विज्ञापन
विज्ञापन
कराएं वसंत पंचमी पर बासर के सरस्वती मंदिर में पूजा, पढ़ाई व प्रतियोगी परीक्षाओं में मिलती है सफलता :29 जनवरी 2020
Astrology Services

कराएं वसंत पंचमी पर बासर के सरस्वती मंदिर में पूजा, पढ़ाई व प्रतियोगी परीक्षाओं में मिलती है सफलता :29 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सीएए और एनआरसी के खिलाफ भारत बंद, तपन बोस बोले- पाकिस्तान दुश्मन देश नहीं

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशभर में विरोध-प्रदर्शन का दौर थमता नजर नहीं आ रहा है। सीएए के खिलाफ बुधवार को कुछ संगठनों ने भारत बंद का एलान किया है।

29 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

पीलीभीत

बुधवार, 29 जनवरी 2020

शाहजहांपुर के तस्करों ने दियूरा गांव में की थी गोहत्या, तीन गए जेल

बिलसंडा (पीलीभीत)। दियूरा गांव के गन्ने के खेत में गोहत्या तालगांव (शाहजहांपुर) के तस्करों ने की थी। पुलिस ने सूचना पर दबिश दी तो तस्करों ने फायर कर दिया। हालांकि तीन को पीछा कर धर दबोचा, जबकि एक भाग निकला। उनके पास से चोरी की तीन मोटर साइकिल बरामद हुई। इन्हीं बाइकों का सौदा करने के लिए वह जमा हुए थे। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर तीनों तस्करों को जेल भेज दिया है।
बरखेड़ा थाना क्षेत्र के दियूरा गांव में शनिवार सुबह दो गोवंशीय पशुओं के अवशेष मिले थे। अज्ञात के खिलाफ गोहत्या निवारण अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। बरखेड़ा पुलिस तस्करों को तलाशती रह गई और गुडवर्क बिलसंडा पुलिस के खाते में चढ़ गया। सोमवार तड़के बिलसंडा इंस्पेक्टर हरीशंकर वर्मा को सूचना मिली कि कुछ अपराधी घुघौरा मोड़ पर तेज बहादुर के गन्ने के खेत में जमा है। वह चोरी की बाइकों का सौदा करने के लिए जमा हुए हैं। पुलिस टीम ने दबिश दी। पुलिस को देख तस्करों ने तमंचे से फायर कर दिया और भागने लगे। पीछा कर पुलिस ने तीन आरोपी निगोही (शाहजहांपुर) के गांव तालगांव निवासी कल्लू हुसैन, सद्दाम उर्फ नाना और चकसफोरा गांव निवासी संजयपाल को धर दबोचा, जबकि एक साथी तालगांव निवासी खालिद भाग गया। चोरी की तीन बाइक, गोहत्या में इस्तेमाल उपकरण, 315 बोर के दो, 312 बोर का एक तमंचा, तीन कारतूस बरामद किए। इंस्पेक्टर बिलसंडा हरीशंकर वर्मा ने बताया कि थाने में पूछताछ की गई तो तीनों ने 24 जनवरी की रात दियूरा गांव में गोहत्या करने की बात कबूल की। उनके खिलाफ पूर्व में भी गोहत्या निवारण अधिनियम के मामले दर्ज हैं।
पकड़े गए तीनों आरोपी गोहत्या के साथ ही चोरी की बाइकों की खरीद-फरोख्त भी करते थे। उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जेल भेज दिया है। अन्य साथियों की गिरफ्तारी को दबिश दी जा रही हैं। - रोहित मिश्र, एएसपी
... और पढ़ें

शहर में ढाई किलोमीटर घूम ली तिरंगा यात्रा, तब रोककर किए 17 गिरफ्तार

पीलीभीत। गणतंत्र दिवस पर बिना अनुमति निकाली जा रही तिरंगा यात्रा को पुलिस ने रोक दिया। वीर हिंदू युवा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत 17 को गिरफ्तार कर शांतिभंग की आशंका में चालान किया गया। बैंडबाजा पार्टी की लाउडस्पीकर लगी ठेली समेत सात वाहन सीज किए गए। शहर में करीब ढाई किलोमीटर घूमने के बाद यह कार्रवाई हो सकी।
दो साल पहले कासगंज में बिना अनुमति तिरंगा यात्रा निकाले जाने के दौरान एक युवक की मौत हो गई थी। इसके बाद से तिरंगा यात्रा को लेकर शासन-प्रशासन के सख्त निर्देश हैं। रविवार को गणतंत्र दिवस के मौके पर वीर हिंदू युवा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर रविंद्र सिंह की अगुवाई में शहर में तिरंगा यात्रा निकाली गई। गाजे-गाजे के साथ युवा इसमें शामिल हुए। असम रोड चौराहा से शुरू हुई यात्रा शहर के मुख्य रास्तों से होती हुई ठेका पुलिस चौकी के पास पहुंच गई। उस वक्त अफसर पुलिस लाइन के कार्यक्रम में व्यस्त थे। बाद में खबर मिलने पर सीओ सिटी धर्म सिंह मार्छाल, कोतवाल श्रीकांत द्विवेदी, इंस्पेक्टर सुनगढ़ी राजेश कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। तिरंगा यात्रा निकाल रहे युवाओं से अनुमति पत्र मांगा गया तो वे कुछ नहीं दिखा सके। इसके बाद कार्रवाई करते हुए कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तारी शुरूकर दी। 17 लोगों को मौके से पकड़ा गया। जबकि सात वाहन भी कब्जे में लेकर सीज कर दिए। पुलिस की कार्रवाई देख तमाम युवा भाग गए। सिटी मजिस्ट्रेट अरुण कुमार भी मौके पर पहुंच गए। पूरे मामले की जानकारी जुटाई। एहतियातन टीम के साथ अधिकारियों ने शहर का भ्रमण किया।
पकड़ते ही मांगी माफी
बिना अनुमति तिरंगा यात्रा निकालते पकड़े गए युवकों का कोतवाली पहुंचते ही जोश ठंडा पड़ गया। खुद को कार्रवाई से बचाने के लिए वे माफी मांगते नजर आए। एक पदाधिकारी ने तो यह भी कह दिया कि साहब..बच्चा समझकर माफ कर दीजिए, दोबारा ऐसा नहीं करूंगा।
इनका हुआ चालान
वीर हिंदू युवा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर रविंद्र सिंह (निवासी अंबेडकर पार्क), पकड़िया के विनय कुमार, सुनगढ़ी के शशांक सक्सेना, अंबेडकर पार्क के महेश, वीरेंद्र सागर, योगेश कुमार, विक्रम कुमार शर्मा, अजीत सिंह और पवन सिंह, खरुआ (जहानाबाद) के विशाल और रोहित, नौगवां पकड़िया के महेश, आवास विकास कॉलोनी निवासी अनमोल त्रिपाठी व आकाश कुमार, नकटादाना कॉलोनी के शुभम कुमार, मनीष यादव, चिड़ियादाह गांव निवासी शाने आलम।
छुटभैये पहुंच गए छुड़ाने, लौटे बैरंग
पकड़े गए युवकों को छुड़ाने के लिए कुछ छुटभैये नेता कोतवाली पहुंच गए। वहां पर सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ सिटी मौजूद थे। उन्होंने जैसे ही पकड़े गए युवकों को छुड़ाने के लिए बातचीत शुरू की, अफसरों ने सख्ती दिखाते हुए कानून का पाठ पढ़ाना शुरू कर दिया। इसके बाद छुटभैये बैकफुट पर आ गए और कोतवाली से निकलने में ही भलाई समझकर चले गए।
बिना अनुमति तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी। पकड़े गए युवकों का शांतिभंग की आशंका में चालान किया गया, जबकि वाहन सीज किए गए हैं। -धर्म सिंह मार्छाल, सीओ सिटी
... और पढ़ें

मानसिक मंदित ने की थी वृद्ध शांतिदास की हत्या

बीसलपुर (पीलीभीत)। जंगल में लकड़ी बीनने गए बुजुर्ग शांतिदास की हत्या करने वाला मानसिक मंदित निकला। लकड़ी बीनने गए बुजुर्ग ने जब उसके पूछे सवालों का कोई जवाब नहीं दिया तो उसने गुस्से में आकर कुल्हाड़ी छीन ली और हत्या कर डाली। सुरागरसी के बाद पुलिस ने हत्यारोपी को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया। सोमवार को आरोपी का चालान कर जेल भेज दिया है।
दियोरियाकलां कोतवाली क्षेत्र के गांव दियोहना निवासी 72 वर्षीय शांतिदास 23 जनवरी को जंगल में लकड़ी बीनने गए थे। इसके बाद उनका शव जंगल में पड़ा मिला था। गर्दन पर कुल्हाड़ी से वार किया गया था। एक हाथ काटकर दफन करने के बाद शव को जलाने की कोशिश की गई थी। भतीजे देवदत्त से मिली तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। परिजन और ग्रामीण विवाद और रंजिश से इंकार कर रहे थे। पुलिस ने घटना को लेकर सुरागरसी की तो एक मानसिक मंदित का नाम सामने आया। उसके अक्सर जंगल में घूूमने की बात भी सामने आई। प्रकाश में आए संदिग्ध मानसिक मंदित गांव लक्ष्मनपुर गौटिया निवासी देवकीनंदन को पुलिस ने हिरासत में लिया। सख्ती से पूछताछ करने के बाद पुलिस हत्याकांड का खुलासा करने में कामयाब हो गई।
इंस्पेक्टर दियोरियाकलां शहरोज अनवर ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी मानसिक मंदित है। 23 जनवरी जब शांतिदास लकड़ी बीन रहे थे तो आरोपी भी वहां पर था। वह शांतिदास से बातचीत करते हुए आरोपी ने कुछ सवाल किए। इस पर शांतिदास ने जवाब नहीं दिया। दोनों के बीच कहासुनी होने लगी। इसी दौरान आरोपी ने शांतिदास की कुल्हाड़ी छीनकर वार कर दिया। पहले शांतिदास का बायां हाथ काटा और फिर गर्दन पर वार किया। इसके बाद शव को जलाने की कोशिश की गई थी। एएसपी रोहित मिश्र ने बताया कि हत्या का खुलासा कर आरोपी को जेल भेजा गया है।
... और पढ़ें

अब टीएसी करेगी नगर निकायों और डूडा के निर्माण कार्यों की जांच

पीलीभीत। अब नगरपालिका, नगर पंचायतों और जिला नगरीय विकास अभिकरण (डूडा) द्वारा कराए जा रहे निर्माण कार्यों की जांच टेक्निकल ऑडिट सेल (टीएसी) करेगी। डीएम ने कुछ दिन पूर्व नगरपालिका और डूडा द्वारा कराए गए कार्यों का निरीक्षण किया था। जांच में अधिकांश कार्य अधोमानक पाए गए थे। निर्माण कार्यों में घपलेबाजी की आशंका पर डीएम ने मंडलायुक्त से कार्यों की जांच टीएसी से कराने की संस्तुति की है।
डीएम ने 23 जनवरी को शहर के साईंधाम कॉलोनी और टेलीफोन एक्सचेंज के समीप नगरपालिका द्वारा बनवाई जा रही इंटरलॉकिंग सड़क और नाली निर्माण का निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान सड़क निर्माण बेहद धीमी गति से होने के साथ निर्माण कार्य की गुणवत्ता भी बेहद खराब मिली थी। डीएम ने पालिका अफसरों की फटकार लगाते हुए जेई को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए थे। उन्होंने दोनों स्थानों पर प्रयोग की जा रही ईंटों और निर्माण सामग्री की सैंपलिंग कराते हुए एक्सईएन लोक निर्माण हरस्वरूप को गुणवत्ता जांच कराने के निर्देश दिए थे।
वहीं शहर के खुदागंज में डूडा द्वारा नवनिर्मित इंटरलॉकिंग सड़क का निरीक्षण कर यहां भी सामग्री की सैंपलिंग कर जांच कराने के निर्देश दिए थे। पीडब्ल्यूडी लैब में हुई जांच में ईंट और निर्माण सामग्री अधोमानक पाई गई। जिस पर उन्होंने कराए गए कार्यों को श्रमदान घोषित कर दिया।
वहीं अब डीएम ने जनपद की नगर पालिकाओं, नगर पंचायतों समेत डूडा के चल रहे निर्माण कार्यों में भी धांधलेबाजी की आशंका जताई है। उन्होंने मंडलायुक्त को सभी नगरपालिकाओं, नगर पंचायतों और डूडा द्वारा कराए जा रहे निर्माण कार्यों की जांच मंडल स्तरीय टेक्निकल ऑडिट सेल से कराने की संस्तुति की है।
नगरपालिका और डूडा के निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया गया था। गुणवत्ता खराब मिलने पर जांच कराई गई थी। प्रयुक्त ईंट अधोमानक पाई गई। मंडलायुक्त से सभी निर्माण कार्यों की जांच टीएसी से कराने की संस्तुति की गई है। -वैभव श्रीवास्तव, डीएम
... और पढ़ें

डीएम-विधायक रार पर जिलाध्यक्ष ने भाजपा नेतृत्व को भेजी रिपोर्ट

पीलीभीत। बीसलपुर विधायक रामसरन वर्मा और डीएम वैभव श्रीवास्तव के बीच चल रही रार पर भाजपा नेतृत्व ने स्थानीय संगठन से रिपोर्ट तलब की। इसके बाद भाजपा जिलाध्यक्ष संजीव प्रताप सिंह ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के अलावा बृज क्षेत्र के नेताओं को पूरे घटनाक्रम से अवगत करा दिया।
मसला सरकार के स्तर पर होने से संगठन बहुत ज्यादा हस्तक्षेप करने के मूड में नहीं है, लेकिन जनता के बीच पार्टी और सरकार की छवि की चिंता के मद्देनजर संगठन के बड़े नेता इस विवाद पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष संजीव प्रताप सिंह ने बताया कि बीसलपुर विधायक और डीएम के बीच विवाद की बातें जिस तरह सार्वजनिक तौर पर सामने आई हैं, उसे देखते हुए संगठन के बड़े नेताओं ने पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी। जिलाध्यक्ष ने बताया कि शीर्ष संगठन नेताओं को अब तक इस पूरे घटनाक्रम से अवगत करा दिया गया। भाजपा जिलाध्यक्ष ने इस मामले में और ज्यादा कुछ बताने से इनकार कर दिया। बता दें कि गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस में भाजपा कोर कमेटी की बैठक लेकर संगठन के एक बड़े नेता को विवाद सुलझाने की जिम्मेदारी सौंपी है। अभी विवाद तो नहीं सुलझाया जा सका है, मगर संगठन के बड़े नेताओं को पूरी रिपोर्ट भेज दी गई है।
... और पढ़ें

जांच पर जांच... अब एक और जांच, घूम रहे अवैध रूप से पेड़ काटने वाले

पीलीभीत। हरीपुर जंगल किनारे गांवों में परमिट से अधिक हरे पेड़ों को काटने के मामले में टाइगर रिजर्व प्रशासन, जिला प्रशासन और पुलिस विभाग अपनी-अपनी जांचें कर चुका है। अब टाइगर रिजर्व प्रशासन ने एक और जांच शुरू की है। इस जांच में इस बात का आकलन किया जाएगा कि वन क्षेत्र में खड़े कितने पेड़ों का अवैध कटान किया गया। टाइगर रिजर्व प्रशासन मात्र वन क्षेत्र में खड़े पेड़ों के कटान पर ही कार्रवाई करेगा।
सामाजिक वानिकी विभाग ने हरीपुर रेंज के समीप 19 पेड़ों के कटान को आठ परमिट जारी किए गए थे, लेकिन मिलीभगत के चलते ठेकेदारों ने 175 से अधिक हरे भरे शीशम के पेड़ों का अवैध कटान कर डाला। इस मामले का खुलासा होने पर सामाजिक वानिकी के प्रभागीय निदेशक संजीव कुमार ने पहले तो संबंधित क्षेत्र केे रेंजर को ही जांच सौंप दी। जब सवाल उठे तो एसडीएम को जांच मिली। एसडीएम ने ठीक से जांच शुरू भी नहीं कर पाई थीं कि तत्कालीन अतिरिक्त मजिस्ट्रेट वंदना त्रिवेदी को जांच दे दी गई। जांच पूरी होने से पहले ही उनका ट्रांसफर हो गया। सामाजिक वानिकी के रेंजर राजकुमार शर्मा का कहना था कि जिस क्षेत्र से पेड़ काटे गए, वह सामाजिक वानिकी का है। उन्होंने केवल सात पेड़ काटने का परमिट दिया था। रेंजर राजकुमार शर्मा परमिट के हिसाब से ही पेड़ कटने का कुतर्क देते रहे। इधर पुलिस प्रशासन भी इस मामले में अपनी जांच पूरी कर चुका है। अब इस मामले में कार्रवाई होना शेष है।
इधर टाइगर रिजर्व प्रशासन ने इस मामले में एक और जांच शुरू की है। अफसरों के मुताबिक इस जांच में इस बात का आकलन किया जाएगा कि जंगल क्षेत्र से कितने पेड़ काटे गए हैं। क्योंकि पेड़ों का अवैध कटान ग्राम समाज, राजस्व और जंगल क्षेत्र तीन से किया गया है। टाइगर रिजर्व प्रशासन केवल वन क्षेत्र में काटे गए पेड़ों को लेकर ही कार्रवाई करेगा। अफसरों के मुताबिक जांच अंतिम दौर में है। जांच पूरी होते ही कार्रवाई की जाएगी।
हरीपुर रेंज में हुए कटान मामले में जंगल क्षेत्र में कितने पेड़ काटे गए हैं। इसकी जांच पूरनपुर के एसडीओ प्रवीण खरे को दी गई है। जांच पूरी होने के बाद ही इस मामले में कार्रवाई की जाएगी। -नवीन खंडेलवाल, डिप्टी डायरेक्टर, टाइगर रिजर्व
... और पढ़ें

धोखाधड़ी के मामले में तीन साल लगाए पुलिस के चक्कर, अब कार्रवाई

पीलीभीत। वाहन खरीदने के नाम पर एक ग्रामीण से तीन साल पहले हुई ठगी के मामले में अब कानूनी कार्रवाई की गई है। कोर्ट के आदेश पर सुनगढ़ी थाने में तीन आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और फर्जी प्रपत्र बनाकर इस्तेमाल करने के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई है।
बरखेड़ा थाना क्षेत्र के गांव चिनौरा निवासी शिवदयाल पुत्र खूबचंद का रिपोर्ट में कहना है कि उसने कॉमर्शियल मोटर्स (नौगवां चौराहा) के संजय सिंह के माध्यम से एक टाटा वेंचर चार पहिया वाहन कॉमर्शियल इस्तेमाल के लिए 18 अक्तूबर 2016 को खरीदा। सभी कर सहित इसकी कीमत 5.45 लाख रुपये तय हुई। पीड़ित ने 1.65 लाख रुपये नकद जमा किए। बकाया धनराशि लोन के माध्यम से जमा की जानी थी। पंजीकरण और रोड टैक्स के एकमुश्त 48000 रुपये संजय सिंह को अलग से दिए गए। समस्त औपचारिकताएं पूरी करने के बाद संजय सिंह ने 15 दिन में वाहन का पंजीकरण कराने का आश्वासन दिया। मगर कई माह बीतने के बाद भी पंजीकरण के कागजात पीड़ित को नहीं दिए गए। हर बार टालमटोल की जाती रही। इस पर पीड़ित ने एआरटीओ कार्यालय जाकर पड़ताल की। वहां बताया गया कि संजय सिंह और उसके साथियों ने उसको गलत तरीके से धोखाधड़ी कर पुराने मॉडल का वाहन बेच दिया है। पंजीकरण के नाम पर रुपये भी गलत तरीके से ऐंठे गए हैं। बेचे गए वाहन का पंजीकरण कॉमर्शियल इस्तेमाल में नहीं हो सकता। वह काफी पुराना हो चुका है।
इसके बाद दुबारा संजय सिंह ने आश्वासन दिया और नकटादाना चौराहा पर बुलाकर 45000 रुपये और ले लिए। पांच मई 2016 को शाहजहांपुर से इस वाहन का परिवार के इस्तेमाल हेतु पंजीकरण कराकर दे दिया। यह पंजीकरण भी अस्थायी था, जबकि टैक्सी परमिट बनवाया जाना था। टैक्सी परमिट न बना होने के कारण इसका पीड़ित इस्तेमाल नहीं कर सका। 26 जून 2016 को संजय सिंह ने अपने अज्ञात साथियों संग आकर वाहन छीन लिया और दूसरे के नाम पर बेच दिया। इसमें पीड़ित के नाम से फर्जी प्रपत्र भी लगा दिए। इसके बाद से पीड़ित ने कई बार शिकायतें की, मगर कोई सुनवाई नहीं हुई। तीन माह पूर्व पीड़ित ने कोर्ट की शरण ली। तब जाकर अब कार्रवाई हो सकी है। इंस्पेक्टर सुनगढ़ी राजेश कुमार ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर आरोपी संजय सिंह, अमरोहा के गांव नैपुरा रजवपुर निवासी निरंकार सिंह समेत तीन के खिलाफ सोमवार रात रिपोर्ट दर्ज की गई है। विवेचना में तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

डीएम ने तीन रायफलों के लाइसेंस किए निलंबित

बीसलपुर (पीलीभीत)। डीएम ने गांव जमुनिया महुआ के अजयपाल हत्याकांड के तीन हमलावरों की रायफलों के लाइसेंस निलंबित कर दिए। हमलावरों ने 27 अक्टूबर को दीपावली के दिन विवादित जगह पर दीया जलाने पर गांव के कुछ लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी।
दियोरिया के गांव जमुनिया महुआ निवासी अजयपाल गंगवार की 27 अक्तूबर को दीपावली पर विवादित जगह पर दीया जलाने को लेकर गांव के ही कुछ लोगों ने गोली मारकर हत्या कर। मृतक के भाई महेंद्रपाल ने कोतवाली में हत्याकांड की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें उमाचरन, डालचंद्र, रामलखन, नरेंद्र और भीमसेन आदि को नामजद किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया था कि आरोपी उमाचरन, डालचंद्र और रामलखन ने हत्याकांड में अपनी लाइसेंसी रायफलों को इस्तेमाल किया।
पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस ने तीनों आरोपियों की रायफलें जमा कर ली थी और डीएम को रिपोर्ट भेजकर तीनों रायफलों के लाइसेंस निलंबित करने की संस्तुति की थी। डीएम वैभव श्रीवास्तव ने तीनों रायफलों के लाइसेंस निलंबित कर दिएं। निलंबन आदेश दियोरिया कोतवाली पुलिस को प्राप्त हो गए हैं। इसकी पुष्टि कोतवाल शहरोज अनवर ने की।
... और पढ़ें

अब 12 को सीआरएस करेंगे ट्रैक का निरीक्षण

पीलीभीत। शाहजहांपुर रूट पर बीसलपुर तक ट्रेन दौड़ाने के लिए काम तेजी से चल रहा है। सीआरएस निरीक्षण के लिए 27 जनवरी को नहीं आ पा रहे हैं, अब वह 12 फरवरी को इस काम के लिए आएंगे। इससे पहले डीआरएम निरीक्षण करेंगे। सीआरएस निरीक्षण के बाद ट्रेन दौड़ाने के लिए जल्द ही हरी झंडी मिलने की उम्मीद है।
भोजीपुरा और टनकपुर के बीच ब्रॉडगेज की ट्रेनों का संचालन होने के बाद शाहजहांपुर रूट पर बीसलपुर तक ट्रेन चलाने की कवायद शुरू हुई थी। इसके बाद कुछ दिन काम कछुआ चाल से चला, लेकिन रेल प्रशासन ने मार्च 2020 में ट्रेन को चलाने के लिए काम तेजी से शुरू करा दिया। काम भी लगभग 90 प्रतिशत तक पूरा हो चुका है। इज्जतनगर और गोरखपुर के अधिकारियों ने ट्रैक का बारीकी से निरीक्षण कर चुके हैं। प्वाइंट, सिग्नल में कुछ खामियां मिलने पर उन्हें तत्काल दुरुस्त कराने को कहा गया। इसके बाद 27 जनवरी को सीआरएस के निरीक्षण की तारीख मिली तो आनन फानन में तैयारियां पूरी करने में रेलवे अफसर जुट गए। मगर किसी कारण 27 जनवरी का कार्यक्रम टल गया है। मंगलवार को रेल सूत्रों ने बताया कि अब 12 फरवरी को सीआरएस का निरीक्षण प्रस्तावित हुआ है। सीआरएस के निरीक्षण की सूचना मिलते ही रेल प्रशासन एक बार फिर तैयारियों में जुट गया है। स्टेशन अधीक्षक धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि तीन-चार दिन में किसी दिन डीआरएम निरीक्षण करने वाले हैं। इसके बाद बीसलपुर तक सीआरएस निरीक्षण होगा। सीआरएस निरीक्षण के बाद फरवरी अंत तक ट्रेन दौड़ाने के लिए हरी झंडी मिलने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

पति समेत छह के खिलाफ दहेज उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज

पीलीभीत। दहेज में ऑल्टो कार और पांच लाख रुपये की मांग पूरी न करने पर विवाहिता से मारपीट की गई। मांग पूरी किए बिना वापस आने पर जान से मारने की धमकी दी गई। सीओ के निर्देश पर कोतवाली में पति समेत छह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई।
छोटी मार्केट की रहने वाली साजिया पुत्री साजिद वली खां ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उनकी शादी 22 जून 2019 को मोहल्ला फीलखाना निवासी तारिक अली से हुई थी। कुछ दिन बाद से ही ससुराल वालों ने कम दहेज लाने की बात कहते हुए प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। दहेज में पांच लाख रुपये और ऑल्टो कार की मांग करने लगे। इसको पूरा करने में जब पीड़िता ने असमर्थता जताई तो ससुराल वालों ने मारपीट शुरू कर दी।
22 नवंबर को रात आठ बजे ससुराल वालों ने मिट्टी का तेल दिखाकर जिंदा जलाने की धमकी दी। इसके बाद मारपीट की गई। उसी दिन मौका पाकर पुलिस और मायके वालों को सूचना दी गई। परिजन आकर उसको घर ले गए। ससुराल वालों को काफी समझाने का प्रयास किया, मगर बिना मांग पूरी किए ससुराल आने पर विवाहिता को जान से मारने की धमकी दे डाली। इसके बाद 15 जनवरी को सीओ से शिकायत की गई। इसके बाद अब सोमवार को कानूनी कार्रवाई की गई। कोतवाल श्रीकांत द्विवेदी ने बताया कि मोहल्ला फीलखाना निवासी पति तारिक, ससुर अमजद अली, सास शकीला, ननद नाजिया, अरसी और देवर दानिश के खिलाफ घरेलू हिंसा, मारपीट, धमकाने और दहेज उत्पीड़न की धारा में एफआईआर की गई है। विवेचना दरोगा गौरव विश्नोई को दी गई है।
... और पढ़ें

बाबू ने दी जहर खाने की धमकी, बीएसए दफ्तर में हड़कंप

पीलीभीत। बेसिक शिक्षा विभाग कार्यालय में तैनात एक बाबू को बीएसए ने फोन पर ड्यूटी पर न आने पर हड़काना शुरू कर दिया। बीमारी की हालत में दफ्तर पहुंचे बाबू ने कहा कि इस हालत में भी अवकाश नहीं मिलेगा तो जहर खा लूंगा। बाबू की इस धमकी के बाद बीएसए दफ्तर में हड़कंप मच गया। बीएसए ने हालांकि स्टाफ के जरिए मामला रफा दफा कराया। इसके बाद बाबू अपने घर लौट गया।
बीएसए दफ्तर में तैनात एक बाबू बीमारी के वजह से सोमवार को ऑफिस नहीं पहुंचा। इस पर बीएसए ने बाबू को फोन कर ऑफिस बुलाया। बताया जाता है कि बाबू बीमार था, लेकिन बीएसए उसे लगातार ऑफिस बुलाकर काम निपटाना चाहते थे। इस बात को लेकर बाबू और बीएसए के बीच फोन पर ही बहस हो गई। बाबू ने पहले तो बीमारी का हवाला देते हुए ऑफिस आने में असमर्थता जताई, लेकिन जब बीएसए ने उसकी नहीं सुनी और तुरंत ऑफिस आने को कहा तो थोड़ी देर में बाबू कार्यालय पहुंच गया।
सूत्रों के अनुसार उस दौरान भी उसकी बीएसए से काफी नोकझोंक हुई। बाबू ने यहां तक कह दिया कि बीमारी में अवकाश नहीं मिलेगा तो जहर खा लूंगा। इससे स्टाफ में अफरातफरी मच गई। स्टाफ ने बीच बचाव कराया। काफी देर बाद मामला रफा दफा हुआ। इसके बाद बाबू घर चला गया। इस संबंध में बीएसए देवेंद्र स्वरूप से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि वह अभी दफ्तर के काम में व्यस्त हैं, इस मामले में कुछ नहीं कह सकते।
... और पढ़ें

शिक्षित बनकर ही बेटियां कर सकती हैं समाज का मार्गदर्शन

अमर उजाला के ‘अपराजिता 100 मिलियन स्माइल्स’ अभियान के तहत हुए कई कार्यक्रम
रैली निकालकर और पोस्टर व भाषण प्रतियोगिता से दिया बेटी आगे बढ़ाने का संदेश
पोस्टर बनाने में प्रिया और कोमल ने भाषण देने में सबको पीछे छोड़ा
बिलसंडा (पीलीभीत)। अमर उजाला के ‘अपराजिता 100 मिलियन स्माइल्स’ अभियान के तहत कृष्णा नरेश महाविद्यालय की छात्राओं ने जागरूकता रैली निकाली। रैली मुख्य मार्गों से होकर पूरे कस्बे में घूमी। इसमें बेटी पढ़ाने और बेटी आगे बढ़ाने का संदेश दिया गया।
रैली के बाद महाविद्यालय में छात्राओं की भाषण और पोस्टर प्रतियोगिता हुई। पोस्टर बनाने में प्रिया और भाषण देने में कोमल ने बाजी मारी। दोनों छात्राएं प्रथम स्थान पर रहीं। इस मौके पर हुई गोष्ठी में वक्ताओं ने महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए बेटियों की शिक्षा पर जोर दिया और कहा कि पढ़ लिखकर बेटियां स्वावलंबी बनकर समाज का मार्गदर्शन कर सकती हैं।
गौहनिया स्थित महाविद्यालय से निकली रैली में ‘बेटी पढ़ेगी, तभी आगे बढ़ेगी’ जैसे स्लोगन लिखे बैनर लेकर निकली छात्राओं ने कस्बे में घूमकर अभिभावकों को अपनी बेटियों को शिक्षित करने पर जोर दिया। रैली मुख्य मार्गों से होकर वापस महाविद्यालय प्रांगण में संपन्न हुई। इसके बाद महिला सशक्तिकरण पर आधारित पोस्टर प्रतियोगिता कराई गई। इसमें लगभग 60 छात्राओं ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में प्राचार्य बीके सिंह, आलोक मिश्रा और मोहम्मद रियाज शामिल रहे। पोस्टर प्रतियोगिता में प्रिया पटेल, कनक मिश्रा, महिमा वर्मा और भाषण प्रतियोगिता में कोमल, तान्या गुप्ता, नवलप्रीत कौर कमश: प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर रहीं।
छात्राओं पर समाज के निर्माण का दायित्व
प्रतियोगिता के बाद हुई गोष्ठी को संबोधित करते हुए प्रबंधक अखिल अग्रवाल ने कहा कि छात्राओं और किशोरियों पर समाज के निर्माण की जिम्मेदारी है। समाज को भयमुक्त बनाना है तो आपको भी महसूस करना होगा कि आप समाज के साथ कदम ताल कर रही हैं। महिला को जननी कहा जाता है तो यह भी ध्यान रखना होगा कि जननी कभी भी पराजित नहीं होती है। वह हमेशा अपराजिता रहती है। प्राचार्य बीके सिंह ने कहा कि छात्राओं को अपनी ताकत पहचानकर इसका सदुपयोग करना चाहिए। महिलाएं अंतरिक्ष तक पहुंची हैं। किसी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। छात्राएं मन लगाकर पढ़ाई करें और किसी भी प्रकार का उत्पीड़न होने पर चुप्पी न साधें। गोष्ठी को अमित अग्रवाल ने भी संबोधित किया। संचालन आशीष सक्सेना ने किया।

महिला वर्ग खासतौर पर लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने की मुहिम प्रशंसनीय है। सभी छात्राएं इस मुहिम का हिस्सा बनें और आत्मरक्षा के गुर सीखें। -रूपाली कनौजिया

समाज में पुरुष महिलाओं का सम्मान करें। स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कि जिस देश में महिलाओं का सम्मान नहीं होता वह देश प्रगति नहीं कर सकता। -प्रिया पटेल

कन्या भ्रूण हत्या समाज के लिए अभिशाप है। इसे रोकने के लिए सरकार ने जो कानून बनाए हैं। उनका कड़ाई से पालन होना चाहिए। महिलाओं को कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ एकजुट होकर आवाज उठानी चाहिए। -पल्लवी सिंह

दहेज प्रथा समाज की बुराई है। इस बुराई को खत्म करने के लिए सरकार ठोस कदम उठाए। इससे निपटने के लिए बेटियों को आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा। -पारूल वर्मा
... और पढ़ें

डीएम ने दिया हर आरोप का जवाब, बोले- विधायक जी प्रमाण पेश करें

पीलीभीत। जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने बीसलपुर विधायक रामसरन वर्मा द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार और लखनऊ की संस्था को डूडा और नगरपालिका के काम मिलने में अपनी संलिप्तता होने के आरोपों को सिरे नकार दिया। डीएम ने विधायक के प्रत्येक आरोप का जवाब देते हुए कहा कि डेयरी और बरातघर की बातें विधायक जी का निजी मामला है। खनन में वह नियम विरुद्ध काम होने पर कार्रवाई कर चुके हैं। वक्फ, ग्रीन बेल्ट और नजूल की जमीनों पर कब्जे भी वह हटवाकर उसकी रिपोर्ट शासन को भेज चुके हैं। भूमाफिया पर कार्रवाई करने में पीलीभीत पहले नंबर पर है। डीएम ने कहा-विधायक जी ने जो भी आरोप लगाए हैं, वह उसके प्रमाण भी पेश करें।
डेयरी की जमीन पर बरातघर विधायक जी का निजी मसला, मैं टिप्पणी नहीं करुंगा
डीएम ने कहा कि बीसलपुर में डेयरी की जमीन पर बरातघर बनाने की बात विधायक जी का निजी मसला है। वह उस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहेंगे। उस पर कमेंट करने की जरूरत भी नहीं है। ढुकसी और कुर्रखेड़ा में खनन निकासी की अनुमति नियमपूर्वक दी गई थी, लेकिन जब वहां नियमों का उल्लंघन किया गया तो जांच कराकर खनन करने वाले पर सबसे बड़ा 17 लाख से अधिक रुपये का जुर्माना लगाया गया। इतनी कार्रवाई ठीक है।
हमें तो जहां कब्जे मिले, उन्हें हटवाया, तभी हम नंबर वन
ग्रीन बेल्ट, वक्फ और नजूल की जमीनों पर कब्जे कराकर प्लाटिंग कराने के आरोपों पर कहा कि ग्रीन बेल्ट की जमीन पर एक केंद्र बना था। वह उसे गिरवाकर शत्रु संपत्ति निदेशालय को उसकी रिपोर्ट भेज चुके हैं। जहां भी अवैध कब्जे मिले, उन्हें सख्ती से हटवाया गया। इसी का नतीजा है कि एंटी भूमाफिया पोर्टल पर मिलने वाली शिकायतों पर कार्रवाई करने में पीलीभीत को प्रदेश में पहला स्थान मिला। डीएम ने कहा कि कोर्ट में लंबित मामलों को छोड़कर अवैध कब्जे से संबंधित हर मामले में कार्रवाई की गई।
राशन दलाल को हमने जेल भिजवाया, पूर्ति निरीक्षक का तबादला भी किया
बीसलपुर में विधायक के छापे में दलाल पकड़े जाने की बात सही बताते हुए डीएम ने कहा कि विधायक जी ने जब उसे पकड़ा तो उसे तत्काल जेल भेज दिया गया। पूर्ति निरीक्षक पर इस मामले में इसलिए कार्रवाई नहीं हुई क्योंकि उस दिन उन्होंने स्वयं उसे मुख्यालय बुलाया था। फिर भी उसे बीसलपुर से हटा दिया गया। खनन माफिया को बचाने के संबंध में डीएम ने कहा कि केवल वक्तव्य देने से कुछ नहीं होता। विधायक जी हमें प्रमाण देकर बताएं कि उन्होंने किस माफिया को बचाया। वह सब पर कार्रवाई करेंगे। भ्रष्टाचार में लिप्त दो फर्मों पर वह पहले ही कार्रवाई कर चुके हैं। भ्रष्टाचार में लिप्त किसी भी संस्था या व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us