विज्ञापन
विज्ञापन
क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से
astrology

क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन कराने को मंदिर प्रबंधन नहीं है तैयार

वृंदावन के ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद दर्शन कराने की व्यवस्था से मंदिर प्रबंधन ने हाथ खड़े कर दिया है। प्रबंधन का कहना है कि यह संभव नहीं है। मंदिर प्रबंधन ने सिविल जज जूनियर डिवीजन को पत्र देकर अपना पक्ष रखा है। 

प्रशासन और पुलिस अधिकारी मंदिर प्रबंधन के साथ बैठक कर शीघ्र मंदिर खोलने की व्यवस्था पर मंथन कर रहे हैं, लेकिन मंदिर प्रबंधक का कहना है कि पहले के आयोजनों की तरह कोर्ट, प्रशासन और पुलिस दर्शन की व्यवस्था बनाए। 


17 अक्तूबर से भक्तों के लिए मंदिर के पट खुलने की जानकारी पाकर करीब 20 हजार भक्त आराध्य के दर्शन करने पहुंचे थे। व्यवस्था की गई थी कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद ही एक दिन में 400 लोग दर्शन करेंगे। 
... और पढ़ें

शरद पूर्णिमा तक बांकेबिहारी मंदिर के पट नहीं खुले तो जबरन करेंगे प्रवेश, धर्म रक्षा संघ का एलान

हिंसा की साजिश का मामला: पीएफआई सदस्य आलम की हुई पेशी, जमानत पर सुनवाई 29 अक्तूबर को

मथुरा की अस्थायी जेल में बंद पीएफआई (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) और सीएफआई (कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया) के सदस्य रामपुर निवासी आलम की जमानत पर सुनवाई के लिए एडीजे दशम के न्यायालय में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी हुई। न्यायालय ने सुनवाई की अगली तिथि 29 अक्तूबर तय की है। उधर, जिला जज की अदालत ने बहराइच निवासी मसूद की जमानत पर सुनवाई की अगली तिथि 28 अक्तूबर निर्धारित की है। 

विदेशी फंडिंग से हिंसा फैलाने की साजिश के आरोप में अस्थायी जेल में बंद पीएफआई/सीएफआई के चार सदस्यों में शामिल रामपुर निवासी आलम की जमानत अर्जी पर सुनवाई गुरुवार को जिला जज की अदालत में होनी थी, लेकिन यह सुनवाई जिला जज ने एडीजे दशम अमर सिंह के न्यायालय में स्थानांतरित कर दी। एडीजे दशम न्यायालय में आलम की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी हुई। 


संबंधित खबर- 
मथुरा: दंगा भड़काने की साजिश में पकड़े गए आरोपियों की 14 दिन और न्यायिक हिरासत बढ़ी

सुनवाई के दौरान अभी तक इस मामले की जांच कर रहे सीओ क्राइम ब्रांच डीएस चौहान ने न्यायालय से समय मांगा। उनका कहना था कि अब यह जांच एसटीएफ को स्थानांतरित हो गई है, इसलिए जांचकर्ता को सात दिन का समय चाहिए। आलम के अधिवक्ता मधुवन दत्त चतुर्वेदी ने बताया कि न्यायालय ने जमानत अर्जी पर सुनवाई के लिए 29 अक्तूबर की तारीख तय कर दी है। 

उधर, बहराइच निवासी मसूद की जमानत अर्जी पर जिला जज की अदालत ने सुनवाई हुई। मसूद के अधिवक्ता मधुवन दत्त चतुर्वेदी ने बताया कि जिला जज ने जमानत अर्जी पर सुनवाई की अगली तिथि 28 अक्तूबर तय की है। डीजीसी क्रिमिनल शिवराम सिंह ने बताया कि जिला जज की अदालत में 28 अक्तूबर को मसूद की जमानत अर्जी पर सुनवाई होगी और एडीजे दशम की कोर्ट में 29 अक्तूबर को आलम की जमानत अर्जी पर सुनवाई होगी।
... और पढ़ें

यमुना एक्सप्रेसवे: छह साल में 746 की गई जान, फिर भी लागू नहीं हुए आईआईटी के सुझाव

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के ऑडिट का हवाला देते हुए आगरा डेवलपमेंट फाउंडेशन (एडीएफ) ने मुख्यमंत्री से यमुना एक्सप्रेसवे की सड़क सुरक्षा का मुद्दा उठाते हुए पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई है।

इस पर कहा है कि 2012 से लेकर जून 2018 तक 5189 सड़क हादसों में 746 लोगों की जान जा चुकी है और 8145 घायल हुए हैं। इसके बाद भी आईआईटी के सुझावों को अमल में नहीं लाया जा सका। 

एडीएफ के सचिव व वरिष्ठ अधिवक्ता केसी जैन ने बताया कि प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (आईआईटी) ने यमुना एक्सप्रेसवे की सड़क सुरक्षा ऑडिट रिपोर्ट 29 अप्रैल 2019 को एक्सप्रेसवे के निर्माणकर्ता जेपी इन्फ्राटेक को दी थी और ये यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (येडा) तक पहुंच चुकी है। सड़क हादसे कम हो इसे लेकर जो प्रवर्तन के लिए पहल की जानी है जिसकी सिफारिशें आईआईटी दिल्ली ने की हैं। 
... और पढ़ें
यमुना एक्सप्रेसवे यमुना एक्सप्रेसवे

यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसाः सड़क किनारे खड़ी कार में पीछे से मारी टक्कर, पति-पत्नी और बेटे की मौत

यमुना एक्सप्रेस वे पर थाना महावन क्षेत्र में माइल स्टोन 114 पर बुधवार सुबह दर्दनाक हादसा घटित हो गया। सड़क किनारे खड़ी ऑल्टो कार में पीछे से एक अन्य कार ने टक्कर मार दी। इस हादसे में तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। टियागो सवार दो लोग घायल हो गए। जिन्हेें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


गुड़गांव के राजीव नगर गली नंबर चार और मकान नंबर 12 निवासी धर्मवीर सिंह राणा (55) पुत्र दौजीराम अपनी पत्नी ऊषा राणा और बेटा अविनाश राणा के साथ बुधवार की सुबह ऑल्टो कार से नोएडा से आगरा जा रहे थे। महावन क्षेत्र में माइल स्टोन 114 के निकट सुबह करीब नौ बजे कार रोककर सड़क किनारे खड़े थे। इसी दौरान आगरा जा रही टियागो कार ने पीछे से उनकी कार में टक्कर मार दी।


हादसे में ऑल्टो कार सवार दंपती और बेटे की मौत हो गई। टियागो सवार कुलदीप उर्फ लक्की व प्रवीण कुमार निवासी गुरनाम नगर थाना वीड विजन अमृतसर पंजाब घायल हो गए। थाना महावन प्रभारी जसवीर ने बताया कि हादसे में ऑल्टो सवार दंपती और उनके बेटे की मौत हुई है तथा टियागो सवार दो लोग घायल हैं। घायलों को जिला अस्पताल में उपचार के लिए भेजा है।
 
... और पढ़ें

फावड़ा से पत्नी को काट डाला, बेटी ने खोला हत्या का खौफनाक राज

बांकेबिहारी मंदिर में दर्शनार्थियों की संख्या में इजाफा, अब ढाई हजार भक्त कर सकेंगे दर्शन

घटनास्थल पर पहुंचे एसपी सिटी

मथुरा में मुठभेड़: कुख्यात अनिल बावरिया को मार गिराने के बाद पुलिस को तीन बदमाशों की तलाश

वृंदावनः अब दो हजार भक्त कर सकेंगे बांकेबिहारी मंदिर में दर्शन, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में बढ़ाई संख्या

मथुराः एक्सल गैंग के साथ पुलिस की मुठभेड़, दो लाख का इनामी बदमाश अमित बावरिया ढेर

मथुरा जनपद के नौहझील थाना क्षेत्र में एक्सप्रेस-वे के बाजना कट के निकट एसटीएफ और पुलिस ने मुठभेड़ में दो लाख के इनामी बदमाश अमित बावरिया को ढेर कर दिया। मुठभेड़ सोमवार की देर शाम उस समय हुई जब चार बदमाश अर्टिगा कार के साथ सर्विस रोड पर थे।


सूचना पर एसटीएफ नोएडा और थाना नौहझील पुलिस पहुंची तो बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। पुलिस ने जवाबी फायरिंग कर बदमाश अमित को ढेर कर दिया, उसके तीन साथी भाग निकले। खबर लिखे जाने तक पुलिस की टीम बदमाशों को तलाशने में जुटी थीं।  

क्षेत्राधिकारी मांट धर्मेंद्र चौहान ने बताया कि बाबरिया और एक्सल गिरोह के सदस्य और दो लाख के इनामी बदमाश अमित बावरिया से सोमवार की शाम करीब साढ़े सात बजे यमुना एक्सप्रेस-वे के बाजना कट से दो सौ मीटर दूर नौहझील-पारसौली सर्विस रोड पर एसटीएफ और पुलिस से मुठभेड़ हुई है, जिसमें पुलिस की गोली लगने से बदमाश ढेर हो गया है। 
... और पढ़ें

मथुराः नवजात बच्ची को अस्पताल में छोड़कर चली गई मां, स्टाफ नर्स कर रहीं देखभाल

मथुरा के धौली प्याऊ क्षेत्र की युवती प्रसव पीड़ा के बाद गुरुवार देर शाम एक व्यक्ति के साथ जिला अस्पताल पहुंची थी। महिला का प्रसव देर रात को हुआ। बच्ची को जन्म देने के बाद युवती अस्पताल से कहीं चली गई। ड्यूटी पर तैनात स्टाफ नर्स ने जब नवजात के रोने की आवाज सुनी और वह वार्ड में पहुंची तो वहां युवती नहीं थी, बच्ची रो रही थी। काफी खोजबीन के बाद भी युवती का कही पता नहीं चल सका। 

इसके बाद स्टाफ ने एसएनसीयू के नोडल डॉक्टर केके माथुर को घटना के बारे में जानकारी दी। नोडल अधिकारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने बच्ची को एसएनसीयू में भर्ती कराया।


तत्काल पुलिस को जानकारी दी। साथ ही चाइल्ड वेलफेयर कमेटी की अध्यक्ष को भी मामले के बारे में बताया। चिकित्सक डॉ केके माथुर का कहना है कि बच्ची पूरी तरह स्वस्थ है। बच्ची की देखभाल अस्पताल में स्टाफ नर्सों द्वारा की जा रही है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X