विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: 27 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे गए 611 करोड़ रुपये

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

सहारनपुर

सोमवार, 30 मार्च 2020

होम डिलीवरी सिस्टम शूरू होने के बाद भीड हुई कम

होम डिलीवरी शुरू होने के बाद भीड़ हुई कम
सहारनपुर। प्रशासन की ओर से विभिन्न वार्डों में शुरू किए गए खाद्य सामग्री के होम डिलीवरी सिस्टम के बाद शहर की मंडियों और बाजार में दुकानों पर शनिवार को अपेक्षाकृत कम भीड़ रही। थोक व्यापारियों से सामान लेकर नगर निगम के वार्डों में चिह्नित दुकानों के माध्यम से खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई गई। चिलकाना रोड स्थित सब्जी मंडी में भी भीड़ कम रही। फुटकर विक्रेताओं ने वहां से सब्जी लेकर मोहल्लों में बेची। इसके चलते शनिवार को बाजारों और सब्जी मंडी में भीड़ कम रही। दवाओं की दुकानों पर भी अपेक्षाकृत कम लोग पहुंचे। इसके चलते पुलिस प्रशासन को राहत मिली। शनिवार को दिल्ली रोड, शुगर मिल रोड एवं फव्वारा चौक स्थित सब्जी मंडियों और खाद्यान्न की थोक की दुकानों और फुटकर विक्रेताओं के यहां लोगों की भीड़ कम रही। लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करते दिखे। चिलकाना रोड स्थित सब्जी मंडी में शनिवार को 755 क्विंटल आलू, प्याज 427 क्विंटल, लहसुन 10 क्विंटल, टमाटर 270 क्विंटल, सेब 45 क्विंटल और केला 55 क्विंटल आवक रही। सब्जी मंडी का कार्य देख रहे निरीक्षक जगपाल सिंह पुंडीर ने बताया कि मंडी में पर्याप्त मात्रा में सब्जियों का स्टॉक है।
... और पढ़ें

पुलिस सख्ती तो करे, किसी को परेशान न करे : डीआईजी

सख्ती करें, किसी को परेशान न करें : डीआईजी
सहारनपुर। डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने मंडल के सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और शामली जिलों में लॉकडाउन तोड़ने वालों पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। इसके साथ ही पुलिस कर्मचारियों को निर्देशित किया है कि सड़कों से गुजरने वाले लोगों पर पुलिस सख्ती तो करें लेकिन किसी को परेशान न किया जाए। चेकिंग के दौरान यह जरूर देखा जाए कि कोई व्यक्ति पीड़ित या जरूरतमंद तो नहीं है। पुलिस टीमों ने बैरियरों पर चेकिंग कर 9946 वाहनों की जांच की। इसमें 3321 वाहनों का चालान किया गया। इसके साथ ही 897 वाहन सीज किए गए। पुलिस टीमों ने 3764100 रुपये का जुर्माना वसूला गया। इसके अलावा विभिन्न धाराओं में 202 एफआईआर दर्ज कर 2000 से अधिक लोगों पर कार्रवाई की गई।
... और पढ़ें

जिला जेल से 349 बंदी पैरोल पर होंगे रिहा

जिला जेल से 349 बंदी पैरोल पर होंगे रिहा
सहारनपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर जिला कारागार में 349 बंदियों को पैरोल पर रिहा किया जाएगा। इनमें से 301 अंडर ट्रायल हैं। इनके अलावा 48 सजायाफ्ता कैदी हैं। इन बंदियों में वे अपराधी शामिल हैं जो सात साल तक की सजा वाले अपराधों में जेल में बंद हैं। इनके अलावा देवबंद उप कारागार से 12 सजायाफ्ता और 35 विचाराधीन बंदी को पैरोल पर रिहा किया जाएगा।
इससे पहले डीआईजी रेलवे लव कुमार के निरीक्षण के बाद जिला कारागार में बंदियों से परिजनों की मुलाकात को बंद किया गया था। जिला कारागार के वरिष्ठ जेल अधीक्षक डॉ. वीरेश शर्मा ने बताया कि इन कैदियों को पेरोल पर रिहा करने के निर्देश पहुंचने वाले हैं। उन्होंने दावा किया कि अभी तक कारागार में मौजूद बंदियों में कोई भी कोरोना के लक्षण या संक्रमण से जुड़ा नहीं मिला है।
... और पढ़ें

गरीबों की मदद के लिए बढ़े हाथ

छुटमलपुर/बेहट/नानौता (सहारनपुर)। छुटमलपुर में व्यापार मंडल अध्यक्ष राजेश राणा, महामंत्री राव साजिद, भाजपा नेता विकास गुप्ता आदि के सहयोग से एसओ मनोज चौधरी ने महाराणा प्रताप कालोनी और गांव खुजनावर में गरीबों को खादय सामग्री बांटी। बेहट के संसारपुर में टीन शैड में रहने वाले 20 से अधिक परिवारों को ग्राम प्रधान संसारपुर बदरूजमा खान द्वारा दाल, आटा, चीनी, सरसों का तेल आदि सामान के पैकेट वितरित किए। नानौता के गांव पठानपुरा में भीम आर्मी के विधान सभा क्षेत्र अध्यक्ष अनुज गौतम, अनिल रावण, ग्राम प्रधान नवीन कुमार आदि ने गरीब परिवारों को खादया सामग्री वितरित की। थाने के एसएसआई मनोज राठी ने भी गरीबों को घर घर जा कर खादय साम्रगी उपलब्ध कराई।
जिला अस्पताल भेजा : रामपुर मनिहारान। राजस्थान अलवर से डॉ. ओमकार पुत्र रामपाल रविवार को अपने गांव उमरीकलां लौटा था। उसे सांस लेने में परेशानी होने पर सीएचसी के चिकित्सकों की टीम ने उनके स्वास्थ्य की जांच की। जांच के बाद चिकित्सकों ने उन्हें जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया। सीएचसी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सर्वेश कुमार ने बताता की उन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही थी। उनमें कोरोना जैसे कोई लक्षण नहीं पाए गए।
नानौता के पठानपुरा में गरीबों को खादय सामग्री देते भीम आर्मी कार्यकर्ता
नानौता के पठानपुरा में गरीबों को खादय सामग्री देते भीम आर्मी कार्यकर्ता- फोटो : SAHARANPUR
बेहट के संसारपुर में बेसहारा लोगों राशन वितरण करते ग्राम प्रधान बदरूजमा खान।
बेहट के संसारपुर में बेसहारा लोगों राशन वितरण करते ग्राम प्रधान बदरूजमा खान।- फोटो : SAHARANPUR
... और पढ़ें
छुटमलपुर में गरीबों को राशन बांटते व्यापारी नेता और एसओ छुटमलपुर में गरीबों को राशन बांटते व्यापारी नेता और एसओ

कश्मीर में फंसे युवकों को निकालने की गुहार

छुटमलपुर/बेहट। फतेहपुर थाने के गांव चौबारा के चार युवक जम्मु कश्मीर में फंसे हुए हैं। परिजन मुकर्रम, अकबर आदि ने बताया कि उनके बेटे रिहान खान, हारुन, सलमान, शाकिर जम्मु कश्मीर के जिले सांबा के बरी ब्रह्मणा क्षेत्र में जनता कर्फ्यू के बाद से ही फंसे हैं। बताया कि ये वहां सभी वेल्डर का काम करते थे। ठेकेदार द्वारा उन्हें मजदूरी भी देने से मना कर दिया गया है। ऐसे में उनके सामने वहां भूखों मरने की नौबत आ गई है। परिजनों ने डीएम से अपने बच्चों को वहां से निकलवाकर घर तक पहुंचाने या फिर वहीं उनके खाने पीने की व्यवस्था कराने की गुहार लगाई है। उधर गांव खैरी मढ़ती निवासी खालिद आदि ने बताया कि वह हिमाचल प्रदेश के ऊना जनपद में ठेकेदार का कार्य करते है। पिछले काफी समय से उनकी लेबर वहां पर काम कर रही है, जिसमें सैकड़ों मजदूर शामिल है। यह सभी मजदूर जनपद सहारनपुर के अलग-अलग गांवों से है। ठेकेदार महबूब व रिजवान ने बताया कि वहां फंसे मजदूरों के पास खाने पीने का सामान खत्म हो गया है। उन्होंने इन सभी मजदूरों को वहां से वापसी घर पहुंचाने की मांग की है। ... और पढ़ें

कॉल कर घर ही पर पाएं भोजन का पैकेट

सहारनपुर। लॉक डाउन के दौरान नगर निगम ने असहायों व गरीबों को भोजन वितरण का अभियान जारी रखते हुए रविवार को करीब चार हजार लोगों को पैकेट वितरित कराए। उधर मेयर संजीव वालिया व नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह के आह्वान पर भोजन पैकेट देने वाले हाथ भी बढ़ रहे हैं। जरूरतमंद मोबाइल नंबर डॅायल कर भोजन का पैकेट पा सकते हैं।
नगर निगम शिकायत प्रकोष्ठ के नंबर 8477008027 पर भोजन पैकेट की मांग बढ़ती जा रही है तो दूसरी तरफ महापौर संजीव वालिया व नगरायुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह के आह्वान पर अनेक समाजसेवी तथा समाजसेवी संस्थाएं भोजन पैकेट देने के लिए आगे आ रही हैं। भोजन देने के लिए अनेक समाजसेवियों ने रविवार को जनमंच स्थित भोजन वितरण कंट्रोल रुम पहुंच कर व्यक्तिगत रुप से महापौर व नगरायुक्त से संपर्क कर मदद का हाथ आगे बढ़ाया। जो लोग राशन व पैकेट के रुप में मदद देना चाहते हैं, उनके लिए निगम की ओर से अधिशासी अभियंता निर्माण आलोक श्रीवास्तव का मोबाइल नंबर 8477008010 जारी किया गया है। नगरायुक्त ने जरूरतमंदों से 8477008027 नंबर पर कॉल करने अपील की। दिल्ली रोड क्षेत्र के लोग आईआईए के मनीष अरोड़ा के मोबाइल नंबर 9917036000, कामधेनुक्षेत्र के लोग मंजीत सिंह अरोड़ा के मोबाइल नंबर 7988865899, नौगजापीर देहरादून रोड क्षेत्र के लोग हरजीत सिंह के मोबाइल नंबर 9897676000 से संपर्क कर भोजन प्राप्त कर सकते हैं। इनके अलावा सीनियर सिटीजन एसोसिएशन की ओर से एक हजार, प्रभुजी की रसोई से एक हजार, राधा स्वामी सत्संग की ओर से 800, उद्यमीमुकुंद मनोहर गोयल की ओर से एक सौ, शिवधामकी ओर से 250, गुरुद्धारा गुरुसिंह सभा की ओर से 400 व संदीप मित्तल की ओर से 55 पैकेट भोजन के उपलब्ध कराए गए।
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो को भोजन प्रदान करते लोग
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो को भोजन प्रदान करते लोग- फोटो : SAHARANPUR
... और पढ़ें

70 वार्ड में होम डिलीवरी से ग्राहकों को मिली राहत

70 वार्डों में होम डिलीवरी से ग्राहकों को मिली राहत
सहारनपुर। लॉकडाउन के बीच महानगर में 70 वार्डों में खाद्य सामग्री की होम डिलीवरी होने पर ग्राहकों तो राहत मिल गई, लेकिन व्यापारियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। थोक की दुकान से सरकारी दामों पर सामान नहीं मिलने की वजह से व्यापारियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।
जिला प्रशासन ने नगर निगम क्षेत्र के 70 वार्डों में 702 दुकानदार निर्धारित किए हैं, जो फोन या व्हाटसएप के माध्यम से आर्डर लेकर लोगों के घरों तक खाद्य सामग्री पहुंचा रहे हैं। रविवार को अमर उजाला ने खाद्य सामग्री की सप्लाई की व्यवस्था देखी। कोर्ट रोड निवासी विक्रम शर्मा ने बताया कि घर पर ही सामान उपलब्ध होने पर राहत मिली है। रामनगर निवासी विक्की मल्होत्रा का कहना है कि प्रशासन ने अच्छी व्यवस्था की है, लेकिन हर वार्ड में दस से अधिक दुकानदार निर्धारित किए जाने चाहिए थे क्योंकि किसी-किसी वार्ड में जनसंख्या ज्यादा है, जिस कारण सामान समय पर उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। पठानपुरा निवासी बोधराज ने बताया कि घरों पर उचित दामों पर ही सामान मिलने से नागरिकों की परेशानी दूर हुई है।
उधर, नीलकंठ विहार निवासी व्यापारी दीपक गुुप्ता का कहना है कि सरकार ने जो दाम निर्धारित किए हैं, उससे अधिक दामों में थोक की दुकानों से उन्हें सामान मिल रहा है। ऐसे में होम डिलीवरी करते हुए व्यापारी को अपनी जेब से पैसा खर्च करना पड़ रहा है। पुलिस भी व्यापारियों के साथ अभद्र व्यवहार कर रही है।
रेलवे कॉलोनी निवासी व्यापारी सुरेश भारती और चंद्रनगर निवासी व्यापारी सुभाष सलूजा ने बताया कि उनके द्वारा अपने वार्ड में ग्राहकों को सामान उपलब्ध कराया जा रहा है, लेकिन बाजार से माल पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रहा है, जिस कारण दिक्कत आ रही है। हकीकतनगर निवासी व्यापारी संजीव शर्मा और मोरगंज बाजार व्यापारी गौरव जैन ने बताया कि होम डिलीवरी के लिए व्यापारियों के साथ सरकारी कर्मचारी भी नियुक्त किए जाएं। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ मिल सके।
व्यापारी दीपक गुप्ता
व्यापारी दीपक गुप्ता- फोटो : SAHARANPUR
ग्राहक विक्रम शर्मा।
ग्राहक विक्रम शर्मा।- फोटो : SAHARANPUR
व्यापारी सुरेश भारती
व्यापारी सुरेश भारती- फोटो : SAHARANPUR
ग्राहक विक्की मल्होत्रा
ग्राहक विक्की मल्होत्रा- फोटो : SAHARANPUR
ग्राहक बोधराज
ग्राहक बोधराज- फोटो : SAHARANPUR
व्यापारी संजीव शर्मा
व्यापारी संजीव शर्मा- फोटो : SAHARANPUR
व्यापारी गौरव जैन
व्यापारी गौरव जैन- फोटो : SAHARANPUR
... और पढ़ें

तीन दिन से हिमाचल से बेहट पहुंचे बिहार के मजदूर

व्यापारी सुभाष सलूजा।
बेहट (सहारनपुर)। तीन दिन पहले हिमाचल से पैदल चलकर बेहट पहुंचे बिहार के मजदूरों भूख और प्यास से बेहाल थे। पैरों पर सूजन थी। कस्बे के कुछ लोगों ने उन्हें खाने के लिए केले दिए और उसके बाद पुलिस की सहायता से उन्हें खाद्य सामग्री सप्लाई करने वाली गाड़ी से सहारनपुर तक भिजवाया। इन मजदूरों में शामिल अनिरुद्ध, सुभान, बिलाल, शफक्कत आदि ने बताया वह हिमाचल के फलहटी की एक फैक्टरी में काम करते थे। लॉकडाउन होने पर फैक्टरी बंद हो गई और ठेकेदार समेत सभी लोग उन्हें वहां छोड़कर चले आए। उनके पास पैसे और राशन खत्म हो गया। इस पर वह 27 मार्च को वहां से पैदल ही बिहार अपने गांव जाने के लिए चल दिए। उन्हें बस हर हाल में अपने गांव पहुंचना है।
गांवों में कराया कीटनाशक का छिड़काव
बड़गांव। रविवार को बड़गांव के ग्राम प्रधान सुखपाल शर्मा ने गांव की गलियों में कीटनाशक दवा का छिड़काव कराकर ग्रामीणों को लॉकडाउन के चलते घरों में रहने की सलाह दी। जड़ौदा पांड़ा, दल्हेड़ी, सहजी, मियानगी, महेशपुर गांव के प्रधानों ने गांव में भी कीटनाशक दवा का छिड़काव कराया।
खाद्य सामग्री मुहैया न कराने का आरोप
रामपुर मनिहारान। नगर निवासी आकाश कश्यप, संदीप, ठाकुर श्यामबीर, विनोद कुमार आदि ने कहा क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की कोई सप्लाई नहीं मिली है। उन्होंने कहा आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई देने के लिए अधिकृत कारोबारी उनके फोन रिसीव नहीं कर रहे हैं।
... और पढ़ें

पहले सड़कों पर फिर कतार में लगे कई हजार

सहारनपुर। कई पड़ोसी राज्यों से पैदल और कुछ वाहनों के सहारे यहां तक पहुंचे हजारों लोग पहले तो सड़कों पर भटकते रहे और फिर यहां स्पोर्ट्स स्टेडियम और गांधी पार्क में घंटों तक कतार में लगे रहे। उन्हें कतारों से होते हुए बसों तक जाना पड़ा। कुछ व्यापारिक और सामाजिक संगठनों की ओर से भूखे और बेहाल यात्रियों को रास्तों में खाना भी खिलवाया गया। व्यापारी नेता शीतल टंडन सहित अन्य ने इस कार्य में सहयोग दिया। कुछ लोगों ने बस में सवार यात्रियों को फूड के पैकेट उपलब्ध कराए। स्टेडियम में आए यात्रियों की संख्या अधिक होने के कारण कोरोना सर्विलांस टीमें सबकी थर्मल स्क्रीनिंग तक नहीं कर पाई। इन लोगों को पाइप से बौछारें कर सैनिटाइज किया गया।
स्पोर्ट्स स्टेडियम में भर्ती मेले जैसा रहा नजारा
सहारनपुर। शहर के स्पोर्ट्स स्टेडियम का नजारा रविवार को एकदम बदला हुआ था। यहां एथलेटिक्स ट्रैक से लेकर मैदान के कई हिस्सों में बैठे यात्री ऐसे लग रहे थे जैसे वे बसों में जाने के लिए नहीं बल्कि किसी भर्ती मेले में आए हों। सुबह से शाम तक इन यात्रियों को बसों से निकलवाने में अफसरों और पुलिस टीमों को खासी मशक्कत करनी पड़ी।
आरएम बोले, यात्रियों को नहीं होने देंगे परेशानी
- रोडवेज आरएम मनोज कुमार पुंडीर से लेकर अन्य अफसर भी बस अड्डे पर व्यवस्थाओं में जुटे रहे। उन्होंने कहा कि रास्तों में फंसे यात्रियों को गंतव्यों तक पहुंचाने के लिए चालक-परिचालकों को बुला लिया गया है। पहले यहां से 35 रोडवेज बसों को लगाया गया था। अब इनकी संख्या 50 से अधिक हो चुकी है। दो दिन में ही हजारों की संख्या में लोग गंतव्य तक भेजे गए हैं।
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर ?
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर ?- फोटो : SAHARANPUR
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर?
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर?- फोटो : SAHARANPUR
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर?
सहारनपुर में लॉकडाउन के चलते पंजाब हरियाणा से आये मजदूरो बंसो के लिये स्टेडियम में पहुंचे मजदूर?- फोटो : SAHARANPUR
... और पढ़ें

मीलों की दूरी और घर पहुंचने की मजबूरी...लोग पैदल चलने को बेबस, दोहरी भूमिका निभा रही पुलिस

इस समय सड़कों पर हाल यह है कि लोग पैदल अपने घरों की तरफ बढ़ रहे हैं। भले ही यह केसरिया कपड़ों में न हों और यह समय कावड़ यात्रा का न है। लेकिन न कोई परिवहन व्यवस्था और न ही सुविधा। सामाजिक संगठन गाहे.बगाहे कहीं खाने की व्यवस्था तो करा रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि कहीं शिविर हो या सरकारी स्कूल व कॉलेजों में रुकने की कोई व्यवस्था की गई हो।

कोई भूखा ही पैदल चल रहा है तो किसी पर पुलिस की लाठियां पड़ रही हैं। एक तरफ पुलिस खाना खिला रही है तो दूसरी तरफ कुछ लोग बता रहे हैं पुलिस गाली देकर ही बोलती है। इन पैदल चलते यात्रियों के लिए कोई भोजन उपलब्ध करा दे तो सही, नहीं तो पूरे पूरे दिन भूखे ही रहना पड़ रहा है। शहर की सड़कों से लेकर हाईवे और मुख्य मार्ग पर यही हाल है लेकिन सफर अभी लंबा है.....
... और पढ़ें

ये है कोरोना की जंग के कमांडो, इंसानियत की खातिर खेल रहे खतरों से, हजारों यात्रियों को घर पहुंचाने में कर रहे मदद

सहारनपुर के स्पोर्ट्स स्टेडियम में लंबे समय से एथलेटिक्स कोच लाल धर्मेंद्र प्रताप इन दिनों खेल और खिलाड़ियों के लिए नहीं, बल्कि लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए काम कर रहे हैं। पंजाब और हरियाणा सहित अन्य राज्यों से आ रहे यात्रियों को बसों में भिजवाने में वे दिनरात सहयोग कर रहे हैं। लाल कहते हैं कि मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है।

खतरा तो है, मगर इंसानियत जरूरी
स्पोर्ट्स स्टेडियम के ही कर्मचारी अश्वनी श्रीवास्तव भी यहां आए यात्रियों की व्यवस्था में मदद कर रहे हैं। वह कहते हैं कि इतने लोगों का पहले स्टेडियम आना और फिर बसों में भिजवाना इस समय खतरे का काम तो है। लेकिन इन सब से पहले इंसानियत भी जरूरी है।

छुट्टी नहीं मिली, लगातार कर रहे काम
नगर निगम के कर्मचारी तिवाया निवासी महीपाल बताते हैं कि लॉकडाउन के बाद से छुट्टी नहीं मिली है। इसके बावजूद लगातार काम कर रहे हैं। काम करते समय कुछ गायें मुश्किल में मिली। उनके लिए भी काम किया। बस अब तो यही चाहते हैं कि लोग कोरोना से बच जाए।

अब तो घंटों के हिसाब से दौड़ रहे हैं हम
निगम के कर्मचारी संजीव कुमार कहते हैं कि कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए शहर में सफाई से लेकर पानी और चूने आदि की व्यवस्था में वे जुटे हुए हैं। पहले जहां एक या दो दिन छोड़कर अलग-अलग क्षेत्रों में काम करते थे, वहीं अब घंटों के हिसाब से दौड़ रहे हैं।
नगर निगम कर्मचारी महिपाल।
नगर निगम कर्मचारी महिपाल।- फोटो : SAHARANPUR
 
कर्मचारी अश्वनी श्रीवास्तव
कर्मचारी अश्वनी श्रीवास्तव- फोटो : SAHARANPUR
 
... और पढ़ें

नागल राजपूत से लापता व्यक्ति का भी शव मिला

गंगोह(सहारनपुर)। एक पखवाड़े पूर्व यूपी के सीमावर्ती गांव से लापता एक महिला सहित तीन लोगों में से तीसरे व्यक्ति कभी शव भी बरामद हो गया है। हरियाणा पुलिस ने शव का पीएम कराकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया है। बता दें कि गंगोह कोतवाली क्षेत्र के गांव नागल राजपूत निवासी किसान इंतजार अपने खेत में मजदूरी करने के लिए गांव बुड्ढाखेड़ा निवासी इंसार और उसकी पत्नी फातिमा निवासी बुड्ढाखेड़ा को ले गया था। 12 मार्च को इंतजार, इंसार और उसकी पत्नी फातिमा संदिग्ध परिस्थितियों में अचानक लापता हो गए थे। 16 मार्च को इंतजार और इंसार की पत्नी फातिमा के शव हरियाणा के कमालपुर के यमुना क्षेत्र में पड़े मिले थे। शनिवार को इंसार का शव भी क्षत-विक्षत अवस्था में हरियाणा के गांव दबकोली खुर्द क्षेत्र में पड़ा मिला। थाना इंद्री की चौकी बयाना इंचार्ज राजेंद्र कुमार का कहना है की पूरे प्रकरण की जांच जा रही है। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us