बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?
Myjyotish

शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

अनोखा प्रदर्शन: शिक्षकों ने फल और सब्जी बेचकर जताया विरोध, चेतावनी देकर की ये मांग

आर्थिक तंगी से जूझ रहे मान्यता प्राप्त विद्यालयों के संचालक और शिक्षक साल भर से आर्थिक पैकेज की मांग कर रहे हैं। मांग नहीं माने जाने से नाराज उक्त शिक्षकों ने शुक्रवार को रेहड़ी लेकर फल और सब्जी बेचकर अपना विरोध जताया।

उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त विद्यालय शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष डॉ. अशोक मलिक के नेतृत्व में विद्यालय संचालक और शिक्षक लेबर कॉलोनी से सब्जी और फलों की रेहड़ियां लेकर शारदानगर तक पहुंचे। उन्होंने राहगीरों को आवाज लगाकर सब्जी और फल बेचे। डॉ. अशोक मलिक ने केंद्र और राज्य सरकार पर रोजगार छीनने का आरोप लगाया। 

उन्होंने कहा कि सरकार ने कोरोना के नाम पर दो साल से विद्यालय बंद किए हुए हैं। विद्यालय बंद होने से विद्यालय संचालक और शिक्षकों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। वह अपने बच्चों के लिए रोटी तक की व्यवस्था मुश्किल से कर पा रहे हैं। बीते वर्ष भी सरकार से मान्यता प्राप्त विद्यालय संचालकों और शिक्षकों के लिए आर्थिक पैकेज की मांग की थी, लेकिन सरकार ने नहीं सुनी। ऐसे में उन्हें प्रदर्शन के लिए मजबूर होना पड़ा है। 

केपी सिंह, नीरज रोहिला और समरीन फात्मा ने चेतानी दी कि यदि 30 जून तक आर्थिक पैकेज जारी करने, बिजली का बिल और टैक्स माफ कराने और विद्यालय खोलने के आदेश जारी नहीं किए तो वे खुद निर्णय लेने को मजबूर होंगे। प्रदर्शनकारियों में पदम खटाना, प्रवीण गुप्ता, मुकेश सहजवा, शीषपाल, प्रवीण कुमार, हरेंद्र कुमार, वंदना सैनी, अमजद अली, सरफराज खान, मोहसिन आदि शामिल रहे।
... और पढ़ें

मौत का खौफ: यहां टीकाकरण को लेकर फैल रही ये बड़ी अफवाह, परवान नहीं चढ़ रहा अभियान, लोगों में है डर

पश्चिमी यूपी के बागपत जिले में स्वास्थ्य विभाग की लाख कोशिशों के बावजूद बड़ौत ब्लाक के गांवों में टीकाकरण परवान नहीं चढ़ पा रहा है। बड़ौत ब्लाक के अंतर्गत 44 गांव आते हैं, जिनकी कुल आबादी 2.11 लाख है। अभी तक 18 और 45 से अधिक उम्र के केवल 23461 लोगों ने ही टीकाकरण कराया है। यानी कुल 11 प्रतिशत ने ही टीका लगवाया है।

मुस्लिम गांवों में आ रही दिक्कतें
स्वास्थ्य विभाग को सबसे ज्यादा मुस्लिम बाहुल्य गांवों में टीकाकरण कराने में समस्या आ रही है। हाल ही में अशरफाबाद थल गांव में ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम का जमकर विरोध किया था। इस कारण स्वास्थ्य विभाग की टीम को बैरंग लौटना पड़ा था। पांच हजार की आबादी वाले इस गांव में अभी तक मात्र 100 लोगों ने ही टीकाकरण कराया है। कमोबेश ऐसी ही स्थिति इदरीशपुर व औसिक्का गांव की है। इन गांवों में अफवाहें फैली हुई हैं कि टीकाकरण कराने से लोगों की मौत हो जाती है। कई जगह तो यह भी अफवाह है कि टीकाकरण जनसंख्या नियंत्रण के लिए किया जा रहा है, जो कि बिल्कुल गलत है।

टीकाकरण कराने में शहरी आगे
शहरी क्षेत्र की बात करें तो यहां की कुल आबादी 1.10 लाख है। यहां पर कुल 17504 लोग टीकाकरण करा चुके हैं। जो आबादी के सापेक्ष 16 प्रतिशत है। शहरी क्षेत्र में मात्र दस टीम काम कर रही हैं, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में 25 टीम स्वास्थ्य विभाग की लगी हुई हैं।

टीकाकरण बढ़ाने को किया जा रहा प्रयास
कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण कारगर साबित हो रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। धर्म गुरुओं और गणमान्य लोगों की इसमें मदद ली जा रही है। - डॉ. विजय कुमार, सीएचसी अधीक्षक
... और पढ़ें

प्रेम-प्रसंग: बेटा किशोरी को लेकर हुआ फरार, गांव में हुई पंचायत, फिर पिता-मां और बहन ने खाया जहर, खौफनाक तस्वीरें

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जनपद के मंडावर में एक गांव निवासी युवक पास के ही गांव की किशोरी को अपने साथ ले गया। इसके बाद युवक के पिता, मां और बहन ने जहरीला पदार्थ खा लिया। इस घटना के बाद से गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। वहीं युवक के परिजनों के जहर खाने के बाद किशारी के परिजनों के खिलाफ उत्पीड़न करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है। किशोरी के पिता समेत चार लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। 

युवक की मां और बहन का आरोप है कि किशोरी के परिजनों ने उनके साथ मारपीट की थी। उन्हें सरेआम अपमानित किया गया, जिससे आहत होकर उन्होंने आत्महत्या का प्रयास किया। तीनों की हालत गंभीर बताते हुए चिकित्सकों ने जिला अस्पताल से मेरठ रेफर कर दिया। ग्रामीणों ने पुलिस पर भी परिवार का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया जा रहा है। एसपी ने सीओ सिटी को इस मामले की जांच सौंपी है।
... और पढ़ें

मौसम : पश्चिमी यूपी में दूसरे दिन भी बदला रहा मौसम का मिजाज, देहात में हुई बारिश, शहर में चलीं हवाएं

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दूसरे दिन भी मौसम का मिजाज बदला रहा। कई स्थानों पर हलकी बूंदाबांदी हुई तो देहात क्षेत्रों में तेज बारिश हुई। शनिवार सुबह से ही बादल छाए रहे। शहर में कई जगह बूंदाबांदी हुई, जबकि देहात क्षेत्र में जमकर बारिश हुई। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि रविवार को भी तेज हवा के साथ बारिश के आसार बने हुए हैं। इससे तापमान में गिरावट आएगी। 

जून के पहले सप्ताह में भीषण गर्मी ने लोगों का बुरा हाल कर दिया था। पारा उछलकर सीजन में पहली बार 41 पार पहुंच गया था। दूसरा सप्ताह मौसम के लिहाज से राहत लेकर आया। मानसून ने दो दिन पहले ही मुंबई में दस्तक दे दी है। हालांकि, वेस्ट यूपी में मानसून आने में अभी समय है।

शनिवार सुबह से ही मौसम बदला रहा। मवाना क्षेत्र में जमकर बारिश हुई। मौसम विशेषज्ञ डॉ. एन सुभाष ने बताया कि शनिवर को 0.3 मिमी बारिश दर्ज की गई। मौसम कार्यालय पर अधिकतम तापमान 30.5 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 25.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

अधिकतम आर्द्रता 76 व न्यूनतम आर्द्रता 66 प्रतिशत दर्ज की गई। हवा की रफ्तार चार से छह किमी प्रतिघंटा रही। वहीं मौसम में बदलाव आने के कारण शनिवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 67 दर्ज किया गया।
... और पढ़ें
मौसम मौसम

किसान आंदोलन : मेरठ में टोल प्लाजा पर 18वें दिन भी धरना जारी, मनोबल बढ़ाने पहुंचे भाकियू प्रदेश अध्यक्ष

मेरठ के मोदीपुरम में कृषि कानूनों के विरोध में सिवाया टोल पर भाकियू का धरना 18वें दिन भी जारी रहा। कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादोन पहुंचे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से धरना स्थल पर डटे रहने की अपील की और कहा कि धरना तब तक समाप्त नहीं होगा, जब तक सरकार ये कानून वापस नहीं लेती। 

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि देश के किसान, मजदूर, गरीब से लेकर व्यापारी तक बेहाल हैं। पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लेकर खाद्यान्न तक लोग महंगाई से परेशान हैं। युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा और कर्मचारी भ्रष्टाचार और गलत नीतियों से परेशान हैं। कोरोना काल में मरीजों के साथ ही तीमारदारों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में किसानों ने अपनी ताकत का आभास करा दिया है और 2022 के चुनाव में सूबे का किसान एकजुट होकर अपनी वोट के दम पर इस सरकार कोे सबक सिखाएगा।

धरने में महराज सिवाया, नरेश चौधरी, सतीश इलमसिंह, मोनू छुर्र, उज्ज्वल, विनीत सांगवान, अंकित, मदन घोपला, सुभाष घोपला, जगत सिंह राठी, सुशील, हर्ष यादव, लव चौधरी, महबूब सोलाना आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

शर्मनाक! अपहरण कर मेरठ कॉलेज की छात्रा से दुष्कर्म, पीड़िता ने बयां किया दर्द, दिया था नौकरी का झांसा

मेरठ में सहपाठी के भाई ने मेरठ कॉलेज की छात्रा को अगवा कर दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। आरोप है कि पहले युवक ने कोल्ड ड्रिंक पिलाई, जिससे छात्रा बेहोश हो गई। बाद में नोएडा ले जाकर वारदात को अंजाम दिया। पीड़िता की तहरीर पर लालकुर्ती थाने में आरोपी धीरज के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हो गई है। 

मूल रूप से बुलंदशहर की रहने वाली युवती मेरठ कॉलेज से बीए कर रही है। छात्रा पीएल शर्मा रोड स्थित एक हॉस्टल में रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी भी कर रही थी। पीड़िता के मुताबिक, एक छात्रा से उसकी दोस्ती हो गई थी। छात्रा के भाई ने अपनी बहन के मोबाइल से उसका नंबर ले लिया और फिर बातचीत शुरू कर दी। आरोप है कि युवक ने नोएडा में उसकी नौकरी लगाने की बात कही। वह छात्रा को बहला-फुसलाकर हॉस्टल से ले आया और फिर उसे अपनी गाड़ी में बिठा लिया। कोल्ड ड्रिंक में मिलाकर नशीला पदार्थ पिलाया और नोएडा के सेक्टर-2 में ले गया। वहां उसके साथ दुष्कर्म किया। छात्रा को बेहोशी की हालत में छोड़कर आरोपी वहां से भाग गया। 

पुलिस ने बताया है कि छात्रा को आरोपी का सिर्फ नाम पता है। वह कहां रहता है। इसकी कोई जानकारी नहीं है। शुक्रवार पुलिस ने आरोपी का पता लगाने के लिए कई जगह जाकर जानकारी जुटाई। अभी उसका कोई अता-पता नहीं लगा है। एसपी सिटी विनीत भटनागर का कहना है कि आरोपी की तलाश में पुलिस लग गई है।

नौकरी के लिए झांसे में आ गई छात्रा  
कोरोना का प्रकोप था और शहर में कर्फ्यू लगा था। इसके बावजूद मेरठ कॉलेज की छात्रा नौकरी की चाह में अपने घर बुलंदशहर नहीं गई। क्योंकि सहेली के भाई ने छात्रा को झांसे में लिया हुआ था। उसने दिलासा दिया हुआ था कि कर्फ्यू खुलते ही उसकी नौकरी नोएडा में लगवा देगा।
... और पढ़ें

UP Panchayat By Election 2021: मेरठ में 11 बजे तक 41.71 प्रतिशत मतदान, वोटिंग जारी

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के नौ ब्लाकों में पंचायत उप चुनाव के लिए सुबह 11 बजे तक 41.71 प्रतिशत मतदान हुआ। वहीं हस्तिनापुर के ग्राम पंचायत दूधली में ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए दो वार्डों में चुनाव चल रहा है। यहां एक बजे तक लगभग 90 प्रतिशत मतदान हो चुका है। 12 में से नौ ब्लाकों में आज सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ। शुक्रवार को ब्लाक कार्यालयों से पोलिंग पार्टियों को मतदान केंद्रों के लिए रवाना किया गया था। 

बता दें कि माछरा ब्लाक के गांव एत्मादपुर में प्रधान पद के लिए उपचुनाव हो रहा है। इसके लिए एक मतदान केंद्र और तीन मतदान स्थल बनाए गए हैं। जिले में 40 मतदान केंद्र और 72 मतदान स्थल बनाए गए हैं।

नौ ब्लाकों में 99 ग्राम पंचायत सदस्य, एक प्रधान पद और परीक्षितगढ़ ब्लाक के दो क्षेत्र पंचायत सदस्य पदों के लिए चुनाव हो रहा है। ग्राम पंचायत सदस्यों में जानी में 30, रोहटा में पांच, रजपुरा में आठ, खरखौदा में सात, मवाना में 17, हस्तिनापुर में दो, परीक्षितगढ़ में आठ, सरूरपुर में 22 ग्राम पंचायत सदस्यों के लिए मतदान हो रहा है। 

वहीं, 14 जून को ब्लाक स्तर पर ही मतगणना सुबह आठ बजे से कराई जाएगी। चुनाव संपन्न कराने के लिए आरओ, एआरओ, सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ 400 मतदान अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। शुक्रवार को पोलिंग पार्टियां रवाना की गई। पंचायत सदस्यों के निर्विरोध निर्वाचन के कारण मेरठ, सरधना और दौराला में चुनाव नहीं हो रहा है।
... और पढ़ें

सहारनपुर : बीमारी से सैनिक की मौत, पैतृक गांव पहुंचा पार्थिव शरीर

यूपी पंचायत उप चुनाव 2021: वोट डालने पहुंचे लोग।

मेरठ: कार में टक्कर मारने पर दरोगा की जमकर पिटाई, कई घंटों तक रही गहमागहमी और फिर...

उत्तर प्रदेश के मेरठ में तेजगढ़ी चौराहे के पास कार में टक्कर लगने के विवाद में तीन युवकों ने दरोगा की पिटाई कर दी। घटना की सूचना पर मेडिकल थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। दरोगा और तीनों युवकों को पुलिस थाने ले आई। घंटों गहमागहमी के बाद दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया।

ये था मामला
शास्त्री नगर निवासी दरोगा की पोस्टिंग अलीगढ़ में है। शुक्रवार देर रात दरोगा कार में सवार होकर अपने घर लौट रहा था। तेजगढ़ी चौराहे के पास दरोगा की गाड़ी से एक वैगनआर कार में टक्कर लग गई। इस पर वैगनआर गाड़ी में सवार तीनों युवकों ने दरोगा की पिटाई कर दी। दरोगा के शोर मचाने पर आसपास के लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई और उन्होंने वैगनआर को घेरकर तीनों युवकों को रोक लिया। दरोगा सादी वर्दी में था।

दरोगा के साथ मारपीट की जानकारी मिलते ही मेडिकल थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले आई। जानकारी लगने पर दोनों पक्षों के लोग भी थाने पहुंच गए। इंस्पेक्टर मेडिकल प्रमोद कुमार गौतम ने बताया कि देर रात दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया है।

एसपी सिटी विनीत भटनागर का कहना है कि दोनों पक्षों में कहासुनी के बाद मारपीट होने की बात सामने आई थी। बाद में दरोगा व दूसरे पक्ष ने खुद ही समझौता कर दिया। इस मामले में कोई भी कानूनी कार्रवाई नहीं की गई है।
... और पढ़ें

Meerut News Today 12 June: मेरठ समाचार | सुनिए शहर की ताजातरीन खबरें

अमर उजाला एक्सक्लूसिव: अंबाला से शामली तक बनेगा नया एक्सप्रेस-वे, ये है पूरा प्लान

भारतमाला परियोजना के तहत एक नया एक्सप्रेस-वे बनने जा रहा है। यह एक्सप्रेस-वे अंबाला से शामली के बीच बनेगा, जिसके लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) की तरफ से डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

यह एक्सप्रेसवे अंबाला से शामली तक करीब 110 किलोमीटर लंबाई का होगा। इसका आरओडब्ल्यू (राइट ऑफ वे) करीब 60 मीटर होगा। एनएचएआई के पीआईयू अंबाला द्वारा इसकी डीपीआर तैयार कराई जा रही है। यह दिल्ली से देहरादून तक बन रहे इकनॉमिक कॉरिडोर का इंटर कॉरिडोर होगा। यह सहारनपुर जिले की नकुड़ तहसील के गांवों और रामपुर मनिहारान के कुछ गांवों से होकर गुजरेगा और पूरी तरह ग्रीन कॉरिडोर होगा। इसका निर्माण होने पर जिले को एक और नया एक्सप्रेसवे मिल जाएगा, जिससे शामली की तरफ से सहारनपुर के रास्ते अंबाला जाने का रास्ता और सुगम हो जाएगा। 

वन विभाग से मांगी जानकारी 
एनएचएआई के अंबाला पीआईयू से जनरल मैनेजर (तकनीकी) एवं प्रोजेक्ट डायरेक्टर वीरेंद्र सिंह ने इस संबंध में जिला वनाधिकारी से जानकारी मांगी है कि नकुड़ और रामपुर मनिहारान तहसील क्षेत्र में कहां कहां पर वन विभाग का वन क्षेत्र है। यह इसलिए पूछा जा रहा है, ताकि एक्सप्रेस-वे का एलाइनमेंट वन क्षेत्र से हटाकर तैयार किया जा सके। 

अगले वर्षों में पूरे होंगे यह अहम प्रोजेक्ट 
155.125 किलोमीटर लंबाई के इस हाईवे में शामली बाईपास से सहारनपुर तक करीब 62.779 लंबाई का फोरलेन हाईवे बन रहा है। सहारनपुर जिले में नानौता और रामपुर मनिहारान के बीच 85 प्रतिशत कार्य हो चुका है। रामपुर मनिहारान में अतिक्रमण हटने पर कार्य शुरू हुआ है। जंधेड़ी और रामपुर मनिहारान में रेलवे क्रासिंग पर ओवरब्रिज बनने बाकी हैं। जिसके लिए पाइल टेस्टिंग हो चुकी है। अप्रैल 2022 तक निर्माण कार्य पूरा होने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

यूपी: कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें कम होते ही बेखौफ हुए बदमाश, शहर में ताबड़तोड़ वारदात, पुलिस के लिए चुनौती

कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें कम होते ही अपराधी बेलगाम हो गए हैं। बदमाश कारोबारियों से रंगदारी मांग रहे हैं तो चोरी, लूट, झपटमारी सहित अन्य घटनाओं को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे हैं। ऐसे में शहरवासियों में फिर से सुरक्षा को लेकर चिंता और पुलिस के लिए चुनौती बढ़ गई है।

केस - 1
मेरठ के लालकुर्ती थाना क्षेत्र के टैंक चौराहे के निकट बाइक सवार बदमाशों ने स्पोर्ट्स कारोबारी से मोबाइल लूट लिया। जेल चुंगी बलवंत नगर निवासी गौतम सूरी खेल का सामान बनाते हैं। शुक्रवार शाम वह कंकरखेड़ा में परिचित से मिलकर स्कूटी पर सवार होकर घर लौट रहे थे। रुड़की रोड पर टैंक चौराहे से आगे शिव मंदिर पासपल्सर सवार दो बदमाशों ने उनकी जेब पर झपट्टा मारकर मोबाइल लूट दिया। कारोबारी ने स्कूटी से बदमाशों का पीछा किया तो बदमाश ने पिस्टल दिखाकर धमकाया। सहमे कारोबारी ने स्कूटी रोक ली। 

इसके बाद बदमाश माल रोड पर लालकुर्ती थाने के सामने से फरार हो गए। कारोबारी सीधे बेगम पुल पुलिस चौकी पहुंचे और वहां मौजूद पुलिसकर्मियों को घटना की जानकारी दी। पुलिसकर्मियों ने मामला दूसरे थाना क्षेत्र का बताकर उन्हें लालकुर्ती थाने भेज दिया। पीड़ित ने लालकुर्ती में तहरीर दी। थाना पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण भी किया।

केस - 2
लिसाड़ी गेट थाने के पास दुकान में लूटपाट
मेरठ के लिसाड़ी गेट थाने के पास शुक्रवार को चार बदमाशों ने दिनदहाड़े कन्फेक्शनरी की दुकान में लूटपाट कर दी। बदमाश गल्ले से 30 हजार रुपये लेकर फरार हो गए। घटना के बाद पुलिस पहुंची और बदमाशों की तलाश शुरू की। 

कोतवाली के गुदड़ी बाजार निवासी शाने आलम की लिसाड़ी गेट चौराहे के पास डायमंड ट्रेडर्स के नाम से कन्फेक्शनरी की दुकान है। शुक्रवार दोपहर तीन बजे शाने आलम दुकान पर अकेले बैठे थे। इसी दौरान हथियारों से लैस चार बदमाश दुकान पर पहुंच गए। बदमाशों ने पहले दुकानदार को पीटा और फिर लूटपाट की।

बदमाशों के जाने पर दुकानदार ने शोर मचाया तो आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। बाद में शाने आलम के पिता इरशाद भी पहुंचे। लोगों ने बताया कि जिस समय बदमाश लूटपाट कर रहे थे। उसी दौरान लिसाड़ी गेट थाने की फैंटम भी वहां से निकली थी। दिनदहाड़े लूट की घटना से स्थानीय लोगों में पुलिस के प्रति आक्रोश है। एसपी सिटी विनीत भटनागर का कहना है कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। 
... और पढ़ें

मेरठ: आखिर जगी है आस, दो ठेकेदारों ने रेन वाटर हार्वेंस्टिंग सिस्टम के लिए लगाई बोली

मेरठ में बारिश के पानी को बचाने के लिए एमडीए ने एक और कदम बढ़ा दिया है। शुक्रवार को रेन वाटर हार्वेस्टिंग लगाने के लिए टेंडर निकाले गए। इसमें देव इंफ्रा और बालाजी कंस्ट्रक्शन ने बोली लगाई और काम करने की इच्छा जताई। इससे पहले एक साल से एमडीए की ओर से टेंडर निकाले जा रहे थे, लेकिन कोई ठेकेदार काम करने के लिए तैयार नहीं था। एमडीए की तरफ से विभिन्न स्थानों पर 13 लाख आठ हजार की लागत से रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाए जाने हैं। जिले में पानी का लेवल औसतन 21 मीटर नीचे तक जा चुका है। इसकी भरपाई के लिए मशक्कत की जा रही है।

प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार की ओर से एमडीए को निर्देश जारी करते हुए सभी विभागों में सिस्टम लगाने के लिए कहा है। जहां- जहां सिस्टम लगे हैं उनका भी सर्वे किया जाएगा। जिससे ये पता चल सके कि कहां- कहां सिस्टम चालू हालत में हैं। इस बार शासन का फोकस पानी बचाने की ओर है।

हर बुधवार को होने वाली प्रमुख सचिव आवास की बैठक में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की समीक्षा की जाती है। इससे पहले एमडीए 11 स्थानों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगा चुका है। पिछले वर्ष टेंडर न आने के कारण महज एक स्थान पर ही सिस्टम लग पाया था। जिमखाना मैदान में एमडीए ने खुद अपने इंजीनियरों की मदद से इस सिस्टम को लगाया था।

मैं लगातार इस पर खुद मॉनिटरिंग कर रहा हूं। हमने विभागों को भी प्रमुख सचिव आवास के निर्देश के क्रम में पत्र भेजे हैं कि वह खुद रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने की तैयारी करें। कहीं कोई तकनीकी दिक्कत है तो हमें बताएं। मैंने इस कार्य पर मॉनिटरिंग के लिए सहायक नगर नियोजक को लगा दिया है। - मृदुल चौधरी, एमडीए उपाध्यक्ष
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us