विज्ञापन

विदेशों में महकेगी काला नमक की खुशबू, सात करोड़ अवमुक्त

Gorakhpur Bureauगोरखपुर ब्यूरो Updated Wed, 26 Feb 2020 10:51 PM IST
विज्ञापन
लखनऊ में प्रमुख सचिव उद्योग से वार्ता करते एक संस्थान के पीडी आरसी चौधरी
लखनऊ में प्रमुख सचिव उद्योग से वार्ता करते एक संस्थान के पीडी आरसी चौधरी - फोटो : SIDDHARTHNAGAR
ख़बर सुनें
फोटो-
विज्ञापन
विदेशों में महकेगी काला नमक की खुश्बूू, सात करोड़ अवमुक्त
एक जनपद-एक उत्पाद अंतर्गत चयनित काला नमक को मिलेगा बढ़ावा
भगवान बुद्ध के प्रसाद के तौर पर भी मशहूर था काला नमक चावल
खेसरहा के मदुआ में बन रहा कांपलेक्स, जल्द होगा विदेशों में निर्यात
संतोष श्रीवास्तव
सिद्धार्थनगर। परंपरागत काला नमक की लंबी प्रजाति की जगह इसकी बहुत सी प्रजातियां विकसित तो कर ली गईं, पर इसके सुगंध व स्वाद को संरक्षित करने में कामयाबी नहीं मिल सकी। एक बार फिर काला नमक यूरोप समेत तमाम बौद्ध देशों तक अपनी खुश्बू बिखेरने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। एक जनपद-एक उत्पादन के तहत चयनित काला नमक खेती को बढ़ावा देने के लिए शासन ने सात करोड़ रुपये अनुदान देने पर मुहर लगा दी है। जिले में खेसरहा के मदुआ में बन रहे काला नमक कांपलेक्स में तैयार चावल को देश-विदेश में निर्यात करने की कवायद अंतिम चरण में है।
पूरे विश्व को शांति, अहिंसा व करुणा का संदेश देने वाले भगवान बुद्ध की स्थली कपिलवस्तु के राजमहल में प्रसाद के रूप में प्रसिद्ध काला नमक धान की खेती जलवायु संकट व कम बारिश के चलते पिछले दो दशक से काला नमक चावल की पैदावार और महक प्रभावित होने लगी। इसके चलते किसानों का इस खेती से मोह भंग होता चला गया। उत्तरी छोर स्थित बर्डपुर क्षेत्र समेत पूरे जिले में काला नमक की खेती पहले 50 हेक्टेयर क्षेत्रफल में खेती होती थी। अब घटकर 2 हजार हेक्टेयर ही रह गई है।
अद्वितीय, सुपाच्य और उच्च पोषक गुणों की वजह से 600 ईसा पूर्व से यहां पैदा होने वाला काला नमक चावल शुरूआत में भगवान बुद्ध के प्रसाद के तौर पर मशहूर था। बाद में अभिजात वर्ग में इसने अपनी पैठ बना ली। ब्रिटिश शासनकाल के दौरान अंग्रेज यहां के काला नमक चावल की खुश्बू के इस कदर दीवाने हो गए थे कि उन्होंने इस इलाके में काला नमक चावल के खेतों की सिंचाई के लिए 10 कृत्रिम सागरों और 243 लंबी नहरों का निर्माण तक करा डाला। बदलते परिस्थितियों के चलते काला नमक की खेती विलुप्त होती गई। लिहाजा स्वाद के साथ इसकी सुगंधि भी लुप्त हो गई।
प्रमुख सचिव के साथ हुई बैठक में मिली हरी झंडी
प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में भाजपा की सरकार बनने के बाद पहली बार एक जनपद-एक उत्पाद का चयन करने का निर्णय लिया। इसके तहत जिले में काला नमक धान को चयनित किया गया। गत 25 फरवरी 2020 को लखनऊ में प्रमुख सचिव उद्योग नवनीत सहगल के साथ ओडीओपी सिद्धार्थनगर योजना के अंतर्गत काला नमक पर निर्णायक बैठक हुई। योजना पर सहमति जताते हुए 7 करोड़ का सरकारी अनुदान प्रदान करने की अनुमति भी दे दी। खेसरहा ब्लॉक के मदुआ गांव में अनुबंध पर दो हेक्टेयर भूमि पर काला नमक कांप्लेक्स का निर्माण प्रारंभ करा दिया गया है। जिले में एक जनपद-एक उत्पाद के तहत सरकार से अनुबंध करने वाली संस्था शिवांस सिद्धार्थनगर एग्रीकल्चर डेवलपमेंट प्रोडक्शन लिमिटेड के परियोजना निदेशक डॉ. आरसी चौधरी ने 7 करोड़ अनुदान मिलने की बात को स्वीकार करते हुए बताया कि केएन 3, बौना काला नमक 101, बौना काला नमक 102, काला नमक किरण की प्रजातियों के जरिए किसानों की आय तिगुनी करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। पूर्व की भांति 50 हजार हेक्टेयर खेती करने का लक्ष्य है। कांप्लेक्स बनने के बाद जिले के किसानों का धान एकत्र करने का कार्य होगा। ब्लॉक व तहसील स्तर पर सुविधा केंद्र खुलेगा। इसके बाद देश के साथ विदेशों में इसकी ब्रांडिंग होगी।
शुगर को कंट्रोल में रखता है काला नमक
जिला कृषि अधिकारी सीपी सिंह के मुताबिक काला नमक चावल सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें भरपूर मात्रा में औषधीय गुण होता है। काला नमक चावल के सेवन से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। वहीं, काला नमक चावल शुगर कंट्रोल रखने में सहायक होता है जबकि यह चावल वजन, हाई ब्लड प्रेशर व जोड़ों में दर्द जैसी तमाम बीमारियों को दूर करने में मदद करता है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us