बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन,  दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें
Myjyotish

इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन, दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

सावधान: कोरोना की रफ्तार धीमी, अन्य बीमारियों से लड़ने के लिए हो जाएं तैयार, बरतें ये सावधानी

कोरोना की रफ्तार धीमी हो गई है, लेकिन अगर लापरवाही बरती तो दूसरी बीमारियां चपेट में ले सकती हैं। अब बरसात शुरू हो गई है। ऐसे में कोरोना के खिलाफ लड़ाई के साथ-साथ दूसरे संक्रामक रोगों से भी सतर्क रहना होगा। इस मौसम में कालरा, पेचिस, फूड प्वॉयजनिंग, बदहजमी, मलेरिया, वायरल फीवर, डेंगू, चिकनगुनिया, पीलिया, टाइफाइड, फोड़े-फुंसी का खतरा अधिक रहता है।

बारिश की फुहारों से गर्मी से तो कुछ राहत मिली है, लेकिन बरसात का सुहाना मौसम अपने साथ अनेक बीमारियां भी लाता है। फिजिशियन डॉ. वीके बिंद्रा ने बताया कि बरसात के मौसम में कुछ सावधानियां अपनाकर बीमारियों से बचा जा सकता है। इस मौसम में पानी के प्रदूषित होने की आशंका ज्यादा होती है। बैक्टीरिया और वायरस भी तेजी के साथ पनपते हैं। भोजन बहुत जल्दी प्रदूषित हो जाता है।

फिजिशियन डॉ. तनुराज सिरोही ने बताया कि गंदगी और जलभराव के कारण मच्छर तेजी के साथ पनपते हैं, जिससे मलेरिया, डेंगू का खतरा बढ़ जाता है। डेंगू मादा एडिज इजिप्टी नामक मच्छर से फैलता है। इसमें तेज बुखार, सिर दर्द, आंखों के पिछले हिस्से में दर्द, जी मिचलाना और उल्टी आना, जोड़ों और मांसपेसियों में ऐंठन और अकड़न, त्वचा पर चक्कते उभरना, शारीरिक कमजोरी एवं थकान आदि के लक्षण होते हैं। यह लक्षण पाए जाने पर तत्काल चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

सीएमओ डॉ. अखिलेश मोहन ने बताया कि मलेरिया विभाग मच्छरों की रोकथाम के लिए फॉगिंग और एंटी लार्वा स्प्रे करेगा। उन्होंने कहा कि बरसात के मौसम में सुपाच्य खाना खाएं और कुछ अन्य सावधानियां अपना लें तो बीमारियों से बचा जा सकता है।

ये बरतें सावधानी
घर के गमलों को अच्छी तरह से साफ करें
घर में पानी न इकट्ठा होने दें, जिससे मच्छर न पनप सकें
शरीर पर पूरे कपड़े पहनें
आसपास की साफ-सफाई पर ध्यान दें
मच्छरदानी लगाकर सोना चाहिए
साफ पानी पीएं
बासी भोजन, खुले एवं कटे फल, खुली चाट-पकौड़ी एवं भोजन का इस्तेमाल न करें
बाजार के पैक्ड खाने-पीने वाली वस्तुओं से बचें
दस्त आदि होने पर तत्काल ओआरएस का घोल लेना शुरू कर दें
... और पढ़ें

यूपी : सीबीएसई के फार्मूले से खुश नहीं शिक्षक और छात्र, बोले- सभी के पेपर दिलाने में क्या समस्या

सीबीएससी 12वीं का रिजल्ट जारी करने के लिए जो फॉर्मूला बताया जा रहा है, उससे शिक्षक खुश नहीं है। शिक्षकों का कहना है कि जरूरी नहीं अगर किसी विद्यार्थी के दसवीं में कम अंक आए हैं तो उसके 12वीं में भी कम अंक आएंगे। इसके साथ ही मेडिकल वाले विद्यार्थी को दसवीं में जो अंक मिलेंगे उसके फार्मूले को 12वीं में इंजीनियरिंग लेने वाले पर कैसे लागू किया जा सकता है।

यही कॉमर्स विषय में भी होगा। स्कूलों के प्रधानाचार्य व शिक्षक इस फार्मूले से बिल्कुल खुश नहीं है। उनका कहना है कि यह भी बताया जा रहा है कि अगर कोई विद्यार्थी इस फार्मूले से संतुष्ट नहीं होता है तो वह पेपर दे सकता है।

शिक्षकों का कहना है कि अगर पेपर देना ही है तो फिर सभी का दिला दीजिए। कोर्ट को दिए गए इस फार्मूले के बारे में अधिकतर स्कूलों के प्रधानाचार्य नाखुश हैं। उनका कहना है कि इससे होनहार विद्यार्थियों पर फर्क पड़ेगा। हालांकि आधिकारिक तौर पर कोई भी प्रधानाचार्य इस फार्मूले को लेकर अभी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। 

उनका कहना है कि अभी इस बारे में वह आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कह सकते हैं। जब तक सीबीएसई की गाइडलाइन उनको नहीं मिल जाती है तब तक वह फार्मूले के बारे में स्पष्ट नहीं बता पाएंगे। 

10वीं के रिजल्ट का 30 फीसदी, 11वीं के रिजल्ट का 30 फीसदी और 12वी के प्री बोर्ड के 40 फीसदी अंको से रिजल्ट बनेगा, ऐसी कोई गाइड लाइन हमें नही मिली ही। जब तक सीबीएसई से गाइड लाइन नही आ जाती हैं, तब तक हम कुछ नहीं कह सकते हैं। स्पष्ट गाइडलाइन नहीं आने तक कुछ नहीं बताया जा सकता। - राहुल केसरवानी, सचिव सहोदय

ये तो गलत है 
12वीं के छात्र दक्ष का कहना है कि ग्यारहवीं के अंको को रिजल्ट में जोड़ना बहुत गलत है। 11वीं में विद्यार्थी इतना नहीं पढ़ते हैं जितना 12वीं में मेहनत करते हैं। ऐसे में इस फार्मूले से रिजल्ट बनाया गया तो यह तो ठीक नहीं होगा।
... और पढ़ें

आत्महत्या : एक दूसरे का हाथ पकड़कर दुपट्टे से बांधा और नहर में लगा दी छलांग, तीन दिन बाद मिले शव

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में शेरकोट क्षेत्र के गांव से तीन दिन पूर्व लापता हुए प्रेमी युगल ने नूरपुर-स्योहारा मार्ग पर गांव सरकड़ी के पास नहर में कूदकर आत्महत्या कर ली। दोनों के शव नहर में मिले हैं। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। युवती की शादी तय हो गई थी। शुक्रवार को उसका लग्न जाना था।

शेरकोट थाना क्षेत्र के गांव महमदाबाद निवासी नरेश चौहान के 19 साल के बेटे दीक्षित और राजू वाल्मीकि की 18 साल की बेटी शालू 14 जून की शाम करीब सात बजे गांव से लापता हो गए थे। दोनों के परिजनों ने उनकी तलाश की, लेकिन दोनों का कुछ पता नहीं चला। थाने में उनकी गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी।

दोनों के परिजन थाने में भी साथ-साथ आते जाते रहे। उधर, युवक-युवती ने नूरपुर-स्योहारा मार्ग पर गांव सरकड़ी के पास छोटी नहर में कूदकर खुदकुशी कर ली। दोनों के शव गुरुवार को नहर में उतराते मिले।
... और पढ़ें

भाजपा सांसद के बोल वायरल: कहा- सोशल मीडिया पर चव्वनी छाप लोग, कुछ भी लिखते हैं

उत्तर प्रदेश के बागपत से सांसद डॉ. सत्यपाल सिंह का एक विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि आजकल सोशल मीडिया पर चव्वनी छाप लोग कुछ भी लिखते हैं। जो झूठ बोलता है, वो अगले जन्म में इंसान नहीं बनेंगे। ऐसे लोगों की अगले जन्म में जीभ कट जाएगी। फिर वह कुछ बोल नहीं पाएंगे। 

दरअसल, सत्यपाल सिंह का ये विवादित बयान इसीलिए सामने आया है क्योंकि यूपी और हरियाणा को जोड़ने वाले यमुना पुल के निर्माण को लेकर विपक्ष के लोगों की ओर से लगातार पोस्ट की जा रही थी। सांसद ने कहा कि वे लोग कह रहे हैं कि हमने पुल बनवा दिया, पुल बनवा रहे हैं। आप सबको मालूम है कि पुल किसने बनवाया। दुनिया को मालूम है, भगवान भी देखता है। छपरौली में शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने ये टिप्पणी की।
... और पढ़ें
भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह। भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह।

सहारनपुर: नशे का अवैध व्यापार और तस्करी करने वालों पर हो गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई, एडीजी ने किया निरीक्षण

एडीजी मेरठ जोन राजीव सबरवाल ने सहारनपुर में पुलिस अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। वार्षिक निरीक्षण कर अपराध पर नियंत्रण और अपराधियों पर कार्रवाई का निर्देश दिया।

शुक्रवार रात एडीजी सहारनपुर में पुलिस लाइन पहुंचे। इस दौरान उन्होंने डीआईजी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहारनपुर, अपर पुलिस अधीक्षक नगर/ग्रामीण एवं क्षेत्राधिकारी सदर एवं क्षेत्राधिकारी नगर प्रथम के साथ समीक्षा बैठक की।  

नगर क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी एवं रेंज स्तरीय साइबर सेल एवं जनपद स्तरीय साइबर सेल प्रभारी के कार्यों की समीक्षा कर विशेष जांच प्रकोष्ठ एवं बाल सुरक्षा कल्याण प्रकोष्ठ शाखाओं का वार्षिक निरीक्षण किया। नशा मुक्ति ऑपरेशन को और प्रभावी तरीके से चलाने का भी निर्देश दिया।

उन्होंने नशे का अवैध व्यापार एवं तस्करी करनेवालों पर गुंडा एक्ट तथा गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया।
... और पढ़ें

यूपी: राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने सर्किट हाउस में सुनीं समस्याएं, मीना कुमारी के बयान को बताया गलत

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए संकल्पबद्ध है। पीड़िताओं को न्याय दिलाने के लिए प्रदेश के अधिक से अधिक जिलों में आयोग की सक्रियता बढ़ी है। इससे महिलाओं को न्याय मिलने की उम्मीद बढ़ गई है। 

यह बात आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम ने यहां सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्होंने बताया कि लगातार प्रयास किए जा रहे कि महिलाओं को उनके अधिकारों के साथ ही सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जाए। विमला बाथम ने कहा कि वह यहां के जिला महिला अस्पताल, सीएचसी और पीएचसी की व्यवस्थाओं को परखने आई थीं। यहां काफी कुछ संतोषजनक मिला। टीकाकरण को लेकर भी उन्होंने महिलाओं से बात की और उन्हें जागरूक किया। उन्होंने जिला महिला अस्पताल में पिंक बूथ न मिलने पर नाराजगी व्यक्त की है। इस बारे में शासन को अवगत कराया जाएगा।

पुलिस की कार्यप्रणाली पर उन्होंने कहा कि पुलिस पीड़ित को न्याय दिलाने का आधार है। अगर वह खुद न्यायिक अफसर की भूमिका में आती है तो यह गलत है। आयोग की सदस्य मीना कुमारी के उस बयान को भी उन्होंने गलत बताया, जिसमें महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध के लिए मोबाइल को जिम्मेदार ठहराया गया। विमला बाथम ने कहा कि इस युग में बच्चे मोबाइल पर ऑनलाइन क्लास कर रहे हैं। इससे पूर्व उन्होंने पीड़ित महिलाओं की शिकायत भी सुनीं। प्रेसवार्ता में आयोग की सदस्य राखी त्यागी भी मौजूद रहीं।
... और पढ़ें

सहारनपुर: लाखों की जाली करेंसी के साथ दबोचे गए चार शातिर आरोपी, किया बड़ा खुलासा

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर शहर में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। मंडी कोतवाली पुलिस ने जाली करेंसी के साथ चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

एसएसपी डॉक्टर एस चन्नपा ने बताया कि इनामुर्रहमान पुत्र हफीजुर्रहमान निवासी सराय मर्दान अली, नौशाद पुत्र आकिल निवासी खुर्शीदनगर खाताखेड़ी कोतवाली मंडी, वाजिद पुत्र मौउनुद्दीन निवासी काजी का मौहल्ला थाना कुतुबशेर और अब्दुल्ला पुत्र अब्दुल मलिक निवासी खटीको को कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से 3,86,000 रुपये की जाली करेंसी बरामद की गई है। 

वहीं पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उस्मान निवासी थेतकी थाना देवबंद और तौसीफ पुत्र अफजल निवासी तास्सीपुर थाना नागल जाली करेंसी छापते हैं। उन्हीं लोगों से कम दामों में जाली करेंसी लेकर असली करेंसी के रूप में चलाते थे।

पुलिस के अनुसार आरोपी वाजिद एवं अब्दुल्ला शुक्रवार को यहां जाली नोट लेने आए थे, तभी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपी उस्मान और तौसीफ अभी फरार हैं।
... और पढ़ें

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव: सपा और रालोद के खेमे में सन्नाटा, अब इस रणनीति पर काम कर रही भाजपा

सहारनपुर में नकली करेंसी के साथ चार आरोपी गिरफ्तार।
मेरठ में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में विपक्षी दलों पर बढ़त बना चुकी भाजपा, अब निर्विरोध निर्वाचन की रणनीति पर काम कर रही है। भाजपा नेताओं की कोशिश है कि विपक्षी प्रत्याशी को अनुमोदक व प्रस्ताव तक न मिल पाए। वहीं बसपा के रुख से झटका खाए सपा-रालोद खेमे में सन्नाटा है।

भाजपा ने गौरव चौधरी कुसैड़ी को प्रत्याशी घोषित किया है। भाजपा के 33 में से मात्र पांच जिला पंचायत सदस्य ही जीत कर आए थे। लेकिन भाजपा ने बहुत ही सधी हुई रणनीति पर चलते हुए अपना प्रत्याशी घोषित किया। जनप्रतिनिधि और संगठन के लोग विपक्ष के सदस्यों को भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में करने के लिए जुट गए। परिणाम यह हुआ कि जब तक सपा-रालोद गठबंधन अपना प्रत्याशी घोषित करता, तब तक भाजपा प्रबंधन को अंतिम रूप दे चुकी थी। 

विपक्ष का खेल गुटबाजी से बिगड़ गया। रालोद के पास कोई प्रत्याशी नहीं था। सपा में गुटबाजी के चलते प्रत्याशी तय नहीं हो पाया। धनबल के इस चुनाव में सपा के पास भी कोई ऐसा प्रत्याशी नहीं था जो चुनाव प्रबंधन कर सके। ऐसे में बसपा की सलोनी गुर्जर को सपा ज्वॉइन कराकर विपक्ष का साझा प्रत्याशी घोषित कर दिया गया। इस कदम से बसपा नेता उखड़ गए और उन्होंने घोषणा कर दी कि वह सपा प्रत्याशी का समर्थन नहीं करेंगे। इससे भाजपा को जहां बल मिल गया तो बसपा के सदस्यों को विकल्प चुनने का रास्ता मिल गया। 
... और पढ़ें

विकास की पहल: हस्तिनापुर सेंक्चुअरी से बाहर होंगे बिजनौर के 212 गांव, डीएम ने दिए नए सीमांकन के निर्देश

कई दशकों से उठ रही हस्तिनापुर सेंक्चुअरी के नए सीमांकन की मांग अब पूरी होने जा रही है। अब जिले के करीब 200 गांव सेंक्चुअरी क्षेत्र से बाहर कर दिए जाएंगे। वहीं अब मात्र 115 गांव ही सेंक्चुअरी में शामिल रहेंगे। ये गांव चांदपुर और बिजनौर तहसील के होंगे। डीएम उमेश मिश्रा ने बिजनौर तहसीलदार और चांदपुर तहसीलदार के नेतृत्व में नए सीमांकन के लिए टीमों का गठन भी कर दिया है।

हस्तिनापुर सेंक्चुअरी के पुनर्गठन को एनजीटी से मंजूरी मिलने के बाद सीमांकन को लेकर कार्रवाई तेज हो गई है। बिजनौर में काम भी शुरू हो गया है। तीन दिन पहले डीएम उमेश मिश्रा, कमिश्नर मेरठ, डीएम मुजफ्फरनगर और दिल्ली के अफसरों की वीडियो कांफ्रेंसिंग हुई थी।

नई सीमा को लेकर चर्चा हुई। जिसमें बिजनौर की ओर से 212 गांवों को सेंक्चुअरी से बाहर रखने का प्रस्ताव रखा गया। अब तक हस्तिनापुर सेंचुरी में बिजनौर और चांदपुर तहसील के 327 गांव शामिल थे। नया सीमांकन पूरा होने के बाद मात्र 115 गांव ही सेंक्चुअरी में रह जाएंगे।
... और पढ़ें

यूपी: नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के तस्करों की जमानत अर्जी खारिज, अभी दो आरोपी हैं फरार, जानें पूरा मामला

उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के आरोपियों की जमानत अर्जी कोर्ट ने खारिज कर दी। इससे पहले जमानत अर्जी पर तीन बार सुनवाई टल गई थी। दो आरोपी इस मामले में अभी भी फरार हैं।

बागपत पुलिस को शहर के राष्ट्र वंदना चैक पर एक्सयूवी गाड़ी में गत 19 मई को 60 इंजेक्शन रेमडेसिविर मिले थे। कार से आरोपी मनमोहन व उसका बेटा मुकुंद निवासी गांधी कॉलोनी, नई मंडी मुजफ्फरनगर व बिशन निवासी सलेमपुर चैक रानीपुर हरिद्वार को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने 20 मई को तीनों आरोपितों को अदालत में पेश किया था। उनको न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया था। 

वहीं दूसरी तरफ लखनऊ लैब में इंजेक्शनों के आठ नमूनों को जांच के लिए भेजा गया था। लैब रिपोर्ट से पुष्टि हुई कि इंजेक्शन नकली हैं। मुकदमे में नकली इंजेक्शन सप्लाई करने की धारा भी बढ़ाई जा चुकी है। पुलिस केस की विवेचना कर रही है। 

उधर, आरोपी मनमोहन व मुकुंद की जमानत के लिए अदालत में अर्जी दाखिल की गई थी। चार, 14 और 16 जून को जमानत अर्जी पर सुनवाई टल गई थी। एडीजीसी अनुज ढाका ने बताया कि आरोपियों की जमानत का हमने मजबूती से विरोध किया। एडीजे-4 सुशील कुमार ने सुनवाई के बाद आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी। बता दें कि इस मामले में आरोपी विशाल निवासी मुजफ्फरनगर और पंजाब निवासी सुखपाल अभी भी फरार हैं।
... और पढ़ें

सनसनीखेज वारदात: बड़े भाई की गोली मारकर हत्या, ये रही बड़ी वजह, जांच में जुटे अफसर

उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद के एक गांव में सनसनीखेज वारदात हो गई। यहां दोघट थाना क्षेत्र के कस्बा टीकरी में संपत्ति के बंटवारे को लेकर छोटे भाई ने अपने बड़े भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं घटना से परिवार में कोहराम मच गया। मृतक के दूसरे छोटे भाई ने हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। 

यह है पूरी घटना
दोघट थाना क्षेत्र के टीकरी कस्बे में संपत्ति के विवाद में छोटे भाई ने बड़े भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। दूसरे छोटे भाई ने हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। टीकरी कस्बे में तीन भाई नरेश 42 वर्ष, महेश 38 वर्ष और देवकल्याण 32 वर्ष रहते हैं। तीनों में सबसे छोटा भाई देवकल्याण ही शादीशुदा है। नरेश का अपने बड़े भाई देवकल्याण से संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। कुछ दिन से नरेश घर से बाहर था। तीन-चार दिन पहले ही वह घर लौटा था। वहीं गुरुवार रात को नरेश और देवकल्याण के बीच झगड़ा हो गया। इसके बाद देवकल्याण ने नरेश को जान से मारने की धमकी दे दी।

देर रात जब परिवार के सभी सदस्य सो गए तो देवकल्याण ने मकान के ऊपरी बरामदे में सो रहे नरेश को गोली मार दी। गोली की आवाज सुनकर जब महेश वहां पहुंचा तो देवकल्याण नरेश को दूसरी गोली मार रहा था। उसे देखकर वह मौके से भाग निकला। गोली लगने से नरेश की मौके पर ही मौत हो गई।

सूचना पर पुलिस पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। पुलिस ने महेश की तहरीर पर आरोपी देवकल्याण के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। बाद में देवकल्याण ने थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया।
... और पढ़ें

यूपी: सपा ने पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष व पूर्व जिलाध्यक्ष को किया निष्कासित, पंचायत चुनाव को लेकर लगा बड़ा आरोप

उत्तर प्रदेश के बागपत में जिला पंचायत चुनाव में भाजपा के मददगार बने पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ओंकार यादव और पूर्व जिलाध्यक्ष किरणपाल उर्फ बिल्लू प्रधान को सपा से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। दोनों पर सपा की जिला पंचायत सदस्य बबली देवी को भाजपा में शामिल कराने व अन्य सदस्यों पर भी दबाव बनाने का आरोप लगा था। जिसकी जांच पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने अपने स्तर से कराई थी। 

भाजपा के पास जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ाने के लिए अनुसूचित जाति की महिला प्रत्याशी नहीं थी। सपा छोड़कर आईं बबली देवी को भाजपा ने अपना जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित कर दिया था। ओंकार यादव वर्ष 2000 में जिला पंचायत अध्यक्ष बने थे। इस बार उनकी पत्नी तारा यादव वार्ड-17 से निर्दलीय जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ी थी। रालोद प्रत्याशी शाहिदा ने उन्हें चुनाव में शिकस्त दी थी। 

सपा जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी का कहना है कि ओंकार यादव और बिल्लू प्रधान के पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने की जानकारी पार्टी को मिली थी। शीर्ष नेतृत्व ने अपने स्तर से इसकी जांच कराई थी। दोषी पाए जाने पर दोनों को छह वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया गया।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us