विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बिजली गिरने और ओला-बारिश से उत्तर प्रदेश में आठ लोगों की मौत, फसलों को नुकसान

प्रदेश में बृहस्पतिवार रात से ही अचानक मौसम बदल गया। कई जिलों में आंधी और बारिश हुई। शुक्रवार को भी दिनभर ऐसा ही दौर रहा।

22 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

मुरादाबाद

शनिवार, 22 फरवरी 2020

सुबह आठ से दोपहर दो बजे तक रहेगा रूट डायवर्जन

मुरादाबाद। महाशिवरात्रि को लेकर यातायात पुलिस ने डायवर्जन प्लान तैयार किया है। गुरुवार सुबह आठ बजे से शुक्रवार दोपहर दो बजे तक रोडवेज बस और भारी वाहन शहर में प्रवेश नहीं कर पाएंगे। केवल कांवड़ियों के वाहनों को ही प्रवेश दिया जाएगा। इस दौरान रोडवेज की बसें भी बदले मार्ग से चलेंगी।
पुलिस अधीक्षक यातायात सतीश चंद्र ने बताया कि महाशिवरात्रि पर्व पर हिन्दू समुदाय द्वारा हरिद्वार, नरौरा, ऋषिकेश और गढ़ मुक्तेश्वर समेत विभिन्न स्थानों से पवित्र नदियों का जल कांवड़ के माध्यम से लेकर विभिन्न मार्गों से पैदल चल कर शिव मंदिरों मे लाकर जलाभिषेक किया जाता है। कांवड़ियों के अत्याधिक आवागमन को दृष्टिगत रखते हुए भारी वाहन जैसे ट्रक , डीसीएम, कैंटर, मालवाहक वाहन और ट्रैक्टर ट्राली 20 फरवरी 2020 को सुबह 08 बजे 21 फरवरी 2020 दोपहर दो बजे तक बदले मार्ग से चलाए जाएंगे। आवश्यकतानुसार किया जायेगा यदि आवश्यकता हुई तो इससे पहले एवं बाद मे भी लागू किया जा सकता है।
बरेली से धामपुर से दिल्ली की ओर जाने वाला यातायात’
बरेली, धामपुर से दिल्ली की ओर जाने वाले भारी वाहन बसें बरेली से आंवला ;जनपद बरेली से शाहबाद मार्ग से बिलारी, चन्दौसी, बहजोई, बबराला, नरौरा, डिबाई, बुलंदशहर होते हुए दिल्ली जाएंगे एवं इसी मार्ग से वापस आएंगे
मुरादाबाद से रामपुर की ओर जाने वाला यातायात
मुरादाबाद से रामपुर की ओर जाने वाले भारी वाहन रोडवेज बसें अस्थाई बस अड्डा पंडित नंगला मुरादाबाद, कुन्दरकी, बिलारी, शाहबाद से रामपुर जाएंगें एवं इसी मार्ग से वापस आएंगें
मुरादाबाद से दिल्ली को जाने वाला यातायात
मुरादाबाद से दिल्ली को जाने वाले भारी वाहन, रोडवेज बसों को अस्थाई बस अड्डा पंडित नंगला मुरादाबाद कुन्दरकी, बिलारी, चन्दौसी, बहजोई, बबराला, नरौरा, डिबाई, बुलंदशहर होते हुये दिल्ली जाएंगें एवं इसी मार्ग से वापस आएंगे
दिल्ली से मुरादाबाद,रामपुर बरेली की ओर आने वाला यातायात
दिल्ली से मुरादाबाद, रामपुर, बरेली की ओर आने वाले भारी वाहनों को जनपद हापुड़ से डायवर्ट कर बुलंदशहर नरौरा, बबराला, बहजोई, बिलारी जनपद मुरादाबाद, शाहबाद से रामपुर से बरेली को जाएंगे।
मेरठ से मुरादाबाद रामपुर बरेली की ओर जाने वाला यातायात’
मेरठ से मुरादाबाद, रामपुर, बरेली की ओर जाने वाले भारी वाहन गढ़ चौपला से स्याना बुलंदशहर के मार्ग से नरौरा बबराला बहजोई चन्दौसी, बिलारी, शाहबाद, रामपुर, होते हुये बरेली को जाएंगे
मुरादाबाद से बिजनौर, हरिद्वार की ओर आने जाने वाला यातायात’
मुरादाबाद से बिजनौर, हरिद्वार की ओर आने और जाने वाले भारी वाहन बसें काशीपुर तिराहा से ठाकुरद्वारा से जसपुर (उत्तराखंड) अफजलगढ़, धामपुर होते हुए बिजनौर जाएंगे एवं इसी मार्ग से वापस आएंगे तथा भारी वाहनों को सिरसवां दोराहा तक ही आने दिया जायेगा।
अमरोहा से मुरादाबाद, रामपुर, बरेली की तरफ जाने वाला यातायात’
अमरोहा से मुरादाबाद, रामपुर, बरेली की तरफ जाने वाले भारी वाहन बसे डींगरपुर तिराहा पाकबडा से डींगरपुर, कुन्दरकी, बिलारी, शाहबाद होते हुए रामपुर बरेली को जाएंगे एवं इसी मार्ग से वापस आएंगे।

अमरोहा से मुरादाबाद आने वाला यातायात’
अमरोहा से मुरादाबाद आने वाले भारी वाहन बसें कैलसा से पाकबड़ा होते हुए फ्लाई ओवर के नीचे से डींगरपुर रोड डींगरपुर तिराहा होकर गांगन तिराहा से शहर के अंदर प्रवेश करेंगे।
अमरोहा से रामपुर बरेली संभल जाने वाला यातायात
अमरोहा से रामपुर बरेली संभल जाने वाले भारी वाहन बसें कैलसा रोड से पाकबडा होते हुए फलाईओवर के नीचे से डींगरपुर रोड डींगरपुर तिराहा होकर कुन्दरकी से बिलारी होते हुए जाएंगे।
... और पढ़ें

कमांड कंट्रोल सेंटर की होगी स्थापना, ट्रैफिक सिग्नल सिस्टम भी होगा लागू

मुरादाबाद। अपना शहर हाईटेक होने जा रहा है। सड़क पर ट्रैफिक कंट्रोल के लिए सिग्नल सिस्टम लगेंगे। सड़कों और मुख्य स्थानों की निगरानी के लिए शहर में 400 अत्याधुनिक कैमरे भी लगाए जाएंगे। महानगर में 25 सार्वजनिक स्थानों पर सोलर बेस्ड वाटर एटीएम लगाए जाएंगे। युवाओं को घर बैठे नौकरियों की जानकारी देने के लिए करियर मित्र वेबसाइट भी लांच की जाएगी। सभी सुविधाओं की निगरानी और जन शिकायतों को दूर करने के लिए एक हाईटेक कमांड कंट्रोल सेंटर बनेगा। इसकी वजह से शहर में ऑटोमैटिक चालान भी कटेंगे। सभी शिकायतों का निस्तारण भी इसी कमांड सेेंटर से होगा। 202 करोड़ रुपये की लागत वाले इन सभी कार्योें के लिए नगर निगम ने बुधवार शाम टेंडर जारी कर दिए हैं।
स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में सुस्ती के चलते शासन से जवाब तलब होने पर नवागत कमिश्नर वीरेंद्र सिंह का मूड बिगड़ गया है। उनके बिगड़े मूड का असर निगम के अफसरों तक भी है। हालांकि अमरोहा में राज्यपाल का दौरा होने की वजह से कमिश्नर खुद तो पूरा दिन अमरोहा में व्यस्त रहे लेकिन निगम अफसरों पर कमिश्नर के गुस्से का असर साफ दिखा। स्मार्ट सिटी के 59 में से 12 प्रोजेक्टों को मंजूरी काफी पहले मिल चुकी है। लेकिन अभी तक काम शुरू नहीं हुआ था। बुधवार को निगम ने इनमें से तीन के टेंडर जारी कर दिए। जिन तीन कामों के लिए टेंडर जारी किया गया उनमें कंट्रोल कमांड सेंटर की स्थापना, सोलर बेस्ट वाटर एटीएम और करियर मित्र वेबसाइट है।
दिल्ली की तर्ज पर कटेंगे ऑटोमैटिक चालान
मुरादाबाद। पहले चरण में शहर को 400 से अधिक हाईटेक कैमरों से लैस किया जाएगा। शहर की सुरक्षा के लिहाज से तो ये कैमरे बेहतर रहेंगे ही इसके अलावा इन कैमरों से यातायात व्यवस्था की निगरानी भी की जाएगी। बिना हेलमेट अथवा ट्रिपल राइडिंग करने वालों के ऑटोमैटिक चालान इन्हीं कैमरों की मदद से काटे जाएंगे। ट्रैफिक लाइट तोड़ने और दूसरे नियमों की अनदेखी पर भी इन्हीं कैमरों की मदद से पैनाल्टी लगाई जाएंगी। यदि कोई ओवर स्पीड वाहन चलाएगा तो उसकी सूचना भी कैमरों की मदद से स्वत: कंट्रोल कमांड सेंटर तक पहुंच जाएगी।
सड़क किनारे मिलेगा शुद्ध पेयजल
मुरादाबाद। शहर में प्रमुख सार्वजनिक स्थलों पर लोगों को शुद्ध पेयजल मिलेगा। सौर ऊर्जा से संचालित वाटर एटीएम लगाए जाएंगे। सिक्का डालकर इनसे पेयजल मिलेगा।
कंट्रोल कमांड सेंटर, सोलर बेस्ड ड्रिंकिंग वाटर एटीएम और कैरियर मित्र वेबसाइट के कामों पर करीब 202 करोड़ रुपये खर्च होगा। इसके लिए बुधवार को टेंडर जारी कर दिया गया। कंट्रोल कमांड सेंटर के काम में एक साल से अधिक समय लगेगा, जबकि शेष दोनों कार्य टेंडर होने के बाद तीन से चार महीने में पूरे हो जाएंगे।
टीएन मिश्र, नोडल अफसर स्मार्ट सिटी
... और पढ़ें

जानवरों की खाल रखने पर नौ करोड़ 58 लाख का जुर्माना

मुरादाबाद। असालतपुरा के सात चमड़ा गोदामों पर नमक का प्रयोग कर जानवरों की खाल संरक्षित करने के मामले में मुख्य पर्यावरण अधिकारी ने सात गोदाम मालिकों पर नौ करोड़ 58 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इनमें से हरेक गोदाम पर एक करोड़ 36 लाख 87 हजार 500 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। एक सप्ताह के अंदर जुर्माना जमा करने के आदेश दिए गए हैं।
मुख्य पर्यावरण अधिकारी अमित चंद्रा द्वारा जारी किए गए पत्र के अनुसार स्टार हाइड कंपनी चमड़ा गोदाम रोड, आइडियल एसएस हाइड्स (प्रथम इकाई) चमड़ा चौराहा, एमडी हाइड ट्रेडर्स चमड़ा चौराहा, आइडियल एसएस हाइड्स (द्वितीय इकाई) मोहल्ला असालतपुरा पुलिस चौकी, आइडियल एसएस हाइड्स (तृतीय इकाई) चमड़ा चौराहा, मुरादाबाद हाइड चमड़ा चौराहा, राजा पुत्र मुन्नन चमड़ा गोदाम रोड पर आवासीय क्षेत्र में जानवरों की खाल को नमक का प्रयोग कर संरक्षित कर भंडारण किया जाता है। 30 अक्तूबर 2019 को विभागीय टीम ने निरीक्षण किया तो पूरे इलाके में दुर्गंध फैली मिली। गोदामों में जनित साल्ट और वायु प्रदूषण के नियंत्रण के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई थी। पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति के रूप में अर्थदंड लगाया गया है। बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी अजय शर्मा ने बताया कि जिला प्रशासन से सभी औद्योगिक इकाईयों को तत्काल प्रभाव से बंद कराने और बिजली - पानी कनेक्शन काटने का अनुरोध किया जाएगा।
... और पढ़ें

मुरादाबादः आज रात दिल्ली रोड स्थित लोको शेड पुल पर नो एंट्री, बदला गया है रास्ता

लोकोशेड पुल पर शनिवार से गार्डर रखने का कार्य किया जाएगा। इसके लिए यातायात पुलिस ने रूट डायवर्जन कर दिया है। शनिवार रात ग्यारह बजे से सुबह छह बजे तक लोकोशेड पुल पर यातायात पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

इस दौरान दिल्ली रोड से आने वाली लाकड़ी फाजलपुर तिराहे से टीपी नगर, हनुमान मूर्ति तिराहे से शहर की ओर आएंगे और इसी रास्ते से वापस जाएंगे। जबकि शहर से दिल्ली रोड की ओर जाने वाले वाहन फव्वारा चौक पर रोक दिए जाएंगे।

इन वाहनों को रेलवे स्टेशन से हनुमान मूर्ति तिराहा से पंडित नगला बाईपास से टीपी नगर और लाकड़ी फाजलपुर तिराहे से दिल्ली रोड पर भेज जाएंगे। एसपी यातायात सतीश चंद्र ने बताया कि दिल्ली रोड से कंटेनर डिपो में आने वाले कंटेनर और ट्रक रात नौ बजे से ग्यारह बजे के बीच आ सकेंगे।

उन्होंने बताया कि चौबीस फरवरी 2020 को दोपहर बारह बजे से शाम चार बजे तक भी लोकोशेड पुल पर यातायात बंद रहेगा। इस दौरान भी वाहनों को तय मार्गों से गुजारा जाएगा।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक प्रतीकात्मक

इंश्योरेंस में निवेश कराने के नाम पर सेवानिवृत्त रेलकर्मी से आठ लाख की ठगी

मुरादाबाद। इंश्योरेंस में निवेश कराने के नाम पर रिटायरमेंट के बाद एक रेलकर्मी से आठ लाख रुपये की ठगी कर ली गई। मझोला थाने में सेवानिवृत्त रेल कर्मी ने एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के दो डायरेक्टर, तत्कालीन मैनेजर और उसकी पत्नी के खिलाफ केस दर्ज कराया है। जिसमें आरोप लगाया है कि तत्कालीन मैनेजर ने उनसे पालिसी करने के नाम पर आठ लाख रुपये का चेक लिया और उसे अपनी पत्नी की कंपनी के नाम ट्रांसफर कर लिया। पीड़ित को ठगी की जानकारी तब हुई जब अगली किस्त के लिए उनके पास बैंक से कॉल आई।
ठगी का शिकार होने वाले चंद्र प्रकाश सिंह मझोला थानाक्षेत्र के लाइन पार रामतलैया निवासी हैं। उन्होंने बताया कि वह रेलवे में ड्राइवर पद से 31 जनवरी 2019 को सेवा निवृत्त हुए थे। उन समेत 80 रेल कर्मी एक ही सेवा निवृत्त हुए थे। इस मौके पर डीआरएम कार्यालय में सेवा निवृत्त कर्मचारियों के सम्मान में कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में खुद को एसबीआई लाइफ इंश्योरेेंस कंपनी के मैनेजर बताने वाले नागेंद्र कुमार मिश्रा उपस्थित हुए थे और उन्होंने सभी 80 सेवा निवृत्त रेल कर्मचारियों को इनवेस्टमेंट पॉलिसी के बारे में बताया था। कहा था कि पांच साल में 10 लाख रुपये जमा करने पर 15 लाख 52 हजार रुपये मिलेंगे। इसके कुछ दिन बाद खुद नागेंद्र उनके घर पहुंचा और कहा कि हर साल दो लाख रुपये जमा करने होंगे। उन्होंने दो लाख रुपये का चेक नागेंद्र को दे दिया था। पहली किस्त के रूप में एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के नाम चेक दिया था। चंद्र प्रकाश ने बताया कि कुछ दिन बाद नागेन्द्र का साथी सहकर्मी आशीष कुमार उनके घर पहुंचा और उसने कहा कि बाकी आठ लाख रुपये अगर एक बार में ही जमा करे देंगे तो पांच साल पूरे होने पर दो लाख अतिरिक्त मिलेंगे। उन्होंने आठ लाख रुपये का चेक एसबीआई इंश्योरेंस कंपनी के नाम दे दिया। एक साल बाद बैंक से उनके पास फोन आया और कहा गया कि वह अपनी पॉलिसी की दूसरी किस्त जमा करें। तब उन्होंने बैंक जाकर इसकी जानकारी की। तब पता चला कि नागेंद्र मिश्रा ने जो चेक उनसे लिया था, उसे बैंक में जमा न करके बिजनेस इंफ्रा प्राइवेट कंपनी में लगा दिया है। इस कंपनी की डायरेक्टर उसकी पत्नी विजय लक्ष्मी के ना पर चेक लगाया गया। चंद्र प्रकाश ने बताया कि उनके साथ हुई धोखाधड़ी में एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के दो डायरेेक्टर भी शामिल रहे हैं। इंस्पेक्टर मझोला राकेश कुमार सिंह ने बताया कि चंद्र प्रकाश की तहरीर पर नागेंद्र कुमार मिश्रा, उसकी पत्नी विजय लक्ष्मी, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के डायरेक्टर रणधीर त्रिपाठी और उमेश कुमार वर्मा के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे। उसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

शुक्रवार को भी वतन नहीं लौट पाए वुहान में फंसे लोग

रामपुर। कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान शहर में फंसे प्रोफेसर दंपती समेत 80 भारतीयों की शुक्रवार को भी वतन वापसी नहीं हो सकी। भारत से विशेष विमान गुरुवार की रात दिल्ली से वुहान के लिए उड़ान भरने वाला था, लेकिन अपिरहार्य कारणों के चलते उड़ान नहीं भर सका। अब विमान कब उड़ान भरेगा और वुहान में फंसे भारतीयों को कब वापस लाएगा, इसको लेकर दूतावास से भी कोई जानकारी नहीं दी गई है।
सिविल लाइंस थाना क्षेत्र की शिवापुरम निवासी शैतान सिंह की बेटी नेहा, एटा जनपद निवासी अपने पति आशीष यादव के साथ वुहान शहर में फंसी हुई हैं। नेहा के मुताबिक वुहान में करीब 80 भारतीय फंसे हुए हैं, जिन्हें एयरलिफ्ट किया जाना है। आशीष और नेहा ने सोशल मीडिया के जरिए भारत तक मदद का संदेश भेजा तो यहां पर भी सांसद और विदेश मंत्रालय की सक्रियता पर आशीष-नेहा समेत 80 भारतीयों की वतन वापसी की तैयारियां शुरू हुईं। उन लोगों को पहले बुधवार को भारत वापस बुलाने की जानकारी दी गई और इसके बाद शुक्रवार को वापस बुलाने की जानकारी दी गई थी। जिसके लिए चिकित्सा सामग्री पहुंचाने के लिए गुरुवार की रात को भारत से एक विशेष विभान रवाना होना था लेकिन वह शुक्रवार दोपहर तक नहीं पहुंच सका। शुक्रवार को दोपहर करीब दो बजे (भारतीय समयानुसार) जब नेहा यादव से संपर्क किया गया, तो उन्होंने बताया कि अभी तक उनके पास दूतावास से कोई फोन नहीं आया है। वुहान में फंसे भारतीयों के समूह में धैर्य बनाए रखने और जल्द मदद का संदेश जरूर दिया गया है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में जब इस संबंध में वार्ता की गई तो जानकारी मिली कि विमान तकनीकी कारणों से दिल्ली में ही खड़ा है।
उधर सोशल मीडिया प्रोफेसर दंपती के फंसे होने का मामला तेजी से वायरल होने पर पीएमओ कार्यालय हरकत में आ गया था।पीएम नरेंद्र मोदी ने विदेश मंत्रालय के अफसरों को प्रोफेसर दंपती समेत अन्य लोगों को वापस स्वदेश लाने के निर्देश दिए थे।
... और पढ़ें

तीन भवन भी हैं चकरोड की जमीन पर, प्रशासन ने दी तीन दिन की मोहलत 

राजस्व परिषद में चकरोड की जमीन से संबंधित द्वितीय अपील खारिज होने के बाद जिला प्रशासन ने यूनिवर्सिटी कैंपस में स्थित 17 बीघा जमीन की पैमाइश की थी। पैमाइश के बाद जमीन को अपने कब्जे में लेते हुए प्रशासन ने इसके देखरेख की जिम्मेदारी सींगनखेड़ा के प्रधान को सौंप दी थी। पैमाइश के दौरान यह बात सामने आई थी कि जौहर यूनिवर्सिटी के तीन भवन का हिस्सा चकरोड की जमीन में आ रहा है। 

चकरोड की जमीन की पैमाइश के बाद यह बात सामने आई थी कि वीसी आवास का कुछ हिस्सा, निर्माणाधीन मेडिकल कालेज की दीवार और एक निर्माणाधीन बिल्डिंग की दीवार चकरोड की जमीन पर है। इसके बाद धारा 82 के तहत यूनिवर्सिटी को नोटिस जारी किया गया था। गुरुवार को जब एसडीएम सदर पीपी तिवारी के नेतृत्व में कई थानों की पुलिस और राजस्व कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर जौहर यूनिवर्सिटी चाहरदीवारी को तीन जगहों पर तोड़ कर रास्ता बना दिया। 

मौके पर पहुंचे यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर को एसडीएम सदर ने बताया कि तीन बिल्डिंगें भी चकरोड की जमीन पर आ रही हैं। उन्होंने लेखपाल को निर्देश दिया कि वह शनिवार को यूनिवर्सिटी जाकर वीसी को अवगत करा दे कि किस बिल्डिंग का कितना हिस्सा चकरोड की जमीन पर आ रहा है। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि इस बारे में एक फरवरी को नोटिस जारी किया जा चुका है। यूनिवर्सिटी में किसी तरह की अफरातफरी का माहौल हो ऐसा प्रशासन नहीं चाहता हैं। बेहतर तो यही होगा कि यूनिवर्सिटी प्रबंधन खुद ही चकरोड की जमीन से निर्माण हटवा ले। इसके लिए तीन दिन का वक्त दिया गया है।

सांसद आजम खां की जौहर यूनिवर्सिटी में चकरोडों की पैमाइश पूरी होने के बाद जमीन को कब्जा मुक्त कराने की कार्रवाई शुरु कर दी गई है। चूंकि, चकरोड़ों की इस जमीन पर कुछ इमारतें भी जद में आ गई हैं, जिसके बाद यूनिवर्सिटी को जमीन खाली करने के लिए नोटिस जारी किए जाएंगे।

राजस्व परिषद ने ग्यारह चकरोडों की 17 बीघा जमीन को खाली कराने के आदेश दिए थे। इसके अनुपालन में राजस्व टीम यूनिवर्सिटी पहुंची थी और चकरोड की पैमाइश कर ली थी। प्रशासन ने चकरोड की जमीन सींगनखेड़ा की ग्राम प्रधान को दखल नामा भी दे दिया। वहीं, पैमाइश में यह भी सामने आया कि एक चकरोड पर निर्माणाधीन मेडिकल कालेज की दीवार बनी है, जबकि दूसरे में निर्माणाधीन इमारत आ रही हैं। 

चकरोड में वाइस चांसलर आवास का कुछ हिस्सा आ रहा है। ऐसे में चकरोड़ की जमीन पर बनी इन इमारतों को हटाया जाएगा। इसके लिए धारा 82 के तहत यूनिवर्सिटी को नोटिस जारी करने की तैयारी की जा रही है। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी प्रशासन को चकरोड़ों की जमीन से इमारतों एवं निर्माण को हटाने के लिए नोटिस जारी किए जाएंगे। नोटिस संभवत: सोमवार को जारी किए जाएंगे।
... और पढ़ें

आपरेशन कराना है तो साथ लेकर आएं ब्लड डोनर

प्रशासनिक कार्रवाई
मुरादाबाद। जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत आपरेशन से डिलीवरी करानी पड़ी तो तो ब्लड डोनर साथ लेकर ही सरकारी अस्पताल आएं। डोनर साथ नहीं होने से डिलीवरी के ऐन वक्त आपको ब्लड का इंतजाम करने में जूझना पड़ सकता है। सरकारी अस्पताल का ब्लड बैंक लगभग खाली हो गया है। स्वैच्छिक रक्तदान के प्रति जागरूकता के अभाव में ब्लड बैंक में मात्र 35 यूनिट ब्लड है। यह कोटा भी वीआईपी और वीवीआईपी के लिए आरक्षित है। ऐसे में थैलेसीमिया के रोगियों के लिए भी बमुश्किल ब्लड का इंतजाम हो रहा है।
जिला अस्पताल में 1000 यूनिट क्षमता का ब्लड बैंक है। जननी सुरक्षा योजना, थैलेसीमिया, एचआईवी और लावारिस मरीजों के लिए निशुल्क ब्लड दिया जाता है। ब्लड बैंक में 65 थैलेसीमिया के मरीज पंजीकृत हैं। अधिकतर मरीजों को सप्ताह में एक या दो बार ब्लड चढ़ता है। जननी सुरक्षा योजना में महिला अस्पताल के लिए प्रतिदिन चार से पांच यूनिट ब्लड जारी होता है। प्रतिदिन एक से दो यूनिट लावारिस मरीजों और एचआईवी पीड़ितों को दिया जाता है। पिछले एक सप्ताह से बैंक में ब्लड की मारामारी हो गई है। स्वैच्छिक रक्तदान के लिए लोग नहीं पहुंच रहे हैं। इससे थैलेसीमिया के मरीज ही नहीं बल्कि ब्लड बैंक कर्मी भी जूझ रहे हैं। बैंक में 35 यूनिट ब्लड है। इसमें भी रेयर ग्रुप नहीं हैं। अस्पताल प्रशासन जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत आपरेशन से डिलीवरी वाले केस में तीमारदारों से रक्तदान करवा रहे हैं।
शिविर न लगने से कमी
ब्लड बैंक प्रभारी डा. आरएस सैनी बताते हैं, डोनर नहीं आने से समस्या बढ़ी है। इमरजेंसी होने पर बैंक कर्मी खुद ही रक्तदान कर रहे हैं। डा. सैनी ने बताया कि विगत दिवस चार साल के एक बच्चे को ब्लड की जरूरत थी। बच्चा एनीमिया से पीड़ित था और तीमारदार भी खून देने की स्थिति में नहीं थे। ब्लड बैंक कर्मी मो नईम ने बच्चे के लिए रक्तदान किया। डा. सैनी ने बताया कि स्वयंसेवी संस्थाओं ने भी पिछले कुछ महीनों से शिविर नहीं लगाए हैं। इससे बैंक में ब्लड की कमी हुई है।
... और पढ़ें

बेवफा मंगेतर नहीं पहुंचा शादी करने तो युवती का मानसिक संतुलन बिगड़ा

मंगेतर ने कोर्ट मैरिज करने से इनकार किया तो युवती का मानसिक संतुलन बिगड़ गया। वह घंटों से कचहरी में मंगेतर का इंतजार कर रही थी। इसके बाद भी वह नहीं आया तो युवती ने कचहरी में हंगामा शुरू कर दिया। वह जोर-जोर से चीखने लगी। पुलिस उसे थाने ले आई। युवती ने थाने में भी अपना सिर दीवार में मारने की कोशिश की। युवती ने कहा कि अगर उसकी शादी मंगेतर से नहीं हुई तो वह मर जाएगी। वह जी नहीं पाएगी। पुलिस ने युवती को समझाकर उसकी मां के साथ भेज दिया है।

युवती सिविल लाइंस क्षेत्र की रहने वाली है। वह एक कालेज में पढ़ाती है। सिविल लाइंस क्षेत्र में मिशन कंपाउंड निवासी युवक से दो साल से उसके प्रेम संबंध हैं। दोनों ने अपने अपने परिवार में इसकी जानकारी दी और शादी करने की इच्छा जताई। युवती की मां ने बताया कि छह माह पहले दोनों का रिश्ता तय कर दिया था, लेकिन बाद में युवक शादी करने से इनकार करने लगा। उसने कहा कि उसके परिजन शादी के लिए राजी नहीं हैं। दो दिन पहले दोनों के बीच तय हुआ था कि गुरुवार को कचहरी में कोर्ट मैरिज करेंगे।

युवती अपनी मां को साथ लेकर कचहरी पहुंच गई। यहां युवती अधिवक्ता के चैंबर पर घंटों बैठी रही। उसने मंगेतर को कई बार कॉल की। वह हर बार बहाना बनाता रहा। उसने कहा कि उसका आधार कार्ड नहीं मिल रहा है। उसके बिना कोर्ट मैरिज नहीं हो पाएगी। युवती ने कहा कि उसके आधार कार्ड की कॉपी मेरे मोबाइल में है। उससे काम चल जाएगा। इसके बाद भी युवक नहीं पहुंचा। बाद में मंगेतर ने अपना मोबाइल बंद कर लिया। जिससे युवती परेशान हो गई और वह हंगामा करने लगी। उसने अपनी जान देने की कोशिश भी की। जिससे मौके पर हड़कंप मच गया।

सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर नवल मारवाह महिला दरोगा और महिला सिपाही को साथ लेकर मौके पर पहुंचे और युवती को थाने ले आए। यहां भी युवती ने हंगामा किया। किसी तरह पुलिस कर्मियों ने उसे समझाकर शांत किया। इंस्पेक्टर नवल मारवाहा ने बताया कि दोनों पक्षों में समझौता हो गया। युवती के परिजनों ने दस दिन का समय मांगा है। वह दस दिन में शादी कर लेंगे। इसके बाद युवती उसकी मां की सुपुर्दगी में दे दी है।
... और पढ़ें

कब्र से शव निकलावाकर कराया गया बच्ची के शव का पोस्टमार्टम

मुरादाबाद। मझोला पुलिस ने कोर्ट से अनुमति लेकर बच्ची के शव का कब्र से निकलवाकर पोस्टमार्टम कराया। चौधरपुर गांव में तीन दिन पहले बच्ची की नदी में डूबकर मौत हो गई थी। परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही शव दफना दिया था। बुधवार को किसी ने यूपी 112 पर कॉल कर बच्ची की हत्या की सूचना दे दी। गुरुवार शाम आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पानी में डूबने से मौत की पुष्टि हुई है।
इंस्पेक्टर मझोला राकेश सिंह ने बताया कि क्षेत्र के चौधरपुर गांव विपिन सिंह परिवार रहता है। उसके परिवार में पत्नी संतोष और दो बेटियां एवं एक बेटा है। इंस्पेक्टर ने बताया कि सोमवार को विपिन की पत्नी अपनी पांच माह की बेटी को लेकर गांगन नदी के किनारे से होकर गुजर रही थी। अचानक महिला की गोद से छिटककर बच्ची नदी में गिर गई थी। बच्ची बह गई। काफी देर तलाश करने पर अगले दिन काफी आगे उसका शव मिल पाया।
परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही बच्ची को सुपुर्द ए खाक कर दिया था। इसी बीच किसी ग्रामीण ने 112 नंबर पर कॉल करके पुलिस को बताया कि एक बच्ची की हत्या करने के बाद उसका शव दफना दिया था। सूचना पर यूपी डायल 112 की पीआरवी मौके पर पहुंची गई थी। इसके बाद थाना पुलिस को इसकी जानकारी दी गई। पुलिस ने कब्र से शव निकालने के लिए मजिस्ट्रेट से अनुमति मांगी थी। पुलिस ने तहसीलदार की मौजूदगी में कब्र से बच्ची के शव को निकलवाया गया और शव पोस्टमार्टम को भिजवा दिया। इंस्पेक्टर ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पानी में डूबने से बच्ची की मौत की पुष्टि हुई है। परिजनों ने पूछताछ में बच्ची को नदी में गिरने की बात कही है। बच्ची का शव परिजनों को सौंप दिया गया है।
... और पढ़ें

पत्नी की हत्या में पति को आजीवन कारावास

मुरादाबाद। दहेज की मांग पूरी न होने पर गोली मारकर पत्नी की हत्या करने वाले मुलजिम पति को एफटीसी तृतीय अविनाश कुमार सिंह की अदालत ने दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है, जबकि 55 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित भी किया है।
सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता सुरेंद्र पाल सिंह ने बताया कि मझोला थाने में 26 मार्च 2016 को श्यामवीर ने नितेश निवासी नेता कालोनी के खिलाफ केस दर्ज कराया था। जिसमें उन्होंने बताया गया था कि नितेश से उसकी बेटी भावना की शादी हुई थी। दहेज की मांग पूरी न होने पर नितेश ने भावना को गोली मार दी थी। दो माह तक अस्पताल में महिला का इलाज चला था। इसके बाद उसकी मौत हो गई। आरोपी के खिलाफ पहले जानलेवा हमले की रिपोर्ट। इसके बाद हत्या की धारा भी केस में जोड़ी गई थी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। पुलिस ने इस मामले में तफ्तीश पूरी करने के बाद आरोपी नितेश के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दाखिल की गई थी। इस केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट तृतीय अविनाश कुमार सिंह की अदालत में चली। जिसमें सरकार की ओर से एडीजीसी सुरेंद्र पाल सिंह ने पक्ष रखा और मुलजिम को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने को दलीलें दीं। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने, साक्ष्य, पोस्टमार्टम रिपोर्ट और गवाही के आधार पर मुलजिम को पत्नी की हत्या में दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है, जबकि 55 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है।
... और पढ़ें

चौरासी घंटा भगवान आशुतोष के जलाभिषेक को उमड़े श्रद्धालु

मुरादाबाद। शहर के प्रमुख शिवालय 84 घंटा मंदिर में महाशिवरात्रि के पर्व पर डेढ़ लाख कांवड़ियों द्वारा जलाभिषेक किया जाएगा। मंदिर के महंत के अनुसार सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त कर ली गई हैं। शनिवार शाम चार बजे तक जलाभिषेक होगा। अन्य सभी शिवालयों में भी महाशिवरात्रि हर्षोल्लास से मनाई जाएगी। इसके लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। गुरुवार दोपहर को ही मंदिरों में साज-सज्जा का काम पूरा हो गया है। शाम से सभी मंदिर भव्य लाइटों से जगमग हो उठे। आधी रात से शिवालयों में रुद्राभिषेक का दौर शुरू हो गया, जबकि तड़के तीन बजे से कांवड़िए भगवान शिव का जलाभिषेक शुरू कर देंगे। इसके साथ ही शिवालय बम-बम भोले के उद्घोष से गूंजने लगेंगे।
पांच हजार वर्ष पुराना है 84 घंटा मंदिर
प्रमुख शिवालाय 84 घंटा मंदिर में सजावट को भव्य रूप देने के लिए मुंबई, दिल्ली और मेरठ से फूल मंगवाए गए हैं। गुरुवार को दिन भर कारीगर सजावट में जुटे रहे। छह क्विंटल फूलों से मंदिर परिसर को सजाया गया। सजावट में तीन तरह के गेंदे के फूल, जरवरा, गुलदावरी, रजनीगंधा गुलाब के फूलों के अलावा अशोक के पत्तों को लगाया है। मंदिर के पुजारी भी मूर्तियों की साफ-सफाई के साथ भगवान के शृंगार में लगे हुए थे। मंदिर के बाहर गली में भी सजावट की गई है। इसके अलावा मंदिर में घंटा चढ़ाने का भी महत्व है। महंत विष्णु दत्त ने बताया कि यह सिद्ध मंदिर करीब पांच हजार वर्ष पुराना है। मान्यता है कि जिन श्रद्धालुओं की मनोकामना पूरी हो जाती है, वह 40 दिन तक दीपक जलाते हैं। इसके अलावा घंटा भी चढ़ाया जाता है। सन 1911 में नेपाल के राजा अपने परिवार के साथ आए थे। बताया जाता है कि उनके कोई संतान नहीं थी। संतान प्राप्ति पर उन्होंने मंदिर में अष्टधातु का घंटा चढ़ाया था। महाशिवरात्रि पर श्रद्धालु हरिद्वार से गंगाजल लेकर आते हैं। सुबह तीन बजे से ही कांवड़ चढ़ना शुरू हो जाएगा। दिनभर में करीब डेढ़ लाख कांवड़ चढ़ेंगी। इसके अलावा करीब तीन से चार लाख श्रद्धालु जलाभिषेक करेंगे। कांवड़ियों के ठहरने के लिए गंगामंदिर और एक धर्मशाला में व्यवस्था की गई है। गली में घुमने के बाद मुख्य द्वार से कांवड़ लेकर आते हैं। पुरुषों और महिलाओं के प्रवेश की अलग-अलग व्यवस्था रहेगी। मंदिर में शाम चार बजे से रात नौ बजे तक हवन किया जाएगा। इसके बाद रात 12 बजे से शनिवार शाम चार बजे तक जलाभिषेक होगा। ढ़ाई क्विंटल दूध का पंचामृत बंटवाया जाएगा। बाहर भंडारा भी लगता है। मंदिर रातभर खुला रहेगा।
शृंगार के बाद होगी महाआरती
झारखंडी बाबा मंदिर में गुरुवार को साफ-सफाई की गई। महंत बाबा भोलेनाथ योगीराज ने बताया कि गुरुवार रात 11 बजे से रुद्राभिषेक शुरू हो जाएगा। पंडित पुष्पराज शास्त्री रुद्राभिषेक करवाएंगे। सुबह चार बजे से कांवड़ चढ़ना शुरू होंगी। गेंदा, गुलाब, रजनीगंधा, डेलिया आदि फूलों से सजावट होगी। शाम चार बजे भगवान का शृंगार किया जाएगा और रात आठ बजे तक महाआरती होगी। मंदिर में सावन की अपेक्षा महाशिवरात्रि पर कांवड़ कम चढ़ती हैं।
स्वयंभू हैं झारखंडी बाबा
महंत भोलेनाथ योगराज ने बताया कि यहां भगवान स्वयंभू हैं। हजारों वर्ष पुराना मंदिर है। यहां पर झांड़ियां थीं, इसलिए इसे झारखंडी भोलेनाथ कहा गया है। पहले बहुत छोटा मठ था। मंदिर का जीर्णोद्धार वर्ष 1992 में कराया गया है। यहां पर 40 दिन के दीपक जलाने से मनोकामना पूरी होने की मान्यता हैं। अषाढ़, सावन और भादों में ज्यादा भीड़ रहती है।
प्राचीन मंदिर झांझनपुर के महंत पंडित केदानाथ मिश्र ने बताया कि इस बार वाहनों से ज्यादा श्रद्धालु कांवड़ लेकर आए हैं। शुक्रवार सुबह शिव महापुराण का समापन होगा। इसके बाद हवन और पूर्ण आहुति की जाएगी। सुबह चार बजे से कांवड़ चढ़ना शुरू हो जाएंगी। श्रद्धालुओं को परेशानी न हो, इसके लिए बैरीकैडिंग की गई है। फलों का प्रसाद वितरित किया जाएगा।
इसके अलावा माता मंदिर लाइनपार, मनोकामनाश्री हनुमान मंदिर, महाकालेश्वर धाम मंदिर, श्री शिव मंदिर सागर सराय, ढाब वाला मंदिर, ऋणमुक्तेश्वर मंदिर, किसरौल स्थित गंगा मंदिर, लोकोशेड स्थित शिव मंदिर, रामगंगा विहार स्थित शिवशक्ति मंदिर सहित शहर के सभी शिवालयों में जलाभिषेक किया जाएगा।
... और पढ़ें

तीन दिन बंद रहेंगे बैंक

मुरादाबाद। बैंकों में शुक्रवार से रविवार तक अवकाश रहेगा। तीन दिन तक बैंक बंद रहने पर नकद धनराशि के लिए एटीएम ही सहारा रहेंगे। अग्रणी जिला प्रबंधक के अनुसार गुरुवार शाम सभी एटीएम में धनराशि भरवा दी गई है। तीन दिन तक एजेंसी पर नकदी भरने की जिम्मेदारी रहेगी।
शुक्रवार को महाशिवरात्रि का और शनिवार को माह का चौथा शनिवार होने की वजह से सभी बैंकों में अवकाश रहेगा। इसके बाद रविवार की छुट्टी है। सोमवार को ही बैंक खुलेंगे। ऐसे में ग्राहकों को नकदी की समस्या हो सकती है। अग्रणी जिला प्रबंधक सतीश कुमार गुप्ता का कहना है कि मुरादाबाद में 307 एटीएम में से करीब 150 एटीएम में नकदी भरने की जिम्मेदारी एजेंसी को है। प्रतिदिन एटीएम से करीब साढ़े 24 करोड़ की धनराशि की खपत है। इसलिए एजेंसी अधिकारियों को भी नकदी खत्म होते ही तुरंत एटीएम में रुपये भरने के निर्देश दिए गए हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us