालीवाल, रजनी, चंद्रशेखर नामदेव आदि ने विवेक नगर स्थित अपने कार्यालय से मंडी में भुखमरी झेल रहे श्रमिकों को राहत सामग्री पहुंचाई। कल्ली देवी, रामबाई, रजिया, कौशल्या कुशवाहा, प्रेमवती, लल्लू समेत दर्जनों को सामाजिक दूरी का पालन कराते हुए खाद्यान्न के पैकेट दिए गए। प्रत्येक पैकेट में आटा, चावल, दाल, मसाले, चीनी आदि सामग्री थी।
समाजसेवी राजेंद्र पालीवाल ने बताया कि लॉकडाउन के चलते 20 अप्रैल तक यह व्यवस्था चलती रहेगी। जरूरतमंद का फोन आने पर राशन व अन्य सामान उसके बताए पते पर पहुंचा दिया जाएगा। उन्होंने अपने फोन नंबर भी लोगों को दिए। ताकि जरूरतमंद कॉल करके आवश्यकता बता सकें। शहर में भी तमाम समाजसेवियों ने गरीबों व असहायों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है।
... और पढ़ें

बाहर से आए लोगों के घरों में लगाए जा रहे पंपलेट

महोबा। कोरोना से बचाव के लिए जिले में बाहर से आने वालों की स्क्रीनिंग कराई जा रही है। उन्हें होम क्वारंटीन किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग ऐसे लोगों के घरों के बाहर पंफ्लेट चस्पा किया जा रहा है। पंफ्लेट में संबंधित व्यक्ति का नाम और घर में रहने की तारीख के साथ लोगों को इनके घर न जाने की अपील की जा रही है। सीएमओ डॉ. सुमन ने चिकित्सा अधीक्षकों को दो दिनों में काम पूरा करने के निर्देश दिए हैं।
सीएमओ ने बताया कि जिले में अन्य राज्यों या देशों से आए लोगों के घर के बाहर पंफ्लेट होम क्वारंटीन लिखकर चस्पा किया जा रहा है। इसमें बाहर से आए व्यक्ति का नाम, पता, व्यक्तियों की संख्या और क्वारंटीन की तिथि दर्ज की जा रही है। बाहर से आए व्यक्ति को घर पर भी परिवार से दूर रहने की सलाह दी जा रही है।
अगर परिवार में एक भी कोरोना संक्रमित है तो उस घर के सभी लोगों को यह बीमारी हो सकती है। ऐसे में इस बीमारी से परिवार को बचाने के लिए कम से कम 14 दिन अलग रहें। सीएमओ ने कहा कि सभी चिकित्सा अधीक्षक, चिकित्सा अधिकारियों व प्रभारियों को बाहर से आए लोगों के घरों के दरवाजे पर पंफ्लेट लगाने के लिए दो दिन का समय दिया गया है। रोजाना कोरोना के मरीजों में इजाफा हो रहा है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के चलते चौथे दिन पुलिस की सख्ती बढ़ने से पसरा सन्नाटा

महोबा। कोरोना के डर से लोग सहमे हैं। लॉकडाउन के बाद पुलिस ने शनिवार को सख्ती दिखाई तो सड़कें और गलियां सुनसान हो गईं। सुबह से ही पुलिस के तेवर सख्त रहे। लोगों को खदेड़कर पुलिस ने घर भेजा। उधर पालिका ने सड़कों पर दरवाजों पर एंटी लार्वा का छिड़काव कराया।
लॉकडाउन के चलते आवश्यक सामग्री की दुकानें बंद हैं। बाजार में सन्नाटा है। चौराहों पर तैनात पुलिस आने-जाने वालों को लौटाती रही। पुलिस की सख्ती से सड़कों पर सन्नाटा पसरा दिखा। कुछ स्थानों पर पुलिस की छूट से लोग सड़क पर दिखे। मेडिकल स्टोरों पर ग्राहकों को एक-एक मीटर दूर गोले में खड़ाकर हाथ सैनिटाइज कराए गए। इसके बाद दवा दी गई। किराना दुकानों में माल कम होने पर लोगों को दो घंटे की छूट के दौरान अधूरा सामान ही मिल सका।
स्वच्छ भारत मिशन की जिला कार्यक्रम प्रबधंक रूबी बानो और ईओ लालचंद सरोज के निर्देश पर शहर की गलियों में एंटी लार्वा दवा का छिड़काव हुआ। जिलाधिकारी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चरखारी का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। वार्डों में सफाई के निर्देश दिए। एसडीएम चरखारी राजेश यादव, सीएमओ डॉ. सुमन मौजूद रहीं।
पनवाड़ी प्रतिनिधि के अनुसार जिलाधिकारी अवधेश तिवारी और पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार ने पंचायत भवन पनवाड़ी में बनाए जा रहे लंच पैकेटों का जायजा लिया। जरूरतमंदों को लंच पैकेट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इस दौरान एसडीएम कुलपहाड़ मोहम्मद उवैस, खंड विकास अधिकारी भी मौजूद रहे। इसके बाद अफसरों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पनवाड़ी का निरीक्षण किया।
दिल्ली से आया श्रमिक अस्वस्थ, हड़कंप : चरखारी। जरौली निवासी रविकरन (40) लॉकडाउन होने के बाद मालगाड़ी में बैठकर महोबा पहुंच गए। पैदल अपने गांव जरौली पहुंच गए। बुखार, सिरदर्द और जुकाम की शिकायत पर उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चरखारी ले जाया गया। डॉक्टरों ने 108 एंबुलेंस से जिला अस्पताल पहुंचा दिया। श्रमिक के अस्वस्थ होने की सूचना से हड़कंप मच गया। लोग दहशत में आ गए। मौके पर पहुंचे डीएम-एसपी ने उसे महोबा भेजकर जांच कराई, लेकिन उसमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले।
कानपुर बस जाने की खबर से रोडवेज में जुटी भीड़ : महोबा। कानपुर में फंसे श्रमिकों को महोबा लाने के लिए शनिवार को रोडवेज की बसें भेजने की खबर से रोडवेज परिसर में भारी भीड़ जमा हो गई। लोग कानपुर जाने वाली दो बसों में बैठ गए। डीएम की अनुमति न मिलने पर बसों को रोक दिया गया। इससे बच्चों को लेने जाने वाले मायूस होकर लौट गए। एआरएम महोबा एके जैन ने बताया उच्चाधिकारियों ने बस न भेजने का आदेश दिया था। इसी वजह से बस नहीं भेजी गई।
... और पढ़ें

फरीदाबाद से ट्रैक्टर से आए 25 मजदूरों को गांव में नहीं घुसने दिया

महोबा। फरीदाबाद से ट्रैक्टर से रात में घर लौटे 25 मजदूरों को ग्रामीणों ने गांव में नहीं घुसने दिया। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। आनन-फानन में रात में ही मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम से सभी की जांच कराई। इसके बाद मजदूरों को गांव में प्रवेश करने दिया।
बुुंदेलखंड में पिछले साल सूखा पड़ने से फसल की पैदावार नहीं हुई थी। इससे जिले के तमाम ग्रामीण महानगरों में मजदूरी करने चले गए। अचानक लॉकडाउन हो जाने से मजदूर फंस गए। लॉकडाउन के चलते वाहनों को आवागमन ठप हो गया। गाजियाबाद में फंसे 25 मजदूर भाड़े पर ट्रैक्टर लेकर महोबा के लिए चल दिए। तीन दिन बाद शुक्रवार की रात कच्चे रास्तों से होते हुए मजदूर पचारा गांव पहुंचे।
पचारा में ग्रामीणों का ट्रैक्टर आते ही गांव वाले निकल पड़े और मजदूरों को गांव में नहीं घुसने दिया। फोन करके अधिकारियों को सूचना दी। अधिकारियों मजदूरों की जांच कराई। स्वास्थ्य विभाग की टीम चार घंटे तक मशक्कत करती रही। घर पहुंचे बच्चों को देख माता-पिता खुश हो गए। पचारा, मुढ़ारी, अकोनी व खैरारी पहुंचने वालों में संतोष, हरिदास, मन्नू, रामप्यारी, लल्लू साहू, नीरज, भुवानीदीन, भज्जू, रामकुमार, हर नारायण सहित अन्य शामिल हैं।
लॉकडाउन के उल्लंघन पर 57 वाहनों के चालान कटा : महोबा। कोरोना को लेकर जिले में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराया जा रहा है। शनिवार को पुलिस ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले 57 वाहनों के चालान कर शमन शुल्क वसूला।
पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार के निर्देश पर पुलिस सड़क से गुजरने वालों को घर में ही रहने की हिदायत दे रही है। लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर एक वाहन को सीज और 57 वाहनों का चालान कर 1,800 रुपये शमन शुल्क वसूला गया। तीन वाहनों का न्यायालय चालान किया गया। लोगों से दोबारा ऐसा न करने की चेतावनी दी गई। जरूरी काम से निकलने वालों को आपस में दूरी बनाए रखने की अपील की गई।
... और पढ़ें

टिक-टॉक वीडियो बनाते समय फांसी के फंदे पर झूला मासूम

महोबा। बच्चों और युवाओं में टिक-टॉक का खुमार सिर चढ़कर बोल रहा है। इस शौक में लोग अपनी जिंदगी दांव पर लगा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला बिच्छू पहाड़िया स्थित कांशीराम कॉलोनी में सामने आया है। टिक-टॉक पर वीडियो बना रहा एक मासूम एक्शन करते समय दुपट्टे से फांसी के फंदे पर झूल गया। अचानक पहुंचे परिजन उसे फंदे से उतारकर जिला अस्पताल लाए। जहां उसकी हालत में सुधार है।
कांशीराम कॉलोनी निवासी महफूज (08) पुत्र मकबूल घर पर मोबाइल फोन से टिक-टॉक पर वीडियो बना रहा था। कमरे में पहुंचे पिता ने उसे डांट दिया और दोबारा वीडियो न बनाने की हिदायत दी। कुछ देर बाद मां मुबीना पड़ोस में चली गई। पिता घर से बाहर निकल गए।
मासूम घर पर दोबारा वीडियो बनाने लगा। फंदे में लटकने का वीडियो बनाते समय वह फंदे में झूल गया। दुपट्टे का फंदा गले में कस गया। अचानक घर पहुंचे परिजनों ने जब मासूूम के गले में फंदा कसा देखा तो उनके होश उड़ गए। उसे फंदे से उतारकर जिला अस्पताल ले गए।
... और पढ़ें

भूखे-प्यासे बंजारों को प्रशासन ने कराई खान-पान की व्यवस्था

महोबा। श्रीनगर-बेेलाताल मार्ग में एक माह से डेरा जमाए बंजारों का परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है। इसकी खबर लगते ही पुलिस प्रशासन ने प्रधान बेलाताल के सहयोग से बंजारों को खाद्यान्न की व्यवस्था कर भोजन कराया। एसडीएम कुलपहाड़ ने कोटेदार व ग्राम प्रधान को राशन का इंतजाम करने के निर्देश दिए।
लखनऊ से 20 किमी दूर रहने वाले डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोगों ने एक माह पहले बेलाताल में डेरा जमा लिया था। लखनऊ के पास से आए चार परिवार यहां शादी, विवाह में पत्तल उठाने का काम करते हैं। अचानक कोरोना के चलते शादियों पर रोक लग गई और जिला लॉकडाउन कर दिया गया। इससे इन बंजारों का रोजगार छिन गया। पैसा भी खत्म हो गया है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के उल्लंघन में 18 वाहन सीज, 30 चालान

महोबा। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर पूरे देश को लॉकडाउन किए जाने के बाद पुलिस प्रशासन इसका कड़ाई से पालन करा रहा है। प्रत्येक चौराहे में पुलिस तैनात है। सड़क से गुजरने वाले लोगों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 18 वाहनों को सीज किया है जबकि 30 वाहनों के चालान किए गए। कुछ लोगों को पुलिस ने दोबारा घर से न निकलने की हिदायत देकर छोड़ दिया।
पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार के निर्देशन में शहर कोतवाली समेत सभी थानों में कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए लॉकडाउन का शत-प्रतिशत पालन कराया जा रहा है। वावजूद इसके कुछ लोग बिना काम के ही बेवजह सड़कों पर घूमते नजर आ रहे हैं। ऐसे लोगों पर पुलिस सख्ती बरत रही है। जिले की पुलिस ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 18 वाहनों को सीज कर दिया जबकि 30 वाहनों से 8,800 रुपये शमन शुल्क वसूला गया। साथ ही तीन वाहनों ने न्यायालय चालान भी किए गए।
चौराहों पर तैनात पुलिस सड़कों पर इक्का-दुक्का निकलने वाले लोगों से कड़ाई से पूछताछ कर रही है। कुछ लोगों को हिदायत देकर छोड़ा जा रहा है। पुलिस अधीक्षक समेत सभी प्रशासनिक अधिकारी जिले का भ्रमण कर लोगों से घरों में ही रहने की अपील कर रहे हैं। साथ ही लोगों से आपस में सामाजिक दूरी बनाए रखने व साफ सफाई की सलाह दी गई, जिससे वायरस संक्रमण से बचाव किया जा सके।
... और पढ़ें

आग लगने से मटर की फसल जली

खन्ना (महोबा)। थाना खन्ना क्षेत्र के ग्राम ग्योढ़ी में खेत में रखी मटर की फसल में अचानक एचटी लाइन से निकली चिंगारी से आग लग गई। जिससे करीब 80 हजार रुपये की मटर की फसल जलकर राख हो गई।
ग्राम ग्योढ़ी निवासी जगन्नाथ ने करीब चार बीघा में मटर की फसल बोई थी। मटर पककर तैयार होने के बाद किसान ने कटाई कराकर खेत में रख दी थी। दो दिन से खेतों में रखी मटर की फसल की थ्रेसिंग कराने के लिए किसान थ्रेसर मशीन की तलाश कर रहा था। 28 मार्च को थ्रेसर मशीन आना थी लेकिन शुक्रवार को ही अचानक एचटी लाइन से निकली आग की चिंगारी फसल में गिर गई। जिससे मटर की फसल धूं-धूंकर जलने लगी। फसल में आग लगते ही किसान दौड़ पड़ेे और ट्यूबवेल चलाकर आग बुझाने में जुट गए लेकिन आग पर काबू नहीं हो सका। किसानों ने दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया, जिससे आसपास खेतों में खड़ी सूखी फसल बच गई। सूचना देने के बाद भी दमकल गाड़ी के मौके पर न पहुंचने से किसानों में आक्रोश व्याप्त है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us